Successfully reported this slideshow.
We use your LinkedIn profile and activity data to personalize ads and to show you more relevant ads. You can change your ad preferences anytime.

Bkkh

551 views

Published on

  • Be the first to comment

  • Be the first to like this

Bkkh

  1. 1. बी र ब ल की खि च ड़ी
  2. 2. सुनो ! सुनो .! सुनो ! बादशाह सलामत का ऐलान सुनो !
  3. 3. इस कड़ाके की सर्दी में जो कोई भी जमुना के ठंडे पानी में रात भर खड़ा रहेगा उसे इनाम दिया जाएगा।
  4. 5. जहाँपनाह ! एक ग़रीब आदमी का दावा है कि वो रात भर दरिया - ए - जमुना के पानी में खड़ा रहा ।
  5. 6. वो हमसे क्या चाहता है ?
  6. 7. हुज़ूर ! वो कहता है कि शाही ऐलान के मुताबिक उसे इनाम दिया जाए ।
  7. 8. उसके आस पास आग तो नहीं जल रही थी ?
  8. 9. नहीं हुज़ूर ! अलबत्ता कोसों दूर एक दिया टिमटिमा रहा था ।
  9. 10. ये उसी दिये की गर्मी सेंकता रहा होगा। इसीलिए इसे इनाम नहीं मिल सकता ।इसे वापस भेज दो।
  10. 11. जो हुकुम जहाँपनाह !
  11. 12. बीरबल !
  12. 13. जी , जहाँपनाह !
  13. 14. तुम्हारे हाथ की खिचड़ी खाए हमें एक ज़माना हो गया।हमें तुम्हारी खिचडी बहुत पसंद है।
  14. 15. अब कब खिलवाओगे ?
  15. 16. इसमें कौनसी बड़ी बात है महाबली ! आज ही खा लीजिए।
  16. 17. उँहुँ ! आज नहीं , कल तुम हमारे साथ शिकार पर चल रहे हो।वहीं खाएँगे ।
  17. 18. चलिए यही सही महाबली !
  18. 20. अरे ! तुम्हारी उस खिचड़ी का क्या हुआ बीरबल ?
  19. 21. खिचड़ी मैंने चढ़ा दी है हुज़ूर ! बस कुछ ही देर में तैय्यार हुई जाती है।
  20. 22. ये तो तुम कई बार कह चुके हो।
  21. 23. बस , थोडा सब्र महाबली !
  22. 24. नहीं , बीरबल ! अब सब्र नहीं होता।
  23. 25. अहह ! शिकार में भूख कुछ ज़्यादा ही लगती है ।
  24. 26. और तुम हो कि बातों से पेट भर रहे हो ।
  25. 27. बस एक आँच की कसर बाकी है महाबली !
  26. 28. चलो , तुम्हारे खेमे में चल कर देखते हैं कि खिचड़ी में कितनी कसर बाकी है ?
  27. 30. ये क्या बीरबल ! ये ऊपर बाँसों पर हाँडी कैसे लगी है ?
  28. 31. इसमें तो आपके लिए खिचड़ी पक रही है ।
  29. 32. खिचडी पक रही है !
  30. 33. तभी तो हम कहें कि खिचड़ी पकने में इतना वक़्त क्यों लग रहा है ?
  31. 34. बीरबल हमें भूख लगी है और तुम्हें मज़ाक सूझ रहा है !
  32. 35. जैसे गरीब जमना नदी में खडे होकर कोसों दूर टिमटिमाते दिए से सेंक ले सकता है | वैसे --
  33. 36. हँ हँ हँ ! हम तुम्हारा इशारा समझ गए।उस गरीब आदमी को ज़रूर इनाम मिलना चाहिए ।
  34. 37. लेकिन हम तुम्हारी अकलमंदी के भी क़ायल हुए।
  35. 38. जिस होशियारी से तुमने हमें हमारी गलती का अहसास दिलाया है—वाक़ई ! तुम्हारी खिचडी मज़ेदार है बीरबल !

×