Successfully reported this slideshow.
We use your LinkedIn profile and activity data to personalize ads and to show you more relevant ads. You can change your ad preferences anytime.

Navratre

419 views

Published on

  • Be the first to comment

  • Be the first to like this

Navratre

  1. 1. नवरा�े माँ पाव्त, माँ ल�मत व माँ सरसव्त क नौ सववपु क पपा ् ा ादु पर �वपय र े का �्त् क अि्�र� और भत महतव रर्े हहै रगुिलय एवम ् जयुि्ततय �वचारधारा े क अनसार एक साल मे �ृथवत पर ाु महतवपूर सयर �भाव पव्े हे ् ा थ्ॠत का े िनधाररू भत उन ाु �भावु से हु्ा हह �पस �ाशा मे सयर पा्ा �्त् हु्ा हहै एक बार पब सयर �वतवव रेरा क ा�कू मे पा्ा हह (ा�कूायन) ्ब सयर बह् ्त�ू नहह े हु्ा ् ा वायमतडल मे काफ़ आ�्ा ् ा नमत रह्त हहै ासरह बार पब सयर �वतवव रेरा क उवर क ्रफ़ पा्ा हह (उवरायू), यहात सयर ्त�ू हु्ा हह ् ा वायमतडल मे े आ�्ा या नमत कम हु पा्त हहै पहला शत् थ् क शववा् ब्ला्ा हह ् ा ासरा तीम थ् क ै यह ाु थ्ॠत क सतिध मानव �पा्त पर शारह�रक एवम ् मानिसक रप से �्तकल �भाव डाल्त हह ै इन अत्राल मे पब थ्ॠत क स�नध क बेला हु्त हह और पब मानव शारह�रक एवम ् मानिसक रप से ाबल हु पा्ा हह, मात ागार क समस् रपु क पपा अचना करने का र े र �ावधान हह ै एक थ् स�नध चह� मास क शुल पक क �ि्पाा से नवमत ्क हु्त हह �पसे राम े नवरा�त भत कह्े हे ् ा ासरह स�नध अ��न मास क शुल पुक क �ि्पाा से े नवमत ्क हु्त हह �पसे ागार नवरा�त भत कह्े हेै जयुि्त क माधयम मे थ् स�नध कु विगरकृ् करना ् ा आयव�ा क माधयम से उन े े समभा�व् रुगु का उनमलन करना यह नवरा�ु क पत अवधारूा हहै नवरा�ु क नौ �ान ्तन ाे वतयु, पाव्त, ल�मत, एवम ् सरसव्त क नौ सववपु क पपा क े र े पा्त हह, �पसमे पहले �ान पाव्त क ्तन सवरप ( पु राह क अिधपि् मानत पा्त हह र े ् ा �पनक उपार से राह क नकारातमक �भाव पा्े रह्े हे ) अगले ्तन �ान ल�मत े मात क सववपु (पु श� क अिधपि् मानत पा्त हे ् ा सर, आनना ् ा माया क े ाायक हे) और आ�ररह क �ान सरसव्त मा्ा (पु आकाािमक िशका क ाायक हह) क े े ्तन सववपु क पपा क पा्त हहै यह पपाय� य�ा �विध �वधान से समपनन क पाय� ्ु समस् ाेवतयु का पा्क कु आशतवारा �ाा हु्ा हह ् ा वह ससार मे वयाा नकारातमक उपार से लडने मे सम र हु त पा्ा हहै
  2. 2. � म ागार - �त शहलप�त - इनक पपा करने से मलाधार च� पा ् हु्ा हहै कणडलत मे य�ा �बमारह क युग हु्े हे ्ु वे भत कतू हु पा्े हेै े ��्तय ागार - �त ��चा�रूत - इनक उपासना से मनीय मे ्प, तयाग, वहरागय, सााचार क व�ह हु्त हह ् ा मन क्वय प ृ र से �वचिल् नहह हु्ाै कणडलत मे मन �क्ना भत ाबरल हु, इनक पपा करने से बलवान हु्ा हहै ��्तय ागार - �त चन��नना - इनक पपन से साधक कु म�ूपर च� क पा ् हुने े े वालत िस��यात सव्: �ाा हु पा्त हे ् ा सातसा�रक क�ु से म�� िमल्त हहै कणडलत य�ा उपार क कमत �ारला्त हह ्ु इस �ान पपा करने से वह भत �ाा हु पा्त हहै च् र ागार - �त कृीमातडा: - इनक उपासना से अनाह् च� प ि् �क िस��यात �ाा हु्त हहै कणडलत मे य�ा कुो रुग या शुक वयाा हह ्ु इस �ान उपसना करने से यह सब ार हु्ा हह ् ा आय, यश, बल और आरुगय क व�� हु्त हहै ृ पतचम ागार - �त सका मा्ा - इनक अराधना से �वश� च� से पा ् हुने वालत त िस��यात सव्: �ाा हु पा्त हे ् ा मृतय लुक मे हह साधक, चाहे उसक कणडलत मे �क्ने अवगू ुयु न हु, परम शा�न् और सर का अनभव करने लग्ा हह ै उसके िलये मुुक का �ार सवमेव सलभ हु पा्ा हह ै तदम ् ागार - �त कातयायनत - �त कातयायनत क उपासना से आआा च� पगि् �क ृ िस��यात साधक कु सवमेव िमल पा्त हेै वह इस लुक मे रह कर भत अलौ�कक ्ेप और �भाव से म� हु पा्ा हह ् ा उसक रुग, ाुत, सत्ाप, भय आ�ा सवर ा क िलये े े न� हु पा्े हेै साम ागार - �त कालरा�त - नवरा�त क साम �ान इनक पपा और अचना क पा्त हहै े र �त कालरा�त क साधना से साधक कु भानच� क िस��यात सवमेव िमल पा्त हेै कणडलत मे �ववमान �कसत �कार क अिनद रुगु से े नकारा िमल सक्ा हहै अ�म ागार - �त महागौरह - नवरा�त क अ�म �ान �त महागौरह क अराधना क पा्त े हह, �पससे सुम च� पा ि् क िस��यात �ाा हु्त हहै कणडलत मे �ववमान असतभव युग भत सतभव हु पा्े हह ै नवम ् ागार - �त िस��ाा�त - नवरा�त क नवम �ान �त िस��ाा�त क पपा क पा्त हह े �पससे साधक कु सभत िस��यात �ाा हु पा्त हे ै सृ�� मे क भत उसक िलये अगमय े
  3. 3. नहह रह पा्ाै य�ा �विध �वधान का धयान रर्े हए उपरु� ाे�वयु क स्ि् �मश: क पायेगत ्ु गुचर एवम कणडलत से उतपनन हुने वाले भय इतय�ा से पा्क म� हु प्ा हह ् ा उसमे �ववमान कणडलत मे क�न�् �विभनन ाुत भत पा्े रह�गेै े ……………………………………… ै ॐ ै ……………………………………………

×