Your SlideShare is downloading. ×
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Gurutva jyotish feb 2013
Upcoming SlideShare
Loading in...5
×

Thanks for flagging this SlideShare!

Oops! An error has occurred.

×
Saving this for later? Get the SlideShare app to save on your phone or tablet. Read anywhere, anytime – even offline.
Text the download link to your phone
Standard text messaging rates apply

Gurutva jyotish feb 2013

1,222

Published on

Free monthly Astrology Magazines absolutely free, You can read in Monthly GURUTVA JYOTISH Magazines Astrology, Numerology, Vastu, Gems Stone, Mantra, Yantra, Tantra, Kawach & ETC Related Article …

Free monthly Astrology Magazines absolutely free, You can read in Monthly GURUTVA JYOTISH Magazines Astrology, Numerology, Vastu, Gems Stone, Mantra, Yantra, Tantra, Kawach & ETC Related Article absolutely free of cost.
February 2013 free monthly Astrology Magazines, You can read in Monthly GURUTVA JYOTISH Magazines Astrology, Numerology, Vastu, Gems Stone, Mantra, Yantra, Tantra, Kawach & ETC Related Article absolutely free of cost. Mantra Siddha Kavach, Mantra Siddhi Kavach, Abhimantrit Kawach, energised, Kavach, Mantra Siddha Kavach, Siddha Kabach, Kavach for Sarva Karya Siddha, Sarb Karya Siddhi, Vasikaran, Ashta Lakshmi, Laxmi Kavach, Sarvjan Vashi karan, Navgtrah Shanti, Saraswati, Rog Nivaran Mantra Siddha Kawach, durga kavach, baglamukhi kavach, Love, Marriage kavach fungicide, hanuman kavach,shiv kavach, saraswati kavach, shabari kavach, yantra, Kawach for all kinds of problem, Kavach For Business, Job, Health, Study, Tantra, Nazar Raksha, Hanuman kavach Delhi, original hanuman kavach, authentic panchmukhi hanuman kavach, gold foil panchmukhi hanuman kavach, ASHTA LAXMI, Lakshmi (Kavach), KARYA SHIDDHI Kawach, AKASHMIK DHAN PRAPTI, SANTAN PRAPTI, BHUMI LABHA, KAM DEV, SARVA ROG NIVARAN, SPL VYAAPAR VRUDDHI, RUNMUKTI (KARAJ MUKTI), AVGRAHA SHANTI, TANTRA RAKSHA, VIVAH BADHA NIVARAN, MASTISK PRUSTI VARDHAK, KAMANA PURTI, DHAN PRAPTI, SHATRU VIJAY, DURBHAGYA NASHAK,VASHI Karan, Vasi karan, PATNI VASI KARAN, PATI VASI KARAN,VYAPAR VRUDDHI, SARASWATI (STUDY), ROJGAR VRUDDHI, ROJGAR PRAPTI, Shri Ghantakarn Mahavir Sarv Siddhi Prad Kawach, Sakal Siddhi Prad Gayatri Kawach, Dus Mahavidya Kawach, Navdurga Shakiti Kawach, Durga Visha Kawach, Rasayan Siddhi Kawach, Pancha Dev Shakti Kawach, Raj Rajeshwari Kawach, Pardesh Gaman Aur Labh Prapti Kawach, Asht Vinayak Kawach, Siddhi Vinayak Ganapati Kawach, Vishnu Visha Kawach, Ramabhadra Visha Kawach, Swastik Visha Kawach, Hans Visha Kawach, Kuber Visha Kawach, Garud Visha Kawach, Sinha Visha Kawach, Sudarshan Visha Kawach, Mahasudarshan Kawach, Narvan Visha Kawach, Trishool Visha Kawach, Sankat Mochinee Kalika Siddhi Kawach, Ram Raksha Kawach, Hanuman Raksha Kawach, Bhairav Raksha Kawach, Lakshmi Visha Kawach, Swapn Bhay Nivaran Kawach, Isht Siddhi Kawach, Vilakshan Sakal Raj Vasikaran Kawach, Sakal Samman Praapti Kawach, Suvarn Lakshmi Kawach, Swarnakarshan Bhairav Kawach, Aakarshan Vruddhi Kawach, Vasikaran Nashak Kawach, Preepi Nashak Kawach, Kaalsarp Shanti Kawach, Shani Sadesatee aur Dhaiya Kasht Nivaran Kawach, Sharapit Yog Nivaran Kawach, Chandal Yog Kawach, Grahan Yog Nivaran Kawach, Magalik Yog Nivaran Kawach, Siddha Surya Kawach, Siddha Chandra Kawach, Siddha Mangal Kawach, Siddha Bhudha Kawach, Siddha Guru Kawach, Siddha Shukra Kawach, Siddha Shani Kawach, Siddha Rashu Kawach, Siddha Ketu Kawach,

Published in: Spiritual
0 Comments
1 Like
Statistics
Notes
  • Be the first to comment

No Downloads
Views
Total Views
1,222
On Slideshare
0
From Embeds
0
Number of Embeds
1
Actions
Shares
0
Downloads
35
Comments
0
Likes
1
Embeds 0
No embeds

Report content
Flagged as inappropriate Flag as inappropriate
Flag as inappropriate

Select your reason for flagging this presentation as inappropriate.

Cancel
No notes for slide

Transcript

  • 1. Font Help >> http://gurutvajyotish.blogspot.comगुरुत्व कामाारम द्राया प्रस्तुत भाससक ई-ऩत्रिका पयवयी- 2013 NON PROFIT PUBLICATION
  • 2. FREE E CIRCULARगुरुत्व ज्मोसतष ऩत्रिका ई- जन्भ ऩत्रिकापयवयी 2013 अत्माधुसनक ज्मोसतष ऩद्धसत द्रायासॊऩादकसिॊतन जोशीसॊऩकागुरुत्व ज्मोसतष त्रवबाग उत्कृ ष्ट बत्रवष्मवाणी क साथ ेगुरुत्व कामाारम92/3. BANK COLONY,BRAHMESHWAR PATNA,BHUBNESWAR-751018, १००+ ऩेज भं प्रस्तुत(ORISSA) INDIAपोन91+9338213418,91+9238328785, E HOROSCOPEईभेरgurutva.karyalay@gmail.com,gurutva_karyalay@yahoo.in, Create By Advancedवेफwww.gurutvakaryalay.comhttp://gk.yolasite.com/ Astrologywww.gurutvakaryalay.blogspot.com/ऩत्रिका प्रस्तुसत Excellent Predictionसिॊतन जोशी, 100+ Pagesस्वस्स्तक.ऎन.जोशीपोटो ग्राफपक्स फहॊ दी/ English भं भूल्म भाि 750/-सिॊतन जोशी, स्वस्स्तक आटाहभाये भुख्म सहमोगी GURUTVA KARYALAYस्वस्स्तक.ऎन.जोशी (स्वस्स्तक BHUBNESWAR-751018, (ORISSA) INDIA Call Us – 91 + 9338213418, 91 + 9238328785सोफ्टे क इस्न्डमा सर) Email Us:- gurutva_karyalay@yahoo.in, gurutva.karyalay@gmail.com
  • 3. अनुक्रभत्रवसबन्न कवि से काभना ऩूसता 7 भहा सुदशान कवि 24अभोघ भहाभृत्मुॊजम कवि 7 त्रिशूर फीसा कवि 24श्री घॊटाकणा भहावीय सवा ससत्रद्ध प्रद कवि 8 स्वप्न बम सनवायण कवि 25सकर ससत्रद्ध प्रद गामिी कवि 9 सकर सम्भान प्रासद्ऱ कवि 25दस भहा त्रवद्या कवि 10 आकषाण वृत्रद्ध कवि 25नवदगाा शत्रि कवि ु 11 वशीकयण नाशक कवि 26ऩॊिदे व शत्रि कवि 12 यसामन ससत्रद्ध कवि 26सुवणा रक्ष्भी कवि 13 काभना ऩूसता हे तु हभाये त्रवशेष कवि 27स्वणााकषाण बैयव कवि 13 सवा कामा ससत्रद्ध कवि 27श्रीदगाा फीसा कवि ु 14 याज याजेश्वयी कवि 27अष्ट त्रवनामक कवि 15 सवाजन वशीकयण कवि 28ससत्रद्ध त्रवनामक कवि 15 अष्ट रक्ष्भी कवि 28त्रवष्णु फीसा कवि 16 शिु त्रवजम कवि 29याभबद्र फीसा कवि 17 ऩयदे श गभन औय राब प्रासद्ऱ कवि 29स्वस्स्तक फीसा कवि 17 बूसभराब कवि 30सयस्वती कवि 18 आकस्स्भक धन प्रासद्ऱ कवि 30हॊ स फीसा कवि 18 ऩदौन्नसत कवि 30कफेय फीसा कवि ु 19 तॊि यऺा कवि 30नवााण फीसा कवि 20 ऋण भुत्रि कवि 31गरुड फीसा कवि 20 योजगाय प्रासद्ऱ कवि 31ससॊह फीसा कवि 20 ग्रह शाॊसत हे तु त्रवशेष कवि 32सॊकट भोसिनी कासरका ससत्रद्ध कवि 21 कारसऩा शाॊसत कवि 32याभ यऺा कवि 22 शसन साड़े साती औय ढ़ै मा कष्ट सनवायण कवि 33हनुभान कवि 22 श्रात्रऩत मोग सनवायण कवि 33बैयव यऺा कवि 23 िॊडार मोग सनवायण कवि 34इष्ट ससत्रद्ध कवि 23 ग्रहण मोग सनवायण कवि 35त्रवरऺण सकर याज वशीकयण कवि 23 भाॊगसरक मोग सनवायण कवि 36सुदशान फीसा कवि 24 ससद्ध सूम, िॊद्र, भॊगर, फुध, गुरु, शुक्र, शसन, याहु, कतु कवि 36-37 ा े स्थामी औय अन्म रेखसॊऩादकीम 4 दै सनक शुब एवॊ अशुब सभम ऻान तासरका 66पयवयी 2013 भाससक यासश पर 55 फदन-यात क िौघफडमे े 67पयवयी 2013 भाससक ऩॊिाॊग 59 फदन-यात फक होया - सूमोदम से सूमाास्त तक 68पयवयी 2013 भाससक व्रत-ऩवा-त्मौहाय 61 ग्रह िरन पयवयी 2013 69पयवयी 2013-त्रवशेष मोग 66 हभाया उद्दे श्म 79
  • 4. त्रप्रम आस्त्भम फॊध/ फफहन ु जम गुरुदे व साभान्म बाषा भं कवि शब्द का अथा होता हं यऺा/फिाव कयने वारा होता हं । ऩौयास्णक ग्रॊथं क अध्ममन से ेहभं ऻात होता हं की मोद्धा जफ मुद्ध कयने क सरए जाते थे तो अऩने त्रवयोसध मा प्रसतद्रॊ द्री ऩऺ क अस्त्र-शस्त्रं क घात- े े ेप्रसतघात से शयीय की यऺा क सरए रोहे से फना त्रवशेष रुऩ का कवि धायण कयते थे। स्जससे मुद्ध क दौयान उनका े ेशयीय असधक दे य तक सुयस्ऺत यहता था। त्रवसबन्न दे वी दे वताओॊ क कवि बी इसी प्रकाय से कामा कयते हं , एक कवि ेवह हं जो भॊि एवॊ स्त्रोत क स्वरुऩ होता हं स्जसक ऩाठ-ऩठन से साधक का यऺण होता हं दसया होता हं दे वी-दे वता क े े ू ेभॊि, मॊि आफद द्राया त्रवशेष रुऩ से सनसभात फकमे गमे कवि स्जसको धायण कय धायण कताा की त्रवसबन्न असबराषाऐऩूणा होती हं । त्रवसबन्न दे वी-दे वताओॊ क भॊि, मॊि आफद द्राया सनसभात कवि क प्रबाव से धायण कताा की यऺा होने का े ेउल्रेख हभाये धभाशास्त्रं भं सभरता हं ,ब्रह्म वैवता ऩुयाण भं वस्णात प्रसॊग 1: ब्रह्म वैवता ऩुयाण भं गणऩसत खण्ड अध्माम 30 भं उल्रेख हं की ऩयशुयाभ ने कातावीमा को भायने की प्रसतऻा कोऩूया कयने क सरए सशवजी से अऩना असबप्राम प्रकट कयते हं , स्जसे सुनकय दे वी बगवती क्रोसधत हो जाती हं औय ेसशवजी से अऩनी मािना कयने आमे ऩयशुयाभ की सनॊदा कयते हुवे उनकी बत्साना कयती हं । तफ ऩयशुयाभ दे वीजगदम्फा क क्रोसधत विनं को सुनकय जोय-जोय से योने रगते हं औय अऩने प्राण-त्मागने क सरए तैमाय हो जाते हं । े ेतफ बोरेनाथ ने ब्राह्मण फारक को योते दे ख, स्नेह औय त्रवनम ऩूवक दे वी बगवती क क्रोध को शाॊत फकम औय ा ेऩयशुयाभ से कहाॊ "हे वत्स ! आज से तुभ भेये सरमे ऩुि क सभान हो, भं तुम्हं एसा गूढ़ भॊि प्रदान करुॉ गा जो ेत्रिरोकं भं अत्मॊत दरब हं । इसी प्रकाय एक एसा ऩयभ दरब एवॊ अद्द्भत कवि प्रदान करुॉ गा स्जसे धायण कयक तुभ ु ा ु ा ु ेभेयी कृ ऩा से कातावीमा का वध कयंगे। वत्स ! तुभ इक्कीस फाय ऩृथ्वी को ऺत्रिम-त्रवहीन कयने भं सभथा हंगे औय सायेजगत भं तुम्हायी कीसता व्माद्ऱ होगी इसभं जयाबी सॊशम नहीॊ हं । फपय सशवजीने ऩयशुयाभ से कहाॉ ! वत्स "िैरोक्मत्रवज" नाभक कवि, जो ऩयभ दरब औय अनोखा हं ु ा भैनेतुम्हं फतरा फदमा हं । भैने इसे श्रीकृ ष्ण क भुख से श्रवण फकमा हं , इस सरमे इसे स्जस फकसी को नहीॊ फतराना िाफहए। ेजो ऩूणा त्रवसध-त्रवधान से गुरु ऩूजन कयक इस कवि को गरे भं मा अऩनी दाफहनी बुजा ऩय धायण कयता हं , वह ेत्रवष्णु-तुल्म हो जाता हं , इसभं सॊशम नहीॊ हं । वह जहाॉ यहता हं , वहाॉ रक्ष्भी औय सयस्वती सनवास कयती हं । मफद कोईइस कवि को ससत्रद्ध कयरे तो वह प्राणी जीवन भुि हो जाता हं औय कयोड़ं वषं की ऩूजा का पर उसे प्राद्ऱ हो जाताहं । क्मोकी, हजायं याजसूम, अश्वभेध आफद सॊऩूणा भहादान इस िैरोक्मत्रवजम कवि की सोरहवीॊ करा की बी सभानता ानहीॊ कय सकते। हजायं सैकड़ं व्रत-उऩवास, तऩस्मा, तीथा स्नान आफद सबी ऩूण्म कभा इसकी करा को नहीॊ ऩा सकते। इस सरए वत्स ! इस कवि को धायण कय तुभ आनन्दऩूवक सनस्िॊत हो कय इक्कीस फाय ऩृथ्वी को ऺत्रिम- ात्रवहीन कयने का अऩना प्रण ऩूया कयं! रेफकन ऩुि ! प्राण सॊकट भं हो तो याज्म स्जमा जा सकता हं , ससय कटामा जा सकता हं औय प्राणं कोऩरयत्माग बी फकमा जा सकता हं , रेफकन एसे दरब कवि का दान नहीॊ कयना िाफहए। ु ाइस प्रकाय सशव कृ ऩा से ऩयशुयाभ ने 21 फाय ऩृथ्वी को ऺत्रिम-त्रवहीन कय फदमा (हय फाय फकसी कायणं से ऺत्रिमं कीऩस्िमाॉ जीत्रवत यहीॊ औय नई ऩीढ़ी को जन्भ फदमा) औय ऩाॉि झीरं को यि से बय फदमा। अॊत भं त्रऩतयं की
  • 5. आकाशवाणी सुनकय उन्हंने ऺत्रिमं से मुद्ध कयना छोड़कय तऩस्मा भं रग गमे। एसा वणान धभाग्रथं भं सभरता हं । ॊब्रह्म वैवता ऩुयाण भं वस्णात प्रसॊग 2: ब्रह्म वैवता ऩुयाण भं गणऩसत खण्ड अध्माम 35 भं उल्रेख हं की ऩयशुयाभ ने याजा भत्स्मयाज से उसका सुयऺाकवि भाॊगकय उसका वध फकमा। भत्स्मयाज क गरे भं ऋत्रष दवाासा द्राया फदमा गमा सशवजी का फदव्म कवि फॉधा था े ु! मुद्ध क दौयान आकाशवाणी हुई, मह कवि याजा को प्राण-प्रदान कयने वारा था इस सरए याजा से प्राण-प्रदान कयने ेवारे कवि को भाॉग कय उसका वध कयं। तफ ऩयशुयाभ ने सॊन्मासी का वेष धायण कयक याजा से कवि की मािना की। याजा भत्स्मयाज ने प्राण-प्रदान ेकयने वारे "ब्राह्मण-त्रवजम" नाभक उत्तभ कवि को उन्हं दे फदमा। उस कवि को रेकय ऩयशुयाभ नं त्रिशूर से प्रहाय सेिॊद्रवॊश भं उत्ऩन्न, गुणवान औय भहाफरी, स्जसक भुख की काॊसत सैकड़ं िन्द्रभाओॊ क सभान थी, वह बूतर ऩय सगय े ेगमा। याजा से उसका कवि दान भं भाॉगकय उसका वध फकमा।ब्रह्म वैवता ऩुयाण भं वस्णात प्रसॊग 3: ब्रह्म वैवता ऩुयाण भं गणऩसत खण्ड अध्माम 38 भं उल्रेख हं की ऩयशुयाभ का सुिन्द्र-ऩुि ऩुष्कयाऺ का मुद्ध केदौयान ऩाशुऩत शस्त्र को छोड़ने का उद्यत कयते सभम ऩयशुयाभक ऩास बगवान हरय वृद्ध ब्राह्मण वेश भं आकय, उन्हं ेसभझामा की वत्स बागाव ! तुभ तो भहाऻासन हो फपय भ्रभव्सह, क्रोधावेश भं आकय तुभ भनुष्म का वध कयने क सरमे ेऩाशुऩत का प्रमोग क्मं कय यहे हो? इस ऩाशुऩत से तत्ऺण साया त्रवश्व बस्भ हो सकता हं , क्मोफक मह शस्त्र बगवानश्रीकृ ष्ण क असतरयि औय सफका त्रवनाशक हं । इस ऩाशुऩत को जीतने की शत्रि तो सुदशान िक्र औय श्रीहरय भं ही हं , ेमह दोनं तीनं रोकं भं सभस्त अस्त्रं भं प्रधान हं । इससरए हे वत्स! तुभ ऩाशुऩतास्त्र को यख दं औय भेयी फात सुनं।सुिन्द्र-ऩुि ऩुष्कयाऺ क गरे भं भहारक्ष्भी कवि कवि हं जो तीनं रोकं भं दरब हं , स्जसे ऩुष्कयाऺ नं बत्रिऩूवक े ु ा ात्रवसध-त्रवधान से अऩने गरे भं धायण कय यखा हं औय ऩुष्कयाऺ क ऩुि नं आद्यशत्रि दे वी दगाा का ऩयभ दरब एवॊ े ु ु ाउत्तभ कवि अऩने दाफहनी बुजा ऩय फाॉधा हुवा हं ।। स्जसक प्रबाव से वह दोनं ऩयभैश्वमा सम्ऩन्न औय त्रिरोकत्रवजमी ेहुवे हं । इस कवि को धायण फकमे हुवे को कौन जीत सकता हं । इससरए वत्स ! भं तुम्हायी प्रसतऻा को सपर कयने केसरए उन दोनं क सॊसनकट जाकय उनसे कवि की मािना करुॉ गा। े ब्राह्मण वेशधायी बगवान त्रवष्णु की फात सुनकय ऩयशुयाभ ने बमसबत हो कय वृद्ध ब्राह्मण से ऩूछा "भहाप्रऻ"ब्राह्मणरुऩधायी आऩ कौन हं , भं मह नहीॊ जान ऩा यहा हूॉ, अत् आऩ भुझ अनजान को शीघ्र ही अऩना ऩरयिम दीस्जमे ,तफ बगवान त्रवष्णु ने हॉ स कय कहाॉ भं त्रवष्णु हूॉ। फपय बगवान त्रवष्णु ने त्रवप्र रूऩधायण कय अऩनी भामा से भोफहत कय ऩुष्कयाऺ से भहारक्ष्भी औय उसक ऩुि से ेदगाा कवि को दान रूऩ भं प्राद्ऱ कयसरमा। फपय ऩयशुयाभ ने याजा का वध कय फदमा। इस प्रकाय कवि क अद्द्भत ु े ुप्रबावं क भफहभा से हभाये धभा ग्रॊथ आफद अनेकं शास्त्र भं बये ऩड़े हं । ेइस अॊक भं प्रकासशत कवि से सॊफॊसधत जानकायीमं क त्रवषम भं साधक एवॊ त्रवद्रान ऩाठको से अनुयोध हं , मफद दशाामे ेगए कवि क राब, प्रबाव इत्मादी क सॊकरन, प्रभाण ऩढ़ने, सॊऩादन भं, फडजाईन भं, टाईऩीॊग भं, त्रप्रॊफटॊ ग भं, प्रकाशन े ेभं कोई िुफट यह गई हो, तो उसे स्वमॊ सुधाय रं मा फकसी मोग्म ज्मोसतषी, गुरु मा त्रवद्रान से सराह त्रवभशा कय रे ।क्मोफक त्रवद्रान ज्मोसतषी, गुरुजनो एवॊ साधको क सनजी अनुबव त्रवसबन्न कविो की सनभााण ऩद्धसत एवॊ प्रबावं का ेवणान कयने भं बेद होने ऩय कवि की, ऩूजन त्रवसध एवॊ उसक प्रबावं भं सबन्नता सॊबव हं । े सिॊतन जोशी
  • 6. 6 पयवयी 2013 ***** कवि त्रवशेषाॊक से सॊफॊसधत सूिना ***** ऩत्रिका भं प्रकासशत कवि त्रवशेषाॊक गुरुत्व कामाारम क असधकायं क साथ ही आयस्ऺत हं । े े कवि त्रवशेषाॊक भं वस्णात रेखं को नास्स्तक/अत्रवश्वासु व्मत्रि भाि ऩठन साभग्री सभझ सकते हं । कवि का त्रवषम आध्मात्भ से सॊफॊसधत होने क कायण बायसतम धभा शास्त्रं से प्रेरयत होकय प्रस्तुत े फकमा हं । कवि त्रवशेषाॊक से सॊफॊसधत त्रवषमो फक सत्मता अथवा प्राभास्णकता ऩय फकसी बी प्रकाय की स्जन्भेदायी कामाारम मा सॊऩादक फक नहीॊ हं । कवि से सॊफॊसधत सबी जानकायीकी प्राभास्णकता एवॊ प्रबाव की स्जन्भेदायी कामाारम मा सॊऩादक की नहीॊ हं औय ना हीॊ प्राभास्णकता एवॊ प्रबाव की स्जन्भेदायी क फाये भं जानकायी दे ने हे तु े कामाारम मा सॊऩादक फकसी बी प्रकाय से फाध्म हं । कवि त्रवशेषाॊक भं वस्णात कवि त्रवशेषाॊक से सॊफॊसधत रेखो भं ऩाठक का अऩना त्रवश्वास होना आवश्मक हं । फकसी बी व्मत्रि त्रवशेष को फकसी बी प्रकाय से इन त्रवषमो भं त्रवश्वास कयने ना कयने का अॊसतभ सनणाम स्वमॊ का होगा। कवि त्रवशेषाॊक से सॊफॊसधत फकसी बी प्रकाय की आऩत्ती स्वीकामा नहीॊ होगी। कवि त्रवशेषाॊक से सॊफॊसधत रेख हभाये वषो क अनुबव एवॊ अनुशॊधान क आधाय ऩय फदए गमे हं । े े हभ फकसी बी व्मत्रि त्रवशेष द्राया प्रमोग फकमे जाने वारे कवि, भॊि- मॊि मा अन्म प्रमोग मा उऩामोकी स्जन्भेदायी नफहॊ रेते हं । मह स्जन्भेदायी कवि, भॊि-मॊि मा अन्म प्रमोग मा उऩामोको कयने वारे व्मत्रि फक स्वमॊ फक होगी। क्मोफक इन त्रवषमो भं नैसतक भानदॊ डं, साभास्जक, कानूनी सनमभं क स्खराप कोई व्मत्रि मफद नीजी स्वाथा ऩूसता हे तु प्रमोग कताा हं अथवा प्रमोग क कयने भे े े िुफट होने ऩय प्रसतकर ऩरयणाभ सॊबव हं । ू कवि त्रवशेषाॊक से सॊफॊसधत जानकायी को भाननने से प्राद्ऱ होने वारे राब, राब की हानी मा हानी की स्जन्भेदायी कामाारम मा सॊऩादक की नहीॊ हं । हभाये द्राया ऩोस्ट फकमे गमे सबी कवि एवॊ भॊि-मॊि मा उऩाम हभने सैकडोफाय स्वमॊ ऩय एवॊ अन्म हभाये फॊधगण ऩय प्रमोग फकमे हं स्जस्से हभे हय प्रमोग मा कवि, भॊि-मॊि मा उऩामो द्राया सनस्ित ु सपरता प्राद्ऱ हुई हं । असधक जानकायी हे तु आऩ कामाारम भं सॊऩक कय सकते हं । ा (सबी त्रववादो कसरमे कवर बुवनेश्वय न्मामारम ही भान्म होगा।) े े
  • 7. 7 पयवयी 2013 त्रवसबन्न कवि से काभना ऩूसता  सिॊतन जोशीअभोघ भहाभृत्मुॊजम कविAmogh Mahamrutyunjay Kawach मफद जन्भ कडरी भं भृत्मु का मोग फन यहा हो, भायक ग्रहं की दशा ुॊ क दौयान प्राणबम, शिुआफद क कायण प्राणबम, आकस्स्भक कण्डरी भं े े ु दघटनाओॊ क मोग फन यहे हो, फाय-फाय स्वास्थ्म सॊफॊसधत सभस्माएॊ ु ा े कष्ट दे यफह हो, औषसधमं का प्रबाव रेशभाि हो यहा हो आफद सबी कायण स्जससे प्राण सॊकट भं हो तफ शास्त्रोि भतानुशाय अभोघ भहाभृत्मुॊजम कवि सवाश्रष्ठ उऩाम भाना जाता हं । े शास्त्रं भं वस्णात हं की एक फाय दे वी बगवती ने बगवान सशव से ऩूछा फक प्रबू अकार भृत्मु से यऺा कयने औय सबी प्रकाय क अशुबं से यऺा े का कोई सयर उऩाम फताइए। तफ बगवान सशव ने भहाभृत्मुॊजम कवि क फाये भं फतामा। भहाभृॊत्मुजम कवि को धायण कयक भनुष्म का े े सबी प्रकाय क असनष्ट से फि होता हं औय अकार भृत्मु को बी टार े सकता हं । अभोद्य् भहाभृत्मुॊजम कवि व उल्रेस्खत अन्म साभग्रीमं को शास्त्रोि त्रवसध-त्रवधान से त्रवद्रान ब्राह्मणो द्राया सवा राख भहाभृत्मुॊजम भॊि जऩ एवॊ दशाॊश हवन द्राया सनसभात फकमा जाता हं इस सरए कवि अत्मॊत प्रबावशारी होता हं । भूल्म भाि: 10900 भॊि ससद्ध दरब साभग्री ु ा हत्था जोडी- Rs- 370 घोडे की नार- Rs.351 भामा जार- Rs- 251 ससमाय ससॊगी- Rs- 370 दस्ऺणावतॉ शॊख- Rs- 550 इन्द्र जार- Rs- 251 त्रफल्री नार- Rs- 370 भोसत शॊख- Rs- 550 धन वृत्रद्ध हकीक सेट Rs-251 GURUTVA KARYALAY Call Us: 91 + 9338213418, 91 + 9238328785, Email Us:- gurutva_karyalay@yahoo.in, gurutva.karyalay@gmail.com
  • 8. 8 पयवयी 2013श्री घॊटाकणा भहावीय सवा ससत्रद्ध प्रद कविShri Ghantakarn Mahavir Sarv Siddhi Prad Kawach श्री घॊटाकणा भहावीय सवा ससत्रद्ध प्रद कवि को धायण कयने से धायण कताा की सकर भनोकाभनाएॊ ऩूणा होती हं । धायण कताा का सबी प्रकाय क बूत-प्रेत आफद उऩद्रव से यऺण े होता हं । दष्ट व असुयी शत्रिमं से उत्ऩन्न होने वारे सबी ु प्रकाय क बम श्री घॊटाकणा भहावीय सवा ससत्रद्ध प्रद कवि क े े प्रबाव से दय हो जाते हं । ू श्री घॊटाकणा भहावीय सवा ससत्रद्ध प्रद कवि को धायण कयने से साधक को धन, सुख, सभृत्रद्ध, ऎश्वमा, सॊतत्रत्त-सॊऩत्रत्त आफद की प्रासद्ऱ होती हं । कवि को धायण कयने से शीघ्र ही साधक की सबी प्रकाय की सास्त्वक इच्छाओॊ की ऩूसता होती हं । मफद फकसी व्मत्रि ऩय वशीकयण, भायण, उच्िाटन इत्माफद जाद-टोने वारे प्रमोग फकमे गमं होतो इस श्री घॊटाकणा ू भहावीय सवा ससत्रद्ध प्रद कवि क प्रबाव से स्वत् नष्ट हो जाते े हं औय बत्रवष्म भं मफद कोई प्रमोग कयता हं तो यऺण होता हं । कवि धायण कताा को मफद कोई इषाा, रोब, भोह मा शिुतावश मफद अनुसित कभा कयक फकसी बी उद्दे श्म से साधक े को ऩये शान कयने का प्रमास कयता हं तो कवि क प्रबाव से े साधक का यऺण तो होता ही हं , कबी-कबी शिु क द्राया फकमा े गमा अनुसित कभा शिु ऩय ही उऩय उरट वाय हो जाते हं । भूल्म भाि: 6400 बाग्म रक्ष्भी फदब्फी सुख-शास्न्त-सभृत्रद्ध की प्रासद्ऱ क सरमे बाग्म रक्ष्भी फदब्फी :- स्जस्से धन प्रसद्ऱ, त्रववाह मोग, े व्माऩाय वृत्रद्ध, वशीकयण, कोटा किेयी क कामा, बूतप्रेत फाधा, भायण, सम्भोहन, तास्न्िक े फाधा, शिु बम, िोय बम जेसी अनेक ऩये शासनमो से यऺा होसत है औय घय भे सुख सभृत्रद्ध फक प्रासद्ऱ होसत है , बाग्म रक्ष्भी फदब्फी भे रघु श्री फ़र, हस्तजोडी (हाथा जोडी), ससमाय ससन्गी, त्रफस्ल्र नार, शॊख, कारी-सफ़द-रार गुॊजा, इन्द्र जार, भाम जार, ऩातार तुभडी े जेसी अनेक दरब साभग्री होती है । ु ा भूल्म:- Rs. 1250, 1900, 2800, 5500, 7300, 10900 भं उप्रब्द्ध गुरुत्व कामाारम सॊऩक : 91+ 9338213418, 91+ 9238328785 ा c
  • 9. 9 पयवयी 2013सकर ससत्रद्ध प्रद गामिी कविSakal Siddhi Prad Gayatri Kawach वेदं भं उल्रेख हं की दे वी गामिी सबी प्रकाय के ऻान औय त्रवऻान की जननी हं , दे वी गामिी की उऩासना कयने से दे वी गामिी का आसशवााद प्राद्ऱ कय साधक 84 कराओॊ का ऻाता हो जाता हं । भाना जाता हं की ससद्ध की हुई गामिी काभधेनु क सभान े हं । स्जस प्रकाय गॊगा शयीय क ऩाऩं को सनभार े कयती हं , उसी प्रकाय गामिी रूऩी ब्रह्म गॊगा से आत्भा ऩत्रवि होती हं । स्जस प्रकाय दे वी गामिी ऩाऩं का नाश कयने वारी हं , सभस्त साॊसारयक औय ऩायरौफकक सुखं को प्रदान कयने वारी हं । उसी प्रकाय सकर ससत्रद्ध प्रद गामिी कवि को धायण कयने से साधक क सभस्त े योग-शोक-बम, बूत-प्रेत, तॊि फाधा, िोट, भायण, भोहन, उच्िाटन, वशीकयण, स्तॊबन, काभण-टू भण, इत्माफद उऩद्रवं का नाश होता हं । साधक को धभा, अथा, काभ औय भोऺ की प्रासद्ऱ बी सॊबॊव हं ! सकर ससत्रद्ध प्रद गामिी कवि को धायण कयने से भूखा से भूखा औय जड़ से जड़ व्मत्रि बी त्रवद्रान होने भं सभथा हो सकता हं !धायण कताा को असाध्म योग एवॊ ऩये शानीमं से भुत्रि सभर सकती हं !सकर ससत्रद्ध प्रद गामिी कवि क प्रबाव से फदन-प्रसतफदन धायण कताा की धन-सॊऩत्रत्त की वृत्रद्ध एवॊ यऺा होती हं । ेसकर ससत्रद्ध प्रद गामिी कवि क प्रबाव से ग्रह जसनत ऩीड़ाओॊ से बी यऺा होती। ेधायण कताा को अऩने कामं भं अभूत सपरतामं सभर जाती हं । सकर ससत्रद्ध प्रद गामिी कवि को धायण कयने सेधायण कताा का सित्त शुद्ध होता हं औय रृदम भं सनभारता आती हं । शयीय नीयोग यहता हं , स्वबाव भं नम्रता आतीहं , फुत्रद्ध सूक्ष्भ होने से साधक की दयदसशाता फढ़ती हं औय स्भयण शत्रि का त्रवकास होता हं । अनुसित काभ कयने ू े ु े ूवारं क दा गुण गामिी क कायण सयरता से छट सकते हं । भूल्म भाि: 6400
  • 10. 10 पयवयी 2013दस भहा त्रवद्या कविDus Mahavidya Kawach दस भहा त्रवद्या कवि को दे वी दस भहा त्रवद्या की शत्रिमं से सॊऩन्न अत्मॊत प्रबावशारी औय दरब कवि ु ा भाना गमा हं । इस कवि क भाध्मभ से साधक को दसो भहात्रवद्याओॊ े आसशवााद प्राद्ऱ हो सकता हं । दस भहा त्रवद्या कवि को धायण कयने से साधक की सबी भनोकाभनाओॊ की ऩूसता होती हं । दस भहा त्रवद्या कवि साधक की सभस्त इच्छाओॊ की ऩूसता कयने भं सभथा हं । दस भहा त्रवद्या कवि धायण कताा को शत्रिसॊऩन्न एवॊ बूसभवान फनाने भं सभथा हं । दस भहा त्रवद्या कवि को श्रद्धाऩूवक धायण कयने से ा शीघ्र दे वी कृ ऩा प्राद्ऱ होती हं औय धायण कताा को दस भहा त्रवद्या दे वीमं की कृ ऩा से सॊसाय की सभस्त ससत्रद्धमं की प्रासद्ऱ सॊबव हं । दे वी दस भहा त्रवद्या की कृ ऩा से साधक को धभा, अथा, काभ व ् भोऺ ितुत्रवाध ऩुरुषाथं की प्रासद्ऱ हो सकती हं । दस भहा त्रवद्या कवि भं भाॉ दगाा क दस अवतायं का आशीवााद सभाफहत ु े होता हं , इस सरए दस भहा त्रवद्या कवि को धायण कय क धायण कयक व्मत्रि अऩने जीवन को सनयॊ तय असधक े ेसे असधक साथाक एवॊ सपर फना सकता हं ।दश भहात्रवद्या को शास्त्रं भं आद्या बगवती क दस बेद कहे गमे हं , जो क्रभश् (1) कारी, (2) ताया, (3) षोडशी, े(4) बुवनेश्वयी, (5) बैयवी, (6) सछन्नभस्ता, (7) धूभावती, (8) फगरा, (9) भातॊगी एवॊ (10) कभास्त्भका। इससबी दे वी स्वरुऩं को, सस्म्भसरत रुऩ भं दशभहात्रवद्या क नाभ से जाना जाता हं । े भूल्म भाि: 6400 यि एवॊ उऩयि हभाये महाॊ सबी प्रकाय क यि एवॊ उऩयि व्माऩायी भूल्म ऩय उऩरब्ध हं । ज्मोसतष कामा से जुडे़ फधु/फहन व यि े व्मवसाम से जुडे रोगो क सरमे त्रवशेष भूल्म ऩय यि व अन्म साभग्रीमा व अन्म सुत्रवधाएॊ उऩरब्ध हं । े गुरुत्व कामाारम सॊऩक : 91+ 9338213418, 91+ 9238328785. ा
  • 11. 11 पयवयी 2013नवदगाा शत्रि कवि ुNavdurga Shakiti Kawach भाॊ दगाा क नवरुऩ क्रभश् ु े 1. शैरऩुिी 2. ब्रह्मिारयणी 3. िन्द्रघण्टा 4. कष्भाण्डा ू 5. स्कन्दभाता 6. कात्मामनी 7. कारयात्रि 8. भहागौयी 9. ससत्रद्धदािी हं । नौदे वीमं क कविं को एक साथ भं सभराकय े फनाकय नवदगाा कवि का सनभााण फकमा जाता हं । ु स्जससे धायण कताा को नौ दे वीमं का आसशवााद एक साथ प्राद्ऱ हो जाता हं । नौ दे वीमं क कवि का भहत्व क्रभश् आऩक े े भागादशान हे तु महाॉ प्रस्तुत हं । दे वी शैरऩुिी का कवि धायण कयने वारा व्मत्रि सदा धन-धान्म से सॊऩन्न यहता हं । अथाात उसे स्जवन भं धन एवॊ अन्म सुख साधनो की कभी भहसुस नहीॊहोतीॊ। व्मत्रि को अनेक प्रकाय की ससत्रद्धमाॊ एवॊ उऩरस्ब्धमाॊ प्राद्ऱ होती हं ।दे वी ब्रह्मिारयणी का कवि धायण कयने वारे व्मत्रि को अनॊत पर की प्रासद्ऱ होती हं । कवि क प्रबाव से व्मत्रि भं तऩ, ेत्माग, सदािाय, सॊमभ जैसे सद् गुणं फक वृत्रद्ध होती हं ।दे वी िन्द्रघण्टा का कवि धायण कयने से व्मत्रि को सबी ऩाऩं से भुत्रि सभरती हं उसे सभस्त साॊसारयक आसध-व्मासधसे भुत्रि सभरती हं । इसक उऩयाॊत व्मत्रि को सियामु, आयोग्म, सुखी औय सॊऩन्नता प्राद्ऱ होती हं । कवि क प्रबाव से े ेव्मत्रि क साहस एव त्रवयता भं वृत्रद्ध होती हं । व्मत्रि क स्वय भं सभठास आती हं उसक आकषाण भं बी वृत्रद्ध होती हं । े े ेक्मोफक, िन्द्रघण्टा को ऻान की दे वी बी भाना गमा हं ।दे वी कष्भाण्डा क कवि को धायण कयने वारे व्मत्रि को सबी प्रकाय क योग, शोक औय क्रेश से भुत्रि सभरती हं , उसे ू े ेआमुष्म, मश, फर औय फुत्रद्ध प्राद्ऱ होती हं ।दे वी स्कदभाता क कवि को धायण कयने से व्मत्रि की सभस्त इच्छाओॊ की ऩूसता होती हं एवॊ जीवन भं ऩयभ सुख एवॊ ॊ ेशाॊसत प्राद्ऱ होती हं ।
  • 12. 12 पयवयी 2013दे वी कात्मामनी का कवि धायण कयने से व्मत्रि को सबी प्रकाय क योग, शोक, बम से भुत्रि सभरती हं । कात्मामनी ेदे वी को वैफदक मुग भं मे ऋत्रष-भुसनमं को कष्ट दे ने वारे यऺ-दानव, ऩाऩी जीव को अऩने तेज से ही नष्ट कय दे ने वारीभाना गमा हं ।दे वी कारयात्रि का कवि धायण कयने से अस्ग्न बम, आकाश बम, बूत त्रऩशाि इत्मादी शत्रिमाॊ कारयात्रि दे वी केस्भयण भाि से ही बाग जाते हं , कारयात्रि शिु एवॊ दष्टं का सॊहाय कयने वारी दे वी हं । ु े े ुदे वी भहागौयी क कवि को धायण कयने से व्मत्रि क सभस्त ऩाऩं से छटकाया सभरता हं । मह भाॊ अन्नऩूणाा क सभान, ेधन, वैबव औय सुख-शाॊसत प्रदान कयने वारी एवॊ सॊकट से भुत्रि फदराने वारी दे वी भहागौयी का कवि हं ।दे वी ससत्रद्धदािी क कवि को धायण कयने से व्मत्रि फक सभस्त काभनाओॊ फक ऩूसता होती हं उसे ऋत्रद्ध-ससत्रद्ध की प्रासद्ऱ ेहोती हं । कवि क प्रबाव से व्मत्रि क मश, फर औय धन की प्रासद्ऱ आफद कामो भं हो यहे फाधा-त्रवध्न सभाद्ऱ हो जाते े ेहं । व्मत्रि को मश, फर औय धन की प्रासद्ऱ हो कय उसे भाॊ की कृ ऩा से धभा, अथा, काभ औय भोऺ फक बी प्रासद्ऱ स्वत्हो जाती हं । भूल्म भाि: 6400ऩॊिदे व शत्रि कविPancha Dev Shakti Kawachऩॊिदे व फहन्द ू धभा क ऩाॉि प्रधान दे वताओॊ को कहाॉ जाता हं , इन ऩॊिदे वताओॊ की ऩूजा-उऩासना आफद फहन्द ू धभा भं ेत्रवशेष रुऩ से प्रिसरत हं । फहन्द ू धभा भं फकसी बी शुब औय भाॊगसरक कामा भं ऩॊिदे वताओॊ की ऩूजा को असनवामा भानागमा हं ।इन ऩाॉि दे वताओॊ क रुऩ भं बगवान श्रीगणेश, सशव, त्रवष्णु, दगाा औय सूमा की आयाधना फक जाती हं । े ुत्रवद्रानं ने अऩने अनुबवं क आधाय से मह ऩामा हं की इन ऩॊिदे व अथाात श्री गणेश, सशव, त्रवष्णु, दगाा औय सूमा की े ुसॊमुि कृ ऩा से जीवन भं बौसतक सुख-साधनं की प्रासद्ऱ व आसशवााद प्राद्ऱ कयने का उत्तभ भाध्मभ ऩॊिदे व शत्रि कविहं । ऩॊिदे व शत्रि कवि को धायण कयने से व्मत्रि को सुख-सौबाग्म एवॊ ऐश्वमा की प्रासद्ऱ होती हं । ऩॊिदे व शत्रि कविको धायण कयने से धायण कताा क सकर भनोयथ शीघ्र ससद्ध होने रगते हं औय उसक जीवन से सबी प्रकाय क द्ख, े े े ुयोग, शोक एवॊ त्रवघ्न-फाधाओॊ का स्वत् नाश होता हं । भूल्म भाि: 6400 शादी सॊफॊसधत सभस्मा क्मा आऩक रडक-रडकी फक आऩकी शादी भं अनावश्मक रूऩ से त्रवरम्फ हो यहा हं मा उनक वैवाफहक े े े जीवन भं खुसशमाॊ कभ होती जायही हं औय सभस्मा असधक फढती जायही हं । एसी स्स्थती होने ऩय अऩने रडक-रडकी फक कडरी का अध्ममन अवश्म कयवारे औय उनक वैवाफहक सुख को कभ कयने े ॊु े वारे दोषं क सनवायण क उऩामो क फाय भं त्रवस्ताय से जनकायी प्राद्ऱ कयं । े े े GURUTVA KARYALAY Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785 Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com, gurutva_karyalay@yahoo.in,
  • 13. 13 पयवयी 2013सुवणा रक्ष्भी कविSuvarn Lakshmi Kawach सुवणा रक्ष्भी कवि को धायण कयने से धन-सॊऩत्रत्त, यि- आबूषण आफद की वृत्रद्ध होती हं । सुवणा रक्ष्भी कवि को धायण कयने से धायणकताा को सुवणा से सॊफॊसधत कामं भं त्रवशेष राब की प्रासद्ऱ होती हं । त्रवसबन्न स्त्रोत से आसथाक राब सभरने क मोग फनते हं । सुवणा रक्ष्भी कवि क े े प्रबाव से धायणकताा की सुवणा से सॊफॊसधत सबी असबराषाएॊ शीघ्र ही ऩूणा होने की प्रफर सॊबावनाएॊ फनती हं । भूल्म भाि: 4600 स्वणााकषाण बैयव कवि Swarnakarshan Bhairav Kawach फहन्द ू धभा भं बैयव जी को बगवान सशव क द्रादश स्वरूऩ े क रुऩ भं ऩूजा जाता हं । बैयवजी को भुख्म रुऩ से तीन े स्वरुऩ फटु क बैयव, भहाकार बैयव औय स्वणााकषाण बैयव क रुऩ भं जाना जाता हं । त्रवद्रानं ने स्वणााकषाण-बैयव को े धन-धान्म औय सम्ऩत्रत्त क दे वता भाना हं । धभाग्रॊथं भं े उल्रेख सभरता हं की स्जस भनुष्म की आसथाक स्स्थती फदन-प्रसतफदन खयाफ होती जा यही हो, उस ऩय कजा का फोझ फढ़ता जा यहा हो, सभस्मा क सभाधान हे तु व्मत्रि े को कोई यास्ता न फदखाई दे यहा हो, व्मत्रि को सबी प्रकायक ऩूजा ऩाठ, भॊि, मॊि, तॊि, मऻ, हवन, साधना आफद से कोई त्रवशेष राब की प्रासद्ऱ न हो यही हो, तफ स्वणााकषाण ेबैयव जी का भॊि, मॊि, साधना इत्माफद का आश्रम रेना िाफहए।जो व्मत्रि स्वणााकषाण बैयव की साधना, भॊि जऩ आफद को कयने भं असभथा हो वह रोग स्वणााकषाण बैयव कवि कोधायण कय त्रवशेषा राब प्राद्ऱ कय सकते हं । स्वणााकषाण बैयव कवि को धन प्रासद्ऱ क सरए अिूक औय अत्मॊत ेप्रबावशारी भाना जाता हं ।स्वणााकषाण बैयव कवि को धायण कयने से मह भनुष्म की सबी प्रकाय की आसथाक सभस्माओॊ को सभाद्ऱ कयने भंसभथा हं । स्जसभं जया बी सॊदेह नहीॊ हं । इस करमुग भं स्जस प्रकाय भृत्मु बम क सनवायण हे तु भहाभृत्मुॊजम कवि ेअभोघ हं उसी प्रकाय आसथाक सभस्माओॊ क सभाधान हे तु स्वणााकषाण बैयव कवि अभोघ भाना गमा हं । धासभाक ेभान्मताओॊ क अनुशाय ऐसा भाना जाता हं की बैयवजी की ऩूजा-उऩासना श्रीगणेश, त्रवष्णु, िॊद्रभा, कफेय आफद दे वताओॊ े ुने बी फक थी, बैयव उऩासना क प्रबाव से बगवान त्रवष्णु रक्ष्भीऩसत फने थे, त्रवसबन्न अप्सयाओॊ को सौबाग्म सभरने का ेउल्रेख धभाग्रॊथो भं सभरता हं । मफह कायण हं की स्वणााकषाण बैयव कवि आसथाक सभस्माओॊ क सभाधान हे तु अत्मॊत ेराबप्रद हं । इस कवि को धायण कयने से सबी प्रकाय से आसथाक राब की प्रासद्ऱ होने रगती हं । भूल्म भाि: 4600
  • 14. 14 पयवयी 2013श्रीदगाा फीसा कवि ुDurga Visha Kawach श्रीदगाा फीसा कवि साधक को बत्रि क साथ सभस्त साॊसारयक सुखं ु े को प्रदान कयने वारा सवाससत्रद्धप्रद कवि हं । श्रीदगाा फीसा कवि को ु धायण कयने से साधक को धभा, अथा, काभ औय भोऺ इन िाय की प्रासद्ऱ भं बी सहामता प्राद्ऱ होती हं । शास्त्रोि वणान हं की भाॉ दगाा का श्रीदगाा फीसा कवि को धायण कयने ु ु से दे वी प्रसन्न होकय, शीघ्र ही साधक की असबष्ट इच्छाएॊ ऩूणा कयती हं । भाॉ दगाा अऩने बि की स्वमॊ यऺा कय उन ऩय कृ ऩा दृष्टी कयती हं । ु श्रीदगाा फीसा कवि धायण कयने से भाॉ दगाा की कृ ऩा से नौकयी ु ु व्मवसाम भं साधक को उन्नसत क सशखय ऩय जाने का भागा प्रसस्त े होता हं । श्रीदगाा फीसा कवि क प्रबाव से धायण कताा को धन-धान्म, सुख- ु े सॊऩत्रत्त, सॊतान का सुख प्राद्ऱ होता हं औय शिु ऩय त्रवजम, ऋण-योग आफद ऩीडा़ से भुत्रि प्राद्ऱ होती हं औय साधक को जीवन भं सॊऩूणा सुखं की प्रासद्ऱ होती हं । जीवन भं फकसी बी प्रकाय क सॊकट मा फाधा े की आशॊका होने ऩय श्रीदगाा फीसा कवि को श्रद्धाऩूवक धायण कयने से ु ा साधक को सबी प्रकाय की फाधा से भुत्रि सभरती हं औय धन-धान्म की प्रासद्ऱ हो सकती हं । भूल्म भाि: 1900 ऩसत-ऩिी भं करह सनवायण हे तु मफद ऩरयवायं भं सुख-सुत्रवधा क सभस्त साधान होते हुए बी छोटी-छोटी फातो भं ऩसत-ऩिी क त्रफि भे करह े े होता यहता हं , तो घय क स्जतने सदस्म हो उन सफक नाभ से गुरुत्व कामाारत द्राया शास्त्रोि त्रवसध-त्रवधान े े से भॊि ससद्ध प्राण-प्रसतत्रष्ठत ऩूणा िैतन्म मुि वशीकयण कवि एवॊ गृह करह नाशक फडब्फी फनवारे एवॊ उसे अऩने घय भं त्रफना फकसी ऩूजा, त्रवसध-त्रवधान से आऩ त्रवशेष राब प्राद्ऱ कय सकते हं । मफद आऩ भॊि ससद्ध ऩसत वशीकयण मा ऩिी वशीकयण एवॊ गृह करह नाशक फडब्फी फनवाना िाहते हं , तो सॊऩक आऩ ा कय सकते हं । GURUTVA KARYALAY 92/3. BANK COLONY, BRAHMESHWAR PATNA, BHUBNESWAR-751018, (ORISSA) Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785 Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com, gurutva_karyalay@yahoo.in,
  • 15. 15 पयवयी 2013अष्ट त्रवनामक कविAsht Vinayak Kawach त्रवद्रानं का कथ हं की बगवान श्री गणेश क इन आठ े अवतायं भं सृत्रष्ट क सुख की कल्ऩना का आधाय भाना जाता े हं । इससरए अष्ट त्रवनामक कवि को श्रीगणेश क आठ प्रभुख े रूऩं की कृ ऩा प्रासद्ऱ हे तु धायण फकमा जाता हं । अष्ट त्रवनामक कवि सकर त्रवघ्न-फाधाओॊ का नाश कयने औय इस्च्छत कामं भं सपरता की प्रासद्ऱ हे तु उत्तभ हं । भूल्म भाि: 1900 ससत्रद्ध त्रवनामक कवि Siddhi Vinayak Ganapati Kawach ससत्रद्ध त्रवनामक कवि को बगवान श्री गणेश को प्रसन्न कयने क सरए धायण फकमा जाता हं । ससत्रद्ध त्रवनामक कवि े को त्रवशेष शास्त्रोि त्रवसध-त्रवधान से तैमाय फकमा जाता हं , स्जससे ससत्रद्ध त्रवनामक कवि क प्रबाव से धायण कताा क े े सबी प्रकाय क त्रवघ्न-फाधाओॊ का नाश हो जामे। ससत्रद्ध े त्रवनामक कवि क प्रबाव से धायण कताा व्मत्रि को इस्च्छत े कामं भं शीध्र सपरता की प्रासद्ऱ हो सक। े ससत्रद्ध त्रवनामक कवि को धायण कयने से श्री गणेशजी के आसशवााद से धायण कताा को सबी शुब कामं भं सयरता से ससत्रद्ध प्राद्ऱ हो सकती हं औय धायण कताा को सबी प्रकाय से सुख प्राद्ऱ हो जाते हं । गणेशजी की कृ ऩा से धायण कताा को त्रवद्या-फुत्रद्ध की प्रासद्ऱ होती हं । शास्त्रं भं बगवान श्री गणेश को सभस्त ससत्रद्धमं को दे नेवारा भाना गमा हं । इस सरए सबी ससत्रद्धमाॉ बगवान गणेश भं वास कयती हं । बगवान श्री गणेश अऩने बिो केसभस्त त्रवघ्न फाधाओॊ को दय कयने वारे त्रवनामक हं । ससत्रद्ध त्रवनामक कवि को श्रीगणेशजी की कृ ऩा प्रासद्ऱ हे तु ूधायण कयना अत्मॊत राबप्रद भाना गमा हं । भूल्म भाि: 1450
  • 16. 16 पयवयी 2013त्रवष्णु फीसा कविVishnu Visha Kawach त्रवष्णु फीसा कवि को धन, मश, सपरता औय उन्नसत की प्रासद्ऱ हे तु उत्तभ भाना जाता हं । त्रवष्णु फीसा कवि को बगवान श्री त्रवष्णु को प्रसन्न कयने औय उनका आसशवााद प्राद्ऱ कयने क सरए धायण फकमा जाता हं । फहन्द ू धभाग्रॊथं भं वस्णात हं े की जहाॉ बगवान त्रवष्णु सनवास कयते हं , उस स्थान ऩय भाॉ भहारक्ष्भी का बी सनवास होता हं । स्जस बि ऩय बगवान त्रवष्णु प्रसन्न होते, कृ ऩा कयते हं , उस बि ऩय दे वी भहारक्ष्भी बी स्वत् प्रसन्न होती हं औय अऩनी कृ ऩा व आशीवााद दे ती हं । त्रवष्णु फीसा कवि को धायण कयने से व्मत्रि को कामं भं ससत्रद्ध व सपरता की प्रासद्ऱ, स्वास्थ्म औय साॊसारयक सुखं भं वृत्रद्ध होती हं । त्रवद्रानं का अनुबव यहा हं की श्री त्रवष्णु फीसा कवि को धायण कयने से शीघ्र ही धायणकताा क घय-ऩरयवाय भं सुख-सभृत्रद्ध-ऐश्वमा भं वृत्रद्ध होने रगती हं । त्रवष्णु फीसा े कवि को धायण कयने से व्मत्रि भं सकायात्भक ऊजाा का सॊिाय होता हं । त्रवष्णु फीसा कवि क प्रबाव से उसक रुक हुवे कामा सॊऩन्न होने रगते हं । कामाऺेि भं े े े सुधाय होने रगता हं । शिु, योग आफद नाना प्रकाय क बमं का सनवायण हो जाता े हं औय जीवन ऩयभ सुखी हो जाता हं । भूल्म भाि: 1900 भॊि ससद्ध मॊि गुरुत्व कामाारम द्राया त्रवसबन्न प्रकाय क मॊि कोऩय ताम्र ऩि, ससरवय (िाॊदी) ओय गोल्ड (सोने) भे े त्रवसबन्न प्रकाय की सभस्मा क अनुसाय फनवा क भॊि ससद्ध ऩूणा प्राणप्रसतत्रष्ठत एवॊ िैतन्म मुि फकमे े े जाते है . स्जसे साधायण (जो ऩूजा-ऩाठ नही जानते मा नही कसकते) व्मत्रि त्रफना फकसी ऩूजा अिाना- त्रवसध त्रवधान त्रवशेष राब प्राद्ऱ कय सकते है . स्जस भे प्रसिन मॊिो सफहत हभाये वषो क अनुसॊधान द्राया े फनाए गमे मॊि बी सभाफहत है . इसक अरवा आऩकी आवश्मकता अनुशाय मॊि फनवाए जाते है . गुरुत्व े कामाारम द्राया उऩरब्ध कयामे गमे सबी मॊि अखॊफडत एवॊ २२ गेज शुद्ध कोऩय(ताम्र ऩि)- 99.99 टि शुद्ध ससरवय (िाॊदी) एवॊ 22 कये ट गोल्ड (सोने) भे फनवाए जाते है . मॊि क त्रवषम भे असधक जानकायी क े े े सरमे हे तु सम्ऩक कये ा GURUTVA KARYALAY Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785 Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com, gurutva_karyalay@yahoo.in, Visit Us: www.gurutvakaryalay.com
  • 17. 17 पयवयी 2013याभबद्र फीसा कविRamabhadra Visha Kawach याभबद्र फीसा कवि को बगवान श्री याभ को प्रसन्न कयने औय उनका आसशवााद प्राद्ऱ कयने क सरए धायण फकमा जाता हं । याभबद्र फीसा कवि को े धायण कयने से भनुष्म क सफ कामा ससद्ध होने रगते हं । कवि को धायण े कयने से व्मत्रि क सबी प्रकाय क सॊशम, बम, फॊधनो का नाश होता हं । े े स्जससे व्मत्रि सनबाम होकय अऩने कामा ऺेि भं आगे फढ़ता हं व सपरता क सशखय ऩहुॊि सकता हं । सनातन धभा भं याभ शब्द को धभा का भूर े भाना गमा हं । इस कसरमुग भं सभम क अबाव भं स्जस व्मत्रि क ऩास े े जऩ, तऩ, मऻ आफद धासभाक कामा कयने का सभम नहीॊ होता, ऐसे भं याभ का नाभ ही एक भाि सहाया हं , क्मोकी, जो रोग कसरमुग क इस कार भं े श्रीयाभ की शयण रेते हं , उन्हं कसरमुग भं कोई फाधा नहीॊ ऩहुॊिाता। याभबद्र फीसा कवि श्री याभजी की कृ ऩा प्राद्ऱ कयने का का सयर भाध्मभ हं । भूल्म भाि: 1900 स्वस्स्तक फीसा कवि Swastik Visha Kawach स्वस्स्तक फीसा कवि को धायण कयने से इष्ट कृ ऩा से व्मत्रि की सभस्त भनिाही इच्छाओॊ की ऩूसता हो सकती हं । त्रवद्रानं का अनुबव यहा हं की इस कवि को त्रवसध-त्रवधान से सनभााण कय धायण कयने से धन-धान्म, उत्तभ सॊतान आफद की प्रासद्ऱ होती हं । स्वस्स्तक फीसा कवि क प्रबाव से फकसी ेबी प्रकय से आशाहीन, असहाम, सनयाश व्मत्रि हो उसकी सबी आशा औय आशमऩूणा हो जाते हं । धायण कताा क सबी ेप्रकाय क भनोयथ ससद्ध होते हं । कवि क प्रबाव से सुख, सौबाग्म भं वृत्रद्ध होती हं , औय धायण कताा का सबी प्रकाय से े ेकल्माण होता हं । भूल्म भाि: 1050 क्मा आऩ फकसी सभस्मा से ग्रस्त हं ? ु आऩक ऩास अऩनी सभस्माओॊ से छटकाया ऩाने हे तु ऩूजा-अिाना, साधना, भॊि जाऩ इत्माफद कयने का सभम नहीॊ े हं ? अफ आऩ अऩनी सभस्माओॊ से फीना फकसी त्रवशेष ऩूजा-अिाना, त्रवसध-त्रवधान क आऩको अऩने कामा भं े सपरता प्राद्ऱ कय सक एवॊ आऩको अऩने जीवन क सभस्त सुखो को प्राद्ऱ कयने का भागा प्राद्ऱ हो सक इस सरमे े े े गुरुत्व कामाारत द्राया हभाया उद्दे श्म शास्त्रोि त्रवसध-त्रवधान से त्रवसशष्ट तेजस्वी भॊिो द्राया ससद्ध प्राण-प्रसतत्रष्ठत ऩूणा िैतन्म मुि त्रवसबन्न प्रकाय क मन्ि- कवि एवॊ शुब परदामी ग्रह यि एवॊ उऩयि आऩक घय तक ऩहोिाने का है । े े गुरुत्व कामाारम: Bhubaneswar- 751 018, (ORISSA) INDIA, Call Us : 91+ 9338213418, 91+ 9238328785,
  • 18. 18 पयवयी 2013सयस्वती कविSawaswati Kawach आज क आधुसनक मुग भं सशऺा प्रासद्ऱ जीवन की भहत्वऩूणा आवश्मकताओॊ े भं से एक है । फहन्द ू धभा भं त्रवद्या की असधष्ठािी दे वी सयस्वती को भाना जाता हं । इस सरए दे वी सयस्वती की ऩूजा-अिाना से कृ ऩा प्राद्ऱ कयने से फुत्रद्ध कशाग्र एवॊ तीव्र होती है । ु आज क सुत्रवकससत सभाज भं िायं ओय फदरते ऩरयवेश एवॊ आधुसनकता े की दौड भं नमे-नमे खोज एवॊ सॊशोधन क आधायो ऩय फच्िो क फौसधक े े स्तय ऩय अच्छे त्रवकास हे तु त्रवसबन्न ऩयीऺा, प्रसतमोसगता एवॊ प्रसतस्ऩधााएॊ होती यहती हं , स्जस भं फच्िे का फुत्रद्धभान होना असत आवश्मक हो जाता हं । अन्मथा फच्िा ऩयीऺा, प्रसतमोसगता एवॊ प्रसतस्ऩधाा भं ऩीछड जाता हं , स्जससे आजक ऩढे सरखे आधुसनक फुत्रद्ध से सुसॊऩन्न रोग फच्िे को भूखा े अथवा फुत्रद्धहीन मा अल्ऩफुत्रद्ध सभझते हं । एसे फच्िो को हीन बावना से दे खने रोगो को हभने दे खा हं , आऩने बी कई सैकडो फाय अवश्म दे खा होगा? ऐसे फच्िो की फुत्रद्ध को कशाग्र एवॊ तीव्र हो, फच्िो की फौत्रद्धक ऺभता औय ु स्भयण शत्रि का त्रवकास हो इस सरए सयस्वती कवि अत्मॊत राबदामक हो सकता हं । सयस्वती कवि को दे वी सयस्वती क ऩयॊ भ दरब तेजस्वी भॊिो द्राया ऩूणा े ू ा भॊिससद्ध औय ऩूणा िैतन्ममुि फकमा जाता हं । स्जस्से जो फच्िे भॊि जऩ अथवा ऩूजा-अिाना नहीॊ कय सकते वह त्रवशेष राब प्राद्ऱ कय सक औय जो े फच्िे ऩूजा-अिाना कयते हं , उन्हं दे वी सयस्वती की कृ ऩा शीघ्र प्राद्ऱ हो इस सरमे सयस्वती कवि अत्मॊत राबदामक होता हं । सयस्वती कवि औय मॊि क त्रवषम भं असधक जानकायी हे तु सॊऩक कयं । े ा भूल्म भाि: 550, 460हॊ स फीसा कविHans Visha Kawachहॊ स फीसा कवि को त्रवद्याध्मन भं अत्मासधक राबप्रद भाना जाता हं । हॊ स फीसा कवि को धायण कयने से धायणकतााकी फुत्रद्ध व स्भयण शत्रि तीव्र होती हं , स्जससे शीघ्र स्भयण होने वारी शत्रि को फर सभरता हं । फाय-फाय स्भयण फकमाहुवा बूर जाने का बम कभ हो जाता हं । हॊ स फीसा कवि को धायण कयने से धायण कताा का ऻान एवॊ फुत्रद्ध कशाग्र हो ुजाती हं । हॊ स फीसा कवि क प्रबाव से धायण कताा का अत्कयण ऩत्रवि औय सनभार हो जाता हं , उसक त्रविायं भं े ेसकायात्भक उजाा का सॊिाय होने रगता हं । हॊ स फीसा कवि को धायण कयने से भाॉ सयस्वती शीघ्र प्रसन्न होती हं ,इससरए त्रवद्यासथामं क सरए मह अत्मॊत राबप्रस कवि हं । े भूल्म भाि: 1050
  • 19. 19 पयवयी 2013कफेय फीसा कवि ुKuber Visha Kawach आज हय व्मत्रि की इच्छा होती हं की उसक ऩास अऩाय धन-सॊऩत्रत्त े हो। उसक ऩास दसनमा का हय ऐशो-आयाभ भौजुद हो, उसे कबी फकसी िीज े ु की कभी न हो। आजक इस बौसतक मुग भं दे वताओॊ क कोषाध्मऺ कफेय जी े े ु का श्री कफेय फीसा कवि भनुष्म की सभस्त बौसतक काभनाओॊ को ऩूणा ु कयने भं सभथा हं । कफेय फीसा कवि क प्रबाव से धायण कताा ऩय मऺयाज ु े कफेय प्रसन्न हो कय उसे अतुर सम्ऩत्रत्त का वयदान दे ते हं । कफेय फीसा ु ु कवि क प्रबाव से धायण कताा क सरए अऺम धन कोष की प्रासद्ऱ एवॊ आम े े वृत्रद्ध क नमे-नमे स्त्रोत फनने रगते हं । ऐसा शास्त्रोि विन हं की स्वणा े राब, यि राब, ऩैतक सम्ऩत्ती एवॊ गड़े हुए धन से राब प्रासद्ऱ फक काभना ृ कयने वारे व्मत्रि क सरमे कफेय फीसा कवि धायण कयना अत्मन्त राब े ु दामक हो सकता हं । कफेय फीसा कवि को धायण कयने से व्मत्रि को ु एकासधक स्त्रोि से धन का प्राद्ऱ होकय उसका धन सॊिम होने रगता हं । धन- सॊऩत्रत्त एवॊ ऐश्वमा की प्रासद्ऱ हे तु कफेय फीसा कवि सवाश्रष्ठ भाध्मभ हं । ु े भूल्म भाि: 1900 भॊि ससद्ध स्पफटक श्री मॊि "श्री मॊि" सफसे भहत्वऩूणा एवॊ शत्रिशारी मॊि है । "श्री मॊि" को मॊि याज कहा जाता है क्मोफक मह अत्मन्त शुब फ़रदमी मॊि है । जो न कवर दसये मन्िो से असधक से असधक राब दे ने भे सभथा है एवॊ सॊसाय क हय व्मत्रि क सरए पामदे भॊद सात्रफत होता है । ऩूणा े ू े े प्राण-प्रसतत्रष्ठत एवॊ ऩूणा िैतन्म मुि "श्री मॊि" स्जस व्मत्रि क घय भे होता है उसक सरमे "श्री मॊि" अत्मन्त फ़रदामी ससद्ध होता है े े उसक दशान भाि से अन-सगनत राब एवॊ सुख की प्रासद्ऱ होसत है । "श्री मॊि" भे सभाई अफद्रतीम एवॊ अद्रश्म शत्रि भनुष्म की े सभस्त शुब इच्छाओॊ को ऩूया कयने भे सभथा होसत है । स्जस्से उसका जीवन से हताशा औय सनयाशा दय होकय वह भनुष्म ू असफ़रता से सफ़रता फक औय सनयन्तय गसत कयने रगता है एवॊ उसे जीवन भे सभस्त बौसतक सुखो फक प्रासद्ऱ होसत है । "श्री मॊि" भनुष्म जीवन भं उत्ऩन्न होने वारी सभस्मा-फाधा एवॊ नकायात्भक उजाा को दय कय सकायत्भक उजाा का सनभााण कयने भे सभथा ू है । "श्री मॊि" की स्थाऩन से घय मा व्माऩाय क स्थान ऩय स्थात्रऩत कयने से वास्तु दोष म वास्तु से सम्फस्न्धत ऩये शासन भे न्मुनता े आसत है व सुख-सभृत्रद्ध, शाॊसत एवॊ ऐश्वमा फक प्रसद्ऱ होती है । गुरुत्व कामाारम भे "श्री मॊि" 12 ग्राभ से 2250 Gram (2.25Kg) तक फक साइज भे उप्रब्ध है . भूल्म:- प्रसत ग्राभ Rs. 10.50 से Rs.28.00 GURUTVA KARYALAY Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785 Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com, gurutva_karyalay@yahoo.in, Visit Us: http://gk.yolasite.com/ and http://gurutvakaryalay.blogspot.com/
  • 20. 20 पयवयी 2013नवााण फीसा कविNarvan Visha Kawach नवाणा (नवााण) फीसा कवि दे वी दगाा का कवि हं । फहन्द ू धभा भं दे वी दगाा ु ु को द्खं का नाश कयने वारी कहा गमा हं । दे वी दगाा की शत्रि को जाग्रत ु ु कयने हे तु शास्त्रं भं नवाणा भॊि का जाऩ कयने का त्रवधान फतामा गमा हं । त्रवद्रानं का कथन हं की जो भनुष्म सनमसभत भॊि जाऩ कयने भं असभथा हो उनक सरए नवाणा फीसा कवि धायण कयना भॊि जऩ क सभान पर प्रदान े े कयने वारा हं । नवाणा फीसा कवि को धायण कयने से व्मत्रि को धभा, अथा, काभ औय भोऺ इन िाय की प्रासद्ऱ भं बी सहाता प्राद्ऱ होती हं । भूल्म भाि: 1900 गरुड फीसा कवि Garud Visha Kawach गरुड बगवान श्रीत्रवष्णु का वाहन हं । जानकायो क भतानुशाय गरुड फीसा े कवि को धायण कयने से सयरता से बगवान त्रवष्णु की कृ ऩा प्राद्ऱ होती हं । गरुड फीसा कवि को धायण कयने से शिु से सॊफॊसधत बमं का नाश होता हं । गरुड फीसा कवि क प्रबाव से सऩाबम आफद अनेक प्रकायकी व्मासधमाॊ दय हो े ू जाती हं । ऐसा त्रवद्रानं का अनुबव यहा हं की गरुड फीसा कवि को घय, दकान, ऑफपस आफद क प्रवेश द्राय ऩय रगाने से घय भं सनवास कयने वारे ु े सबी प्रकाय क सऩा घय छोड़कय बाग जाते हं एवॊ फपय घय भं प्रवेश नहीॊ े कयते। गरुड फीसा कवि को धायण कयने मा बवन भं रगाने से सवा प्रकायक सुख-आनॊद भं वृत्रद्ध होने रगती हं । त्रवद्रानं ने इस कवि को अत्मॊत परदामक भाना हं । े भूल्म भाि: 1900ससॊह फीसा कविSinha Visha Kawachससॊह फीसा कवि को धायण कयने से दे वी बगवती की कृ ऩा प्राद्ऱ होती हं । ससॊह फीसा कवि भाॉ बगवती को प्रसन्नकयने औय उनका आसशवााद प्राद्ऱ कयने क सरए त्रवशेष रुऩ से धायण फकमा जाता हं । ससॊह फीसा कवि को धायण कयने ेसे सबी प्रकाय क बम दय हो जाते हं । ससॊह फीसा कवि क प्रबाव से सबी प्रकाय क शिु एवॊ त्रवयोधी धायणकताा क े ू े े ेअनुकर हो जाते हं । ससॊह फीसा कवि को धायण कयने से व्मत्रि का फडे से फडा व फरशारी शिु बी उससे बमबीत हो ूजाता हं औय शिुता छोड दे ता हं । ससॊह फीसा कवि आत्भत्रवश्वास की वृत्रद्ध एवॊ शिुओॊ को बमबीत कयने हे तु अत्मॊतउऩमोगी भाना गमा हं । भूल्म भाि: 1900
  • 21. 21 पयवयी 2013सॊकट भोसिनी कासरका ससत्रद्ध कविSankat Mochinee Kalika Siddhi Kawachत्रवद्रानो ने कारी शब्द का अथा हं सभझाते हुवे वणान फकमा हं कीकारी अथाात "कार की ऩिी" फहन्द ू धभा भं बगवान सशव को कारकहाॊ गमा हं , इससरए सशव की ऩिी को कारी नाभ से सॊफोसधतफकमा गमा हं ।बगवती कारी क रुऩ-बेद का वणान त्रवसबन्न शास्त्रं भं असॊख्म रुऩं ेभं फकमा गमा हं । वास्तव भं सबी दे वीमाॊ, मोसगसनमाॊ आफद भाॉबगवती की ही प्रसतरुऩा भानी गई हं , स्जनक प्रभुख आठ बेद भाने ेजाते हं ।(1) सिन्ताभस्ण कारी,(2) स्ऩशाभस्ण कारी,(3) सन्तसतप्रदा कारी,(4) ससत्रद्ध कारी,(5) दस्ऺण कारी,(6) काभकरा कारी,(7) हॊ स कारी एवॊ(8) गुह्य कारी।इनक असतरयि मह तीन बेद त्रवशेष प्रससद्ध हं जो क्रभश् े(1) बद्रकारी,(2) शभशान कारी तथा(3) भहाकारी, इनकी उऩासना बी त्रवशेष रुऩ से होती हं ।कारी कवि क त्रवषम भं त्रवद्रानं का कथन हं की कारी कवि तीनं ेरोकं का आकषाण कयने वारा हं । ऩूणा श्रद्धा एवॊ त्रवसध-त्रवधान से सनसभात सॊकट भोसिनी कासरका ससत्रद्ध कवि कोधायण कयने वारा प्राणी िैरोक्म त्रवजमी हो सकता हं । वह िैरोक्म को भोफहत कयने वारा, भहाऻानी तथा सभस्तससत्रद्धमं का स्वाभी फन सकता हं । कवि को अऩने कठ अथवा दामीॊ बुजा ऩय धायण कयने वारा व्मत्रि धनवान, ॊसॊतानवान, श्रीवान तथा अनेक त्रवद्याओॊ, सम्ऩत्रत्तमं का स्वाभी फनता हं ।कछ त्रवद्रानं ने अऩने अनुबवं भं ऩामा हं की त्रवसध-त्रवधान से सनसभात सॊकट भोसिनी कासरका ससत्रद्ध कवि क प्रबाव से ु ेभृतवत्सा, वन्ध्मा अथवा सॊतान हीन स्त्री मफद कवि को अऩने कठ अथवा बुजा ऩय धायण कयती हं तो उसे सॊतान ॊसुख प्राद्ऱ हो सकता हं ।त्रवद्रानं का कथन हं की इस कवि को फकसी ऩयामे सशष्म, बत्रिफहन मा अऩरयसित को नहीॊ दे ना िाफहए। इस सरएकवि कवर उसी को प्राद्ऱ होना िाफहए जो इसक सरए मोग्म हो। े े भूल्म भाि: 1900
  • 22. 22 पयवयी 2013याभ यऺा कविRam Raksha Kawachयाभ यऺा कवि बगवान श्री याभ को प्रसन्न कयने औय उनकाआसशवााद प्राद्ऱ कयने क सरए धायण फकमा जाता हं । याभ यऺा कवि ेको धायण कयने से धायण कताा को सबी प्रकाय क बम औय फाधाओॊ ेसे भुत्रि सभरती हं । कामो भं सपरता प्रासद्ऱ हे तु याभ यऺा कविउत्तभ भाना गमा हं । याभ यऺा कवि क प्रबाव से से धायणकताा को ेधन राब होता हं व उसका का सवांगी त्रवकास होकय उसे सुख-सभृत्रद्ध, भान-सम्भान की प्रासद्ऱ होती हं । याभ यऺा कवि सबी प्रकायक अशुब प्रबाव को दय कय व्मत्रि को जीवन भं सबी प्रकाय की े ूकफठनाइमं भं यऺा कयता हं । त्रवद्रानो क भत से जो व्मत्रि बगवान ेयाभ क बि हं मा श्री हनुभानजी क बि हं उन्हं अऩने कामा उद्दे श्म े ेभं सपरता प्राद्ऱ कयने क सरए एवॊ उनका आसशवााद प्राद्ऱ कयने क े ेसरए याभ यऺा कवि को अवश्म धायण कयना िाफहमे स्जससे आनेवारे सॊकटो से यऺा हो कय धायण कताा का जीवन सुखभम व्मतीतहो सक एवॊ उनकी सभस्त बौसतक व आध्मास्त्भक भनोकाभनाएॊ ऩूणा ेहो सक। े भूल्म भाि: 1900हनुभान कविHanuman Raksha Kawachहनुभान कवि बगवान श्री हनुभान को प्रसन्न कयने औय उनका आसशवााद प्राद्ऱ कयने क सरए धायण फकमा जाता हं । ेशास्त्रं भं उल्रेख हं की बगवान सूमदेव ने ब्रह्मा जी क आदे श ऩय हनुभान जी को अऩने तेज का सौवाॉ बाग प्रदान ा ेकयते हुए आशीवााद प्रदान फकमा था, फक भं हनुभान को सबी शास्त्र का ऩूणा ऻान दॉ गा। स्जससे मह तीनोरोक भं सवा ूश्रेष्ठ विा हंगे तथा शास्त्र त्रवद्या भं इन्हं भहायत हाससर होगी औय इनक सभान फरशारी औय कोई नहीॊ होगा। ेजानकायो ने भतानुशाय हनुभान कवि धायण कयने से ऩुरुषं की त्रवसबन्न फीभारयमं दय होती हं , हनुभान कवि भं ूअभत शत्रि सभाफहत होने क कायण मह व्मत्रि की स्वप्न दोष, धातु योग, यि दोष, वीमा दोष, भूछाा, नऩुॊसकता ु ेइत्माफद अनेक प्रकाय क दोषो को दय कयने भं अत्मन्त राबकायी हं । अथाात मह कवि ऩौरुष को ऩुष्ट कयता हं । श्री े ूहनुभान कवि व्मत्रि को सॊकट, वाद-त्रववाद, बूत-प्रेत, द्यूत फक्रमा, त्रवषबम, िोय बम, याज्म बम, भायण, सम्भोहनस्तॊबन इत्माफद से सॊकटो से यऺा कयता हं औय ससत्रद्ध प्रदान कयने भं सऺभ हं । भूल्म भाि: 1900
  • 23. 23 पयवयी 2013बैयव यऺा कविBhairav Raksha Kawachबैयव यऺा कवि बैयव जी को शीघ्र प्रसन्न कयने औय उनका आसशवााद प्राद्ऱकयने क सरए धायण फकमा जाता हं । बैयव यऺा कवि धायण कयने से तॊि-भॊि, ेबूत-प्रेत आफद नकायात्भक प्रबावं से यऺा होती हं । बैयव यऺा कवि को धायणकयने से स्वास्थ्म सुख भं वृत्रद्ध होकय सकायात्भक उजाा भं वृत्रद्ध होती हं । कविक प्रबाव से धायण कताा को ऋण, योग औय शिुओॊ ऩय त्रवजम प्राद्ऱ कयने भं ेसपरता प्राद्ऱ हो सकती हं । सबी प्रकाय से व्मवसाम औय नौकयी से सॊफॊसधतसभस्माओॊ का सनवायण कयने भं बी बैयव यऺा कवि राबकायी ससद्ध होता हं । भूल्म भाि: 1900 भॊि ससद्ध ऩन्ना गणेशइष्ट ससत्रद्ध कवि बगवान श्री गणेश फुत्रद्ध औय सशऺा केIsht Siddhi Kawach कायक ग्रह फुध क असधऩसत दे वता ेबि औय बगवान क फीि का रयश्ता भुख्म रुऩ से प्रेभ, त्रवश्वास औय सभऩाण े हं । ऩन्ना गणेश फुध क सकायात्भक ेऩय फटका हं । मह तीन फातं से बि को अध्मास्त्भक औय आस्त्भक फर की प्रबाव को फठाता हं एवॊ नकायात्भकप्रासद्ऱ होती हं । धभाग्रॊथो भं इष्ट ससत्रद्ध क सरए त्रवसबन्न प्रकाय क धासभाक त्रवसध- े े प्रबाव को कभ कयता हं ।. ऩन्न गणेश क प्रबाव से व्माऩाय औय धन ेत्रवधान, साधना औय कभाकाण्ड का वणान सभरता हं । रेफकन आज क आधुसनक े भं वृत्रद्ध भं वृत्रद्ध होती हं । फच्िो फकदौय भं अऩनी आवश्मिाओॊ को ऩूया कयने क सरए फदन-यात ऩरयश्रभ कयने वारे े ऩढाई हे तु बी त्रवशेष पर प्रद हंव्मत्रि को सभम ऩय इष्ट आयाधना क सरए ऩमााद्ऱ सभम नहीॊ सभरता, मफद े ऩन्ना गणेश इस क प्रबाव से फच्िे ेसभर बी जामे तो आयाधना भं भन नहीॊ रग ऩाता, भन बटकता यहता हं । ऐसी फक फुत्रद्ध कशाग्र ू होकय उसकेस्स्थती भं इष्ट ससत्रद्ध कवि अत्मॊत राबप्रद भाना गमा हं । इस कवि क प्रबाव े आत्भत्रवश्वास भं बी त्रवशेष वृत्रद्ध होतीसे धायण कताा की एकाग्रता भं वृत्रद्ध होती हं , ऩूजा-उऩासना क दौयान भानससक े हं । भानससक अशाॊसत को कभ कयने भंशाॊसत का अनुबव होता हं स्जससे इष्ट ससत्रद्ध शीघ्र प्राद्ऱ होने भं राब सभर भदद कयता हं , व्मत्रि द्राया अवशोत्रषतसकता हं । इष्ट ससत्रद्ध कवि का सनभााण इस्से उद्दे श्म से फकमा जाता हं की हयी त्रवफकयण शाॊती प्रदान कयती हं ,धायण कताा को शीघ्र अऩने कामा उद्दे श्म भं इस्च्छत सपरता प्राद्ऱ हो। व्मत्रि क शायीय क तॊि को सनमॊत्रित े े भूल्म भाि: 2800 कयती हं । स्जगय, पपड़े , जीब, े भस्स्तष्क औय तॊत्रिका तॊि इत्माफद योगत्रवरऺण सकर याज वशीकयण कवि भं सहामक होते हं । कीभती ऩत्थयVilakshan Sakal Raj Vasikaran Kawach भयगज क फने होते हं । ेत्रवरऺण सकर याज वशीकयण कवि को धायण कयने से याज असधकायी अथाातसयकायी त्रवबाग भं कामा कयने वारे असधकारयमं को अऩने अनुकर फकमा जाता ू Rs.550 से Rs.8200 तकसकता हं । मफद कोई असधकायी मा अफ़सय आऩको अनावश्मक ऩये शान कय यहाहो, आऩक कामा को त्रफना फकसी वज़ह से योक यहे हो, कामा से सॊफॊसधत कोई ना कोई गरती सनकार यहे हो, कामा क े ेसरए फाय-फाय दौड़ा यहे हो, इस प्रकाय की सबी स्स्थतीमं भं त्रवरऺण सकर याज वशीकयण कवि असधकायीमं कोअऩने अनुकर फनाने क सरए सवोत्तभ भाध्म हं । सयकायी त्रवबाग एवॊ साभास्जक कामा कयने वारं रोगं क सरए बी ू े ेत्रवरऺण सकर याज वशीकयण कवि धायण कयना त्रवशेष राबदामक होता हं । भूल्म भाि: 3250
  • 24. 24 पयवयी 2013सुदशान फीसा कविSudarshan Visha Kawachसुदशान फीसा कवि को धायण कयने से मह धायणकताा को सुयऺा प्रदान कयने वारा हं । सुदशान फीसा कवि कोबगवान त्रवष्णु क सुदशान िक्र क साभना सवा प्रकाय से यऺाकायी भाना जाता हं । सुदशान फीसा कवि शत्रिशारी कवि े ेहं , स्जसे धायण कयने से शिुओॊ का दभन होता हं । जानकायं का अनुबव हं की सुदशान फीसा कवि भं सुयऺा प्रदानकयने वारी त्रवरऺण शत्रिमाॊ सनफहत होती हं । सुदशान फीसा कवि क प्रबाव से बगवान श्री त्रवष्णु का आशीवााद सयरता ेसे प्राद्ऱ होता हं । सुदशान फीसा कवि को धायण कयने से धायणकताा क सबी प्रकाय क कष्ट एवॊ असनष्ट दय होने रगते े े ूहं । सुदशान फीसा कवि को धायण कयने से व्मत्रि की फुत्रद्ध औय फर भं वृत्रद्ध होती हं । भूल्म भाि: 910भहा सुदशान कविMahasudarshan Kawachभहा सुदशान कवि सुदशान फीसा कवि क सभान परप्रदान कयने वारा भाना गमा हं । े भूल्म भाि: 910त्रिशूर फीसा कविTrishool Visha Kawachत्रिशूर फीसा कवि भुख्म रुऩ से शिु ऩय त्रवजम प्राप्र कयने एवॊ वाॊसछत कामं भं सपरता प्राद्ऱ कयने हे तु धायण कयनेसे त्रवशेष राब की प्रासद्ऱ होती हं । त्रिशूर फीसा कवि क प्रबाव से शिु धायणकताा क अनुकर हो सकता हं । त्रिशूर े े ूफीसा कवि क प्रबाव से से व्मत्रि का घोय शिु बी उससे डयते हं औय शिुता छोड दे ता हं । त्रिशूर फीसा कवि कोटा - ेकियी क कामं भं सपरता प्राद्ऱ कयने एवॊ शिुओॊ ऩय त्रवजम प्राद्ऱ कयने त्रवशेष प्रबावी भाना गमा हं । े भूल्म भाि: 910  क्मा आऩक फच्िे कसॊगती क सशकाय हं ? े ु े  क्मा आऩक फच्िे आऩका कहना नहीॊ भान यहे हं ? े  क्मा आऩक फच्िे घय भं अशाॊसत ऩैदा कय यहे हं ? ेघय ऩरयवाय भं शाॊसत एवॊ फच्िे को कसॊगती से छडाने हे तु फच्िे क नाभ से गुरुत्व कामाारत द्राया ु ु ेशास्त्रोि त्रवसध-त्रवधान से भॊि ससद्ध प्राण-प्रसतत्रष्ठत ऩूणा िैतन्म मुि वशीकयण कवि एवॊ एस.एन.फडब्फीफनवारे एवॊ उसे अऩने घय भं स्थात्रऩत कय अल्ऩ ऩूजा, त्रवसध-त्रवधान से आऩ त्रवशेष राब प्राद्ऱ कयसकते हं । मफद आऩ तो आऩ भॊि ससद्ध वशीकयण कवि एवॊ एस.एन.फडब्फी फनवाना िाहते हं , तो सॊऩकाइस कय सकते हं । GURUTVA KARYALAY BHUBNESWAR-751018, (ORISSA), Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785 Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com, gurutva_karyalay@yahoo.in, Visit Us: www.gurutvakaryalay.com
  • 25. 25 पयवयी 2013स्वप्न बम सनवायण कविSwapn Bhay Nivaran Kawachस्जस व्मत्रि को फाय-फाय अशुब स्वप्न क कायण असधक बम मा उसकी अशुबता की सिॊता सता यही हो उनक सरए े ेस्वप्न बम सनवायण कवि धायण कयना अत्मॊत राबदामक होता हं । मफद फकसी को डयावने, अत्रप्रम, अशुबता सूिकस्वप्न आते हो स्जससे व्मत्रि सनद्रा से उठ जाता हं , एसे द्स्वप्न को योकने क सरए स्वप्न बम सनवायण कवि धायण ु ेकयना राबप्रद होता हं । स्वप्न बम सनवायण कवि क प्रबाव से द्स्वप्न आने का बम दय होता हं । े ु ू भूल्म भाि: 1050सकर सम्भान प्रासद्ऱ कविSakal Samman Praapti Kawachसकर सम्भान प्रासद्ऱ कवि को धायण कयने से धायणकताा द्राया फकमे गमे कामा भं साभास्जक भान-सम्भान औय ऩद-प्रसतष्ठा भं वृत्रद्ध होती हं । कछ रोगो को एसा रगता हं की उसक ऩरयजन मा त्रप्रमजन उसका सम्भान नहीॊ कयते, ु ेफकतना बी अच्छा कामा कयने ऩय बी उनका भान-सम्भान नहीॊ कयते मा फाय-फाय उनका भजाक उडाते हो, उनक कामा ेभं गरतीमाॊ सनकारते है उनका अऩभान कयते हो, एसी स्स्थती भं सकर सम्भान प्रासद्ऱ कवि अत्मॊत राबदामक ससद्धहोता हं । सकर सम्भान प्रासद्ऱ कवि को धायण कयने से धायण कताा क सभास्जक भान-प्रसतष्ठा भं वृत्रद्ध होती हं , स्जससे ेधायणकताा का साभास्जक जीवन उच्ि स्तय का हो सकता हं । इष्टसभि व त्रप्रमजनं से बी भान-सभान की प्रासद्ऱ होती हं । भूल्म भाि: 1450आकषाण वृत्रद्ध कविAakarshan Vruddhi Kawachआजक आधुसनक मुग भं हय भनुष्म िाहे वह स्त्री हो मा ऩुरुष प्राम् सबी क सबतय एक ही सोि यहती हं , की उनकी े ेसुॊदयता, मौवन औय व्मत्रित्व का आकषण सदै व फना यहे । रेफकन आजक बाग-दौड बये मुग भं कामा की व्मस्तता, ा ेसिॊता, तनाव आफद त्रवसबन्न कायणं से औय उम्र क साथ-साथ व्मत्रि की सुॊदयता, मौवन औय आकषाण कभ होने रगता ेहं । एसी स्स्थती भं आकषाण वृत्रद्ध कवि अत्मॊत राबदामक ससद्ध हो सकता हं । आकषाण वृत्रद्ध कवि को धायण कयने सेव्मत्रि की आकषाण शत्रि भं वृत्रद्ध होती हं । आकषाण वृत्रद्ध कवि को धायण कय स्जस व्मत्रि को आकत्रषात कयना हो, वहव्मत्रि आकषाण वृत्रद्ध कवि क प्रबाव से धायण कताा की आकत्रषात हो सकता हं । आकषाण वृत्रद्ध कवि द्राया शुक्र ग्रह को ेअनुकर फकमा जाता हं । क्मोफक, ज्मोसतषी ग्रॊथं भं शुक्र को त्रवऩयीत सरॊग का कायक ग्रह भाना गमा हं । त्रवऩयीत सरॊग ूत्रवषमं की शुबता हे तु आकषाण वृत्रद्ध कवि भहत्वऩूणा बूसभका सनबा सकता हं । आकषाण कवि क प्रबाव से धायण कताा ेक व्मत्रित्व भं त्रवरक्ष्ण सनखाय आता हं । ेत्रवद्रानो ने आकषाण वृत्रद्ध कवि को दाॊऩत्म सुख भं वृत्रद्ध क सरए बी त्रवशेष भहत्वऩूणा भाना हं । मफद गृहस्थ सुख भं ेफदन-प्रसतफदन न्मूनता आयही हो, ऩसत-ऩिी का एक दसये क प्रसत आकषाण कभ हो यहा हो, ऐसी स्स्थसत भं आकषाण ू ेवृत्रद्ध कवि को त्रवसध-त्रवधान से ऩूणा श्रद्धाऩूवक धायण कयने से शीघ्र राब होता हं । ाआकषाण वृत्रद्ध कवि को धायण कयने से व्मत्रि को व्मवसाम, नौकयी आफद कामाऺेिं भं कामा ऩूसता भं इस्च्छत सपरताप्राद्ऱ हो सकती हं । आकषाण वृत्रद्ध कवि क प्रबाव से व्मत्रि क साभास्जक भान-सभान भं वृत्रद्ध होती हं । आकषाण वृत्रद्ध े ेकवि को धायण कयने से धायण कताा की शायीरयक ही नहीॊ अत्रऩतु आस्त्भक सुॊदयता का बी त्रवकास होता हं । भूल्म भाि: 1450
  • 26. 26 पयवयी 2013वशीकयण नाशक कविVasikaran Nashak Kawachकबी-कबी ऐसा होता हं भनुष्म अऩनी आवश्मिाओॊ की ऩूसता हे तु दसयं को अऩने अनुकर फनाकय मा उसक उऩय ू ू ेताॊत्रिक प्रमोग आफद कयक वशीकयण क दय उऩमोग द्राया फकसी व्मत्रि की धन-सम्ऩत्रत्त, हीये -जवाहयात आफद हड़ऩ यहे े े ूहो मा उसे हड़ऩने का प्रमास कय यहे हो, मा व्मत्रि को फकसी कामा त्रवशेष हे तु गरत तयीक से इस्तेभार कय यहे हो, ेउसक प्रबावं भं पसा व्मत्रि सही-गरत का अॊतय बूर कय उसक कहे अनुशाय कामा फकमे जायहा हो, अऩनी फफाादी की े ेऔय अग्रस्त हो यहा हो, उसे इस फात का अनुबव हो यहा हो की उसक साथ गरत हो यहा हं , फपय बी वह कामा को ेकयते जा यहा हो ऐसी स्स्थती भं सॊबवत मह उसक उऩय फकमे गमे वशीकयण का प्रबाव हो सकता हं । स्जसक प्रबाव से े ेव्मत्रि राख िाहते हुवे बी उससे दय नहीॊ यह सकता उसक कहे अनुशाय ही कामा कताा यहता हो, ऐसी स्स्थती भं ू ेवशीकयण नाशक कवि को धायण कयने मा कयवाने से दसयं द्राया फकमा गमा वशीकयण आफद का प्रबाव दय होने ू ू े ूरगता हं । धायणकताा व्मत्रि वशीकयणकताा क फॊधन से छट जाता हं । इस सरए वशीकयण काटने क सरए मह अत्मॊत ेप्रबावी कवि भाना जाता हं । भूल्म भाि: 1450प्रीसत नाशक कविPreepi Nashak Kawachजीवन भं कबी-कबी ऐसा होता हं की व्मत्रि का फकसी से आवश्मिा से असधक रगाव हो जाता हं । िाहे वह स्त्री हो माऩुरुष फदन-यात फदभाग भं उसकी ही सोि यहती हो, उसकी सुॊदयता, मौवन व उसका व्मत्रित्व दे खकय उसक प्रसत सदै व ेआकषण फना यहता हो, स्जस क कायण असधक सिॊता, तनाव आफद त्रवसबन्न सभस्माएॊ हो यही हो, ऐसी स्स्थती भं प्रीसत ा ेनाशक कवि अत्मॊत राबदामक ससद्ध हो सकता हं । जो व्मत्रि ऩयाई स्त्री-ऩुरुष इत्माफद क िक्कयं भं ऩड़ कय मा उसक े ेप्रसत असधक आकत्रषात होकय अऩना जीवन नक फना यहे हो, उनक सरए प्रीसत नाशक कवि को त्रवसध-त्रवधान से ऩूणा ा ेश्रद्धाऩूवक धायण कयने से शीघ्र राब होता हं । ा भूल्म भाि: 1450यसामन ससत्रद्ध कविRasayan Siddhi Kawachयसामन ससत्रद्ध कवि त्रवशेष रुऩ से उन रोगं क सरए उऩमोगी हं जो रोग सिफकत्सा ऺेि से जुड़े हं , जैसे, सिफकत्सक, ेवैद्य, डॉक्टय, औषसध, यसामनशास्त्र, दवाई आफद। उनक सरए यसामन ससत्रद्ध कवि अत्मॊत राबप्रद ससद्ध भाना गमा हं । ेकछ जानकायं का कथन हं की सिफकत्सा क कामा कयने वारे व्मत्रि मफद अऩने अभ्मास व अध्ममन क दौयान इस ु े ेकवि का प्रमोग कयते हं तो यसामन ससत्रद्ध कवि क प्रबाव से सिफकत्सा से जुडे सबी कामं भं शीघ्र सपरता प्राद्ऱ हो ेजाती हं । यसामन ससत्रद्ध कवि क प्रबाव से व्मत्रि को औषध, सिफकत्सा से सॊफॊसधत सकर त्रवद्याओॊ की शीघ्र प्रासद्ऱ हो ेजाती हं । यसामन ससत्रद्ध कवि को धायण कयने वारा व्मत्रि इन त्रवद्याओॊ को प्राद्ऱ कय उस त्रवद्या भं त्रवशेषऻ फन सकतेहं । यसामन ससत्रद्ध कवि क प्राबाव से सिफकत्सक मा डॉक्टय द्राया सिफकत्सा प्राद्ऱ योगी बी शीघ्र स्वस्थ्म राब प्राद्ऱ ेकयने भं सऺभ होते हं । भूल्म भाि: 6400
  • 27. 27 पयवयी 2013 काभना ऩूसता हे तु हभाये त्रवशेष कवि  सिॊतन जोशीसवा कामा ससत्रद्ध कविSarv Karya Siddhi Kawach स्जस व्मत्रि को राख प्रमि औय ऩरयश्रभ कयने क फादबी उसे भनोवाॊसछत सपरतामे एवॊ फकमे गमे कामा भं ससत्रद्ध े(राब) प्राद्ऱ नहीॊ होती, उस व्मत्रि को सवा कामा ससत्रद्ध कवि अवश्म धायण कयना िाफहमे। कवि क प्रभुख राब: सवा कामा ससत्रद्ध कवि क द्राया सुख सभृत्रद्ध औय नव ग्रहं क नकायात्भक प्रबाव को शाॊत कय े े ेधायण कयता व्मत्रि क जीवन से सवा प्रकाय क द:ख-दारयद्र का नाश हो कय सुख-सौबाग्म एवॊ उन्नसत प्रासद्ऱ होकय े े ुजीवन भे ससब प्रकाय क शुब कामा ससद्ध होते हं । स्जसे धायण कयने से व्मत्रि मफद व्मवसाम कयता होतो कायोफाय भे ेवृत्रद्ध होसत हं औय मफद नौकयी कयता होतो उसभे उन्नसत होती हं । सवा कामा ससत्रद्ध कवि क साथ भं सवाजन वशीकयण कवि क सभरे होने की वजह से धायण कताा की फात का दसये े े ू व्मत्रिओ ऩय प्रबाव फना यहता हं । सवा कामा ससत्रद्ध कवि क साथ भं अष्ट रक्ष्भी कवि क सभरे होने की वजह से व्मत्रि ऩय सदा भाॊ भहा रक्ष्भी की े े कृ ऩा एवॊ आशीवााद फना यहता हं । स्जस्से भाॊ रक्ष्भी क अष्ट रुऩ (१)-आफद रक्ष्भी, (२)-धान्म रक्ष्भी, (३)- धैमा े रक्ष्भी, (४)-गज रक्ष्भी, (५)-सॊतान रक्ष्भी, (६)-त्रवजम रक्ष्भी, (७)-त्रवद्या रक्ष्भी औय (८)-धन रक्ष्भी इन सबी रुऩो का अशीवााद प्राद्ऱ होता हं । सवा कामा ससत्रद्ध कवि क साथ भं तॊि यऺा कवि क सभरे होने की वजह से ताॊत्रिक फाधाए दय होती हं , साथ ही े े ू नकायात्भक शत्रिमो का कोइ कप्रबाव धायण कताा व्मत्रि ऩय नहीॊ होता। इस कवि क प्रबाव से इषाा-द्रे ष यखने वारे ु े व्मत्रिओ द्राया होने वारे दष्ट प्रबावो से यऺा होती हं । ु सवा कामा ससत्रद्ध कवि क साथ भं शिु त्रवजम कवि क सभरे होने की वजह से शिु से सॊफॊसधत सभस्त ऩये शासनओ से े े ु स्वत् ही छटकाया सभर जाता हं । कवि क प्रबाव से शिु धायण कताा व्मत्रि का िाहकय कछ नही त्रफगाड़ सकते। े ु उऩय वस्णात कविं क अरावा अन्म 10 से असधक कविं एक साथ सभराकय सवाकामा ससत्रद्ध कवि को तैमाय फकमा े जाता हं , स्जससे धायण कताा को असधक से असधक राब की प्रासद्ऱ हो। अन्म कवि क फाये भे असधक जानकायी क सरमे कामाारम भं सॊऩक कये : े े ा फकसी व्मत्रि त्रवशेष को सवा कामा ससत्रद्ध कवि दे ने नही दे ना का अॊसतभ सनणाम हभाये ऩास सुयस्ऺत हं । भूल्म भाि: 4600याज याजेश्वयी कविRaj Rajeshwari Kawachश्री याज याजेश्वयी कवि को धायण कयने से व्मत्रि की सुख सभृत्रद्ध, धन, ऐश्वमा, भान-सम्भान, सौबाग्म आफद को प्राद्ऱकयने की काभनाएॊ शीघ्र ऩूणा होने रगती हं । याज याजेश्वयी कवि याजकामा अथाात सयकाय से जुड़े कामं भं त्रवशेषसपरता प्रदान कयने वार हं । याज याजेश्वयी कवि क प्रबाव से धायण कताा क सकर प्रकाय क याज कामा सयरता से े े े
  • 28. 28 पयवयी 2013ऩूणा हो सकते हं । सयकायी त्रवबाग एवॊ साभास्जक कामा कयने वारं को याज याजेश्वयी कवि क प्रबाव से त्रवशेष राब की ेप्रासद्ऱ होती हं । भूल्म भाि: 11000सवाजन वशीकयण कविSarvjan Vashikaran Kawachआज क आधुसनक मुग भं अऩने कामा उद्दे श्म की ऩूसता हे तु हभं योजभया क जीफन भं जाने-अन्जाने कई रोगं से े ेसभरना ऩडता हं । स्जसभं सभाजक छोटे -फड़े सबी वगा क स्त्री-ऩुरूष, ग्राहक, असधकायी, सहकभॉ, नौकय-िाकय आफद सबी े ेतयह क रोग होते हं । उन सफ ऩय अऩना सकायात्भक प्रबाव फनाना हभाये सरए अत्मॊत आवश्मक हं , ेकोमोकी मफद हभाये व्मत्रित्व भं कोई त्रवशेष प्रबाव हो अथवा हभायी फातं भं मा िेहये ऩय िुम्फकीम आकषण हो स्जसे ासुनते मा दे खते ही साभने वारा प्रबात्रवत हो जाए औय हभायी फातं का उस ऩय ऩूणा रुऩ से सकायात्भक प्रबाव हो जामेतो हभाये फकतने ही कामा सयरता से ऩूणा हो सकते हं !मफद आऩकी कोइ फात जो ऩूणरुऩ से उसित हं औय आऩक इष्ट सभि, ऩरयजन मा त्रप्रमजन कोइ उसे भानता नहीॊ हं ऐसी ा ेस्स्थती भं सवाजन वशीकयण कवि अत्मॊत राबप्रद होता हं ।मफद आऩ फकसी व्माऩाय, फीभा मा फकसी भाकफटग इत्माफद से सॊफॊसधत कामं से जुड़े हं , औय ग्राहक मा उऩबोिा आऩक े ेउत्ऩाद िाहे वह फकतने बी अच्छी गुणवत्ता वारे, अच्छी सेवा सेवा प्रदान कयने वारे मा राबप्रदान कयने वारे हो, फपयबी ग्राहक मा उऩबोिा आऩक उत्ऩाद, सेवा मा राबप्रद सौदे को नहीॊ िुनकय फकसी कभ गुणवत्ता वारे, कभ सेवा, कभ ेराब वारे सौदे को िुनरेता हं मा आऩक प्रसतस्ऩसधा से वह उत्ऩाद, सेवा प्राद्ऱ कय रेते हो तो ऐसी स्स्थती भं सवाजन ेवशीकयण कवि अत्मॊत राबप्रद होता हं । क्मोफक, सवाजन वशीकयण कवि क प्रबाव से साभने वारे ऩय आऩकी फातं ेका सकायात्भक प्रबाव ऩड़ता हं , स्जसभं आऩकी फातं का ऩूणा प्रबाव साभने वारे ऩय होता हं । स्जस कायण आऩकोअऩने कामा भं शीघ्र सपरता प्राद्ऱ हो सकती हं , इसभं जया बी सॊदेह नहीॊ। सवाजन वशीकयण कवि अत्मॊत अनुबूत एवॊशीघ्र प्रबावी कवि भाना जाता हं ।सवाजन वशीकयण कवि धायण कयने से धायण कताा क व्मत्रित्व भं त्रवशेष आकषण उत्ऩान होता हं मा उसभं सनखाय े ाआता हं ।त्रवशेष नोट: सवाजन वशीकयण कवि का प्रमोग कवर शुबकामं हे तु कयने से त्रवशेष राब प्राद्ऱ होता हं । गरत कामा ेउद्दे श्म क दौयान सवाजन वशीकयण कवि का प्रबाव दसयो ऩय नहीॊ होता हं । सबी कवि कवर सही फात औय उद्दे श्म े ू ेहे तु कवि कामा कयते हं , गरत कामा मा उद्दे श्म हे तु नहीॊ। भूल्म भाि: 1450अष्ट रक्ष्भी कविAsht Lakshmi Kawachअष्ट रक्ष्भी कवि को धायण कयने से व्मत्रि ऩय सदा भाॊ भहा रक्ष्भी की कृ ऩा एवॊ आशीवााद फना यहता हं । स्जस्से भाॊरक्ष्भी क अष्ट रुऩ (१)-आफद रक्ष्भी, (२)-धान्म रक्ष्भी, (३)-धैयीम रक्ष्भी, (४)-गज रक्ष्भी, (५)-सॊतान रक्ष्भी, (६)- ेत्रवजम रक्ष्भी, (७)-त्रवद्या रक्ष्भी औय (८)-धन रक्ष्भी इन सबी रुऩो का स्वत् अशीवााद प्राद्ऱ होता हं । भूल्म भाि: 1250
  • 29. 29 पयवयी 2013शिु त्रवजम कविShatru Vijay Kawachशिुत्रवजम कवि को धायण कयने से शिुता का नाश होता हं । ऻात-अऻात शिु बम दय होते हं । कोटा -किहयी आफद क ू ेभुकदभं भं त्रवजमश्री की होती हं । कवि क प्रबाव से घोय शिुता यखने वारे शिु बी ऩयास्जत हो जाते हं । शिु त्रवजम े ुकवि कवि को धायण कयने से शिु से सॊफॊसधत सभस्त ऩये शासनओ से स्वत् ही छटकाया सभर जाता हं । कवि केप्रबाव से शिु धायण कताा व्मत्रि का िाहकय कछ नही त्रफगाड़ सकते। ु भूल्म भाि: 730ऩयदे श गभन औय राब प्रासद्ऱ कविPardesh Gaman Aur Labh Prapti Kawachऩयदे श गभन औय राब प्रासद्ऱ कवि उस व्मत्रि क सरए त्रवशेष राबप्रद होता हं स्जस व्मत्रि की त्रवदे श भं व्मवसाम मा ेनौकयी कयने की त्रवशेष इच्छा होती हं , जो व्मत्रि त्रवदे श भं व्माऩाय कयने की िाहत यखते हं , अथवा स्जस व्मत्रि कीइच्छा त्रवदे श मािा कयने की होती हं । एसी स्स्थती भं व्मत्रि की प्रफर इच्छा होने ऩय बी उसे त्रवदे श से सॊफॊसधत कामाउसित प्रमि कयने क उऩयाॊत बी फनते-फनते यह जाते हं मा उस कामा भं रुकावटं क कायण त्रवरॊफ होता यहता हं , एसी े ेस्स्थती भं ऩयदे श गभन औय राब प्रासद्ऱ कवि को धायण कयने से धायण कताा की भनोकाभनाएॊ शीघ्र ऩू णा होने क मोग ेफनने रगते हं । भूल्म भाि: 2350व्माऩाय वृत्रद्ध कविVyapar Vruddhi Kawachव्माऩाय वृत्रद्ध कवि व्माऩाय भं शीघ्र उन्नसत क सरए उत्तभ हं । िाहं कोई बी व्माऩाय हो अगय उसभं राब क स्थान ऩय े ेफाय-फाय हासन हो यही हं । फकसी प्रकाय से व्माऩाय भं फाय-फाय फाधाएॊ उत्ऩन्न हो यही हो! तो सॊऩूणा प्राण प्रसतत्रष्ठतभॊि ससद्ध ऩूणा िैतन्म मुि व्माऩाय वृत्रद्ध कवि को धायण कयने से शीघ्र ही व्माऩाय भं वृत्रद्ध एवॊ सनतन्तय राब प्राद्ऱहोता हं । भूल्म भाि: 730, स्ऩे. 1050 सशऺा से सॊफॊसधत सभस्माक्मा आऩक रडक-रडकी की ऩढाई भं अनावश्मक रूऩ से फाधा-त्रवघ्न मा रुकावटे हो यही हं ? फच्िो को े ेअऩने ऩूणा ऩरयश्रभ एवॊ भेहनत का उसित पर नहीॊ सभर यहा? अऩने रडक-रडकी की कडरी का े ॊुत्रवस्तृत अध्ममन अवश्म कयवारे औय उनक त्रवद्या अध्ममन भं आनेवारी रुकावट एवॊ दोषो क कायण े ेएवॊ उन दोषं क सनवायण क उऩामो क फाय भं त्रवस्ताय से जनकायी प्राद्ऱ कयं । े े े GURUTVA KARYALAY Call Us - 9338213418, 9238328785, Email Us:- gurutva_karyalay@yahoo.in, gurutva.karyalay@gmail.com Visit Us: www.gurutvakaryalay.com http://gk.yolasite.com/ and http://gurutvakaryalay.blogspot.com
  • 30. 30 पयवयी 2013बूसभराब कविBhumilabh Kawachबूसभ, बवन, खेती से सॊफॊसधत व्मवसाम से जुड़े रोगं क सरए बूसभराब कवि त्रवशेष राबकायी ससद्ध हुता हं । बूसभराब ेकवि को धायण कयने से धायण कताा को बूसभ, बवन, खेती से सॊफॊसधत कामं भं असधक राब होने क मोग फनते हं ेअथवा जो रोग खेती, व्मवसाम मा सनवास स्थान हे तु उत्तभ बूसभ आफद प्राद्ऱ कयना िाहते हं , रेफकन उस कामा भं कोईना कोई अड़िन मा फाधा-त्रवघ्न आते यहते हो स्जस कायण कामा ऩूणा नहीॊ हो यहा हो, तो उनक सरए बी बूसभ कवि ेउत्तभ परप्रद हो सकता हं । भूल्म भाि: 910आकस्स्भक धन प्रासद्ऱ कविAkashmik Dhan Prapti Kawachआकस्स्भक धन प्रासद्ऱ कवि अऩने नाभ क अनुशाय ही भनुष्म को आकस्स्भक धन प्रासद्ऱ हे तु परप्रद हं इस कवि को ेधायण कयने से साधक को अप्रत्मासशत धन राब प्राद्ऱ होता हं । िाहे वह धन राब व्मवसाम से हो, नौकयी से हो, धन-सॊऩत्रत्त इत्माफद फकसी बी भाध्मभ से मह राब प्राद्ऱ हो सकता हं । हभाये वषं क अनुसॊधान एवॊ अनुबवं से हभने ेआकस्स्भक धन प्रासद्ऱ कवि को धायण कयने से शेमय ट्रे फडॊ ग, सोने-िाॊदी क व्माऩाय इत्माफद सॊफॊसधत ऺेि से जुडे रोगो ेको त्रवशेष रुऩ से आकस्स्भक धन राब प्राद्ऱ होते दे खा हं । आकस्स्भक धन प्रासद्ऱ कवि से त्रवसबन्न स्रोत से धनराबबी सभर सकता हं । भूल्म भाि: 1050ऩदौन्नसत कविPadounnati Kawachऩदौन्नसत कवि नौकयी ऩैसा रोगो क सरए त्रवशेष राबप्रद हं । स्जन रोगं को अत्मासधक ऩरयश्रभ एवॊ श्रेष्ठ कामा कयने ेऩय बी नौकयी भं उन्नसत अथाात प्रभोशन नहीॊ सभर यहा हो उनक सरए मह त्रवशेष राबप्रद हो सकता हं । े भूल्म भाि: 910तॊि यऺा कविTantra Raksha Kawachआजका आधुसनक सभम कदभ-कदभ ऩय प्रसतस्ऩधाा औय िुनौसतमो से बया हं । एसे भं व्मत्रि स्वमॊ क दखं से ज्मादा े ुदसयं क उन्नसत धन-सॊऩत्रत्त, ऐश्वमा औय सुख-साधनो को दे खकय द:खी होता हं । ऐसे भं भनुष्म क जाने अन्जाने कई ू ु ेशिु उत्ऩन्न हो जाते हं , जो उस्से इषाा औय द्रे श यखते हो। क्मोफक आजक इस मुग भं दसयं से आगे सनकरने की े ूअॊसध दौड भं व्मत्रि एक-दसये का दश्भन फन जाता हं । काई फाय व्मत्रि दश्भनी औय वैय बाव भं इतना अॊधा हो जाता ू ु ुहं उसे सही गर का ऻान नहीॊ होता मा होते हुवे उसे अन्दे खा कय, मेन-कन प्रकायं से दसये का अफहत कयने को तत्ऩय े ूहोता हं । व्मत्रि शिुता क सरए सॊफॊसधत व्मत्रि क साथ-साथ उसक ऩरयजनो को कष्ट दे ना, उस ऩय झुठे आयोऩ रगाना, े े ेउसकी धन सम्ऩत्रत्त का नुक्शान कयना, उस ऩय मा उसक ऩरयजनो ऩय ताॊत्रिक फक्रमा जैसे घृस्णत मा सनॊदनीम कामा ेकयक उन्हं कष्ट दे ना आफद सबी सीभाओॊ को ऩाय कय जाते हं । ऐसे शिुओॊ को शाॊत कयने एवॊ उसक द्राया फकमे मा े ेकयवामे ताॊत्रिक प्रमोग आफद क प्रबावं को नष्ट कयने हे तु े तॊि यऺा कवि धायण कयना सवाश्रष्ठ साधन हो सकता हं । ेतॊि यऺा कवि धायण कयने से व्मत्रि ऩय शिु द्राया फकमा गए सबी ताॊत्रिक प्रमोग का प्रबाव सभाद्ऱ होने रगता हं । तॊियऺा कवि को धायण कयने से सबी प्रकाय की तॊि फाधाओॊ का शभन होता हं । भूल्म भाि: 730
  • 31. 31 पयवयी 2013ऋण भुत्रि कविRinmukti Kawachऋण भुत्रि कवि कजा से सॊफॊसधत सभस्माओॊ को हर कयने भं त्रवशेष राब दे ता हं , ऋण भुत्रि कवि को धायण कयनेसे व्मत्रि कजा भुत्रि से सॊफॊसधत कामं असत शीध्र राब प्राद्ऱ होता हं । स्जस व्मत्रि क राख प्रमि कयने ऩय बी उसका ेकजा खत्भ नहीॊ हो यहा हो, कजा फढ़ता ही जा यहा हो उनक सरए मह त्रवशेष रुऩ से राबप्रद हं । े भूल्म भाि: 910योजगाय प्रासद्ऱ कविRojagar Prapti Kawachजो व्मत्रि फेयोजगाय हं , व्मवसाम औय नौकयी प्रासद्ऱ क सरए उसक द्राया फकमे गमे सबी प्रमास त्रवपर हो यहे हो, वह े ेजहाॉ जाता हं वहाॉ से उसे असपरता एवॊ सनयाशा ही प्राद्ऱ हो यही हो तो उसक सरए योजगाय प्रासद्ऱ कवि त्रवशेष रुऩ से ेराबप्रद हो सकता हं । योजगाय प्रासद्ऱ को धायण कयने से व्मत्रि को अऩने प्रमासं क आधाय ऩय कहीॊ नाहीॊ फकसी ना ेफकसी रुऩ से योजगाय की प्रासद्ऱ क अवसय प्राद्ऱ होने की प्रफर सॊबावनाएॊ फनने रगती हं । े भूल्म भाि: 550 भॊि ससद्ध स्पफटक श्री मॊि "श्री मॊि" सफसे भहत्वऩूणा एवॊ शत्रिशारी मॊि है । "श्री मॊि" को मॊि याज कहा जाता है क्मोफक मह अत्मन्त शुब फ़रदमी मॊि है । जो न कवर दसये मन्िो से असधक से असधक राब दे ने भे सभथा है एवॊ सॊसाय क हय े ू े व्मत्रि क सरए पामदे भद सात्रफत होता है । ऩूणा प्राण-प्रसतत्रष्ठत एवॊ ऩूणा िैतन्म मुि "श्री मॊि" स्जस व्मत्रि क े ॊ े घय भे होता है उसक सरमे "श्री मॊि" अत्मन्त फ़रदामी ससद्ध होता है उसक दशान भाि से अन-सगनत राब े े एवॊ सुख की प्रासद्ऱ होसत है । "श्री मॊि" भे सभाई अफद्रतीम एवॊ अद्रश्म शत्रि भनुष्म की सभस्त शुब इच्छाओॊ को ऩूया कयने भे सभथा होसत है । स्जस्से उसका जीवन से हताशा औय सनयाशा दय होकय वह भनुष्म ू असफ़रता से सफ़रता फक औय सनयन्तय गसत कयने रगता है एवॊ उसे जीवन भे सभस्त बौसतक सुखो फक प्रासद्ऱ होसत है । "श्री मॊि" भनुष्म जीवन भं उत्ऩन्न होने वारी सभस्मा-फाधा एवॊ नकायात्भक उजाा को दय ू कय सकायत्भक उजाा का सनभााण कयने भे सभथा है । "श्री मॊि" की स्थाऩन से घय मा व्माऩाय क स्थान ऩय े स्थात्रऩत कयने से वास्तु दोष म वास्तु से सम्फस्न्धत ऩये शासन भे न्मुनता आसत है व सुख-सभृत्रद्ध, शाॊसत एवॊ ऐश्वमा फक प्रसद्ऱ होती है । गुरुत्व कामाारम भे "श्रीमॊि" 12 ग्राभ से 75 ग्राभ तक फक साइज भे उप्रब्ध है भूल्म:- प्रसत ग्राभ Rs. 10.50 से Rs.28.00 GURUTVA KARYALAY Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785, Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com, gurutva_karyalay@yahoo.in, Visit Us: www.gurutvakaryalay.com
  • 32. 32 पयवयी 2013 ग्रह शाॊसत हे तु त्रवशेष कवि  सिॊतन जोशीकारसऩा शाॊसत कविKaalsarp Shanti Kawachकारसऩा मोग क्मा हं ?कार का भतरफ हं भृत्मु, जानकायो क भतानुशाय स्जस व्मत्रि का जन्भ कारसऩा मोग भे हुवा हो वह व्मत्रि जीवन ेबय भृत्मु क सभान कष्ट बोगने वारा होता हं ेव्मत्रि जीवन बय कोइ ना कोइ सभस्मा से ग्रस्त होकय अशाॊत सित्त होता हं ।कारसऩा मोग भतरफ क्मा?जफ जन्भ कडरी भं साये ग्रह याहु औय कतु क फीि स्स्थत यहते हं तो उसे ज्मोसतष त्रवद्या क जानकाय कारसऩा मोग ुॊ े े ेकहते हं । मफद याहु औय कतु क फीि से एक ग्रह फाहय सनकर जामे तो उसे आॊसशक कारसऩा मोग कहते हं औय सबी े ेग्रह कतु औय याहु क फीि भं स्स्थत हो तो उसे आॊसशक कारसऩा मोग कहते हं । े ेकारसऩा मोग फकस प्रकाय फनता हं औय क्मं फनता हं ?जफ 7 ग्रह याहु औय कतु क भध्म भे स्स्थत हो मह अस्च्छ स्स्थसत नफह भानी जाती हं । े ेजानकायं की भाने तो याहु औय कतु क भध्म भे फाकी सफ ग्रह आजाने से याहु कतु उनक प्रबावो को कभ कय दे ते हं े े े ेमा ऩकडक यखते हं , तफ कारसऩा मोग फनता हं , क्मोफक ज्मोसतष भे याहु को सऩा(साऩ) का भुह(भुख) एवॊ कतु को ऩूॊछ े ेकहा जाता हं ।कारसऩा मोग का प्रबाव क्मा होता हं ? भॊि ससद्ध दरब साभग्री ु ाजैसे फकसी व्मत्रि को साऩ काट रे तो वह व्मत्रि शाॊसत से हत्था जोडी- Rs- 370, 550, 730, 1250, 1450फेठ नहीॊ सकता उसी प्रकय से कारसऩा मोग से ऩीफड़त ससमाय ससॊगी- Rs- 370, 550, 730, 1250, 1450व्मत्रि को जीवन ऩमान्त शायीरयक, भानससक, आसथाक त्रफल्री नार- Rs- 370, 550, 730, 1250, 1450ऩये शानी का साभना कयना ऩडता हं । ऩीफड़त व्मत्रि कात्रववाह त्रवरम्फ से होता हं एवॊ त्रववाह क ऩश्च्मात सॊतान से े कारी हल्दी:- 370, 550, 750, 1250, 1450,सॊफॊधी कष्ट जेसे उसे सॊतान होती ही नहीॊ मा होती हं तो दस्ऺणावतॉ शॊख- Rs- 550, 750, 1250, 1900योग ग्रस्त होती हं । उसकी योजीयोटी का जुगाड़ बी फड़ी भोसत शॊख- Rs- 550, 750, 1250, 1900भुस्श्कर से हो ऩाता हं । अगय जुगाड़ होजामे तो रम्फे भामा जार- Rs- 251, 551, 751सभम तक फटकती नही हं । फाय-फाय व्मवसाम मा नौकयी इन्द्र जार- Rs- 251, 551, 751भे फदराव आते ये हते हं । धनाढम घय भं जन्भ होने के धन वृत्रद्ध हकीक सेट Rs-251(कारी हल्दी क साथ Rs-550) ेफावजूद फकसी न फकसी वजह से उसे अप्रत्मासशत रूऩ सेआसथाक ऺसत होती यहती हं । व्मत्रि तयह तयह की ऩये शानी घोडे की नार- Rs.351, 551, 751से सघये यहते हं । एक सभस्मा खतभ होते ही दसयी ऩाव ू GURUTVA KARYALAY Call Us: 91 + 9338213418, 91 + 9238328785,ऩसाये खड़ी हो जाती हं । कारसऩा मोग से व्मत्रि को िैन Email Us:- gurutva_karyalay@yahoo.in,नही सभरता उसक कामा फनते ही नही औय मफद फन बी े gurutva.karyalay@gmail.com
  • 33. 33 पयवयी 2013जामे तो आधे भे रुक जाते हं । व्मत्रि क 99% हो िुका कमा बी आखयी ऩरो भे अकस्भात ही रुक जात हं । ेस्जन रोगं को उि मोग क कायण ऩये शानी हो यही हो, त्रवसबन्न ऩूजा-ऩाठ इत्माफद कयवाने क उऩयाॊत बी त्रवशेष राबे े ेकी प्रासद्ऱ नहीॊ हो यही हो, ऐसी उनक सरए स्स्थती भं कारसऩा शाॊसत कवि अत्मॊत राबप्रद ससद्ध होता हं । कारसऩा ेशाॊसत कवि को धायण कय क कारसऩा मोग क कप्रबावो को कभ फकमा जा सकता हं । े े ुस्जन रोगो को रगता हो की उनक कामा त्रवशेष भं कारसऩा मोग क कायण त्रवघ्न फाधामे एवॊ त्रवरॊफ हो यहा हं तो वह े ेकारसऩा मोग शाॊसत कवि को धायण कय सकते हं ।कारसऩा शाॊसत कवि का सनभााण त्रवशेष रुऩ से त्रवसध-त्रवधान से ग्रहं क कप्रबावं को शाॊत कयने क सरए फकमा जाता े ु ेहं , स्जससे ग्रहं द्राया प्राद्ऱ होने वारे अशुब प्रबाव कभ हो सक औय धायण कताा क जीवन से त्रवसबन्न द्ख, सॊकट, एवॊ े े ुऩये शासनमाॊ कभ हो कय उसे जीवन भं सुख-सभृत्रद्ध की प्रासद्ऱ हो, उसका जीवन सुखभम व्मतीत हो सकता हं ।कारसऩा मोग सॊफॊसधत त्रवशेष भतआधुसनक ज्मोसतषीम सॊशोधन क आधाय ऩय कछ ज्मोसतष क जानकायं ने कारसऩा मोग क प्रबाव को स्वीकाय फकमा े ु े ेहं । स्जसभं कछ ज्मोसतषी ऩूणा कारसऩा को ही भानते हं वह रोग अधा कारसऩा मोग को नहीॊ भानते। रेफकन कछ ु ुज्मोसतषीमं ने अऩने अनुबव एवॊ अनुशॊधान से अधा कारसऩा मोग क प्रबावं को भाना हं । ेरेफकन कछ ज्मोसतषी आजतक कारसऩा मोग क प्रबावं को ही नहीॊ भानते हं । ु ेकछ अऻासन रोग कारसऩा मोग को कारसऩा दोष कहते हं , रेफकन मह कोइ दोष नहीॊ एक ज्मोसतषी मोग हं । इस सरए ुमफद कारसऩा मोग कडरी भं हो तो इससे घफयामे मा ड़ये फीना उसका उऩाम कयना फुत्रद्ध भता हं । ुॊ भूल्म भाि: 2800शसन साड़े साती औय ढ़ै मा कष्ट सनवायण कविShani Sadesatee aur Dhaiya Kasht Nivaran Kawachशसन साड़े साती औय ढ़ै मा कष्ट सनवायण कवि को शीघ्र प्रबावशारी फनाने हे तु शसनदे व क त्रवसशष्ट भॊिं द्राया भॊि ससद्ध ेफकमा जाता हं । स्जससे प्रबाव से धायण कताा को तत्कार राब प्राद्ऱ होता हं । ज्मोसतषीम गणनाओॊ क अनुशाय शसन की ेढै ़मा मा साढ़े साती का िर यही हो ऐसी स्स्थती भं व्मत्रि को अनेक कामं भं असपरता प्राद्ऱ होती हं , कबी व्मवसाम भंघटा, नौकयी भं ऩये शानी, वाहन दघटना, गृह क्रेश आफद ऩये शानीमाॊ फढ़ती जाती हं ऐसी अवस्था भं शसन को शाॊत ु ाकयने औय उसकी कृ ऩा प्राद्ऱ कयने क सरए शसन साड़े साती औय ढ़ै मा कष्ट सनवायण कवि अत्मॊत राबप्रद होता हं । शसन ेसाड़े साती औय ढ़ै मा कष्ट सनवायण कवि को धायण कयने से साड़े साती औय ढ़ै मा क दौयान व्मत्रि को प्राद्ऱ होने वारा ेभृत्मु बम, कजा, कोटा कश, जोडो का ददा , फात योग तथा रम्फे सभम क सबी प्रकाय क योग से ऩये शान व्मत्रि क सरमे े े े ेशसन साड़े साती औय ढ़ै मा कष्ट सनवायण कवि असधक राबकायी हो सकता हं । भूल्म भाि: 1900श्रात्रऩत मोग सनवायण कविSharapit Yog Nivaran Kawachबायतीम ज्मोसतष शास्त्र भं शुब औय अशुब दोनं प्रकाय क मोगं का वणान सभरता हं । इन मोगं भं एक मोग "श्रात्रऩत ेमोग" हं इसे कछ रोग "शात्रऩत दोष" बी कहा जाता हं । इस मोग क सॊफॊध भं कहाॊ जाता हं की स्जस व्मत्रि की ु ेकण्डरी भं श्रात्रऩत मोग होता हं , उनकी कण्डरी भं भौजूद अन्म शुब मोगं का प्रबाव कभ हो जाता हं स्जससे व्मत्रि ु ुको जीवन भं त्रवसबन्न कफठनाईमं एवॊ िुनौसतमं का साभना कयना ऩड़ता हं ।
  • 34. 34 पयवयी 2013कछ जानकाय कण्डरी भं भौजूद श्रात्रऩत मोग का कायण बी ऩूवा जन्भ क कभं का पर भानते हं । कछ ज्मोसतषी का ु ु े ुभानना हं की श्रात्रऩत मोग अत्मॊत अशुब परदामी हं । श्रात्रऩत मोग का पर व्मत्रि को अऩने कभं क अनुसाय बोगना ेऩड़ता हं ।कसे जाने जन्भ कडरी भं श्रात्रऩत मोग हं मा नहीॊ ? ै ुॊबायतीम ज्मोसतषशास्त्र भं सूम, भॊगर, शसन, याहु औय कतु को अशुब ग्रहं भाना गमा हं । इन अशुब ग्रहं भं जफ शासन ा ेऔय याहु एक यासश भं स्स्थत हो तो श्रात्रऩत मोग का सनभााण होता हं । शसन औय याहु दोनं ही ग्रह अशुब पर दे ते हंइससरए इन दोनं ग्रहं क सॊमोग से फनने वारे मोग को शात्रऩत मोग मा श्रात्रऩत मोग कहा जाता हं । कछ ज्मोसतष क े ु ेजानकाय मह भानते हं फक शसन की याहु ऩय दृत्रष्ट होने से बी इस मोग का सनभााण होता हं ।साधायण बाषा भं सभझे तो शाऩ का अथा शुब परं नाश होना भाना जाता हं । उसी प्रकाय शात्रऩत मोग का अथा हं ,शुब मोगं को नाश कयने वारा मोग। स्जस फकसी बी व्मत्रि की कण्डरी भं मह मोग का सनभााण होता हं उसे इसी ुप्रकाय का पर सभरता हं अथाात उनकी कण्डरी भं स्जतने बी शुब मोग होते हं वे इस मोग क कायण प्रबावहीन हो ु ेजाते हं ! आभतौय ऩय ऐसा भाना जाता हं की शात्रऩत मोग से ऩीफड़त व्मत्रि को अऩने कामं भं त्रवसबन्न प्रकाय कीकफठन िुनौसतमं एवॊ भुस्श्करं का साभना कयना होता हं ।रेफकन कछ ज्मोसतषी इससे सहभत नहीॊ हं , उनका भानना हं की शात्रऩत मोग से सॊफॊसधत मह धायणा ऩूयी तयह गरत ुहं , स्जस व्मत्रि की कण्डरी भं शात्रऩत मोग फनता हं , उस व्मत्रि की कण्डरी भं अन्म मोगं की अऩेऺा शात्रऩत मोग ु ुअसधक प्रबावशारी होकय व्मत्रि को शुब पर दे ता हं ! स्जस प्रकाय ज्मोसतषशास्त्र क अनुशाय जफ दो सभि ग्रहं की ेमुसत फकसी यासश भं फनती हं तो उनका अशुब प्रबाव सभाद्ऱ हो जाता हं औय दोनं सभिग्रह सभरकय व्मत्रि को शुबपर दे ते हं । उसी प्रकाय से वह शसन एवॊ याहु क मोग से सनसभात होने वारे शात्रऩत मोग को अशुब नहीॊ भानते हं । ेरेफकन मह एक वैिारयक भतबेद का भुद्दा हं , मफद आऩकी जन्भ कडरी भं श्रात्रऩत मोग का सनभााण हो यहा हो, औय ुॊआऩको इससे सॊफॊसधत कष्ट प्राद्ऱ हो यहे हो तो आऩ श्रात्रऩत मोग सनवायण कवि को धायण कयक त्रवशेष राब प्राद्ऱ कय ेअऩनी ऩये शासनमं को दय कय सकते हं । इस कवि क प्रबाव से श्रात्रऩत मोग क प्रबावं भं न्मूनता आती हं । ू े े भूल्म भाि: 1900िॊडार मोग सनवायण कविChandal Yog Kawach भॊि ससद्ध दरब साभग्री ु ािॊडार मोग (िाॊडार) अथाात िाण्डार का सनभााण गुरु औय यि गुॊजा : 11 नॊग-Rs-111, 21 नॊग Rs-181याहु की मुसत से फनता हं । ज्मोसतषी ग्रॊथो भं िाॊडार मोग गोभसत िक्र: 11 नॊग-Rs-111, 21 नॊग Rs-181को अशुब ग्रह मोग क रूऩ भं जाना जाता हं । ज्मोसतषी े ऩीरी कौफड़माॊ: 11 नॊग-Rs-111, 21 नॊग Rs-181ग्रॊथो भं एवॊ त्रवद्रानं ने अऩने अनुबवं से िॊडार मोग के हकीक: 11 नॊग-Rs-111, 21 नॊग Rs-181पर इस प्रकाय फताएॊ हं । रघु श्रीपर: 1 नॊग-Rs-111, 11 नॊग-Rs-1111िॊडार मोग भं उत्ऩन्न जातक बाग्महीनता, भॊद्बत्रद्धता, ु नाग कशय: 11 ग्राभ, Rs-111 ेअसॊतोष एवॊ उसक कष्टं भं वृत्रद्ध होती हं । िॊडार मोग क े े कारी हल्दी:- 370, 550, 750, 1250, 1450,कायण जातक जफ बी फकसी भहत्वऩूणा कामा को सॊऩन्न GURUTVA KARYALAYकयने की कोसशश कयता हं तो अिानक उसक कामो भं े Call Us: 91 + 9338213418, 91 + 9238328785,त्रवघ्न आने रगते हं स्जस कायण व्मत्रि उस कामा को सही Email Us:- gurutva_karyalay@yahoo.in, gurutva.karyalay@gmail.com
  • 35. 35 पयवयी 2013तयीक से सॊऩन्न कय नहीॊ ऩाता हं । फकसी त्रवशेष ऩरयस्स्थसतमं भं मह मोग व्मत्रि की फुत्रद्ध को फुये कभा एवॊ अऩयाध की ेऔय रे जाता हं । स्जस कायण व्मत्रि की सभाज भं फदनाभी होती हं औय उसे अऩभान से सम्भुस्खन होना ऩड़ता हं ।इस मोग भं उत्ऩन्न जातक को कई फाय एसे कामा कयने ऩड़ते हं जो वह कयना नहीॊ िाहता हं , इस कायण उसकीस्जॊदगी भं बी कई फाय वह गरत पसरे रेता हं , स्जसका उसे नुकसान बी झेरना ऩड़ सकता हं । िॊडार मोग क प्रबाव ै ेसे व्मत्रि को जीवन भं प्राद्ऱ होने वारे प्रगसत क त्रवसबन्न अवसय नष्ट हो जाते हं औय व्मत्रि का बाग्म असधक ेउज्जवर नहीॊ हो ऩाता हं । व्मत्रि की सॊगती अच्छी नहीॊ होती वह मफद फुये रोगो की सॊगत भं असधक सभम तक यहताहं तो उसे त्रवसबन्न प्रकाय की फुयी आदते मा रते रग सकती हं । इस सरए मफद कडरी भं िॊडार मोग फन यहा हं तो ुॊव्मत्रि को फुये रोगं की सॊगत से दय यहना िाफहए मफद फुयी सॊगत हं तो उसे अऩनी सॊगत सुधाय रेनी िाफहए। ूकछ त्रवद्रानो ने िॊडार मोग का प्रबाव कारसऩा मोग की तुरना भं ज्मादा असधक हासनकायक फतामा हं । िण्डारमोग क ु ेकायण व्मत्रि क जीवन भं उताय-िढ़ाव का फुया दौय आता-जाता यहता हं । व्मत्रि को फकसी कायण से जेर की मािा बी ेफाय-फाय कयनी ऩड़ सकती हं । इस मोग से व्मत्रि का दाम्ऩत्म जीवन बी अत्मासधक प्रबात्रवत होता हं , व्मत्रि केएकासधक प्रेभ प्रसॊग मा तराक क मोग बी िण्डार मोग क कायण फनते हं । े ेमफद आऩ इस मोग से ग्रससत हो औय उससे सॊफॊसधत सभस्माएॊ आऩको असधक ऩये शान कय यही हो, िॊडार मोगसनवायण क उऩामं को कयने भे आऩ असभथा हो मा आऩक ऩास त्रवसध-त्रवधान से ऩूजा-ऩाठ इत्माफद कयने का सभम े ेनहीॊ हो तो आऩक सरऐ िॊडार मोग सनवायण कवि राबकायी हो सकता हं । इस कवि को धायण कयने से ग्रहं का ेकप्रबाव शाॊत होने रगता हं औय आऩकी िॊडार मोग से सॊफॊसधत सभस्माओॊ का सनवायण हो जाता हं । क्मोफक इस ुकवि का सनभााण भुख्म रुऩ से ग्रहं क अशुब प्रबावं को कभ कयने औय शुब प्रबावं भं वृत्रद्ध क उद्दे श्म से फकमा जाता े ेहं , इससरए आऩ इससे त्रवशेष राब की प्रासद्ऱ कय सकते हं । भूल्म भाि: 1900ग्रहण मोग सनवायण कविGrahan Yog Nivaran Kawachज्मोसतषी ग्रॊथो क अनुशाय ग्रहण मोग को अशुब मोग की श्रेणी भं सगना जाता हं । ग्रहण मोग को अशुब मोगं भं ेअत्मासधक कष्टदामक औय हासनकायक भाना गमा हं । कछ ज्मोसतष त्रवद्रानो क भतानुशाय ग्रहण मोग कारसऩा मोग से ु ेबी असधक कष्टप्रद औय अशुब परदामी हं । क्मोफक, कारसऩा मोग से व्मत्रि क जीवन भं उताय-िढ़ाव दोनं आते हं ेऩयॊ तु ग्रहण मोग एक ऐसा मोग हं स्जसभं सफ कछ फुया ही होता हं । इस मोग से प्रबात्रवत व्मत्रि जीवन भं हभेशा ुसनयाश औय हताश यहता हं ।ग्रहण मोग का प्रबावस्जस प्रकाय सूमा को ग्रहण रगने ऩय अॊधकाय पर जाता हं औय िन्द्रभा को ग्रहण रगने ऩय उसकी िाॊदनी खो जाती ैहं ठीक उसी प्रकाय व्मत्रि क जीवन भं फनते हुए कामा अिानक रूक जाता हो तो आऩ इसे ग्रहण मोग का प्रबाव ेसभझ सकते हं । ग्रहण मोग से ऩीफड़त व्मत्रि ने अऩनी जीवन भं अनेकं फाय अनुबव फकमा होगा फक उनका कोईभहत्वऩूणा कामा जो सबी द्रत्रष्ट से ऩूणा हो िुका हं मा सॊऩन्न होने ही वारा हं , रेफकन वह कामा क ऩूणा होने से ऩहरे ेफीि भं कोई ना कोई त्रवघ्न-फाधा मा अड़िने आती यहती हं । स्जस कायण उस व्मत्रि का फनने वारा कामा फनते-फनतेआधे भं ही रुक जाते हं । इससरए इस मोग को ज्मोसतष शास्त्र भं एक अशुब मोग भाना जाता हं ।
  • 36. 36 पयवयी 2013ग्रहण मोग का सनभााणग्रहण मोग तफ फनता हं जफफक कण्डरी क फायह यासशमं भं से फकसी बी यासश भं सूमा अथवा िन्द्रभा क साथ याहु मा ु े ेकतु की मुसत हो तो ग्रहण मोग फनता हं अथवा मा फपय सूमा मा िन्द्रभा क घय भं याहु-कतु भं से कोई एक ग्रह े े ेस्स्थत हो तो बी ग्रहण मोग का सनभााण होता हं । ज्मोसतष क जानकायं का कथन हं की ग्रहण मोग स्जस बाव भं ेरगता हं उस बाव से सम्फस्न्धत त्रवषम भं मह अशुब प्रबाव डारता हं ।मफद आऩ इस मोग से ग्रससत हो औय ग्रहणमोग से सॊफॊसधत सभस्माएॊ आऩको ऩये शान कय यही हो, ग्रहण मोग सनवायणहे तु अन्म उऩामं को कयने भे आऩ असभथा हो मा आऩक ऩास त्रवसध-त्रवधान से ऩूजा-ऩाठ इत्माफद कयने का सभम नहीॊ ेहो तो आऩक सरऐ ग्रहण मोग सनवायण कवि राबकायी हो सकता हं । इस कवि को धायण कयने से ग्रहं का कप्रबाव े ुशाॊत होने रगता हं औय आऩकी ग्रहण मोग से सॊफॊसधत सभस्माओॊ का सनवायण हो जाता हं । क्मोफक इस कवि कासनभााण भुख्म रुऩ से ग्रहं क अशुब प्रबावं को कभ कयने औय शुब प्रबावं भं वृत्रद्ध क उद्दे श्म से फकमा जाता हं , े ेइससरए आऩ इससे त्रवशेष राब की प्रासद्ऱ कय सकते हं । भूल्म भाि: 1450भाॊगसरक मोग सनवायण कविMagalik Yog Nivaran Kawachजन्भ रग्न से प्रथभ, फद्रतीम, ितुथ, सद्ऱभ, अष्टभ मा द्रादश स्थान भे भॊगर स्स्थत होने ऩय भॊगर दोष मा कज दोष ा ुअथाात भाॊगसरक मोग का सनभााण होता हं । कछ आिामं क अनुसाय रग्न क असतरयि भॊगरी दोष िन्द्र रग्न, शुक्र ु े ेमा सद्ऱभेश से इन्हीॊ स्थानो भं भॊगर स्स्थत होने ऩय बी होता हं । शास्त्रोि भान्मता क अनुशाय भॊगरी मोग वैवाफहक ेजीवन को त्रवसबन्न प्रकाय से प्रबात्रवत कयता हं , त्रववाह भे त्रवघ्न, त्रवरम्फ, व्मवधान मा धोखा, त्रववाहोऩयान्त दम्ऩसत भेसे फकसी एक अथवा दोनाको शायीरयक, भानससक अथवा आसथाक कष्ट, ऩायस्ऩरयक भन-भुटाव, वाद-त्रववाद तथा त्रववाह-त्रवच्छे द। अगय दोष अत्मसधक प्रफर हुआ तो दोना अथवा फकसी एक की भृत्मु का बम यहता हं । कडरी भं मफद भॊगरी ुॊमोग हो तो उस्से बमबीत मा आतॊफकत नहीॊ होना िाफहमे। प्रमास मह कयना िाफहमे फक भॊगरी जातक का त्रववाहभॊगरी जातक से ही हो। मफद भाॊगसरक मोग क कायण त्रववाह भं त्रवरॊफ हो, मा त्रववाह क ऩिमात ऻात हो की दोनो े ेभं से एक भाॊगसरक हं तो भाॊगसरक मोग सनवायण कवि को धायण कयने से त्रववाह सॊफॊसधत सभस्माओॊ का सनवायणहोता हं । भूल्म भाि: 1450ससद्ध सूमा कविSiddha Surya Kawachससद्ध सूमा कवि को धायण कयने से सूमा ग्रह से सॊफॊसधत ऩीड़ाएॊ शाॊत होती हं । सूमा क अशुब प्रबाव दय हो कय शुब े ूप्रबावं भं वृत्रद्ध होती हं । भूल्म भाि: 550ससद्ध िॊद्र कविSiddha Chandra Kawachससद्ध िॊद्र कवि को धायण कयने से िॊद्र ग्रह से सॊफॊसधत ऩीड़ाएॊ शाॊत होती हं । िॊद्र क अशुब प्रबाव दय हो कय शुब े ूप्रबावं भं वृत्रद्ध होती हं । भूल्म भाि: 550
  • 37. 37 पयवयी 2013ससद्ध भॊगर कविSiddha Mangal Kawachससद्ध भॊगर कवि को धायण कयने से भॊगर ग्रह से सॊफॊसधत ऩीड़ाएॊ शाॊत होती हं । भॊगर क अशुब प्रबाव दय हो कय े ूशुब प्रबावं भं वृत्रद्ध होती हं । (ससद्ध भॊगर कवि औय भाॊगसरक मोग सनवायण कवि दोनं क कामा अरग-अरग हं ।) े भूल्म भाि: 550ससद्ध फुध कविSiddha Bhudha Kawachससद्ध फुध कवि को धायण कयने से फुध ग्रह से सॊफॊसधत ऩीड़ाएॊ शाॊत होती हं । फुध क अशुब प्रबाव दय हो कय शुब े ूप्रबावं भं वृत्रद्ध होती हं । भूल्म भाि: 550ससद्ध गुरु कवि (फृहस्ऩसत)Siddha Guru (Bruhaspati) Kawachससद्ध गुरु कवि को धायण कयने से गुरु ग्रह से सॊफॊसधत ऩीड़ाएॊ शाॊत होती हं । गुरु क अशुब प्रबाव दय हो कय शुब े ूप्रबावं भं वृत्रद्ध होती हं । भूल्म भाि: 550ससद्ध शुक्र कविSiddha Shukra Kawachससद्ध शुक्र कवि को धायण कयने से शुक्र ग्रह से सॊफॊसधत ऩीड़ाएॊ शाॊत होती हं । शुक्र क अशुब प्रबाव दय हो कय शुब े ूप्रबावं भं वृत्रद्ध होती हं । भूल्म भाि: 550ससद्ध शसन कविSiddha Shani Kawachससद्ध शसन कवि को धायण कयने से शसन ग्रह से सॊफॊसधत ऩीड़ाएॊ शाॊत होती हं । शसन क अशुब प्रबाव दय हो कय शुब े ूप्रबावं भं वृत्रद्ध होती हं । भूल्म भाि: 550ससद्ध याहु कविSiddha Rashu Kawachससद्ध याहु कवि को धायण कयने से याहु ग्रह से सॊफॊसधत ऩीड़ाएॊ शाॊत होती हं । याहु क अशुब प्रबाव दय हो कय शुब े ूप्रबावं भं वृत्रद्ध होती हं । भूल्म भाि: 550ससद्ध कतु कवि ेSiddha Ketu Kawachससद्ध कतु कवि को धायण कयने से कतु ग्रह से सॊफॊसधत ऩीड़ाएॊ शाॊत होती हं । कतु क अशुब प्रबाव दय हो कय शुब े े े े ूप्रबावं भं वृत्रद्ध होती हं । भूल्म भाि: 550
  • 38. 38 पयवयी 2013 हभाये त्रवशेष मॊिव्माऩाय वृत्रद्ध मॊि: हभाये अनुबवं क अनुशाय मह मॊि व्माऩाय वृत्रद्ध एवॊ ऩरयवाय भं सुख सभृत्रद्ध हे तु त्रवशेष प्रबावशारी हं । ेबूसभराब मॊि: बूसभ, बवन, खेती से सॊफॊसधत व्मवसाम से जुड़े रोगं क सरए बूसभराब मॊि त्रवशेष राबकायी ससद्ध ेहुवा हं ।तॊि यऺा मॊि: फकसी शिु द्राया फकमे गमे भॊि-तॊि आफद क प्रबाव को दय कयने एवॊ बूत, प्रेत नज़य आफद फुयी शत्रिमं े ूसे यऺा हे तु त्रवशेष प्रबावशारी हं ।आकस्स्भक धन प्रासद्ऱ मॊि: अऩने नाभ क अनुशाय ही भनुष्म को आकस्स्भक धन प्रासद्ऱ हे तु परप्रद हं इस मॊि क े ेऩूजन से साधक को अप्रत्मासशत धन राब प्राद्ऱ होता हं । िाहे वह धन राब व्मवसाम से हो, नौकयी से हो, धन-सॊऩत्रत्तइत्माफद फकसी बी भाध्मभ से मह राब प्राद्ऱ हो सकता हं । हभाये वषं क अनुसॊधान एवॊ अनुबवं से हभने आकस्स्भक ेधन प्रासद्ऱ मॊि से शेमय ट्रे फडॊ ग, सोने-िाॊदी क व्माऩाय इत्माफद सॊफॊसधत ऺेि से जुडे रोगो को त्रवशेष रुऩ से आकस्स्भक ेधन राब प्राद्ऱ होते दे खा हं । आकस्स्भक धन प्रासद्ऱ मॊि से त्रवसबन्न स्रोत से धनराब बी सभर सकता हं ।ऩदौन्नसत मॊि: ऩदौन्नसत मॊि नौकयी ऩैसा रोगो क सरए राबप्रद हं । स्जन रोगं को अत्मासधक ऩरयश्रभ एवॊ श्रेष्ठ कामा ेकयने ऩय बी नौकयी भं उन्नसत अथाात प्रभोशन नहीॊ सभर यहा हो उनक सरए मह त्रवशेष राबप्रद हो सकता हं । ेयिेश्वयी मॊि: यिेश्वयी मॊि हीये -जवाहयात, यि ऩत्थय, सोना-िाॊदी, ज्वैरयी से सॊफॊसधत व्मवसाम से जुडे रोगं क सरए ेअसधक प्रबावी हं । शेय फाजाय भं सोने-िाॊदी जैसी फहुभूल्म धातुओॊ भं सनवेश कयने वारे रोगं क सरए बी त्रवशेष ेराबदाम हं ।बूसभ प्रासद्ऱ मॊि: जो रोग खेती, व्मवसाम मा सनवास स्थान हे तु उत्तभ बूसभ आफद प्राद्ऱ कयना िाहते हं , रेफकन उसकामा भं कोई ना कोई अड़िन मा फाधा-त्रवघ्न आते यहते हो स्जस कायण कामा ऩूणा नहीॊ हो यहा हो, तो उनक सरए ेबूसभ प्रासद्ऱ मॊि उत्तभ परप्रद हो सकता हं ।गृह प्रासद्ऱ मॊि: जो रोग स्वमॊ का घय, दकान, ओफपस, पैक्टयी आफद क सरए बवन प्राद्ऱ कयना िाहते हं । मथाथा ु ेप्रमासो क उऩयाॊत बी उनकी असबराषा ऩूणा नहीॊ हो ऩायही हो उनक सरए गृह प्रासद्ऱ मॊि त्रवशेष उऩमोगी ससद्ध हो सकता हं । े ेकरास धन यऺा मॊि: कैरास धन यऺा मॊि धन वृत्रद्ध एवॊ सुख सभृत्रद्ध हे तु त्रवशेष परदाम हं । ैआसथाक राब एवॊ सुख सभृत्रद्ध हे तु 19 दरब रक्ष्भी मॊि ु ा त्रवसबन्न रक्ष्भी मॊि श्री मॊि (रक्ष्भी मॊि) भहारक्ष्भमै फीज मॊि कनक धाया मॊि श्री मॊि (भॊि यफहत) भहारक्ष्भी फीसा मॊि वैबव रक्ष्भी मॊि (भहान ससत्रद्ध दामक श्री भहारक्ष्भी मॊि) श्री मॊि (सॊऩूणा भॊि सफहत) रक्ष्भी दामक ससद्ध फीसा मॊि श्री श्री मॊि (रसरता भहात्रिऩुय सुन्दमै श्री भहारक्ष्भमं श्री भहामॊि ) श्री मॊि (फीसा मॊि) रक्ष्भी दाता फीसा मॊि अॊकात्भक फीसा मॊि श्री मॊि श्री सूि मॊि रक्ष्भी फीसा मॊि ज्मेष्ठा रक्ष्भी भॊि ऩूजन मॊि श्री मॊि (कभा ऩृष्ठीम) ु रक्ष्भी गणेश मॊि धनदा मॊि GURUTVA KARYALAY :Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785
  • 39. 39 पयवयी 2013 सवाससत्रद्धदामक भुफद्रकाइस भुफद्रका भं भूॊगे को शुब भुहूता भं त्रिधातु (सुवणा+यजत+ताॊफ) भं जड़वा कय उसे शास्त्रोि त्रवसध- ंत्रवधान से त्रवसशष्ट तेजस्वी भॊिो द्राया सवाससत्रद्धदामक फनाने हे तु प्राण-प्रसतत्रष्ठत एवॊ ऩूणा िैतन्म मुि फकमाजाता हं । इस भुफद्रका को फकसी बी वगा क व्मत्रि हाथ की फकसी बी उॊ गरी भं धायण कय सकते हं । ेमहॊ भुफद्रका कबी फकसी बी स्स्थती भं अऩत्रवि नहीॊ होती। इस सरए कबी भुफद्रका को उतायने कीआवश्मिा नहीॊ हं । इसे धायण कयने से व्मत्रि की सभस्माओॊ का सभाधान होने रगता हं । धायणकतााको जीवन भं सपरता प्रासद्ऱ एवॊ उन्नसत क नमे भागा प्रसस्त होते यहते हं औय जीवन भं सबी प्रकाय ेकी ससत्रद्धमाॊ बी शीध्र प्राद्ऱ होती हं । भूल्म भाि- 6400/-(नोट: इस भुफद्रका को धायण कयने से भॊगर ग्रह का कोई फुया प्रबाव साधक ऩय नहीॊ होता हं ।)सवाससत्रद्धदामक भुफद्रका क त्रवषम भं असधक जानकायी क सरमे हे तु सम्ऩक कयं । े े ा ऩसत-ऩिी भं करह सनवायण हे तुमफद ऩरयवायं भं सुख-सुत्रवधा क सभस्त साधान होते हुए बी छोटी-छोटी फातो भं ऩसत-ऩिी क त्रफि भे करह होता यहता हं , े ेतो घय क स्जतने सदस्म हो उन सफक नाभ से गुरुत्व कामाारत द्राया शास्त्रोि त्रवसध-त्रवधान से भॊि ससद्ध प्राण-प्रसतत्रष्ठत े ेऩूणा िैतन्म मुि वशीकयण कवि एवॊ गृह करह नाशक फडब्फी फनवारे एवॊ उसे अऩने घय भं त्रफना फकसी ऩूजा, त्रवसध-त्रवधान से आऩ त्रवशेष राब प्राद्ऱ कय सकते हं । मफद आऩ भॊि ससद्ध ऩसत वशीकयण मा ऩिी वशीकयण एवॊ गृह करहनाशक फडब्फी फनवाना िाहते हं , तो सॊऩक आऩ कय सकते हं । ा 100 से असधक जैन मॊि हभाये महाॊ जैन धभा क सबी प्रभुख, दरब एवॊ शीघ्र प्रबावशारी मॊि ताम्र ऩि, े ु ा ससरवय (िाॊदी) ओय गोल्ड (सोने) भे उऩरब्ध हं ।हभाये महाॊ सबी प्रकाय क मॊि कोऩय ताम्र ऩि, ससरवय (िाॊदी) ओय गोल्ड (सोने) भे फनवाए जाते है । इसक े ेअरावा आऩकी आवश्मकता अनुशाय आऩक द्राया प्राद्ऱ (सिि, मॊि, फड़ज़ाईन) क अनुरुऩ मॊि बी फनवाए े ेजाते है . गुरुत्व कामाारम द्राया उऩरब्ध कयामे गमे सबी मॊि अखॊफडत एवॊ 22 गेज शुद्ध कोऩय(ताम्रऩि)- 99.99 टि शुद्ध ससरवय (िाॊदी) एवॊ 22 कये ट गोल्ड (सोने) भे फनवाए जाते है । मॊि क त्रवषम भे े ेअसधक जानकायी क सरमे हे तु सम्ऩक कयं । े ा GURUTVA KARYALAY Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785 Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com, gurutva_karyalay@yahoo.in, Visit Us: www.gurutvakaryalay.com www.gurutvakaryalay.com and http://gurutvakaryalay.blogspot.com/
  • 40. 40 पयवयी 2013 द्रादश भहा मॊिमॊि को असत प्रासिन एवॊ दरब मॊिो क सॊकरन से हभाये वषो क अनुसॊधान ु ा े ेद्राया फनामा गमा हं ।  ऩयभ दरब वशीकयण मॊि, ु ा  सहस्त्राऺी रक्ष्भी आफद्ध मॊि  बाग्मोदम मॊि  आकस्स्भक धन प्रासद्ऱ मॊि  भनोवाॊसछत कामा ससत्रद्ध मॊि  ऩूणा ऩौरुष प्रासद्ऱ काभदे व मॊि  याज्म फाधा सनवृत्रत्त मॊि  योग सनवृत्रत्त मॊि  गृहस्थ सुख मॊि  साधना ससत्रद्ध मॊि  शीघ्र त्रववाह सॊऩन्न गौयी अनॊग मॊि  शिु दभन मॊिउऩयोि सबी मॊिो को द्रादश भहा मॊि क रुऩ भं शास्त्रोि त्रवसध-त्रवधान से भॊि ससद्ध ऩूणा ेप्राणप्रसतत्रष्ठत एवॊ िैतन्म मुि फकमे जाते हं । स्जसे स्थाऩीत कय त्रफना फकसी ऩूजा अिाना-त्रवसध त्रवधान त्रवशेष राब प्राद्ऱ कय सकते हं ।  क्मा आऩक फच्िे कसॊगती क सशकाय हं ? े ु े  क्मा आऩक फच्िे आऩका कहना नहीॊ भान यहे हं ? े  क्मा आऩक फच्िे घय भं अशाॊसत ऩैदा कय यहे हं ? े ु ुघय ऩरयवाय भं शाॊसत एवॊ फच्िे को कसॊगती से छडाने हे तु फच्िे क नाभ से गुरुत्व कामाारत ेद्राया शास्त्रोि त्रवसध-त्रवधान से भॊि ससद्ध प्राण-प्रसतत्रष्ठत ऩूणा िैतन्म मुि वशीकयण कवि एवॊएस.एन.फडब्फी फनवारे एवॊ उसे अऩने घय भं स्थात्रऩत कय अल्ऩ ऩूजा, त्रवसध-त्रवधान से आऩत्रवशेष राब प्राद्ऱ कय सकते हं । मफद आऩ तो आऩ भॊि ससद्ध वशीकयण कवि एवॊ एस.एन.फडब्फीफनवाना िाहते हं , तो सॊऩक इस कय सकते हं । ा GURUTVA KARYALAY 92/3. BANK COLONY, BRAHMESHWAR PATNA, BHUBNESWAR-751018, (ORISSA), Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785 Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com, gurutva_karyalay@yahoo.in,
  • 41. 41 पयवयी 2013 Buy and View Product OnlineVisit. www.gurutvakaryalay.com
  • 42. 42 पयवयी 2013 Buy and View Product OnlineVisit. www.gurutvakaryalay.com
  • 43. 43 पयवयी 2013 सॊऩूणा प्राणप्रसतत्रष्ठत 22 गेज शुद्ध स्टीर भं सनसभात अखॊफडत ऩुरुषाकाय शसन मॊिऩुरुषाकाय शसन मॊि (स्टीर भं) को तीव्र प्रबावशारी फनाने हे तु शसन की कायक धातु शुद्ध स्टीर(रोहे )भं फनामा गमा हं । स्जस क प्रबाव से साधक को तत्कार राब प्राद्ऱ होता हं । मफद जन्भ कडरी भं े ॊुशसन प्रसतकर होने ऩय व्मत्रि को अनेक कामं भं असपरता प्राद्ऱ होती है , कबी व्मवसाम भं घटा, ूनौकयी भं ऩये शानी, वाहन दघटना, गृह क्रेश आफद ऩये शानीमाॊ फढ़ती जाती है ऐसी स्स्थसतमं भं ु ाप्राणप्रसतत्रष्ठत ग्रह ऩीड़ा सनवायक शसन मॊि की अऩने को व्मऩाय स्थान मा घय भं स्थाऩना कयने सेअनेक राब सभरते हं । मफद शसन की ढै ़मा मा साढ़े साती का सभम हो तो इसे अवश्म ऩूजना िाफहए।शसनमॊि क ऩूजन भाि से व्मत्रि को भृत्मु, कजा, कोटा कश, जोडो का ददा , फात योग तथा रम्फे सभम े ेक सबी प्रकाय क योग से ऩये शान व्मत्रि क सरमे शसन मॊि असधक राबकायी होगा। नौकयी ऩेशा आफद े े ेक रोगं को ऩदौन्नसत बी शसन द्राया ही सभरती है अत् मह मॊि असत उऩमोगी मॊि है स्जसक द्राया े ेशीघ्र ही राब ऩामा जा सकता है । भूल्म: 1050 से 8200 सॊऩूणा प्राणप्रसतत्रष्ठत 22 गेज शुद्ध स्टीर भं सनसभात अखॊफडत शसन तैसतसा मॊिशसनग्रह से सॊफॊसधत ऩीडा क सनवायण हे तु त्रवशेष राबकायी मॊि। े भूल्म: 550 से 8200 GURUTVA KARYALAY 92/3. BANK COLONY, BRAHMESHWAR PATNA, BHUBNESWAR-751018, (ORISSA) Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785 Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com, gurutva_karyalay@yahoo.in, Our Website:- www.gurutvakaryalay.com and http://gurutvakaryalay.blogspot.com/
  • 44. 44 पयवयी 2013 नवयि जफड़त श्री मॊि शास्त्र विन क अनुसाय शुद्ध सुवणा मा यजत े भं सनसभात श्री मॊि क िायं औय मफद नवयि े जड़वा ने ऩय मह नवयि जफड़त श्री मॊि कहराता हं । सबी यिो को उसक सनस्ित े स्थान ऩय जड़ कय रॉकट क रूऩ भं धायण े े कयने से व्मत्रि को अनॊत एश्वमा एवॊ रक्ष्भी की प्रासद्ऱ होती हं । व्मत्रि को एसा आबास होता हं जैसे भाॊ रक्ष्भी उसक साथ हं । े नवग्रह को श्री मॊि क साथ रगाने से ग्रहं े की अशुब दशा का धायणकयने वारे व्मत्रि ऩय प्रबाव नहीॊ होता हं ।गरे भं होने क कायण मॊि ऩत्रवि यहता हं एवॊ स्नान कयते सभम इस मॊि ऩय स्ऩशा कय जो ेजर त्रफॊद ु शयीय को रगते हं , वह गॊगा जर क सभान ऩत्रवि होता हं । इस सरमे इसे सफसे ेतेजस्वी एवॊ परदासम कहजाता हं । जैसे अभृत से उत्तभ कोई औषसध नहीॊ, उसी प्रकाय रक्ष्भीप्रासद्ऱ क सरमे श्री मॊि से उत्तभ कोई मॊि सॊसाय भं नहीॊ हं एसा शास्त्रोि विन हं । इस प्रकाय क े ेनवयि जफड़त श्री मॊि गुरूत्व कामाारम द्राया शुब भुहूता भं प्राण प्रसतत्रष्ठत कयक फनावाए जाते ेहं । Rs: 2350, 2800, 3250, 3700, 4600, 5500 से 10,900 तकअसधक जानकायी हे तु सॊऩक कयं । ा GURUTVA KARYALAY 92/3BANK COLONY, BRAHMESHWAR PATNA, BHUBNESWAR-751018, (ORISSA) Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785 Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com, gurutva_karyalay@yahoo.in,
  • 45. 45 पयवयी 2013 भॊि ससद्ध वाहन दघटना नाशक भारुसत मॊि ु ा ऩौयास्णक ग्रॊथो भं उल्रेख हं की भहाबायत क मुद्ध क सभम अजुन क यथ क अग्रबाग ऩय भारुसत ध्वज एवॊ े े ा े ेभारुसत मन्ि रगा हुआ था। इसी मॊि क प्रबाव क कायण सॊऩूणा मुद्ध क दौयान हज़ायं-राखं प्रकाय क आग्नेम अस्त्र- े े े ेशस्त्रं का प्रहाय होने क फाद बी अजुन का यथ जया बी ऺसतग्रस्त नहीॊ हुआ। बगवान श्री कृ ष्ण भारुसत मॊि क इस े ा ेअभत यहस्म को जानते थे फक स्जस यथ मा वाहन की यऺा स्वमॊ श्री भारुसत नॊदन कयते हं, वह दघटनाग्रस्त कसे हो ु ु ा ैसकता हं । वह यथ मा वाहन तो वामुवेग से, सनफाासधत रुऩ से अऩने रक्ष्म ऩय त्रवजम ऩतका रहयाता हुआ ऩहुॊिेगा।इसी सरमे श्री कृ ष्ण नं अजुन क यथ ऩय श्री भारुसत मॊि को अॊफकत कयवामा था। ा े स्जन रोगं क स्कटय, काय, फस, ट्रक इत्माफद वाहन फाय-फाय दघटना ग्रस्त हो यहे हो!, अनावश्मक वाहन को े ू ु ानुऺान हो यहा हं! उन्हं हानी एवॊ दघटना से यऺा क उद्दे श्म से अऩने वाहन ऩय भॊि ससद्ध श्री भारुसत मॊि अवश्म ु ा ेरगाना िाफहए। जो रोग ट्रान्स्ऩोफटं ग (ऩरयवहन) क व्मवसाम से जुडे हं उनको श्रीभारुसत मॊि को अऩने वाहन भं अवश्म ेस्थात्रऩत कयना िाफहए, क्मोफक, इसी व्मवसाम से जुडे सैकडं रोगं का अनुबव यहा हं की श्री भारुसत मॊि को स्थात्रऩतकयने से उनक वाहन असधक फदन तक अनावश्मक खिो से एवॊ दघटनाओॊ से सुयस्ऺत यहे हं । हभाया स्वमॊका एवॊ अन्म े ु ात्रवद्रानो का अनुबव यहा हं , की स्जन रोगं ने श्री भारुसत मॊि अऩने वाहन ऩय रगामा हं , उन रोगं क वाहन फडी से ेफडी दघटनाओॊ से सुयस्ऺत यहते हं । उनक वाहनो को कोई त्रवशेष नुक्शान इत्माफद नहीॊ होता हं औय नाहीॊ अनावश्मक ु ा ेरुऩ से उसभं खयाफी आसत हं ।वास्तु प्रमोग भं भारुसत मॊि: मह भारुसत नॊदन श्री हनुभान जी का मॊि है । मफद कोई जभीन त्रफक नहीॊ यही हो, मा उसऩय कोई वाद-त्रववाद हो, तो इच्छा क अनुरूऩ वहॉ जभीन उसित भूल्म ऩय त्रफक जामे इस सरमे इस भारुसत मॊि का ेप्रमोग फकमा जा सकता हं । इस भारुसत मॊि क प्रमोग से जभीन शीघ्र त्रफक जाएगी मा त्रववादभुि हो जाएगी। इस सरमे ेमह मॊि दोहयी शत्रि से मुि है ।भारुसत मॊि क त्रवषम भं असधक जानकायी क सरमे गुरुत्व कामाारम भं सॊऩक कयं । भूल्म Rs- 255 से 10900 तक े े ाश्री हनुभान मॊि शास्त्रं भं उल्रेख हं की श्री हनुभान जी को बगवान सूमदेव ने ब्रह्मा जी क आदे श ऩय हनुभान ा ेजी को अऩने तेज का सौवाॉ बाग प्रदान कयते हुए आशीवााद प्रदान फकमा था, फक भं हनुभान को सबी शास्त्र का ऩूणाऻान दॉ गा। स्जससे मह तीनोरोक भं सवा श्रेष्ठ विा हंगे तथा शास्त्र त्रवद्या भं इन्हं भहायत हाससर होगी औय इनक ू ेसभन फरशारी औय कोई नहीॊ होगा। जानकायो ने भतानुशाय हनुभान मॊि की आयाधना से ऩुरुषं की त्रवसबन्न फीभारयमंदय होती हं , इस मॊि भं अभत शत्रि सभाफहत होने क कायण व्मत्रि की स्वप्न दोष, धातु योग, यि दोष, वीमा दोष, भूछाा, ू ु ेनऩुॊसकता इत्माफद अनेक प्रकाय क दोषो को दय कयने भं अत्मन्त राबकायी हं । अथाात मह मॊि ऩौरुष को ऩुष्ट कयता े ूहं । श्री हनुभान मॊि व्मत्रि को सॊकट, वाद-त्रववाद, बूत-प्रेत, द्यूत फक्रमा, त्रवषबम, िोय बम, याज्म बम, भायण, सम्भोहनस्तॊबन इत्माफद से सॊकटो से यऺा कयता हं औय ससत्रद्ध प्रदान कयने भं सऺभ हं ।श्री हनुभान मॊि क त्रवषम भं असधक जानकायी क सरमे गुरुत्व कामाारम भं सॊऩक कयं । भूल्म Rs- 730 से 10900 तक े े ा GURUTVA KARYALAY 92/3. BANK COLONY, BRAHMESHWAR PATNA, BHUBNESWAR-751018, (ORISSA), Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785 Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com, gurutva_karyalay@yahoo.in,
  • 46. 46 पयवयी 2013 त्रवसबन्न दे वताओॊ क मॊि ेगणेश मॊि भहाभृत्मुजम मॊि ॊ याभ यऺा मॊि याजगणेश मॊि (सॊऩणा फीज भॊि सफहत) ू भहाभृत्मुजम कवि मॊि ॊ याभ मॊिगणेश ससद्ध मॊि भहाभृत्मुजम ऩूजन मॊि ॊ द्रादशाऺय त्रवष्णु भॊि ऩूजन मॊिएकाऺय गणऩसत मॊि भहाभृत्मुॊजम मुि सशव खप्ऩय भाहा सशव मॊि त्रवष्णु फीसा मॊिहरयद्रा गणेश मॊि सशव ऩॊिाऺयी मॊि गरुड ऩूजन मॊिकफेय मॊि ु सशव मॊि सिॊताभणी मॊि याजश्री द्रादशाऺयी रुद्र ऩूजन मॊि अफद्रतीम सवाकाम्म ससत्रद्ध सशव मॊि सिॊताभणी मॊिदत्तािम मॊि नृससॊह ऩूजन मॊि स्वणााकषाणा बैयव मॊिदत्त मॊि ऩॊिदे व मॊि हनुभान ऩूजन मॊिआऩदद्धायण फटु क बैयव मॊि ु सॊतान गोऩार मॊि हनुभान मॊिफटु क मॊि श्री कृ ष्ण अष्टाऺयी भॊि ऩूजन मॊि सॊकट भोिन मॊिव्मॊकटे श मॊि कृ ष्ण फीसा मॊि वीय साधन ऩूजन मॊिकातावीमााजन ऩूजन मॊि ुा सवा काभ प्रद बैयव मॊि दस्ऺणाभूसता ध्मानभ ् मॊि भनोकाभना ऩूसता एवॊ कष्ट सनवायण हे तु त्रवशेष मॊिव्माऩाय वृत्रद्ध कायक मॊि अभृत तत्व सॊजीवनी कामा कल्ऩ मॊि िम ताऩंसे भुत्रि दाता फीसा मॊिव्माऩाय वृत्रद्ध मॊि त्रवजमयाज ऩॊिदशी मॊि भधुभेह सनवायक मॊिव्माऩाय वधाक मॊि त्रवद्यामश त्रवबूसत याज सम्भान प्रद ससद्ध फीसा मॊि ज्वय सनवायण मॊिव्माऩायोन्नसत कायी ससद्ध मॊि सम्भान दामक मॊि योग कष्ट दरयद्रता नाशक मॊिबाग्म वधाक मॊि सुख शाॊसत दामक मॊि योग सनवायक मॊिस्वस्स्तक मॊि फारा मॊि तनाव भुि फीसा मॊिसवा कामा फीसा मॊि फारा यऺा मॊि त्रवद्युत भानस मॊिकामा ससत्रद्ध मॊि गबा स्तम्बन मॊि गृह करह नाशक मॊिसुख सभृत्रद्ध मॊि ऩुि प्रासद्ऱ मॊि करेश हयण फत्रत्तसा मॊिसवा रयत्रद्ध ससत्रद्ध प्रद मॊि प्रसूता बम नाशक मॊि वशीकयण मॊिसवा सुख दामक ऩंसफठमा मॊि प्रसव-कष्टनाशक ऩॊिदशी मॊि भोफहसन वशीकयण मॊिऋत्रद्ध ससत्रद्ध दाता मॊि शाॊसत गोऩार मॊि कणा त्रऩशािनी वशीकयण मॊिसवा ससत्रद्ध मॊि त्रिशूर फीशा मॊि वाताारी स्तम्बन मॊिसाफय ससत्रद्ध मॊि ऩॊिदशी मॊि (फीसा मॊि मुि िायं प्रकायक) े वास्तु मॊिशाफयी मॊि फेकायी सनवायण मॊि श्री भत्स्म मॊिससद्धाश्रभ मॊि षोडशी मॊि वाहन दघटना नाशक मॊि ु ाज्मोसतष तॊि ऻान त्रवऻान प्रद ससद्ध फीसा मॊि अडसफठमा मॊि प्रेत-फाधा नाशक मॊिब्रह्माण्ड साफय ससत्रद्ध मॊि अस्सीमा मॊि बूतादी व्मासधहयण मॊिकण्डसरनी ससत्रद्ध मॊि ु ऋत्रद्ध कायक मॊि कष्ट सनवायक ससत्रद्ध फीसा मॊिक्रास्न्त औय श्रीवधाक िंतीसा मॊि भन वाॊसछत कन्मा प्रासद्ऱ मॊि बम नाशक मॊिश्री ऺेभ कल्माणी ससत्रद्ध भहा मॊि त्रववाहकय मॊि स्वप्न बम सनवायक मॊि
  • 47. 47 पयवयी 2013ऻान दाता भहा मॊि रग्न त्रवघ्न सनवायक मॊि कदृत्रष्ट नाशक मॊि ुकामा कल्ऩ मॊि रग्न मोग मॊि श्री शिु ऩयाबव मॊिदीधाामु अभृत तत्व सॊजीवनी मॊि दरयद्रता त्रवनाशक मॊि शिु दभनाणाव ऩूजन मॊि भॊि ससद्ध त्रवशेष दै वी मॊि सूसिआद्य शत्रि दगाा फीसा मॊि (अॊफाजी फीसा मॊि) ु सयस्वती मॊिभहान शत्रि दगाा मॊि (अॊफाजी मॊि) ु सद्ऱसती भहामॊि(सॊऩणा फीज भॊि सफहत) ूनव दगाा मॊि ु कारी मॊिनवाणा मॊि (िाभुडा मॊि) ॊ श्भशान कारी ऩूजन मॊिनवाणा फीसा मॊि दस्ऺण कारी ऩूजन मॊििाभुडा फीसा मॊि ( नवग्रह मुि) ॊ सॊकट भोसिनी कासरका ससत्रद्ध मॊित्रिशूर फीसा मॊि खोफडमाय मॊिफगरा भुखी मॊि खोफडमाय फीसा मॊिफगरा भुखी ऩूजन मॊि अन्नऩूणाा ऩूजा मॊियाज याजेश्वयी वाॊछा कल्ऩरता मॊि एकाॊऺी श्रीपर मॊि भॊि ससद्ध त्रवशेष रक्ष्भी मॊि सूसिश्री मॊि (रक्ष्भी मॊि) भहारक्ष्भमै फीज मॊिश्री मॊि (भॊि यफहत) भहारक्ष्भी फीसा मॊिश्री मॊि (सॊऩणा भॊि सफहत) ू रक्ष्भी दामक ससद्ध फीसा मॊिश्री मॊि (फीसा मॊि) रक्ष्भी दाता फीसा मॊिश्री मॊि श्री सूि मॊि रक्ष्भी गणेश मॊिश्री मॊि (कभा ऩृष्ठीम) ु ज्मेष्ठा रक्ष्भी भॊि ऩूजन मॊिरक्ष्भी फीसा मॊि कनक धाया मॊिश्री श्री मॊि (श्रीश्री रसरता भहात्रिऩुय सुन्दमै श्री भहारक्ष्भमं श्री भहामॊि) वैबव रक्ष्भी मॊि (भहान ससत्रद्ध दामक श्री भहारक्ष्भी मॊि)अॊकात्भक फीसा मॊि ताम्र ऩि ऩय सुवणा ऩोरीस ताम्र ऩि ऩय यजत ऩोरीस ताम्र ऩि ऩय (Gold Plated) (Silver Plated) (Copper) साईज भूल्म साईज भूल्म साईज भूल्म 1” X 1” 460 1” X 1” 370 1” X 1” 255 2” X 2” 820 2” X 2” 640 2” X 2” 460 3” X 3” 1650 3” X 3” 1090 3” X 3” 730 4” X 4” 2350 4” X 4” 1650 4” X 4” 1090 6” X 6” 3600 6” X 6” 2800 6” X 6” 1900 9” X 9” 6400 9” X 9” 5100 9” X 9” 3250 12” X12” 10800 12” X12” 8200 12” X12” 6400मॊि क त्रवषम भं असधक जानकायी हे तु सॊऩक कयं । े ा GURUTVA KARYALAY Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785 Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com, gurutva_karyalay@yahoo.in, Our Website:- www.gurutvakaryalay.com and http://gurutvakaryalay.blogspot.com/
  • 48. 48 पयवयी 2013 यासश यि भेष यासश: वृषब यासश: सभथुन यासश: कक यासश: ा ससॊह यासश: कन्मा यासश: भूगा ॊ हीया ऩन्ना भोती भाणेक ऩन्ना Red Coral Diamond Green Emerald Naturel Pearl Ruby Green Emerald (Special) (Special) (Old Berma) (Special) (Special) (Special) (Special) 5.25" Rs. 1050 10 cent Rs. 4100 5.25" Rs. 9100 5.25" Rs. 910 2.25" Rs. 12500 5.25" Rs. 9100 6.25" Rs. 1250 20 cent Rs. 8200 6.25" Rs. 12500 6.25" Rs. 1250 3.25" Rs. 15500 6.25" Rs. 12500 7.25" Rs. 1450 30 cent Rs. 12500 7.25" Rs. 14500 7.25" Rs. 1450 4.25" Rs. 28000 7.25" Rs. 14500 8.25" Rs. 1800 40 cent Rs. 18500 8.25" Rs. 19000 8.25" Rs. 1900 5.25" Rs. 46000 8.25" Rs. 19000 9.25" Rs. 2100 50 cent Rs. 23500 9.25" Rs. 23000 9.25" Rs. 2300 6.25" Rs. 82000 9.25" Rs. 23000 10.25" Rs. 2800 10.25" Rs. 28000 10.25" Rs. 2800 10.25" Rs. 28000 All Diamond are Full ** All Weight In Rati ** All Weight In Rati ** All Weight In Rati ** All Weight In Rati ** All Weight In Rati White Colour. तुरा यासश: वृस्िक यासश: धनु यासश: भकय यासश: कब यासश: ॊु भीन यासश: हीया भूगा ॊ ऩुखयाज नीरभ नीरभ ऩुखयाज Diamond Red Coral Y.Sapphire B.Sapphire B.Sapphire Y.Sapphire (Special) (Special) (Special) (Special) (Special) (Special)10 cent Rs. 4100 5.25" Rs. 1050 5.25" Rs. 30000 5.25" Rs. 30000 5.25" Rs. 30000 5.25" Rs. 3000020 cent Rs. 8200 6.25" Rs. 1250 6.25" Rs. 37000 6.25" Rs. 37000 6.25" Rs. 37000 6.25" Rs. 3700030 cent Rs. 12500 7.25" Rs. 1450 7.25" Rs. 55000 7.25" Rs. 55000 7.25" Rs. 55000 7.25" Rs. 5500040 cent Rs. 18500 8.25" Rs. 1800 8.25" Rs. 73000 8.25" Rs. 73000 8.25" Rs. 73000 8.25" Rs. 7300050 cent Rs. 23500 9.25" Rs. 2100 9.25" Rs. 91000 9.25" Rs. 91000 9.25" Rs. 91000 9.25" Rs. 91000 10.25" Rs. 2800 10.25" Rs.108000 10.25" Rs.108000 10.25" Rs.108000 10.25" Rs.108000 All Diamond are Full ** All Weight In Rati ** All Weight In Rati ** All Weight In Rati ** All Weight In Rati ** All Weight In Rati White Colour.* उऩमोि वजन औय भूल्म से असधक औय कभ वजन औय भूल्म क यि एवॊ उऩयि बी हभाये महा व्माऩायी भूल्म ऩय उप्रब्ध ेहं । GURUTVA KARYALAY 92/3. BANK COLONY, BRAHMESHWAR PATNA, BHUBNESWAR-751018, (ORISSA) Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785 Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com, gurutva_karyalay@yahoo.in,
  • 49. 49 पयवयी 2013 भॊि ससद्ध रूद्राऺ Rate In Rate In Rudraksh List Rudraksh List Indian Rupee Indian Rupeeएकभुखी रूद्राऺ (इन्डोनेसशमा) 2800, 5500 आठ भुखी रूद्राऺ (नेऩार) 1250, 1450 1050, 1250,एकभुखी रूद्राऺ (नेऩार) आठ भुखी रूद्राऺ (इन्डोनेसशमा) - 1450दो भुखी रूद्राऺ (हरयद्राय, याभेश्वय) 30,50,75 नौ भुखी रूद्राऺ (नेऩार) 1250, 1450दो भुखी रूद्राऺ (नेऩार) 50,100, नौ भुखी रूद्राऺ (इन्डोनेसशमा) -दो भुखी रूद्राऺ (इन्डोनेसशमा) 450,1250 दस भुखी रूद्राऺ (नेऩार) 1450, 1900तीन भुखी रूद्राऺ (हरयद्राय, याभेश्वय) 30,50,75, दस भुखी रूद्राऺ (इन्डोनेसशमा) -तीन भुखी रूद्राऺ (नेऩार) 50,100, ग्मायह भुखी रूद्राऺ (नेऩार) 1900,तीन भुखी रूद्राऺ (इन्डोनेसशमा) 450,1250, ग्मायह भुखी रूद्राऺ (इन्डोनेसशमा) -िाय भुखी रूद्राऺ (हरयद्राय, याभेश्वय) 25,55,75, फायह भुखी रूद्राऺ (नेऩार) 2350, 2800िाय भुखी रूद्राऺ (नेऩार) 50,100, फायह भुखी रूद्राऺ (इन्डोनेसशमा) -ऩॊि भुखी रूद्राऺ (नेऩार) 25,55, तेयह भुखी रूद्राऺ (नेऩार) 5500, 6400ऩॊि भुखी रूद्राऺ (इन्डोनेसशमा) 225, 550, तेयह भुखी रूद्राऺ (इन्डोनेसशमा) -छह भुखी रूद्राऺ (हरयद्राय, याभेश्वय) 25,55,75, िौदह भुखी रूद्राऺ (नेऩार) 12500, 14500छह भुखी रूद्राऺ (नेऩार) 50,100, िौदह भुखी रूद्राऺ (इन्डोनेसशमा) -सात भुखी रूद्राऺ (हरयद्राय, याभेश्वय) 125, 190, 280 गौयीशॊकय रूद्राऺ 2350, 2800सात भुखी रूद्राऺ (नेऩार) 225, 450, गणेश रुद्राऺ (नेऩार) 730सात भुखी रूद्राऺ (इन्डोनेसशमा) - गणेश रूद्राऺ (इन्डोनेसशमा) - रुद्राऺ क त्रवषम भं असधक जानकायी हे तु सॊऩक कयं । े ा GURUTVA KARYALAY, 92/3. BANK COLONY, BRAHMESHWAR PATNA, BHUBNESWAR-751018, (ORISSA), Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785 Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com, gurutva_karyalay@yahoo.in, भॊि ससद्ध दरब साभग्री ु ा हत्था जोडी- Rs- 370 घोडे की नार- Rs.351 भामा जार- Rs- 251 ससमाय ससॊगी- Rs- 370 दस्ऺणावतॉ शॊख- Rs- 550 इन्द्र जार- Rs- 251 त्रफल्री नार- Rs- 370 भोसत शॊख- Rs- 550 धन वृत्रद्ध हकीक सेट Rs-251 GURUTVA KARYALAY Call Us: 91 + 9338213418, 91 + 9238328785, Email Us:- gurutva_karyalay@yahoo.in, gurutva.karyalay@gmail.com
  • 50. 50 पयवयी 2013 श्रीकृ ष्ण फीसा मॊि फकसी बी व्मत्रि का जीवन तफ आसान फन जाता हं जफ उसक िायं औय का भाहोर उसक अनुरुऩ उसक वश े े ेभं हं। जफ कोई व्मत्रि का आकषाण दसयो क उऩय एक िुम्फकीम प्रबाव डारता हं , तफ ु े रोग उसकी सहामता एवॊसेवा हे तु तत्ऩय होते है औय उसक प्राम् सबी कामा त्रफना असधक कष्ट व ऩये शानी से सॊऩन्न हो जाते हं । आज क े ेबौसतकता वाफद मुग भं हय व्मत्रि क सरमे दसयो को अऩनी औय खीिने हे तु एक प्रबावशासर िुफकत्व को कामभ े ू ॊयखना असत आवश्मक हो जाता हं । आऩका आकषाण औय व्मत्रित्व आऩक िायो ओय से रोगं को आकत्रषात कये इस ेसरमे सयर उऩाम हं , श्रीकृ ष्ण फीसा मॊि। क्मोफक बगवान श्री कृ ष्ण एक अरौफकव एवॊ फदवम िुॊफकीम व्मत्रित्व केधनी थे। इसी कायण से श्रीकृ ष्ण फीसा मॊि क ऩूजन एवॊ दशान से आकषाक व्मत्रित्व प्राद्ऱ होता हं । े श्रीकृ ष्ण फीसा मॊि क साथ व्मत्रिको दृढ़ इच्छा शत्रि एवॊ उजाा प्राद्ऱ ेहोती हं , स्जस्से व्मत्रि हभेशा एक बीड भं हभेशा आकषाण का कद्र यहता हं । ं श्रीकृ ष्ण फीसा कवि मफद फकसी व्मत्रि को अऩनी प्रसतबा व आत्भत्रवश्वास क स्तय भं वृत्रद्ध, ेअऩने सभिो व ऩरयवायजनो क त्रफि भं रयश्तो भं सुधाय कयने की ईच्छा होती े श्रीकृ ष्ण फीसा कवि को कवर ेहं उनक सरमे श्रीकृ ष्ण फीसा मॊि का ऩूजन एक सयर व सुरब भाध्मभ े त्रवशेष शुब भुहुता भं सनभााण फकमासात्रफत हो सकता हं । जाता हं । कवि को त्रवद्रान कभाकाॊडी श्रीकृ ष्ण फीसा मॊि ऩय अॊफकत शत्रिशारी त्रवशेष ये खाएॊ, फीज भॊि एवॊ ब्राहभणं द्राया शुब भुहुता भं शास्त्रोिअॊको से व्मत्रि को अद्द्भत आॊतरयक शत्रिमाॊ प्राद्ऱ होती हं जो व्मत्रि को त्रवसध-त्रवधान से त्रवसशष्ट तेजस्वी भॊिो ुसफसे आगे एवॊ सबी ऺेिो भं अग्रस्णम फनाने भं सहामक ससद्ध होती हं । द्राया ससद्ध प्राण-प्रसतत्रष्ठत ऩूणा िैतन्म श्रीकृ ष्ण फीसा मॊि क ऩूजन व सनमसभत दशान क भाध्मभ से बगवान े े मुि कयक सनभााण फकमा जाता हं । ेश्रीकृ ष्ण का आशीवााद प्राद्ऱ कय सभाज भं स्वमॊ का अफद्रतीम स्थान स्थात्रऩत कयं । स्जस क पर स्वरुऩ धायण कयता े श्रीकृ ष्ण फीसा मॊि अरौफकक ब्रह्माॊडीम उजाा का सॊिाय कयता हं , जो व्मत्रि को शीघ्र ऩूणा राब प्राद्ऱ होताएक प्राकृ त्रत्त भाध्मभ से व्मत्रि क बीतय सद्दबावना, सभृत्रद्ध, सपरता, उत्तभ े हं । कवि को गरे भं धायण कयनेस्वास्थ्म, मोग औय ध्मान क सरमे एक शत्रिशारी भाध्मभ हं ! े से वहॊ अत्मॊत प्रबाव शारी होता  श्रीकृ ष्ण फीसा मॊि क ऩूजन से व्मत्रि क साभास्जक भान-सम्भान व े े हं । गरे भं धायण कयने से कवि ऩद-प्रसतष्ठा भं वृत्रद्ध होती हं । हभेशा रृदम क ऩास यहता हं स्जस्से े  त्रवद्रानो क भतानुशाय श्रीकृ ष्ण फीसा मॊि क भध्मबाग ऩय ध्मान मोग े े व्मत्रि ऩय उसका राब असत तीव्र कफद्रत कयने से व्मत्रि फक िेतना शत्रि जाग्रत होकय शीघ्र उच्ि स्तय ं एवॊ शीघ्र ऻात होने रगता हं । को प्राद्ऱहोती हं । भूरम भाि: 1900  जो ऩुरुषं औय भफहरा अऩने साथी ऩय अऩना प्रबाव डारना िाहते हं औय उन्हं अऩनी औय आकत्रषात कयना िाहते हं । उनक सरमे श्रीकृ ष्ण फीसा मॊि उत्तभ उऩाम ससद्ध हो सकता हं । े  ऩसत-ऩिी भं आऩसी प्रभ की वृत्रद्ध औय सुखी दाम्ऩत्म जीवन क सरमे श्रीकृ ष्ण फीसा मॊि राबदामी होता हं । े भूल्म:- Rs. 730 से Rs. 10900 तक उप्रब्द्ध GURUTVA KARYALAY Call Us – 91 + 9338213418, 91 + 9238328785 Email Us:- gurutva_karyalay@yahoo.in, gurutva.karyalay@gmail.com
  • 51. 51 पयवयी 2013 याभ यऺा मॊियाभ यऺा मॊि सबी बम, फाधाओॊ से भुत्रि व कामो भं सपरता प्रासद्ऱ हे तु उत्तभ मॊि हं । स्जसक प्रमोग ेसे धन राब होता हं व व्मत्रि का सवांगी त्रवकाय होकय उसे सुख-सभृत्रद्ध, भानसम्भान की प्रासद्ऱ होतीहं । याभ यऺा मॊि सबी प्रकाय क अशुब प्रबाव को दय कय व्मत्रि को जीवन की सबी प्रकाय की े ूकफठनाइमं से यऺा कयता हं । त्रवद्रानो क भत से जो व्मत्रि बगवान याभ क बि हं मा श्री े ेहनुभानजी क बि हं उन्हं अऩने सनवास स्थान, व्मवसामीक स्थान ऩय याभ यऺा मॊि को अवश्म ेस्थाऩीत कयना िाफहमे स्जससे आने वारे सॊकटो से यऺा हो उनका जीवन सुखभम व्मतीत हो सकेएवॊ उनकी सभस्त आफद बौसतक व आध्मास्त्भक भनोकाभनाएॊ ऩूणा हो सक। े ताम्र ऩि ऩय सुवणा ऩोरीस ताम्र ऩि ऩय यजत ऩोरीस ताम्र ऩि ऩय (Gold Plated) (Silver Plated) (Copper) साईज भूल्म साईज भूल्म साईज भूल्म 1” X 1” 460 1” X 1” 370 1” X 1” 255 2” X 2” 820 2” X 2” 640 2” X 2” 460 3” X 3” 1650 3” X 3” 1090 3” X 3” 730 4” X 4” 2350 4” X 4” 1650 4” X 4” 1090 6” X 6” 3600 6” X 6” 2800 6” X 6” 1900 9” X 9” 6400 9” X 9” 5100 9” X 9” 3250 12” X12” 10800 12” X12” 8200 12” X12” 6400 GURUTVA KARYALAY 92/3. BANK COLONY, BRAHMESHWAR PATNA, BHUBNESWAR-751018, (ORISSA) Call Us – 91 + 9338213418, 91 + 9238328785 Email Us:- gurutva_karyalay@yahoo.in, gurutva.karyalay@gmail.com Our Website:- www.gurutvakaryalay.com and http://gurutvakaryalay.blogspot.com/
  • 52. 52 पयवयी 2013 जैन धभाक त्रवसशष्ट मॊिो की सूिी ेश्री िौफीस तीथंकयका भहान प्रबात्रवत िभत्कायी मॊि श्री एकाऺी नारयमेय मॊिश्री िोफीस तीथंकय मॊि सवातो बद्र मॊिकल्ऩवृऺ मॊि सवा सॊऩत्रत्तकय मॊिसिॊताभणी ऩाश्वानाथ मॊि सवाकामा-सवा भनोकाभना ससत्रद्धअ मॊि (१३० सवातोबद्र मॊि)सिॊताभणी मॊि (ऩंसफठमा मॊि) ऋत्रष भॊडर मॊिसिॊताभणी िक्र मॊि जगदवल्रब कय मॊिश्री िक्रश्वयी मॊि े ऋत्रद्ध ससत्रद्ध भनोकाभना भान सम्भान प्रासद्ऱ मॊिश्री घॊटाकणा भहावीय मॊि ऋत्रद्ध ससत्रद्ध सभृत्रद्ध दामक श्री भहारक्ष्भी मॊिश्री घॊटाकणा भहावीय सवा ससत्रद्ध भहामॊि त्रवषभ त्रवष सनग्रह कय मॊि(अनुबव ससद्ध सॊऩणा श्री घॊटाकणा भहावीय ऩतका मॊि) ूश्री ऩद्मावती मॊि ऺुद्रो ऩद्रव सननााशन मॊिश्री ऩद्मावती फीसा मॊि फृहच्िक्र मॊिश्री ऩाश्वाऩद्मावती र्ह्रींकाय मॊि वॊध्मा शब्दाऩह मॊिऩद्मावती व्माऩाय वृत्रद्ध मॊि भृतवत्सा दोष सनवायण मॊिश्री धयणेन्द्र ऩद्मावती मॊि काॊक वॊध्मादोष सनवायण मॊिश्री ऩाश्वानाथ ध्मान मॊि फारग्रह ऩीडा सनवायण मॊिश्री ऩाश्वानाथ प्रबुका मॊि रधुदेव कर मॊि ुबिाभय मॊि (गाथा नॊफय १ से ४४ तक) नवगाथात्भक उवसग्गहयॊ स्तोिका त्रवसशष्ट मॊिभस्णबद्र मॊि उवसग्गहयॊ मॊिश्री मॊि श्री ऩॊि भॊगर भहाश्रृत स्कध मॊि ॊश्री रक्ष्भी प्रासद्ऱ औय व्माऩाय वधाक मॊि र्ह्रीीॊकाय भम फीज भॊिश्री रक्ष्भीकय मॊि वधाभान त्रवद्या ऩट्ट मॊिरक्ष्भी प्रासद्ऱ मॊि त्रवद्या मॊिभहात्रवजम मॊि सौबाग्मकय मॊित्रवजमयाज मॊि डाफकनी, शाफकनी, बम सनवायक मॊित्रवजम ऩतका मॊि बूताफद सनग्रह कय मॊित्रवजम मॊि ज्वय सनग्रह कय मॊिससद्धिक्र भहामॊि शाफकनी सनग्रह कय मॊिदस्ऺण भुखाम शॊख मॊि आऩत्रत्त सनवायण मॊिदस्ऺण भुखाम मॊि शिुभख स्तॊबन मॊि ुमॊि क त्रवषम भं असधक जानकायी हे तु सॊऩक कयं । े ा GURUTVA KARYALAY 92/3. BANK COLONY, BRAHMESHWAR PATNA, BHUBNESWAR-751018, (ORISSA) Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785 Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com, gurutva_karyalay@yahoo.in,
  • 53. 53 पयवयी 2013 घॊटाकणा भहावीय सवा ससत्रद्ध भहामॊि को स्थाऩीत कयने से साधक की सवा भनोकाभनाएॊ ऩूणा होती हं । सवा प्रकाय क योग बूत-प्रेत आफद उऩद्रव से यऺण होता हं । े जहयीरे औय फहॊ सक प्राणीॊ से सॊफसधत बम दय होते हं । ॊ ू अस्ग्न बम, िोयबम आफद दय होते हं । ू दष्ट व असुयी शत्रिमं से उत्ऩन्न होने वारे बम ु से मॊि क प्रबाव से दय हो जाते हं । े ू मॊि क ऩूजन से साधक को धन, सुख, सभृत्रद्ध, े ऎश्वमा, सॊतत्रत्त-सॊऩत्रत्त आफद की प्रासद्ऱ होती हं । साधक की सबी प्रकाय की सास्त्वक इच्छाओॊ की ऩूसता होती हं । मफद फकसी ऩरयवाय मा ऩरयवाय क सदस्मो ऩय े वशीकयण, भायण, उच्िाटन इत्माफद जाद-टोने वारे ू प्रमोग फकमे गमं होतो इस मॊि क प्रबाव से स्वत् नष्ट े हो जाते हं औय बत्रवष्म भं मफद कोई प्रमोग कयता हं तो यऺण होता हं । कछ जानकायो क श्री घॊटाकणा भहावीय ऩतका ु े मॊि से जुडे अद्द्भत अनुबव यहे हं । मफद घय भं श्री ु घॊटाकणा भहावीय ऩतका मॊि स्थात्रऩत फकमा हं औय मफद कोई इषाा, रोब, भोह मा शिुतावश मफद अनुसित कभाकयक फकसी बी उद्दे श्म से साधक को ऩये शान कयने का प्रमास कयता हं तो मॊि क प्रबाव से सॊऩणा े े ूऩरयवाय का यऺण तो होता ही हं , कबी-कबी शिु क द्राया फकमा गमा अनुसित कभा शिु ऩय ही उऩय ेउरट वाय होते दे खा हं । भूल्म:- Rs. 1650 से Rs. 10900 तक उप्रब्द्ध सॊऩक कयं । GURUTVA KARYALAY ा Call Us – 91 + 9338213418, 91 + 9238328785 92/3. BANK COLONY, BRAHMESHWAR PATNA, BHUBNESWAR-751018, (ORISSA) Email Us:- gurutva_karyalay@yahoo.in, gurutva.karyalay@gmail.com Our Website:- www.gurutvakaryalay.com and http://gurutvakaryalay.blogspot.com/
  • 54. 54 पयवयी 2013 अभोघ भहाभृत्मुॊजम कविअभोद्य् भहाभृत्मुजम कवि व उल्रेस्खत अन्म साभग्रीमं को शास्त्रोि त्रवसध-त्रवधान से त्रवद्रान ॊब्राह्मणो द्राया सवा राख भहाभृत्मुॊजम भॊि जऩ एवॊ दशाॊश हवन द्राया सनसभात फकमा जाता हं इससरए कवि अत्मॊत प्रबावशारी होता हं । अभोद्य् भहाभृत्मुॊजम कवि अभोद्य् भहाभृत्मुॊजम कवि फनवाने हे तु: अऩना नाभ, त्रऩता-भाता का नाभ, कवि गोि, एक नमा पोटो बेजे दस्ऺणा भाि: 10900 याशी यि एवॊ उऩयि त्रवशेष मॊि हभायं महाॊ सबी प्रकाय क मॊि सोने-िाॊफद- े ताम्फे भं आऩकी आवश्मिा क अनुशाय े फकसी बी बाषा/धभा क मॊिो को आऩकी े आवश्मक फडजाईन क अनुशाय २२ गेज े शुद्ध ताम्फे भं अखॊफडत फनाने की त्रवशेष सबी साईज एवॊ भूल्म व क्वासरफट के सुत्रवधाएॊ उऩरब्ध हं । असरी नवयि एवॊ उऩयि बी उऩरब्ध हं ।हभाये महाॊ सबी प्रकाय क यि एवॊ उऩयि व्माऩायी भूल्म ऩय उऩरब्ध हं । ज्मोसतष कामा से जुडे़ ेफधु/फहन व यि व्मवसाम से जुडे रोगो क सरमे त्रवशेष भूल्म ऩय यि व अन्म साभग्रीमा व अन्म ेसुत्रवधाएॊ उऩरब्ध हं । GURUTVA KARYALAY 92/3. BANK COLONY, BRAHMESHWAR PATNA, BHUBNESWAR-751018, (ORISSA) Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785 Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com, gurutva_karyalay@yahoo.in,
  • 55. 55 पयवयी 2013 भाससक यासश पर  सिॊतन जोशी भेष: 1 से 14 फ़यवयी 2013 : इस दौयान मथा सॊबव ऋण रेने से फिे औय ऩुयाने ऋणं का बुगतान कयने का प्रमास कये । उच्िासधकायी से अनावश्मक ऩये शानी हो सकती हं । कामा भं अत्मसधक सतक यहे गरत सनणामो क कायण फड़ा नुक्शान हो सकता हं । ा े बूसभ-बवन क क्रम त्रवक्रम से आसथाक हानी सॊबव हं । थोडे सभम क सरमे ऩरयवाय भं े े अशास्न्त आऩकी ऩये शानी का कायण फन सकती हं 15 से 28 फ़यवयी 2013 : छोटी-छोटी सभस्माए आने क उऩयाॊत ऩूणा ऩरयश्रभ एवॊ कड़ी े भेहनत से फकमे गमे कामो से सपरता प्राद्ऱ कय सकते हं । उच्ि असधकायी एवॊ सहकभॉक कामा ऩये शासनमं सॊबव हं । सावधान यहं । आऩकी भहत्व ऩूणा व्मवसासमक मािा स्थसगत हो सकती। बूसभ-बवन से ेसॊफॊसधत भाभरो भं सिॊता यह सकती हं । इस सरए अनावश्मक सिन्ता से भुि होकय अऩने कामा ऩय ध्मान रगानाउसित होगा।वृषब: 1 से 14 फ़यवयी 2013 : छोटी-छोटी सभस्माए आने क उऩयाॊत बी काभमाफी प्राद्ऱ होगी। आऩक यिनात्भक एवॊ े ेफौत्रद्धक कामं से आऩकी ख्मासत औय प्रससत्रद्ध का तेजी से त्रवस्ताय होगा, आऩक भान-सम्भान औय प्रसतष्ठा भं वृत्रद्ध होगी। ेकछ रुकावटो क फाद भं रुक हुवे मा फकसी को उधाय फदमा धन प्राद्ऱ होगा। ऩरयवाय औय सभिं का सहमोग प्राद्ऱ होगा। ु े े15 से 28 फ़यवयी 2013 : नौकयी व्मवसाम भं कामा की व्मस्तता, अत्मसधक बाग-दौ हो सकती हं इस दौयान उच्िअसधकायी एवॊ सहकभॉ क कामा ऩये शासनमं सॊबव हं इस सरए उनसे वाद-त्रववाद कयने से फिे। आऩको भानससक ेअस्स्थयता का अनुबव हो सकता हं इस सरए भन को सनमॊिण भं यखने का प्रमास कयं । ऩरयवाय भं खुसशमो का भाहोरयहे गा। आऩको शुब सभािाय प्राद्ऱ हो सकमे हं । सभथुन: 1 से 14 फ़यवयी 2013 : आऩक भहत्व ऩूणा कामो भं असतरयि सावधानी े यखनी िाफहमे अन्मथा कछ कामो भं नुक्शान हो सकता हं । व्मवसासमक सभस्माओॊ क ु े कायण कछ रुकावटो क फाद भं व्मवसाम भं धन राब प्राद्ऱ होगा। त्रवयोधी एवॊ शिु ऩऺ ु े से ऩये शानी हो सकती हं । आऩको भानससक अस्स्थयता का अनुबव हो सकता हं । 15 से 28 फ़यवयी 2013 : नौकयी-व्मवसाम भं उस्म्भद से कभ धन राब की प्रासद्ऱ हो सकती हं । कामाऺेि भं आवश्मकता से असधक सॊघषा कयना ऩड सकता हं । आऩकी भहत्व ऩूणा व्मवसासमक मािा स्थसगत हो सकती। सभि एवॊ ऩरयवाय क सहमोग से धन ेराब होगा। त्रवऩरयत ऩरयस्स्थसत भं अऩने क्रोध एवॊ गुस्से ऩय सनमॊिण यखने का प्रमास कयं ।
  • 56. 56 पयवयी 2013कक: 1 से 14 फ़यवयी 2013 : उच्ि असधकायी एवॊ सहकभॉ का सहमोग सभरेगा, स्जससे दयस्थ स्थानं की मािा बी ा ूसॊबव हं । आसथाक भाभरं भं सभम उताय-िढ़ाव वारा हो सकता हं । सयकायी कामा माकोटा -किहयी क कामं क सरए सभम अनुकर हं । थोडे सभम क सरमे ऩरयवाय भं े े ू ेअशास्न्त हो सकती हं । अऩने खाने- ऩीने का ध्मान यखे। अऩनी असधक खिा कयने कीप्रवृत्रत्त ऩय सनमॊिण कयने का प्रमास कयं ।15 से 28 फ़यवयी 2013 : कामाऺेि का रॊफे सभम से रुका हुवा बुगतान प्राद्ऱ हो सकता हं ।भहत्व क कामो क सरमे अत्मसधक खिा क मोग फन यहे हं । आऩको कजा रेना ऩड े े ेसकता हं । ऩरयवाय भं फकसी सदस्म का स्वास्थ्म सिॊसतत कय सकता हं । फडे ़-फुजुगो सेउसित व्मवहाय फनाए यखं अन्मथा रयश्ते त्रफगड़ सकते हं । मफद कोई ऩारयवारयक भतबेद हो तो उसको दय कयने हे तु ूअसधक से असधक सभम अऩने ऩरयवाय क साथ त्रफतामे। ेससॊह: 1 से 14 फ़यवयी 2013 : अऩको नौकयी-व्मवसाम से जुडे कामो भं कड़ी भेहनत से भहत्वऩूणा उऩरस्ब्धमाॊ प्राद्ऱ हो सकती हं । आसथाक स्स्थसत भं उताय-िाढाव यहं गे। आऩक असधनस्थ कभािायी व सहकसभा े आऩक भनोनुकर कामा नहीॊ कयने से आऩकी सिॊताएॊ फढ सकती हं । अऩने कामोऺेि भं े ू त्रवशेष सावधानी यखं फकसी से सॊफॊध खयाफ होने क मोग फन यहे हं । ऩरयवाय भं आऩसी े तारभेर फनाए यखने का प्रमास कयं । 15 से 28 फ़यवयी 2013 : आऩको व्मवसामीक कामो से आसथाक राब प्राद्ऱ हो सकते हं । कामाऺेि भं अऩने प्रमासो क फर रुक हुवे कामो को अवश्म ऩूणा कय सकते हं । फकसी े े ऩय अॊधात्रवश्वास यखने क कायण आऩको फकसी प्रकाय की सभस्माओॊ का साभना कयना ेऩड़ सकता हं । ऩारयवारयक रयश्तं को फनाए यखने का त्रवशेष प्रमास कयना ऩड़ सकता हं । त्रवऩयीत सरॊग क प्रसत आऩका ेअसधक आकषाण आऩकी भानससक शाॊसत छीन सकता हं ।कन्मा: 1 से 14 फ़यवयी 2013 : आऩक कामाऺेि भं भहत्वऩूणा फदराव हंगे। आसथाक ेऩऺ थोडा कभजोय हो सकता हं । ऩूॊस्ज सनवेश इत्माफद क सरए सभम प्रसतकर हं इस े ूसरए सनवेश कयने से ऩयहे ज कयं । आऩकी कामा कयने की शैरी सुधये गी। आऩकीआसथाक स्स्थसत भं सुधाय होगा। सॊतान सॊफॊसधत सिॊताओॊ का सनवायण होगा। ऩरयवाय केफकसी सदस्म का स्वास्थ्म सिॊताकायक हो सकता हं ।15 से 28 फ़यवयी 2013 : गरत सनणामो क कायण आसथाक ऩऺ कभजोय हो सकता हं । ेधासभाक कामो भं त्रवशेष रुसि यखने का प्रमास कय सकते हं । दयस्थ स्थानो की मािाएॊ ूसॊबव हं । ऩायीवारयक सदस्मं क फीि भं वाद-त्रववाद क कायण तनाव हो सकता हं । े ेस्वास्थ्म सॊफॊसधत ऩये शासनमाॊ दय होगी। जीवनसाथी क साथ सॊफॊधं भं भधुयता आएगी। प्रेभ सॊफॊधो भं सपरता प्राद्ऱ ू ेहोगी।
  • 57. 57 पयवयी 2013तुरा: 1 से 14 फ़यवयी 2013 : कामाऺेि की छोटी-भोटी सभस्माकं दय कयने भं आऩ ऩूणा रुऩ से सभथा हंगे हं । ू नौकयी- व्मवसाम भं धन प्रासद्ऱ होने क मोग हं । आऩको भहत्वऩूणा कामा एवॊ मोजनाओॊ े को ऩूणा कयने हे तु ऋण रेना ऩड सकता हं जो आऩक सरए राबदाम ससद्ध हो सकता े हं । वाणी ऩय सनमॊिण यखं अन्मथा ऩारयवारयक रयश्तं भं खट्टास आसकती हं । अत्रववाफहत हं तो त्रववाह क मोग फन सकते हं । े 15 से 28 फ़यवयी 2013 : फकमे गमे ऩूॊस्ज सनवेश द्राया आकस्स्भक धन प्रासद्ऱ क मोग फन े यहे हं । आऩक साभजीक भान-सम्भान एवॊ ऩद-प्रसतष्ठा भं वृत्रद्ध होगी। व्मवसामीक े ु ऩये शानीमं से छटकाया सभरेगा। भहत्वऩूणा कामो क सरए आऩको कजा रेना ऩड़ सकता ेहं । व्मवहाय कशर यहं अन्मथा ऩरयवाय भं करह का वातावयण हो सकता हं । स्वास्थ्म क प्रसत सिेतनता फयते। ू ेवृस्िक: 1 से 14 फ़यवयी 2013 : छोटी-छोटी सभस्माए आने क उऩयाॊत बी काभमाफी प्राद्ऱ ेहोगी। धन सॊफॊधी ऩूयानी सभस्माओॊ का सभाधान सॊबव हं । आऩकी भानससक प्रन्नता फढे गी।अत्मसधक व्मम क कायण भानससक सिन्तामे फढ सकती हं । ऩरयवाय औय रयश्तेदायं से ेआस्त्भमता क अनुबव भं कभी यह सकती हं । प्रेभ सॊफॊसधत भाभरं भं सपरता प्राद्ऱ होने क े ेअच्छे मोग हं ।15 से 28 फ़यवयी 2013 : व्मवसासमक मािा भं सपरता प्राद्ऱ हो सकती हं । मफद आऩ नौकयी भं हंतो अऩने कामा क अनुरुऩ त्रवशेष राब सॊबव हं । रेफकन धन सॊफॊधी भाभरं भं अनजान ेसभस्माओॊ का साभना कयना ऩड सकता हं । स्वास्थ्म सुख भं वृत्रद्ध होगी फपय बी खाने- ऩीने का त्रवशेष ध्मान यखना फहतकायीयहे गा। जीवन साथी क ऩूणा सहमोग से दाॊऩत्म जीवन भं भधुयता आएगी। ेधनु: 1 से 14 फ़यवयी 2013 : व्मवासाम से जुडे हं औय साझेदायी की मोजना फना यहे हं तो सभम प्रसतकूर सात्रफत हो सकता हं । ऋण क रेन-दे ने से फिने का प्रमास कयं अन्मथा धन की ऩुन् प्रासद्ऱ-बुगतान भं त्रवरॊफ हो े सकता हं । शिु ऩऺ से सावधान यहं आऩ ऩय झूठे आयोऩ रग सकते हं । अऩने उच्िासधकायी एवॊ सहकभािायी से छोटी-छोटी फातं भं त्रववाद हो सकते हं । धासभाक कामो भं रुसि फढे गी। 15 से 28 फ़यवयी 2013 : व्मवसाम से सॊफॊसधत का कामं से जुडे रोगो की प्रससत्रद्ध का तेजी से त्रवस्ताय होगा। अत्मसधक बागदौड़ क कायण आऩको उजाा व उसाह की कभी भहसूस हो सकती े हं । नमे रोगो से सभिता होगी। भहत्वऩूणा एवॊ घये रू भाभरो भं िुनौतीओॊ का साभना कयना ऩड सकता हं । भौसभ क ऩरयवतान क साथ-साथ अऩने खाने- ऩीने का त्रवशेष ध्मान यखना फहतकायी े ेयहे गा।
  • 58. 58 पयवयी 2013भकय: 1 से 14 फ़यवयी 2013 : व्माऩाय उद्योग से जुडे़ रोगो को नमे अवसय प्राद्ऱ हंगे। बूसभ-बवन-वाहन से सॊफॊसधत कामो भं राब प्राद्ऱ होगा। कोटा -किहयी क कामो भं त्रवरॊफ हो सकता हं । अनािश्मक खिा कयने से फिे। इष्ट े सभिं क सहमोग से नमे सभि फन सकते हं । इस सरए धैमा औय सॊमभ से काभ रे जल्दफाजी े ऩये शानी का कायण फन सकती हं । प्रेभ सॊफॊधं भं भतबेद होने क मोग फन यहे हं । े 15 से 28 फ़यवयी 2013 : आऩकी भहत्वऩूणा मोजनाए ऩूणा हो सकती हं । कामाऺेि भं आऩक जोश े एवॊ उत्साह भं वृत्रद्ध होने से आऩको भनोनुकर राब प्राद्ऱ होगा। अऩनी असधक खिा कयने की ू प्रवृत्रत्त ऩय सनमॊिण कयने का प्रमास कयं । आऩक त्रवयोधी एवॊ शिु ऩऺ ऩयास्त हंगे। अऩने खाने- ेऩीने का ध्मान यखे। ऩरयवाय क फकसी सदस्म का स्वास्थ्म कभजोय हो सकता हं । ेकब: 1 से 14 फ़यवयी 2013 : नौकयी-व्मवसाम भं फकमे गमे प्रमासो से ऩूणा सपरता प्राद्ऱ ॊुहोगी। इस अवसध भं िर-अिर सॊऩत्रत्त भं जोस्खभ बये ऩूॊस्ज सनवेश कयना आऩक सरए त्रवशेष रुऩ ेसे नुकशान दे ने वारा हो सकता हं । जीवन साथी क साथ व्मवहाय अच्छा यखे अन्मथा ेसभस्माओॊ का साभना कय सकते हं । हं । ऩरयवाय भं फकसी सदस्म का स्वास्थ्म सिॊसतत कयसकता हं ।15 से 28 फ़यवयी 2013 : कछ रुकावटो क फाद भं व्मवसाम भं धन राब प्राद्ऱ होगा। बायी भािा भं ु ेऩूॊस्ज सनवेश मा बूसभ-बवन से सॊफॊसधत भाभरो भं सतक यहे अन्मथा बायी नुक्शान हो सकता हं । सभाज भं आऩक नाभ-प्रसतष्ठा ा ेफनाए यखने क सरमे त्रवशेष ध्मान यखना िाफहमे। अऩने खाने- ऩीने का ध्मान यखे अन्मथा आऩका का स्वास्थ्म नयभ हो सकता हं । े भीन: 1 से 14 फ़यवयी 2013 : नौकयी-व्मवसाम भं उन्नसत व आमक नए स्त्रोत सभरने क मोग े े हं । आऩकी आसथाक भं सुधाय होगा। बूसभ-बवन-वाहन से सॊफॊसधत कामो से राब प्रासद्ऱ सॊबव हं । शिुओॊ ऩय आऩका प्रबाव यहे गा। आऩक त्रवयोधी एवॊ शिु ऩऺ ऩयास्त हंगे। आऩका साभास्जक े जीवन उच्ि स्तय का हो सकता हं । ऩरयवाय क फकसी सदस्म का स्वस्थ्म कभजोय हो सकता हं । े 15 से 28 फ़यवयी 2013 : नौकयी से सॊफॊसधत कामा भं नमे फदराव हो सकते हं , व्मवसाम भं हं तो उन्नती क नए भागा प्राद्ऱ हंगे। व्मवसामीक मािाएॊ सपर होगी।बूसभ-बवन से सॊफॊसधत भाभरं ेभं सपरता प्राद्ऱ हो सकती हं । आऩक बौसतक सुख साधनो भं वृत्रद्ध होगी। ऩरयवाय क रोग एवॊ सभि वगा का ऩूणा सहमोग प्राद्ऱ होगा। े ेजीवन साथी क साथ सॊफॊधं भं भधुयता आएगी। े
  • 59. 59 पयवयी 2013 पयवयी 2013 भाससक ऩॊिाॊग िॊद्रफद वाय भाह ऩऺ सतसथ सभासद्ऱ नऺि सभासद्ऱ मोग सभासद्ऱ कयण सभासद्ऱ सभासद्ऱ यासश1 शुक्र भाघ कृ ष्ण ऩॊिभी 10:33:42 हस्त 19:15:54 धृसत 26:42:09 तैसतर 10:33:42 कन्मा 31:03:002 शसन भाघ कृ ष्ण षष्ठी 09:34:05 सििा 18:46:16 शूर 24:30:20 वस्णज 09:34:05 तुरा -3 यत्रव भाघ कृ ष्ण सद्ऱभी 08:14:45 स्वाती 17:57:53 गॊड 22:02:34 फव 08:14:45 तुरा -4 सोभ भाघ कृ ष्ण नवभी 28:31:58 त्रवशाखा 16:47:54 वृत्रद्ध 19:17:54 तैसतर 17:35:43 तुरा 11:08:005 भॊगर भाघ कृ ष्ण दशभी 26:12:35 अनुयाधा 15:19:09 ध्रुव 16:17:16 वस्णज 15:24:46 वृस्िक -6 फुध भाघ कृ ष्ण एकादशी 23:38:11 जेष्ठा 13:33:30 व्माघात 13:03:30 फव 12:56:56 वृस्िक 13:34:007 गुरु भाघ कृ ष्ण द्रादशी 20:52:31 भूर 11:34:42 हषाण 09:40:20 कौरव 10:15:01 धनु -8 शुक्र भाघ कृ ष्ण िमोदशी 18:03:05 ऩूवााषाढ़ 09:30:16 ससत्रद्ध 26:40:35 गय 07:27:27 धनु 14:59:009 शसन भाघ कृ ष्ण ितुदाशी 15:19:14 उत्तयाषाढ़ 07:26:44 व्मसतऩात 23:17:22 शकसन ु 15:19:14 भकय -10 यत्रव भाघ कृ ष्ण अभावस्मा 12:51:19 धसनष्ठा 28:02:34 वरयमान 20:10:04 नाग 12:51:19 भकय 16:45:0011 सोभ भाघ शुक्र प्रसतऩदा 10:44:57 शतसबषा 27:00:53 ऩरयग्रह 17:23:23 फव 10:44:57 कब ुॊ -12 भॊगर भाघ शुक्र फद्रतीमा 09:13:14 ऩूवााबाद्रऩद 26:37:37 सशव 15:06:41 कौरव 09:13:14 कब ुॊ 20:39:0013 फुध भाघ शुक्र तृतीमा 08:22:46 उत्तयाबाद्रऩद 26:59:19 ससद्ध 13:22:46 गय 08:22:46 भीन -14 गुरु भाघ शुक्र ितुथॉ 08:20:05 ये वसत 28:08:50 साध्म 12:17:16 त्रवत्रष्ट 08:20:05 भीन 28:09:0015 शुक्र भाघ शुक्र ऩॊिभी 09:06:08 अस्श्वनी 30:03:19 शुब 11:49:15 फारव 09:06:08 भेष -16 शसन भाघ शुक्र षष्ठी 10:37:10 बयणी 32:35:17 शुक्र 11:54:58 तैसतर 10:37:10 भेष -17 यत्रव भाघ शुक्र सद्ऱभी 12:46:37 बयणी 08:35:22 ब्रह्म 12:27:52 वस्णज 12:46:37 भेष 15:18:0018 सोभ भाघ शुक्र अष्टभी 15:19:29 कृ सतका 11:32:36 इन्द्र 13:20:25 फव 15:19:29 वृष -19 भॊगर भाघ शुक्र नवभी 18:01:43 योफहस्ण 14:39:13 वैधसत ृ 14:19:32 कौरव 18:01:43 वृष 28:12:0020 फुध भाघ शुक्र दशभी 20:34:33 भृगसशया 17:42:03 त्रवषकब ुॊ 15:14:52 तैसतर 07:19:33 सभथुन -21 गुरु भाघ शुक्र एकादशी 22:46:45 आद्रा 20:23:19 प्रीसत 15:56:08 वस्णज 09:43:56 सभथुन -
  • 60. 60 पयवयी 201322 शुक्र भाघ शुक्र द्रादशी 24:27:04 ऩुनवासु 22:36:26 आमुष्भान 16:14:52 फव 11:41:07 सभथुन 16:07:0023 शसन भाघ शुक्र िमोदशी 25:31:44 ऩुष्म 24:16:44 सौबाग्म 16:07:21 कौरव 13:03:36 कका -24 यत्रव भाघ शुक्र ितुदाशी 26:00:46 आश्लेषा 25:20:27 शोबन 15:32:38 गय 13:50:27 कका 25:21:0025 सोभ भाघ शुक्र ऩूस्णाभा 25:56:58 भघा 25:54:09 असतगॊड 14:31:39 त्रवत्रष्ट 14:02:36 ससॊह -26 भॊगर पाल्गुन कृ ष्ण प्रसतऩदा 25:24:06 ऩूवाापाल्गुनी 25:58:47 सुकभाा 13:07:13 फारव 13:42:51 ससॊह -27 फुध पाल्गुन कृ ष्ण फद्रतीमा 24:27:47 उत्तयापाल्गुनी 25:41:50 धृसत 11:21:13 तैसतर 12:57:47 ससॊह 07:57:0028 गुरु पाल्गुन कृ ष्ण तृतीमा 23:12:42 हस्त 25:07:04 शूर 09:19:15 वस्णज 11:52:04 कन्मा - शसन ऩीड़ा सनवायक सॊऩूणा प्राणप्रसतत्रष्ठत 22 गेज शुद्ध स्टीर भं सनसभात अखॊफडत ऩौरुषाकाय शसन मॊि ऩुरुषाकाय शसन मॊि (स्टीर भं) को तीव्र प्रबावशारी फनाने हे तु शसन की कायक धातु शुद्ध स्टीर(रोहे ) भं फनामा गमा हं । स्जस क प्रबाव से साधक को तत्कार राब प्राद्ऱ होता हं । मफद े जन्भ कडरी भं शसन प्रसतकर होने ऩय व्मत्रि को अनेक कामं भं असपरता प्राद्ऱ होती है , ुॊ ू कबी व्मवसाम भं घटा, नौकयी भं ऩये शानी, वाहन दघटना, गृह क्रेश आफद ऩये शानीमाॊ फढ़ती ु ा जाती है ऐसी स्स्थसतमं भं प्राणप्रसतत्रष्ठत ग्रह ऩीड़ा सनवायक शसन मॊि की अऩने को व्मऩाय स्थान मा घय भं स्थाऩना कयने से अनेक राब सभरते हं । मफद शसन की ढै ़मा मा साढ़े साती का सभम हो तो इसे अवश्म ऩूजना िाफहए। शसनमॊि क ऩूजन भाि से व्मत्रि को भृत्मु, कजा, े कोटा कश, जोडो का ददा , फात योग तथा रम्फे सभम क सबी प्रकाय क योग से ऩये शान व्मत्रि क े े े े सरमे शसन मॊि असधक राबकायी होगा। नौकयी ऩेशा आफद क रोगं को ऩदौन्नसत बी शसन द्राया े ही सभरती है अत् मह मॊि असत उऩमोगी मॊि है स्जसक द्राया शीघ्र ही राब ऩामा जा सकता े है । भूल्म: 1050 से 8200 GURUTVA KARYALAY BHUBNESWAR-751018, (ORISSA), Call Us – 91 + 9338213418, 91 + 9238328785 Our Website : www.gurutvakaryalay.com Email Us:- gurutva_karyalay@yahoo.in, gurutva.karyalay@gmail.com
  • 61. 61 पयवयी 2013 पयवयी-2013 भाससक व्रत-ऩवा-त्मौहायफद वाय भाह ऩऺ सतसथ सभासद्ऱ प्रभुख व्रत-त्मोहाय1 शुक्र भाघ कृ ष्ण ऩॊिभी 10:33:42 -2 शसन भाघ कृ ष्ण षष्ठी 09:34:05 सवाासद्ऱ सद्ऱभी, ऩुि सद्ऱभी व्रत,3 यत्रव भाघ कृ ष्ण 08:14:45 बानु-सद्ऱभी ऩवा प्रात: 8.13 फजे तक (सूमग्रहणतुल्म ा परप्रद), सद्ऱभी श्रीयाभानन्द सद्ऱभी, काराष्टभी व्रत, अष्टका श्राद्ध,4 सोभ भाघ कृ ष्ण नवभी 28:31:58 अन्वष्टका श्राद्ध, बीष्भ त्रऩताभह जमन्ती5 भॊगर भाघ कृ ष्ण दशभी 26:12:356 फुध भाघ कृ ष्ण एकादशी 23:38:11 षस्ट्तरा एकादशी व्रत, प्रमाग भहाकम्ब का ऩवा-स्नान ु7 गुरु भाघ कृ ष्ण द्रादशी 20:52:31 एकादशी व्रत, सतर द्रादशी,8 शुक्र भाघ कृ ष्ण िमोदशी 18:03:05 प्रदोष व्रत, भाससक सशवयात्रि व्रत, सशव ितुदाशी,9 शसन भाघ कृ ष्ण 15:19:14 भहोदम मोग फदन 3.19 फजे से सूमाास्त तक-त्रिवेणी मा गॊगा भं स्नान ितुदाशी ऩुण्मदामक यत्रव भाघ कृ ष्ण अभावस्मा 12:51:19 दे व त्रऩतृकामा हे तु भाघी अभावस्मा, भौनी अभावस का स्नान, तीथायाज प्रमाग भं भहाकम्ब भहाऩवा का फद्रतीम (भुख्म) शाही स्नान, प्रमागयाज ु10 भं ऩूणकम्ब मोग फदन 12.49 फजे तक, ब्रह्मसात्रविी व्रत, द्राऩयमुगाफद ा ु सतसथ, त्रिवेणी अभावस्मा (ओड़ीसा),11 सोभ भाघ शुक्र प्रसतऩदा 10:44:57 गुद्ऱ सशसशय नवयाि प्रायॊ ब, नवीन िन्द्र-दशान, फारेन्द-ऩूजन, ु ऩॊ. दीनदमार उऩाध्माम स्भृसतफदवस भॊगर भाघ शुक्र 09:13:14 फाफा याभदे व ऩीय दज (भायवाड़), सूमा की कम्ब सॊक्रास्न्त यात्रि 8.01 ू ु12 फजे, सॊक्रास्न्त भं स्नान-दान हे तु साभान्म ऩुण्मकार सूमोदम से फदन फद्रतीमा 1.37 फजे तक तदोऩयान्त त्रवशेष ऩुण्मकार, गोदावयी भं स्नान अत्मन्त ऩुण्मप्रद,13 फुध भाघ शुक्र 08:22:46 गौयी तृतीमा, गौयी तीज व्रत, वयदत्रवनामक ितुथॉ व्रत, सतर ितुथॉ, तृतीमा कन्द ितुथॉ, सयोजनी नामडू जमन्ती, ु14 गुरु भाघ शुक्र ितुथॉ 08:20:05 उभा ितुथॉ, त्रिऩुया ितुथॉ, ढु स्ण्ढत्रवनामक ितुथॉ, (िॊ.अस्त या.9:11)
  • 62. 62 पयवयी 2013 शुक्र भाघ शुक्र 09:06:08 वसन्त ऩॊिभी, श्री ऩॊिभी, सयस्वती-रेस्खनी ऩूजा, वागीश्वयी जमन्ती,15 ऩॊिभी तऺक ऩूजा, स्कन्दषष्ठी व्रत, वैधसत भहाऩात प्रात: 8.45 से फदन 3.14 ृ फजे तक, प्रमागयाज भहाकम्ब भं तृतीम शाही स्नान, ु16 शसन भाघ शुक्र षष्ठी 10:37:10 शीतराषष्ठी, दरयद्रताहयण षष्ठी, भन्दाय षष्ठी व्रत यत्रव भाघ शुक्र 12:46:37 अिरा सद्ऱभी व्रत, सूमयथ सद्ऱभी, आयोग्म सद्ऱभी व्रत, सन्तान सद्ऱभी ा17 सद्ऱभी व्रत, अद्रै त सद्ऱभी व्रत, िन्द्रबागा सद्ऱभी (ओड़ीसा), नभादा जमन्ती, कम्ब-स्नान, ु सोभ भाघ शुक्र 15:19:29 श्रीदगााष्टभी व्रत, श्रीअन्नऩूणााष्टभी व्रत, बीष्भाष्टभी-बीष्भ त्रऩताभह का ु18 अष्टभी तऩाण एवॊ श्राद्ध, सूमा सामन भीन भं सामॊ 5.33 फजे, सौय वसन्त ऋतु प्रायॊ ब19 भॊगर भाघ शुक्र 18:01:43 श्रीभहानन्दा नवभी व्रत, द्रोण नवभी, गुद्ऱ सशसशय नवयाि ऩूण, सशवाजी ा नवभी जमन्ती(नत्रवनभतानुशाय)20 फुध भाघ शुक्र दशभी 20:34:33 भाघी त्रवजमादशभी, शल्मदशभी, बि ऩुडसरक उत्सव (ऩॊढयऩुय) ॊ21 गुरु भाघ शुक्र एकादशी 22:46:45 जमा एकादशी व्रत, बैभी एकादशी (ऩ.फॊगार), कम्ब-स्नान (प्रमाग) ु शुक्र भाघ शुक्र 24:27:04 बीष्भ द्रादशी, जमन्ती भहाद्रादशी व्रत, श्माभफाफा द्रादशी, सतर द्रादशी,22 द्रादशी वायाह द्रादशी, सॊतान द्रादशी व्रत, शासरग्राभ द्रादशी, सोऩऩदा द्रादशी, कस्तूयफा गाॉधी एवॊ भौराना आजाद स्भृसतफदवस23 शसन भाघ शुक्र 25:31:44 शसन-प्रदोष व्रत, श्रीसनत्मानन्द िमोदशी व्रत, गुरु गोयखनाथ एवॊ िमोदशी त्रवश्वकभाा जमन्ती, भरुस्थर भं 3 फदन का भेरा (जैसरभेय, याज.),24 यत्रव भाघ शुक्र ितुदाशी 26:00:46 मस्ऺणी ितुदाशी सोभ भाघ शुक्र ऩूस्णाभा 25:56:58 स्नान-दान-व्रत हे तु उत्तभ भाघी ऩूस्णाभा, रसरता भहात्रवद्या जमन्ती, सॊत25 यत्रवदास जमन्ती, भाघ-स्नान ऩूण, ा अस्ग्न-उत्सव (ओड़ीसा), काव ऩूस्णाभा, दाण्डायोत्रऩणी ऩूस्णाभा, श्रीसत्मनायामण ऩूजा-कथा, प्रमाग भहाकम्ब का ऩवा-स्नान ु26 भॊगर पाल्गुन कृ ष्ण प्रसतऩदा 25:24:06 पाल्गुन भं वाग्भती-स्नान भहाऩुण्मप्रद, वीय सावयकय स्भृसतफदवस27 फुध पाल्गुन कृ ष्ण फद्रतीमा 24:27:47 िन्द्रशेखय आजाद फसरदान फदवस28 गुरु पाल्गुन कृ ष्ण 23:12:42 याष्डीम त्रवऻान फदवस, डा. याजेन्द्र प्रसाद एवॊ कभरा नेहरू स्भृसतफदवस, तृतीमा व्मसतऩात भहाऩात फदन 2.24 से सामॊ 7.41 फजे तक
  • 63. 63 पयवयी 2013 गणेश रक्ष्भी मॊिप्राण-प्रसतत्रष्ठत गणेश रक्ष्भी मॊि को अऩने घय-दकान-ओफपस-पक्टयी भं ऩूजन स्थान, गल्रा मा अरभायी भं स्थात्रऩत ु ैकयने व्माऩाय भं त्रवशेष राब प्राद्ऱ होता हं । मॊि क प्रबाव से बाग्म भं उन्नसत, भान-प्रसतष्ठा एवॊ े व्माऩाय भं वृत्रद्ध होतीहं एवॊ आसथाक स्स्थभं सुधाय होता हं । गणेश रक्ष्भी मॊि को स्थात्रऩत कयने से बगवान गणेश औय दे वी रक्ष्भी कासॊमुि आशीवााद प्राद्ऱ होता हं । Rs.730 से Rs.10900 तक भॊगर मॊि से ऋण भुत्रिभॊगर मॊि को जभीन-जामदाद क त्रववादो को हर कयने क काभ भं राब दे ता हं , इस क असतरयि व्मत्रि को ऋण े े ेभुत्रि हे तु भॊगर साधना से असत शीध्र राब प्राद्ऱ होता हं । त्रववाह आफद भं भॊगरी जातकं क कल्माण क सरए भॊगर े ेमॊि की ऩूजा कयने से त्रवशेष राब प्राद्ऱ होता हं । प्राण प्रसतत्रष्ठत भॊगर मॊि क ऩूजन से बाग्मोदम, शयीय भं खून की ेकभी, गबाऩात से फिाव, फुखाय, िेिक, ऩागरऩन, सूजन औय घाव, मौन शत्रि भं वृत्रद्ध, शिु त्रवजम, तॊि भॊि क दष्ट प्रबा, े ुबूत-प्रेत बम, वाहन दघटनाओॊ, हभरा, िोयी इत्मादी से फिाव होता हं । ु ा भूल्म भाि Rs- 730 कफेय मॊि ुकफेय मॊि क ऩूजन से स्वणा राब, यि राब, ऩैतक सम्ऩत्ती एवॊ गड़े हुए धन से राब प्रासद्ऱ फक काभना कयने वारे ु े ृव्मत्रि क सरमे कफेय मॊि अत्मन्त सपरता दामक होता हं । एसा शास्त्रोि विन हं । कफेय मॊि क ऩूजन से एकासधक े ु ु ेस्त्रोि से धन का प्राद्ऱ होकय धन सॊिम होता हं । ताम्र ऩि ऩय सुवणा ऩोरीस ताम्र ऩि ऩय यजत ऩोरीस ताम्र ऩि ऩय (Gold Plated) (Silver Plated) (Copper) साईज भूल्म साईज भूल्म साईज भूल्म 1” X 1” 460 1” X 1” 370 1” X 1” 255 2” X 2” 820 2” X 2” 640 2” X 2” 460 3” X 3” 1650 3” X 3” 1090 3” X 3” 730 4” X 4” 2350 4” X 4” 1650 4” X 4” 1090 6” X 6” 3600 6” X 6” 2800 6” X 6” 1900 9” X 9” 6400 9” X 9” 5100 9” X 9” 3250 12” X12” 10800 12” X12” 8200 12” X12” 6400 GURUTVA KARYALAY 92/3. BANK COLONY, BRAHMESHWAR PATNA, BHUBNESWAR-751018, (ORISSA) Call Us – 91 + 9338213418, 91 + 9238328785 Email Us:- gurutva_karyalay@yahoo.in, gurutva.karyalay@gmail.com
  • 64. 64 पयवयी 2013 नवयि जफड़त श्री मॊिशास्त्र विन क अनुसाय शुद्ध सुवणा मा यजत भं सनसभात श्री मॊि क िायं औय मफद नवयि जड़वा ने ऩय मह नवयि े ेजफड़त श्री मॊि कहराता हं । सबी यिो को उसक सनस्ित स्थान ऩय जड़ कय रॉकट क रूऩ भं धायण कयने से व्मत्रि को े े ेअनॊत एश्वमा एवॊ रक्ष्भी की प्रासद्ऱ होती हं । व्मत्रि को एसा आबास होता हं जैसे भाॊ रक्ष्भी उसक साथ हं । नवग्रह को ेश्री मॊि क साथ रगाने से ग्रहं की अशुब दशा का धायण कयने वारे व्मत्रि ऩय प्रबाव नहीॊ होता हं । गरे भं होने क े ेकायण मॊि ऩत्रवि यहता हं एवॊ स्नान कयते सभम इस मॊि ऩय स्ऩशा कय जो जर त्रफॊद ु शयीय को रगते हं , वह गॊगाजर क सभान ऩत्रवि होता हं । इस सरमे इसे सफसे तेजस्वी एवॊ परदासम कहजाता हं । जैसे अभृत से उत्तभ कोई ेऔषसध नहीॊ, उसी प्रकाय रक्ष्भी प्रासद्ऱ क सरमे श्री मॊि से उत्तभ कोई मॊि सॊसाय भं नहीॊ हं एसा शास्त्रोि विन हं । इस ेप्रकाय क नवयि जफड़त श्री मॊि गुरूत्व कामाारम द्राया शुब भुहूता भं प्राण प्रसतत्रष्ठत कयक फनावाए जाते हं । े े अष्ट रक्ष्भी कविअष्ट रक्ष्भी कवि को धायण कयने से व्मत्रि ऩय सदा भाॊ भहा रक्ष्भी की कृ ऩा एवॊ आशीवााद फनायहता हं । स्जस्से भाॊ रक्ष्भी क अष्ट रुऩ (१)-आफद रक्ष्भी, (२)-धान्म रक्ष्भी, (३)-धैयीम रक्ष्भी, (४)- ेगज रक्ष्भी, (५)-सॊतान रक्ष्भी, (६)-त्रवजम रक्ष्भी, (७)-त्रवद्या रक्ष्भी औय (८)-धन रक्ष्भी इन सबीरुऩो का स्वत् अशीवााद प्राद्ऱ होता हं । भूल्म भाि: Rs-1250 भॊि ससद्ध व्माऩाय वृत्रद्ध कविव्माऩाय वृत्रद्ध कवि व्माऩाय भं शीघ्र उन्नसत क सरए उत्तभ हं । िाहं कोई बी व्माऩाय हो अगय उसभं राब क स्थान ऩय े ेफाय-फाय हासन हो यही हं । फकसी प्रकाय से व्माऩाय भं फाय-फाय फाधाएॊ उत्ऩन्न हो यही हो! तो सॊऩणा प्राण प्रसतत्रष्ठत ूभॊि ससद्ध ऩूणा िैतन्म मुि व्माऩाय वृत्रद्ध मॊि को व्मऩाय स्थान मा घय भं स्थात्रऩत कयने से शीघ्र ही व्माऩाय भं वृत्रद्धएवॊ सनतन्तय राब प्राद्ऱ होता हं । भूल्म भाि: Rs.730 & 1050 भॊगर मॊि(त्रिकोण) भॊगर मॊि को जभीन-जामदाद क त्रववादो को हर कयने क काभ भं राब दे ता हं , इस क असतरयि व्मत्रि को े े ेऋण भुत्रि हे तु भॊगर साधना से असत शीध्र राब प्राद्ऱ होता हं । त्रववाह आफद भं भॊगरी जातकं क कल्माण क सरए े ेभॊगर मॊि की ऩूजा कयने से त्रवशेष राब प्राद्ऱ होता हं । भूल्म भाि Rs- 730 GURUTVA KARYALAY 92/3. BANK COLONY, BRAHMESHWAR PATNA, BHUBNESWAR-751018, (ORISSA) Call us: 91 + 9338213418, 91+ 9238328785 Mail Us: gurutva.karyalay@gmail.com, gurutva_karyalay@yahoo.in, Our Website:- www.gurutvakaryalay.com and http://gurutvakaryalay.blogspot.com/
  • 65. 65 पयवयी 2013 त्रववाह सॊफॊसधत सभस्माक्मा आऩक रडक-रडकी फक आऩकी शादी भं अनावश्मक रूऩ से त्रवरम्फ हो यहा हं मा उनक वैवाफहक जीवन भं खुसशमाॊ कभ े े ेहोती जायही हं औय सभस्मा असधक फढती जायही हं । एसी स्स्थती होने ऩय अऩने रडक-रडकी फक कडरी का अध्ममन े ुॊअवश्म कयवारे औय उनक वैवाफहक सुख को कभ कयने वारे दोषं क सनवायण क उऩामो क फाय भं त्रवस्ताय से जनकायी प्राद्ऱ े े े ेकयं । सशऺा से सॊफॊसधत सभस्माक्मा आऩक रडक-रडकी की ऩढाई भं अनावश्मक रूऩ से फाधा-त्रवघ्न मा रुकावटे हो यही हं ? फच्िो को अऩने ऩूणा ऩरयश्रभ े ेएवॊ भेहनत का उसित पर नहीॊ सभर यहा? अऩने रडक-रडकी की कडरी का त्रवस्तृत अध्ममन अवश्म कयवारे औय े ुॊउनक त्रवद्या अध्ममन भं आनेवारी रुकावट एवॊ दोषो क कायण एवॊ उन दोषं क सनवायण क उऩामो क फाय भं त्रवस्ताय से े े े े ेजनकायी प्राद्ऱ कयं । क्मा आऩ फकसी सभस्मा से ग्रस्त हं ? ुआऩक ऩास अऩनी सभस्माओॊ से छटकाया ऩाने हे तु ऩूजा-अिाना, साधना, भॊि जाऩ इत्माफद कयने का सभम नहीॊ हं ? ेअफ आऩ अऩनी सभस्माओॊ से फीना फकसी त्रवशेष ऩूजा-अिाना, त्रवसध-त्रवधान क आऩको अऩने कामा भं सपरता प्राद्ऱ ेकय सक एवॊ आऩको अऩने जीवन क सभस्त सुखो को प्राद्ऱ कयने का भागा प्राद्ऱ हो सक इस सरमे गुरुत्व कामाारत े े ेद्राया हभाया उद्दे श्म शास्त्रोि त्रवसध-त्रवधान से त्रवसशष्ट तेजस्वी भॊिो द्राया ससद्ध प्राण-प्रसतत्रष्ठत ऩूणा िैतन्म मुि त्रवसबन्न प्रकाय केमन्ि- कवि एवॊ शुब परदामी ग्रह यि एवॊ उऩयि आऩक घय तक ऩहोिाने का हं । े ज्मोसतष सॊफॊसधत त्रवशेष ऩयाभशाज्मोसत त्रवऻान, अॊक ज्मोसतष, वास्तु एवॊ आध्मास्त्भक ऻान सं सॊफॊसधत त्रवषमं भं हभाये 30 वषो से असधक वषा केअनुबवं क साथ ज्मोसतस से जुडे नमे-नमे सॊशोधन क आधाय ऩय आऩ अऩनी हय सभस्मा क सयर सभाधान प्राद्ऱ कय े े ेसकते हं । GURUTVA KARYALAY 92/3. BANK COLONY, BRAHMESHWAR PATNA, BHUBNESWAR-751018, (ORISSA) Call Us - 9338213418, 9238328785 Email Us:- gurutva_karyalay@yahoo.in, gurutva.karyalay@gmail.com ओनेक्स जो व्मत्रि ऩन्ना धायण कयने भे असभथा हो उन्हं फुध ग्रह क उऩयि ओनेक्स को धायण कयना िाफहए। े उच्ि सशऺा प्रासद्ऱ हे तु औय स्भयण शत्रि क त्रवकास हे तु ओनेक्स यि की अॊगूठी को दामं हाथ की सफसे छोटी े उॊ गरी मा रॉकट फनवा कय गरे भं धायण कयं । ओनेक्स यि धायण कयने से त्रवद्या-फुत्रद्ध की प्रासद्ऱ हो होकय स्भयण े शत्रि का त्रवकास होता हं ।
  • 66. 66 पयवयी 2013 पयवयी 2013 -त्रवशेष मोग कामा ससत्रद्ध मोग 2 सामॊ 6:45 से यातबय 15 सूमोदम से सम्ऩूणा फदन-यात 4 सामॊ 4:47 से यातबय 18 फदन 11:32 से यातबय 9 प्रात:7:26 से 10 पयवयी को प्रात:5:33 तक 20 सूमोदम से सामॊ 5:40 तक 12/13 यात्रि 2:38 से सूमोदम तक 21 यात्रि 8:22 से 22 पयवयी को यात्रि 10:36 तक 14 सूमोदम से सम्ऩूणा फदन-यात 27/28 1:40 से सूमोदम तक फद्रऩुष्कय (दोगुना पर) मोग 2 प्रात: 9:33 से सामॊ 6:45 तक त्रिऩुष्कय (तीन गुना पर) मोग 12 सूमोदम से प्रात: 9:12 तक 26/27 यात्रि 1:58 से यातबय 17 प्रात: 8:34 से फदन 12:45 तक त्रवघ्नकायक बद्रा 2 प्रात: 9:33 से यात्रि 8:53 तक 17 फदन 12:45 से दे य यात 2:02 तक 5 फदन 3:21 से दे य यात 2:11 तक 21 प्रात: 9:39 से यात्रि 10:45 तक 8 सामॊ 6:02 से 9 पयवयी को प्रात: 4:41 तक 24 दे य यात 1:59 से 25 पयवयी को फदन 1:56 तक 13 यात्रि 8:21 से 14 पयवयी को प्रात: 8:19 तक 28 फदन 11:49 से यात्रि 11:12 तकमोग पर :  कामा ससत्रद्ध मोग भे फकमे गमे शुब कामा भे सनस्ित सपरता प्राद्ऱ होती हं , एसा शास्त्रोि विन हं ।  फद्रऩुष्कय मोग भं फकमे गमे शुब कामो का राब दोगुना होता हं । एसा शास्त्रोि विन हं ।  त्रिऩुष्कय मोग भं फकमे गमे शुब कामो का राब तीन गुना होता हं । एसा शास्त्रोि विन हं ।  शास्त्रोि भत से त्रवघ्नकायक बद्रा मा बद्रा मोग भं शुब कामा कयना वस्जात हं । दै सनक शुब एवॊ अशुब सभम ऻान तासरका गुसरक कार (शुब) मभ कार (अशुब) याहु कार (अशुब) वाय सभम अवसध सभम अवसध सभम अवसध यत्रववाय 03:00 से 04:30 12:00 से 01:30 04:30 से 06:00 सोभवाय 01:30 से 03:00 10:30 से 12:00 07:30 से 09:00 भॊगरवाय 12:00 से 01:30 09:00 से 10:30 03:00 से 04:30 फुधवाय 10:30 से 12:00 07:30 से 09:00 12:00 से 01:30 गुरुवाय 09:00 से 10:30 06:00 से 07:30 01:30 से 03:00 शुक्रवाय 07:30 से 09:00 03:00 से 04:30 10:30 से 12:00 शसनवाय 06:00 से 07:30 01:30 से 03:00 09:00 से 10:30
  • 67. 67 पयवयी 2013 फदन क िौघफडमे े सभम यत्रववाय सोभवाय भॊगरवाय फुधवाय गुरुवाय शुक्रवाय शसनवाय 06:00 से 07:30 उद्रे ग अभृत योग राब शुब िर कार 07:30 से 09:00 िर कार उद्रे ग अभृत योग राब शुब 09:00 से 10:30 राब शुब िर कार उद्रे ग अभृत योग 10:30 से 12:00 अभृत योग राब शुब िर कार उद्रे ग 12:00 से 01:30 कार उद्रे ग अभृत योग राब शुब िर 01:30 से 03:00 शुब िर कार उद्रे ग अभृत योग राब 03:00 से 04:30 योग राब शुब िर कार उद्रे ग अभृत 04:30 से 06:00 उद्रे ग अभृत योग राब शुब िर कार यात क िौघफडमे े सभम यत्रववाय सोभवाय भॊगरवाय फुधवाय गुरुवाय शुक्रवाय शसनवाय 06:00 से 07:30 शुब िर कार उद्रे ग अभृत योग राब 07:30 से 09:00 अभृत योग राब शुब िर कार उद्रे ग 09:00 से 10:30 िर कार उद्रे ग अभृत योग राब शुब 10:30 से 12:00 योग राब शुब िर कार उद्रे ग अभृत 12:00 से 01:30 कार उद्रे ग अभृत योग राब शुब िर 01:30 से 03:00 राब शुब िर कार उद्रे ग अभृत योग 03:00 से 04:30 उद्रे ग अभृत योग राब शुब िर कार 04:30 से 06:00 शुब िर कार उद्रे ग अभृत योग राब शास्त्रोि भत क अनुशाय मफद फकसी बी कामा का प्रायॊ ब शुब भुहूता मा शुब सभम ऩय फकमा जामे तो कामा भं सपरता ेप्राद्ऱ होने फक सॊबावना ज्मादा प्रफर हो जाती हं । इस सरमे दै सनक शुब सभम िौघफड़मा दे खकय प्राद्ऱ फकमा जा सकता हं ।नोट: प्राम् फदन औय यात्रि क िौघफड़मे फक सगनती क्रभश् सूमोदम औय सूमाास्त से फक जाती हं । प्रत्मेक िौघफड़मे फक अवसध 1 ेघॊटा 30 सभसनट अथाात डे ढ़ घॊटा होती हं । सभम क अनुसाय िौघफड़मे को शुबाशुब तीन बागं भं फाॊटा जाता हं , जो क्रभश् शुब, ेभध्मभ औय अशुब हं । िौघफडमे क स्वाभी ग्रह े * हय कामा क सरमे शुब/अभृत/राब का ेशुब िौघफडमा भध्मभ िौघफडमा अशुब िौघफड़मा िौघफड़मा उत्तभ भाना जाता हं ।िौघफडमा स्वाभी ग्रह िौघफडमा स्वाभी ग्रह िौघफडमा स्वाभी ग्रहशुब गुरु िय शुक्र उद्बे ग सूमा * हय कामा क सरमे िर/कार/योग/उद्रे ग ेअभृत िॊद्रभा कार शसन का िौघफड़मा उसित नहीॊ भाना जाता।राब फुध योग भॊगर
  • 68. 68 पयवयी 2013 फदन फक होया - सूमोदम से सूमाास्त तक वाय 1.घॊ 2.घॊ 3.घॊ 4.घॊ 5.घॊ 6.घॊ 7.घॊ 8.घॊ 9.घॊ 10.घॊ 11.घॊ 12.घॊ यत्रववाय सूमा शुक्र फुध िॊद्र शसन गुरु भॊगर सूमा शुक्र फुध िॊद्र शसन सोभवाय िॊद्र शसन गुरु भॊगर सूमा शुक्र फुध िॊद्र शसन गुरु भॊगर सूमा भॊगरवाय भॊगर सूमा शुक्र फुध िॊद्र शसन गुरु भॊगर सूमा शुक्र फुध िॊद्र फुधवाय फुध िॊद्र शसन गुरु भॊगर सूमा शुक्र फुध िॊद्र शसन गुरु भॊगर गुरुवाय गुरु भॊगर सूमा शुक्र फुध िॊद्र शसन गुरु भॊगर सूमा शुक्र फुध शुक्रवाय शुक्र फुध िॊद्र शसन गुरु भॊगर सूमा शुक्र फुध िॊद्र शसन गुरु शसनवाय शसन गुरु भॊगर सूमा शुक्र फुध िॊद्र शसन गुरु भॊगर सूमा शुक्र यात फक होया – सूमाास्त से सूमोदम तक यत्रववाय गुरु भॊगर सूमा शुक्र फुध िॊद्र शसन गुरु भॊगर सूमा शुक्र फुध सोभवाय शुक्र फुध िॊद्र शसन गुरु भॊगर सूमा शुक्र फुध िॊद्र शसन गुरु भॊगरवाय शसन गुरु भॊगर सूमा शुक्र फुध िॊद्र शसन गुरु भॊगर सूमा शुक्र फुधवाय सूमा शुक्र फुध िॊद्र शसन गुरु भॊगर सूमा शुक्र फुध िॊद्र शसन गुरुवाय िॊद्र शसन गुरु भॊगर सूमा शुक्र फुध िॊद्र शसन गुरु भॊगर सूमा शुक्रवाय भॊगर सूमा शुक्र फुध िॊद्र शसन गुरु भॊगर सूमा शुक्र फुध िॊद्र शसनवाय फुध िॊद्र शसन गुरु भॊगर सूमा शुक्र फुध िॊद्र शसन गुरु भॊगरहोया भुहूता को कामा ससत्रद्ध क सरए ऩूणा परदामक एवॊ अिूक भाना जाता हं , फदन-यात क २४ घॊटं भं शुब-अशुब सभम े ेको सभम से ऩूवा ऻात कय अऩने कामा ससत्रद्ध क सरए प्रमोग कयना िाफहमे। ेत्रवद्रानो क भत से इस्च्छत कामा ससत्रद्ध क सरए ग्रह से सॊफॊसधत होया का िुनाव कयने से त्रवशेष राब े ेप्राद्ऱ होता हं ।  सूमा फक होया सयकायी कामो क सरमे उत्तभ होती हं । े  िॊद्रभा फक होया सबी कामं क सरमे उत्तभ होती हं । े  भॊगर फक होया कोटा -किेयी क कामं क सरमे उत्तभ होती हं । े े  फुध फक होया त्रवद्या-फुत्रद्ध अथाात ऩढाई क सरमे उत्तभ होती हं । े  गुरु फक होया धासभाक कामा एवॊ त्रववाह क सरमे उत्तभ होती हं । े  शुक्र फक होया मािा क सरमे उत्तभ होती हं । े  शसन फक होया धन-द्रव्म सॊफॊसधत कामा क सरमे उत्तभ होती हं । े
  • 69. 69 पयवयी 2013 ग्रह िरन पयवयी -2013Day Sun Mon Ma Me Jup Ven Sat Rah Ket Ua Nep Plu 1 09:18:14 05:15:37 10:05:06 09:27:52 01:12:17 09:04:33 06:17:12 06:28:06 00:28:06 11:11:35 10:08:01 08:16:19 2 09:19:15 05:29:07 10:05:53 09:29:38 01:12:17 09:05:48 06:17:14 06:28:02 00:28:02 11:11:37 10:08:03 08:16:21 3 09:20:16 06:12:48 10:06:41 10:01:23 01:12:18 09:07:03 06:17:16 06:28:01 00:28:01 11:11:39 10:08:05 08:16:23 4 09:21:17 06:26:42 10:07:28 10:03:08 01:12:19 09:08:18 06:17:17 06:28:01 00:28:01 11:11:42 10:08:07 08:16:25 5 09:22:17 07:10:49 10:08:15 10:04:52 01:12:20 09:09:34 06:17:19 06:28:01 00:28:01 11:11:44 10:08:10 08:16:27 6 09:23:18 07:25:09 10:09:03 10:06:36 01:12:21 09:10:49 06:17:20 06:27:59 00:27:59 11:11:47 10:08:12 08:16:28 7 09:24:19 08:09:38 10:09:50 10:08:18 01:12:22 09:12:04 06:17:21 06:27:54 00:27:54 11:11:49 10:08:14 08:16:30 8 09:25:20 08:24:14 10:10:38 10:09:59 01:12:24 09:13:19 06:17:22 06:27:47 00:27:47 11:11:52 10:08:16 08:16:32 9 09:26:21 09:08:49 10:11:25 10:11:38 01:12:26 09:14:34 06:17:23 06:27:37 00:27:37 11:11:54 10:08:18 08:16:3410 09:27:21 09:23:17 10:12:12 10:13:14 01:12:28 09:15:49 06:17:24 06:27:25 00:27:25 11:11:57 10:08:21 08:16:3511 09:28:22 10:07:31 10:13:00 10:14:47 01:12:30 09:17:05 06:17:25 06:27:12 00:27:12 11:12:00 10:08:23 08:16:3712 09:29:23 10:21:25 10:13:47 10:16:17 01:12:32 09:18:20 06:17:26 06:27:00 00:27:00 11:12:02 10:08:25 08:16:3913 10:00:23 11:04:55 10:14:34 10:17:43 01:12:35 09:19:35 06:17:27 06:26:50 00:26:50 11:12:05 10:08:27 08:16:4014 10:01:24 11:18:01 10:15:22 10:19:04 01:12:38 09:20:50 06:17:27 06:26:42 00:26:42 11:12:08 10:08:30 08:16:4215 10:02:25 00:00:42 10:16:09 10:20:20 01:12:41 09:22:05 06:17:28 06:26:38 00:26:38 11:12:11 10:08:32 08:16:4416 10:03:25 00:13:03 10:16:56 10:21:29 01:12:44 09:23:20 06:17:28 06:26:35 00:26:35 11:12:14 10:08:34 08:16:4517 10:04:26 00:25:07 10:17:43 10:22:32 01:12:47 09:24:35 06:17:28 06:26:35 00:26:35 11:12:16 10:08:37 08:16:4718 10:05:26 01:07:01 10:18:31 10:23:27 01:12:51 09:25:50 06:17:28 06:26:35 00:26:35 11:12:19 10:08:39 08:16:4819 10:06:27 01:18:49 10:19:18 10:24:14 01:12:55 09:27:05 06:17:28 06:26:34 00:26:34 11:12:22 10:08:41 08:16:5020 10:07:27 02:00:38 10:20:05 10:24:52 01:12:59 09:28:20 06:17:28 06:26:32 00:26:32 11:12:25 10:08:43 08:16:5121 10:08:28 02:12:32 10:20:52 10:25:20 01:13:03 09:29:35 06:17:28 06:26:27 00:26:27 11:12:28 10:08:46 08:16:5322 10:09:28 02:24:36 10:21:40 10:25:39 01:13:07 10:00:50 06:17:28 06:26:20 00:26:20 11:12:31 10:08:48 08:16:5423 10:10:29 03:06:53 10:22:27 10:25:48 01:13:12 10:02:05 06:17:27 06:26:10 00:26:10 11:12:34 10:08:50 08:16:5624 10:11:29 03:19:25 10:23:14 10:25:47 01:13:16 10:03:20 06:17:27 06:25:58 00:25:58 11:12:37 10:08:52 08:16:5725 10:12:29 04:02:14 10:24:01 10:25:37 01:13:21 10:04:35 06:17:26 06:25:45 00:25:45 11:12:40 10:08:55 08:16:5926 10:13:30 04:15:18 10:24:48 10:25:16 01:13:26 10:05:50 06:17:26 06:25:33 00:25:33 11:12:43 10:08:57 08:17:0027 10:14:30 04:28:38 10:25:35 10:24:47 01:13:31 10:07:05 06:17:25 06:25:22 00:25:22 11:12:46 10:08:59 08:17:0128 10:15:30 05:12:09 10:26:22 10:24:09 01:13:37 10:08:20 06:17:24 06:25:13 00:25:13 11:12:49 10:09:02 08:17:03
  • 70. 70 पयवयी 2013 सवा योगनाशक मॊि/कवि भनुष्म अऩने जीवन क त्रवसबन्न सभम ऩय फकसी ना फकसी साध्म मा असाध्म योग से ग्रस्त होता हं । ेउसित उऩिाय से ज्मादातय साध्म योगो से तो भुत्रि सभर जाती हं , रेफकन कबी-कबी साध्म योग होकय बीअसाध्म होजाते हं , मा कोइ असाध्म योग से ग्रससत होजाते हं । हजायो राखो रुऩमे खिा कयने ऩय बी असधकराब प्राद्ऱ नहीॊ हो ऩाता। डॉक्टय द्राया फदजाने वारी दवाईमा अल्ऩ सभम क सरमे कायगय सात्रफत होती हं , एसी ेस्स्थती भं राब प्रासद्ऱ क सरमे व्मत्रि एक डॉक्टय से दसये डॉक्टय क िक्कय रगाने को फाध्म हो जाता हं । े ू े बायतीम ऋषीमोने अऩने मोग साधना क प्रताऩ से योग शाॊसत हे तु त्रवसबन्न आमुवय औषधो क असतरयि े े ेमॊि, भॊि एवॊ तॊि का उल्रेख अऩने ग्रॊथो भं कय भानव जीवन को राब प्रदान कयने का साथाक प्रमास हजायोवषा ऩूवा फकमा था। फुत्रद्धजीवो क भत से जो व्मत्रि जीवनबय अऩनी फदनिमाा ऩय सनमभ, सॊमभ यख कय आहाय ेग्रहण कयता हं , एसे व्मत्रि को त्रवसबन्न योग से ग्रससत होने की सॊबावना कभ होती हं । रेफकन आज केफदरते मुग भं एसे व्मत्रि बी बमॊकय योग से ग्रस्त होते फदख जाते हं । क्मोफक सभग्र सॊसाय कार क अधीन ेहं । एवॊ भृत्मु सनस्ित हं स्जसे त्रवधाता क अरावा औय कोई टार नहीॊ सकता, रेफकन योग होने फक स्स्थती भं ेव्मत्रि योग दय कयने का प्रमास तो अवश्म कय सकता हं । इस सरमे मॊि भॊि एवॊ तॊि क कशर जानकाय से ू े ुमोग्म भागादशान रेकय व्मत्रि योगो से भुत्रि ऩाने का मा उसक प्रबावो को कभ कयने का प्रमास बी अवश्म ेकय सकता हं । ज्मोसतष त्रवद्या क कशर जानकय बी कार ऩुरुषकी गणना कय अनेक योगो क अनेको यहस्म को े ु ेउजागय कय सकते हं । ज्मोसतष शास्त्र क भाध्मभ से योग क भूरको ऩकडने भे सहमोग सभरता हं , जहा े ेआधुसनक सिफकत्सा शास्त्र अऺभ होजाता हं वहा ज्मोसतष शास्त्र द्राया योग क भूर(जड़) को ऩकड कय उसका ेसनदान कयना राबदामक एवॊ उऩामोगी ससद्ध होता हं । हय व्मत्रि भं रार यॊ गकी कोसशकाए ऩाइ जाती हं , स्जसका सनमभीत त्रवकास क्रभ फद्ध तयीक से होता ेयहता हं । जफ इन कोसशकाओ क क्रभ भं ऩरयवतान होता है मा त्रवखॊफडन होता हं तफ व्मत्रि क शयीय भं े ेस्वास्थ्म सॊफॊधी त्रवकायो उत्ऩन्न होते हं । एवॊ इन कोसशकाओ का सॊफॊध नव ग्रहो क साथ होता हं । स्जस्से योगो ेक होने क कायण व्मत्रि क जन्भाॊग से दशा-भहादशा एवॊ ग्रहो फक गोिय स्स्थती से प्राद्ऱ होता हं । े े े सवा योग सनवायण कवि एवॊ भहाभृत्मुॊजम मॊि क भाध्मभ से व्मत्रि क जन्भाॊग भं स्स्थत कभजोय एवॊ े ेऩीफडत ग्रहो क अशुब प्रबाव को कभ कयने का कामा सयरता ऩूवक फकमा जासकता हं । जेसे हय व्मत्रि को े ाब्रह्माॊड फक उजाा एवॊ ऩृथ्वी का गुरुत्वाकषाण फर प्रबावीत कताा हं फठक उसी प्रकाय कवि एवॊ मॊि क भाध्मभ ेसे ब्रह्माॊड फक उजाा क सकायात्भक प्रबाव से व्मत्रि को सकायात्भक उजाा प्राद्ऱ होती हं स्जस्से योग क प्रबाव े ेको कभ कय योग भुि कयने हे तु सहामता सभरती हं । योग सनवायण हे तु भहाभृत्मुॊजम भॊि एवॊ मॊि का फडा भहत्व हं । स्जस्से फहन्द ू सॊस्कृ सत का प्राम् हयव्मत्रि भहाभृत्मुॊजम भॊि से ऩरयसित हं ।
  • 71. 71 पयवयी 2013कवि क राब : े एसा शास्त्रोि विन हं स्जस घय भं भहाभृत्मुॊजम मॊि स्थात्रऩत होता हं वहा सनवास कताा हो नाना प्रकाय फक आसध-व्मासध-उऩासध से यऺा होती हं । ऩूणा प्राण प्रसतत्रष्ठत एवॊ ऩूणा िैतन्म मुि सवा योग सनवायण कवि फकसी बी उम्र एवॊ जासत धभा क रोग े िाहे स्त्री हो मा ऩुरुष धायण कय सकते हं । जन्भाॊगभं अनेक प्रकायक खयाफ मोगो औय खयाफ ग्रहो फक प्रसतकरता से योग उतऩन्न होते हं । े ू कछ योग सॊक्रभण से होते हं एवॊ कछ योग खान-ऩान फक असनमसभतता औय अशुद्धतासे उत्ऩन्न होते हं । ु ु कवि एवॊ मॊि द्राया एसे अनेक प्रकाय क खयाफ मोगो को नष्ट कय, स्वास्थ्म राब औय शायीरयक यऺण प्राद्ऱ े कयने हे तु सवा योगनाशक कवि एवॊ मॊि सवा उऩमोगी होता हं । आज क बौसतकता वादी आधुसनक मुगभे अनेक एसे योग होते हं , स्जसका उऩिाय ओऩये शन औय दवासे बी े कफठन हो जाता हं । कछ योग एसे होते हं स्जसे फताने भं रोग फहिफकिाते हं शयभ अनुबव कयते हं एसे ु योगो को योकने हे तु एवॊ उसक उऩिाय हे तु सवा योगनाशक कवि एवॊ मॊि राबादासम ससद्ध होता हं । े प्रत्मेक व्मत्रि फक जेसे-जेसे आमु फढती हं वैसे-वसै उसक शयीय फक ऊजाा कभ होती जाती हं । स्जसक साथ े े अनेक प्रकाय क त्रवकाय ऩैदा होने रगते हं एसी स्स्थती भं उऩिाय हे तु सवायोगनाशक कवि एवॊ मॊि परप्रद े होता हं । स्जस घय भं त्रऩता-ऩुि, भाता-ऩुि, भाता-ऩुिी, मा दो बाई एक फह नऺिभे जन्भ रेते हं , तफ उसकी भाता क सरमे असधक कष्टदामक स्स्थती होती हं । उऩिाय हे तु भहाभृत्मुॊजम मॊि परप्रद होता हं । े स्जस व्मत्रि का जन्भ ऩरयसध मोगभे होता हं उन्हे होने वारे भृत्मु तुल्म कष्ट एवॊ होने वारे योग, सिॊता भं उऩिाय हे तु सवा योगनाशक कवि एवॊ मॊि शुब परप्रद होता हं । नोट:- ऩूणा प्राण प्रसतत्रष्ठत एवॊ ऩूणा िैतन्म मुि सवा योग सनवायण कवि एवॊ मॊि क फाये भं असधक े जानकायी हे तु सॊऩक कयं । ा Declaration Notice  We do not accept liability for any out of date or incorrect information.  We will not be liable for your any indirect consequential loss, loss of profit,  If you will cancel your order for any article we can not any amount will be refunded or Exchange.  We are keepers of secrets. We honour our clients rights to privacy and will release no information about our any other clients transactions with us.  Our ability lies in having learned to read the subtle spiritual energy, Yantra, mantra and promptings of the natural and spiritual world.  Our skill lies in communicating clearly and honestly with each client.  Our all kawach, yantra and any other article are prepared on the Principle of Positiv energy, our Article dose not produce any bad energy. Our Goal  Here Our goal has The classical Method-Legislation with Proved by specific with fiery chants prestigious full consciousness (Puarn Praan Pratisthit) Give miraculous powers & Good effect All types of Yantra, Kavach, Rudraksh, preciouse and semi preciouse Gems stone deliver on your door step.
  • 72. 72 पयवयी 2013 भॊि ससद्ध कविभॊि ससद्ध कवि को त्रवशेष प्रमोजन भं उऩमोग क सरए औय शीघ्र प्रबाव शारी फनाने क सरए तेजस्वी भॊिो द्राया े ेशुब भहूता भं शुब फदन को तैमाय फकमे जाते हं . अरग-अरग कवि तैमाय कयने कसरए अरग-अरग तयह क े ेभॊिो का प्रमोग फकमा जाता हं .  क्मं िुने भॊि ससद्ध कवि?  उऩमोग भं आसान कोई प्रसतफन्ध नहीॊ  कोई त्रवशेष सनसत-सनमभ नहीॊ  कोई फुया प्रबाव नहीॊ  कवि क फाये भं असधक जानकायी हे तु े भॊि ससद्ध कवि सूसिसवा कामा ससत्रद्ध 4600/- ऋण भुत्रि 910/- त्रवघ्न फाधा सनवायण 550/-सवा जन वशीकयण 1450/- धन प्रासद्ऱ 820/- नज़य यऺा 550/-अष्ट रक्ष्भी 1250/- तॊि यऺा 730/- दबााग्म नाशक ु 460/-सॊतान प्रासद्ऱ 1250/- शिु त्रवजम 730/- * वशीकयण (२-३ व्मत्रिक सरए) े 1050/-स्ऩे- व्माऩाय वृत्रद्ध 1050/- त्रववाह फाधा सनवायण 730/- * ऩिी वशीकयण 640/-कामा ससत्रद्ध 1050/- व्माऩाय वृत्रद्ध 730/-- * ऩसत वशीकयण 640/-आकस्स्भक धन प्रासद्ऱ 1050/- सवा योग सनवायण 730/- सयस्वती (कऺा +10 क सरए) े 550/-नवग्रह शाॊसत 910/- भस्स्तष्क ऩृत्रष्ट वधाक 640/- सयस्वती (कऺा 10 तकक सरए) े 460/-बूसभ राब 910/- काभना ऩूसता 640/- * वशीकयण ( 1 व्मत्रि क सरए) े 640/-काभ दे व 910/- त्रवयोध नाशक 640/- योजगाय प्रासद्ऱ 550/-ऩदं उन्नसत 910/- योजगाय वृत्रद्ध 730/-*कवि भाि शुब कामा मा उद्दे श्म क सरमे े GURUTVA KARYALAY 92/3. BANK COLONY, BRAHMESHWAR PATNA, BHUBNESWAR-751018, (ORISSA) Call Us - 9338213418, 9238328785 Our Website:- www.gurutvakaryalay.com and http://gurutvakaryalay.blogspot.com/ Email Us:- gurutva_karyalay@yahoo.in, gurutva.karyalay@gmail.com (ALL DISPUTES SUBJECT TO BHUBANESWAR JURISDICTION) (ALL DISPUTES SUBJECT TO BHUBANESWAR JURISDICTION)
  • 73. 73 पयवयी 2013 GURUTVA KARYALAY YANTRA LIST EFFECTS Our Splecial Yantra 1 12 – YANTRA SET For all Family Troubles 2 VYAPAR VRUDDHI YANTRA For Business Development 3 BHOOMI LABHA YANTRA For Farming Benefits 4 TANTRA RAKSHA YANTRA For Protection Evil Sprite 5 AAKASMIK DHAN PRAPTI YANTRA For Unexpected Wealth Benefits 6 PADOUNNATI YANTRA For Getting Promotion 7 RATNE SHWARI YANTRA For Benefits of Gems & Jewellery 8 BHUMI PRAPTI YANTRA For Land Obtained 9 GRUH PRAPTI YANTRA For Ready Made House10 KAILASH DHAN RAKSHA YANTRA - Shastrokt Yantra11 AADHYA SHAKTI AMBAJEE(DURGA) YANTRA Blessing of Durga12 BAGALA MUKHI YANTRA (PITTAL) Win over Enemies13 BAGALA MUKHI POOJAN YANTRA (PITTAL) Blessing of Bagala Mukhi14 BHAGYA VARDHAK YANTRA For Good Luck15 BHAY NASHAK YANTRA For Fear Ending16 CHAMUNDA BISHA YANTRA (Navgraha Yukta) Blessing of Chamunda & Navgraha17 CHHINNAMASTA POOJAN YANTRA Blessing of Chhinnamasta18 DARIDRA VINASHAK YANTRA For Poverty Ending19 DHANDA POOJAN YANTRA For Good Wealth20 DHANDA YAKSHANI YANTRA For Good Wealth21 GANESH YANTRA (Sampurna Beej Mantra) Blessing of Lord Ganesh22 GARBHA STAMBHAN YANTRA For Pregnancy Protection23 GAYATRI BISHA YANTRA Blessing of Gayatri24 HANUMAN YANTRA Blessing of Lord Hanuman25 JWAR NIVARAN YANTRA For Fewer Ending JYOTISH TANTRA GYAN VIGYAN PRAD SHIDDHA BISHA26 YANTRA For Astrology & Spritual Knowlage27 KALI YANTRA Blessing of Kali28 KALPVRUKSHA YANTRA For Fullfill your all Ambition29 KALSARP YANTRA (NAGPASH YANTRA) Destroyed negative effect of Kalsarp Yoga30 KANAK DHARA YANTRA Blessing of Maha Lakshami31 KARTVIRYAJUN POOJAN YANTRA -32 KARYA SHIDDHI YANTRA For Successes in work33  SARVA KARYA SHIDDHI YANTRA For Successes in all work34 KRISHNA BISHA YANTRA Blessing of Lord Krishna35 KUBER YANTRA Blessing of Kuber (Good wealth)36 LAGNA BADHA NIVARAN YANTRA For Obstaele Of marriage37 LAKSHAMI GANESH YANTRA Blessing of Lakshami & Ganesh38 MAHA MRUTYUNJAY YANTRA For Good Health39 MAHA MRUTYUNJAY POOJAN YANTRA Blessing of Shiva40 MANGAL YANTRA ( TRIKON 21 BEEJ MANTRA) For Fullfill your all Ambition41 MANO VANCHHIT KANYA PRAPTI YANTRA For Marriage with choice able Girl42 NAVDURGA YANTRA Blessing of Durga
  • 74. 74 पयवयी 2013 YANTRA LIST EFFECTS43 NAVGRAHA SHANTI YANTRA For good effect of 9 Planets44 NAVGRAHA YUKTA BISHA YANTRA For good effect of 9 Planets45  SURYA YANTRA Good effect of Sun46  CHANDRA YANTRA Good effect of Moon47  MANGAL YANTRA Good effect of Mars48  BUDHA YANTRA Good effect of Mercury49  GURU YANTRA (BRUHASPATI YANTRA) Good effect of Jyupiter50  SUKRA YANTRA Good effect of Venus51  SHANI YANTRA (COPER & STEEL) Good effect of Saturn52  RAHU YANTRA Good effect of Rahu53  KETU YANTRA Good effect of Ketu54 PITRU DOSH NIVARAN YANTRA For Ancestor Fault Ending55 PRASAW KASHT NIVARAN YANTRA For Pregnancy Pain Ending56 RAJ RAJESHWARI VANCHA KALPLATA YANTRA For Benefits of State & Central Gov57 RAM YANTRA Blessing of Ram58 RIDDHI SHIDDHI DATA YANTRA Blessing of Riddhi-Siddhi59 ROG-KASHT DARIDRATA NASHAK YANTRA For Disease- Pain- Poverty Ending60 SANKAT MOCHAN YANTRA For Trouble Ending61 SANTAN GOPAL YANTRA Blessing Lorg Krishana For child acquisition62 SANTAN PRAPTI YANTRA For child acquisition63 SARASWATI YANTRA Blessing of Sawaswati (For Study & Education)64 SHIV YANTRA Blessing of Shiv Blessing of Maa Lakshami for Good Wealth & 65 SHREE YANTRA (SAMPURNA BEEJ MANTRA) Peace 66 SHREE YANTRA SHREE SUKTA YANTRA Blessing of Maa Lakshami for Good Wealth 67 SWAPNA BHAY NIVARAN YANTRA For Bad Dreams Ending 68 VAHAN DURGHATNA NASHAK YANTRA For Vehicle Accident Ending VAIBHAV LAKSHMI YANTRA (MAHA SHIDDHI DAYAK SHREE Blessing of Maa Lakshami for Good Wealth & All 69 MAHALAKSHAMI YANTRA) Successes 70 VASTU YANTRA For Bulding Defect Ending 71 VIDHYA YASH VIBHUTI RAJ SAMMAN PRAD BISHA YANTRA For Education- Fame- state Award Winning 72 VISHNU BISHA YANTRA Blessing of Lord Vishnu (Narayan) 73 VASI KARAN YANTRA Attraction For office Purpose 74  MOHINI VASI KARAN YANTRA Attraction For Female 75  PATI VASI KARAN YANTRA Attraction For Husband 76  PATNI VASI KARAN YANTRA Attraction For Wife 77  VIVAH VASHI KARAN YANTRA Attraction For Marriage PurposeYantra Available @:- Rs- 255, 370, 460, 550, 640, 730, 820, 910, 1250, 1850, 2300, 2800 and Above….. GURUTVA KARYALAY 92/3. BANK COLONY, BRAHMESHWAR PATNA, BHUBNESWAR-751018, (ORISSA) Call Us - 09338213418, 09238328785 Our Website:- www.gurutvakaryalay.com and http://gurutvakaryalay.blogspot.com/ Email Us:- chintan_n_joshi@yahoo.co.in, gurutva_karyalay@yahoo.in, gurutva.karyalay@gmail.com (ALL DISPUTES SUBJECT TO BHUBANESWAR JURISDICTION)
  • 75. 75 पयवयी 2013 GURUTVA KARYALAY NAME OF GEM STONE GENERAL MEDIUM FINE FINE SUPER FINE SPECIAL Emerald (ऩन्ना) 200.00 500.00 1200.00 1900.00 2800.00 & above Yellow Sapphire (ऩुखयाज) 550.00 1200.00 1900.00 2800.00 4600.00 & above Blue Sapphire (नीरभ) 550.00 1200.00 1900.00 2800.00 4600.00 & above White Sapphire (सफ़द ऩुखयाज) े 550.00 1200.00 1900.00 2800.00 4600.00 & above Bangkok Black Blue(फंकोक नीरभ) 100.00 150.00 200.00 500.00 1000.00 & above Ruby (भास्णक) 100.00 190.00 370.00 730.00 1900.00 & above Ruby Berma (फभाा भास्णक) 5500.00 6400.00 8200.00 10000.00 21000.00 & above Speenal (नयभ भास्णक/रारडी) 300.00 600.00 1200.00 2100.00 3200.00 & above Pearl (भोसत) 30.00 60.00 90.00 120.00 280.00 & above Red Coral (4 यसत तक) (रार भूॊगा) 75.00 90.00 12.00 180.00 280.00 & above Red Coral (4 यसत से उऩय)( रार भूॊगा) 120.00 150.00 190.00 280.00 550.00 & above White Coral (सफ़द भूॊगा) े 20.00 28.00 42.00 51.00 90.00 & above Cat’s Eye (रहसुसनमा) 25.00 45.00 90.00 120.00 190.00 & above Cat’s Eye Orissa (उफडसा रहसुसनमा) 460.00 640.00 1050.00 2800.00 5500.00 & above Gomed (गोभेद) 15.00 27.00 60.00 90.00 120.00 & above Gomed CLN (ससरोनी गोभेद) 300.00 410.00 640.00 1800.00 2800.00 & above Zarakan (जयकन) 350.00 450.00 550.00 640.00 910.00 & above Aquamarine (फेरुज) 210.00 320.00 410.00 550.00 730.00 & above Lolite (नीरी) 50.00 120.00 230.00 390.00 500.00 & above Turquoise (फफ़योजा) 15.00 30.00 45.00 60.00 90.00 & above Golden Topaz (सुनहरा) 15.00 30.00 45.00 60.00 90.00 & above Real Topaz (उफडसा ऩुखयाज/टोऩज) 60.00 120.00 280.00 460.00 640.00 & above Blue Topaz (नीरा टोऩज) 60.00 90.00 120.00 280.00 460.00 & above White Topaz (सफ़द टोऩज) े 60.00 90.00 120.00 240.00 410.00& above Amethyst (कटे रा) 20.00 30.00 45.00 60.00 120.00 & above Opal (उऩर) 30.00 45.00 90.00 120.00 190.00 & above Garnet (गायनेट) 30.00 45.00 90.00 120.00 190.00 & above Tourmaline (तुभरीन) ा 120.00 140.00 190.00 300.00 730.00 & above Star Ruby (सुमकान्त भस्ण) ा 45.00 75.00 90.00 120.00 190.00 & above Black Star (कारा स्टाय) 15.00 30.00 45.00 60.00 100.00 & above Green Onyx (ओनेक्स) 09.00 12.00 15.00 19.00 25.00 & above Real Onyx (ओनेक्स) 60.00 90.00 120.00 190.00 280.00 & above Lapis (राजवात) 15.00 25.00 30.00 45.00 55.00 & above Moon Stone (िन्द्रकान्त भस्ण) 12.00 21.00 30.00 45.00 100.00 & above Rock Crystal (स्फ़फटक) 09.00 12.00 15.00 30.00 45.00 & above Kidney Stone (दाना फफ़यॊ गी) 09.00 11.00 15.00 19.00 21.00 & above Tiger Eye (टाइगय स्टोन) 03.00 05.00 10.00 15.00 21.00 & above Jade (भयगि) 12.00 19.00 23.00 27.00 45.00 & above Sun Stone (सन ससताया) 12.00 19.00 23.00 27.00 45.00 & above 50.00 100.00 200.00 370.00 460.00 & above Diamond (हीया) (Per Cent ) (Per Cent ) (PerCent ) (Per Cent) (Per Cent ) (.05 to .20 Cent )Note : Bangkok (Black) Blue for Shani, not good in looking but mor effective, Blue Topaz not Sapphire This Color of Sky Blue, For Venus
  • 76. 76 पयवयी 2013 BOOK PHONE/ CHAT CONSULTATION We are mostly engaged in spreading the ancient knowledge of Astrology, Numerology, Vastu and SpiritualScience in the modern context, across the world. Our research and experiments on the basic principals of various ancient sciences for the use of common man.exhaustive guide lines exhibited in the original Sanskrit textsBOOK APPOINTMENT PHONE/ CHAT CONSULTATION Please book an appointment with Our expert Astrologers for an internet chart . We would require your birthdetails and basic area of questions so that our expert can be ready and give you rapid replied. You can indicate thearea of question in the special comments box. In case you want more than one person reading, then please mentionin the special comment box . We shall confirm before we set the appointment. Please choose from : PHONE/ CHAT CONSULTATION Consultation 30 Min.: RS. 1250/-* Consultation 45 Min.: RS. 1900/-* Consultation 60 Min.: RS. 2500/-**While booking the appointment in AddvanceHow Does it work Phone/Chat ConsultationThis is a unique service of GURUATVA KARYALAY where we offer you the option of having a personalizeddiscussion with our expert astrologers. There is no limit on the number of question although time is ofconsideration.Once you request for the consultation, with a suggestion as to your convenient time we get back with aconfirmation whether the time is available for consultation or not.  We send you a Phone Number at the designated time of the appointment  We send you a Chat URL / ID to visit at the designated time of the appointment  You would need to refer your Booking number before the chat is initiated  Please remember it takes about 1-2 minutes before the chat process is initiated.  Once the chat is initiated you can commence asking your questions and clarifications  We recommend 25 minutes when you need to consult for one persona Only and usually the time is sufficient for 3-5 questions depending on the timing questions that are put.  For more than these questions or one birth charts we would recommend 60/45 minutes Phone/chat is recommended  Our expert is assisted by our technician and so chatting & typing is not a bottle neckIn special cases we dont have the time available about your Specific Questions We will taken some time forproperly Analysis your birth chart and we get back with an alternate or ask you for an alternate.All the time mentioned is Indian Standard Time which is + 5.30 hr ahead of G.M.T.Many clients prefer the chat so that many questions that come up during a personal discussion can beanswered right away.BOOKING FOR PHONE/ CHAT CONSULTATION PLEASE CONTECT GURUTVA KARYALAY Call Us:- 91+9338213418, 91+9238328785. Email Us:- gurutva_karyalay@yahoo.in, gurutva.karyalay@gmail.com, chintan_n_joshi@yahoo.co.in,
  • 77. 77 पयवयी 2013 सूिना ऩत्रिका भं प्रकासशत सबी रेख ऩत्रिका क असधकायं क साथ ही आयस्ऺत हं । े े रेख प्रकासशत होना का भतरफ मह कतई नहीॊ फक कामाारम मा सॊऩादक बी इन त्रविायो से सहभत हं। नास्स्तक/ अत्रवश्वासु व्मत्रि भाि ऩठन साभग्री सभझ सकते हं । ऩत्रिका भं प्रकासशत फकसी बी नाभ, स्थान मा घटना का उल्रेख महाॊ फकसी बी व्मत्रि त्रवशेष मा फकसी बी स्थान मा घटना से कोई सॊफॊध नहीॊ हं । प्रकासशत रेख ज्मोसतष, अॊक ज्मोसतष, वास्तु, भॊि, मॊि, तॊि, आध्मास्त्भक ऻान ऩय आधारयत होने क कायण े मफद फकसी क रेख, फकसी बी नाभ, स्थान मा घटना का फकसी क वास्तत्रवक जीवन से भेर होता हं तो मह भाि े े एक सॊमोग हं । प्रकासशत सबी रेख बायसतम आध्मास्त्भक शास्त्रं से प्रेरयत होकय सरमे जाते हं । इस कायण इन त्रवषमो फक सत्मता अथवा प्राभास्णकता ऩय फकसी बी प्रकाय फक स्जन्भेदायी कामाारम मा सॊऩादक फक नहीॊ हं । अन्म रेखको द्राया प्रदान फकमे गमे रेख/प्रमोग फक प्राभास्णकता एवॊ प्रबाव फक स्जन्भेदायी कामाारम मा सॊऩादक फक नहीॊ हं । औय नाहीॊ रेखक क ऩते फठकाने क फाये भं जानकायी दे ने हे तु कामाारम मा सॊऩादक फकसी बी े े प्रकाय से फाध्म हं । ज्मोसतष, अॊक ज्मोसतष, वास्तु, भॊि, मॊि, तॊि, आध्मास्त्भक ऻान ऩय आधारयत रेखो भं ऩाठक का अऩना त्रवश्वास होना आवश्मक हं । फकसी बी व्मत्रि त्रवशेष को फकसी बी प्रकाय से इन त्रवषमो भं त्रवश्वास कयने ना कयने का अॊसतभ सनणाम स्वमॊ का होगा। ऩाठक द्राया फकसी बी प्रकाय फक आऩत्ती स्वीकामा नहीॊ होगी। हभाये द्राया ऩोस्ट फकमे गमे सबी रेख हभाये वषो क अनुबव एवॊ अनुशॊधान क आधाय ऩय सरखे होते हं । हभ फकसी बी व्मत्रि े े त्रवशेष द्राया प्रमोग फकमे जाने वारे भॊि- मॊि मा अन्म प्रमोग मा उऩामोकी स्जन्भेदायी नफहॊ रेते हं । मह स्जन्भेदायी भॊि-मॊि मा अन्म प्रमोग मा उऩामोको कयने वारे व्मत्रि फक स्वमॊ फक होगी। क्मोफक इन त्रवषमो भं नैसतक भानदॊ डं, साभास्जक, कानूनी सनमभं क स्खराप कोई व्मत्रि मफद नीजी स्वाथा ऩूसता हे तु प्रमोग कताा हं अथवा प्रमोग े क कयने भे िुफट होने ऩय प्रसतकर ऩरयणाभ सॊबव हं । े ू हभाये द्राया ऩोस्ट फकमे गमे सबी भॊि-मॊि मा उऩाम हभने सैकडोफाय स्वमॊ ऩय एवॊ अन्म हभाये फॊधगण ऩय प्रमोग फकमे हं ु स्जस्से हभे हय प्रमोग मा भॊि-मॊि मा उऩामो द्राया सनस्ित सपरता प्राद्ऱ हुई हं । ऩाठकं फक भाॊग ऩय एक फह रेखका ऩून् प्रकाशन कयने का असधकाय यखता हं । ऩाठकं को एक रेख क ऩून् े प्रकाशन से राब प्राद्ऱ हो सकता हं । असधक जानकायी हे तु आऩ कामाारम भं सॊऩक कय सकते हं । ा (सबी त्रववादो कसरमे कवर बुवनेश्वय न्मामारम ही भान्म होगा।) े े
  • 78. 78 पयवयी 2013 FREE E CIRCULAR गुरुत्व ज्मोसतष ऩत्रिका पयवयी -2013सॊऩादकसिॊतन जोशीसॊऩकागुरुत्व ज्मोसतष त्रवबागगुरुत्व कामाारम92/3. BANK COLONY, BRAHMESHWAR PATNA, BHUBNESWAR-751018, (ORISSA)INDIAपोन91+9338213418, 91+9238328785ईभेरgurutva.karyalay@gmail.com,gurutva_karyalay@yahoo.in,वेफwww.gurutvakaryalay.comhttp://gk.yolasite.com/http://www.gurutvakaryalay.blogspot.com/
  • 79. 79 पयवयी 2013 हभाया उद्दे श्मत्रप्रम आस्त्भम फॊध/ फफहन ु जम गुरुदे व जहाॉ आधुसनक त्रवऻान सभाद्ऱ हो जाता हं । वहाॊ आध्मास्त्भक ऻान प्रायॊ ब हो जाता हं , बौसतकता का आवयण ओढे व्मत्रिजीवन भं हताशा औय सनयाशा भं फॊध जाता हं , औय उसे अऩने जीवन भं गसतशीर होने क सरए भागा प्राद्ऱ नहीॊ हो ऩाता क्मोफक ेबावनाए फह बवसागय हं , स्जसभे भनुष्म की सपरता औय असपरता सनफहत हं । उसे ऩाने औय सभजने का साथाक प्रमास ही श्रेष्ठकयसपरता हं । सपरता को प्राद्ऱ कयना आऩ का बाग्म ही नहीॊ असधकाय हं । ईसी सरमे हभायी शुब काभना सदै व आऩ क साथ हं । आऩ ेअऩने कामा-उद्दे श्म एवॊ अनुकरता हे तु मॊि, ग्रह यि एवॊ उऩयि औय दरब भॊि शत्रि से ऩूणा प्राण-प्रसतत्रष्ठत सिज वस्तु का हभंशा ू ु ाप्रमोग कये जो १००% परदामक हो। ईसी सरमे हभाया उद्दे श्म महीॊ हे की शास्त्रोि त्रवसध-त्रवधान से त्रवसशष्ट तेजस्वी भॊिो द्राया ससद्धप्राण-प्रसतत्रष्ठत ऩूणा िैतन्म मुि सबी प्रकाय क मन्ि- कवि एवॊ शुब परदामी ग्रह यि एवॊ उऩयि आऩक घय तक ऩहोिाने का हं । े े सूमा की फकयणे उस घय भं प्रवेश कयाऩाती हं । जीस घय क स्खड़की दयवाजे खुरे हं। े GURUTVA KARYALAY 92/3. BANK COLONY, BRAHMESHWAR PATNA, BHUBNESWAR-751018, (ORISSA) Call Us - 9338213418, 9238328785 Our Website:- www.gurutvakaryalay.com and http://gurutvakaryalay.blogspot.com/ Email Us:- gurutva_karyalay@yahoo.in, gurutva.karyalay@gmail.com (ALL DISPUTES SUBJECT TO BHUBANESWAR JURISDICTION) (ALL DISPUTES SUBJECT TO BHUBANESWAR JURISDICTION)
  • 80. 80 पयवयी 2013Feb2013