Successfully reported this slideshow.
We use your LinkedIn profile and activity data to personalize ads and to show you more relevant ads. You can change your ad preferences anytime.

हिन्दी हैं हम

349 views

Published on

Describes the issue in one south Indian state regarding Hindi Imposition

  • Login to see the comments

हिन्दी हैं हम

  1. 1. हिन्दी िैं िम  शान्ता शमाा श्रावण म माक ा कािावण ा हद स का ि ा कमथ ा य थन्तवण तम मे े दम र िे े य र के कमाद्री िवण ा शीतलता लल अ े मंद-मंद झों ों के स् ा -स् ा खड़े ेड़ों े त्तों ो छेड़ते िा रल्ललकत िो ि िी ी य इ टर थों न माम ाष् -ववण क्रे ताओं द्वण ा ा अ ी मााँ ी गोद के ृ ा ग अकिाथ काम अ ा हृदथ नछद जा े भी ा ल-मथाादा ी क्षा ते िा अंनतम कााँक त िाँकते- िाँकते अ ी कागं के वण ातावण म ो मि ा िे े य र ा ददा कमझ े े लल था र ी आिें का े े लल क्था क की े ाक कमथ िै ? कभी व्थस्त िैं य मे े ख्थाल के म ाष्थ ी कृष्ष्ट ते कमथ ववण ाता े था तो हृदथ ा स् ा र क्त छोड़ हदथा था आद्राता ोंछ डाली य आज े थाग ी दृष्ष्ट के मे ा र थााक्त चिन्त न ा िैस ागल िै य कि भी मै कोिती जा िी ी य इत े में आ ाशवण ामी के प्रकार त िो िेस क की े म ा स्वण के क े इक़ ाल ी शाथ ी ी न म ांक त ंष्क्त मे े ा ों में प्रववण ष्ट िाई – “हिन्दी िैं िमस वण त िै हिन्दोस्तां िमा ा” माझे िाँकी आथी य म ाष्थ ी ल् ा क त ी ्था ी िै य थ ा ा र आदशा भी आ क में लमल क ते िैं? र थााक्त ंष्क्त ा अ ा ........................ ? िमा ा देश हिन्दास्ता िै य िमा ी भाषा – थि आज त प्रश् -चिह् ि गई िै य मा लक भावण र मष्स्तष् े ववण िा प्र ट े े लल म ाष्थ ो माध्थम ी आवण श्थ ता ड़ी य रक े भाषा कृज क था य रक कमथ रक े कोिा त िीं िोगा क आगे िल भाषा ो ले कमस्था खड़ी िोगी य अंग्रेज़ों े भा त आ े े िले भा त में भाषा-कमस्था ी क िीं ? – इक प्रश् ा रत्त िमें िीं लमलता िैय िो क ता िै शाक वण गा ी भाषा िी ाज-भाषा े द आकी ी क्थोंक अंग्रेज़ों ा ाज्थ ज भा त में स् ाव त िाआ त भा तीथों े अंग्रेज़ी भाषा ो अ ाथा य शाथद िी क की े अंग्रेज़ी भाषा कीख े े ववण रुद्ध आवण ाज़ रठाई िोगी य अ ी इच्छा केस अ ा अिोभाग्थ मा स िावण के कीखी िोगी य शीघ्र िी वण ि िमा े खू े का घाल-लमल गथी य माद्दत त वण ि ाज-भाषा े लकंिाक आकी िी य त क की भा तीथ ो अ ाात िमें अ े र अ ी भाषाओं े अ मा ा अ ाभवण िीं िाआ य तंतत के माक्त िो े े लल िम े अवण श्थ कंघषा क था य शाक - कूत अ े िा में ललथास स्वण तंत िो ग स्वण भाषा ो ाजभाषा ा े ा प्रथत् भी भूल भी क था ? ववण देशी भाषा ी अ ी तास िमा ी तंतता े प्रती के माक्त िो े े लल रद्थत िा ? दाव िीं य लेक क्थों ? िमा े भा त में िौदि के भी अच स्मृद्ध भाषा ाँ िैं य कि भी िमें थि स्वण ी ृ त िीं क िमा ी अ ी ोई भाषा ाजभाषा े द आकी िो य ष्जक भाषा ो ोल े र कमझ ेवण ालों ी कंख्था अच िो रक भाषा ो ाजभाषा ा द हदथा जाता िैय इक दृष्ष्ट के देखा जाथ तो भा त में हिन्दी ोल ेवण ालों ी कंख्था अन्थ भाषा-भावषथों ी कंख्था के अच िै य
  2. 2. प्राथ: कभी भाषा-भाषी हिन्दी कमझ लेते िैं य काहित्थ ी दृष्ष्ट के भी थि कमृद्ध िै य कि क्थों ा छ लोग इक ा ववण ो ते िैं ? इकमें क्था ाज़ िै ? स्वण देशी भाषा ो छोड़ ववण देशी भाषा ो अ ा े में रन्िें क्थों तृष््त लमलती िै ? इ प्रश् ों े रत्त े लल िमें ाज ीनत जा ी िोगी य भा त े स्वण तंत िोते िी भाषावण ा ाज्थों ी स् ा ा िो ी िाहि ी य त प्रांतीथ भाषा ाँ अ े-अ े प्रांतों में लशक्षा र शाक ा माध्थम गथी िोतीं य खै स िमें तो ाज ीनत े छड़े में िीं ड़ ा िै इकलल “ऐका क्थों िीं िाआ ?” इक प्रश् े रत्त प्र ाश िीं ड़ालेंगे य आगे िल भाषा ो ले िात रत् ात मिा य भाषा े प्रनत मोि-द्वण ेष ा रद्भवण भी िाआ य हिन्दीत भावषथों े म में ववण ष- ीज ोथा गथा क “हिन्दी थहद भा त ी ाजभाषास दूक े शब्दों में कं ा भाषा गथी तो प्रांतीथ भाषाओं ा ामोन शा लमट जा गा य वण े िी िीं ा ाँगी य हिन्दी रन्िें ाताल लो िााँिा देगीस ा िल ख देगी य इक े अलावण ा वण ि हिन्दी अभी शैशवण ावण स् ा में िैस ववण लकत िााँ िो ाथी िै ?” ज़ ा आ अंदाज़ लगाइ क इक ीज ा ववण ाक ै के िाआ िोगा य िााँस ीज के अं ा िू टास ौ ा रास ेड़ गथास अ लि ा िा िै ि ा-भ ा य अ ाात र थााक्त प्रिा आशातीत रू के किल िाआ य र माम ..... भाषा-भाषी दूक े भाषा-भाषी ो अ ी दृष्ष्ट में िी िींस म ी गि ाई त कंदेि भ देखता िै य भा त ी वण तामा भाषा-कमस्था ा मूल िै – अंग्रेज़ी य इक े ाथल हिन्दी ा ववण ो ते िैं य िमा े इनतिाक ी थि ववण शेषता र मित्ता िै क ज भी आ की िू ट ी चि गा ी के आग लगे तो ववण देशी ाझा े े लल ाला जाते िे य थिीं िमा ी ा ा ी ं ा िै र िमें ववण ाकत मे लमली िाई ववण भूनत िै य अत: हिन्दी े प्रनत द्वण ेष र ड़ लोगों े म में काथा जा िा ा िै य इक मत े अ ाका थि भ्रम रत् न् क था जा िा िै क े न्द्रीथ क ा ी ौ र थों े वण ल हिन्दी-भाषा भाषी िी छा िेंगे य भाषा े का ौ र थों ा कम न् टूट गथा तो कमझझ भाषा-कमस्था िी िीं िी य ज त भा त क की ववण देशी भाषा ा अच ा िेगा त त भा त े ववण लभन् भाषा-भाषी आज ी त ि लड़ते िी िेंगे आ क में य अ भी िमा े ाक कमथ िै थहद ववण वण े के ाम लेंगे तो य िमा े ीि ता िो े े ा म िमें ववण देशी भाषा े प्रभात्वण ो स्वण ी ा ा ड़ िा िै य थि वण ास्तववण ता िै य र ष्स् नतथााँ हद - -हद ब गड़ती िली जा िी िैं य इ ी अवण िेल ा े के भी ोई लाभ िोगा य न माथ ले ा िमा ा ाम िै य अ ी भाषा-कमस्था ा िल िमा े िा ों में िै य िम स्वण तंत िैंस अ े भाग्थ-ववण ाता िैंस िमा े देश े रत् ा - त र कममा -अ मा े रत्त दाथी िैं य इक वण क्त भी िम किेत िा तो िमा ी अ ी भाषा ाँ क्षीम ड़ े के ि क ती िैं य थि कत्थ िै क हिन्दी भाषा े ववण ाक र रक ी कमृवद्ध में हिन्दीत भावषथों ा अत्थंत मित्वण ूमा थोगदा िा िैस आशा िै आगे भी िेगा य तभी थि का ा िोगा – “ अ े ता में ता भा त ी ववण शेषता िै य र हिन्दी िैं िमस वण त िै हिन्दोस्तााँ िमा ा य”

×