SlideShare a Scribd company logo
1 of 3
Download to read offline
How to do Shavasana (Corpse Pose) and what are its Benefits
विश्राभ की कला कॊ कभ भत सभझॊ। सिासना अऩक
े ऄभ्यास की सफसे कठिन भुद्रा हॊ सकती है।
क
ै से करें शवासन (कॉर्पस र्ॊज़) और क्या हैं इसक
े फायदे
शिासन, सिासना मा कॉऩपस ऩॊज़ एक ऐसा असन है जहााँ शािा - कॉऩपस; असन - भुद्रा; ईच्चायण क
े रूऩ भें - शुह-
िाह-सना; संस्क
ृ त: शिासन। मह भुद्रा एक भृत शयीय की भुद्रा से मभलती जुलती है औय आसललए आसका नाभकयण वकमा
गमा है। शिा लजसका ऄथप है "लाश", औय असन लजसका ऄथप है "असन"मा "असन"। मह स्थितत कापी असान लगती
है, लेवकन मह अऩक
े शयीय कॊ ऩूयी तयह से अयाभ देने की अिश्यकता भें से सफसे कठिन बी हॊ सकती है। औय भन।
आस भुद्रा कॊ अभतोय ऩय एक सविम मॊग सत्र क
े फाद ऄभ्यास वकमा जाता है। मह गहयी लिवकत्सा कयता है औय अऩक
े
शयीय कॊ ऩूयी तयह से शांत कयता है। जफ बी अऩ फेहद थक
े रृए हों औय जल्दी काभ ऩय िाऩस जाने की अिश्यकता हॊ
तॊ अऩ आस भुद्रा का ऄभ्यास बी कय सकते हैं। मह ताज़ा औय कामाकल्प कयने िाला है।
1. इस आसन कॊ करने से र्हले आर्कॊ येर्ता हॊना चाहहए
वकसी बी ऄन्य मॊग असन की तयह, मह बी एक बॊजन क
े फाद कभ से कभ िाय से छह घंटे वकमा जाना िाठहए। जफ
अऩ आस ऩॊजीशन का ऄभ्यास कयते हैं तॊ अऩकी अंतें औय ऩेट खाली हॊना िाठहए। एक अयाभ भुद्रा हॊने क
े नाते,
आसका ऄभ्यास तफ वकमा जा सकता है जफ बी अऩकॊ ऄऩनी सांस कॊ ऩकड़ने मा अयाभ कयने की अिश्यकता हॊती
है, मा तॊ अऩक
े कसयत क
े फाद मा फाद भें।
शिासन अयाभ औय विश्राभ कॊ फढािा देता है। हालााँवक, अऩकॊ ऄऩने अऩ कॊ सॊते रृए से फिने की अिश्यकता है
क्योंवक अऩ आसका ऄभ्यास कयते हैं। मठद अऩ ईनींदाऩन भहसूस कयते हैं, तॊ अऩकॊ फस गहयी, तेज सांसें लेनी होंगी।
आस असन क
े ललए एकाग्रता का फरृत भहत्व है।
 स्तर: फुमनमादी
 शैली: ऄष्ांग मॊग
 अवधि: 10 - 12 मभनट
 र्ुनरावृत्ति: कॊइ नहीं
 मजबूती: शयीय कॊ ऩुनिापवऩत कयता है
2. क
ै से करें शवासन (कॉर्पस र्ॊज़)
 पशप ऩय सऩाट लेटें, मह सुमनश्चित कयें वक भुद्रा की ऄिमध क
े ललए कॊइ गड़फड़ी नहीं हॊगी। सुमनश्चित कयें वक
अऩ सहज हैं, लेवकन तवकए मा क
ु शन का ईऩमॊग न कयें। मह सफसे ऄच्छा हॊगा मठद अऩ एक कठिन सतह
ऩय झूि फॊलते हैं।
 ऄऩनी अाँखें फंद कयॊ।
 ऄऩने ऩैयों कॊ ऐसे यखें वक िे अयाभ से ऄलग हों। सुमनश्चित कयें वक अऩक
े ऩैय ऩूयी तयह से अयाभ कयते हैं
औय अऩक
े ऩैय की ईंगललमों का साभना कयना ऩड़ यहा है।
 अऩकी हथेललमों कॊ अऩक
े शयीय क
े साथ औय थॊड़ा ऄलग यखा जाना िाठहए, लजससे अऩकी हथेललमााँ खुली
यहें औय उऩय की ओय यहें।
 ऄफ, ऄऩने ऩैय की ईंगललमों से शुरू कयते रृए, धीये-धीये ऄऩने शयीय क
े हय क्षेत्र ऩय ध्यान अकवषित कयें। जैसा
वक अऩ ऐसा कयते हैं, धीये-धीये सााँस लें, ठपय बी गहयाइ से, ऄऩने शयीय कॊ गहयी छ
ू ट की स्थितत भें िावऩत
कयें। आस प्रविमा भें सॊ जाना नहीं है।
 धीये-धीये सांस लें, ठपय बी गहयाइ से। मह ऩूयी छ
ू ट प्रदान कयेगा। जैसे-जैसे अऩ सांस लेंगे, अऩका शयीय
उजापिान हॊगा, औय जैसे-जैसे अऩ सांस छॊड़ेंगे, अऩका शयीय शांत हॊता जाएगा। ऄन्य सबी कामों कॊ बूलकय
ऄऩने औय ऄऩने शयीय ऩय ध्यान दें। जाने दॊ औय सभऩपण कयॊ! लेवकन सुमनश्चित कयें वक अऩ फंद नहीं कयेंगे।
 लगबग 10 से 12 मभनट भें, जफ अऩका शयीय लशतथल औय तयॊताजा भहसूस कयता है, तॊ ऄऩनी अाँखों कॊ फंद
यखते रृए, एक तयप यॊल कयें। एक मभनट तक आस स्थितत भें यहें, जफ तक अऩ सुखासन भें न फैि जाएं।
 क
ु छ गहयी सााँसें लें औय ऄऩनी अाँखें ठपय से खॊलने से ऩहले ऄऩने असऩास क
े फाये भें जागरूकता हालसल कयें।
3. साविाधनयाां और अांतर्विरॊि
मह असन बफल्क
ु ल सुयक्षक्षत है औय वकसी औय सबी द्वाया ऄभ्यास वकमा जा सकता है। जफ तक अऩक
े डॉक्टय ने
अऩकॊ ऄऩनी ऩीि ऩय झूि न फॊलने की सलाह दी है, तफ तक अऩ आस असन का ऄभ्यास कय सकते हैं।
मठद अऩ गबपिती हैं, तॊ अयाभ क
े ललए ऄऩने लसय औय छाती कॊ एक फॊल्ट ऩय यखना एक ऄच्छा वििाय हॊ सकता है।
4. शुरुआत क
े र्िप्स
हभाये व्यस्त, तनािऩूणप जीिन भें, ऩूयी तयह से जाने औय अयाभ कयने क
े ललए कापी काभ हॊ सकता है। शिासन क
े फाये
भें सफसे कठिन ठहस्सा जांघ की हठिमों क
े लसय कॊ छॊड़ना है, तावक कभय नयभ हॊ जाए। मठद कभय कॊ नयभ नहीं वकमा
जाता है, तॊ मह ईलित श्वास कॊ प्रततफंमधत कय सकता है औय आसललए, ऩूये शयीय भें तनाि ऩैदा कयता है। आससे मनऩटने
क
े ललए, अऩ ऄऩनी जांघों ऩय, कभय की िीज ऩय ऩााँि वकलॊ िज़न लगा सकते हैं, औय ठपय िज़न क
े कायण नीिे की
ओय दफाए जांघ की हिी क
े लसय की कल्पना कय सकते हैं।
5. एडवाांस्ड र्ॊज़ वहरएशन्स
 मठद अऩ ऄऩने क
ं धों, छाती मा ऩीि भें जकड़न का ऄनुबि कयते हैं, तॊ अऩक
े क
ं धे पशप ऩय अयाभ नहीं कयेंगे,
औय आससे अऩकी गदपन ऩय दफाि ऩड़ेगा। आस भाभले भें, ऄऩने लसय कॊ थॊड़ा उ
ं िा कयना औय आसे ऄऩनी गदपन
क
े सभान स्तय ऩय लाना एक ऄच्छा वििाय है। मह अऩकी गदपन क
े वऩछले ठहस्से कॊ नयभ कयने भें भदद कयेगा।
अऩकॊ फस ऄऩने लसय क
े नीिे एक भुड़ा रृअ क
ं फल लगाना हॊगा, तावक मह अऩक
े क
ं धों क
े शीषप ऩय सभाप्त
हॊ।
 मठद ऩीि क
े मनिले ठहस्से मा हैभस्ट्रंग की भांसऩेलशमां तंग हैं, तॊ लाश मा सिासना भुद्रा का ऄभ्यास कयते
सभम ऄऩने ऩैयों कॊ उऩय ईिाना एक ऄच्छा वििाय हॊ सकता है। मह तफ बी ऄच्छा काभ कयता है जफ अऩकॊ
ऩीि क
े मनिले ठहस्से औय क
ू ल्हों भें ददप औय तकलीप हॊ। अऩकॊ फस ऄऩने घुटनों क
े नीिे एक फॊल्ट लगाने
की अिश्यकता है। मठद अऩक
े ऩास हाथ भें एक फॊल्ट नहीं है, तॊ अऩ क
ं फल कॊ ढेय कय सकते हैं औय ईन्हें
ऄऩने घुटनों क
े नीिे यख सकते हैं।
6. शवासन (कॉर्पस र्ॊज़) क
े लाभ
 शायीरयक स्थितत क
े ललए शयीय लाता है
 शयीय अयाभ कयता है औय एक गहयी ध्यान की स्थितत भें िला जाता है, जॊ फदले भें कॊलशकाओं औय उतकों
की भयम्मत भें भदद कयता है औय तनाि जायी कयता है।
 अयाभ औय शयीय कॊ शांत कयता है
 शिासन अऩक
े शयीय कॊ ठपय से बय देता है औय ठपय से जीिंत कय देता है। मह अऩकी कसयत का एक
शानदाय ऄंत है, खासकय ऄगय मह एक तीव्र यहा है। सिसाना कसयत क
े ललए जगह औय सभम बी देता है। मह
व्यामाभ औय अऩक
े दैमनक काभों क
े फीि एक अदशप फपय है।
 यक्तिाऩ औय लििंता कॊ कभ कयता है
 जैसे-जैसे अऩका शयीय अयाभ कयता है औय शांत हॊता है, अऩका यक्तिाऩ बी कभ हॊ जाता है, औय आससे
अऩक
े ठदल कॊ अयाभ मभलता है। नतीजतन, लििंता मनमंत्रण भें है।
 एकाग्रता औय माददाश्त फढाता है
 ध्यान का सीधा प्रबाि ध्यान औय एकाग्रता है। जफ अऩ ऄऩने शयीय क
े प्रत्येक क्षेत्र ऩय ध्यान क
ें ठद्रत कयते हैं जफ
अऩ शिासन भें हॊते हैं, तॊ अऩका भन स्वतः ही एकाग्रता औय माददाश्त भें सुधाय कयता है।
 उजाप क
े स्तय कॊ फढाता है
 त्वरयत उजाप हालसल कयने का सफसे तेज औय सुयक्षक्षत तयीका है सिासना। 10 मभनट का ब्रेक अऩक
े शयीय कॊ
उजाप देता है, औय आससे अऩकी ईत्पादकता फढती है।
7. शवासन (कॉर्पस र्ॊज़)क
े र्ीछेकार्वज्ञान
 शिासन अऩक
े शयीय औय ठदभाग कॊ ऩयभ विश्राभ देता है, जॊ व्यामाभ औय संतुललत अहाय क
े ललए अिश्यक
है।
 एक ज़ॊयदाय कसयत क
े फाद लजसभें ्रेलििंग, विस्टिंग, कॉन्ट्रैक्क्टिंग औय भसल्स कॊ ऄंदय कयना शामभल है,
शिासन अऩक
े शयीय कॊ अयाभ कयने औय ठपय से संगठित कयने की ऄनुभतत देता है। महां तक वक सफसे
ईऩेक्षक्षत भांसऩेलशमों कॊ बी क
ु छ सभम क
े ललए ऄऩने तनाि कॊ कभ कयने का भोका मभलेगा।
 मॊग तंबत्रका तंत्र कॊ न्यूयॊभस्क
ु लय सूिनाओं की एक ऩूयी श्रृंखला क
े साथ प्रस्तुत कयता है। शिासन अऩक
े
ठदभाग कॊ ठदन क
े मनममभत तनाि भें व्यस्त हॊने से ऩहले अऩक
े तंबत्रका तंत्र कॊ आस जानकायी कॊ एकीक
ृ त
कयने भें भदद कयता है।
 शिासन अऩक
े भन औय शयीय क
े फाये भें गहयी जागरूकता प्रदान कयता है। अऩ ऄऩने द्वाया ली जाने िाली
प्रत्येक सांस क
े प्रतत फेहद जागरूक हॊ जाते हैं आसललए, मह ईन लॊगों क
े ललए गहये ध्यान का एक ऄदबुत
ऩरयिम है जॊ आसभें रुलि यखते हैं।
 मॊग एक ऄनुष्ठान है। मह िाभप-ऄऩ क
े साथ शुरू हॊता है, आसक
े फाद ही ऄभ्यास हॊता है, औय एक तयह क
े
एकीकयण ियण क
े साथ व्यामाभ क
े प्रबािों क
े ललए भन औय शयीय भें रयसना हॊता है। शिासन ईसे प्राप्त कयने
भें भदद कयता है। मह एक संतॊषजनक िक
प अईट का सही ऄंत है।
8. प्रारांधभकर्ॊज़
मह असन अऩकॊ सबी सविम असन औय प्राणामाभों क
े साथ कयने क
े फाद वकमा जाना िाठहए।
9. फॉल-अर्र्ॊज़
सुखासन मा असान भुद्रा क
े साथ शिासन का ऩालन कयें। मह भन कॊ शांत कयता है, औय मह शयीय कॊ िीक कयता है।
सफसे ऄच्छी फात मह है वक मह आस असन कॊ कयने क
े ललए कॊइ प्रमास नहीं कयता है, औय मह अऩकॊ जाने औय
िास्ति भें अयाभ कयने का ऄिसय देता है। ऄऩने सबी लाबों कॊ ऩुनः प्राप्त कयने क
े ललए ऄऩने मॊग शासन भें आस
अिश्यक असन कॊ जॊड़ें।

More Related Content

Similar to How to do shavasana (corpse pose) and what are its benefits

Similar to How to do shavasana (corpse pose) and what are its benefits (20)

13 effective pranayama and yoga asana exercises to stop hair loss
13 effective pranayama and yoga asana exercises to stop hair loss13 effective pranayama and yoga asana exercises to stop hair loss
13 effective pranayama and yoga asana exercises to stop hair loss
 
How to do adho mukha svanasana (down facing dog pose) and what are its benefits
How to do adho mukha svanasana (down facing dog pose) and what are its benefitsHow to do adho mukha svanasana (down facing dog pose) and what are its benefits
How to do adho mukha svanasana (down facing dog pose) and what are its benefits
 
7 yoga asanas that will help you fight depression
7 yoga asanas that will help you fight depression7 yoga asanas that will help you fight depression
7 yoga asanas that will help you fight depression
 
How to do bharadvajasana (seated spinal twist pose) and what are its benefits
How to do bharadvajasana (seated spinal twist pose) and what are its benefitsHow to do bharadvajasana (seated spinal twist pose) and what are its benefits
How to do bharadvajasana (seated spinal twist pose) and what are its benefits
 
How to do supta matsyendrasana (supine spinal twist pose) and what are its be...
How to do supta matsyendrasana (supine spinal twist pose) and what are its be...How to do supta matsyendrasana (supine spinal twist pose) and what are its be...
How to do supta matsyendrasana (supine spinal twist pose) and what are its be...
 
7 best yogasanas for strong & toned your arms
7 best yogasanas for strong & toned your arms7 best yogasanas for strong & toned your arms
7 best yogasanas for strong & toned your arms
 
8 yoga exercises that will help you get relief from l4 (lumbar) pain.
8 yoga exercises that will help you get relief from l4 (lumbar) pain.8 yoga exercises that will help you get relief from l4 (lumbar) pain.
8 yoga exercises that will help you get relief from l4 (lumbar) pain.
 
How to do padmasana (lotus pose) and what are its benefits
How to do padmasana (lotus pose) and what are its benefitsHow to do padmasana (lotus pose) and what are its benefits
How to do padmasana (lotus pose) and what are its benefits
 
10 immunity boosting yoga asanas to get rid of cold and flu
10 immunity boosting yoga asanas to get rid of cold and flu10 immunity boosting yoga asanas to get rid of cold and flu
10 immunity boosting yoga asanas to get rid of cold and flu
 
11 ways to gain your legs strong with yoga poses
11 ways to gain your legs strong with yoga poses11 ways to gain your legs strong with yoga poses
11 ways to gain your legs strong with yoga poses
 
10 amazing yoga poses to increase height and grow taller naturally
10 amazing yoga poses to increase height and grow taller naturally10 amazing yoga poses to increase height and grow taller naturally
10 amazing yoga poses to increase height and grow taller naturally
 
7 yoga asanas which reduce more your belly fat than doing heavy exercise
7 yoga asanas which reduce more your belly fat than doing heavy exercise7 yoga asanas which reduce more your belly fat than doing heavy exercise
7 yoga asanas which reduce more your belly fat than doing heavy exercise
 
How to do ardha matsyendrasana (half spinal twist pose) and what are its bene...
How to do ardha matsyendrasana (half spinal twist pose) and what are its bene...How to do ardha matsyendrasana (half spinal twist pose) and what are its bene...
How to do ardha matsyendrasana (half spinal twist pose) and what are its bene...
 
How to do jathara parivartanasana (two knee spinal twist pose) and what are i...
How to do jathara parivartanasana (two knee spinal twist pose) and what are i...How to do jathara parivartanasana (two knee spinal twist pose) and what are i...
How to do jathara parivartanasana (two knee spinal twist pose) and what are i...
 
7 yoga poses for a strong digestive system that improves your digestion
7 yoga poses for a strong digestive system that improves your digestion7 yoga poses for a strong digestive system that improves your digestion
7 yoga poses for a strong digestive system that improves your digestion
 
The 10 best beginner yoga poses for men
The 10 best beginner yoga poses for menThe 10 best beginner yoga poses for men
The 10 best beginner yoga poses for men
 
How to do pawanmuktasana (wind relieving pose) and what are its benefits
How to do pawanmuktasana (wind relieving pose) and what are its benefitsHow to do pawanmuktasana (wind relieving pose) and what are its benefits
How to do pawanmuktasana (wind relieving pose) and what are its benefits
 
How to do ananda balasana (happy baby pose) and what are its benefits
How to do ananda balasana (happy baby pose) and what are its benefitsHow to do ananda balasana (happy baby pose) and what are its benefits
How to do ananda balasana (happy baby pose) and what are its benefits
 
8 effective yoga asanas for weight gain
8 effective yoga asanas for weight gain8 effective yoga asanas for weight gain
8 effective yoga asanas for weight gain
 
Yoga for skin whitening
Yoga for skin whiteningYoga for skin whitening
Yoga for skin whitening
 

More from Shivartha

More from Shivartha (20)

How to do virasana (hero pose) and what are its benefits
How to do virasana (hero pose) and what are its benefitsHow to do virasana (hero pose) and what are its benefits
How to do virasana (hero pose) and what are its benefits
 
How to do vasisthasana (side plank pose) and what are its benefits
How to do vasisthasana (side plank pose) and what are its benefitsHow to do vasisthasana (side plank pose) and what are its benefits
How to do vasisthasana (side plank pose) and what are its benefits
 
How to do vajrasana (diamond pose) and what are its benefits
How to do vajrasana (diamond pose) and what are its benefitsHow to do vajrasana (diamond pose) and what are its benefits
How to do vajrasana (diamond pose) and what are its benefits
 
How to do utthita parsvakonasana (extended side angle pose) and what are its ...
How to do utthita parsvakonasana (extended side angle pose) and what are its ...How to do utthita parsvakonasana (extended side angle pose) and what are its ...
How to do utthita parsvakonasana (extended side angle pose) and what are its ...
 
How to do utkatasana (chair pose) and what are its benefits
How to do utkatasana (chair pose) and what are its benefitsHow to do utkatasana (chair pose) and what are its benefits
How to do utkatasana (chair pose) and what are its benefits
 
How to do ustrasana (camel pose) and what are its benefits
How to do ustrasana (camel pose) and what are its benefitsHow to do ustrasana (camel pose) and what are its benefits
How to do ustrasana (camel pose) and what are its benefits
 
How to do urdhva dhanurasana (upward bow pose) and what are its benefits
How to do urdhva dhanurasana (upward bow pose) and what are its benefitsHow to do urdhva dhanurasana (upward bow pose) and what are its benefits
How to do urdhva dhanurasana (upward bow pose) and what are its benefits
 
How to do tolasana (scale pose) and what are its benefits
How to do tolasana (scale pose) and what are its benefitsHow to do tolasana (scale pose) and what are its benefits
How to do tolasana (scale pose) and what are its benefits
 
How to do supta virasana (reclining hero pose) and what are its benefits
How to do supta virasana (reclining hero pose) and what are its benefitsHow to do supta virasana (reclining hero pose) and what are its benefits
How to do supta virasana (reclining hero pose) and what are its benefits
 
How to do supta padangusthasana (reclining hand to-big-toe pose) and what are...
How to do supta padangusthasana (reclining hand to-big-toe pose) and what are...How to do supta padangusthasana (reclining hand to-big-toe pose) and what are...
How to do supta padangusthasana (reclining hand to-big-toe pose) and what are...
 
How to do supta baddha konasana (reclining bound angle pose) and what are its...
How to do supta baddha konasana (reclining bound angle pose) and what are its...How to do supta baddha konasana (reclining bound angle pose) and what are its...
How to do supta baddha konasana (reclining bound angle pose) and what are its...
 
How to do simhasana (lion pose) and what are its benefits
How to do simhasana (lion pose) and what are its benefitsHow to do simhasana (lion pose) and what are its benefits
How to do simhasana (lion pose) and what are its benefits
 
How to do purvottanasana (upward plank pose) and what are its benefits
How to do purvottanasana (upward plank pose) and what are its benefitsHow to do purvottanasana (upward plank pose) and what are its benefits
How to do purvottanasana (upward plank pose) and what are its benefits
 
How to do padangusthasana (big toe pose) and what are its benefits
How to do padangusthasana (big toe pose) and what are its benefitsHow to do padangusthasana (big toe pose) and what are its benefits
How to do padangusthasana (big toe pose) and what are its benefits
 
How to do natarajasana (lord of the dance pose) and what are its benefits
How to do natarajasana (lord of the dance pose) and what are its benefitsHow to do natarajasana (lord of the dance pose) and what are its benefits
How to do natarajasana (lord of the dance pose) and what are its benefits
 
How to do mayurasana (peacock pose) and what are its benefits
How to do mayurasana (peacock pose) and what are its benefitsHow to do mayurasana (peacock pose) and what are its benefits
How to do mayurasana (peacock pose) and what are its benefits
 
How to do eka pada rajakapotasana (one legged king pigeon pose) and what are ...
How to do eka pada rajakapotasana (one legged king pigeon pose) and what are ...How to do eka pada rajakapotasana (one legged king pigeon pose) and what are ...
How to do eka pada rajakapotasana (one legged king pigeon pose) and what are ...
 
How to do dhanurasana (bow pose) and what are its benefits
How to do dhanurasana (bow pose) and what are its benefitsHow to do dhanurasana (bow pose) and what are its benefits
How to do dhanurasana (bow pose) and what are its benefits
 
How to do bitilasana (cow pose) and what are its benefits
How to do bitilasana (cow pose) and what are its benefitsHow to do bitilasana (cow pose) and what are its benefits
How to do bitilasana (cow pose) and what are its benefits
 
How to do bhujapidasana (shoulder pressing pose) and what are its benefits
How to do bhujapidasana (shoulder pressing pose) and what are its benefitsHow to do bhujapidasana (shoulder pressing pose) and what are its benefits
How to do bhujapidasana (shoulder pressing pose) and what are its benefits
 

How to do shavasana (corpse pose) and what are its benefits

  • 1. How to do Shavasana (Corpse Pose) and what are its Benefits विश्राभ की कला कॊ कभ भत सभझॊ। सिासना अऩक े ऄभ्यास की सफसे कठिन भुद्रा हॊ सकती है। क ै से करें शवासन (कॉर्पस र्ॊज़) और क्या हैं इसक े फायदे शिासन, सिासना मा कॉऩपस ऩॊज़ एक ऐसा असन है जहााँ शािा - कॉऩपस; असन - भुद्रा; ईच्चायण क े रूऩ भें - शुह- िाह-सना; संस्क ृ त: शिासन। मह भुद्रा एक भृत शयीय की भुद्रा से मभलती जुलती है औय आसललए आसका नाभकयण वकमा गमा है। शिा लजसका ऄथप है "लाश", औय असन लजसका ऄथप है "असन"मा "असन"। मह स्थितत कापी असान लगती है, लेवकन मह अऩक े शयीय कॊ ऩूयी तयह से अयाभ देने की अिश्यकता भें से सफसे कठिन बी हॊ सकती है। औय भन। आस भुद्रा कॊ अभतोय ऩय एक सविम मॊग सत्र क े फाद ऄभ्यास वकमा जाता है। मह गहयी लिवकत्सा कयता है औय अऩक े शयीय कॊ ऩूयी तयह से शांत कयता है। जफ बी अऩ फेहद थक े रृए हों औय जल्दी काभ ऩय िाऩस जाने की अिश्यकता हॊ तॊ अऩ आस भुद्रा का ऄभ्यास बी कय सकते हैं। मह ताज़ा औय कामाकल्प कयने िाला है। 1. इस आसन कॊ करने से र्हले आर्कॊ येर्ता हॊना चाहहए वकसी बी ऄन्य मॊग असन की तयह, मह बी एक बॊजन क े फाद कभ से कभ िाय से छह घंटे वकमा जाना िाठहए। जफ अऩ आस ऩॊजीशन का ऄभ्यास कयते हैं तॊ अऩकी अंतें औय ऩेट खाली हॊना िाठहए। एक अयाभ भुद्रा हॊने क े नाते, आसका ऄभ्यास तफ वकमा जा सकता है जफ बी अऩकॊ ऄऩनी सांस कॊ ऩकड़ने मा अयाभ कयने की अिश्यकता हॊती है, मा तॊ अऩक े कसयत क े फाद मा फाद भें। शिासन अयाभ औय विश्राभ कॊ फढािा देता है। हालााँवक, अऩकॊ ऄऩने अऩ कॊ सॊते रृए से फिने की अिश्यकता है क्योंवक अऩ आसका ऄभ्यास कयते हैं। मठद अऩ ईनींदाऩन भहसूस कयते हैं, तॊ अऩकॊ फस गहयी, तेज सांसें लेनी होंगी। आस असन क े ललए एकाग्रता का फरृत भहत्व है।  स्तर: फुमनमादी  शैली: ऄष्ांग मॊग  अवधि: 10 - 12 मभनट  र्ुनरावृत्ति: कॊइ नहीं  मजबूती: शयीय कॊ ऩुनिापवऩत कयता है 2. क ै से करें शवासन (कॉर्पस र्ॊज़)  पशप ऩय सऩाट लेटें, मह सुमनश्चित कयें वक भुद्रा की ऄिमध क े ललए कॊइ गड़फड़ी नहीं हॊगी। सुमनश्चित कयें वक अऩ सहज हैं, लेवकन तवकए मा क ु शन का ईऩमॊग न कयें। मह सफसे ऄच्छा हॊगा मठद अऩ एक कठिन सतह ऩय झूि फॊलते हैं।  ऄऩनी अाँखें फंद कयॊ।
  • 2.  ऄऩने ऩैयों कॊ ऐसे यखें वक िे अयाभ से ऄलग हों। सुमनश्चित कयें वक अऩक े ऩैय ऩूयी तयह से अयाभ कयते हैं औय अऩक े ऩैय की ईंगललमों का साभना कयना ऩड़ यहा है।  अऩकी हथेललमों कॊ अऩक े शयीय क े साथ औय थॊड़ा ऄलग यखा जाना िाठहए, लजससे अऩकी हथेललमााँ खुली यहें औय उऩय की ओय यहें।  ऄफ, ऄऩने ऩैय की ईंगललमों से शुरू कयते रृए, धीये-धीये ऄऩने शयीय क े हय क्षेत्र ऩय ध्यान अकवषित कयें। जैसा वक अऩ ऐसा कयते हैं, धीये-धीये सााँस लें, ठपय बी गहयाइ से, ऄऩने शयीय कॊ गहयी छ ू ट की स्थितत भें िावऩत कयें। आस प्रविमा भें सॊ जाना नहीं है।  धीये-धीये सांस लें, ठपय बी गहयाइ से। मह ऩूयी छ ू ट प्रदान कयेगा। जैसे-जैसे अऩ सांस लेंगे, अऩका शयीय उजापिान हॊगा, औय जैसे-जैसे अऩ सांस छॊड़ेंगे, अऩका शयीय शांत हॊता जाएगा। ऄन्य सबी कामों कॊ बूलकय ऄऩने औय ऄऩने शयीय ऩय ध्यान दें। जाने दॊ औय सभऩपण कयॊ! लेवकन सुमनश्चित कयें वक अऩ फंद नहीं कयेंगे।  लगबग 10 से 12 मभनट भें, जफ अऩका शयीय लशतथल औय तयॊताजा भहसूस कयता है, तॊ ऄऩनी अाँखों कॊ फंद यखते रृए, एक तयप यॊल कयें। एक मभनट तक आस स्थितत भें यहें, जफ तक अऩ सुखासन भें न फैि जाएं।  क ु छ गहयी सााँसें लें औय ऄऩनी अाँखें ठपय से खॊलने से ऩहले ऄऩने असऩास क े फाये भें जागरूकता हालसल कयें। 3. साविाधनयाां और अांतर्विरॊि मह असन बफल्क ु ल सुयक्षक्षत है औय वकसी औय सबी द्वाया ऄभ्यास वकमा जा सकता है। जफ तक अऩक े डॉक्टय ने अऩकॊ ऄऩनी ऩीि ऩय झूि न फॊलने की सलाह दी है, तफ तक अऩ आस असन का ऄभ्यास कय सकते हैं। मठद अऩ गबपिती हैं, तॊ अयाभ क े ललए ऄऩने लसय औय छाती कॊ एक फॊल्ट ऩय यखना एक ऄच्छा वििाय हॊ सकता है। 4. शुरुआत क े र्िप्स हभाये व्यस्त, तनािऩूणप जीिन भें, ऩूयी तयह से जाने औय अयाभ कयने क े ललए कापी काभ हॊ सकता है। शिासन क े फाये भें सफसे कठिन ठहस्सा जांघ की हठिमों क े लसय कॊ छॊड़ना है, तावक कभय नयभ हॊ जाए। मठद कभय कॊ नयभ नहीं वकमा जाता है, तॊ मह ईलित श्वास कॊ प्रततफंमधत कय सकता है औय आसललए, ऩूये शयीय भें तनाि ऩैदा कयता है। आससे मनऩटने क े ललए, अऩ ऄऩनी जांघों ऩय, कभय की िीज ऩय ऩााँि वकलॊ िज़न लगा सकते हैं, औय ठपय िज़न क े कायण नीिे की ओय दफाए जांघ की हिी क े लसय की कल्पना कय सकते हैं। 5. एडवाांस्ड र्ॊज़ वहरएशन्स  मठद अऩ ऄऩने क ं धों, छाती मा ऩीि भें जकड़न का ऄनुबि कयते हैं, तॊ अऩक े क ं धे पशप ऩय अयाभ नहीं कयेंगे, औय आससे अऩकी गदपन ऩय दफाि ऩड़ेगा। आस भाभले भें, ऄऩने लसय कॊ थॊड़ा उ ं िा कयना औय आसे ऄऩनी गदपन क े सभान स्तय ऩय लाना एक ऄच्छा वििाय है। मह अऩकी गदपन क े वऩछले ठहस्से कॊ नयभ कयने भें भदद कयेगा। अऩकॊ फस ऄऩने लसय क े नीिे एक भुड़ा रृअ क ं फल लगाना हॊगा, तावक मह अऩक े क ं धों क े शीषप ऩय सभाप्त हॊ।  मठद ऩीि क े मनिले ठहस्से मा हैभस्ट्रंग की भांसऩेलशमां तंग हैं, तॊ लाश मा सिासना भुद्रा का ऄभ्यास कयते सभम ऄऩने ऩैयों कॊ उऩय ईिाना एक ऄच्छा वििाय हॊ सकता है। मह तफ बी ऄच्छा काभ कयता है जफ अऩकॊ ऩीि क े मनिले ठहस्से औय क ू ल्हों भें ददप औय तकलीप हॊ। अऩकॊ फस ऄऩने घुटनों क े नीिे एक फॊल्ट लगाने की अिश्यकता है। मठद अऩक े ऩास हाथ भें एक फॊल्ट नहीं है, तॊ अऩ क ं फल कॊ ढेय कय सकते हैं औय ईन्हें ऄऩने घुटनों क े नीिे यख सकते हैं। 6. शवासन (कॉर्पस र्ॊज़) क े लाभ  शायीरयक स्थितत क े ललए शयीय लाता है  शयीय अयाभ कयता है औय एक गहयी ध्यान की स्थितत भें िला जाता है, जॊ फदले भें कॊलशकाओं औय उतकों की भयम्मत भें भदद कयता है औय तनाि जायी कयता है।  अयाभ औय शयीय कॊ शांत कयता है
  • 3.  शिासन अऩक े शयीय कॊ ठपय से बय देता है औय ठपय से जीिंत कय देता है। मह अऩकी कसयत का एक शानदाय ऄंत है, खासकय ऄगय मह एक तीव्र यहा है। सिसाना कसयत क े ललए जगह औय सभम बी देता है। मह व्यामाभ औय अऩक े दैमनक काभों क े फीि एक अदशप फपय है।  यक्तिाऩ औय लििंता कॊ कभ कयता है  जैसे-जैसे अऩका शयीय अयाभ कयता है औय शांत हॊता है, अऩका यक्तिाऩ बी कभ हॊ जाता है, औय आससे अऩक े ठदल कॊ अयाभ मभलता है। नतीजतन, लििंता मनमंत्रण भें है।  एकाग्रता औय माददाश्त फढाता है  ध्यान का सीधा प्रबाि ध्यान औय एकाग्रता है। जफ अऩ ऄऩने शयीय क े प्रत्येक क्षेत्र ऩय ध्यान क ें ठद्रत कयते हैं जफ अऩ शिासन भें हॊते हैं, तॊ अऩका भन स्वतः ही एकाग्रता औय माददाश्त भें सुधाय कयता है।  उजाप क े स्तय कॊ फढाता है  त्वरयत उजाप हालसल कयने का सफसे तेज औय सुयक्षक्षत तयीका है सिासना। 10 मभनट का ब्रेक अऩक े शयीय कॊ उजाप देता है, औय आससे अऩकी ईत्पादकता फढती है। 7. शवासन (कॉर्पस र्ॊज़)क े र्ीछेकार्वज्ञान  शिासन अऩक े शयीय औय ठदभाग कॊ ऩयभ विश्राभ देता है, जॊ व्यामाभ औय संतुललत अहाय क े ललए अिश्यक है।  एक ज़ॊयदाय कसयत क े फाद लजसभें ्रेलििंग, विस्टिंग, कॉन्ट्रैक्क्टिंग औय भसल्स कॊ ऄंदय कयना शामभल है, शिासन अऩक े शयीय कॊ अयाभ कयने औय ठपय से संगठित कयने की ऄनुभतत देता है। महां तक वक सफसे ईऩेक्षक्षत भांसऩेलशमों कॊ बी क ु छ सभम क े ललए ऄऩने तनाि कॊ कभ कयने का भोका मभलेगा।  मॊग तंबत्रका तंत्र कॊ न्यूयॊभस्क ु लय सूिनाओं की एक ऩूयी श्रृंखला क े साथ प्रस्तुत कयता है। शिासन अऩक े ठदभाग कॊ ठदन क े मनममभत तनाि भें व्यस्त हॊने से ऩहले अऩक े तंबत्रका तंत्र कॊ आस जानकायी कॊ एकीक ृ त कयने भें भदद कयता है।  शिासन अऩक े भन औय शयीय क े फाये भें गहयी जागरूकता प्रदान कयता है। अऩ ऄऩने द्वाया ली जाने िाली प्रत्येक सांस क े प्रतत फेहद जागरूक हॊ जाते हैं आसललए, मह ईन लॊगों क े ललए गहये ध्यान का एक ऄदबुत ऩरयिम है जॊ आसभें रुलि यखते हैं।  मॊग एक ऄनुष्ठान है। मह िाभप-ऄऩ क े साथ शुरू हॊता है, आसक े फाद ही ऄभ्यास हॊता है, औय एक तयह क े एकीकयण ियण क े साथ व्यामाभ क े प्रबािों क े ललए भन औय शयीय भें रयसना हॊता है। शिासन ईसे प्राप्त कयने भें भदद कयता है। मह एक संतॊषजनक िक प अईट का सही ऄंत है। 8. प्रारांधभकर्ॊज़ मह असन अऩकॊ सबी सविम असन औय प्राणामाभों क े साथ कयने क े फाद वकमा जाना िाठहए। 9. फॉल-अर्र्ॊज़ सुखासन मा असान भुद्रा क े साथ शिासन का ऩालन कयें। मह भन कॊ शांत कयता है, औय मह शयीय कॊ िीक कयता है। सफसे ऄच्छी फात मह है वक मह आस असन कॊ कयने क े ललए कॊइ प्रमास नहीं कयता है, औय मह अऩकॊ जाने औय िास्ति भें अयाभ कयने का ऄिसय देता है। ऄऩने सबी लाबों कॊ ऩुनः प्राप्त कयने क े ललए ऄऩने मॊग शासन भें आस अिश्यक असन कॊ जॊड़ें।