Successfully reported this slideshow.
We use your LinkedIn profile and activity data to personalize ads and to show you more relevant ads. You can change your ad preferences anytime.
तेरा वादा ? ! –
नमस्ते / प्रणाम - श्रीमती शान्ता शमाा
प्रकृ तत-तनयम :-
हर बार आता है आमों का मौसम |
हर बार आता है अनारों क...
इनके भी –
वक्त-बेवक्त आता है मच्छरों का मौसम |
चाहे जब आता है मक्क्ियों का मौसम |
ऐसे ही आता है झींगुरों का मौसम |
सदा ही ...
तेरा इंतज़ार है, आकर अन्याय शमटाकर,
जन-जीवन को कर दे शाक्न्त-संस्कार से भरपूर ||
Upcoming SlideShare
Loading in …5
×

तेरा वादा

243 views

Published on

A wonderful poem exhorting basic human qualities

Published in: Lifestyle
  • Be the first to comment

तेरा वादा

  1. 1. तेरा वादा ? ! – नमस्ते / प्रणाम - श्रीमती शान्ता शमाा प्रकृ तत-तनयम :- हर बार आता है आमों का मौसम | हर बार आता है अनारों का मौसम | हर बार आता है अंगूरों का मौसम | हर बार आता है अमरूदों का मौसम | हर बार आता है कटहलों का मौसम | हर बार आता है संतरों का मौसम | हर बार आता है सब फलों का मौसम | हर बार आता है ववववध फू लों का मौसम | ऋतु-चक्र :- हर साल आता है वसन्त का मौसम | हर साल आता है ग्रीष्म का मौसम | हर साल आता है वर्ाा का मौसम | हर साल आता है शरद का मौसम | हर साल आता है हेमन्त का मौसम | हर साल आता है शशशशर का मौसम |
  2. 2. इनके भी – वक्त-बेवक्त आता है मच्छरों का मौसम | चाहे जब आता है मक्क्ियों का मौसम | ऐसे ही आता है झींगुरों का मौसम | सदा ही रहता है ततलचटों का मौसम | हर समय बना रहता है तछपकशलयों का मौसम | सभी जीवों का होता है अपना-2 मौसम | पर कभी – क्या आता है ईमानदारी का मौसम ? क्या आता है मानशसक तनमालता का मौसम ? क्या आता है सही अर्थों में सेवा का मौसम ? क्या आता है स्वार्थाहीन आदर का मौसम ? क्या आता है ककये काम का नाम लेने का मौसम ? क्या आता है सच्चे शुक्रगुज़ारों की भरमार का मौसम ? तेरा वादा – हे कृ ष्ण कन्हैया! कहा र्था तूने, ज़रा याद कर | जब-जब धमा लड़्िड़ाने लगता धूशमल हो कर, तब-तब आएगा उभारने, सँभालने संसार | अब आ गया समय, इहलोक हो गया जजार |
  3. 3. तेरा इंतज़ार है, आकर अन्याय शमटाकर, जन-जीवन को कर दे शाक्न्त-संस्कार से भरपूर ||

×