SlideShare a Scribd company logo
1 of 7
Download to read offline
महादेवी वमाा (२६ मार्च १९०७ — ११ सितंबर १९८७) हिन्दी की िर्ाचधिक
प्रततभार्ान कर्तित्रििों में िे िैं। र्े हिन्दी िाहित्ि में छािार्ादी िुग के र्ार
प्रमुख स्तंभों[क] में िे एक मानी जाती िैं।[1] आिुतनक हिन्दी की िबिे िशक्त
कर्तित्रििों में िे एक िोने के कारण उन्िें आिुतनक मीरा के नाम िे भी जाना
जाता िै।[2] कवर् तनराला ने उन्िें “हिन्दी के वर्शाल मन्न्दर की िरस्र्ती” भी किा
िै।[ख] मिादेर्ी ने स्र्तंिता के पिले का भारत भी देखा और उिके बाद का भी।
र्े उन कवर्िों में िे एक िैं न्जन्िोंने व्िापक िमाज में काम करते िुए भारत के
भीतर वर्द्िमान िािाकार, रुदन को देखा, परखा और करुण िोकर अन्िकार को
दूर करने र्ाली दृन्टि देने की कोसशश की।[3] न के र्ल उनका काव्ि बन्कक उनके
िामाजिुिार के कािच और महिलाओं के प्रतत र्ेतना भार्ना भी इि दृन्टि िे
प्रभावर्त रिे। उन्िोंने मन की पीडा को इतने स्नेि और शंगार िे िजािा
कक में र्ि जन-जन की पीडा के रूप में स्थावपत िुई और उिने के र्ल
पाठकों को िी निीं िमीक्षकों को भी गिराई तक प्रभावर्त ककिा।
महादेवी का जन्म २६ मार्च १९०७ को प्रातः ८ बजे[6] फ़र्रच खाबाद उत्तर प्रदेश, भारत में हुआ।
उनके पररवार में लगभग २०० वर्षों या सात पीढ़ियों के बाद पहली बार पुत्री का जन्म हुआ था।
अतः बाबा बाबू बााँके ढवहारी जी हर्षच से झूम उठे और इन्हें घर की देवी — महादेवी मानते
हुए[6] पुत्री का नाम महादेवी रखा। उनके ढपता श्री गोढविंद प्रसाद वमाच भागलपुर के एक
कॉलेज में प्राध्यापक थे। उनकी माता का नाम हेमरानी देवी था। हेमरानी देवी बडी धमच
परायण, कमचढनष्ठ, भावुक एविं शाकाहारी मढहला थीं।[6] ढववाह के समय अपने साथ
ढसिंहासनासीन भगवान की मूढतच भी लायी थीं[6] वे प्रढतढदन कई घिंटे पूजा-पाठ
तथा रामायण, गीता एविं ढवनय पढत्रका का पारायण करती थीं और सिंगीत में भी उनकी
अत्यढधक र्रढर् थी। इसके ढबल्कु ल ढवपरीत उनके ढपता गोढवन्द प्रसाद वमाच सुन्दर, ढवद्वान,
सिंगीत प्रेमी, नाढततक, ढशकार करने एविं घूमने के शौकीन, मािंसाहारी तथा हाँसमुख व्यढि
थे। महादेवी वमाच के मानस बिंधुओिंमें सुढमत्रानिंदन पिंत एविं ढनराला का नाम ढलया जा सकता
है, जो उनसे जीवन पयचन्त राखी बाँधवाते रहे।[7] ढनराला जी से उनकी अत्यढधक ढनकटता
थी,[8] उनकी पुष्ट कलाइयों में महादेवी जी लगभग र्ालीस वर्षों तक राखी बााँधती रहीं
िाहित्ि में मिादेर्ी र्माच का आवर्भाचर् उि िमि िुआ जब खडीबोली
का आकार पररटकत िो रिा था। उन्िोंने हिन्दी कवर्ता को बजभाषा
की कोमलता दी, छंदों के निे दौर को गीतों का भंडार हदिा और
भारतीि दशचन को र्ेदना की िाहदचक स्र्ीकतत दी। इि प्रकार उन्िोंने
भाषा िाहित्ि और दशचन तीनों क्षेिों में ऐिा मित्त्र्पूणच काम ककिा
न्जिने आनेर्ाली एक पूरी पीढी को प्रभावर्त ककिा। शर्ीरानी गुिूच ने
भी उनकी कवर्ता को िुिन्जजत भाषा का अनुपम उदािरण माना
िै। उन्िोंने अपने गीतों की रर्ना शैली और भाषा में अनोखी लि
और िरलता भरी िै, िाथ िी प्रतीकों और त्रबंबों का ऐिा िुंदर और
स्र्ाभावर्क प्रिोग ककिा िै जो पाठक के मन में धर्ि िा खींर् देता
िै। छािार्ादी काव्ि की िमद्धि में उनका िोगदान अत्िंत
मित्त्र्पूणच िै। छािार्ादी काव्ि को जिााँ प्रिाद ने प्रकतततत्त्र् हदिा,
तनराला ने उिमें मुक्तछंद की अर्तारणा की और पंत ने उिे
िुकोमल कला प्रदान की र्िााँ छािार्ाद के कलेर्र में प्राण-प्रततटठा
करने का गौरर् मिादेर्ी जी को िी प्राप्त िै। भार्ात्मकता एर्ं
अनुभूतत की गिनता उनके काव्ि की िर्ाचधिक प्रमुख वर्शेषता िै।
१९४३ में उन्िें ‘मंगलाप्रिाद पाररतोवषक’ एर्ं ‘भारत भारती’ पुरस्कार िे िम्मातनत ककिा गिा। स्र्ािीनता
प्रान्प्त के बाद १९५२ में र्े उत्तर प्रदेश वर्िान पररषद की िदस्िा मनोनीत की गिीं। १९५६ में भारत िरकार
ने उनकी िाहिन्त्िक िेर्ा के सलिे ‘पद्म भूषण’ की उपाधि दी। १९७९ में िाहित्ि अकादमी की िदस्िता
ग्रिण करने र्ाली र्े पिली महिला थीं1988 में उन्िें मरणोपरांत भारत िरकार की पद्म वर्भूषणउपाधि िे
िम्मातनत ककिा गिा।
िन १९६९ में वर्क्रम वर्श्र्वर्द्िालि, १९७७ में कु माऊं वर्श्र्वर्द्िालि, नैनीताल, १९८० में हदकली
वर्श्र्वर्द्िालि तथा १९८४ में बनारि हिंदू वर्श्र्वर्द्िालि, र्ाराणिी ने उन्िें डी.सलि की उपाधि िे
िम्मातनत ककिा।
इििे पूर्च मिादेर्ी र्माच को ‘नीरजा’ के सलिे १९३४ में ‘िक्िेररिा पुरस्कार’, १९४२ में ‘स्मतत की रेखाएाँ’ के
सलिे ‘द्वर्र्ेदी पदक’ प्राप्त िुए। ‘िामा’ नामक काव्ि िंकलन के सलिे उन्िें भारत का िर्ोच्र् िाहिन्त्िक
िम्मान ‘ज्ञानपीठ पुरस्कार’ प्राप्त िुआ।[20] र्े भारत की ५० िबिे िशस्र्ी महिलाओं में भी शासमल िैं।[21]
१९६८ में िुप्रसिद्ि भारतीि क़िकमकार मणाल िेन ने उनके िंस्मरण ‘र्ि र्ीनी भाई’ पर
एक बांग्ला क़िकम का तनमाचण ककिा था न्जिका नाम था नील आकाशेर नीर्े।
१६ सितंबर १९९१ को भारत िरकार के डाकतार वर्भाग ने जिशंकर प्रिाद के िाथ उनके िम्मान में २
रुपए का एक िुगल हिकि भी जारी ककिा िै।
Aditya hindi

More Related Content

What's hot

Gram shree by sumitranandan pant
Gram shree by sumitranandan pantGram shree by sumitranandan pant
Gram shree by sumitranandan pantRoyB
 
प्रश्न 1. सूफी काव्य की विशेषताएँ को स्पस्ट् कीजिए.pptx
प्रश्न 1. सूफी काव्य की विशेषताएँ को स्पस्ट् कीजिए.pptxप्रश्न 1. सूफी काव्य की विशेषताएँ को स्पस्ट् कीजिए.pptx
प्रश्न 1. सूफी काव्य की विशेषताएँ को स्पस्ट् कीजिए.pptxUdhavBhandare
 
Jayasankar prasad presentation
Jayasankar prasad  presentationJayasankar prasad  presentation
Jayasankar prasad presentationvazhichal12
 
वह जन्मभूमि मेरी
वह जन्मभूमि मेरीवह जन्मभूमि मेरी
वह जन्मभूमि मेरीHindijyan
 
Madhushala presentation
Madhushala presentationMadhushala presentation
Madhushala presentationiicecollege
 
जयशंकर प्रसाद
जयशंकर प्रसादजयशंकर प्रसाद
जयशंकर प्रसादArushi Tyagi
 
Top horror places in India, Most Haunted Places in India
Top horror places in India, Most Haunted Places in IndiaTop horror places in India, Most Haunted Places in India
Top horror places in India, Most Haunted Places in IndiaHindi7
 
रामधारी सिंह दिनकर
रामधारी सिंह दिनकररामधारी सिंह दिनकर
रामधारी सिंह दिनकरARAJ P P
 
भारतेन्दु कालीन विशेषताओं को स्पष्ट कीजिए.pptx
भारतेन्दु कालीन विशेषताओं को स्पष्ट कीजिए.pptxभारतेन्दु कालीन विशेषताओं को स्पष्ट कीजिए.pptx
भारतेन्दु कालीन विशेषताओं को स्पष्ट कीजिए.pptxUdhavBhandare
 
ramdhari sinh dinkar
ramdhari sinh dinkarramdhari sinh dinkar
ramdhari sinh dinkarrazeen001
 
Speech on devnagri
Speech on devnagriSpeech on devnagri
Speech on devnagriRaj Verma
 
एक कुत्ता और एक मैना
एक कुत्ता और एक मैना एक कुत्ता और एक मैना
एक कुत्ता और एक मैना ankitsinha111200
 
प्रेमचंद
प्रेमचंद प्रेमचंद
प्रेमचंद Simran Saini
 
Munshi premchand ppt by satish
Munshi premchand ppt by  satishMunshi premchand ppt by  satish
Munshi premchand ppt by satishsatiishrao
 
उत्साह Class x
उत्साह Class xउत्साह Class x
उत्साह Class xkarnail singh
 
महादेवि वेर्मा
महादेवि वेर्मा महादेवि वेर्मा
महादेवि वेर्मा aditya singh
 

What's hot (19)

Gram shree by sumitranandan pant
Gram shree by sumitranandan pantGram shree by sumitranandan pant
Gram shree by sumitranandan pant
 
प्रश्न 1. सूफी काव्य की विशेषताएँ को स्पस्ट् कीजिए.pptx
प्रश्न 1. सूफी काव्य की विशेषताएँ को स्पस्ट् कीजिए.pptxप्रश्न 1. सूफी काव्य की विशेषताएँ को स्पस्ट् कीजिए.pptx
प्रश्न 1. सूफी काव्य की विशेषताएँ को स्पस्ट् कीजिए.pptx
 
Jayasankar prasad presentation
Jayasankar prasad  presentationJayasankar prasad  presentation
Jayasankar prasad presentation
 
वह जन्मभूमि मेरी
वह जन्मभूमि मेरीवह जन्मभूमि मेरी
वह जन्मभूमि मेरी
 
Hindi :Premchand
Hindi :PremchandHindi :Premchand
Hindi :Premchand
 
Madhushala presentation
Madhushala presentationMadhushala presentation
Madhushala presentation
 
जयशंकर प्रसाद
जयशंकर प्रसादजयशंकर प्रसाद
जयशंकर प्रसाद
 
Top horror places in India, Most Haunted Places in India
Top horror places in India, Most Haunted Places in IndiaTop horror places in India, Most Haunted Places in India
Top horror places in India, Most Haunted Places in India
 
रामधारी सिंह दिनकर
रामधारी सिंह दिनकररामधारी सिंह दिनकर
रामधारी सिंह दिनकर
 
भारतेन्दु कालीन विशेषताओं को स्पष्ट कीजिए.pptx
भारतेन्दु कालीन विशेषताओं को स्पष्ट कीजिए.pptxभारतेन्दु कालीन विशेषताओं को स्पष्ट कीजिए.pptx
भारतेन्दु कालीन विशेषताओं को स्पष्ट कीजिए.pptx
 
ramdhari sinh dinkar
ramdhari sinh dinkarramdhari sinh dinkar
ramdhari sinh dinkar
 
Speech on devnagri
Speech on devnagriSpeech on devnagri
Speech on devnagri
 
एक कुत्ता और एक मैना
एक कुत्ता और एक मैना एक कुत्ता और एक मैना
एक कुत्ता और एक मैना
 
प्रेमचंद
प्रेमचंद प्रेमचंद
प्रेमचंद
 
Munshi premchand ppt by satish
Munshi premchand ppt by  satishMunshi premchand ppt by  satish
Munshi premchand ppt by satish
 
Sangatkar ppt
Sangatkar  pptSangatkar  ppt
Sangatkar ppt
 
उत्साह Class x
उत्साह Class xउत्साह Class x
उत्साह Class x
 
Hindi grammar
Hindi grammarHindi grammar
Hindi grammar
 
महादेवि वेर्मा
महादेवि वेर्मा महादेवि वेर्मा
महादेवि वेर्मा
 

Viewers also liked

leonardo vasconez
leonardo vasconez leonardo vasconez
leonardo vasconez leitoalejo
 
CookBook_Oppimisympäristöt
CookBook_OppimisympäristötCookBook_Oppimisympäristöt
CookBook_OppimisympäristötHeikki Luminen
 
Bedrijfsbrochure Food A4 v4
Bedrijfsbrochure Food A4 v4Bedrijfsbrochure Food A4 v4
Bedrijfsbrochure Food A4 v4Andrej Pieterson
 
E1E116020 nono satria (2)
E1E116020 nono satria (2)E1E116020 nono satria (2)
E1E116020 nono satria (2)yuda ke
 
Erick herdiawan E1E116009
Erick herdiawan E1E116009Erick herdiawan E1E116009
Erick herdiawan E1E116009yuda ke
 
James dixon ii wants the best for you
James dixon ii wants the best for youJames dixon ii wants the best for you
James dixon ii wants the best for youjamesdixonii
 
Belinda_Chavez_Bilingual_Copywriting_Portfolio
Belinda_Chavez_Bilingual_Copywriting_PortfolioBelinda_Chavez_Bilingual_Copywriting_Portfolio
Belinda_Chavez_Bilingual_Copywriting_PortfolioBelinda Chavez-Imwalle, MA
 
A short introduction on anypoint studio routers
A short introduction on anypoint studio routersA short introduction on anypoint studio routers
A short introduction on anypoint studio routersSwapnil Sahu
 
Erick herdiawan E1E116009
Erick herdiawan E1E116009Erick herdiawan E1E116009
Erick herdiawan E1E116009yuda ke
 

Viewers also liked (14)

leonardo vasconez
leonardo vasconez leonardo vasconez
leonardo vasconez
 
CookBook_Oppimisympäristöt
CookBook_OppimisympäristötCookBook_Oppimisympäristöt
CookBook_Oppimisympäristöt
 
Bedrijfsbrochure Food A4 v4
Bedrijfsbrochure Food A4 v4Bedrijfsbrochure Food A4 v4
Bedrijfsbrochure Food A4 v4
 
E1E116020 nono satria (2)
E1E116020 nono satria (2)E1E116020 nono satria (2)
E1E116020 nono satria (2)
 
Erick herdiawan E1E116009
Erick herdiawan E1E116009Erick herdiawan E1E116009
Erick herdiawan E1E116009
 
James dixon ii wants the best for you
James dixon ii wants the best for youJames dixon ii wants the best for you
James dixon ii wants the best for you
 
Belinda_Chavez_Bilingual_Copywriting_Portfolio
Belinda_Chavez_Bilingual_Copywriting_PortfolioBelinda_Chavez_Bilingual_Copywriting_Portfolio
Belinda_Chavez_Bilingual_Copywriting_Portfolio
 
A short introduction on anypoint studio routers
A short introduction on anypoint studio routersA short introduction on anypoint studio routers
A short introduction on anypoint studio routers
 
Organization 2
Organization 2Organization 2
Organization 2
 
Blog 1
Blog 1Blog 1
Blog 1
 
Erick herdiawan E1E116009
Erick herdiawan E1E116009Erick herdiawan E1E116009
Erick herdiawan E1E116009
 
Jobs to be done
Jobs to be doneJobs to be done
Jobs to be done
 
Resume (1)
Resume (1)Resume (1)
Resume (1)
 
Resume (1)
Resume (1)Resume (1)
Resume (1)
 

Similar to Aditya hindi

Emailing Presentation1 HINDI 2 SHIVANI.pdf
Emailing Presentation1 HINDI 2 SHIVANI.pdfEmailing Presentation1 HINDI 2 SHIVANI.pdf
Emailing Presentation1 HINDI 2 SHIVANI.pdfBittuJii1
 
1704 Prof Ramesh vasuniya ppt.pdf
1704 Prof Ramesh vasuniya ppt.pdf1704 Prof Ramesh vasuniya ppt.pdf
1704 Prof Ramesh vasuniya ppt.pdfVikasVikas97
 
The thought of communication in ancient bharat
The thought of communication in ancient bharatThe thought of communication in ancient bharat
The thought of communication in ancient bharatchikitsak
 
About c v ramman
About c v rammanAbout c v ramman
About c v rammankfhulkoti
 
Swami dayanand.pptx
Swami dayanand.pptxSwami dayanand.pptx
Swami dayanand.pptxHello183504
 
महाभारत Nityant
महाभारत Nityantमहाभारत Nityant
महाभारत NityantNityant Singhal
 
Hindi Quiz Qy Nishant Nihar | TackOn
Hindi Quiz Qy Nishant Nihar | TackOnHindi Quiz Qy Nishant Nihar | TackOn
Hindi Quiz Qy Nishant Nihar | TackOnTackOn
 
हिंदी के महान लेखक.pptx
हिंदी के महान लेखक.pptxहिंदी के महान लेखक.pptx
हिंदी के महान लेखक.pptxNisha Yadav
 
100 years of indian cinemaa
100 years of indian cinemaa100 years of indian cinemaa
100 years of indian cinemaarajgode
 
भारतनन्दन विवेकानन्द
भारतनन्दन विवेकानन्दभारतनन्दन विवेकानन्द
भारतनन्दन विवेकानन्दVanita Thakkar
 
भीष्म साहनी की प्रमुख रचनाएं.pdf
भीष्म साहनी की प्रमुख रचनाएं.pdfभीष्म साहनी की प्रमुख रचनाएं.pdf
भीष्म साहनी की प्रमुख रचनाएं.pdfSoulvedaHindi
 
हिन्दु
हिन्दुहिन्दु
हिन्दुchikitsak
 
स्वाधीनता के मन्त्रदृष्टा - महर्षि दयानन्द
स्वाधीनता के मन्त्रदृष्टा - महर्षि दयानन्दस्वाधीनता के मन्त्रदृष्टा - महर्षि दयानन्द
स्वाधीनता के मन्त्रदृष्टा - महर्षि दयानन्दDarshanyog Mahavidyalaya
 
डॉ. ए. पी. जे. अब्दुल कलाम.pptx APJ abdul Kalam Biography overview
डॉ. ए. पी. जे. अब्दुल कलाम.pptx APJ abdul Kalam Biography overviewडॉ. ए. पी. जे. अब्दुल कलाम.pptx APJ abdul Kalam Biography overview
डॉ. ए. पी. जे. अब्दुल कलाम.pptx APJ abdul Kalam Biography overviewMihirPrajapati68
 

Similar to Aditya hindi (20)

chhayavad-4.pptx
chhayavad-4.pptxchhayavad-4.pptx
chhayavad-4.pptx
 
hindi ppt
hindi ppthindi ppt
hindi ppt
 
Emailing Presentation1 HINDI 2 SHIVANI.pdf
Emailing Presentation1 HINDI 2 SHIVANI.pdfEmailing Presentation1 HINDI 2 SHIVANI.pdf
Emailing Presentation1 HINDI 2 SHIVANI.pdf
 
Bahd 06-block-04 (1)
Bahd 06-block-04 (1)Bahd 06-block-04 (1)
Bahd 06-block-04 (1)
 
1704 Prof Ramesh vasuniya ppt.pdf
1704 Prof Ramesh vasuniya ppt.pdf1704 Prof Ramesh vasuniya ppt.pdf
1704 Prof Ramesh vasuniya ppt.pdf
 
The thought of communication in ancient bharat
The thought of communication in ancient bharatThe thought of communication in ancient bharat
The thought of communication in ancient bharat
 
About c v ramman
About c v rammanAbout c v ramman
About c v ramman
 
President of India .pdf
President of India .pdfPresident of India .pdf
President of India .pdf
 
Swami dayanand.pptx
Swami dayanand.pptxSwami dayanand.pptx
Swami dayanand.pptx
 
महाभारत Nityant
महाभारत Nityantमहाभारत Nityant
महाभारत Nityant
 
Hindi Quiz Qy Nishant Nihar | TackOn
Hindi Quiz Qy Nishant Nihar | TackOnHindi Quiz Qy Nishant Nihar | TackOn
Hindi Quiz Qy Nishant Nihar | TackOn
 
हिंदी के महान लेखक.pptx
हिंदी के महान लेखक.pptxहिंदी के महान लेखक.pptx
हिंदी के महान लेखक.pptx
 
100 years of indian cinemaa
100 years of indian cinemaa100 years of indian cinemaa
100 years of indian cinemaa
 
Hindi presentation.pptx
Hindi presentation.pptxHindi presentation.pptx
Hindi presentation.pptx
 
भारतनन्दन विवेकानन्द
भारतनन्दन विवेकानन्दभारतनन्दन विवेकानन्द
भारतनन्दन विवेकानन्द
 
भीष्म साहनी की प्रमुख रचनाएं.pdf
भीष्म साहनी की प्रमुख रचनाएं.pdfभीष्म साहनी की प्रमुख रचनाएं.pdf
भीष्म साहनी की प्रमुख रचनाएं.pdf
 
हिन्दु
हिन्दुहिन्दु
हिन्दु
 
jagganath rathyatra
jagganath rathyatrajagganath rathyatra
jagganath rathyatra
 
स्वाधीनता के मन्त्रदृष्टा - महर्षि दयानन्द
स्वाधीनता के मन्त्रदृष्टा - महर्षि दयानन्दस्वाधीनता के मन्त्रदृष्टा - महर्षि दयानन्द
स्वाधीनता के मन्त्रदृष्टा - महर्षि दयानन्द
 
डॉ. ए. पी. जे. अब्दुल कलाम.pptx APJ abdul Kalam Biography overview
डॉ. ए. पी. जे. अब्दुल कलाम.pptx APJ abdul Kalam Biography overviewडॉ. ए. पी. जे. अब्दुल कलाम.pptx APJ abdul Kalam Biography overview
डॉ. ए. पी. जे. अब्दुल कलाम.pptx APJ abdul Kalam Biography overview
 

Aditya hindi

  • 1.
  • 2. महादेवी वमाा (२६ मार्च १९०७ — ११ सितंबर १९८७) हिन्दी की िर्ाचधिक प्रततभार्ान कर्तित्रििों में िे िैं। र्े हिन्दी िाहित्ि में छािार्ादी िुग के र्ार प्रमुख स्तंभों[क] में िे एक मानी जाती िैं।[1] आिुतनक हिन्दी की िबिे िशक्त कर्तित्रििों में िे एक िोने के कारण उन्िें आिुतनक मीरा के नाम िे भी जाना जाता िै।[2] कवर् तनराला ने उन्िें “हिन्दी के वर्शाल मन्न्दर की िरस्र्ती” भी किा िै।[ख] मिादेर्ी ने स्र्तंिता के पिले का भारत भी देखा और उिके बाद का भी। र्े उन कवर्िों में िे एक िैं न्जन्िोंने व्िापक िमाज में काम करते िुए भारत के भीतर वर्द्िमान िािाकार, रुदन को देखा, परखा और करुण िोकर अन्िकार को दूर करने र्ाली दृन्टि देने की कोसशश की।[3] न के र्ल उनका काव्ि बन्कक उनके िामाजिुिार के कािच और महिलाओं के प्रतत र्ेतना भार्ना भी इि दृन्टि िे प्रभावर्त रिे। उन्िोंने मन की पीडा को इतने स्नेि और शंगार िे िजािा कक में र्ि जन-जन की पीडा के रूप में स्थावपत िुई और उिने के र्ल पाठकों को िी निीं िमीक्षकों को भी गिराई तक प्रभावर्त ककिा।
  • 3. महादेवी का जन्म २६ मार्च १९०७ को प्रातः ८ बजे[6] फ़र्रच खाबाद उत्तर प्रदेश, भारत में हुआ। उनके पररवार में लगभग २०० वर्षों या सात पीढ़ियों के बाद पहली बार पुत्री का जन्म हुआ था। अतः बाबा बाबू बााँके ढवहारी जी हर्षच से झूम उठे और इन्हें घर की देवी — महादेवी मानते हुए[6] पुत्री का नाम महादेवी रखा। उनके ढपता श्री गोढविंद प्रसाद वमाच भागलपुर के एक कॉलेज में प्राध्यापक थे। उनकी माता का नाम हेमरानी देवी था। हेमरानी देवी बडी धमच परायण, कमचढनष्ठ, भावुक एविं शाकाहारी मढहला थीं।[6] ढववाह के समय अपने साथ ढसिंहासनासीन भगवान की मूढतच भी लायी थीं[6] वे प्रढतढदन कई घिंटे पूजा-पाठ तथा रामायण, गीता एविं ढवनय पढत्रका का पारायण करती थीं और सिंगीत में भी उनकी अत्यढधक र्रढर् थी। इसके ढबल्कु ल ढवपरीत उनके ढपता गोढवन्द प्रसाद वमाच सुन्दर, ढवद्वान, सिंगीत प्रेमी, नाढततक, ढशकार करने एविं घूमने के शौकीन, मािंसाहारी तथा हाँसमुख व्यढि थे। महादेवी वमाच के मानस बिंधुओिंमें सुढमत्रानिंदन पिंत एविं ढनराला का नाम ढलया जा सकता है, जो उनसे जीवन पयचन्त राखी बाँधवाते रहे।[7] ढनराला जी से उनकी अत्यढधक ढनकटता थी,[8] उनकी पुष्ट कलाइयों में महादेवी जी लगभग र्ालीस वर्षों तक राखी बााँधती रहीं
  • 4. िाहित्ि में मिादेर्ी र्माच का आवर्भाचर् उि िमि िुआ जब खडीबोली का आकार पररटकत िो रिा था। उन्िोंने हिन्दी कवर्ता को बजभाषा की कोमलता दी, छंदों के निे दौर को गीतों का भंडार हदिा और भारतीि दशचन को र्ेदना की िाहदचक स्र्ीकतत दी। इि प्रकार उन्िोंने भाषा िाहित्ि और दशचन तीनों क्षेिों में ऐिा मित्त्र्पूणच काम ककिा न्जिने आनेर्ाली एक पूरी पीढी को प्रभावर्त ककिा। शर्ीरानी गुिूच ने भी उनकी कवर्ता को िुिन्जजत भाषा का अनुपम उदािरण माना िै। उन्िोंने अपने गीतों की रर्ना शैली और भाषा में अनोखी लि और िरलता भरी िै, िाथ िी प्रतीकों और त्रबंबों का ऐिा िुंदर और स्र्ाभावर्क प्रिोग ककिा िै जो पाठक के मन में धर्ि िा खींर् देता िै। छािार्ादी काव्ि की िमद्धि में उनका िोगदान अत्िंत मित्त्र्पूणच िै। छािार्ादी काव्ि को जिााँ प्रिाद ने प्रकतततत्त्र् हदिा, तनराला ने उिमें मुक्तछंद की अर्तारणा की और पंत ने उिे िुकोमल कला प्रदान की र्िााँ छािार्ाद के कलेर्र में प्राण-प्रततटठा करने का गौरर् मिादेर्ी जी को िी प्राप्त िै। भार्ात्मकता एर्ं अनुभूतत की गिनता उनके काव्ि की िर्ाचधिक प्रमुख वर्शेषता िै।
  • 5.
  • 6. १९४३ में उन्िें ‘मंगलाप्रिाद पाररतोवषक’ एर्ं ‘भारत भारती’ पुरस्कार िे िम्मातनत ककिा गिा। स्र्ािीनता प्रान्प्त के बाद १९५२ में र्े उत्तर प्रदेश वर्िान पररषद की िदस्िा मनोनीत की गिीं। १९५६ में भारत िरकार ने उनकी िाहिन्त्िक िेर्ा के सलिे ‘पद्म भूषण’ की उपाधि दी। १९७९ में िाहित्ि अकादमी की िदस्िता ग्रिण करने र्ाली र्े पिली महिला थीं1988 में उन्िें मरणोपरांत भारत िरकार की पद्म वर्भूषणउपाधि िे िम्मातनत ककिा गिा। िन १९६९ में वर्क्रम वर्श्र्वर्द्िालि, १९७७ में कु माऊं वर्श्र्वर्द्िालि, नैनीताल, १९८० में हदकली वर्श्र्वर्द्िालि तथा १९८४ में बनारि हिंदू वर्श्र्वर्द्िालि, र्ाराणिी ने उन्िें डी.सलि की उपाधि िे िम्मातनत ककिा। इििे पूर्च मिादेर्ी र्माच को ‘नीरजा’ के सलिे १९३४ में ‘िक्िेररिा पुरस्कार’, १९४२ में ‘स्मतत की रेखाएाँ’ के सलिे ‘द्वर्र्ेदी पदक’ प्राप्त िुए। ‘िामा’ नामक काव्ि िंकलन के सलिे उन्िें भारत का िर्ोच्र् िाहिन्त्िक िम्मान ‘ज्ञानपीठ पुरस्कार’ प्राप्त िुआ।[20] र्े भारत की ५० िबिे िशस्र्ी महिलाओं में भी शासमल िैं।[21] १९६८ में िुप्रसिद्ि भारतीि क़िकमकार मणाल िेन ने उनके िंस्मरण ‘र्ि र्ीनी भाई’ पर एक बांग्ला क़िकम का तनमाचण ककिा था न्जिका नाम था नील आकाशेर नीर्े। १६ सितंबर १९९१ को भारत िरकार के डाकतार वर्भाग ने जिशंकर प्रिाद के िाथ उनके िम्मान में २ रुपए का एक िुगल हिकि भी जारी ककिा िै।