SlideShare a Scribd company logo
Dogri - The Story of Ahikar the Grand Vizier of Assyria.pdf
परिचे
साढ़ कोल द सोटो ऑफ अहिकट च मनुको सोच त़ बुद् दा
इक पाचोन सोत ऐ। इसद़ प्ाभ दा पता मत़ साट़ लोक
े दो
हकभदंहतये द़ माधम कन् लाया जाई सकदा ऐ, हजंद़ च क
ु टान,
त़ पुटाऩ त़ नमे हनयम बो शामल न।
जम्नो द़ ट़्ेस च हमल़ द़ इक मोज़क च दुहनया द़ जानो लोक
े
च अहिकट दा हकटदाट तसोट ऐ। इते उंदो टंग-हबटंगो किानो
ऐ।
इस किानो दो ताटोख इक सजोभ चचा् दा हभषय ट़िा ऐ।
हभदाने आखटो च इसगो प्हो शताबो द़ बाट़ च टख़आ िा
हजसल् एहलफ
े टाइन द़ खंडिटे द़ बोच 500 ई.पू.
किानो जाहिट तौट पट कथानक ऐ त़ इहतिास ऩईं। दटअसल
पाठक अपनो परटचय द अटहबयन नाइट्स द़ पूटक पने च
कटो सकदा ऐ। एि् शानदाट ढंग् कन् हलख़ दा ऐ त़ ज़ि्डा
कथन एकन, साहजश त़ संकोर् पलायन कन् ्टोच़ दा ऐ,
ओि् आखटो तकट धान गो पकडो लैदा ऐ। कलना दो
आजादो ल़खक दो सबतूं कोमतो कबा ऐ।
ल़खन अपऩ आप गो चाट चटरे च बंडदा ऐ : (1) कथन; (२)
हशका (मिानूहतयां दो इक उल़खनोय श्ंखला); (३) हमस दा
सफट; (4) उपमा या दृांत (हजस नाल अहिकट अपऩ गुमटाि
कट टि़ ्तोज़ दो पढाई पूटो कटदा ि्)।
अध्य 1
अशूट द़ गांड भजोट अहिकट दो 60 पह्यां न पट उंदो
हकसत च कोई पुतट ऩईं ऐ। इस करटए ओि् अपऩ ्तोज़ गो
गोद लैदा ऐ। ओि् उसो टोटो-पानो कोला बो मता बुद् त़ जान
कन् ्टोच़ दा ऐ।
१स़नाि़रटब टाजा द़ भजोट ि्काट जानो त़ ि्काट ऋहष द़ बिन
द़ पुतट नदान दो किानो।
२अशूट त़ नोनभ़ द़ टाजा सटिदुम द़ पुतट टाजा सनि़रटब द़
जमाऩ च इक जानो िा, हजसदा नां ि्काट िा त़ ओि टाजा
सनि़रटब दा भजोट िा।
३उस द़ कोल मकान, ्ाग त़ बहत साटा माल िा, त़ ओि
क
ु शल, जानो, दाश्हनक, जान, हभचाट त़ सटकाट च िा, त़ उऩ
साठ जनाहनये कऩ बाि हकता िा, त़ उंद़ च िट इक आस़
इक मिल बनाई ल़दा िा।
४ ल़कन इस सब कऩ उद़ हकस़ कोलां कोई संतान ऩई िा।
इने जनाहनये दो, ज़ि्डो उंदो भारटस बो िोई सकदो ऐ।
५ त़ इस गल द़ काटर ओि बडा दुखो िोई ग़आ त़ इक हदन
जोहतहषये त़ हभदाने त़ जादू गटे गो इकटा करटय् उनेगो अपनो
िालत त़ अपनो बंजटपन दा मसला समझाया।
६ त़ उनै उसो आखया, 'जाओ, द़भताएं गो बहलदान द़ओ त़
उंद़ कोला हभनतो कटो ज़ शायद ओि तुसेगो इक जागत दा
इंतजाम कटन।'
७ उन उऩ आखा त़ हकता त़ मूहत्ये गो बहलदान चढाया, त़
उंद़ कोला हभनतो त़ गुिाट लांद़ िोई उंद़ कोला हभनतो हकता।
८ उनै उसो इक शब दा जभाब ऩई हदता। त़ ओि
़ दुखो त़
उदास िोईय़ अपऩ हदल् च दुखो िोईय़ चलो ग़या।
९ त़ पटम़सट़ पटम़सट़ गो हभनतो कटद़ िोई हभश् भास हकता त़
उंद़ हदल् च जलो दो गुिाट लांद़ िोई आख़आ, 'ि़ पटमाता, ि़
आकाश त़ धटतो द़ टचऩ आला, ि़ साट़ स्हृकता्!
१० मै त़ट़ कोला हभनतो कटदा िां हक इक जागत द़यो, तां ज़ मै
उद़ कोला हदलासा हमल् हक ओि म़टो स़ित च मौजूद टौि्ग,
तां ज़ ओि् म़टो अकों बंद कटो सक
् त़ हमगो दफनाई सक
् ।'
११ उस ब़ल़ उद़ कोल इक आभाज आई, 'जदूं तकट तू प्ि
़ लै
उक
़ टो मूहत्ये उप् पट ्
़ टोसा हकता, त़ उनेगो बहलदान चढाया
ऐ, इस आस् त़ तू उमट तकट हनःसंतान टौि
़ ना।'
१२ ल़कन नादान अपनो ््न द़ पुतट गो ल़ईय़ उसो अपना
बचा बनाओ त़ उसो अपनो पढाई त़ अपनो अचो प्दाभाट
हसखाओ, त़ त़टो मटऩ पट ओि तुगो दफनाई द़ग।'
१३ उस ब़ल़ ओि अपनो ््न द़ पुतट नदान गो ल़ई ल़या, ज़डा
थोडा दु् द़आ कटदा िा। त़ उसो अट गोलो नस् द़ ित च
सौंपो हदता तां ज़ ओि् उसो दु् द़ई सकन त़ उसो बडाई
कटन।
१४ उऩ उसो अचा खाना त़ कोमल हसखलाई त़ ट़शमो कपड़,
त़ बैगनो त़ हकटहमजो टंग द़ कपड़ कऩ पालया। त़ ओि ट़शम
द़ सोफ
़ उपट ब्ठ़ दा िा।
१५ त़ जदुं नदन बडा िोया त़ लमो द़भदाट दो तज् पट चलदा
ट़या, तां उसो ऩक हशृाचाट त़ ल़खन त़ हभजान त़ दश्न
हसखाया।
१६ त़ मत़ हदने बाद टाजा सनाि़रटब ऩ िाइकट गो हदक़आ त़
हदक़आ ज़ ओि् बडा बुढा िोई ग़दा ऐ, त़ इसद़ अलाभा उऩ
उसो आख़आ।
१७ 'ि़ म़ट़ समाहनत दोस, क
ु शल, ्टोस़मंद, जानो, टाजपाल,
म़ट़ सहचभ, म़ट़ भजोट, म़ट़ चांसलट त़ डायट़कट; तू बडा बुढा
िोई ग़दा ऐं त़ ब'टे च तौल़ िोई ग़द़ ओ; त़ त़टा इस संसाट थमां
चलो जाना ऩड़ ग् िोग।
१८ हमगो दसो त़ट़ बाद म़टो स़भा च क
ु स दो जगि िोग।' त़
िाइकट ऩ उसो आख़आ, 'ि़ म़ट़ सामो, त़टा हसट िम़शा हजंदा
टौि्ग! उथ़ नदन म़टो ््न दा पुतट ि्, मै उस नूं अपना बचा
बना हदता ि्।
१९ त़ मै उसो पालया त़ उसो अपनो बुद् त़ अपनो जान
हसखाया।'
२० टाजा ऩ उसो आखा, 'ि़ ि्काट! उसो अपऩ सामऩ ल़ई
आओ, तां ज़ मै उसो हदख सकां, त़ ज़कट हमगो उसो उहचत
लग़ तां उसो अपनो जगि उपट टको; त़ तू अपऩ टसा चलो
जाग़, आटाम कटऩ त़ अपऩ बाको द़ जोभन गो मोठ़ आटाम च
जोऩ आस्।'
२१ हफटो ि्कट ऩ जा क
़ नदान दो ््न द़ पुतट गो ्ेट हकता।
त़ उऩ नमन कोता त़ उसो सता त़ इजत दो कामना कोतो।
२२ त़ उस नूं भ़ख क
़ उस दो ताटोफ कोतो त़ उस हभच खुश िो
क
़ ि्काट नू आखया, 'ि़ ि्काट, ए त़टा पुतट ि्? मै पाथ्ना
कटदा िां क
़ पटमाता उसो बचाई टक़। त़ हजयां तुसे म़टो त़
म़ट़ हपता सटिदुम दो स़भा कोतो ऐ, उयां ग् तुंदा एि् जागत
म़टो स़भा कटदा ऐ त़ म़ट़ कमे, म़टो जरटते त़ म़ट़ कमे गो
पूटा कटदा ऐ, तां ज़ मै उसो आदट द़ई सकां त़ उसो तुंद़ आस्
शद्शालो बनाई सकां।'
२३ त़ ि्काट ऩ टाजा दा पराम कोता त़ आखया, 'ि़ म़ट़ सामो
टाजा, त़टा हसट िम़शा हजंदा ट़िभ़! मै तुंद़ कोला मंगना ऐं क
़
तुस म़ट़ जागत नदान कऩ धोटज टखो त़ उंदो गलहतये गो माफ
कटो ओडो तां ज़ ओि् तुंदो स़भा हजना उहचत ऐ।'
२४ उस ब़ल़ टाजा ऩ उसो कसम खाया क
़ ओि उसो अपऩ
हपयजने च सबऩ थमां बडा त़ अपऩ दोसे च सबऩ थमां
ताकतभट बनाई द़ग त़ उसो साट़ आदट त़ आदट कऩ उंद़ कऩ
टौिग। त़ उऩ उंद़ ित चुम़आ त़ उसो हभदाई हदतो।
२५ त़ नादान गो ल़ई ल़या। उंदो ््न द़ पुतट गो बो उंद़ कन्
ब्ठाया त़ उसो इक पाल्ट च ब्ठाया त़ टातों-हदन उसो हसखाऩ
च लग़आ, हजसल् तकट उसो टोटो-पानो कोला बो मता बुद् त़
जान कन् ठ
ूं स ऩईं हदता।
अध्य 2
पाचोन काल दा इक "ब़चाट़ रटचड् दा पंचांग"। प्स़, जनाहनयां,
पहिनाभा, धंध़, दोसे द़ बाट़ च मनुको आचटर द़ अमट
उपद़श। खास करटय् हदलचस लोकोद्यां पद 12, 17, 23,
37, 45, 47 च लबहदयां न, पद 63 दो तुलना अज् द़ हकश
नकाटातकता कन् कटो।
१इस तिाह उस नूं हसखाया, 'ि़ म़ट़ पुतट! म़टा ्ाषर सुनो त़
म़टो सलाि दा पालन कटो त़ मै को आखना याद टखो।
२ि़ म़ट़ पुतट! ज़कट तुस क
ु स़ गल गो सुनो लैद़ ओ तां ओि
़
अपऩ हदल् च मटऩ द़यो, त़ दुऐ गो ऩई पगट कटो ओडो, तांज़
ओि
़ हजंदा कोयला बनो जा त़ तुंदो जो् गो जलाऐ त़ट़ शटोट
च पोड ऩई पाईऐ, त़ तुसेगो हनंदा िासल िोई जा, त़ पटम़सट़ द़
सामऩ शम् आभ्, त़... माि्नू।
३ि़ म़ट़ पुतट! ज़कट तुसे कोई खबट सुनो ऐ तां उसो ऩईं
फ
् लाओ; त़ ज़कट तू हकश हदक
् ख़या ऐ तां उसो ऩई दसो।
४ि़ म़ट़ पुतट! शोता गो अपनो भाकटुता गो आसान बनाओ, त़
जभाब भापस कटऩ च जलबाजो ऩईं कटो।
५ि़ म़ट़ पुतट! जदुं तूं क
ु स़ गल सुनो, त़ ना छु पाई।
६ि़ म़ट़ पुतट! सोल कोतो दो गांठ गो ना ढोला कटो, ना ग् उसो
खोलो, त़ ढोलो गांठ गो ऩईं मुिट कटो।
७ि़ म़ट़ पुतट! बािटो सुंदटता दो लालसा ऩईं कटो, कोज़ ओि
कोर िोई जंदो ऐ त़ बोतो जंदो ऐ, ल़कन इक आदटरोय याद
तुंद़ आस् हटकदो ऐ।
८ि़ म़ट़ पुतट! कोई मूख् जनानो तुगो अपनो गल् कन् धोखा
ऩईं द़ऐ, तां ज़ तुस मौते च सबऩ थमां दयनोय मटो जाओ, त़
ओि तुगो जाल च उसल् तकट उलझन ऩईं द़ग, जदूं तकट तू
फ
ं स़ च ऩईं फसो जा।
९ि़ म़ट़ पुतट! कपड़ त़ मटिम कन् ब़दखल जनानो दो इचा
ऩईं कटो, ज़ि्डो अपनो आता च घ्हरत त़ मूख् ऐ। िाय त़ट़
ज़कट तू उसो अपना कोई बो चोज द़ई ओडो, जां ज़ हकश
अपऩ ित च ऐ उसो उसो सौंपो द़ओ त़ ओि तुसेगो पाप च
लु्ांदो ऐ, त़ पटमाता तुंद़ उपट गुस़ च ऐ।
१०ि़ म़ट़ पुतट! बादाम द़ बूि्ट़ द़ समान ऩईं बनो, कोज़ एि्
साट़ बूि्ट़ द़ सामऩ पहतयां प्दा कटदा ऐ त़ साटे द़ बाद खाऩ
आह़ फल प्दा कटदा ऐ, ल़कन शितूत द़ बूि्ट़ द़ समान बनो,
ज़ि्डा साट़ बूि्ट़ द़ सामऩ खाऩ आह़ फल प्दा कटदा ऐ त़
साटे द़ बाद पहत हदंदा ऐ।
११ि़ म़ट़ पुतट! हसट हनच़ झुकाओ, त़ अपनो आभाज कोमल
कटो, त़ हशृ बनो, त़ सोध़ टस़ च चलो, त़ मूख् ऩईं बनो। त़
िसद़ ग् अपनो आभाज ऩई बधाओ कोज़ ज़कट उचो आभाज
कन् घट बनो जंदा िा तां गध़ िट टोज मत़ घट बनांद़; त़ ज़कट
ताकत द़ काटर िल चलाया जंदा तां िल कदे बो ऊ
ं टे द़ क
ं धे
थमां ि़ठ ऩईं हनकलदा।
१२ ओ म पुतट! जानो कऩ पतट िटाना पछताभ़ कऩ शटाब
पोऩ कोला ब़ितट ऐ।
१३ि़ म़ट़ पुतट! धम् लोक
े दो कब उपट अपनो महदटा उंड़ल,
त़ अजानो, हतटस
् त लोक
े कऩ ऩई पोओ।
१४ि़ म़ट़ पुतट! जानो लोक
े कऩ हचपकना ज़ड़ पटमाता कोला
डटद़ न त़ उंद़ समान िोंद़ न, त़ अजानो द़ कोल ऩईं जाओ, तां
ज़ तुस उद़ समान ऩईं बनो जाओ त़ उंद़ टस़ हसखो।
१५ि़ म़ट़ पुतट! जदूं तुसे तुसेगो इक साथो जां दोस िासल
कटो ल्ता ऐ तां उसो अजमाइश कटो, त़ उसद़ बाद उसो साथो
त़ दोस बनाओ; त़ हबना क
ु स् पटख द़ उसो सुहत ऩईं कटो; त़
बुद् दो कमो आल़ मनुख कऩ अपनो गल ऩई हबगाड।
१६ि़ म़ट़ पुतट! जदूं तकट इक जूता तुंद़ प्टे उपट टौंि्दा ऐ,
तां उस कन् कांट़ उपट चलना, त़ अपऩ पुतट आस्, त़ अपऩ
घट् आहे त़ अपऩ बचे आस् इक टसा बनाओ, त़ अपऩ
जिाज गो समुंदट़ त़ उंदो लिटे उपट जाऩ थमां प्ह़ त़ डुबऩ
थमां प्ह़ तनाभ द़ओ त़ ओि् ऩईं कटो सकदा बचाया।
१७ि़ म़ट़ पुतट! ज़कट अमोट सप खांदा ऐ तां आखद़ न,--
"उसदो बुद् कन् ऐ," त़ ज़कट कोई गटोब उसो खांदा ऐ तां
लोक आखद़ न, "उसदो ्ूख थमां।"
१८ि़ म़ट़ पुतट! ओि त़टो टोज दो टोटो त़ त़टो माल कऩ संतोष
कटदा ऐ, त़ दुए द़ चोजे दो लालसा ऩईं कटदा।
१९ि़ म़ट़ पुतट! मूख् द़ पडोसो ऩईं बनो, त़ उंद़ कऩ टोटो ऩईं
खाओ, त़ अपऩ पडोसो दो हभपहतये च खुश ऩईं िोओ। ज़कट
त़ट़ दुशन त़ट़ कऩ गलत कटदा ऐ तां उद़ उपट म़िटबानो
कटो।
२० ि़ म़ट़ पुतट! ज़डा मनुख पटमाता कोला डटदा ऐ, तू उद़
कोला डटो त़ उसो आदट कटो।
२१ ि़ म़ट़ पुतट! अजानो हडगो जंदा ऐ त़ ठोकट खांदा ऐ, त़
जानो, ठोकट खांदा बो ऩईं हिलदा, त़ हडगऩ पट बो जलो
उठो जंदा ऐ, त़ बोमाट ऐ तां अपनो जान दा खाल टको
सकदा ऐ। पट टिो गल अजानो, ब़भक
ू फ दो तां उसदो
बोमाटो भास़ कोई दभाई निों।
२२ ि़ म़ट़ पुतट! ज़कट कोई माि्नू तुंद़ कोल औंदा ऐ ज़ि्डा
तुंद़ कोला घट ऐ तां ओि्द़ कन् हमलऩ आस् अगे बधो जा त़
खडोत़ दा टौि्ग त़ ज़कट ओि त़टा बदला ऩईं द़ई सकदा तां
ओि्द़ प्ु तुगो उसो बदला द़ग।
२३ ि़ म़ट़ पुतट! अपऩ पुतट गो माटऩ थमां ऩईं बख, कोज़
त़ट़ पुतट दा धुल बाग च खाद द़ समान ऐ, त़ पस् द़ मुंि गो
बनो ल्ऩ द़ समान ऐ, त़ जानभटे द़ बनो द़ समान ऐ, त़ दटभाज़
द़ बोले द़ समान ऐ।
२४ ि़ म़ट़ पुतट! अपऩ पुतट गो दुृता थमां टोक, त़ उसगो
हशृाचाट हसखाओ, इस थमां प्ह़ ज़ ओि् तुंद़ खलाफ बगाभत
कटदा ऐ त़ तुसेगो लोक
े च हतटसाट च पांदा ऐ त़ तू गलोएं त़
स्ाएं च अपना हसट लटकाई ल् त़ तुसेगो उंद़ बुट़ कमे दो
बुटाई आस् सजा हदतो जा।
२५ ि़ म़ट़ पुतट! तुगो अगचमडो आला मोटो ब्ल, त़ खुटे कऩ
बडा गधा, त़ बड़ सोंग आला ब्ल ऩई पाओ, त़ ना ग् क
ु स्
चकमा द़ मनुख कऩ दोसो कटो, त़ ना ग् कोई झगडा कटऩ
आलो गुलाम, त़ ना ग् चोट दासो पाओ, ज़ हकश तू कटद़ ओ
उंद़ गो ओि
़ बटबाद कटो द़ङन।
२६ ि़ म़ट़ पुतट! त़ट़ मां-पो तुगो शाप ऩईं द़न, त़ प्ु उंद़
उपट खुश ऩईं िोन; कोज़ एि
़ ग् लाया ग़दा ऐ क
़ "ज़का अपऩ
हपता गो जां अपनो मां गो तुच समझ
़ दा ऐ, उसो मौत मटऩ
द़यो (म़टा मतलब ऐ क
़ पाप दो मौत ऐ।" "
२७ ि़ म़ट़ पुतट! हबना िहथयाट द़ टस़ च ऩईं चलना, कोज़ तू
ऩई जानदा क
़ दुशन तुंद़ कऩ कदूं हमलग, तां ज़ तू उद़ आस्
त़ त्याट ओई जाओ।
२८ ि़ म़ट़ पुतट! नंग़, पत़ बग्ट बूि्ट़ द़ समान ऩईं बनो, ज़ि्डा
ऩईं उगदा, ल़कन अपऩ पते त़ डाढे कन् ढक
़ द़ बूि्ट़ द़
समान बनो; कोज़ हजस मनुख दा ना त़ घट़आलो ऐ त़ ना ग्
बच़ न, ओि् संसाट च ब़इजतो कोतो जंदो ऐ त़ उंद़ कोला
नफटत िोंदो ऐ, हज'यां पहतयां त़ हनषल बूि्ट़।
२९ ि़ म़ट़ पुतट! सडक
् द़ क
ं ड़ फलदाट बूि्ट़ द़ समान बनो,
हजसद़ फल साट़ गुजटऩ आह़ खांद़ न, त़ ट़हगसान द़ जानभट
उंदो छां च आटाम कटद़ न त़ उंद़ पते गो खांद़ न।
३० ि़ म़ट़ पुतट! िट ़्ड ज़ि्डो अपऩ टस़ थमां ्टकदो ऐ त़
ओि्द़ साथो ़्हडये दा खाना बनो जंदो ऐ।
३१ ि़ म़ट़ पुतट! "म़टा सामो मूख् ऐ त़ मै जानो ऐं" त़ अजानता
त़ मूख्ता दो गल ऩईं दसो, तां ज़ तुस उंद़ कोला तुच ऩईं
पाओ।
३२ ि़ म़ट़ पुतट! उने दासे च ऩई बनो, हजनेगो उंद़ सामो
आखद़ न, "साढ़ थभां दू ट चलो जा", बल् हक उने दासे च
शामल बनो, हजंद़ कन् ऩ साढ़ कोल जाओ त़ ऩड़ आओ।
३३ ि़ म़ट़ पुतट! अपऩ दास गो उंद़ साथो द़ सामऩ दुलाट ऩईं
कटो, कोज़ तुस ऩई जानद़ क
़ उंद़ चा क
ु स दा अंत च तुंद़
आस् मता कोमत िोग।
३४ ि़ म़ट़ पुतट! त़ट़ टब तों मत डट, हजनां ऩ त़टा बनाया ि्,
किों ओि त़ट़ कोल चुप निों िो जाभ़।
३५ ि़ म़ट़ पुतट! अपनो बोलो गो गोटा बनाओ त़ अपनो जो्
गो मोठा कटो; त़ अपऩ साथो गो त़ट़ प्टे उपट टौंदऩ दो
इजाजत ऩई द़ओ, तां ज़ ओि् क
ु स् िोट समे त़ट़ छातो उपट
ऩईं टौंदग।
३६ ि़ म़ट़ पुतट! ज़कट तुस क
ु स़ जानो गो इक जान द़ शब
कन् माटद़ ओ तां ओि्द़ छातो च शम् दो सूक ्ाभना द़
समान लुकाई जाि्ग; ल़कन ज़कट तू अजानो गो लाठो कऩ
ठोकद़ ओ तां ओि ना समझग त़ ना सुनग।
३७ ि़ म़ट़ पुतट! ज़कट तू इक जानो गो अपनो जरटते आस्
़्जो ओडद़ ओ तां उसो मत़ आजा ऩई द़ओ, कोज़ ओि तुंदा
धंधा तुंदो मज् द़ मताबक ग् कटग, त़ ज़कट तुस क
ु स् मूख् गो
़्जो ओडद़ ओ तां उसो हु ऩई द़ओ, पट अपऩ आप ग्
जाइय् अपना धंधा कटो, कोज़ ज़कट तू उसो हु द़ओ, ओि
ऩई कटग ज़डा तू चाि्ऩ ओ। ज़कट ओि तुगो धंध़ च ़्जद़ न,
तां जलो ग् इसगो पूटा कटऩ च जलो कटो।
३८ ि़ म़ट़ पुतट! अपऩ कोला बो मजबूत मनुख दा दुशन ऩईं
बनाओ, कोज़ ओि त़टा नाप ल्ग त़ तुंद़ उपट अपना बदला
ल्ग।
३९ ि़ म़ट़ पुतट! अपऩ पुतट त़ अपऩ नौकट दो पटोका कट, तां
ज़ ओि् अपऩ समान गो उंद़ कोल सौंपो द़ओ, तां ज़ ओि् उंद़
कोला दू ट ऩईं िोई जा। कोज़ हजसद़ ित ्ट़ दा ऐ, उसो जानो
आखद़ न, ्ल़आं ओि् मूख् त़ अजानो िोऐ, त़ हजसद़ ित
खालो ऐ, उसो गटोब, अजानो आख़आ जंदा ऐ, ्ल़आं ओि्
ऋहष-मुहनएं दा टाजक
ु माट िोऐ।
४० ि़ म़ट़ पुतट! मै इक कोलोहसंट खाया, त़ मुसबट हनगल
ल़या, त़ गटोबो त़ कमो कोला जादा कडभा हकश ऩईं लबा।
४१ ि़ म़ट़ पुतट! अपऩ पुतट गो हमतवयो त़ ्ूख हसखाओ, तां
ज़ ओि् अपऩ घट् द़ पबंधन च ठोक कम कट्।
४२ ि़ म़ट़ पुतट! अजानो गो जानो लोक
े दो ्ाशा ऩई हसखाओ,
कोज़ उंद़ उपट एि् बोझ िोई जाग।
४३ ि़ म़ट़ पुतट! अपनो िालत अपऩ दोस गो ऩईं दसो, किों
तू उंद़ कोला तुच ऩईं बधो जा।
४४ ि़ म़ट़ पुतट! हदल दो अंधता अकों द़ अंधे कोला बो मतो
दुखद ऐ, कोज़ अकों दो अंधता गो थोि् डो-मतो माग्दश्न
कोता जाई सकदा ऐ, पट हदल दो अंधता दा माग्दश्न ऩईं
िोंदा, त़ सोध़ टस़ गो छडो जंदा ऐ, त़ ट़ढ़ चलो जंदा ऐ बत।
४५ ि़ म़ट़ पुतट! मनुख दो प्टे कन् ठोकट खाऩ थमां बो ब़ितट
ऐ।
४६ ि़ म़ट़ पुतट! इक दोस ज़ि्डा ऩड़ दा ऐ, ओि्द़ कोला बो
ब़ितटोन भार कोला बो ब़ितट ऐ ज़ि्डा दू ट ऐ।
४७ ि़ म़ट़ पुतट! सुंदटता फोको िोई जंदो ऐ पट हसकना
हटकदा ऐ, त़ दुहनया घट िोई जंदो ऐ त़ ब़काट िोई जंदो ऐ, पट
इक अचा नांर ना ब़काट िोंदा ऐ त़ ना ग् घट िोंदा ऐ।
४८ ि़ म़ट़ पुतट! हजस मनुख गो आटाम ऩई ऐ, उदो मौत उद़
जोभन कोला बो ब़ितट िो; त़ टोऩ दो आभाज गाऩ दो आभाज
कोला बो ब़ितट ऐ; कोज़ ज़कट उंद़ च पटमाता दा डट ऐ तां
दुख त़ टोना, गाऩ त़ खुशो दो आभाज कोला बो ब़ितट ऐ।
४९ ि़ म़ट़ बच़! त़ट़ ित च मेढक दो जांघ त़ट़ पडोसो द़ घड़
च िंस कोला बो ब़ितट ऐ; त़ त़ट़ कोल दो ़्ड दू ट द़ ब्ल
कोला बो ब़ितट ऐ; त़ त़ट़ ित च इक गौट्या उडऩ आह़
िजाट गौट्या कोला बो ब़ितट ऐ; त़ ज़डो गटोबो इकटो िोंदो ऐ,
ओि
़ मत़ साट़ खान-पान द़ हबखटऩ थभां बो ब़ितट ऐ; त़ हजंदा
लोमडो मट़ द़ श़ट कोला बो ब़ितट ऐ; त़ इक पौंड ऊन इक
पौंड धन कोला बो ब़ितट ऐ, म़टा मतलब ऐ सोना त़ चांदो; को
भ़ सोना त़ चांदो धटतो च हछपो दो त़ ढको दो ऐ, त़ ऩई हदको
जंदो ऐ; पट ऊन बजाटे च ग् ट़ई जंदो ऐ त़ हदको जंदो ऐ, त़
उसो पहिटऩ आह़ आस् इक सुंदटता ऐ।
५० ि़ म़ट़ पुतट! हबखटो दो हकसत कोला बो इक छोटो ज़िो
हकसत ब़ितट िोंदो ऐ।
५१ ि़ म़ट़ पुतट! हजंदा क
ु ता मट़ द़ गटोब कोला बो ब़ितट ऐ।
५२ ि़ म़ट़ पुतट! इक गटोब आदमो ज़डा ठोक कटदा ऐ, ओि
उस अमोट कोला बो ब़ितट ऐ ज़डा पापे च मट़ दा ऐ।
५३ ि़ म़ट़ पुतट! इक शब अपऩ हदल च टखो, त़ ओि तुंद़ ल़ई
मता िोग, त़ साभधान टिो खोई ग़दा तू अपऩ दोस दा टाज
उजागट कटो।
५४ ि़ म़ट़ पुतट! जदुं तकट तू अपऩ हदल् कन् ऩ सलाि ऩई
लैद़, त़ट़ मुंि
़ थभां इक बो भचन ऩई हनकल़। त़ झगड़ कटऩ
आले द़ बोच मत खडोओ, कोज़ बुट़ शब थमां झगडा िोंदा ऐ,
त़ झगड़ थमां लडाई िोंदो ऐ, त़ लडाई थमां लडाई बो िोंदो ऐ,
त़ तुस गभािो द़ऩ ल़ई मजबूट ओग़। ल़कन उतूं दा दौड क
़
अपऩ आप आटाम कटो।
५५ ि़ म़ट़ पुतट! अपऩ कोला बो मजबूत मनुख दा सामना ऩईं
कटो, ल़कन धोटज त़ धोटज त़ सच़ आचटर पाओ, कोज़ इस
थमां मता हकश ऩई ऐ।
५६ ि़ म़ट़ पुतट! अपऩ प्िल़ दोस कऩ नफटत मत कटो,
कोज़ दू आ हटको ऩईं सकदा।
५७ ि़ म़ट़ पुतट! गटोबे गो उंदो दुख च मुलाकात कटो, त़
सुलान दो मौजूदगो च उंद़ बाट़ च गल कटो, त़ उसो श़ट द़
मुंि थमां बचाऩ आस् अपनो म़िनत कटो।
५८ ि़ म़ट़ पुतट! अपऩ दुशन दो मौत च खुश ऩईं िोओ, कोज़
थोडो द़ट बाद तू उंदा पडोसो बनो जाग़, त़ ज़डा तुंदा मजाक
उडांदा ऐ, उसो आदट त़ आदट कटो त़ प्िले ग् नमस़ च उंद़
कऩ टौिना।
५९ ि़ म़ट़ पुतट! ज़कट पानो सुग् च द्ट खडोई जंदा, त़
काला कौआ सफ
़ द िोई जंदा, त़ गंधक शिद द़ समान मोठा
िोई जंदा, तां अजानो त़ मूख् समझो सकद़ त़ जानो िोई
सकद़।
६० ि़ म़ट़ पुतट! ज़कट तू जानो बनना चांद़ ओ तां अपनो जो्
गो झूठ बोलऩ थमां टोको, त़ अपऩ ित गो चोटो कटऩ थमां, त़
अपनो अकों गो बुटाई गो हदकऩ थमां टोक; तां तू जानो
आखया जाग़।
६१ ऐ म़ट़ पुतट! जानो तुगो छडो कऩ माट़, ल़कन मूख् तुगो
मोठ़ मलब़ कऩ अह्ष़क ऩईं कट्। जभानो च नम बनो त़
बुढाप़ च तू आदट िोग।
६२ ऐ म़ट़ पुतट! ना कोई मनुख अपनो शद् द़ हदने च, त़
नहदया दो जल-पलय द़ हदने च।
६३ ऐ म़ट़ पुतट! घ
़ ट़आलो द़ बाि
़ च जलबाजो ऩई कटो,
कोज़ ज़कट ठोक ि
़ ोई जा तां ओि
़ ग् लाग, 'म़ट़ सामो, म़ट़
आस् त़ इंतजाम कटो'; त़ ज़कट बोमाट हनकलो जा तां ओि
़
उसो ट़ट कटग ज़का इसदा काटर िा।
६४ ऐ म़ट़ पुतट! ज़डा बो अपऩ कपड़ च सुरहचपूर् ऐ, ओि
अपनो बोलऩ च बो इक ग् ऐ; त़ ज़डा अपऩ कपड़ च नोच रप
टखदा ऐ, ओि बो अपनो गलां च इक ग् ऐ।
६५ ऐ म़ट़ पुतट! ज़कट तुसे कोई चोटो कोतो ऐ तां सुलान गो
दसो त़ उसो उस च हिसा द़ओ तां ज़ तुस उंद़ कोला मु्
िोई जाओ, कोज़ ऩईं त़ तुस कडभािट झ़लग़।
६६ ऐ म़ट़ पुतट! हजस माि्नू दा ित त्प त़ ्टोच़ दा ऐ, उसो
दोस बनाओ, त़ हजस माि्नू दा ित बंद त़ ्ुका ऐ, उसो
दोस ऩईं बनाओ।
६७ चाट गलां िन हजिनां हभच न तां टाजा त़ न िो उिदो
फौज सुटहकत िो सकदो ि्: भजोट दा जुल, त़ बुटो सटकाट, त़
मज् दो हभक
् हत, त़ हभषय त़ अताचाट; त़ चाट गलां ज़ि्हडयां
छु पाई ऩईं जाई सकहदयां: समझदाट त़ मूख्, त़ अमोट त़
गटोब।'
अध्य 3
अहिकट टाज द़ मामले च सह्य ्ागोदाटो थमां रटटायट िोंद़
न। ओि् अपनो संपहत अपऩ गदाट ्तोज़ गो सौंपदा ऐ। इते
एि् गजब दो किानो ऐ ज़ हकस चालो इक शु्गुजाट उडाई
आहा जालसाज बनो जंदा ऐ। अहिकट गो उलझाऩ दो चतुटाई
कन् साहजश द़ नतोज़ च उसो मौत दो सजा िोई जंदो ऐ।
जाहिट सो अहिकट दा अंत।
१िाइकाट ऩ इस तिाह आखा, त़ जदों उसऩ अपनो ््न द़
पुतट नदान नाल इि आजा त़ किाभतां खत कट हदतो तां उस
ऩ कलना कोतो हक ओि इनां साट़आं नूं टख़गा, त़ उस नूं
निों पता सो हक इस द़ बजाय ओि उस नूं थकाभट त़
हतटसाट त़ मजाक दा पदश्न कट रटिा ि्।
२इसद़ बाद ि्काट अपऩ घट हभच ब्ठ क
़ अपना साटा सामान,
गुलाम, दासो, घोड़, मभ़शो, त़ बाको सब क
ु छ जो उद़ कोल सो
त़ िाहसल हकता सो, नादान नू सौंपो हदता। त़ बोलो त़ मनािो
दो शद् नदान द़ ित च ग् ट़ई ग़ई।
३ि्कट अपऩ घट हभच आटाम कट ब्ठ़ , त़ िट बाट ि्काट जा
क
़ टाजा नू श्ांजहल देदा सो, त़ घट भापस आ जांदा सो।
४नदन नूं जदों पता लगया हक बोलो त़ मना कटन दो ताकत
उिनां द़ ित हभच ि्, तां उस ऩ ि्काट दो द्हत दा तुच
समझ क
़ उस दा मजाक उडाया, त़ जदों भो ओि पगट िोया
तां उस नूं दोश द़र लगा, 'म़ट़ चाचा ि्काट उिनां द़ डोट हभच
ि्। त़ ओि
़ ि
़ ुन हकश ऩई जानदा।'
५ त़ गुलाम त़ नौकरटयां गो माटना लगो प़या, त़ घोड़ त़ ऊ
ं ट
ब़चना शुर कटो हदता त़ अपऩ चाचा ि्काट द़ साट़ चोजे कऩ
खटच कटना शुर कटो हदता।
६ जदुं ि्काट ऩ हदखया क
़ उसो अपऩ नौकटे उपट त़ ना ग्
अपऩ घट् च दया ऐ, तां उऩ उठो ग़या त़ उसो अपऩ घट् थमां
्गाई हदता त़ टाजा गो सूहचत कटऩ आस् त़ ़्ज़आ ज़ उऩ
अपनो संपहत त़ अपना खाना हबखटो हदता ऐ।
७ त़ टाजा उठ क
़ नदान नू बुलाया त़ आखा, 'जद तक ि्कट
स् ट़िभ़गा, तां कोई उिद़ माल त़ ना उिद़ घट त़ ना उिदो
समहत त़ टाज कटभ़गा।'
८ नादन दा ित अपऩ चाचा ि्कट त़ उद़ साट़ माल कोला िट
गया, त़ इस बोच ओि ना अंदट ग़या त़ ना बािट ग़या, त़ ना
उसो नमसाट हकता।
९इसद़ बाद ि्काट ऩ अपनो ््न द़ पुतट नदान द़ नाल अपनो
म़िनत दा पछताभा हकता, त़ ओि बडा दुखो िोया।
१० नादान दा इक छोटा भा िा, हजसदा नां ब़नूजद्न िा, इस
कटो िाइकट ऩ नादान दो जगि उसो अपऩ कोल ल़ई ल़या, त़
उसो बडा आदट हदता। त़ उसो अपऩ घट् दा शासक बनाया।
११ नादन गो ज़ हकश िोआ दा पता लगो ग़आ तां उसो ईरा्
त़ ईरा् िोई ग़ई, त़ िट इक उंद़ कोला पूछताछ कटऩ आहे
कन् हशकायत कटऩ लगो प़आ त़ उंद़ चाचा िाइकट दा
मजाक उडाना लगो प़आ, 'म़ट़ चाचा ऩ हमगो अपऩ घट् थमां
्गाई हदता ऐ, त़ कटो चुक
़ दा ऐ।' म़ट़ कोला म़ट़ भा गो
तटजोि हदतो, पट ज़कट पटमाता हमगो शद् द़ग तां मै उंद़
उपट माट़ जाऩ दा दु्ा्ग ल़ई औना।'
१२ नादन उस ठोकट द़ बाट़ च मनन कटदा ट़आ। थोडो द़ट
बाद नदान ऩ अपऩ मन च उसो पलटद़ िोई फाटस द़ टाजा
शाि जानो द़ पुतट अकोश गो इक हचटो हलखो।
१३ 'ि़ मिान टाजा, अशूट त़ नोनभ़ द़ टाजा सनि़टोब त़ उंद़
भजोट त़ उंद़ सहचभ ि्काट कोला शांहत त़ स़ित त़ पटा्म त़
आदट त़ट़ कोल! त़ट़ त़ म़ट़ बोच पेस िोभ़।
१४ त़ जदुं ए हचटो तुंद़ कोल पुजग, ज़कट तू उठ क
़ जलो
हनसोन द़ म्दान त़ अशूट त़ नोनभ़ च जाओ, तां मै तुगो हबना
यु् द़ त़ हबना यु् द़ टाज सौंप द़गा।'
१५ त़ हमस द़ टाजा हफटौन गो िाइकट द़ नां कऩ इक िोट
हचटो बो हलखो। 'ि़ पटा्मो टाजा, त़ट़ त़ म़ट़ बोच शांहत िोभ़!
१६ ज़ इस पत द़ तुंद़ कोल पुजऩ द़ समे तू उठो जाओ त़
अशूट त़ नोनभ़ च हनसोन द़ म्दान च जाओग़, तां मै तुगो
हबना यु् द़ त़ हबना लडऩ द़ टाज सौंप द़गा।'
१७ त़ नदान दा हलखना उंद़ चाचा िाइकट द़ हलखऩ द़ समान
िो।
१८ उस ब़ल़ दो हचहटये गो मोहडय़ अपऩ चाचा िाइकट दो
मुिट कऩ मुिट लाया। हफटो बो ओि
़ टाजा द़ मिल च ग् ि़।
19 हफट जा क
़ टाजा दा इसो तटि अपऩ चाचा ि्काट गो इक
हचटो हलखो: 'म़ट़ भजोट, म़ट़ सहचभ, म़ट़ चांसलट, ि्काट गो
शांहत त़ स़ित।'
२० ि़ ि्कट, जदुं ए हचटो त़ट़ कोल पुजो जा, त़ अपऩ कऩ
िोऩ आल़ साट़ हसपािो गो इकटा कटो, त़ कपड़ त़ हगनतटो च
हस् िोन, त़ पंजमे हदन हनसोन द़ म्दान च म़ट़ कोल ल़ई
आओ।
२१ जदुं तू हमगो उते अपऩ आस् त़ औंद़ हदक
् खग़, तां
जलबाजो च फौज गो म़ट़ कन् ऩ लडऩ आलो दुशन द़ रप
च चढाओ, कोज़ म़ट़ कन् ऩ हमस द़ टाजा हफटौन द़ टाजदू त बो
न, तांज़ ओि
़ साढो ताकत गो हदक
् खो सकन फौज त़ साढ़
कोला डटो, कोज़ ओि साढ़ दुशन न त़ साढ़ कन् नफटत
कटद़ न।'
२२ उस ब़ल़ उस हचटो उपट मुिट ला क
़ टाजा द़ इक नौकट
ऩ िाइकट च ़्जो हदतो। त़ दू ई हचटो ज़डो हलखो िो, उसो
ल़ईय़ टाजा द़ सामऩ फ
् लाया त़ उसो पढो ल़ता त़ मुिट दसो।
२३ टाजा ऩ हचटो च ज़ हकश ऐ, उसो सुहनय् बडा ग् उलझन च
प़ई ग़या त़ बडा त़ कड़ गुस़ कऩ गुस़ च आया, त़ आखया,
'आि, मै अपनो बुद् दसो ऐ! मै िाइकट कन् क
़ ि् कोता ऐ ज़
उ’ने म़ट़ दुशने गो एि् हचहटयां हलदखयां न? का ए म़टा उसद़
कोला म़ट़ फायद़ दा बदला ऐ?'
२४ नादन ऩ उसो आखया, 'ि़ टाजा, दुखो मत िोओ! न िो
गुसा िो जाओ, पट आओ हनसोन द़ म्दान च जाइय् हदकऩ
आं ज़ एि् किानो सचो ऐ जां ऩईं।'
२५ हफटो नदन पंजभे हदन उठ क
़ टाजा त़ हसपािो त़ भजोट गो
ल़इय् ट़हगसान च हनसोन द़ म्दान च चलो ग़। त़ टाजा ऩ
हदखया, त़ हदखो! िाइकट त़ फौज सटरो च ब्ठो ग़ई।
२६ जदुं िाइकट ऩ हदक
् ख़या क
़ टाजा उते ऐ, तां उन् ऩ फौज
गो इशाटा हकता क
़ ओि
़ जंग द़ समान चलो जाओ त़ टाजा द़
खलाफ सजऩ आस् त़ लडन हजय् यां हचटो च हदक
् ख़या ग़दा
ऐ, तां उसो ऩई पता िा क
़ नादान ऩ क
ु स गड़ आस् त़ खोदया
ऐ उसो।
२७ जदुं टाजा ऩ िाइकट दो कम् हदखया तां उसो हचंता त़
आतंक त़ उलझन च प़ई ग़या त़ बडा गुसा आया।
२८ नादन ऩ उसो आखया, 'ि़ म़ट़ सामो टाजा, का तू हदको
ल़या ऐ! इस दरटद ऩ क
़ कोता ऐ? पट तू गुसा ऩई िोओ त़ ना
दुखो िोओ त़ ना ग् दुखो िोओ, पट अपऩ घट जाइय् अपऩ
हसंिासन उपट ब्ठो जाओ, त़ मै ि्काट गो जंजोटे कन् बनो दो
त़ जंजोटे कन् बनो ल्ना तुंद़ कोल ल़ई औगा, त़ मै त़ट़ दुशन
गो हबना क
ु स् म़िनत द़ तुंद़ कोला ्गाई द़गा।'
२९ टाजा िाइकट द़ बाट़ च गुस़ च अपऩ हसंिासन उपट
भापस आई ग़आ त़ उंद़ बाट़ च हकश ऩई हकता। त़ नदन
िाइकट च जाइय् उसो आख़आ, ‘भ’अलाि, ि़ म़ट़ चाचा! टाजा
त़ट़ च बडो खुशो कऩ खुश ऐ त़ तुंदा धनभाद कटदा ऐ क
़ तुसे
ज़डा हु हदता िा, उसो पूटा कटो ओड़या।
३० त़ हन उऩ हमगो तुंद़ कोल ़्ज़या ऐ क
़ तू फौहजये गो उंद़
कमे च सुटो द़ओ त़ अपऩ हपच़ ित बनो ल्ओ त़ प्टे गो
जंजोटे च बनो ल्ओ, तां ज़ हफटौन द़ टाजदू त एि् हदको सकन
त़ टाजा बो िोऐ उंद़ त़ उंद़ टाजा कोला डटदा िा।'
३१ हफट िाइकट ऩ जभाब हदता, 'सुनना आजा मनना ऐ।' त़
ओि
़ फौटन उठो ग़या त़ उद़ हपच़ अपऩ ि
़ त् थे बन् नो ल़ता,
त़ उद़ प्टे गो जंजोटे च बन् नो ल़ता।
३२ नादन उसो ल़ई ग़या त़ उद़ कऩ टाजा द़ कोल चलो ग़या।
त़ जदूं िाइकट टाजा द़ सामऩ दाखल िोई ग़आ तां ओि्
जमोन् उपट उंद़ सामऩ नमसाट कोता त़ टाजा गो सता त़
सनातन जोभन दो कामना कटदा िा।
३३ हफट टाजा ऩ आखा, 'ि़ ि्काट, म़ट़ सहचभ, म़ट़ मामले द़
गभन्ट, म़ट़ चांसलट, म़ट़ टाज द़ शासक, हमगो दसो, मै तुंद़
कऩ क
़ ि बुटा हकता ऐ, हजस कऩ तुसे हमगो इस क
ु रप कम
दा इनाम हदता ऐ।'
३४ हफटो उऩ उसो हलख़ द़ हचहटयां त़ उदो मुिट कऩ हलख़। त़
जदुं िाइकट ऩ एि
़ हदक
् ख़या, तां उंद़ अंग-अंग काँपद़ ग़ त़
उदो जो् इक बाटो ग् बनो ग़ई, त़ ओि
़ डटद़-डटद़ इक बो
गल् ल ऩई बोलो सकदा िा। ल़कन उऩ अपना हसट धटतो
उपट लटकाया त़ गूंगा िोई ग़आ।
३५ टाजा ऩ ए हददखय़ पको िोया हक ए गल उद़ कोला आई
ऐ, त़ उऩ फौटन उठ क
़ उनेगो िाइकट गो माटऩ त़ श्िट द़
बािट तलभाट कऩ माटऩ दा हु हदता।
३६ हफट नदन ऩ हचलाया त़ आखा, 'ि़ ि्काट, ओ काला
च़िटा! टाजा द़ इस कम् गो कटऩ च त़ट़ धान जां त़टो शद्
दा क
़ ि् फायदा िोंदा ऐ?'
३७ इस तिाह किंदा ि् कथाकाट। त़ तलभाटबाज दा नां अबू
सहमक िा। त़ टाजा ऩ उसो आखा, 'ि़ तलभाटबाज! उठ,
जाओ, िाइकट दो गद्न गो उंद़ घट् द़ दटभाज़ पट फाडो द़ओ,
त़ उंदा हसट उंद़ शटोट थमां सौ िाथ दू ट कटो ओडो।'
३८ हफट िाइकट ऩ टाजा द़ सामऩ घुटऩ ट़क क
़ आखा, 'म़ट़
सामो टाजा गो िम़शा हजंदा टौहा चाहिदा! त़ ज़कट तू हमगो
माटना चांद़ ओ तां तुंदो इचा पूटो िोई जा; त़ मै जानना आं क
़
मै गुनािगाट ऩईं ऐं, पट दुृ माि्नू अपनो बुटाई दा हिसाब द़ऩ
आस् बास ऐ; हफटो बो ि़ म़ट़ सामो टाजा ! मै तुिाड़ त़ त़टो
दोसो तों हभनतो कटदा िां, तलभाटबाज नू म़टा लाश म़ट़
गुलामे नू द़र दो इजाजत द़, तां हक ओि हमगो दफन कटन, त़
त़टा गुलाम त़टा बहलदान िोन।'
३९ टाजा उठ क
़ तलभाटबाज गो हु हदता ज़ ओि् उसो
अपनो मज् द़ मताबक कटन।
४० त़ उऩ फौटन अपऩ नौकटे गो आजा हदतो ज़ ओि् िाइकट
त़ तलभाटबाज गो ल़इय् उंद़ कन् नंग़ चलो जान तां ज़ ओि्
उसो माटो सकन।
४१ जदुं िाइकट गो पका पता लगो ग़आ ज़ उसो माटो हदता
जाना ऐ तां उऩ अपनो घट़आलो गो ़्ज़आ त़ आखया, 'बािट
आओ त़ म़ट़ कऩ हमलना, त़ तुंद़ कऩ इक िजाट क
ु हडयां िोन,
त़ उनेगो बैगनो त़... ट़शम तां ज़ म़टो मौत कोला प्ह़ म़ट़ आस्
टोई सकन।
४२ त़ तलभाटबाज त़ उद़ नौकटे आस़ म़ज त्याट कटो। त़
्टपूट शटाब हमलाओ, तां ज़ ओि् पोन।'
४३ त़ उन ज़ हकश आजा हदतो िो, उसो पूटा कटो ल़ता। त़
ओि
़ बडो ग् जानो, चतुट त़ समझदाट िो। त़ उऩ िट सं्भ
हशृाचाट त़ हसकऩ गो इकटा कोता।
४४ जदुं टाजा दो फौज त़ तलभाटबाज आए तां उनेगो म़ज त़
शटाब त़ आलोशान बूि्ट़ दा ्मब्ता हमलो ग़ई, त़ ओि
़
खाऩ-पोऩ लग़, जदुं तकट ओि
़ गल् लां ऩई ि
़ ोई ग़।
४५ हफटो ि्काट ऩ तलभाटबाज नूं संगत तों अलग कट क
़
आखया, 'ि़ अबू सहमक, का तू निों जानदा हक जदों
सनि़टोब दा हपता टाजा सटिदुम तुिानू माटना चाहंदा सो, तां
मै तुगो ल़ क
़ इक खास थां त़ छु पा क
़ टख़या टाजा दा गुसा
शांत िोई ग़आ त़ उऩ त़ट़ ल़ई मंग़आ?
४६ जदुं मै तुगो उद़ सामऩ ल़ई आया तां ओि त़ट़ उपट खुश
िोई ग़या;
४७ त़ मै जानना िां हक टाजा म़ट़ बाट़ च पछताभा कटग त़ म़टो
फांसो द़ बाट़ च बडा गुसा कटग।
४८ को भ़ मै कोई गुनािगाट ऩईं ऐं, त़ जदूं तू हमगो उंद़ मिल
च उंद़ सामऩ प़श कटग़, तां तू बडो सौ्ाग कन् हमलग, त़
जानग़ ज़ म़टो ््न द़ पुतट नदान ऩ हमगो धोखा हदता ऐ त़ म़ट़
कन् एि् बुटा कम कोता ऐ, त़ टाजा हमगो माटो द़ऩ दा
पछताभा कटग; त़ हन म़ट़ घट् द़ बाग च इक कोठटो ऐ, त़
इसदा कोई पता ऩई ऐ।
४९ म़टो घ
़ ट़आलो द़ जान द़ नाल उस हभच छु पा द़। त़ म़ट़
कोल ज़ल च इक गुलाम ऐ ज़डा माट़ जाऩ द़ काहबल ऐ।
५० उसो बािट ल़ई आओ त़ म़ट़ कपड़ पाओ, त़ दासे गो नश़
च उसो माटऩ दा हु द़ओ। उभ़ नशोॊ ऩता चट़गा कक भ़
कौन श् कक भ़ ऩा यश़ शै।
५१ त़ अपऩ हसट गो अपऩ शटोट कोला सौ िाथ दू ट सुटो हदता
त़ ओस दा लाश म़ट़ दासे गो द़ई ओडन तां ज़ ओि् उसो
दफनाई सकन। त़ तू म़ट़ कऩ इक बडा खजाना जमा कटो
ल्ग़।
५२ त़ फ
़ ट तलभाटबाज ऩ ि्काट द़ हु द़ मुताहबक कोता त़
टाजा द़ कोल जा क
़ उस नू आखा, 'त़टा हसट िम़शा हजंदा
ट़िभ़।'
५३ हफटो ि्कट दो घ
़ ट़आलो िट िफ़ उसो लुकाईय़ उद़ कोल
ज़डा काफो िा, उसो उताटदो िो, त़ इस बाट़ च अपऩ हसभाय
िोट हकस़ गो पता ऩईं िा।
५४ त़ िट थािट इस गल दो खबट त़ दोिटाया त़ फ
् लाया हक
हकस चालो ि्कट ऋहष गो माटो हदता ग़आ त़ मटो ग़आ त़
उस श्ि् ट द़ साट़ लोक उंद़ आस् शोक मनांद़ ट़ि्।
५५ त़ टोंद़ िोई आख़आ: 'ि़ ि्काट, त़ट़ आस् िाय! त़ त़टो
पढाई त़ त़ट़ हशृाचाट द़ भास़! त़ट़ त़ त़ट़ जान द़ बाट़ च हकना
दुखो ऐ! त़ट़ ज़िा िोट हकत़ हमल सकदा ि्? त़ इना बुद्मान,
इना हभदान, शासन कटऩ च इना माहिट मनुक क
ु ते िोई
सकदा ऐ ज़ि्डा तुंद़ कन् हमलदा ऐ तां ज़ ओि् तुंदो जगि ्टो
सक
् ।'
५६ पट टाजा िाइकट द़ बाट़ च पछताभा कटदा िा, त़ उद़
पछताभ़ दा कोई फायदा ऩई िोआ।
५७ उस ब़ल़ उन नदान गो सहदय् उसो आखया, 'जाओ त़
अपऩ दोसे गो अपऩ कऩ ल़ई जा त़ अपऩ चाचा ि्काट आस़
शोक त़ टोना कटो, त़ उंदो याद दा आदट कटद़ िोई उसो
रटभाज द़ मताबक हभलाप कटो।'
५८ ल़कन जदुं नदन, मूख्, अजानो, कठोट हदलदाट अपऩ
चाचा द़ घट चलो ग़या, तां ओि ना टोया त़ ना दुखो िोया त़ ना
ग् हभलाप कोता, ल़कन ब़दद् त़ ब़ढंग़ लोक
े गो इकटा करटय्
खाऩ-पोऩ च लग़या।
५९ नादन ऩ िाइकट द़ नौकरटये त़ दासे गो पकडो ल्ना शुर
कटो हदता त़ उनेगो बनो ल्ता त़ तडपद़ िोई उनेगो चोटे कन्
माटना लगो प़आ।
६० त़ उन अपऩ चाचा दो घ
़ ट़आलो दा आदट ऩई हकता, ज़डो
उसो अपऩ जागत् आंगट पालदो िो, ल़कन चािंदो िो क
़ ओि
उद़ कऩ पाप च प़ई जा।
६१ पट िाइकट गो हछपऩ आह़ थाह् च कटो हदता ग़दा िा, त़
ओि् अपऩ गुलामे त़ अपऩ पडोहसये द़ टोऩ गो सुनो लैदा िा,
त़ ओि् पटमाता, दयालु पटमाता दो सुहत कटदा िा, त़
धनभाद कटदा िा, त़ िम़शा पटमाता कोला पाथ्ना कटदा िा
त़ हभनतो कटदा िा .
६२ त़ तलभाटबाज लुकाई द़ हबचो-हबचो समे-समे पट
िाइकट च औंदा िा, त़ िाइकट आक
़ उसो हभनतो कटदा िा।
त़ उसो हदलासा हदता त़ उसो मुद् दो कामना कोतो।
६३ त़ जदुं दू ज़ मुले च इस गल दो खबट आई ज़ िाइकट
ऋहष गो माटो हदता ग़दा ऐ, तां साट़ टाजा दुखो िोई ग़ त़ टाजा
सनाि़रटब गो तुच समझद़ ि़, त़ पि़लो सुलझाऩ आल़ िाइकट
उपट हभलाप कटद़ ि़।
अध्य 4
"द्
ं ि दो पि़हलयाँ।" सचमुच अहिकट दा का िोया। उंदो
भापसो।
१जदूं हमस द़ टाजा ऩ ि्काट द़ माट़ जाऩ दा यकोन कट लया,
तां उसऩ फौटन उठ क
़ टाजा सनि़रटब नू हचटो हलख क
़ उस
हभच उस नूं याद हदला हदता हक 'शांहत त़ स़ित त़ पटा्म त़
इजत दो जो असों त़ट़ भास़ खास कामना कटद़ िां।' म़ट़
लाडल़ भा टाजा सनाि़रटब।
२ मै आकाश त़ धटतो द़ हबच इक मिल बनाऩ दो इचा
कटदा ट़आ, त़ मै चाि्नां क
़ तू हमगो अपऩ कोला इक जानो,
चतुट आदमो ़्जो, तां ज़ ओि् म़ट़ आस् बनान, त़ म़ट़ साट़
सभाले दा जभाब द़य्, त़ म़ट़ कोल एि् िोऐ कट त़ त् साल
तकट अशूट द़ कसम डूटो।'
३ हफटो उन हचटो उपट मुिट लाया त़ सनाि़टोब गो ़्जो
हदता।
४उसऩ उसो ल़ईय़ पढो ल़या त़ अपऩ भजोटे त़ अपऩ टाज द़
क
ु लोन लोक
े गो द़ई हदता, त़ ओि उलझन त़ शहमहदा िोई ग़,
त़ ओि बडा गुसा कऩ गुस़ च प़ई ग़या, त़ इस गल् उपट
ि्टान िोई ग़आ ज़ उसो हकस चालो कम कटना ऐ।
५ उस ब़ल़ बुजुग् त़ हभदाने, जानो त़ दाश्हनक
े , ्हभरभाहरयां
त़ जोहतहषये त़ िट इक गो इकटा करटय् ज़डा अपऩ द़श च
िा, त़ उनेगो हचटो पहढय् उनेगो आख़आ, 'तुंद़ च क
ु न चाि्ऩ
न।' हमस द़ टाजा हफटौन द़ कोल जाइय् उंद़ सभाले दा जभाब
द़ओ?'
६ त़ उऩ उस कऩ आखया, 'ि़ साडा सामो टाजा! तूं जान लओ
हक तुिाड़ टाज हभच कोई निों ि् जो इनां सभालां नाल
परटहचत िोभ़, हसभाय त़ट़ भजोट त़ सहचभ ि्काट द़।
७ ल़कन साढ़ च इस च कोई हनट ​ ​ ऩई ऐ, जद तकट उदो
््न दा पुतट नादान ऩईं िोऐ, कोज़ उऩ उसो अपनो साटो बुद्
त़ हशका त़ जान हसखाया िा। उसो अपऩ कोल सदो, शायद
ओि् इस कठोट गांठ गो खोलो सक
् ।'
८ उस ब़ल़ टाजा ऩ नदान गो बुलाया त़ आखया, 'इस हचटो गो
हदखो त़ समझो हक इस च क
़ ऐ।' त़ जदुं नदन ऩ पढ़या, तां
उन् ऩ ग् लाया, 'ि़ म़ट़ सामो! क
ु न आकाश त़ धटतो द़ बोच
मिल बनाऩ च समथ् ऐ?'
९ टाजा ऩ नदान दो गल सुनो त़ बडा त़ बडा दुखो िोया त़
अपऩ हसंिासन तों उतट क
़ टाख हभच ब्ठ क
़ िाइकट द़ बाट़
हभच टोन त़ हभलाप कटन लगा।
१०किद़ िोए, 'ि़ म़ट़ दुख! ि़ ि्काट, हजसऩ टाज त़ पि़हलयां
जानद़ ि़! िायकट मै त़ट़ भास़ ऐ ि्कट! ि़ म़ट़ द़श द़ गुर त़
म़ट़ टाज द़ शासक, त़ट़ समान हकत़ पाना? ऐ ि्कट, ि़ म़ट़
द़श द़ गुर, त़ट़ भास़ हकत़ मुड जाभांगा? िाय त़ट़ आस़ मै !
मै तुगो हकय् यां नाश कटो ओड़या! त़ मै इक ब़भक
ू फ, अजानो
मुंड़ दो गल सुनो, हबना जान द़, हबना धम् द़, हबना मदा्नापन
द़।
११आि! त़ हफट आि अपऩ आस़! क
ु न तुगो हसफ
् इक बाटो
ल़ई हमगो द़ई सकदा ऐ, जां हमगो खबट द़ई सकदा ऐ ज़
िाइकट हजंदा ऐ? त़ मै उसो अपऩ टाज दा आधा हिसा द़ई
हदंदा िा।
१२ ए म़ट़ ल़ई हकत़ आया? आि, िाइकट ! तां ज़ मै तुगो इक
बाटो फिो हदक
् खो सकां, तां ज़ त़ट़ गो हदक
् खोए त़ तुंद़ च
मस िोई जा।
१३आि! ओ त़ट़ भास़ म़टा दुख िट भ् तक! ओ ि्काट, मै
तुगो हकस चालो माटो ओड़या! त़ मै त़ट़ मामल़ च उस भ़ल़
तकट ऩई रक
़ या, जदुं तकट मै इस गल् ला दा अंत ऩई हदक
्
ख़या।'
१४ त़ टाजा टात हदन टोंद़ ट़ि। हर जदुं तलभाटबाज ऩ टाजा दा
गुसा त़ िाइकट द़ पहत उसो दुख हदखया तां उंदा हदल उंद़
आस् त़ नटम िोई ग़या, त़ ओि
़ उद़ सामऩ ऩड़ आईय़ उसो ग्
लाया।
१५ 'ि़ म़ट़ सामो! अपऩ दासे गो आजा द़ओ क
़ ओि
़ म़टा हसट
कटन।' हफट टाजा ऩ उस नू आखा: 'िाय त़ट़, अबू सहमक,
त़टा कसूट को ि्?'
१६ त़ तलभाटबाज ऩ उसो आखा, 'ि़ म़ट़ माहलक! िट गुलाम
ज़डा अपऩ माहलक द़ भचन द़ उल कटदा ऐ, उसो माटो हदता
जंदा ऐ, त़ मै त़ट़ हु द़ उल कम कोता ऐ।'
१७ उस ब़ल़ टाजा ऩ उसो आखा। 'िाय तुझ़ ऐ अबू समोक,
तु्ऩ ़्य़ आजा क
़ उल़ ुा ककमा श् ?'
१८ त़ तलभाटबाज ऩ उसो आखा, 'ि़ म़ट़ प्ु! तुसे हमगो
िाइकट गो माटऩ दा हु हदता िा, त़ मै जानदा िा ज़ तू उंद़
बाट़ च पछताभा कटग़, त़ उंद़ उपट गलतो िोई ग़ई ऐ, त़ मै
उसो इक खास थाि् ट उपट छु पाई ल़आ िा, त़ मै उंद़ इक
गुलाम गो माटो ओड़या िा, त़ ओि् हन सुटहकत ऐ क
ुं ड, त़
ज़कट तू हमगो हु द़ओ तां मै उसो अपऩ कोल ल़ई औना।'
१९ टाजा ऩ उसो आखा। 'िाय त़ट़, ओ अबू सहमक! तू म़टा
मजाक उडाया ऐ त़ मै त़टा सामो आं।'
२० त़ तलभाटबाज ऩ उसो आखया, 'निों, ल़कन त़ट़ हसट द़
पार कऩ ि़ म़ट़ प्ु! ि्काट सुटहकत त़ हजंदा ऐ।'
२१ टाजा गो ए गल सुहनय् उसो इस गल् दा पका यकोन
िोई ग़आ, त़ उंदा हसट त्टना लगो प़आ, त़ उसो खुशो थमां
ब़िोश िोई ग़आ, त़ उनेगो िाइकट गो ल़ई औऩ दा हु
हदता।
२२ त़ तलभाटबाज गो आखया, 'ि़ ्टोस़मंद दास! ज़कट तुंदो
गल सच ऐ तां मै तुगो सम्् कटना चांि् दा त़ तुंदो इजत गो
तुंद़ साट़ दोसे कोला बो उपट चुको ल्ना।'
२३ त़ तलभाटबाज खुश िोईय़ चलदा ट़या, जद तकट ओि
िाइकट द़ घट ऩईं आया। त़ उऩ हछपऩ आलो जगि दा
दटभाजा खोलो ल़या, त़ उतटो ग़या, त़ िाइकट गो ब्ठ़ दा लबा,
त़ पटमाता दो सुहत कटदा ऐ त़ उंदा शुह्या अदा कटदा ऐ।
२४ त़ उन उस नूं हचलाया, 'ि़ ि्काट, मै सब तों भडो खुशो, त़
सुख त़ आनन दा लांदा िां!'
२५ त़ ि्काट ऩ उस नू आखा, 'ि़ अबू सहमक, को खबट ि्?'
त़ उसो शुर थभां अखोटो तकट हफटौन द़ बाट़ च सब हकश
दस़या। हफटो उसो ल़ई ग़या त़ टाजा द़ कोल चलो ग़या।
२६ जदुं टाजा ऩ उसो हदक
् ख़या, तां उद़ बाले गो जंगलो
जानभटे द़ समान लम़ त़ नाखून चोल द़ पंज़ आंगट लम़ िोई
ग़द़ न, त़ उदा शटोट धूड कऩ गंदा ऐ, त़... उंद़ च़िट़ दा टंग
बदलो ग़दा िा त़ फोका िोई ग़दा िा त़ हन टाखो आहा िोई
ग़दा िा।
२७ टाजा ऩ उसो हदखद़ ग् उसो दुखो िोई ग़आ त़ इक बाटो
फिो उठो ग़आ त़ उसो गल़ लाया त़ चुम़आ, त़ उसो टोंद़ िोई
आख़आ: 'पटमाता दो सुहत िोनो चाहिदो! हजसऩ तुगो म़ट़
कोल भापस ल़ई आया ऐ।'
२८ उस ब़ल़ उसो हदलासा हदता त़ हदलासा हदता। त़ उऩ
अपना चोगा उतारटय़ तलभाटबाज उपट लाया त़ उद़ उपट
बडा क
् पा करटय् उसो बडो दौलत हदतो त़ िाइकट गो आटाम
हदता।
२९ हफट ि्काट ऩ टाजा गो आखया, 'म़ट़ सामो टाजा गो िम़शा
हजंदा टौहा चाहिदा! संसाट द़ संतान द़ कम् िोन। मै इक ताड
दा प़ड पालया ऐ हजस उपट मै हटका सकां, त़ ओि् बको
झुको ग़आ त़ हमगो थल़ सुटो हदता।
३० ल़कन ि़ म़ट़ प्ु! जदुं मै त़ट़ सामऩ पगट ि
़ ोया ऐं, तां
तुसेगो पटभाि ऩई कटना चाईदा! त़ टाजा ऩ उसो आखया,
'पटम़सट दा ध
़ नभाद िोभ़, हजऩ तुंद़ उपट दया हकता, त़
जानदा िा क
़ तुंद़ कऩ गलत हकता ग़दा ऐ, त़ तुगो बचाई ल़ता
त़ माटो जाऩ थभां छु डाया।'
३१ ल़कन गम् सान च जाइय् अपऩ हसट मुंडन कटो, त़ नाखून
कटो, त़ अपऩ कपड़ बदलो, त़ चालोस हदने तकट मनोटंजन
कटो, तां ज़ तू अपऩ आप् गो ्ला कटो ओडो त़ अपनो िालत
त़ अपऩ च़िट़ दा टंग सुधटो त़ट़ कोल भापस आ सकदा ि्।'
३२ उस ब़ल़ टाजा ऩ अपना मिंगा चोगा उतारटय़ िाइकट लाया,
त़ िाइकट ऩ पटमाता दा शुह्या अदा कटद़ िोई टाजा दा
पराम हकता, त़ पटमाता पटमाता दो सुहत कटद़ िोई खुश त़
खुश िोईय़ अपऩ हनभास च चलो ग़आ।
३३ उद़ घट् द़ लोक उद़ कऩ खुश िोई ग़, त़ ओस द़ दोस त़
िट इक ज़क
़ उसो हजंदा ऐ सुहनय् खुश िोई ग़।
अध्य 5
"पि़लो" दा अकट अहिकट गो दस़आ जंदा ऐ। चोल पट
लडक
़ । प्हो "िभाई जिाज" दो सभाटो। हमस च टभाना।
अहिकट, बुद्मान िोऩ द़ नात़ बो िास-वंग दा ्ाभ िोंदा
ऐ। (शोक 27) दा।
१ त़ टाजा द़ हु द़ मताबक हकता, त़ चालोस हदने तकट
हभशाम हकता।
२हफट उसऩ अपना सब तों समलैहगक कपडा पहिन क
़ टाजा
द़ कोल सभाट िो क
़ अपऩ गुलाम द़ हपच़ त़ अग़ खुशो त़
खुश िो क
़ टाजा द़ कोल चलो गया।
३ ल़कन जदुं नादान उदो ््न द़ पुतट गो एि
़ पता लगो ग़या क
़
ओि
़ क
़ ि
़ ि
़ ोदा ऐ, तां उसो डट त़ घबटाई ग़या, त़ ओि
़
अचंह्त ि
़ ोई ग़या।
४ जदुं ि्कट ऩ ए हदखया तां टाजा द़ सामऩ जाइय् उसो
नमसाट हकता, त़ उसो नमसाट भापस कटो हदता त़ उसो
आखया।
'ि़ म़ट़ लाडल़ ि्काट! इ'ने हचहटये गो हदको, हजनेगो हमस द़
टाजा ऩ तू माटो हदता ग़दा सुनऩ द़ बाद असेगो ़्ज़ दा िा।
५ उऩ सानु गुसा हकता त़ साड़ उपट जोत पाई ऐ, त़ साढ़
मुल द़ मत़ साट़ लोक हमस द़ टाजा ऩ साढ़ कोला मंगऩ
आस़ ़्ज़ द़ कट द़ डट कऩ हमस च ्ागो ग़द़ न।
६हफट ि्काट ऩ हचटो ल् क
़ पढ क
़ उस दो गल समझो।
७हफट उन टाजा नू आखा। 'ि़ म़ट़ सामो, गुसा मत िो! मै
हमस च जांि्गा, त़ मै हफटौन गो जभाब भापस कटगा, त़ मै
उसो इस हचटो गो पदहश्त कटगा, त़ कट द़ बाट़ च उसो
जभाब द़गा, त़ ्गऩ आह़ साटे गो भापस ़्जो द़गा। त़ मै
पटमाता पटमाता दो मदद कऩ त़ त़ट़ टाज दो सुख आस़
त़ट़ दुशने गो शहमहदा कटगा।'
८ जदुं टाजा ऩ िाइकट थभां ए गल सुनो, तां ओि
़ बडो खुशो
कन् ऩ खुश िोई ग़या, त़ उदा हदल बडा ग् ि
़ ोई ग़या त़ उद़
उप् पट अनुगि हकता।
९िाइकाट ऩ टाजा नू आखा, 'म़ट़ कोल चालोस हदन दो द़टो
द़यो हक मै इस सभाल त़ हभचाट कट सकां त़ इस दा पबंध कट
सकां।' त़ टाजा ऩ इसदो इजाजत हदतो।
१० त़ िाइकट अपऩ हनभास च चलो ग़या, त़ उऩ हशकाटो गो
हु हदता ज़ ओि् उंद़ आस् दो चोले गो पकडो ल्न, त़
उनेगो पकडो ल्ता त़ उंद़ कोल ल़ई आए दो िजाट िाथ लम़
ि़, त़ उऩ बढई गो ल़ई आए त़ उनेगो दो बड़-बड़ बकट़
बनाऩ दा हु हदता, त़ उनेगो इय् यां ग् हकता।
११ उस ब़ल़ दो हनक
़ जागते गो ल़ईय़ िट टोज म़ढ़ बहलदान त़
चोले त़ जागते गो दखलाऩ त़ जागते गो चोले दो पोठ उपट
सभाट कटाऩ च गुजाटदा िा, त़ उनेगो इक पको गांठ कऩ
बनो लैदा िा त़ क
़ बल गो प्टे च बनो लैदा िा चोले दा, त़ उनेगो
िट टोज थोि् डो-मतो उपट उडऩ द़यो, दस ित दो दू टो
तकट, हजसल् तकट उनेगो आदत ऩईं िोई जंदो त़ उंदो पढाई
ऩई िोई जंदो। त़ ओि
़ टसो दो साटो लंबाई चलो ग़, जदुं तकट
ओि
़ आकाश च ऩई पुज् जो ग़। लडक
़ अपनो पोठ पट िोकट।
हफटो उनेगो अपऩ कोल खोंच ल़आ।
१२ जदुं िाइकट ऩ हदखया क
़ उंदो चाि पूटो िोई ग़ई ऐ तां उने
जागते गो आजा हदतो क
़ जदुं उनेगो आकाश च ल़ई जाओ तां
ओि
़ हचलान।
१३ 'साड़ कोल हमटो त़ पतट ल़ई आओ, तांज़ अस टाजा
हफटौन आस़ इक मिल बनाई सकच़, कोज़ अस ब़काट िां।'
१४ त़ ि्काट कद़ भो उनां नू पहशहकत त़ कसटत निों कटदा
सो, जद तक ओि (कौशल) द़ ब़िद सं्भ हबंदु त़ निों पहंच
जांद़ सन।
१५ हफटो उने गो छोडो टाजा द़ कोल जाइय् उसो आखया, 'ि़
म़ट़ प्ु! त़टो इचा द़ मताबक कम पूटा िोई जंदा ऐ। म़ट़
कऩ उठो, तां ज़ मै तुगो अचटज दसो सकां।'
१६ इस करटए टाजा उछहलय़ िाइकट द़ कऩ ब्ठो इक चौडो
जगि चलो ग़या त़ चोल त़ जागते गो ल़ई आऩ आस़ ़्ज़या, त़
िाइकट ऩ उनेगो बनो ल्ता त़ उनेगो टसे दो साटो लंबाई च
िभा च छोडो हदता, त़ ओि हचलाऩ लग़ उऩ उनेगो हसखाया
िा। हफटो उनेगो अपऩ कश दखचो ल़ता त़ उंद़ थाि
़ ट उप् पट
टख़या।
१७ टाजा त़ ओद़ कऩ द़ लोक बडा ि्टान िोई ग़, त़ टाजा ऩ
िाइकट गो उंदो अकों द़ बोच चुम़आ त़ आखया, 'ि़ म़ट़
पाट़, शांहत कऩ जाओ! ओ म़ट़ टाज दा घमंड ! हमस च जाओ
त़ हफटौन द़ सभाले दा जभाब द़ओ त़ पटमाता दो ताकत कन्
उंद़ उपट हभजय पाओ।'
१८ उस ब़ल़ उसो हभदाई हदतो त़ अपनो फौज त़ अपनो फौज
त़ जभाने त़ चोले गो ल़इय् हमस द़ हनभासे आहो बको चलो
प़आ। त़ जदुं ओि
़ पुज् जो ग़या, तां ओि
़ टाजा द़ मुल् क
़ आस्
त़ मुडो ग़या।
१९ जदुं हमस द़ लोक
े गो पता लगो ग़या क
़ सनाि़रटब ऩ अपऩ
कस़ द़ इक मानू गो हफटौन कन् ऩ गल् ल कटऩ त़ उद़
सभाले दा जभाब द़ऩ आस् त़ ़्ज़या ऐ, तां उनेगो ए खबट टाजा
हफटौन गो पुजाया, त़ उन् ऩ अपऩ गुप कौंहसल द़ इक दल गो
़्जो हदता क
़ ओि
़ उसो अपऩ सामऩ ल़ई आन .
२० त़ ओि हफटौन द़ सामऩ आईय़ उसो पराम हकता, हजयां
टाजाएं कऩ कटना उहचत ऐ।
२१ त़ उन उसो आखया, 'ि़ म़ट़ सामो टाजा! टाजा सनाि़रटब
त़टा शाद् त़ पटा्म त़ आदट कऩ सुहत कटदा ऐ।
२२ त़ उऩ हमगो ़्ज़या ऐ, ज़डा उद़ दास आं, तां ज़ मै त़ट़
सभाले दा जभाब द़ई सकां त़ तुंदो साटो इचा गो पूटा कटो
सकां, कोज़ तू म़ट़ प्ु टाजा कोला इक ऐसा आदमो मंगऩ
आस़ ़्ज़या ऐ ज़डा तुंद़ बोच इक मिल बनाग आकाश त़
धटतो।
२३ त़ मै पटमाता पटमाता दो मदद त़ त़ट़ उदात अनुगि त़
म़ट़ प्ु दो शद् कऩ त़ट़ आस़ उसो बनाना ऐ हजयां तुस
चांद़ ओ।
२४ ल़कन ि़ म़ट़ सामो टाजा! तू इस च त् साले थमां हमस द़
कट द़ बाट़ च ज़ि्डा आख़आ ऐ--हन इक टाज दो द्टता
सख नाय ऐ, त़ ज़कट तू जोतो लैद़ ओ त़ म़ट़ ित च तुसेगो
जभाब द़ऩ च कोई हनट ​ ​ ऩईं ऐ, तां म़टा सामो टाजा
तुसेगो ़्जग कट हजनां दा हज् तुसों हकता ि्।
२५ त़ ज़कट मै त़ट़ सभालां दा जभाब द़ई लैदा तां त़ट़ कोल
बाको ट़िना ि् हक तुसों जो भो आखा ि्, ओि म़ट़ सामो टाजा
नू ़्जना।'
२६ हफटौन ऩ ए गल सुहनय् अपनो जो् दो आजादो त़ बोलऩ
दो सुखदता कऩ ि्टान िोई ग़या।
Dogri - The Story of Ahikar the Grand Vizier of Assyria.pdf
Dogri - The Story of Ahikar the Grand Vizier of Assyria.pdf
Dogri - The Story of Ahikar the Grand Vizier of Assyria.pdf
Dogri - The Story of Ahikar the Grand Vizier of Assyria.pdf
Dogri - The Story of Ahikar the Grand Vizier of Assyria.pdf

More Related Content

Similar to Dogri - The Story of Ahikar the Grand Vizier of Assyria.pdf

Dogri - Testament of Judah.pdf
Dogri - Testament of Judah.pdfDogri - Testament of Judah.pdf
Dogri - Testament of Judah.pdf
Filipino Tracts and Literature Society Inc.
 
The Book of the Prophet Habakkuk-Dogri.pdf
The Book of the Prophet Habakkuk-Dogri.pdfThe Book of the Prophet Habakkuk-Dogri.pdf
The Book of the Prophet Habakkuk-Dogri.pdf
Filipino Tracts and Literature Society Inc.
 
Dogri - Tobit.pdf
Dogri - Tobit.pdfDogri - Tobit.pdf
Dogri - The First Gospel of the Infancy of Jesus Christ.pdf
Dogri - The First Gospel of the Infancy of Jesus Christ.pdfDogri - The First Gospel of the Infancy of Jesus Christ.pdf
Dogri - The First Gospel of the Infancy of Jesus Christ.pdf
Filipino Tracts and Literature Society Inc.
 
पोवारी साहित्य सरिता भाग ६९
पोवारी साहित्य सरिता भाग ६९पोवारी साहित्य सरिता भाग ६९
पोवारी साहित्य सरिता भाग ६९
Kshtriya Panwar
 
पोवारी साहित्य सरिता भाग ६९.pdf
पोवारी साहित्य सरिता भाग ६९.pdfपोवारी साहित्य सरिता भाग ६९.pdf
पोवारी साहित्य सरिता भाग ६९.pdf
Kshtriya Powar
 
Dogri-Testament of Joseph.pdf
Dogri-Testament of Joseph.pdfDogri-Testament of Joseph.pdf
Dogri-Testament of Joseph.pdf
Filipino Tracts and Literature Society Inc.
 
Maithili - Testament of Naphtali.pdf
Maithili - Testament of Naphtali.pdfMaithili - Testament of Naphtali.pdf
Maithili - Testament of Naphtali.pdf
Filipino Tracts and Literature Society Inc.
 
Dogri - Letter of Jeremiah.pdf
Dogri - Letter of Jeremiah.pdfDogri - Letter of Jeremiah.pdf
Dogri - Letter of Jeremiah.pdf
Filipino Tracts and Literature Society Inc.
 
Desh bhakti geet[patriotic_songs]
Desh bhakti geet[patriotic_songs]Desh bhakti geet[patriotic_songs]
Desh bhakti geet[patriotic_songs]
Pothi.com
 
Shri ram katha balkand
Shri ram katha balkandShri ram katha balkand
Shri ram katha balkand
shart sood
 
Dogri - Second and Third John.pdf
Dogri -  Second and Third John.pdfDogri -  Second and Third John.pdf
Dogri - Second and Third John.pdf
Filipino Tracts and Literature Society Inc.
 
झुंझुरका बाल इ मासिक नोव्हेंबर 2022.pdf
झुंझुरका बाल इ मासिक नोव्हेंबर 2022.pdfझुंझुरका बाल इ मासिक नोव्हेंबर 2022.pdf
झुंझुरका बाल इ मासिक नोव्हेंबर 2022.pdf
Kshtriya Powar
 
BJS e-Bulletin
BJS e-Bulletin BJS e-Bulletin
BJS e-Bulletin
Bharatiya Jain Sanghatana
 
Wo 49 din final
Wo 49 din finalWo 49 din final
Wo 49 din final
CA Amit Jain
 
Chadhala Dhaal -1 | छहढाला ढाल 1
Chadhala Dhaal -1 | छहढाला ढाल 1 Chadhala Dhaal -1 | छहढाला ढाल 1
Chadhala Dhaal -1 | छहढाला ढाल 1
Prakash Jain
 
Shri ram katha किष्किन्धा kand
Shri ram katha किष्किन्धा kandShri ram katha किष्किन्धा kand
Shri ram katha किष्किन्धा kand
shart sood
 
DOGRI - The Book of the Prophet Nahum.pdf
DOGRI - The Book of the Prophet Nahum.pdfDOGRI - The Book of the Prophet Nahum.pdf
DOGRI - The Book of the Prophet Nahum.pdf
Filipino Tracts and Literature Society Inc.
 
E patrika Hindi Dept. Meridian school,Madhapur
E patrika Hindi Dept. Meridian school,MadhapurE patrika Hindi Dept. Meridian school,Madhapur
E patrika Hindi Dept. Meridian school,Madhapur
Anju Dubey
 
अमरकथा अमृत
अमरकथा अमृतअमरकथा अमृत
अमरकथा अमृत
Sudeep Rastogi
 

Similar to Dogri - The Story of Ahikar the Grand Vizier of Assyria.pdf (20)

Dogri - Testament of Judah.pdf
Dogri - Testament of Judah.pdfDogri - Testament of Judah.pdf
Dogri - Testament of Judah.pdf
 
The Book of the Prophet Habakkuk-Dogri.pdf
The Book of the Prophet Habakkuk-Dogri.pdfThe Book of the Prophet Habakkuk-Dogri.pdf
The Book of the Prophet Habakkuk-Dogri.pdf
 
Dogri - Tobit.pdf
Dogri - Tobit.pdfDogri - Tobit.pdf
Dogri - Tobit.pdf
 
Dogri - The First Gospel of the Infancy of Jesus Christ.pdf
Dogri - The First Gospel of the Infancy of Jesus Christ.pdfDogri - The First Gospel of the Infancy of Jesus Christ.pdf
Dogri - The First Gospel of the Infancy of Jesus Christ.pdf
 
पोवारी साहित्य सरिता भाग ६९
पोवारी साहित्य सरिता भाग ६९पोवारी साहित्य सरिता भाग ६९
पोवारी साहित्य सरिता भाग ६९
 
पोवारी साहित्य सरिता भाग ६९.pdf
पोवारी साहित्य सरिता भाग ६९.pdfपोवारी साहित्य सरिता भाग ६९.pdf
पोवारी साहित्य सरिता भाग ६९.pdf
 
Dogri-Testament of Joseph.pdf
Dogri-Testament of Joseph.pdfDogri-Testament of Joseph.pdf
Dogri-Testament of Joseph.pdf
 
Maithili - Testament of Naphtali.pdf
Maithili - Testament of Naphtali.pdfMaithili - Testament of Naphtali.pdf
Maithili - Testament of Naphtali.pdf
 
Dogri - Letter of Jeremiah.pdf
Dogri - Letter of Jeremiah.pdfDogri - Letter of Jeremiah.pdf
Dogri - Letter of Jeremiah.pdf
 
Desh bhakti geet[patriotic_songs]
Desh bhakti geet[patriotic_songs]Desh bhakti geet[patriotic_songs]
Desh bhakti geet[patriotic_songs]
 
Shri ram katha balkand
Shri ram katha balkandShri ram katha balkand
Shri ram katha balkand
 
Dogri - Second and Third John.pdf
Dogri -  Second and Third John.pdfDogri -  Second and Third John.pdf
Dogri - Second and Third John.pdf
 
झुंझुरका बाल इ मासिक नोव्हेंबर 2022.pdf
झुंझुरका बाल इ मासिक नोव्हेंबर 2022.pdfझुंझुरका बाल इ मासिक नोव्हेंबर 2022.pdf
झुंझुरका बाल इ मासिक नोव्हेंबर 2022.pdf
 
BJS e-Bulletin
BJS e-Bulletin BJS e-Bulletin
BJS e-Bulletin
 
Wo 49 din final
Wo 49 din finalWo 49 din final
Wo 49 din final
 
Chadhala Dhaal -1 | छहढाला ढाल 1
Chadhala Dhaal -1 | छहढाला ढाल 1 Chadhala Dhaal -1 | छहढाला ढाल 1
Chadhala Dhaal -1 | छहढाला ढाल 1
 
Shri ram katha किष्किन्धा kand
Shri ram katha किष्किन्धा kandShri ram katha किष्किन्धा kand
Shri ram katha किष्किन्धा kand
 
DOGRI - The Book of the Prophet Nahum.pdf
DOGRI - The Book of the Prophet Nahum.pdfDOGRI - The Book of the Prophet Nahum.pdf
DOGRI - The Book of the Prophet Nahum.pdf
 
E patrika Hindi Dept. Meridian school,Madhapur
E patrika Hindi Dept. Meridian school,MadhapurE patrika Hindi Dept. Meridian school,Madhapur
E patrika Hindi Dept. Meridian school,Madhapur
 
अमरकथा अमृत
अमरकथा अमृतअमरकथा अमृत
अमरकथा अमृत
 

More from Filipino Tracts and Literature Society Inc.

Bicolano - The Story of Ahikar the Grand Vizier of Assyria.pdf
Bicolano - The Story of Ahikar the Grand Vizier of Assyria.pdfBicolano - The Story of Ahikar the Grand Vizier of Assyria.pdf
Bicolano - The Story of Ahikar the Grand Vizier of Assyria.pdf
Filipino Tracts and Literature Society Inc.
 
Batak Karo Child Discipline Training Tract.pdf
Batak Karo Child Discipline Training Tract.pdfBatak Karo Child Discipline Training Tract.pdf
Batak Karo Child Discipline Training Tract.pdf
Filipino Tracts and Literature Society Inc.
 
Baluchi - The Precious Blood of Jesus Christ.pptx
Baluchi - The Precious Blood of Jesus Christ.pptxBaluchi - The Precious Blood of Jesus Christ.pptx
Baluchi - The Precious Blood of Jesus Christ.pptx
Filipino Tracts and Literature Society Inc.
 
Kalaallisut Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Kalaallisut Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptxKalaallisut Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Kalaallisut Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Filipino Tracts and Literature Society Inc.
 
Jingpo Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Jingpo Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptxJingpo Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Jingpo Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Filipino Tracts and Literature Society Inc.
 
Jamaican Patois Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Jamaican Patois Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptxJamaican Patois Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Jamaican Patois Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Filipino Tracts and Literature Society Inc.
 
Iban Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Iban Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptxIban Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Iban Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Filipino Tracts and Literature Society Inc.
 
Hunsrik Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Hunsrik Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptxHunsrik Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Hunsrik Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Filipino Tracts and Literature Society Inc.
 
Hiligaynon Ilonggo Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves...
Hiligaynon Ilonggo Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves...Hiligaynon Ilonggo Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves...
Hiligaynon Ilonggo Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves...
Filipino Tracts and Literature Society Inc.
 
Hakha Chin Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Hakha Chin Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptxHakha Chin Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Hakha Chin Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Filipino Tracts and Literature Society Inc.
 
Ga Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Ga Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptxGa Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Ga Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Filipino Tracts and Literature Society Inc.
 
Betawi - The Story of Ahikar the Grand Vizier of Assyria.pdf
Betawi - The Story of Ahikar the Grand Vizier of Assyria.pdfBetawi - The Story of Ahikar the Grand Vizier of Assyria.pdf
Betawi - The Story of Ahikar the Grand Vizier of Assyria.pdf
Filipino Tracts and Literature Society Inc.
 
Baoule Child Discipline Training Tract.pdf
Baoule Child Discipline Training Tract.pdfBaoule Child Discipline Training Tract.pdf
Baoule Child Discipline Training Tract.pdf
Filipino Tracts and Literature Society Inc.
 
Fulani Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Fulani Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptxFulani Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Fulani Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Filipino Tracts and Literature Society Inc.
 
Friulian Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Friulian Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptxFriulian Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Friulian Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Filipino Tracts and Literature Society Inc.
 
Fon Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Fon Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptxFon Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Fon Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Filipino Tracts and Literature Society Inc.
 
Dzongkha Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Dzongkha Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptxDzongkha Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Dzongkha Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Filipino Tracts and Literature Society Inc.
 
Dyula Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Dyula Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptxDyula Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Dyula Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Filipino Tracts and Literature Society Inc.
 
Bemba - The Story of Ahikar the Grand Vizier of Assyria.pdf
Bemba - The Story of Ahikar the Grand Vizier of Assyria.pdfBemba - The Story of Ahikar the Grand Vizier of Assyria.pdf
Bemba - The Story of Ahikar the Grand Vizier of Assyria.pdf
Filipino Tracts and Literature Society Inc.
 
Baluchi Child Discipline Training Tract.pdf
Baluchi Child Discipline Training Tract.pdfBaluchi Child Discipline Training Tract.pdf
Baluchi Child Discipline Training Tract.pdf
Filipino Tracts and Literature Society Inc.
 

More from Filipino Tracts and Literature Society Inc. (20)

Bicolano - The Story of Ahikar the Grand Vizier of Assyria.pdf
Bicolano - The Story of Ahikar the Grand Vizier of Assyria.pdfBicolano - The Story of Ahikar the Grand Vizier of Assyria.pdf
Bicolano - The Story of Ahikar the Grand Vizier of Assyria.pdf
 
Batak Karo Child Discipline Training Tract.pdf
Batak Karo Child Discipline Training Tract.pdfBatak Karo Child Discipline Training Tract.pdf
Batak Karo Child Discipline Training Tract.pdf
 
Baluchi - The Precious Blood of Jesus Christ.pptx
Baluchi - The Precious Blood of Jesus Christ.pptxBaluchi - The Precious Blood of Jesus Christ.pptx
Baluchi - The Precious Blood of Jesus Christ.pptx
 
Kalaallisut Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Kalaallisut Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptxKalaallisut Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Kalaallisut Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
 
Jingpo Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Jingpo Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptxJingpo Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Jingpo Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
 
Jamaican Patois Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Jamaican Patois Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptxJamaican Patois Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Jamaican Patois Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
 
Iban Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Iban Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptxIban Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Iban Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
 
Hunsrik Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Hunsrik Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptxHunsrik Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Hunsrik Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
 
Hiligaynon Ilonggo Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves...
Hiligaynon Ilonggo Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves...Hiligaynon Ilonggo Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves...
Hiligaynon Ilonggo Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves...
 
Hakha Chin Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Hakha Chin Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptxHakha Chin Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Hakha Chin Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
 
Ga Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Ga Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptxGa Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Ga Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
 
Betawi - The Story of Ahikar the Grand Vizier of Assyria.pdf
Betawi - The Story of Ahikar the Grand Vizier of Assyria.pdfBetawi - The Story of Ahikar the Grand Vizier of Assyria.pdf
Betawi - The Story of Ahikar the Grand Vizier of Assyria.pdf
 
Baoule Child Discipline Training Tract.pdf
Baoule Child Discipline Training Tract.pdfBaoule Child Discipline Training Tract.pdf
Baoule Child Discipline Training Tract.pdf
 
Fulani Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Fulani Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptxFulani Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Fulani Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
 
Friulian Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Friulian Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptxFriulian Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Friulian Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
 
Fon Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Fon Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptxFon Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Fon Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
 
Dzongkha Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Dzongkha Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptxDzongkha Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Dzongkha Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
 
Dyula Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Dyula Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptxDyula Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
Dyula Soul Winning Gospel Presentation - Only JESUS CHRIST Saves.pptx
 
Bemba - The Story of Ahikar the Grand Vizier of Assyria.pdf
Bemba - The Story of Ahikar the Grand Vizier of Assyria.pdfBemba - The Story of Ahikar the Grand Vizier of Assyria.pdf
Bemba - The Story of Ahikar the Grand Vizier of Assyria.pdf
 
Baluchi Child Discipline Training Tract.pdf
Baluchi Child Discipline Training Tract.pdfBaluchi Child Discipline Training Tract.pdf
Baluchi Child Discipline Training Tract.pdf
 

Dogri - The Story of Ahikar the Grand Vizier of Assyria.pdf

  • 2. परिचे साढ़ कोल द सोटो ऑफ अहिकट च मनुको सोच त़ बुद् दा इक पाचोन सोत ऐ। इसद़ प्ाभ दा पता मत़ साट़ लोक े दो हकभदंहतये द़ माधम कन् लाया जाई सकदा ऐ, हजंद़ च क ु टान, त़ पुटाऩ त़ नमे हनयम बो शामल न। जम्नो द़ ट़्ेस च हमल़ द़ इक मोज़क च दुहनया द़ जानो लोक े च अहिकट दा हकटदाट तसोट ऐ। इते उंदो टंग-हबटंगो किानो ऐ। इस किानो दो ताटोख इक सजोभ चचा् दा हभषय ट़िा ऐ। हभदाने आखटो च इसगो प्हो शताबो द़ बाट़ च टख़आ िा हजसल् एहलफ े टाइन द़ खंडिटे द़ बोच 500 ई.पू. किानो जाहिट तौट पट कथानक ऐ त़ इहतिास ऩईं। दटअसल पाठक अपनो परटचय द अटहबयन नाइट्स द़ पूटक पने च कटो सकदा ऐ। एि् शानदाट ढंग् कन् हलख़ दा ऐ त़ ज़ि्डा कथन एकन, साहजश त़ संकोर् पलायन कन् ्टोच़ दा ऐ, ओि् आखटो तकट धान गो पकडो लैदा ऐ। कलना दो आजादो ल़खक दो सबतूं कोमतो कबा ऐ। ल़खन अपऩ आप गो चाट चटरे च बंडदा ऐ : (1) कथन; (२) हशका (मिानूहतयां दो इक उल़खनोय श्ंखला); (३) हमस दा सफट; (4) उपमा या दृांत (हजस नाल अहिकट अपऩ गुमटाि कट टि़ ्तोज़ दो पढाई पूटो कटदा ि्)। अध्य 1 अशूट द़ गांड भजोट अहिकट दो 60 पह्यां न पट उंदो हकसत च कोई पुतट ऩईं ऐ। इस करटए ओि् अपऩ ्तोज़ गो गोद लैदा ऐ। ओि् उसो टोटो-पानो कोला बो मता बुद् त़ जान कन् ्टोच़ दा ऐ। १स़नाि़रटब टाजा द़ भजोट ि्काट जानो त़ ि्काट ऋहष द़ बिन द़ पुतट नदान दो किानो। २अशूट त़ नोनभ़ द़ टाजा सटिदुम द़ पुतट टाजा सनि़रटब द़ जमाऩ च इक जानो िा, हजसदा नां ि्काट िा त़ ओि टाजा सनि़रटब दा भजोट िा। ३उस द़ कोल मकान, ्ाग त़ बहत साटा माल िा, त़ ओि क ु शल, जानो, दाश्हनक, जान, हभचाट त़ सटकाट च िा, त़ उऩ साठ जनाहनये कऩ बाि हकता िा, त़ उंद़ च िट इक आस़ इक मिल बनाई ल़दा िा। ४ ल़कन इस सब कऩ उद़ हकस़ कोलां कोई संतान ऩई िा। इने जनाहनये दो, ज़ि्डो उंदो भारटस बो िोई सकदो ऐ। ५ त़ इस गल द़ काटर ओि बडा दुखो िोई ग़आ त़ इक हदन जोहतहषये त़ हभदाने त़ जादू गटे गो इकटा करटय् उनेगो अपनो िालत त़ अपनो बंजटपन दा मसला समझाया। ६ त़ उनै उसो आखया, 'जाओ, द़भताएं गो बहलदान द़ओ त़ उंद़ कोला हभनतो कटो ज़ शायद ओि तुसेगो इक जागत दा इंतजाम कटन।' ७ उन उऩ आखा त़ हकता त़ मूहत्ये गो बहलदान चढाया, त़ उंद़ कोला हभनतो त़ गुिाट लांद़ िोई उंद़ कोला हभनतो हकता। ८ उनै उसो इक शब दा जभाब ऩई हदता। त़ ओि ़ दुखो त़ उदास िोईय़ अपऩ हदल् च दुखो िोईय़ चलो ग़या। ९ त़ पटम़सट़ पटम़सट़ गो हभनतो कटद़ िोई हभश् भास हकता त़ उंद़ हदल् च जलो दो गुिाट लांद़ िोई आख़आ, 'ि़ पटमाता, ि़ आकाश त़ धटतो द़ टचऩ आला, ि़ साट़ स्हृकता्! १० मै त़ट़ कोला हभनतो कटदा िां हक इक जागत द़यो, तां ज़ मै उद़ कोला हदलासा हमल् हक ओि म़टो स़ित च मौजूद टौि्ग, तां ज़ ओि् म़टो अकों बंद कटो सक ् त़ हमगो दफनाई सक ् ।' ११ उस ब़ल़ उद़ कोल इक आभाज आई, 'जदूं तकट तू प्ि ़ लै उक ़ टो मूहत्ये उप् पट ् ़ टोसा हकता, त़ उनेगो बहलदान चढाया ऐ, इस आस् त़ तू उमट तकट हनःसंतान टौि ़ ना।' १२ ल़कन नादान अपनो ््न द़ पुतट गो ल़ईय़ उसो अपना बचा बनाओ त़ उसो अपनो पढाई त़ अपनो अचो प्दाभाट हसखाओ, त़ त़टो मटऩ पट ओि तुगो दफनाई द़ग।' १३ उस ब़ल़ ओि अपनो ््न द़ पुतट नदान गो ल़ई ल़या, ज़डा थोडा दु् द़आ कटदा िा। त़ उसो अट गोलो नस् द़ ित च सौंपो हदता तां ज़ ओि् उसो दु् द़ई सकन त़ उसो बडाई कटन। १४ उऩ उसो अचा खाना त़ कोमल हसखलाई त़ ट़शमो कपड़, त़ बैगनो त़ हकटहमजो टंग द़ कपड़ कऩ पालया। त़ ओि ट़शम द़ सोफ ़ उपट ब्ठ़ दा िा। १५ त़ जदुं नदन बडा िोया त़ लमो द़भदाट दो तज् पट चलदा ट़या, तां उसो ऩक हशृाचाट त़ ल़खन त़ हभजान त़ दश्न हसखाया। १६ त़ मत़ हदने बाद टाजा सनाि़रटब ऩ िाइकट गो हदक़आ त़ हदक़आ ज़ ओि् बडा बुढा िोई ग़दा ऐ, त़ इसद़ अलाभा उऩ उसो आख़आ। १७ 'ि़ म़ट़ समाहनत दोस, क ु शल, ्टोस़मंद, जानो, टाजपाल, म़ट़ सहचभ, म़ट़ भजोट, म़ट़ चांसलट त़ डायट़कट; तू बडा बुढा िोई ग़दा ऐं त़ ब'टे च तौल़ िोई ग़द़ ओ; त़ त़टा इस संसाट थमां चलो जाना ऩड़ ग् िोग। १८ हमगो दसो त़ट़ बाद म़टो स़भा च क ु स दो जगि िोग।' त़ िाइकट ऩ उसो आख़आ, 'ि़ म़ट़ सामो, त़टा हसट िम़शा हजंदा टौि्ग! उथ़ नदन म़टो ््न दा पुतट ि्, मै उस नूं अपना बचा बना हदता ि्। १९ त़ मै उसो पालया त़ उसो अपनो बुद् त़ अपनो जान हसखाया।' २० टाजा ऩ उसो आखा, 'ि़ ि्काट! उसो अपऩ सामऩ ल़ई आओ, तां ज़ मै उसो हदख सकां, त़ ज़कट हमगो उसो उहचत लग़ तां उसो अपनो जगि उपट टको; त़ तू अपऩ टसा चलो जाग़, आटाम कटऩ त़ अपऩ बाको द़ जोभन गो मोठ़ आटाम च जोऩ आस्।' २१ हफटो ि्कट ऩ जा क ़ नदान दो ््न द़ पुतट गो ्ेट हकता। त़ उऩ नमन कोता त़ उसो सता त़ इजत दो कामना कोतो। २२ त़ उस नूं भ़ख क ़ उस दो ताटोफ कोतो त़ उस हभच खुश िो क ़ ि्काट नू आखया, 'ि़ ि्काट, ए त़टा पुतट ि्? मै पाथ्ना कटदा िां क ़ पटमाता उसो बचाई टक़। त़ हजयां तुसे म़टो त़ म़ट़ हपता सटिदुम दो स़भा कोतो ऐ, उयां ग् तुंदा एि् जागत म़टो स़भा कटदा ऐ त़ म़ट़ कमे, म़टो जरटते त़ म़ट़ कमे गो पूटा कटदा ऐ, तां ज़ मै उसो आदट द़ई सकां त़ उसो तुंद़ आस् शद्शालो बनाई सकां।'
  • 3. २३ त़ ि्काट ऩ टाजा दा पराम कोता त़ आखया, 'ि़ म़ट़ सामो टाजा, त़टा हसट िम़शा हजंदा ट़िभ़! मै तुंद़ कोला मंगना ऐं क ़ तुस म़ट़ जागत नदान कऩ धोटज टखो त़ उंदो गलहतये गो माफ कटो ओडो तां ज़ ओि् तुंदो स़भा हजना उहचत ऐ।' २४ उस ब़ल़ टाजा ऩ उसो कसम खाया क ़ ओि उसो अपऩ हपयजने च सबऩ थमां बडा त़ अपऩ दोसे च सबऩ थमां ताकतभट बनाई द़ग त़ उसो साट़ आदट त़ आदट कऩ उंद़ कऩ टौिग। त़ उऩ उंद़ ित चुम़आ त़ उसो हभदाई हदतो। २५ त़ नादान गो ल़ई ल़या। उंदो ््न द़ पुतट गो बो उंद़ कन् ब्ठाया त़ उसो इक पाल्ट च ब्ठाया त़ टातों-हदन उसो हसखाऩ च लग़आ, हजसल् तकट उसो टोटो-पानो कोला बो मता बुद् त़ जान कन् ठ ूं स ऩईं हदता। अध्य 2 पाचोन काल दा इक "ब़चाट़ रटचड् दा पंचांग"। प्स़, जनाहनयां, पहिनाभा, धंध़, दोसे द़ बाट़ च मनुको आचटर द़ अमट उपद़श। खास करटय् हदलचस लोकोद्यां पद 12, 17, 23, 37, 45, 47 च लबहदयां न, पद 63 दो तुलना अज् द़ हकश नकाटातकता कन् कटो। १इस तिाह उस नूं हसखाया, 'ि़ म़ट़ पुतट! म़टा ्ाषर सुनो त़ म़टो सलाि दा पालन कटो त़ मै को आखना याद टखो। २ि़ म़ट़ पुतट! ज़कट तुस क ु स़ गल गो सुनो लैद़ ओ तां ओि ़ अपऩ हदल् च मटऩ द़यो, त़ दुऐ गो ऩई पगट कटो ओडो, तांज़ ओि ़ हजंदा कोयला बनो जा त़ तुंदो जो् गो जलाऐ त़ट़ शटोट च पोड ऩई पाईऐ, त़ तुसेगो हनंदा िासल िोई जा, त़ पटम़सट़ द़ सामऩ शम् आभ्, त़... माि्नू। ३ि़ म़ट़ पुतट! ज़कट तुसे कोई खबट सुनो ऐ तां उसो ऩईं फ ् लाओ; त़ ज़कट तू हकश हदक ् ख़या ऐ तां उसो ऩई दसो। ४ि़ म़ट़ पुतट! शोता गो अपनो भाकटुता गो आसान बनाओ, त़ जभाब भापस कटऩ च जलबाजो ऩईं कटो। ५ि़ म़ट़ पुतट! जदुं तूं क ु स़ गल सुनो, त़ ना छु पाई। ६ि़ म़ट़ पुतट! सोल कोतो दो गांठ गो ना ढोला कटो, ना ग् उसो खोलो, त़ ढोलो गांठ गो ऩईं मुिट कटो। ७ि़ म़ट़ पुतट! बािटो सुंदटता दो लालसा ऩईं कटो, कोज़ ओि कोर िोई जंदो ऐ त़ बोतो जंदो ऐ, ल़कन इक आदटरोय याद तुंद़ आस् हटकदो ऐ। ८ि़ म़ट़ पुतट! कोई मूख् जनानो तुगो अपनो गल् कन् धोखा ऩईं द़ऐ, तां ज़ तुस मौते च सबऩ थमां दयनोय मटो जाओ, त़ ओि तुगो जाल च उसल् तकट उलझन ऩईं द़ग, जदूं तकट तू फ ं स़ च ऩईं फसो जा। ९ि़ म़ट़ पुतट! कपड़ त़ मटिम कन् ब़दखल जनानो दो इचा ऩईं कटो, ज़ि्डो अपनो आता च घ्हरत त़ मूख् ऐ। िाय त़ट़ ज़कट तू उसो अपना कोई बो चोज द़ई ओडो, जां ज़ हकश अपऩ ित च ऐ उसो उसो सौंपो द़ओ त़ ओि तुसेगो पाप च लु्ांदो ऐ, त़ पटमाता तुंद़ उपट गुस़ च ऐ। १०ि़ म़ट़ पुतट! बादाम द़ बूि्ट़ द़ समान ऩईं बनो, कोज़ एि् साट़ बूि्ट़ द़ सामऩ पहतयां प्दा कटदा ऐ त़ साटे द़ बाद खाऩ आह़ फल प्दा कटदा ऐ, ल़कन शितूत द़ बूि्ट़ द़ समान बनो, ज़ि्डा साट़ बूि्ट़ द़ सामऩ खाऩ आह़ फल प्दा कटदा ऐ त़ साटे द़ बाद पहत हदंदा ऐ। ११ि़ म़ट़ पुतट! हसट हनच़ झुकाओ, त़ अपनो आभाज कोमल कटो, त़ हशृ बनो, त़ सोध़ टस़ च चलो, त़ मूख् ऩईं बनो। त़ िसद़ ग् अपनो आभाज ऩई बधाओ कोज़ ज़कट उचो आभाज कन् घट बनो जंदा िा तां गध़ िट टोज मत़ घट बनांद़; त़ ज़कट ताकत द़ काटर िल चलाया जंदा तां िल कदे बो ऊ ं टे द़ क ं धे थमां ि़ठ ऩईं हनकलदा। १२ ओ म पुतट! जानो कऩ पतट िटाना पछताभ़ कऩ शटाब पोऩ कोला ब़ितट ऐ। १३ि़ म़ट़ पुतट! धम् लोक े दो कब उपट अपनो महदटा उंड़ल, त़ अजानो, हतटस ् त लोक े कऩ ऩई पोओ। १४ि़ म़ट़ पुतट! जानो लोक े कऩ हचपकना ज़ड़ पटमाता कोला डटद़ न त़ उंद़ समान िोंद़ न, त़ अजानो द़ कोल ऩईं जाओ, तां ज़ तुस उद़ समान ऩईं बनो जाओ त़ उंद़ टस़ हसखो। १५ि़ म़ट़ पुतट! जदूं तुसे तुसेगो इक साथो जां दोस िासल कटो ल्ता ऐ तां उसो अजमाइश कटो, त़ उसद़ बाद उसो साथो त़ दोस बनाओ; त़ हबना क ु स् पटख द़ उसो सुहत ऩईं कटो; त़ बुद् दो कमो आल़ मनुख कऩ अपनो गल ऩई हबगाड। १६ि़ म़ट़ पुतट! जदूं तकट इक जूता तुंद़ प्टे उपट टौंि्दा ऐ, तां उस कन् कांट़ उपट चलना, त़ अपऩ पुतट आस्, त़ अपऩ घट् आहे त़ अपऩ बचे आस् इक टसा बनाओ, त़ अपऩ जिाज गो समुंदट़ त़ उंदो लिटे उपट जाऩ थमां प्ह़ त़ डुबऩ थमां प्ह़ तनाभ द़ओ त़ ओि् ऩईं कटो सकदा बचाया। १७ि़ म़ट़ पुतट! ज़कट अमोट सप खांदा ऐ तां आखद़ न,-- "उसदो बुद् कन् ऐ," त़ ज़कट कोई गटोब उसो खांदा ऐ तां लोक आखद़ न, "उसदो ्ूख थमां।" १८ि़ म़ट़ पुतट! ओि त़टो टोज दो टोटो त़ त़टो माल कऩ संतोष कटदा ऐ, त़ दुए द़ चोजे दो लालसा ऩईं कटदा। १९ि़ म़ट़ पुतट! मूख् द़ पडोसो ऩईं बनो, त़ उंद़ कऩ टोटो ऩईं खाओ, त़ अपऩ पडोसो दो हभपहतये च खुश ऩईं िोओ। ज़कट त़ट़ दुशन त़ट़ कऩ गलत कटदा ऐ तां उद़ उपट म़िटबानो कटो। २० ि़ म़ट़ पुतट! ज़डा मनुख पटमाता कोला डटदा ऐ, तू उद़ कोला डटो त़ उसो आदट कटो। २१ ि़ म़ट़ पुतट! अजानो हडगो जंदा ऐ त़ ठोकट खांदा ऐ, त़ जानो, ठोकट खांदा बो ऩईं हिलदा, त़ हडगऩ पट बो जलो उठो जंदा ऐ, त़ बोमाट ऐ तां अपनो जान दा खाल टको सकदा ऐ। पट टिो गल अजानो, ब़भक ू फ दो तां उसदो बोमाटो भास़ कोई दभाई निों। २२ ि़ म़ट़ पुतट! ज़कट कोई माि्नू तुंद़ कोल औंदा ऐ ज़ि्डा तुंद़ कोला घट ऐ तां ओि्द़ कन् हमलऩ आस् अगे बधो जा त़ खडोत़ दा टौि्ग त़ ज़कट ओि त़टा बदला ऩईं द़ई सकदा तां ओि्द़ प्ु तुगो उसो बदला द़ग। २३ ि़ म़ट़ पुतट! अपऩ पुतट गो माटऩ थमां ऩईं बख, कोज़ त़ट़ पुतट दा धुल बाग च खाद द़ समान ऐ, त़ पस् द़ मुंि गो बनो ल्ऩ द़ समान ऐ, त़ जानभटे द़ बनो द़ समान ऐ, त़ दटभाज़ द़ बोले द़ समान ऐ। २४ ि़ म़ट़ पुतट! अपऩ पुतट गो दुृता थमां टोक, त़ उसगो हशृाचाट हसखाओ, इस थमां प्ह़ ज़ ओि् तुंद़ खलाफ बगाभत कटदा ऐ त़ तुसेगो लोक े च हतटसाट च पांदा ऐ त़ तू गलोएं त़ स्ाएं च अपना हसट लटकाई ल् त़ तुसेगो उंद़ बुट़ कमे दो बुटाई आस् सजा हदतो जा।
  • 4. २५ ि़ म़ट़ पुतट! तुगो अगचमडो आला मोटो ब्ल, त़ खुटे कऩ बडा गधा, त़ बड़ सोंग आला ब्ल ऩई पाओ, त़ ना ग् क ु स् चकमा द़ मनुख कऩ दोसो कटो, त़ ना ग् कोई झगडा कटऩ आलो गुलाम, त़ ना ग् चोट दासो पाओ, ज़ हकश तू कटद़ ओ उंद़ गो ओि ़ बटबाद कटो द़ङन। २६ ि़ म़ट़ पुतट! त़ट़ मां-पो तुगो शाप ऩईं द़न, त़ प्ु उंद़ उपट खुश ऩईं िोन; कोज़ एि ़ ग् लाया ग़दा ऐ क ़ "ज़का अपऩ हपता गो जां अपनो मां गो तुच समझ ़ दा ऐ, उसो मौत मटऩ द़यो (म़टा मतलब ऐ क ़ पाप दो मौत ऐ।" " २७ ि़ म़ट़ पुतट! हबना िहथयाट द़ टस़ च ऩईं चलना, कोज़ तू ऩई जानदा क ़ दुशन तुंद़ कऩ कदूं हमलग, तां ज़ तू उद़ आस् त़ त्याट ओई जाओ। २८ ि़ म़ट़ पुतट! नंग़, पत़ बग्ट बूि्ट़ द़ समान ऩईं बनो, ज़ि्डा ऩईं उगदा, ल़कन अपऩ पते त़ डाढे कन् ढक ़ द़ बूि्ट़ द़ समान बनो; कोज़ हजस मनुख दा ना त़ घट़आलो ऐ त़ ना ग् बच़ न, ओि् संसाट च ब़इजतो कोतो जंदो ऐ त़ उंद़ कोला नफटत िोंदो ऐ, हज'यां पहतयां त़ हनषल बूि्ट़। २९ ि़ म़ट़ पुतट! सडक ् द़ क ं ड़ फलदाट बूि्ट़ द़ समान बनो, हजसद़ फल साट़ गुजटऩ आह़ खांद़ न, त़ ट़हगसान द़ जानभट उंदो छां च आटाम कटद़ न त़ उंद़ पते गो खांद़ न। ३० ि़ म़ट़ पुतट! िट ़्ड ज़ि्डो अपऩ टस़ थमां ्टकदो ऐ त़ ओि्द़ साथो ़्हडये दा खाना बनो जंदो ऐ। ३१ ि़ म़ट़ पुतट! "म़टा सामो मूख् ऐ त़ मै जानो ऐं" त़ अजानता त़ मूख्ता दो गल ऩईं दसो, तां ज़ तुस उंद़ कोला तुच ऩईं पाओ। ३२ ि़ म़ट़ पुतट! उने दासे च ऩई बनो, हजनेगो उंद़ सामो आखद़ न, "साढ़ थभां दू ट चलो जा", बल् हक उने दासे च शामल बनो, हजंद़ कन् ऩ साढ़ कोल जाओ त़ ऩड़ आओ। ३३ ि़ म़ट़ पुतट! अपऩ दास गो उंद़ साथो द़ सामऩ दुलाट ऩईं कटो, कोज़ तुस ऩई जानद़ क ़ उंद़ चा क ु स दा अंत च तुंद़ आस् मता कोमत िोग। ३४ ि़ म़ट़ पुतट! त़ट़ टब तों मत डट, हजनां ऩ त़टा बनाया ि्, किों ओि त़ट़ कोल चुप निों िो जाभ़। ३५ ि़ म़ट़ पुतट! अपनो बोलो गो गोटा बनाओ त़ अपनो जो् गो मोठा कटो; त़ अपऩ साथो गो त़ट़ प्टे उपट टौंदऩ दो इजाजत ऩई द़ओ, तां ज़ ओि् क ु स् िोट समे त़ट़ छातो उपट ऩईं टौंदग। ३६ ि़ म़ट़ पुतट! ज़कट तुस क ु स़ जानो गो इक जान द़ शब कन् माटद़ ओ तां ओि्द़ छातो च शम् दो सूक ्ाभना द़ समान लुकाई जाि्ग; ल़कन ज़कट तू अजानो गो लाठो कऩ ठोकद़ ओ तां ओि ना समझग त़ ना सुनग। ३७ ि़ म़ट़ पुतट! ज़कट तू इक जानो गो अपनो जरटते आस् ़्जो ओडद़ ओ तां उसो मत़ आजा ऩई द़ओ, कोज़ ओि तुंदा धंधा तुंदो मज् द़ मताबक ग् कटग, त़ ज़कट तुस क ु स् मूख् गो ़्जो ओडद़ ओ तां उसो हु ऩई द़ओ, पट अपऩ आप ग् जाइय् अपना धंधा कटो, कोज़ ज़कट तू उसो हु द़ओ, ओि ऩई कटग ज़डा तू चाि्ऩ ओ। ज़कट ओि तुगो धंध़ च ़्जद़ न, तां जलो ग् इसगो पूटा कटऩ च जलो कटो। ३८ ि़ म़ट़ पुतट! अपऩ कोला बो मजबूत मनुख दा दुशन ऩईं बनाओ, कोज़ ओि त़टा नाप ल्ग त़ तुंद़ उपट अपना बदला ल्ग। ३९ ि़ म़ट़ पुतट! अपऩ पुतट त़ अपऩ नौकट दो पटोका कट, तां ज़ ओि् अपऩ समान गो उंद़ कोल सौंपो द़ओ, तां ज़ ओि् उंद़ कोला दू ट ऩईं िोई जा। कोज़ हजसद़ ित ्ट़ दा ऐ, उसो जानो आखद़ न, ्ल़आं ओि् मूख् त़ अजानो िोऐ, त़ हजसद़ ित खालो ऐ, उसो गटोब, अजानो आख़आ जंदा ऐ, ्ल़आं ओि् ऋहष-मुहनएं दा टाजक ु माट िोऐ। ४० ि़ म़ट़ पुतट! मै इक कोलोहसंट खाया, त़ मुसबट हनगल ल़या, त़ गटोबो त़ कमो कोला जादा कडभा हकश ऩईं लबा। ४१ ि़ म़ट़ पुतट! अपऩ पुतट गो हमतवयो त़ ्ूख हसखाओ, तां ज़ ओि् अपऩ घट् द़ पबंधन च ठोक कम कट्। ४२ ि़ म़ट़ पुतट! अजानो गो जानो लोक े दो ्ाशा ऩई हसखाओ, कोज़ उंद़ उपट एि् बोझ िोई जाग। ४३ ि़ म़ट़ पुतट! अपनो िालत अपऩ दोस गो ऩईं दसो, किों तू उंद़ कोला तुच ऩईं बधो जा। ४४ ि़ म़ट़ पुतट! हदल दो अंधता अकों द़ अंधे कोला बो मतो दुखद ऐ, कोज़ अकों दो अंधता गो थोि् डो-मतो माग्दश्न कोता जाई सकदा ऐ, पट हदल दो अंधता दा माग्दश्न ऩईं िोंदा, त़ सोध़ टस़ गो छडो जंदा ऐ, त़ ट़ढ़ चलो जंदा ऐ बत। ४५ ि़ म़ट़ पुतट! मनुख दो प्टे कन् ठोकट खाऩ थमां बो ब़ितट ऐ। ४६ ि़ म़ट़ पुतट! इक दोस ज़ि्डा ऩड़ दा ऐ, ओि्द़ कोला बो ब़ितटोन भार कोला बो ब़ितट ऐ ज़ि्डा दू ट ऐ। ४७ ि़ म़ट़ पुतट! सुंदटता फोको िोई जंदो ऐ पट हसकना हटकदा ऐ, त़ दुहनया घट िोई जंदो ऐ त़ ब़काट िोई जंदो ऐ, पट इक अचा नांर ना ब़काट िोंदा ऐ त़ ना ग् घट िोंदा ऐ। ४८ ि़ म़ट़ पुतट! हजस मनुख गो आटाम ऩई ऐ, उदो मौत उद़ जोभन कोला बो ब़ितट िो; त़ टोऩ दो आभाज गाऩ दो आभाज कोला बो ब़ितट ऐ; कोज़ ज़कट उंद़ च पटमाता दा डट ऐ तां दुख त़ टोना, गाऩ त़ खुशो दो आभाज कोला बो ब़ितट ऐ। ४९ ि़ म़ट़ बच़! त़ट़ ित च मेढक दो जांघ त़ट़ पडोसो द़ घड़ च िंस कोला बो ब़ितट ऐ; त़ त़ट़ कोल दो ़्ड दू ट द़ ब्ल कोला बो ब़ितट ऐ; त़ त़ट़ ित च इक गौट्या उडऩ आह़ िजाट गौट्या कोला बो ब़ितट ऐ; त़ ज़डो गटोबो इकटो िोंदो ऐ, ओि ़ मत़ साट़ खान-पान द़ हबखटऩ थभां बो ब़ितट ऐ; त़ हजंदा लोमडो मट़ द़ श़ट कोला बो ब़ितट ऐ; त़ इक पौंड ऊन इक पौंड धन कोला बो ब़ितट ऐ, म़टा मतलब ऐ सोना त़ चांदो; को भ़ सोना त़ चांदो धटतो च हछपो दो त़ ढको दो ऐ, त़ ऩई हदको जंदो ऐ; पट ऊन बजाटे च ग् ट़ई जंदो ऐ त़ हदको जंदो ऐ, त़ उसो पहिटऩ आह़ आस् इक सुंदटता ऐ। ५० ि़ म़ट़ पुतट! हबखटो दो हकसत कोला बो इक छोटो ज़िो हकसत ब़ितट िोंदो ऐ। ५१ ि़ म़ट़ पुतट! हजंदा क ु ता मट़ द़ गटोब कोला बो ब़ितट ऐ। ५२ ि़ म़ट़ पुतट! इक गटोब आदमो ज़डा ठोक कटदा ऐ, ओि उस अमोट कोला बो ब़ितट ऐ ज़डा पापे च मट़ दा ऐ। ५३ ि़ म़ट़ पुतट! इक शब अपऩ हदल च टखो, त़ ओि तुंद़ ल़ई मता िोग, त़ साभधान टिो खोई ग़दा तू अपऩ दोस दा टाज उजागट कटो। ५४ ि़ म़ट़ पुतट! जदुं तकट तू अपऩ हदल् कन् ऩ सलाि ऩई लैद़, त़ट़ मुंि ़ थभां इक बो भचन ऩई हनकल़। त़ झगड़ कटऩ आले द़ बोच मत खडोओ, कोज़ बुट़ शब थमां झगडा िोंदा ऐ, त़ झगड़ थमां लडाई िोंदो ऐ, त़ लडाई थमां लडाई बो िोंदो ऐ,
  • 5. त़ तुस गभािो द़ऩ ल़ई मजबूट ओग़। ल़कन उतूं दा दौड क ़ अपऩ आप आटाम कटो। ५५ ि़ म़ट़ पुतट! अपऩ कोला बो मजबूत मनुख दा सामना ऩईं कटो, ल़कन धोटज त़ धोटज त़ सच़ आचटर पाओ, कोज़ इस थमां मता हकश ऩई ऐ। ५६ ि़ म़ट़ पुतट! अपऩ प्िल़ दोस कऩ नफटत मत कटो, कोज़ दू आ हटको ऩईं सकदा। ५७ ि़ म़ट़ पुतट! गटोबे गो उंदो दुख च मुलाकात कटो, त़ सुलान दो मौजूदगो च उंद़ बाट़ च गल कटो, त़ उसो श़ट द़ मुंि थमां बचाऩ आस् अपनो म़िनत कटो। ५८ ि़ म़ट़ पुतट! अपऩ दुशन दो मौत च खुश ऩईं िोओ, कोज़ थोडो द़ट बाद तू उंदा पडोसो बनो जाग़, त़ ज़डा तुंदा मजाक उडांदा ऐ, उसो आदट त़ आदट कटो त़ प्िले ग् नमस़ च उंद़ कऩ टौिना। ५९ ि़ म़ट़ पुतट! ज़कट पानो सुग् च द्ट खडोई जंदा, त़ काला कौआ सफ ़ द िोई जंदा, त़ गंधक शिद द़ समान मोठा िोई जंदा, तां अजानो त़ मूख् समझो सकद़ त़ जानो िोई सकद़। ६० ि़ म़ट़ पुतट! ज़कट तू जानो बनना चांद़ ओ तां अपनो जो् गो झूठ बोलऩ थमां टोको, त़ अपऩ ित गो चोटो कटऩ थमां, त़ अपनो अकों गो बुटाई गो हदकऩ थमां टोक; तां तू जानो आखया जाग़। ६१ ऐ म़ट़ पुतट! जानो तुगो छडो कऩ माट़, ल़कन मूख् तुगो मोठ़ मलब़ कऩ अह्ष़क ऩईं कट्। जभानो च नम बनो त़ बुढाप़ च तू आदट िोग। ६२ ऐ म़ट़ पुतट! ना कोई मनुख अपनो शद् द़ हदने च, त़ नहदया दो जल-पलय द़ हदने च। ६३ ऐ म़ट़ पुतट! घ ़ ट़आलो द़ बाि ़ च जलबाजो ऩई कटो, कोज़ ज़कट ठोक ि ़ ोई जा तां ओि ़ ग् लाग, 'म़ट़ सामो, म़ट़ आस् त़ इंतजाम कटो'; त़ ज़कट बोमाट हनकलो जा तां ओि ़ उसो ट़ट कटग ज़का इसदा काटर िा। ६४ ऐ म़ट़ पुतट! ज़डा बो अपऩ कपड़ च सुरहचपूर् ऐ, ओि अपनो बोलऩ च बो इक ग् ऐ; त़ ज़डा अपऩ कपड़ च नोच रप टखदा ऐ, ओि बो अपनो गलां च इक ग् ऐ। ६५ ऐ म़ट़ पुतट! ज़कट तुसे कोई चोटो कोतो ऐ तां सुलान गो दसो त़ उसो उस च हिसा द़ओ तां ज़ तुस उंद़ कोला मु् िोई जाओ, कोज़ ऩईं त़ तुस कडभािट झ़लग़। ६६ ऐ म़ट़ पुतट! हजस माि्नू दा ित त्प त़ ्टोच़ दा ऐ, उसो दोस बनाओ, त़ हजस माि्नू दा ित बंद त़ ्ुका ऐ, उसो दोस ऩईं बनाओ। ६७ चाट गलां िन हजिनां हभच न तां टाजा त़ न िो उिदो फौज सुटहकत िो सकदो ि्: भजोट दा जुल, त़ बुटो सटकाट, त़ मज् दो हभक ् हत, त़ हभषय त़ अताचाट; त़ चाट गलां ज़ि्हडयां छु पाई ऩईं जाई सकहदयां: समझदाट त़ मूख्, त़ अमोट त़ गटोब।' अध्य 3 अहिकट टाज द़ मामले च सह्य ्ागोदाटो थमां रटटायट िोंद़ न। ओि् अपनो संपहत अपऩ गदाट ्तोज़ गो सौंपदा ऐ। इते एि् गजब दो किानो ऐ ज़ हकस चालो इक शु्गुजाट उडाई आहा जालसाज बनो जंदा ऐ। अहिकट गो उलझाऩ दो चतुटाई कन् साहजश द़ नतोज़ च उसो मौत दो सजा िोई जंदो ऐ। जाहिट सो अहिकट दा अंत। १िाइकाट ऩ इस तिाह आखा, त़ जदों उसऩ अपनो ््न द़ पुतट नदान नाल इि आजा त़ किाभतां खत कट हदतो तां उस ऩ कलना कोतो हक ओि इनां साट़आं नूं टख़गा, त़ उस नूं निों पता सो हक इस द़ बजाय ओि उस नूं थकाभट त़ हतटसाट त़ मजाक दा पदश्न कट रटिा ि्। २इसद़ बाद ि्काट अपऩ घट हभच ब्ठ क ़ अपना साटा सामान, गुलाम, दासो, घोड़, मभ़शो, त़ बाको सब क ु छ जो उद़ कोल सो त़ िाहसल हकता सो, नादान नू सौंपो हदता। त़ बोलो त़ मनािो दो शद् नदान द़ ित च ग् ट़ई ग़ई। ३ि्कट अपऩ घट हभच आटाम कट ब्ठ़ , त़ िट बाट ि्काट जा क ़ टाजा नू श्ांजहल देदा सो, त़ घट भापस आ जांदा सो। ४नदन नूं जदों पता लगया हक बोलो त़ मना कटन दो ताकत उिनां द़ ित हभच ि्, तां उस ऩ ि्काट दो द्हत दा तुच समझ क ़ उस दा मजाक उडाया, त़ जदों भो ओि पगट िोया तां उस नूं दोश द़र लगा, 'म़ट़ चाचा ि्काट उिनां द़ डोट हभच ि्। त़ ओि ़ ि ़ ुन हकश ऩई जानदा।' ५ त़ गुलाम त़ नौकरटयां गो माटना लगो प़या, त़ घोड़ त़ ऊ ं ट ब़चना शुर कटो हदता त़ अपऩ चाचा ि्काट द़ साट़ चोजे कऩ खटच कटना शुर कटो हदता। ६ जदुं ि्काट ऩ हदखया क ़ उसो अपऩ नौकटे उपट त़ ना ग् अपऩ घट् च दया ऐ, तां उऩ उठो ग़या त़ उसो अपऩ घट् थमां ्गाई हदता त़ टाजा गो सूहचत कटऩ आस् त़ ़्ज़आ ज़ उऩ अपनो संपहत त़ अपना खाना हबखटो हदता ऐ। ७ त़ टाजा उठ क ़ नदान नू बुलाया त़ आखा, 'जद तक ि्कट स् ट़िभ़गा, तां कोई उिद़ माल त़ ना उिद़ घट त़ ना उिदो समहत त़ टाज कटभ़गा।' ८ नादन दा ित अपऩ चाचा ि्कट त़ उद़ साट़ माल कोला िट गया, त़ इस बोच ओि ना अंदट ग़या त़ ना बािट ग़या, त़ ना उसो नमसाट हकता। ९इसद़ बाद ि्काट ऩ अपनो ््न द़ पुतट नदान द़ नाल अपनो म़िनत दा पछताभा हकता, त़ ओि बडा दुखो िोया। १० नादान दा इक छोटा भा िा, हजसदा नां ब़नूजद्न िा, इस कटो िाइकट ऩ नादान दो जगि उसो अपऩ कोल ल़ई ल़या, त़ उसो बडा आदट हदता। त़ उसो अपऩ घट् दा शासक बनाया। ११ नादन गो ज़ हकश िोआ दा पता लगो ग़आ तां उसो ईरा् त़ ईरा् िोई ग़ई, त़ िट इक उंद़ कोला पूछताछ कटऩ आहे कन् हशकायत कटऩ लगो प़आ त़ उंद़ चाचा िाइकट दा मजाक उडाना लगो प़आ, 'म़ट़ चाचा ऩ हमगो अपऩ घट् थमां ्गाई हदता ऐ, त़ कटो चुक ़ दा ऐ।' म़ट़ कोला म़ट़ भा गो तटजोि हदतो, पट ज़कट पटमाता हमगो शद् द़ग तां मै उंद़ उपट माट़ जाऩ दा दु्ा्ग ल़ई औना।' १२ नादन उस ठोकट द़ बाट़ च मनन कटदा ट़आ। थोडो द़ट बाद नदान ऩ अपऩ मन च उसो पलटद़ िोई फाटस द़ टाजा शाि जानो द़ पुतट अकोश गो इक हचटो हलखो। १३ 'ि़ मिान टाजा, अशूट त़ नोनभ़ द़ टाजा सनि़टोब त़ उंद़ भजोट त़ उंद़ सहचभ ि्काट कोला शांहत त़ स़ित त़ पटा्म त़ आदट त़ट़ कोल! त़ट़ त़ म़ट़ बोच पेस िोभ़। १४ त़ जदुं ए हचटो तुंद़ कोल पुजग, ज़कट तू उठ क ़ जलो हनसोन द़ म्दान त़ अशूट त़ नोनभ़ च जाओ, तां मै तुगो हबना यु् द़ त़ हबना यु् द़ टाज सौंप द़गा।'
  • 6. १५ त़ हमस द़ टाजा हफटौन गो िाइकट द़ नां कऩ इक िोट हचटो बो हलखो। 'ि़ पटा्मो टाजा, त़ट़ त़ म़ट़ बोच शांहत िोभ़! १६ ज़ इस पत द़ तुंद़ कोल पुजऩ द़ समे तू उठो जाओ त़ अशूट त़ नोनभ़ च हनसोन द़ म्दान च जाओग़, तां मै तुगो हबना यु् द़ त़ हबना लडऩ द़ टाज सौंप द़गा।' १७ त़ नदान दा हलखना उंद़ चाचा िाइकट द़ हलखऩ द़ समान िो। १८ उस ब़ल़ दो हचहटये गो मोहडय़ अपऩ चाचा िाइकट दो मुिट कऩ मुिट लाया। हफटो बो ओि ़ टाजा द़ मिल च ग् ि़। 19 हफट जा क ़ टाजा दा इसो तटि अपऩ चाचा ि्काट गो इक हचटो हलखो: 'म़ट़ भजोट, म़ट़ सहचभ, म़ट़ चांसलट, ि्काट गो शांहत त़ स़ित।' २० ि़ ि्कट, जदुं ए हचटो त़ट़ कोल पुजो जा, त़ अपऩ कऩ िोऩ आल़ साट़ हसपािो गो इकटा कटो, त़ कपड़ त़ हगनतटो च हस् िोन, त़ पंजमे हदन हनसोन द़ म्दान च म़ट़ कोल ल़ई आओ। २१ जदुं तू हमगो उते अपऩ आस् त़ औंद़ हदक ् खग़, तां जलबाजो च फौज गो म़ट़ कन् ऩ लडऩ आलो दुशन द़ रप च चढाओ, कोज़ म़ट़ कन् ऩ हमस द़ टाजा हफटौन द़ टाजदू त बो न, तांज़ ओि ़ साढो ताकत गो हदक ् खो सकन फौज त़ साढ़ कोला डटो, कोज़ ओि साढ़ दुशन न त़ साढ़ कन् नफटत कटद़ न।' २२ उस ब़ल़ उस हचटो उपट मुिट ला क ़ टाजा द़ इक नौकट ऩ िाइकट च ़्जो हदतो। त़ दू ई हचटो ज़डो हलखो िो, उसो ल़ईय़ टाजा द़ सामऩ फ ् लाया त़ उसो पढो ल़ता त़ मुिट दसो। २३ टाजा ऩ हचटो च ज़ हकश ऐ, उसो सुहनय् बडा ग् उलझन च प़ई ग़या त़ बडा त़ कड़ गुस़ कऩ गुस़ च आया, त़ आखया, 'आि, मै अपनो बुद् दसो ऐ! मै िाइकट कन् क ़ ि् कोता ऐ ज़ उ’ने म़ट़ दुशने गो एि् हचहटयां हलदखयां न? का ए म़टा उसद़ कोला म़ट़ फायद़ दा बदला ऐ?' २४ नादन ऩ उसो आखया, 'ि़ टाजा, दुखो मत िोओ! न िो गुसा िो जाओ, पट आओ हनसोन द़ म्दान च जाइय् हदकऩ आं ज़ एि् किानो सचो ऐ जां ऩईं।' २५ हफटो नदन पंजभे हदन उठ क ़ टाजा त़ हसपािो त़ भजोट गो ल़इय् ट़हगसान च हनसोन द़ म्दान च चलो ग़। त़ टाजा ऩ हदखया, त़ हदखो! िाइकट त़ फौज सटरो च ब्ठो ग़ई। २६ जदुं िाइकट ऩ हदक ् ख़या क ़ टाजा उते ऐ, तां उन् ऩ फौज गो इशाटा हकता क ़ ओि ़ जंग द़ समान चलो जाओ त़ टाजा द़ खलाफ सजऩ आस् त़ लडन हजय् यां हचटो च हदक ् ख़या ग़दा ऐ, तां उसो ऩई पता िा क ़ नादान ऩ क ु स गड़ आस् त़ खोदया ऐ उसो। २७ जदुं टाजा ऩ िाइकट दो कम् हदखया तां उसो हचंता त़ आतंक त़ उलझन च प़ई ग़या त़ बडा गुसा आया। २८ नादन ऩ उसो आखया, 'ि़ म़ट़ सामो टाजा, का तू हदको ल़या ऐ! इस दरटद ऩ क ़ कोता ऐ? पट तू गुसा ऩई िोओ त़ ना दुखो िोओ त़ ना ग् दुखो िोओ, पट अपऩ घट जाइय् अपऩ हसंिासन उपट ब्ठो जाओ, त़ मै ि्काट गो जंजोटे कन् बनो दो त़ जंजोटे कन् बनो ल्ना तुंद़ कोल ल़ई औगा, त़ मै त़ट़ दुशन गो हबना क ु स् म़िनत द़ तुंद़ कोला ्गाई द़गा।' २९ टाजा िाइकट द़ बाट़ च गुस़ च अपऩ हसंिासन उपट भापस आई ग़आ त़ उंद़ बाट़ च हकश ऩई हकता। त़ नदन िाइकट च जाइय् उसो आख़आ, ‘भ’अलाि, ि़ म़ट़ चाचा! टाजा त़ट़ च बडो खुशो कऩ खुश ऐ त़ तुंदा धनभाद कटदा ऐ क ़ तुसे ज़डा हु हदता िा, उसो पूटा कटो ओड़या। ३० त़ हन उऩ हमगो तुंद़ कोल ़्ज़या ऐ क ़ तू फौहजये गो उंद़ कमे च सुटो द़ओ त़ अपऩ हपच़ ित बनो ल्ओ त़ प्टे गो जंजोटे च बनो ल्ओ, तां ज़ हफटौन द़ टाजदू त एि् हदको सकन त़ टाजा बो िोऐ उंद़ त़ उंद़ टाजा कोला डटदा िा।' ३१ हफट िाइकट ऩ जभाब हदता, 'सुनना आजा मनना ऐ।' त़ ओि ़ फौटन उठो ग़या त़ उद़ हपच़ अपऩ ि ़ त् थे बन् नो ल़ता, त़ उद़ प्टे गो जंजोटे च बन् नो ल़ता। ३२ नादन उसो ल़ई ग़या त़ उद़ कऩ टाजा द़ कोल चलो ग़या। त़ जदूं िाइकट टाजा द़ सामऩ दाखल िोई ग़आ तां ओि् जमोन् उपट उंद़ सामऩ नमसाट कोता त़ टाजा गो सता त़ सनातन जोभन दो कामना कटदा िा। ३३ हफट टाजा ऩ आखा, 'ि़ ि्काट, म़ट़ सहचभ, म़ट़ मामले द़ गभन्ट, म़ट़ चांसलट, म़ट़ टाज द़ शासक, हमगो दसो, मै तुंद़ कऩ क ़ ि बुटा हकता ऐ, हजस कऩ तुसे हमगो इस क ु रप कम दा इनाम हदता ऐ।' ३४ हफटो उऩ उसो हलख़ द़ हचहटयां त़ उदो मुिट कऩ हलख़। त़ जदुं िाइकट ऩ एि ़ हदक ् ख़या, तां उंद़ अंग-अंग काँपद़ ग़ त़ उदो जो् इक बाटो ग् बनो ग़ई, त़ ओि ़ डटद़-डटद़ इक बो गल् ल ऩई बोलो सकदा िा। ल़कन उऩ अपना हसट धटतो उपट लटकाया त़ गूंगा िोई ग़आ। ३५ टाजा ऩ ए हददखय़ पको िोया हक ए गल उद़ कोला आई ऐ, त़ उऩ फौटन उठ क ़ उनेगो िाइकट गो माटऩ त़ श्िट द़ बािट तलभाट कऩ माटऩ दा हु हदता। ३६ हफट नदन ऩ हचलाया त़ आखा, 'ि़ ि्काट, ओ काला च़िटा! टाजा द़ इस कम् गो कटऩ च त़ट़ धान जां त़टो शद् दा क ़ ि् फायदा िोंदा ऐ?' ३७ इस तिाह किंदा ि् कथाकाट। त़ तलभाटबाज दा नां अबू सहमक िा। त़ टाजा ऩ उसो आखा, 'ि़ तलभाटबाज! उठ, जाओ, िाइकट दो गद्न गो उंद़ घट् द़ दटभाज़ पट फाडो द़ओ, त़ उंदा हसट उंद़ शटोट थमां सौ िाथ दू ट कटो ओडो।' ३८ हफट िाइकट ऩ टाजा द़ सामऩ घुटऩ ट़क क ़ आखा, 'म़ट़ सामो टाजा गो िम़शा हजंदा टौहा चाहिदा! त़ ज़कट तू हमगो माटना चांद़ ओ तां तुंदो इचा पूटो िोई जा; त़ मै जानना आं क ़ मै गुनािगाट ऩईं ऐं, पट दुृ माि्नू अपनो बुटाई दा हिसाब द़ऩ आस् बास ऐ; हफटो बो ि़ म़ट़ सामो टाजा ! मै तुिाड़ त़ त़टो दोसो तों हभनतो कटदा िां, तलभाटबाज नू म़टा लाश म़ट़ गुलामे नू द़र दो इजाजत द़, तां हक ओि हमगो दफन कटन, त़ त़टा गुलाम त़टा बहलदान िोन।' ३९ टाजा उठ क ़ तलभाटबाज गो हु हदता ज़ ओि् उसो अपनो मज् द़ मताबक कटन। ४० त़ उऩ फौटन अपऩ नौकटे गो आजा हदतो ज़ ओि् िाइकट त़ तलभाटबाज गो ल़इय् उंद़ कन् नंग़ चलो जान तां ज़ ओि् उसो माटो सकन। ४१ जदुं िाइकट गो पका पता लगो ग़आ ज़ उसो माटो हदता जाना ऐ तां उऩ अपनो घट़आलो गो ़्ज़आ त़ आखया, 'बािट आओ त़ म़ट़ कऩ हमलना, त़ तुंद़ कऩ इक िजाट क ु हडयां िोन, त़ उनेगो बैगनो त़... ट़शम तां ज़ म़टो मौत कोला प्ह़ म़ट़ आस् टोई सकन। ४२ त़ तलभाटबाज त़ उद़ नौकटे आस़ म़ज त्याट कटो। त़ ्टपूट शटाब हमलाओ, तां ज़ ओि् पोन।'
  • 7. ४३ त़ उन ज़ हकश आजा हदतो िो, उसो पूटा कटो ल़ता। त़ ओि ़ बडो ग् जानो, चतुट त़ समझदाट िो। त़ उऩ िट सं्भ हशृाचाट त़ हसकऩ गो इकटा कोता। ४४ जदुं टाजा दो फौज त़ तलभाटबाज आए तां उनेगो म़ज त़ शटाब त़ आलोशान बूि्ट़ दा ्मब्ता हमलो ग़ई, त़ ओि ़ खाऩ-पोऩ लग़, जदुं तकट ओि ़ गल् लां ऩई ि ़ ोई ग़। ४५ हफटो ि्काट ऩ तलभाटबाज नूं संगत तों अलग कट क ़ आखया, 'ि़ अबू सहमक, का तू निों जानदा हक जदों सनि़टोब दा हपता टाजा सटिदुम तुिानू माटना चाहंदा सो, तां मै तुगो ल़ क ़ इक खास थां त़ छु पा क ़ टख़या टाजा दा गुसा शांत िोई ग़आ त़ उऩ त़ट़ ल़ई मंग़आ? ४६ जदुं मै तुगो उद़ सामऩ ल़ई आया तां ओि त़ट़ उपट खुश िोई ग़या; ४७ त़ मै जानना िां हक टाजा म़ट़ बाट़ च पछताभा कटग त़ म़टो फांसो द़ बाट़ च बडा गुसा कटग। ४८ को भ़ मै कोई गुनािगाट ऩईं ऐं, त़ जदूं तू हमगो उंद़ मिल च उंद़ सामऩ प़श कटग़, तां तू बडो सौ्ाग कन् हमलग, त़ जानग़ ज़ म़टो ््न द़ पुतट नदान ऩ हमगो धोखा हदता ऐ त़ म़ट़ कन् एि् बुटा कम कोता ऐ, त़ टाजा हमगो माटो द़ऩ दा पछताभा कटग; त़ हन म़ट़ घट् द़ बाग च इक कोठटो ऐ, त़ इसदा कोई पता ऩई ऐ। ४९ म़टो घ ़ ट़आलो द़ जान द़ नाल उस हभच छु पा द़। त़ म़ट़ कोल ज़ल च इक गुलाम ऐ ज़डा माट़ जाऩ द़ काहबल ऐ। ५० उसो बािट ल़ई आओ त़ म़ट़ कपड़ पाओ, त़ दासे गो नश़ च उसो माटऩ दा हु द़ओ। उभ़ नशोॊ ऩता चट़गा कक भ़ कौन श् कक भ़ ऩा यश़ शै। ५१ त़ अपऩ हसट गो अपऩ शटोट कोला सौ िाथ दू ट सुटो हदता त़ ओस दा लाश म़ट़ दासे गो द़ई ओडन तां ज़ ओि् उसो दफनाई सकन। त़ तू म़ट़ कऩ इक बडा खजाना जमा कटो ल्ग़। ५२ त़ फ ़ ट तलभाटबाज ऩ ि्काट द़ हु द़ मुताहबक कोता त़ टाजा द़ कोल जा क ़ उस नू आखा, 'त़टा हसट िम़शा हजंदा ट़िभ़।' ५३ हफटो ि्कट दो घ ़ ट़आलो िट िफ़ उसो लुकाईय़ उद़ कोल ज़डा काफो िा, उसो उताटदो िो, त़ इस बाट़ च अपऩ हसभाय िोट हकस़ गो पता ऩईं िा। ५४ त़ िट थािट इस गल दो खबट त़ दोिटाया त़ फ ् लाया हक हकस चालो ि्कट ऋहष गो माटो हदता ग़आ त़ मटो ग़आ त़ उस श्ि् ट द़ साट़ लोक उंद़ आस् शोक मनांद़ ट़ि्। ५५ त़ टोंद़ िोई आख़आ: 'ि़ ि्काट, त़ट़ आस् िाय! त़ त़टो पढाई त़ त़ट़ हशृाचाट द़ भास़! त़ट़ त़ त़ट़ जान द़ बाट़ च हकना दुखो ऐ! त़ट़ ज़िा िोट हकत़ हमल सकदा ि्? त़ इना बुद्मान, इना हभदान, शासन कटऩ च इना माहिट मनुक क ु ते िोई सकदा ऐ ज़ि्डा तुंद़ कन् हमलदा ऐ तां ज़ ओि् तुंदो जगि ्टो सक ् ।' ५६ पट टाजा िाइकट द़ बाट़ च पछताभा कटदा िा, त़ उद़ पछताभ़ दा कोई फायदा ऩई िोआ। ५७ उस ब़ल़ उन नदान गो सहदय् उसो आखया, 'जाओ त़ अपऩ दोसे गो अपऩ कऩ ल़ई जा त़ अपऩ चाचा ि्काट आस़ शोक त़ टोना कटो, त़ उंदो याद दा आदट कटद़ िोई उसो रटभाज द़ मताबक हभलाप कटो।' ५८ ल़कन जदुं नदन, मूख्, अजानो, कठोट हदलदाट अपऩ चाचा द़ घट चलो ग़या, तां ओि ना टोया त़ ना दुखो िोया त़ ना ग् हभलाप कोता, ल़कन ब़दद् त़ ब़ढंग़ लोक े गो इकटा करटय् खाऩ-पोऩ च लग़या। ५९ नादन ऩ िाइकट द़ नौकरटये त़ दासे गो पकडो ल्ना शुर कटो हदता त़ उनेगो बनो ल्ता त़ तडपद़ िोई उनेगो चोटे कन् माटना लगो प़आ। ६० त़ उन अपऩ चाचा दो घ ़ ट़आलो दा आदट ऩई हकता, ज़डो उसो अपऩ जागत् आंगट पालदो िो, ल़कन चािंदो िो क ़ ओि उद़ कऩ पाप च प़ई जा। ६१ पट िाइकट गो हछपऩ आह़ थाह् च कटो हदता ग़दा िा, त़ ओि् अपऩ गुलामे त़ अपऩ पडोहसये द़ टोऩ गो सुनो लैदा िा, त़ ओि् पटमाता, दयालु पटमाता दो सुहत कटदा िा, त़ धनभाद कटदा िा, त़ िम़शा पटमाता कोला पाथ्ना कटदा िा त़ हभनतो कटदा िा . ६२ त़ तलभाटबाज लुकाई द़ हबचो-हबचो समे-समे पट िाइकट च औंदा िा, त़ िाइकट आक ़ उसो हभनतो कटदा िा। त़ उसो हदलासा हदता त़ उसो मुद् दो कामना कोतो। ६३ त़ जदुं दू ज़ मुले च इस गल दो खबट आई ज़ िाइकट ऋहष गो माटो हदता ग़दा ऐ, तां साट़ टाजा दुखो िोई ग़ त़ टाजा सनाि़रटब गो तुच समझद़ ि़, त़ पि़लो सुलझाऩ आल़ िाइकट उपट हभलाप कटद़ ि़। अध्य 4 "द् ं ि दो पि़हलयाँ।" सचमुच अहिकट दा का िोया। उंदो भापसो। १जदूं हमस द़ टाजा ऩ ि्काट द़ माट़ जाऩ दा यकोन कट लया, तां उसऩ फौटन उठ क ़ टाजा सनि़रटब नू हचटो हलख क ़ उस हभच उस नूं याद हदला हदता हक 'शांहत त़ स़ित त़ पटा्म त़ इजत दो जो असों त़ट़ भास़ खास कामना कटद़ िां।' म़ट़ लाडल़ भा टाजा सनाि़रटब। २ मै आकाश त़ धटतो द़ हबच इक मिल बनाऩ दो इचा कटदा ट़आ, त़ मै चाि्नां क ़ तू हमगो अपऩ कोला इक जानो, चतुट आदमो ़्जो, तां ज़ ओि् म़ट़ आस् बनान, त़ म़ट़ साट़ सभाले दा जभाब द़य्, त़ म़ट़ कोल एि् िोऐ कट त़ त् साल तकट अशूट द़ कसम डूटो।' ३ हफटो उन हचटो उपट मुिट लाया त़ सनाि़टोब गो ़्जो हदता। ४उसऩ उसो ल़ईय़ पढो ल़या त़ अपऩ भजोटे त़ अपऩ टाज द़ क ु लोन लोक े गो द़ई हदता, त़ ओि उलझन त़ शहमहदा िोई ग़, त़ ओि बडा गुसा कऩ गुस़ च प़ई ग़या, त़ इस गल् उपट ि्टान िोई ग़आ ज़ उसो हकस चालो कम कटना ऐ। ५ उस ब़ल़ बुजुग् त़ हभदाने, जानो त़ दाश्हनक े , ्हभरभाहरयां त़ जोहतहषये त़ िट इक गो इकटा करटय् ज़डा अपऩ द़श च िा, त़ उनेगो हचटो पहढय् उनेगो आख़आ, 'तुंद़ च क ु न चाि्ऩ न।' हमस द़ टाजा हफटौन द़ कोल जाइय् उंद़ सभाले दा जभाब द़ओ?' ६ त़ उऩ उस कऩ आखया, 'ि़ साडा सामो टाजा! तूं जान लओ हक तुिाड़ टाज हभच कोई निों ि् जो इनां सभालां नाल परटहचत िोभ़, हसभाय त़ट़ भजोट त़ सहचभ ि्काट द़।
  • 8. ७ ल़कन साढ़ च इस च कोई हनट ​ ​ ऩई ऐ, जद तकट उदो ््न दा पुतट नादान ऩईं िोऐ, कोज़ उऩ उसो अपनो साटो बुद् त़ हशका त़ जान हसखाया िा। उसो अपऩ कोल सदो, शायद ओि् इस कठोट गांठ गो खोलो सक ् ।' ८ उस ब़ल़ टाजा ऩ नदान गो बुलाया त़ आखया, 'इस हचटो गो हदखो त़ समझो हक इस च क ़ ऐ।' त़ जदुं नदन ऩ पढ़या, तां उन् ऩ ग् लाया, 'ि़ म़ट़ सामो! क ु न आकाश त़ धटतो द़ बोच मिल बनाऩ च समथ् ऐ?' ९ टाजा ऩ नदान दो गल सुनो त़ बडा त़ बडा दुखो िोया त़ अपऩ हसंिासन तों उतट क ़ टाख हभच ब्ठ क ़ िाइकट द़ बाट़ हभच टोन त़ हभलाप कटन लगा। १०किद़ िोए, 'ि़ म़ट़ दुख! ि़ ि्काट, हजसऩ टाज त़ पि़हलयां जानद़ ि़! िायकट मै त़ट़ भास़ ऐ ि्कट! ि़ म़ट़ द़श द़ गुर त़ म़ट़ टाज द़ शासक, त़ट़ समान हकत़ पाना? ऐ ि्कट, ि़ म़ट़ द़श द़ गुर, त़ट़ भास़ हकत़ मुड जाभांगा? िाय त़ट़ आस़ मै ! मै तुगो हकय् यां नाश कटो ओड़या! त़ मै इक ब़भक ू फ, अजानो मुंड़ दो गल सुनो, हबना जान द़, हबना धम् द़, हबना मदा्नापन द़। ११आि! त़ हफट आि अपऩ आस़! क ु न तुगो हसफ ् इक बाटो ल़ई हमगो द़ई सकदा ऐ, जां हमगो खबट द़ई सकदा ऐ ज़ िाइकट हजंदा ऐ? त़ मै उसो अपऩ टाज दा आधा हिसा द़ई हदंदा िा। १२ ए म़ट़ ल़ई हकत़ आया? आि, िाइकट ! तां ज़ मै तुगो इक बाटो फिो हदक ् खो सकां, तां ज़ त़ट़ गो हदक ् खोए त़ तुंद़ च मस िोई जा। १३आि! ओ त़ट़ भास़ म़टा दुख िट भ् तक! ओ ि्काट, मै तुगो हकस चालो माटो ओड़या! त़ मै त़ट़ मामल़ च उस भ़ल़ तकट ऩई रक ़ या, जदुं तकट मै इस गल् ला दा अंत ऩई हदक ् ख़या।' १४ त़ टाजा टात हदन टोंद़ ट़ि। हर जदुं तलभाटबाज ऩ टाजा दा गुसा त़ िाइकट द़ पहत उसो दुख हदखया तां उंदा हदल उंद़ आस् त़ नटम िोई ग़या, त़ ओि ़ उद़ सामऩ ऩड़ आईय़ उसो ग् लाया। १५ 'ि़ म़ट़ सामो! अपऩ दासे गो आजा द़ओ क ़ ओि ़ म़टा हसट कटन।' हफट टाजा ऩ उस नू आखा: 'िाय त़ट़, अबू सहमक, त़टा कसूट को ि्?' १६ त़ तलभाटबाज ऩ उसो आखा, 'ि़ म़ट़ माहलक! िट गुलाम ज़डा अपऩ माहलक द़ भचन द़ उल कटदा ऐ, उसो माटो हदता जंदा ऐ, त़ मै त़ट़ हु द़ उल कम कोता ऐ।' १७ उस ब़ल़ टाजा ऩ उसो आखा। 'िाय तुझ़ ऐ अबू समोक, तु्ऩ ़्य़ आजा क ़ उल़ ुा ककमा श् ?' १८ त़ तलभाटबाज ऩ उसो आखा, 'ि़ म़ट़ प्ु! तुसे हमगो िाइकट गो माटऩ दा हु हदता िा, त़ मै जानदा िा ज़ तू उंद़ बाट़ च पछताभा कटग़, त़ उंद़ उपट गलतो िोई ग़ई ऐ, त़ मै उसो इक खास थाि् ट उपट छु पाई ल़आ िा, त़ मै उंद़ इक गुलाम गो माटो ओड़या िा, त़ ओि् हन सुटहकत ऐ क ुं ड, त़ ज़कट तू हमगो हु द़ओ तां मै उसो अपऩ कोल ल़ई औना।' १९ टाजा ऩ उसो आखा। 'िाय त़ट़, ओ अबू सहमक! तू म़टा मजाक उडाया ऐ त़ मै त़टा सामो आं।' २० त़ तलभाटबाज ऩ उसो आखया, 'निों, ल़कन त़ट़ हसट द़ पार कऩ ि़ म़ट़ प्ु! ि्काट सुटहकत त़ हजंदा ऐ।' २१ टाजा गो ए गल सुहनय् उसो इस गल् दा पका यकोन िोई ग़आ, त़ उंदा हसट त्टना लगो प़आ, त़ उसो खुशो थमां ब़िोश िोई ग़आ, त़ उनेगो िाइकट गो ल़ई औऩ दा हु हदता। २२ त़ तलभाटबाज गो आखया, 'ि़ ्टोस़मंद दास! ज़कट तुंदो गल सच ऐ तां मै तुगो सम्् कटना चांि् दा त़ तुंदो इजत गो तुंद़ साट़ दोसे कोला बो उपट चुको ल्ना।' २३ त़ तलभाटबाज खुश िोईय़ चलदा ट़या, जद तकट ओि िाइकट द़ घट ऩईं आया। त़ उऩ हछपऩ आलो जगि दा दटभाजा खोलो ल़या, त़ उतटो ग़या, त़ िाइकट गो ब्ठ़ दा लबा, त़ पटमाता दो सुहत कटदा ऐ त़ उंदा शुह्या अदा कटदा ऐ। २४ त़ उन उस नूं हचलाया, 'ि़ ि्काट, मै सब तों भडो खुशो, त़ सुख त़ आनन दा लांदा िां!' २५ त़ ि्काट ऩ उस नू आखा, 'ि़ अबू सहमक, को खबट ि्?' त़ उसो शुर थभां अखोटो तकट हफटौन द़ बाट़ च सब हकश दस़या। हफटो उसो ल़ई ग़या त़ टाजा द़ कोल चलो ग़या। २६ जदुं टाजा ऩ उसो हदक ् ख़या, तां उद़ बाले गो जंगलो जानभटे द़ समान लम़ त़ नाखून चोल द़ पंज़ आंगट लम़ िोई ग़द़ न, त़ उदा शटोट धूड कऩ गंदा ऐ, त़... उंद़ च़िट़ दा टंग बदलो ग़दा िा त़ फोका िोई ग़दा िा त़ हन टाखो आहा िोई ग़दा िा। २७ टाजा ऩ उसो हदखद़ ग् उसो दुखो िोई ग़आ त़ इक बाटो फिो उठो ग़आ त़ उसो गल़ लाया त़ चुम़आ, त़ उसो टोंद़ िोई आख़आ: 'पटमाता दो सुहत िोनो चाहिदो! हजसऩ तुगो म़ट़ कोल भापस ल़ई आया ऐ।' २८ उस ब़ल़ उसो हदलासा हदता त़ हदलासा हदता। त़ उऩ अपना चोगा उतारटय़ तलभाटबाज उपट लाया त़ उद़ उपट बडा क ् पा करटय् उसो बडो दौलत हदतो त़ िाइकट गो आटाम हदता। २९ हफट ि्काट ऩ टाजा गो आखया, 'म़ट़ सामो टाजा गो िम़शा हजंदा टौहा चाहिदा! संसाट द़ संतान द़ कम् िोन। मै इक ताड दा प़ड पालया ऐ हजस उपट मै हटका सकां, त़ ओि् बको झुको ग़आ त़ हमगो थल़ सुटो हदता। ३० ल़कन ि़ म़ट़ प्ु! जदुं मै त़ट़ सामऩ पगट ि ़ ोया ऐं, तां तुसेगो पटभाि ऩई कटना चाईदा! त़ टाजा ऩ उसो आखया, 'पटम़सट दा ध ़ नभाद िोभ़, हजऩ तुंद़ उपट दया हकता, त़ जानदा िा क ़ तुंद़ कऩ गलत हकता ग़दा ऐ, त़ तुगो बचाई ल़ता त़ माटो जाऩ थभां छु डाया।' ३१ ल़कन गम् सान च जाइय् अपऩ हसट मुंडन कटो, त़ नाखून कटो, त़ अपऩ कपड़ बदलो, त़ चालोस हदने तकट मनोटंजन कटो, तां ज़ तू अपऩ आप् गो ्ला कटो ओडो त़ अपनो िालत त़ अपऩ च़िट़ दा टंग सुधटो त़ट़ कोल भापस आ सकदा ि्।' ३२ उस ब़ल़ टाजा ऩ अपना मिंगा चोगा उतारटय़ िाइकट लाया, त़ िाइकट ऩ पटमाता दा शुह्या अदा कटद़ िोई टाजा दा पराम हकता, त़ पटमाता पटमाता दो सुहत कटद़ िोई खुश त़ खुश िोईय़ अपऩ हनभास च चलो ग़आ। ३३ उद़ घट् द़ लोक उद़ कऩ खुश िोई ग़, त़ ओस द़ दोस त़ िट इक ज़क ़ उसो हजंदा ऐ सुहनय् खुश िोई ग़।
  • 9. अध्य 5 "पि़लो" दा अकट अहिकट गो दस़आ जंदा ऐ। चोल पट लडक ़ । प्हो "िभाई जिाज" दो सभाटो। हमस च टभाना। अहिकट, बुद्मान िोऩ द़ नात़ बो िास-वंग दा ्ाभ िोंदा ऐ। (शोक 27) दा। १ त़ टाजा द़ हु द़ मताबक हकता, त़ चालोस हदने तकट हभशाम हकता। २हफट उसऩ अपना सब तों समलैहगक कपडा पहिन क ़ टाजा द़ कोल सभाट िो क ़ अपऩ गुलाम द़ हपच़ त़ अग़ खुशो त़ खुश िो क ़ टाजा द़ कोल चलो गया। ३ ल़कन जदुं नादान उदो ््न द़ पुतट गो एि ़ पता लगो ग़या क ़ ओि ़ क ़ ि ़ ि ़ ोदा ऐ, तां उसो डट त़ घबटाई ग़या, त़ ओि ़ अचंह्त ि ़ ोई ग़या। ४ जदुं ि्कट ऩ ए हदखया तां टाजा द़ सामऩ जाइय् उसो नमसाट हकता, त़ उसो नमसाट भापस कटो हदता त़ उसो आखया। 'ि़ म़ट़ लाडल़ ि्काट! इ'ने हचहटये गो हदको, हजनेगो हमस द़ टाजा ऩ तू माटो हदता ग़दा सुनऩ द़ बाद असेगो ़्ज़ दा िा। ५ उऩ सानु गुसा हकता त़ साड़ उपट जोत पाई ऐ, त़ साढ़ मुल द़ मत़ साट़ लोक हमस द़ टाजा ऩ साढ़ कोला मंगऩ आस़ ़्ज़ द़ कट द़ डट कऩ हमस च ्ागो ग़द़ न। ६हफट ि्काट ऩ हचटो ल् क ़ पढ क ़ उस दो गल समझो। ७हफट उन टाजा नू आखा। 'ि़ म़ट़ सामो, गुसा मत िो! मै हमस च जांि्गा, त़ मै हफटौन गो जभाब भापस कटगा, त़ मै उसो इस हचटो गो पदहश्त कटगा, त़ कट द़ बाट़ च उसो जभाब द़गा, त़ ्गऩ आह़ साटे गो भापस ़्जो द़गा। त़ मै पटमाता पटमाता दो मदद कऩ त़ त़ट़ टाज दो सुख आस़ त़ट़ दुशने गो शहमहदा कटगा।' ८ जदुं टाजा ऩ िाइकट थभां ए गल सुनो, तां ओि ़ बडो खुशो कन् ऩ खुश िोई ग़या, त़ उदा हदल बडा ग् ि ़ ोई ग़या त़ उद़ उप् पट अनुगि हकता। ९िाइकाट ऩ टाजा नू आखा, 'म़ट़ कोल चालोस हदन दो द़टो द़यो हक मै इस सभाल त़ हभचाट कट सकां त़ इस दा पबंध कट सकां।' त़ टाजा ऩ इसदो इजाजत हदतो। १० त़ िाइकट अपऩ हनभास च चलो ग़या, त़ उऩ हशकाटो गो हु हदता ज़ ओि् उंद़ आस् दो चोले गो पकडो ल्न, त़ उनेगो पकडो ल्ता त़ उंद़ कोल ल़ई आए दो िजाट िाथ लम़ ि़, त़ उऩ बढई गो ल़ई आए त़ उनेगो दो बड़-बड़ बकट़ बनाऩ दा हु हदता, त़ उनेगो इय् यां ग् हकता। ११ उस ब़ल़ दो हनक ़ जागते गो ल़ईय़ िट टोज म़ढ़ बहलदान त़ चोले त़ जागते गो दखलाऩ त़ जागते गो चोले दो पोठ उपट सभाट कटाऩ च गुजाटदा िा, त़ उनेगो इक पको गांठ कऩ बनो लैदा िा त़ क ़ बल गो प्टे च बनो लैदा िा चोले दा, त़ उनेगो िट टोज थोि् डो-मतो उपट उडऩ द़यो, दस ित दो दू टो तकट, हजसल् तकट उनेगो आदत ऩईं िोई जंदो त़ उंदो पढाई ऩई िोई जंदो। त़ ओि ़ टसो दो साटो लंबाई चलो ग़, जदुं तकट ओि ़ आकाश च ऩई पुज् जो ग़। लडक ़ अपनो पोठ पट िोकट। हफटो उनेगो अपऩ कोल खोंच ल़आ। १२ जदुं िाइकट ऩ हदखया क ़ उंदो चाि पूटो िोई ग़ई ऐ तां उने जागते गो आजा हदतो क ़ जदुं उनेगो आकाश च ल़ई जाओ तां ओि ़ हचलान। १३ 'साड़ कोल हमटो त़ पतट ल़ई आओ, तांज़ अस टाजा हफटौन आस़ इक मिल बनाई सकच़, कोज़ अस ब़काट िां।' १४ त़ ि्काट कद़ भो उनां नू पहशहकत त़ कसटत निों कटदा सो, जद तक ओि (कौशल) द़ ब़िद सं्भ हबंदु त़ निों पहंच जांद़ सन। १५ हफटो उने गो छोडो टाजा द़ कोल जाइय् उसो आखया, 'ि़ म़ट़ प्ु! त़टो इचा द़ मताबक कम पूटा िोई जंदा ऐ। म़ट़ कऩ उठो, तां ज़ मै तुगो अचटज दसो सकां।' १६ इस करटए टाजा उछहलय़ िाइकट द़ कऩ ब्ठो इक चौडो जगि चलो ग़या त़ चोल त़ जागते गो ल़ई आऩ आस़ ़्ज़या, त़ िाइकट ऩ उनेगो बनो ल्ता त़ उनेगो टसे दो साटो लंबाई च िभा च छोडो हदता, त़ ओि हचलाऩ लग़ उऩ उनेगो हसखाया िा। हफटो उनेगो अपऩ कश दखचो ल़ता त़ उंद़ थाि ़ ट उप् पट टख़या। १७ टाजा त़ ओद़ कऩ द़ लोक बडा ि्टान िोई ग़, त़ टाजा ऩ िाइकट गो उंदो अकों द़ बोच चुम़आ त़ आखया, 'ि़ म़ट़ पाट़, शांहत कऩ जाओ! ओ म़ट़ टाज दा घमंड ! हमस च जाओ त़ हफटौन द़ सभाले दा जभाब द़ओ त़ पटमाता दो ताकत कन् उंद़ उपट हभजय पाओ।' १८ उस ब़ल़ उसो हभदाई हदतो त़ अपनो फौज त़ अपनो फौज त़ जभाने त़ चोले गो ल़इय् हमस द़ हनभासे आहो बको चलो प़आ। त़ जदुं ओि ़ पुज् जो ग़या, तां ओि ़ टाजा द़ मुल् क ़ आस् त़ मुडो ग़या। १९ जदुं हमस द़ लोक े गो पता लगो ग़या क ़ सनाि़रटब ऩ अपऩ कस़ द़ इक मानू गो हफटौन कन् ऩ गल् ल कटऩ त़ उद़ सभाले दा जभाब द़ऩ आस् त़ ़्ज़या ऐ, तां उनेगो ए खबट टाजा हफटौन गो पुजाया, त़ उन् ऩ अपऩ गुप कौंहसल द़ इक दल गो ़्जो हदता क ़ ओि ़ उसो अपऩ सामऩ ल़ई आन . २० त़ ओि हफटौन द़ सामऩ आईय़ उसो पराम हकता, हजयां टाजाएं कऩ कटना उहचत ऐ। २१ त़ उन उसो आखया, 'ि़ म़ट़ सामो टाजा! टाजा सनाि़रटब त़टा शाद् त़ पटा्म त़ आदट कऩ सुहत कटदा ऐ। २२ त़ उऩ हमगो ़्ज़या ऐ, ज़डा उद़ दास आं, तां ज़ मै त़ट़ सभाले दा जभाब द़ई सकां त़ तुंदो साटो इचा गो पूटा कटो सकां, कोज़ तू म़ट़ प्ु टाजा कोला इक ऐसा आदमो मंगऩ आस़ ़्ज़या ऐ ज़डा तुंद़ बोच इक मिल बनाग आकाश त़ धटतो। २३ त़ मै पटमाता पटमाता दो मदद त़ त़ट़ उदात अनुगि त़ म़ट़ प्ु दो शद् कऩ त़ट़ आस़ उसो बनाना ऐ हजयां तुस चांद़ ओ। २४ ल़कन ि़ म़ट़ सामो टाजा! तू इस च त् साले थमां हमस द़ कट द़ बाट़ च ज़ि्डा आख़आ ऐ--हन इक टाज दो द्टता सख नाय ऐ, त़ ज़कट तू जोतो लैद़ ओ त़ म़ट़ ित च तुसेगो जभाब द़ऩ च कोई हनट ​ ​ ऩईं ऐ, तां म़टा सामो टाजा तुसेगो ़्जग कट हजनां दा हज् तुसों हकता ि्। २५ त़ ज़कट मै त़ट़ सभालां दा जभाब द़ई लैदा तां त़ट़ कोल बाको ट़िना ि् हक तुसों जो भो आखा ि्, ओि म़ट़ सामो टाजा नू ़्जना।' २६ हफटौन ऩ ए गल सुहनय् अपनो जो् दो आजादो त़ बोलऩ दो सुखदता कऩ ि्टान िोई ग़या।