Successfully reported this slideshow.
We use your LinkedIn profile and activity data to personalize ads and to show you more relevant ads. You can change your ad preferences anytime.

Social awareness Hindi essay

3,913 views

Published on

An essay on Social Awareness in Hindi

Published in: Education
  • Follow the link, new dating source: ♥♥♥ http://bit.ly/2F90ZZC ♥♥♥
       Reply 
    Are you sure you want to  Yes  No
    Your message goes here
  • Dating direct: ❤❤❤ http://bit.ly/2F90ZZC ❤❤❤
       Reply 
    Are you sure you want to  Yes  No
    Your message goes here
  • Be the first to like this

Social awareness Hindi essay

  1. 1. नये कानूनों के ननर्ााण की खानिर संसद र्ें विचार हेिु जिन विधेयकों को लाए िाने की कोशिि की िा रही है, उनर्ें से एक असंगठिि क्षेत्र र्िदूर विधेयक भी है। इस विधेयक की रूपरेखा असंगठिि र्िदूरों को सार्ाजिक सुरक्षा उपलब्ध कराने के उद्देश्य से िैयार की गई है। अभी िक र्िदूरों के कल्याण के शलए िो कानून अजतित्ि र्ें हैं, िह काफी नहीं है। उनकी पररधध र्ें सार्ान्यि: संगठिि क्षेत्र के र्िदूर ही आ पािे हैं, पररणार्तिरूप असंगठिि क्षेत्र के र्िदूरों को इसका कोई फायदा नहीं शर्ल पािा है। दूसरे श्रर् आयोग की ररपोर्ा के अनुसार िो भी र्िदूर ििार्ान सार्ाजिक सुरक्षा कानूनों (िैसे ई.एस.आई.एस., प्रोविडेंर् फं ड, ग्रैच्यूर्ी ि र्ािृत्ि लाभ, आठद) से िंधचि हैं, उन्हें असंगठिि क्षेत्र का र्ानना चाठहए। असंगठिि क्षेत्र र्िदूरों की राष्ट्रीय अशभयान सशर्नि के अनुसार इस सर्य देि र्ें असंगठिि र्िदूरों की कु ल संख्या लगभग 37 करोड़ है, िो कु ल र्िदूरों की संख्या का 93 प्रनििि है। देि के सिााधधक दीन-हीन ि गरीब-गुरबे लोग इसी िगा से आिे हैं। ये सकल घरेलू उत्पाद र्ें 65 प्रनििि का योगदान करिे हैं िथा राष्ट्रीय बचि र्ें इनका योगदान 45 प्रनििि है। संख्या के शलहाि से यह िगा एक बहुि बड़ा िोर् बैंक है। इसशलए यह बड़े आश्चया की बाि है िक इनकी सार्ाजिक सुरक्षा के शलए देि र्ें अब िक कोई कानून नहीं है। र्िदूरों की सार्ाजिक सुरक्षा के शलए पहले से बने कानून शसफा संगठिि क्षेत्र के र्िदूरों पर लागू होिे हैं। यद्यवप असंगठिि क्षेत्र की कु छ श्रेणियणयों के शलए कु छ कानून देि के अलग- अलग ठहतसों र्ें पहले से र्ौिूद हैं, िैसे र्हाराष्ट्र का र्थारी िका सा कानून, डॉक िका सा कानून, रोिगार गारंर्ी कानून, िशर्लनाडु सोिल सेक्यूररर्ी कानून, 1996 र्ें बना कें द्रीय ननर्ााण र्िदूर कानून आठद। पर ये कानून असंगठिि क्षेत्र के अधधकांि र्िदूरों को सुरक्षा देने के शलए पयााप्ि नहीं हैं। 'कल्याण कोि ि कल्याण बोडा' की तकीर्ें असंगठिि क्षेत्र की कु छ श्रेणियणयों िक ि कु छ राज्यों िक ही सीशर्ि हैं। पररणार्तिरूप अधधकिर असंगठिि र्िदूर इन कानूनी प्रािधानों िथा अन्य विशभन्न योिनाओं का फायदा नहीं उिा पािे हैं। र्िदूरों की सुरक्षा के बारे र्ें श्रर् आयोग ने कहा िक इसका अथा है रोिगार की सुरक्षा, न्यूनिर् या न्यायसंगि र्िदूरी िय करना, इसकी िानकारी र्िदूरों िक पहुंचाना, िकसी अिैध कर्ौिी के बबना र्िदूरों को इसकी उपलजब्ध सुननजश्चि करना और कायातथल पर ऐसी व्यितथा तथावपि करना जिससे न्यूनिर् र्िदूरी और काया जतथनियों संबंधी कानून िियाजन्िि हो सके । र्िदूरों की भलाई या सुरक्षा के काया र्ें धचिकत्सा सेिाएं, चोर् लगने पर र्ुआििा, बीर्ा, प्रोविडेंर् फं ड, पेंिन लाभ भी िाशर्ल हैं। असंगठिि र्िदूरों के क्षेत्र र्ें विविध िरह के काया और व्यिसाय होने के कारण उनकी सुरक्षा के शलए कोई एक छािानुर्ा कानून बनाना सरल काया नहीं है। इनर्ें से कु छ र्हत्तिपूणा काया ननम्न हैं— कृ वि र्िदूर, िन र्िदूर, र्छली कार्गार, ररक्िा चालक, रेहड़ी पर्री पर सार्ान बेचने िाले, अपने घर र्ें िरह-िरह के कार् करने िाले र्िदूर या कारीगर, दूसरों के घर र्ें कार् कर रहे घरेलू कार्गार, ननर्ााण र्िदूर, सफाईकर्ी, कू ड़ा बीनने िाले, दुकानों ि व्यापार तथलों र्ें कार् करने िाले र्िदूर आठद। इन विविध िरह के कायों के शलए एक कानून से सुरक्षा देने र्ें कठिनाई िो है, पर इसके बाििूद इन सब कायों के शलए कर् से कर् कु छ सुरक्षा देने िाला एक छािानुर्ा कानून बनाना आिश्यक है। यठद ऐसा कानून नहीं होगा, िो िफर बहुि से विविध कायों के शलए अलग-अलग कानून बनाने होंगे, जिसर्ें काफी लंबा सर्य लग िाएगा। श्रर् र्ंत्रालय की विशभन्न ररपोर्ों र्िदूरों को सुरक्षा देने के शलए एक सर्ग्र कानून बनाने की बाि उिािी रही हैं। अंिि: दूसरे श्रर् आयोग को यह जिम्र्ेदारी सौंपी गई िक िह असंगठिि र्िदूरों के शलए छािानुर्ा कानून का प्रारूप िैयार करे।
  2. 2. श्रर् आयोग के अनुसार असंगठिि क्षेत्र के शलए बनाए िाने िाले कानून के उद्देश्यों र्ें र्िदूरों के शलए पहचान पत्र, न्यूनिर् आधथाक सुरक्षा, न्यूनिर् सार्ाजिक सुरक्षा, गरीबी दूर करने र्ें र्दद करना, बाल र्िदूरी सर्ाप्ि करना और बच्चों का बेहिर भविष्ट्य बनाना, र्िदूरों के सदतय आधाररि संगिन बनाने को प्रोत्साहन िथा ननणाय प्रििया र्ें असंगठिि र्िदूरों के संगिन के र्ाध्यर् से र्िदूरों का प्रनिननधधत्ि सुननजश्चि होना चाठहए। श्रर् आयोग ने तिात्य सेिा, र्ािृत्ि सुरक्षा और छोर्े बच्चों की देख-रेख, प्रोविडेंर् फं ड का लाभ, पररिार संबंधी लाभ, आिास, पेयिल ि सफाई जतथनियों संबंधी लाभ, रोिगार के दौरान लगी चोर् के र्ुआििे संबंधी लाभ, अिकाि प्राजप्ि ि इसके बाद के लाभ (ग्रेच्यूर्ी, पेंिन, पररिार की पेंिन), आय अिान की सर्ाजप्ि या आय अिान की क्षर्िा न रहने की जतथनि र्ें कु छ सुरक्षा, र्िदूरों की शिक्षा ि कु िलिा बढ़ाने की तकीर्ें, बाल र्िदूरी हर्ाने की तकीर्ें, बंधक र्िदूरी हर्ाने की तकीर् ि अन्यायपूणा श्रर् संबंध हर्ाने के प्रयास िैसे र्ुद्दों को असंगठिि र्िदूरों की सार्ाजिक जतथनि र्ें िाशर्ल करने की शसफाररि की है। असंगठिि र्िदूर वििय से संबंधधि अनेक व्यजक्ियों से विचार-विर्िा और इस वििय पर गठिि एक अध्ययन दल के सुझािों पर सोच-विचार के बाद राष्ट्रीय श्रर् आयोग ने असंगठिि र्िदूरों के शलए छिरीनुर्ा कानून का प्रारूप सुझाया है, िथा अपनी ररपोर्ा र्ें इस कानून के अनेक प्रािधानों की शसफाररि की है। राष्ट्रीय श्रर् आयोग की ररपोर्ा िारी होने के बाद के न्द्रीय श्रर् र्ंत्रालय ने निंबर 2002 र्ें असंगठिि क्षेत्र के र्िदूरों पर एक राष्ट्रीय सेशर्नार आयोजिि िकया। इस सेशर्नार ने कानूनी पक्षों पर एक िकनीकी दल ननयुक्ि िकया। िकनीकी दल के सुझािों र्ें कहा गया है िक कृ वि र्िदूरों और असंगठिि क्षेत्र के र्िदूरों के शलए कानून बनािे िक्ि रोिगार ननयर्न, िहां भी संभि हो न्यूनिर् आय की गारंर्ी ि विशभन्न तकीर्ों को िैयार करने ि लागू करने र्ें र्िदूरों की भागीदारी पर वििेि ध्यान देना चाठहए। के न्द्र सरकार की भूशर्का नेिृत्ि ि सर्न्िय की है। सार्ान्यि: तकीर् राज्य ि के न्द्रिाशसि क्षेत्र के तिर पर कायााजन्िि होनी चाठहए। आधथाक संसाधन िुर्ाने र्ें, इनके वििरण र्ें, विशभन्न राज्य बोडों के र्ाध्यर् से इनका ऑडडर् करिाने र्ें के न्द्रीय सरकार की र्हत्तिपूणा भूशर्का है। न्यूनिर् र्िदूरी की व्यितथा कानून र्ें होनी चाठहए। राष्ट्रीय तिर पर एक न्यूनिर् र्िदूरी िय होनी चाठहए िािक िकसी भी राज्य की न्यूनिर् र्िदूरी इससे नीचे नहीं िा सके । िकनीकी दल ने कहा िक यह कानून पहले से र्ौिूद अन्य कानूनों िैसे िक रेड यूननयन अधधननयर्, र्िदूरों के र्ुआििे का अधधननयर्, सर्ान पाररश्रशर्क अधधननयर् इत्याठद के साथ लागू होगा। अि: इन कानूनों र्ें िो प्रािधान पहले से र्ौिूद हैं, उन्हें नए प्रतिाविि कानून र्ें दोहराने की िरूरि नहीं है। साथ ही सार्ाजिक सुरक्षा वििेिकर तिात्य, र्ािृत्ि लाभ, अपंगिा ि िृद्धाितथा के लाभ के शलए सािािननक सहायिा की आिश्यकिा हो िो िह भी उपलब्ध होनी चाठहए। ई.एस.आइ. ि प्रोविडेंर् फं ड की ििार्ान तकीर्ों का वितिार असंगठिि क्षेत्र िक होना चाठहए। तिरोिगार र्ें लगे व्यजक्ियों के शलए अन्य िरह की व्यितथा करनी होगी। असंगठिि क्षेत्र कु ल श्रर् िजक्ि का एक बड़ा ठहतसा है, अि: के न्द्र ि राज्य सरकारों की आय के एक ननजश्चि ठहतसे को इन र्िदूरों की सार्ाजिक सुरक्षा के शलए उपलब्ध करिाना आिश्यक है। एक ऐसी व्यितथा तथावपि करनी होगी, जिसर्ें र्िदूरों के भुगिान ननजश्चि िौर पर हो िाएं पर रोिगारदािाओं के शलए बहुि से फार्ा, रजितर्र, आठद औपचाररकिाओं का बोझ न बढ़े। रािग सरकार के ठदनों र्ें के न्द्रीय श्रर् र्ंत्रालय ने असंगठिि क्षेत्र र्िदूर के शलए कानून के कई ड्राफ्र् विचार हेिु िारी िकए थे। पर र्िदूर संगिनों को इनर्ें कई र्हत्िपूणा कशर्यां निर आ रहीं थीं। इन ििहों से असंगठिि र्िदूरों की र्ांगों को असरदार ि सुननयोजिि ढंग से आगे बढ़ाने के शलए कई सार्ाजिक कायाकिााओं, श्रर् संगिनों के कायाकिााओं
  3. 3. और कानूनविदों ने एक नई सशर्नि बनाई—-असंगठिि क्षेत्र के र्िदूरों की राष्ट्रीय अशभयान सशर्नि। इससे विशभन्न असंगठिि र्िदूरों के प्रनिननधधयों को एक सार्ान्य र्ंच शर्ला। इस सशर्नि की र्ांगों र्ें है- रोिगार एिं िेिन का ननयशर्िीकरण, सार्ाजिक सुरक्षा- ई.एस.आइ., पी.एफ.सी. पेंिन, प्राकृ निक संसाधनों पर अधधकार, यौन ठहंसा पर शिकायि कर्ेर्ी, न्यूनिर् र्िदूरी तिर। सशर्नि के अनुसार असंगठिि क्षेत्र के र्िदूर सकल घरेलू उत्पाद (िी.डी.पी.) का 65 प्रनििि योगदान करिे हैं। अि: कर्-से-कर् 3 प्रनििि राज्य और के न्द्रीय रािति उनकी सार्ाजिक सुरक्षा के शलए ननधााररि िकया िाए। असंगठिि क्षेत्र के र्िदूरों की भागीदारी सुननजश्चि करने के शलए ऊपर से नीचे िक बोडा के बत्रपक्षीय ढांचे की व्यितथा की िाए। िो भी बोडा बनाए िाएं, उनर्ें हर तिर पर र्ठहलाओं का कर् से कर् एक निहाई प्रनिननधधत्ि होना चाठहए। इस िरह सशर्नि के कई सुझाि हैं। यहााँ यह ध्यान रखना होगा िक असंगठिि क्षेत्र की कु छ श्रेणियणयों के र्िदूरों के शलए कु छ कानून पहले से र्ौिूद हैं। अि: नये कानून र्ें यह प्रािधान होना चाठहए िक िहां पहले से इस कानून से बेहिर लाभ र्िदूरों को शर्ले हुए हैं, उन्हें िारी रहना चाठहए। कु छ वििेिज्ञों का विचार है िक कृ वि र्िदूरों के शलए अलग कानून बनना चाठहए। यठद यह सुझाि र्ान शलया गया, िो दो कानूनों की िरूरि होगी। इधर 23 निंबर 2005 को भारिीय सार्ाजिक संतथान र्ें असंगठिि र्िदूरों की राष्ट्रीय अशभयान सशर्नि के द्िारा आयोजिि सेशर्नार र्ें देि के विशभन्न भागों से विशभन्न संगिनों से आए प्रनिननधधयों ने इस संबंध र्ें आंदोलन को आगे बढ़ाने के शलए अनेक सुझाि रखे। असंगठिि क्षेत्र र्ें 32 सालों से कार् कर रही संतथा सेिा की प्रनिननधध िाशलनी ने कहा िक कार् का अधधकार और सार्ाजिक सुरक्षा दो अलग र्ुद्दा है। दोनों को साथ लेकर नहीं चल सकिे। कार् के अधधकार के चक्कर र्ें सार्ाजिक सुरक्षा भी नहीं ले पाएंगे। हर्ें सार्ाजिक सुरक्षा पर अपना ध्यान कें ठद्रि करना चाठहए। गााँिों से पलायन कर िहरों र्ें आए र्िदूरों को विशिष्ट्र् पहचान संख्या उन्हें सार्ाजिक सुरक्षा हाशसल कर पाने र्ें काफी र्दद करेगी। शसतर्र शसशसशलया ने सुझाि ठदया िक र्ठहलाओं के शलए पेंिन की उम्र 40 ििा होनी चाठहए। िथा न्यूनिर् र्िदूरी को िीविका र्िदूरी (शलविंग िेि) कहा िाना चाठहए। अिोक अग्रिाल ने कहा िक अभी सरकार को इम्यूननर्ी दी गई है, पर कहीं कोई एकाउं र्ेबबशलर्ी नहीं है। विधेयक के अंदर अधधकाररयों को ििाबदेह बनाने की व्यितथा हो और ििाबदेही पूरी न करने पर सिा का तपष्ट्र् प्रािधान हो। यहााँ गौर करने की बाि यह है िक एक ओर इंतपेक्र्र राि खत्र् करने, अनािश्यक ननयर्ों को सर्ाप्ि करने िैसे कदर् उिाने की बाि की िा रही है। िहााँ असंगठिि र्िदूरों के शलए नये ननयर् बनाने की बाि करना िकिना िका संगि है? 1991 के आधथाक उदारीकरण से कई क्षेत्रों को काफी लाभ हुआ और फलि: इसी नीनि को आगे बढ़ािे हुए ननि नये-नये क्षेत्रों को ननयर्ों के बंधन से खोलने की प्रििया िारी है। ऐसे र्ें गरीबों को िीविका प्रदान करने िाले रोिगारों को ननयर्-कानूनों से बांधकर क्या हर् गरीबों के शलए और र्ुसीबि खड़ी करने नहीं िा रहे हैं? इसशलए असंगठिि क्षेत्र के शलए कानून बनािे िक्ि इिना ध्यान िरूर रखा िाना चाठहए िक नया कानून भ्रष्ट्र्ाचार और गरीबों के िोिण का औिार न बन िाए। उम्र्ीद की िानी चाठहए िक सभी पक्ष िल्द ही एक सिासम्र्ि ननष्ट्किा पर पहुाँचेंगे और गरीबों का िकदीर बदल सके ऐसा एक िोस विधेयक लेकर आएंगे।
  4. 4. 13 निम्बर 2010, नगरीय ननकायों र्ें ननराधश्रिों की सार्ाजिक सुरक्षा का सुननजश्चि करने हेिु सर्थान सेन्र्र फार डेव्लपर्ेंर् सपोर्ा भोपाल द्िारा नगर पाशलका दनिया के िाडा 22 र्ें ईदगाह के पीछे सार्ाजिक अंके क्षण ि िन सुनिाई का आयोिन िकया गया। िन सुनिाई र्ें नगर पाशलका दनिया क्षेत्र के 29 आिेदकों ने सार्ाजिक सुरक्षा पेंिन सम्बंधधि विशभन्न अननयशर्ििा और शिकायिों के प्रकरण एक तििंत्र पैनल के सर्क्ष प्रतिुि िकए गए। प्रकरणों की सुनिाईं नगर पाशलका अध्यक्ष श्रीर्नि कृ ष्ट्णा कु ििाह , र्ुख्य नगर पाशलका अधधकारी श्री ए.के .दुबे , नगर पाशलका शिक्षा सशर्नि प्रभारी श्री ठदलीप सोनी , तथानीय िाडा पािाद श्री सरर्न कु ििाह ,सार्ाजिक कायाकिाा राघिेन्द्र शसंह परठहि , फोडा फाउण्डेिन ठदल् ली के प्रनिननधध प्रोफे सर विष्ट्णु र्हापात्र एिं सर्थान भोपाल के ननदेिक डा . योगेि कु र्ार के सम्र्ुख की गई। ननिक्ि िन श्री रफीक िाह उम्र 56 ििा ननिासी िाडा 22 ने अपने शिकायि प्रतिुि करिे हुये बिाया िक सर्ति दतिािेि के साथ आिेदन िर्ा करने के बाििूद 1 ििा बीिने पर भी ननिक्ि पेंिन शर्लना प्रारम्भ नहीं हुई हैं , इसी प्रकार श्रीर्िी िरीना के पनि को गुिरे 1ििा से अधधक हुआ िकन्िु आिभी िह राष्ट्रीय पररिार सहायिा योिना के िहि सहायिा की आसलगाए इंििार कर रही है। 29 प्रकरणों र्ें अधधकिर प्रकरण विधिा पेंिन संबंधी थे। िबिक बा की प्रकरणों र्ें शर्लिी पेंिन बन्द कर ठदए िाने , पेंिन की राशि कर् ननधााररि दर से कर् िारी होने , आिेदन के साथ दतिािेंिों की कर्ी बिाकर प्रकरण लौर्ाने या विचार न िकए िाने , पेंिन का ननयशर्ि भुगिान न होने , पेंिन प्रकरण के ननराकरण र्ें अत्यधधक सर्य लगने की शिकायिें प्रतिुि की गई।
  5. 5. सामाजिक सुरक्षा र्ुख्य रूप से एक है सार्ाजिक बीर्ा गरीबी, बुढ़ापा, अपंगिा, बेरोिगारी और अन्य लोगों सठहि सार्ाजिक रूप से र्ान्यिा प्राप्ि की जतथनि, के णियखलाफ सार्ाजिक सुरक्षा या सुरक्षा प्रदान कायािर्. सार्ाजिक सुरक्षा के शलए उल्लेख कर सकिे हैं:  सामाजिक बीमा, िहां लोगों के योगदान को र्ान्यिा देने र्ें लाभ या सेिाओं एक बीर्ा योिना को प्राप्ि होिा है. इन सेिाओं को आर् िौर पर सेिाननिृवत्त के शलए प्रािधान िाशर्ल पेंिन , विकलांगिा बीर्ा , उत्तरिीिी लाभ और बेरोिगारी बीर्ा .  रखरखाव र्ुख्य रूप से रोिगार की रुकािर् सेिाननिृवत्त, विकलांगिा और बेरोिगारी सठहि, की घर्ना र्ें नकदी का वििरण आय  सार्ाजिक सुरक्षा के शलए जिम्र्ेदार प्रिासन द्िारा उपलब्ध कराई गई सेवाओं. विशभन्न देिों र्ें यह धचिकत्सा देखभाल, सार्ाजिक काया के पहलुओं और यहााँ िक िक औद्योधगक संबंध िाशर्ल हो सकिे हैं.  अधधक िायद ही कभी, िब्द भी बुनियादी सुरक्षा, एक र्ोर्े िौर पर करने के शलए बुननयादी िरूरिों िैसे-बािें करने के शलए उपयोग बराबर िब्द का उल्लेख िकया िािा है भोिन , ितत्र , आिास, शिक्षा , पैसे , और धचिकत्सा देखभाल . [ सार्ाजिकबीर्ा] रजितरी एक सरकार प्रायोजिि के रूप र्ें सार्ाजिक बीर्ा पररभाविि बीर्ा कायािर् है िक कानून द्िारा पररभाविि है, एक पररभाविि आबादी र्ें काया करिा है, और प्रीशर्यर् या द्िारा या प्रनिभाधगयों की ओर से भुगिान करों के र्ाध्यर् से वित्त पोविि.सहभाधगिा भी अननिाया है या कायािर् भारी है िक सबसे अधधक पात्र व्यजक्ियों को भाग लेने के शलए चुन पयााप्ि सजब्सडी दी िािी है. अर्ेररका र्ें, प्रोग्रार् है िक इस पररभािा को पूरा करने र्ें िाशर्ल सार्ाजिक सुरक्षा , धचिकत्सा , PBGC कायािर्, रेल सेिाननिृवत्त कायािर् , और राज्य प्रायोजिि बेरोिगारी बीर्ा कायािर् . [1] [ आयरखरखाि] यह पॉशलसी आर्िौर पर विशभन्न बार िब िे खुद के शलए देखभाल करने र्ें असर्था हैं पर आय के साथ एक िनसंख्या डडिाइन प्रदान करने के कायािर्ों के र्ाध्यर् से लागू िकया िािा है. आय अनुरक्षण कायािर् के पांच र्ुख्य प्रकार के संयोिन र्ें आधाररि है:
  6. 6.  सामाजिक बीमा, ऊपर र्ाना  लाभ मतलब परीक्षण ककया. इस वित्तीय जिन लोगों को भोिन, कपड़े और आिास िैसी बुननयादी िरूरिों, की ििह से किर करने र्ें असर्था हैं के शलए प्रदान की सहायिा है गरीबी बेरोिगारी, बीर्ारी, असर्थािा की ििह से या आय की कर्ी, या बच्चों की देखभाल. िबिक वित्तीय सहायिा भुगिान के रूप र्ें अक्सर है, सार्ाजिक कल्याण के शलए उन के पात्र आर् िौर पर तिात्य और शिक्षा नन: िुल्क सेिाओं का उपयोग कर सकिे हैं. सर्थान की राशि के शलए बुननयादी िरूरिों को किर िकया और पात्रिा अक्सर एक आिेदक के सार्ाजिक और वित्तीय जतथनि के शलए एक व्यापक और िठर्ल र्ूल्यांकन करने के शलए वििय काफी है. इन्हें भी देखें, आर्दनी के शलए सहायिा .  गैर अंशदायी लाभ. उदाहरण के शलए, सितत्र बलों के बुिुगा, विकलांग और बहुि पुराने लोगों के साथ लोग - कई देिों ने वििेि योिनाओं, योगदान के शलए कोई आिश्यकिा नहीं है और कोई साधन परीक्षण के साथ प्रिाशसि िरूरि की कु छ श्रेणियणयों र्ें लोगों के शलए, है.  वववेकाधीि लाभ. कु छ योिनाओं के एक अधधकारी के एक सार्ाजिक कायाकिाा के रूप र्ें, वििेक पर आधाररि हैं.  यूनिवससल या तपष्ट्र् लाभ भी demogrants रूप र्ें िाना. इन गैर अंिदायी र्िलब है या की िरूरि के एक पररिार भत्ते या न्यूिीलैंड र्ें सािािननक पेंिन (न्यूिीलैंड अधधिविािा के रूप र्ें िाना) के रूप र्ें, परीक्षण के बबना आबादी का पूरा िगों के शलए ठदए गए लाभ हैं. इन्हें भी देखें, अलातका तथायी कोि के लाभांि . [ सार्ाजिकसुरक्षा] सार्ाजिक सुरक्षा, या इन एिेंशसयों का एक संयोिन के र्ाध्यर् से राज्य, बािार, नागररक सर्ाि और पररिारों से उपलब्ध लाभ (या नहीं उपलब्ध हो) का एक सेर् को संदशभाि करिा है, व्यजक्िगि / घरों के शलए बहु आयार्ी कर् करने अभाि . इस अभाि बहु आयार्ी कर् सििय गरीब (िैसे बुिुगा, विकलांग) व्यजक्ियों और सििय प्रभाविि हो सकिा है गरीब व्यजक्ियों (िैसे बेरोिगार). इस व्यापक रूपरेखा इस अिधारणा को और अधधक सार्ाजिक सुरक्षा की अिधारणा की िुलना र्ें विकासिील देिों र्ें तिीकाया बनािा है. सार्ाजिक सुरक्षा अधधक ििों, िहां नागररकों की बड़ी संख्या को अपनी आिीविका के शलए औपचाररक अथाव्यितथा पर ननभार र्ें
  7. 7. लागू है. एक पररभाविि योगदान के र्ाध्यर् से, यह सार्ाजिक सुरक्षा प्रबंधधि िकया िा सकिा है. लेिकन, व्यापक प्रसार अनौपचाररक अथाव्यितथा के संदभा र्ें, औपचाररक सार्ाजिक सुरक्षा व्यितथाओं लगभग कार्कािी आबादी के वििाल बहुर्ि के शलए अनुपजतथि रहे. इसके अलािा, विकासिील देिों र्ें, राज्य के शलए गरीब लोगों के वििाल बहुर्ि पहुंच क्षर्िा अपने सीशर्ि संसाधनों के कारण सीशर्ि हो सकिी है. इस िरह के एक संदभा र्ें, कई एिेंशसयों िक सार्ाजिक सुरक्षा के शलए प्रदान कर सके नीनि पर विचार के शलए र्हत्िपूणा है. सार्ाजिक सुरक्षा का ढांचा इस प्रकार राज्य के शलए गैर सरकारी एिेंशसयों द्िारा विननयर्न सबसे गरीब िगों के शलए प्रदान जिम्र्ेदार धारण करने र्ें सक्षर् है. से सहयोगात्र्क अनुसंधान विकास अध्ययन संतथान 'instrumentalists के ' और 'कायाकिााओं': एक िैजश्िक पररप्रेक्ष्य से सार्ाजिक सुरक्षा पर बहस, दो व्यापक श्रेणियणयों र्ें सार्ाजिक सुरक्षा धगरािर् के शलए िक अधधिक्िाओं का सुझाि है. िका है 'instrumentalists' चरर् गरीबी असर्ानिा और असुरक्षा, विकास लक्ष्यों की प्राजप्ि र्ें बेकार है (एर्डीिी) िैसे िक. इस दृश्य र्ें सार्ाजिक सुरक्षा िगह िोणियखर् प्रबंधन िंत्र है िक अधूरे या लापिा (और अन्य) बीर्ा बािार के शलए क्षनिपूनिा करेगा र्ें एक बार है िक ननिी बीर्ा है िक सर्ाि र्ें एक और प्रर्ुख भूशर्का ननभा सकिे हैं िब िक, डाल के बारे र्ें है. 'कायाकिाा' िकों चरर् गरीबी असर्ानिा और असुरक्षा की हि देखने के शलए, सार्ाजिक अन्याय और संरचनात्र्क वििर्िा के लक्षण के रूप र्ें और नागररकिा का अधधकार के रूप र्ें सार्ाजिक सुरक्षा को देखिे हैं. लक्षक्षि कल्याण humanitarianism और एक 'गारंर्ी सार्ाजिक न्यूनिर्' िहां पात्रिा नकद या भोिन तथानान्िरण से परे फै ली हुई है और है, परोपकार. नहीं नागररकिा के आधार पर आदिा के बीच एक आिश्यक कदर् है [2] राष्ट्रीय प्रणाशलयों  राष्ट्रीय बीर्ा (यूके )  फ्ांस र्ें सार्ाजिक सुरक्षा  दक्षक्षण अफ्ीकी सार्ाजिक सुरक्षा एिेंसी  सार्ाजिक सुरक्षा (संयुक्ि राज्य अर्ेररका)  सार्ाजिक सुरक्षा (तिीडन)  सार्ाजिक सुरक्षा (ऑतरेशलया)  के न्द्रीय भविष्ट्य ननधध (शसंगापुर)
  8. 8.  राष्ट्रीय सार्ाजिक सुरक्षा (SISTEM Jaminan Sosial Nasional) प्रणाली (इन्डोनेशिया) [ संपाठदिउप सहारा अफ्रीका में सामाजिककायािर्ों] सार्ाजिक सुरक्षा उप सहारा अफ्ीका के शलए बहुि नहीं है और विकशसि होना अभी िक इस क्षेत्र की अथाव्यितथाओं और िोस के शलए गरीबी से ननपर्ने के प्रयास से कु छ की िृद्धध का र्िलब है िक इस जतथनि को भविष्ट्य र्ें बदल सकिा है िािा है.

×