Successfully reported this slideshow.
We use your LinkedIn profile and activity data to personalize ads and to show you more relevant ads. You can change your ad preferences anytime.

Shri Guru Nanak Dev Ji - Sakhi 045

128 views

Published on

http://spiritualworld.co.in सच्चे वैरागी बनने का उपदेश: श्री गुरु नानक देव जी ने उत्तर दिशा की यात्रा समाप्त कर दी| कुछ समय करतारपुर की संगतों का कल्याण करते रहें| करतारपुर से आप तलवंडी पहुंच गए| वहां पहुंचकर वेशाखी सम्वत १५७६ का मेला कटास राज जिला जेहलम में जाकर किया| वहां बहुत से सन्यासी एकत्रित थे| गुरु जी ने उनको समझाया कि जो लोग गृहस्थ के दुखों से डरकर भाग जाते हैं|
more on http://spiritualworld.co.in

Published in: Spiritual
  • Be the first to comment

  • Be the first to like this

Shri Guru Nanak Dev Ji - Sakhi 045

  1. 1. श्री गुर नानक देव जी ने उत्तर िदशा की यात्रा समाप कर दी| कुछ समय करतारपुर की संगतो का कल्याण करते रहे| करतारपुर से आप तलवंडी पहुंच गए| वहां पहुंचकर वेशाखी सम्वत १५७६ का मेला कटास राज िजला जेहलम मे जाकर िकया| वहां बहुत से सन्यासी एकित्रत थे| गुर जी ने उनको समझाया िक जो लोग गृहस्थ के दुखो से डरकर भाग जाते है| अपना घर-पिरवार छोड़ देते है व वैराग्य धारण कर लेते है वे मंद वैरागी होते है| िजसका फल भी कम होता है| 1 of 2 Contd…
  2. 2. परन्तु दूसरी ओर जो लोग परमात्मा की याद मे अपनी िलव जोड़े रखते है, घर के सभी सुखो को त्याग कर उपराम हो जाते है वे सच्चे वैरागी होती है| संन्यासी को सच्चा वैराग्य ही धारण करना चािहए| For more Spiritual Content Kindly visit: http://spiritualworld.co.in 2 of 2 End

×