SlideShare a Scribd company logo
1 of 12
[object Object]
मृत्यु:३० जनवरी १९४८ (७८ वर्ष की आयु में)नई दिल्ली, भारत
मृत्यु का कारण:हत्या
राष्ट्रीयता:भारतीय
अन्य नाम: महात्मा गाँधी
शिक्षा :युनिवर्सिटी कॉलिज, लंदन
प्रसिद्धि कारण:भारतीय स्वतंत्रता संग्राम
राजनैतिक पार्टी:भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
धार्मिक मान्यता:हिन्दू
जीवनसाथी:कस्तूरबा गाँधी
बच्चे:हरिलाल, मणिलाल, रामदास, देवदास,[object Object]

More Related Content

Similar to Gandhi ji

History of mahtma gandhi
History of mahtma gandhiHistory of mahtma gandhi
History of mahtma gandhidharamkhatana
 
Subhash Chandra Bose Jayanti 2024 नेताजी सुभाष चंद्र बोस जयंती.pdf
Subhash Chandra Bose Jayanti 2024 नेताजी सुभाष चंद्र बोस जयंती.pdfSubhash Chandra Bose Jayanti 2024 नेताजी सुभाष चंद्र बोस जयंती.pdf
Subhash Chandra Bose Jayanti 2024 नेताजी सुभाष चंद्र बोस जयंती.pdfsangam2official
 
हिंदी परियोजना कार्य
हिंदी परियोजना कार्यहिंदी परियोजना कार्य
हिंदी परियोजना कार्यkaran saini
 

Similar to Gandhi ji (6)

Kamala PPT (2) (1).pdf
Kamala PPT (2) (1).pdfKamala PPT (2) (1).pdf
Kamala PPT (2) (1).pdf
 
Gandhi ji
Gandhi jiGandhi ji
Gandhi ji
 
DOC-20230131-WA0002..pptx
DOC-20230131-WA0002..pptxDOC-20230131-WA0002..pptx
DOC-20230131-WA0002..pptx
 
History of mahtma gandhi
History of mahtma gandhiHistory of mahtma gandhi
History of mahtma gandhi
 
Subhash Chandra Bose Jayanti 2024 नेताजी सुभाष चंद्र बोस जयंती.pdf
Subhash Chandra Bose Jayanti 2024 नेताजी सुभाष चंद्र बोस जयंती.pdfSubhash Chandra Bose Jayanti 2024 नेताजी सुभाष चंद्र बोस जयंती.pdf
Subhash Chandra Bose Jayanti 2024 नेताजी सुभाष चंद्र बोस जयंती.pdf
 
हिंदी परियोजना कार्य
हिंदी परियोजना कार्यहिंदी परियोजना कार्य
हिंदी परियोजना कार्य
 

More from anant agarwal

More from anant agarwal (9)

conrolling process and management business studies
conrolling process and management business studiesconrolling process and management business studies
conrolling process and management business studies
 
Slr(Statutory Liquidity Ratio)
Slr(Statutory Liquidity Ratio)Slr(Statutory Liquidity Ratio)
Slr(Statutory Liquidity Ratio)
 
Pollution
PollutionPollution
Pollution
 
Input
InputInput
Input
 
Inflation
InflationInflation
Inflation
 
Arunchal pradesh
Arunchal pradeshArunchal pradesh
Arunchal pradesh
 
Presentation
PresentationPresentation
Presentation
 
Arunachal 1
Arunachal 1Arunachal 1
Arunachal 1
 
circles
circlescircles
circles
 

Gandhi ji

  • 1.
  • 2.
  • 3. मृत्यु:३० जनवरी १९४८ (७८ वर्ष की आयु में)नई दिल्ली, भारत
  • 12.
  • 13. गांधीजी के जैसा जीवन जीनेवाला और कोई व्यक्ति दोबारा न होगा. अपनी मृत्यु के समय वे उसी दरिद्रनारायण की प्रतिमूर्ति थे जिनके श्रेय के लिए उन्होंने अपने शरीर को भी ढंकना उचित न जाना. उनके जीवन प्रसंग युगों-युगों तक सभी को प्रेरणा देते रहेंगे.
  • 14.
  • 15.
  • 16.
  • 17. गांधीजी वैश्विक स्तर के नेता थे भले ही वे किसी राजनैतिक पद पर कभी नहीं रहे. करोड़ों व्यक्ति आज भी उन्हें पूजते हैं और उनके प्रति असीम श्रद्धा रखते हैं. अपने सरल जीवन में उन्होंने किसी भटकाव या वचनबद्धता को नहीं आने दिया. बच्चों के साथ समय बिताने के लिए वे अपनी राजनैतिक बैठकें भी निरस्त कर दिया करते थे.
  • 18.
  • 19. सरल-सहज जीवन जीने की योग्यता ने गांधीजी को सदैव महत्तर उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए गतिमान रखा. जनता और विश्व के प्रति उनकी प्रतिबद्धताएं उनकी प्राथमिकता थीं.
  • 20.
  • 21. “महात्मा” भारत में गांधीजी ने जो कुछ किया और कहा उसकी सही रिपोर्ट जो नाताल नहीं पहुँची। उसे बढ़ा-चढ़ाकर तोड़-मरोड़ कर वहाँ पेश किया गया। इसे लेकर वहाँ के गोरे वाशिंदे गुस्से से आग बबुला हो उठे थे। 'क्रूरलैंड` नामक जहाज से जब गांधीजी नाताल पहुँचे तो वहाँ के गोरों ने उनके साथ अभद्र व्यवहार किया। उन पर सड़े अंडों और कंकड़ पत्थर की बौछार होने लगी। भीड़ ने उन्हें लात-घूसों से पीटा। अगर पुलिस सुपरिंटेंडंट की पत्नी ने बीच-बचाव न किया होता तो उस दिन उनके प्राण पखेरू उड़ गये होते। उधर लंदन के उपनिवेश मंत्री ने गांधीजी पर हमला करने वालों पर कार्रवाई करने के लिए नाताल सरकार को तार भेजा। गांधीजी ने ओरपियों को पहचानने से इंकार करते हुए उनके विरुद्ध कोई भी कार्रवाई न करने का अनुरोध किया। गांधीजी ने कहा, "वे गुमराह किये गये हैं, जब उन्हें सच्चाई का पता चलेगा तब उन्हें अपने किये का पश्चाताप खुद होगा। मैं उन्हें क्षमा करता हूँ।" ऐसा लग रहा था जैसे ये वाक्य गांधीजी के न होकर उनके भीतर स्पंदित हो रहे किसी महात्मा के होंl
  • 22. देश को मिली आजादी आखिर वह दिन भी आ गया, जब भारत आजाद हुआ। 15 अगस्त 1947 को देश स्वतंत्र हुआ। गांधीजी ने इस दिन आयोजित किये गये समारोह में भाग न लेकर कलकत्ता जाना उचित समझा। जहाँ सांप्रदायिक दंगों की आग सब कुछ तहस-नहस कर रही थी। गांधीती के वहाँ जाने पर धीरे-धीरे स्थिति शांत हो गई। कुछ दिन वहाँ पर गांधीजी ने प्रार्थना एवं उपवास में गुजारें। दुर्भाग्य से 31 अगस्त को कलकत्ता दंगों की आग में जलने लगा। सांप्रदायिक दंगों की आड़ में लूट, हत्या, बलात्कार का भीषण कांड शुरू हुआ। अब गांधीजी के पा एक ही विकल्प था 'अपने जीवन के अंतिम क्षणों तक व्रत करना।' गांधीजी की इस घोषणा ने सारी स्थिति ही बदल डाली। उनका जादू लोगों पर चल गया। 4 सितंबर को विभिन्न धर्मों के नेताओं ने उनसे इस धार्मिक पागलपन के लिए माफी माँगी। साथ ही यह प्रतिज्ञा की कि अब कलकत्ता में दंगे नहीं होंगे। नेताओं की इस शपथ के बाद गांधीजी ने व्रत तोड़ दिया। कलकत्ता तो शांत हो गया किंतु भारत-पाक विभाजन के कारण अन्य शहरों में दंगों ने जोर पकड़ लिया।
  • 23.