Successfully reported this slideshow.
We use your LinkedIn profile and activity data to personalize ads and to show you more relevant ads. You can change your ad preferences anytime.

भारतनन्दन विवेकानन्द

592 views

Published on

My article published in the special issue of "Sanchetana" (published from Ujjain) dedicated to Swami Vivekananda on his 150th Birth Anniversary.

Published in: Spiritual

भारतनन्दन विवेकानन्द

  1. 1. भारतन दन ववेकान द भारत क बेजोड़ भ यता उसक आ याि मक एवं सां कृ तक वरासत को आभार है । उ हं क सबल नींव ने भारत क अि त व को संजोये रखा है , उस पर हु ए आ मण और परतं ता क बल े े हार क आगे उसे नामशेष होने से बचाए रखा है । े वैभव से वलास क ओर लु ढ़कने क भू ल भारतीय शासक ने भले ह क और भु गती हो, पर और क रा े का पाप भरतीय सं कार म नह ं है । स य, अ हंसा, क गौरव-गथाएँ दमन और शोषण क वष-च े परतं ेम को आहत करने और ललकारने ेम, क णा, शां त, स ावना, शौय और धैय क बीच भी पनपती रह ं । े भारत दो मू लभू त चु नौ तय से लड़ रहा था – आ या म से स दायवाद, जा तवाद और ि य क धम क नाम पर अवहे लना क ओर भटक धम को अपनी राह पर पु न: लाने क आंत रक चुनौती े े और परतं ता क भीषण लपट से शो षत-पी ड़त आहत आ मगौरव को जगाने क बा य चु नौती । पि चम क सा ा यवाद ने जहाँ अम रक महा वीप क मू ल नवासी रे ड इं डयन , े े नवासी माओ रय और ऑ दया, वहाँ अ यु ज़ीलड क मू ल े े लया क मू ल नवा सय को गु मनामी और अवन त क ओर धकल े े क महा वीप क जा तय को गु लामी क मृ त ाय जीवन म झ क दया । इसी े सा ा यवाद क काल छाया भारत पर भी पड़ी और उसक अि धयार से झू झते भारत क संत त मन े े को “ऊठो, जागो !” क एक माता क महान सपू त े कोलकाता क े चंड गजना ने नई आ म-चेतना से भर दया । वामी ववेकान द क ! ी व वनाथ द त और भु वने वर दे वी क चरं जीवी नरे े रामकृ ण परमहं स क प श य क े े हु ए । प म संयास हण करक े नाथ द त द ेरणा बु इसी गु ण से हण करते ह – राम, कृ ण, बु का स श त होता है, उसक का शत हमारे अवतार और वभू तय क जीवन से हम े .... । ववेक से र हत ेम मोह बन जाता है , प ले लेती है और अ धकार-सू झ कत य-शू य हो कर हाहाकार मचाती है । मन, जीवन एवं समाज म अशां त और वनाश फलता है । ऐसे अथ-पू ण, ै करने वाले ी म छपा है – “ ववेकन द” ! न य-अ न य, सह -गलत क ववेक क सहारे ह तो मनव-जीवन का माग े े होती है ! णे वर क े वामी ववेकान द क नाम से े मानव-जीवन क सम त दु वधाओं का अंत उनक नाम-मा े साथकता स यह गजना थी भारत ा वनाशक प रणाम व प ेरणादायी नाम को धारण वामी ववेकान द ने 39 वष क अपनी अ प आयु यावधी म अपने तप:पू त वचार-वाणी- यवहार से ऐसी द य ऊजा वा हत क क आज भी वे व व-भर म लाख लोग क लए े ेरणा- ोत ह, पथ-दशक ह । अपने गु दे व ी रामकृ ण परमहंस क आ ानु सार म अपने जीवन को सम पत कया । क थापना क । वामीजी ने जीव-मा म बसे नारायण क सेवा इसी उ े य को पू रा करने क लए उ ह ने “रामकृ ण मशन” े भारत-भर म प र मण करक उ ह ने समकाल न भारत क प रि थ त का े अ ययन करक भारतीय जनमानस म व भ न े तर पर बसी अ छाइय और समझा और उसक सम याओं क सह समाधान का माग े श त कया । ु टय को जाना- स ांत / आदश और उन 1
  2. 2. पर आधा रत यव था क े त गलत समझ और उसक फल व प हु ए दोष े -यु त यांवयन से उ प न सम याओं म ब हमु खी मानस अ सर स ांत / आदश और यव थाओं का दोष दे खता है । धम और पर पराओं स ब धी सम याओं म अ धकतर यह होता है । कालांतर म स ांत / आदश म न हत भाव व लन हो जाता है और जड़ बा याचार का यापक, खोखला बनाता रहता है । व प समाज को दु बल बाल- ववाह, स त- था, म हलाओं / (तथाक थत) ‘ न न’ वग क लोग को श ण े से वं चत रखना, म हलाओं का शोषण, अ पृ यता, जा तवाद वगेरे ऐसे ह सामािजक दोष थे और ह । समाज म या त इस तक पहु ँचाने क लए े कार क दू षण क उ मू लन और धम एवं पर पराओं क सह समझ लोग े े वामीजी ने न कवल जीवन े -पयत “रामकृ ण मशन” जैसे सं थान क यास कए, बि क “रामकृ ण मठ” और थपना कर क यह काय अ वरत चलता रहे ऐसा आयोजन भी े उ ह ने कया । भारत से बाहर भारत एवं भारतीय सं कृ त और ह दू धम क बारे म सह, सकारा मक समझ फलाने े ै का काय भी खर वामीजी ने कया । उनक वाणी का ा, अ वतीय भाव अ ु त था ! और मरण-शि त, एका ता और क णा-सभर एक उ च कोट क संगीतकार और गायक भी थे वे ! े उ तम हो, यह य न हो ? कशा ु बु , दय स प न होने क साथ-साथ े ऐसे गु ण क धनी यि त व क अ भ यि त े वाभा वक ह है । शकागो व वधम प रषद (11 सत बर, 1893) म उनका वचन ऐ तहा सक एवं अ व मरणीय बन गया । ह दू धम क मौ लकता – स ह णु ता और सव यापकता को वहाँ उ ह ने उजागर कया । भारतीय सनातन (आ याि मक) वचारधारा क अक-समान वैि वक े स दभ क आधार पर सव-धम ऐ य / समंवय और व व- ेम का स दे श उ ह ने दया । अम रका े तथा यू रोप म उनक अनेक े मे लाउड, भ गनी शंसक, अनु यायी और श य बन गए । उनम से भ गनी नवे दता, मस ट न, से वयर द पि त, आ द श य ने वामीजी क काय को अपना जीवन े सम पत कया । धम क उ चत समझ को जा तवाद और ि ि वमीजी श ण का आधार मानते थे । भारत क मू लभू त सम याओं – य क अवहेलना – क नवारण क लए यो य श ण को वे अ नवाय मानते थे । े े य क “ि थ त सु धारने” और “पु न थान” क वषय म उनका मत मौ लक होने क साथ-साथ े े एकदम तक एवं स वेदना संगत था – ि नणय वयं लेने क य को सह वतं ता द जानी चा हए । श ण दे कर उ ह अपने जीवन स ब धी उनक ओर से उनक जीवन क नणय लेकर े े उनक अि मता का तर कार करने क भू ल से उ प न सा त सम याओं को वे इस कार नमू ल करना चाहते थे । एक स यासी क प रचय समान उनक आष- ि ट और जीव-मा े वाणी- यवहार म क े त उनक क णा उनक वचारे त ण छलकती थी ऐसा उनक वचार - या यान को पढ़कर और उनक वषय म े े लखे गए सा ह य को पढ़कर सु प ट हो जाता है । भारत क पावन भू म पर अंक रत हो फल ु ू फल आ या म पर परा, उसक धम- भा भारत क ओर से व व को सवा धक बहु मू य दान होगा 2
  3. 3. ऐसा उ ह व वास था । सवा धक और भारत क इसी पु य भू म पर मानव-जीवन क दा ण दु दशा उ ह य थत करती थी । यह वेदना छलकती थी । उनक वामीजी क अपू व रा -भि त म भारत क े श या भ गनी नवे दता कहती थीं क त अहोभाव क साथ े वामीजी क मु ख से “भारत” े श द का उ चारण इतना भावभरा होता था क सु ननेवाला अ भभू त हो जाता था । श या मस मेकलाउड ने एक बार उनसे पू छा, “ वामीजी, हम आपक लए े मला, “भारत से तो ेम करो ....” ववेकाननद ( वचार क ववर रवी उनक एक और या कर ?” तु रंत उ तर नाथ ठाक र ने कहा था, “य द भारत को जानना हो, ु / सा ह य) का अ ययन करो ....” 12 जनवर , 1921 क े ववेकान द क ज मो सव म भाग लेने बेलू र मठ म पधारे रा े दन वामी पता महा मा गा धी ने कहा था, “ वामी ववेकान द क पु तक पढ़कर मेर रा -भि त म हज़ार गु ना वृ ी हो गई है ....” । रोमा रोलाँ ने वामी ववेकान द को शि त / ऊजा का जीवंत वराजमान नारायण का वे आ वान करते थे । मौ लक स य उ घो षत करक उ ह ने हर े मानव मा मानव मा म वयं पर व वास न करना नाि तकता है , यह कार क दु बलता–द नता से मु त होने क राह दखाई । म न हत एक ह ईश त व क वेदांत को उ ह ने जीवन म उतारा था । द यता क वैदां तक स य को उ ह ने पु नजागृ त कया । े वामीजी क भारतीयता म वैि वकता समाई थी, िजसक े आगे उनक समय का जन-मन नतम तक हो गया था । े ने व प कहा था । व व भर म उनक समय क हर महापु ष े े ी रामकृ ण परमहं स स हत उनक दै द यमान आभा का गु णगान कया । वामीजी ने भारत क गौरव को ऐसी ऊचाइय को सर करते दशन कया था िजसक आगे उसक े ँ े अतीत क भ यता सामा य-सी लगने लगे । क लए े क नाम पर आंकड़ क खेल म झु लसे भारत े े वामीजी क 150वीं ज म-जयं त पर आइए चं तन कर – सामािजक वषमता दू र करने क े भाव क लाश को ढोती आर ण- यव था, र हमार लोकतं / नकलखोर से श ण- यव था को कसे उबार और इसम हम ै प रवार-जीवन, म हलाओं, सफलता, या योगदान दे सकते ह ? वतं ता और पार प रकता क े वामी ववेकान द क पु य- मृ त को व दन करक, आइए े भारत और भारतीयता क े - त हमार उ न त- ग त का आधार, त आचरण-मू लक त हमारा ि टकोण या र त , व थ है ? ाथना कर क हर भारतीय का दय ा और भि त भर जाए । व नता ठ कर वडोदरा ( का शत : “कालजयी वामी ववेकान द” संचेतना क वशेष तु त – श क संचेतना, राजभाषा संघष स म त एवं अ खल भारतीय सा ह य प रषद, उ जैन का संयु त उप म) 3

×