SlideShare a Scribd company logo
1 of 8
Download to read offline
हभ ऄऩने काभ औय ननजी जीवन को संतुलित कयने भें फरृत सायी उजाा खर्ा कयते हैं , िेककन मह बूि जाते हैं
कक शायीरयक संतुिन की हभायी सभझ ककतनी भहत्वऩूणा है। मह वह जगह है जहां मोग संतुिन फनाता है क्योंकक मह
अऩको ऄऩनी दैननक गततकवनधमों भें स्थियता खोजने भें भदद कयता है - शायीरयक औय भानलसक दोनों रूऩ से। संतुलित
भुद्राएं हभें र्ोटों से फर्ा सकती हैं, हभाये ध्यान भें सुधाय कय सकती हैं औय तनाव को दूय कयने भें भदद कय सकती हैं।
क्या अऩ जानते हैं कक हभाये शायीरयक संतुिन को फनाए यखना कवभबन्न शायीरयक प्रणालिमों क
े फीर् एक फरृत
ही जकटि ऄंतःकिमा है ? स्पशा की बावना , अंतरयक कान भें वेस्टिफुिय प्रणािी , औय हभायी दृष्टि की बावना सबी
नभिकय संतुिन फनाने का काभ कयती हैं।
भुझे मकीन है कक अऩने ककसी बफिंदु ऩय फपय से ऄऩना संतुिन खोजने क
े लिए संघषा ककमा है। अऩ मह बी
जानते हैं कक एक ऩैय ऩय खडे होने क
े लिए ईसे ठोकय खाने मा नगयने से फर्ाने क
े लिए क
ु छ हद तक संतुिन की
अवश्यकता होती है।
क
ु छ ऐसे खेि बी हैं लजनभें ऄततरयक्त संतुिन की अवश्यकता होती है। िेककन हभें ऄऩनी दैननक गततकवनधमों भें
संतुलित यहने की अवश्यकता है, जैसे र्िना, सीब़िमााँ ऱ्िना, मा ककयाने का साभान िोय से घय िे जाना।
ऄच्छी खफय मह है कक मोग भुद्रा को संतुलित कयने भें भदद कय सकता है। जफकक ननमनभत मोग ऄभ्यास
अऩको ऄऩनी सभग्र शनक्त औय स्थियता भें सुधाय कयने भें भदद कयता है , क
ु छ असन कवशेष रूऩ से अऩक
े संतुिन को
फेहतय फनाने क
े ईद्देश्य से हैं। हािांकक , संतुिन हय र्ीज की क
ुं जी है। हभ जो कयते हैं , सोर्ते हैं , कहते हैं , खाते हैं ,
भहसूस कयते हैं ईसक
े लिए जागरूकता की जरूयत होती है औय आसी जागरूकता से हभ अगे फ़ि सकते हैं।
1. मॊग संतुलन क
े क्या लाब हैं?
मोग की एक कवस्तृत कवकवधता है जो हभें ऄनधक स्थियता औय संतुिन खोजने भें भदद कयती है। अऩ शामद
ऩहिे खडे संतुिन भुद्रा औय फांह संतुिन क
े फाये भें सोर्ते हैं। िेककन मोग भें फैिेंस ऩोज़ बी होते हैं लजनका ऄभ्यास
फैठकय ककमा जाता है। ध्यान दें कक व्युत्क्रभ बी संतुलित हैं। जफकक प्रत्येक भुद्रा का ऄऩना कवलशि िाबकायी प्रबाव होता
है, सबी मोग संतुिन क
े क
ु छ साभान्य िाब होते हैं।
 शायीरयक लाब
मोग भें भुद्रा को संतुलित कयने से हभाये शायीरयक औय भानलसक स्वास्थ्य दोनों ऩय सकायात्मक प्रबाव ऩडता है।
हभाये शयीय भें, वे हभें ऄऩनी भांसऩेलशमों को भजफूत औय िंफा कयने भें भदद कयते हैं , औय हभाये गुरुत्वाकषाण क
े क
ें द्र
को ढूंढते हैं। फैिेंस ऩोज़ क
े ननमनभत ऄभ्यास से शयीय क
े फैिेंस रयसेप्टसा क
े कामा भें सुधाय हो सकता है। मे अंतरयक
कान भें वेस्टिफुिय लसिभ भें स्थित होते हैं औय ऐसी जानकायी प्रदान कयते हैं जो शयीय को संतुलित यहने भें सक्षभ
फनाती है।
हभाये शयीय भें दो प्रकाय क
े संतुिन रयसेप्टसा होते हैं: गततशीि औय स्थिय। गततशीि संतुिन रयसेप्टसा योटेशन ,
त्वयण औय ननष्क्रिमता जैसी किमाओं क
े जवाफ भें शयीय की स्थितत क
े फाये भें जानकायी प्रदान कयते हैं। दूसयी ओय , स्थिय
संतुिन रयसेप्टसा, गुरुत्वाकषाण क
े संदबा भें शयीय की स्थितत को ऩहर्ानते हैं, र्ाहे हभ सीधे खडे हों मा िेट यहे हों।
 भानससक लाब
िेककन संतुिन की ऄच्छी सभझ होना क
े वि एक ऩैय ऩय खडे होने से कहीं ऄनधक है। शायीरयक स्थियता क
े
ऄिावा, मोग संतुिन हभें भानलसक औय बावनात्मक स्थियता खोजने भें बी भदद कयता है।
शांत यहने औय संतुलित भुद्रा भें ध्यान क
ें फद्रत कयने से पोकस भें सुधाय होता है औय तनाव दूय कयने भें भदद
नभिती है। ऐसा आसलिए है क्योंकक अऩको ध्यान क
ें फद्रत कयने औय सतक
ा यहने की अवश्यकता है ताकक अऩ ठोकय
खाकय नगय न जाएं। थोडी देय क
े लिए स्थिय यहने क
े लिए अऩको फाहयी ईत्तेजनाओं को ऄनदेखा कयना सीखना होगा।
आस प्रकाय, कवशेष रूऩ से कफठन ऩरयस्थिततमों भें, मोग भुद्राओं को संतुलित कयना भानलसक औय बावनात्मक रूऩ
से भजफूत यहने का एक शानदाय तयीका है। आसलिए अऩको मोगा भैट क
े फाहय फैिेंलसिंग ऩोज से बी पामदा होता है। वे
अऩको धैमा, शांतत औय जागरूकता क
े साथ जीवन का रुख कयने भें सक्षभ फनाते हैं। मोग भुद्रा को संतुलित कयने क
े
िाब अऩको शायीरयक औय भानलसक दोनों रूऩ से प्रबाकवत कयते हैं।
2. मॊग भुद्रा भें अऩने संतुलन कॊ फेहतय फनाने क
े सलए 10 टिप्स
कइ सांसों क
े लिए संतुिन भुद्रा भें यहना र्ुनौतीऩूणा हो सकता है। ऄच्छी खफय मह है कक धैमा औय ननमनभत
ऄभ्यास से जल्द ही अऩक
े संतुिन की बावना भें सुधाय होगा औय अऩको ईऩिब्धि का ऄहसास होगा। मह आस प्रकाय
की मोग भुद्रा को शुरुअती िोगों क
े लिए कवशेष रूऩ से संतोषजनक फनाता है।
अऩक
े मोग ऄभ्यास क
े लिए ऄऩना संतुिन सुधायने भें अऩकी भदद कयने क
े लिए महां 10 मुनक्तमां दी गइ हैं।
1. आधाय से शुरू कयें
मद्यकऩ मह िगबग हय असन ऩय िागू होता है , मह मोग भुद्रा को संतुलित कयने क
े लिए कवशेष रूऩ से भहत्वऩूणा
है। हभेशा जभीन से उऩय की ओय ऩोज फनाएं। ऩैयों, फपय उऩयी शयीय औय फाहों को संयेष्टखत कयक
े शुरू कयें।
आसक
े ऄिावा, सुननश्चित कयें कक अऩको ऩहिे जभीन क
े साथ स्पशा की ऄच्छी सभझ हो। ऄऩने ऩैयों , हाथों, पोयअर्म्ा,
मा जो बी भुद्रा अऩ ऄभ्यास कयना र्ाहते हैं, ईसक
े अधाय क
े साथ जभीन भें जडें जभा िें। ऄंततभ र्यण क
े रूऩ भें, लसय
क
े भाध्यभ से कवस्ताय कयें।
2. अऩनी िकिकी कॊ ठीक कयें
संतुिन फनाने की कोलशश कयते सभम , ऄऩनी ननगाह एक ऐसे बफिंदु ऩय कटकाए यखें जो फरृत अगे न हो औय
जो फहिता न हो। मोग भें, आसे द्रष्टि कहा जाता है औय मह एकाग्र बाव कवकलसत कयने का एक साधन है।
3. अऩना सभम लें
ऄऩने मोग संतुिन भें धीये-धीये औय होशऩूवाक अगे फ़िें , क्योंकक ऄर्ानक हिर्िें अऩको संतुिन से फाहय कय
सकती हैं औय अऩको डगभगाने औय नगयने दे सकती हैं। मफद अऩ धैमा औय जागरूकता क
े साथ संतुिन की भुद्रा भें अ
जाते हैं तो मह फरृत असान है। जल्दफाजी भें भुद्रा भें प्रवेश कयने से अऩको ऄऩना संतुिन खोने का खतया होता है।
आसक
े ऄिावा, एक फाय खो जाने क
े फाद, ऄऩना संतुिन फपय से हालसि कयना फरृत कफठन होता है।
4. सभथथन प्राप्त कयें
क
ु छ फाहयी सहामता प्राप्त कयने भें क
ु छ बी गित नहीं है। ईदाहयण क
े लिए , अऩ दीवाय मा क
ु सी क
े ऩास
ऄभ्यास कय सकते हैं। आस तयह अऩ ऄऩने हाथों को दीवाय मा क
ु सी ऩय यख सकते हैं। अऩ दीवाय क
े ष्टखिाप ऄऩनी
ऩीठ क
े साथ संतुिन फनाने का ऄभ्यास बी कय सकते हैं। एक ऄन्य संबावना मह है कक अऩ ककसी साथी मोगी से
सभथान औय स्थियता क
े लिए अऩका हाथ फ़िाने क
े लिए कहें।
5. अऩनी सांस ऩय ध्यान दें
एक शांत औय स्थिय सांस अऩको स्थिय यहने भें फरृत भदद कय सकती है। लजतना फेहतय अऩ ऄऩनी सांस ऩय
ध्यान क
ें फद्रत कयने भें सक्षभ होंगे, आन मोग भुद्राओं भें संतुिन फनाना ईतना ही असान होगा।
6. डयॊ भत
हािांकक डय हभें संबाकवत खतयों से फर्ाने क
े लिए एक फरृत ही ईऩमोगी र्ेतावनी संक
े त है , मह ऄक्सय हभायी
सफसे फडी फाधाओं भें से एक है। नीर्े नगयने से डयने की कोलशश न कयें। फस्टि एक र्ंर्ि यवैमा ऄऩनाएं औय खुद को
फरृत गंबीयता से न िें। सीखने की प्रकिमा का अनंद िें। हय फाय जफ अऩ ऄऩने मोग ऄभ्यास भें संतुिन की भुद्रा से
फाहय हो जाते हैं, तो ननयाश होने क
े फजाम, हंसें औय ऩुनः प्रमास कयें।
7. अऩनी क
ें द्र येखा से अवगत यहें
मोग संतुिन भें, ऄऩनी जागरूकता को शयीय की क
ें द्र येखा ऩय िाना कवशेष रूऩ से भहत्वऩूणा है। मह लसय क
े क
ें द्र
से गदान औय धड क
े भाध्यभ से खडी येखा है।
आसक
े ऄिावा, लसय की स्थितत औय गतत ऩय कवशेष ध्यान दें। ऐसा आसलिए है क्योंकक अऩक
े संतुिन रयसेप्टसा अंतरयक
कानों भें वेस्टिफुिय लसिभ भें स्थित हैं।
8. ऩैयों क
े क
ू ल्हे की चोडाई कॊ अलग यखें
मफद अऩको ऄऩने ऩैयों को एक साथ संतुलित कयने भें कफठनाइ होती है , तो ऄऩने ऩैयों को क
ू ल्हे की दूयी से
ऄिग मा ईससे बी र्ौडा यखें। अऩ धीये-धीये ऄऩने ऩैयों को एक साथ जोड सकते हैं क्योंकक अऩ आन ऩोज़ भें ऄनधक
संतुिन प्राप्त कयते हैं।
9. धैमथ यखें
कोइ बी गुरु क
े रूऩ भें ऩैदा नहीं होता है। मफद अऩ ऩहिे प्रमास भें मोग भें एक नइ संतुिन भुद्रा का प्रफंधन नहीं
कयते हैं, तो लर्िंता न कयें। माद यखें कक हय ककसी को कहीं न कहीं से शुरुअत कयनी होगी। औय अऩ ननमनभत ऄभ्यास
क
े बफना क
ु छ बी हालसि नहीं कयेंगे - जैसा कक मोग औय जीवन भें ऄक्सय होता है। आसलिए, मफद अऩ एक फदन संतुिन
से फाहय हो गए हैं, तो ऄगिे फदन फपय से प्रमास कयें। औय ककसी बफिंदु ऩय, जादू होगा!
10. आयाभ कयॊ
माद यखें अष्टखय मह लसप
ा मोग है। अऩको ककसी को क
ु छ बी साबफत कयने की जरूयत नहीं है। मह अऩका
ऄभ्यास औय अऩकी मात्रा है। मोग संतुिन की भुद्रा भें डगभगाना मा नगयना दुननमा का ऄंत नहीं है। तो , ऄऩने फदभाग
को शांत यखें, ऄऩने मोग ऄभ्यास का अनंद िें, औय मोग भुद्रा भें संतुिन फनाने की ऄऩनी मात्रा का अनंद िें।
ऩूये शयीय क
े संतुलन औय स्थियता भें सुधाय क
े सलए 14 िामी मॊग भुद्राए
ं
01. ताडासन (भाउंिेन ऩॊज़)
 िंफा खडे हो जाएं , औय ऄऩने क
ं धों को ऩीछे की ओय जाने दें।
 भहसूस कयें कक अऩका लसय असभान की ओय ष्टखिंर्ा रृअ है।
 एक गहयी सांस ऄंदय िें, ऄऩनी फाहों को असभान की ओय ऩरृंर्ाएं। एक दो सांस क
े लिए रुक
ें ।
02. वृक्षासन (ट्री ऩॊज़)
 खडे होने की स्थितत भें शुरू कयें।
 ऄऩने फाएं ऩैय से नीर्े ईतयें। ऄऩने दाफहने घुटने को भोडें, औय ऄऩने दाफहने ऩैय को ऄऩने फाएं टखने, ऄऩने ऩैय क
े
ननर्िे फहस्से, मा जांघ ऩय िे अएं।
 ऄऩनी बुजाओं को अकाश की ओय तानें, मा ऄऩने हाथों को हृदम क
ें द्र की ओय िाएं। एक दो सांस क
े लिए रुक
ें ।
03. उत्तानासन (स्टैंडडिंग पॉयवडथ फेंड ऩॊज़)
 ऄऩनी बुजाओं को अकाश की ओय यखते रृए सीधे खडे हो जाएं।
 जैसे ही अऩ सााँस छोडते हैं , ऄऩने क
ू ल्हों ऩय ऄऩने उऩयी शयीय को अगे की ओय भोडें , मफद अवश्यक हो तो
ऄऩने घुटनों को भोडें।
 सांस िे। फपय सांस छोडते रृए ऩीठ को नीर्े कयें। एक दो सांस क
े लिए रुक
ें ।
04. अधथ चंद्र आसन (हाप भून ऩॊज़)
 ऄऩने हाथों क
े फीर् भें एक ऩैय से शुरू कयें औय ऄऩने फाएं ऩैय को ऩीछे की ओय फ़िा दें। ऄऩने साभने क
े ऩैय क
े
भाध्यभ से नीर्े ईतयें, औय ऄऩने फाएं ऩैय की ईंगलिमों ऩय ईठाएं।
 धीये-धीये ऄधा र्ंद्रासन भें ईठें, ऄऩनी फाहों को उऩय की ओय िाएं औय टकटकी को ऄऩने साभने यखें।
 क
ु छ गहयी सांसों क
े लिए रुक
ें ।
05. नियाजासन (लाडथ ऑफ़ द डांस ऩॊज़)
 खडे होने की स्थितत भें अने क
े लिए ऄऩने शयीय को योि कयें।
 ऄऩने फाएं ऩैय से नीर्े ईतयें। ऄऩने दाफहने ऩैय को ऄऩने ऩीछे भोडें। ऩैय को फडे ऩैय क
े ऄंगूठे से ऩकडें।
 ऄऩने फाएं हाथ को उऩय अकाश की ओय फ़िाएं। ऄऩने अऩ को अगे खींर्ो। जैसे ही अऩ खुिते हैं , ईस ऩैय को
ऄऩने हाथ भें दफाएं। क
ु छ सांसों को योककय यखें औय फपय भुद्रा से फाहय अ जाएं।
06. उत्थित टिकॊणासन (एक्सिेंडेड ट्रामंगल ऩॊज़)
 कवऩयीत वीयबद्रासन से, ऄऩने साभने क
े ऩैय को सीधा कयें।
 ऄऩनी फाहों को "T" स्थितत भें िाएं , फपय ऄऩने शयीय को अगे फ़िाएं औय ऄऩने दाफहने हाथ को ऄऩने दाफहने ऩैय
मा कऩिंडिी ऩय अयाभ दें।
 ऄऩने फाएं हाथ को उऩय असभान की तयप ईठाएं। एक दो सांस क
े लिए रुक
ें ।
07. ऩरयवृत्त टिकॊणासन (येवॊल्वड ट्रामंगल ऩॊज)
 बत्रकोणासन भुद्रा से, ऄऩने फाएं हाथ को र्टाइ ऩय नीर्े िाएं।
 ऄऩने धड को भोडें, औय ऄऩनी दाफहनी ओय खोिें।
 ऄऩनी दाफहनी बुजा को अकाश की ओय िे अएं , औय ऄऩनी ईाँगलिमों को उऩय की ओय देखें। क
ु छ सांसों क
े
लिए रुक
ें ।
08. टवऩयीत वीयबद्रासन (रयवसथ वॉरयमय ऩॊज़)
 वीयबद्रासन 1 भुद्रा से, फाएं हाथ को ऄऩने ऩीछे नीर्े िाएं औय आसे फाईं जांघ क
े ऩीछे अयाभ कयने दें।
 दाफहने फाआसेप्स को ऄऩने कान क
े ऩास यखते रृए ऄऩने हाथ को ऩीछे की ओय िे जाएं। ऄऩनी ईंगलिमों की ओय
देखते रृए, ऄऩनी यी़ि को धीये से भोडें।
 क
ु छ सांसों क
े लिए रुक
ें ।
09. वीयबद्रासन 1 (वॉरयमय 1 ऩॊज़)
 ऄधोभुख श्वानासन की स्थितत से, ऄऩने दाफहने घुटने को ऄऩनी नाक की ओय िाएं औय ऄऩने ऩैय को ऄऩने हाथों
क
े फीर् भें यखें।
 ऄऩने कऩछिे ऩैय को नीर्े कयें, औय ऄऩने धड को उऩय ईठाएं, एक मोद्धा क
े रूऩभे .
 ऄऩने साभने क
े घुटने को भोडें औय ऄऩनी फाहों को असभान की ओय ईठाएं। क
ु छ सांसों क
े लिए रुक
ें ।
10. वीयबद्रासन 2 (वॉरयमय 2 ऩॊज़)
 ऄऩनी ऩीठ की एडी को नीर्े की ओय भोडें औय ऄऩने शयीय को फगि की ओय खोिें। अऩका कऩछिा ऩैय थोडा
ऄंदय की ओय भुडना र्ाफहए। अऩका ऄगिा घुटना अऩक
े टखने क
े ठीक उऩय होना र्ाफहए।
 ऄऩनी ईंगलिमों ऩय नज़य यखते रृए, ऄऩनी फाहों को कवऩयीत फदशाओं भें उजाावान रूऩ से प
ै िाएं।
 क
ु छ सांसों क
े लिए रुक
ें ।
11. वीयबद्रासन 3 (वॉरयमय 3 ऩॊज़)
 वीयबद्रासन 1 स्थितत से, ऄऩने साभने क
े ऩैय से नीर्े ईतयें।
 कऩछिे ऩैय की ईंगलिमों को जभीन से सटाते रृए, ऄऩनी फाहों को ऄऩने ऩीछे की औय घुभाएं।
 ऩैय क
े ऄंगूठे से धड तक एक सीधी येखा फनाते रृए ऄऩने कऩछिे ऩैय को उऩय ईठाएं। एक दो सांस क
े लिए रुक
ें ।
12. उत्किासन (चेमय ऩॊज़)
 खडे होने की स्थितत से, ऄऩनी फाहों को अकाश की ओय ईठाएं।
 धीये-धीये ऄऩने क
ू ल्हों को वाऩस िाएं , जैसे कक अऩ ककसी काल्पननक क
ु सी ऩय फैठे हों।
 क
ु छ सांसों क
े लिए रुक
ें ।
13. इक ऩादा उत्किासन (हाप चेमय ऩॊज़)
 ऄऩनी र्टाइ ऩय खडे होने की स्थितत भें अ जाएं।
 ऄऩने फाएं ऩैय क
े भाध्यभ से नीर्े ईतयें। ऄऩने दाफहने घुटने को ईठाएं , औय ऄऩना ऩैय जांघ ऩय िगाएं।
 ऄऩने ऩैय को फ्लेक्स कयें, ऄऩने क
ू ल्हों ऩय कटकाएं , औय क
ु सी भुद्रा भें कभ कयें। कवऩयीत फदशा भें दोहयाएं।
14. भालासन (गायलैंड ऩॊज)
 खडे होने की स्थितत से, ऄऩनी फाहों को अकाश की ओय ईठाएं , फपय ऄऩने हाथों को जभीन ऩय िाते रृए अगे की
ओय झुक
ें ।
 ऄऩने ऩैयों को क
ू ल्हों-र्ौडाइ की दूयी से ऄिग कयें।
 ऄऩने घुटनों को भोडें, ऄऩने ऩैय की ईंगलिमों को फाहय ननकािें, औय धीये-धीये ननर्े की औय फैठे। एक दो सांस क
े
लिए रुक
ें ।

More Related Content

Similar to 14 standing yoga asanas to improve body balance and stability

7 effective yoga poses to increase your brain power
7 effective yoga poses to increase your brain power7 effective yoga poses to increase your brain power
7 effective yoga poses to increase your brain powerShivartha
 
How to do shavasana (corpse pose) and what are its benefits
How to do shavasana (corpse pose) and what are its benefitsHow to do shavasana (corpse pose) and what are its benefits
How to do shavasana (corpse pose) and what are its benefitsShivartha
 
7 yoga asanas which reduce more your belly fat than doing heavy exercise
7 yoga asanas which reduce more your belly fat than doing heavy exercise7 yoga asanas which reduce more your belly fat than doing heavy exercise
7 yoga asanas which reduce more your belly fat than doing heavy exerciseShivartha
 
7 yoga poses for deep sleep who are suffering from insomnia
7 yoga poses for deep sleep who are suffering from insomnia7 yoga poses for deep sleep who are suffering from insomnia
7 yoga poses for deep sleep who are suffering from insomniaShivartha
 
10 amazing yoga poses to increase height and grow taller naturally
10 amazing yoga poses to increase height and grow taller naturally10 amazing yoga poses to increase height and grow taller naturally
10 amazing yoga poses to increase height and grow taller naturallyShivartha
 
How to do viparita karani (legs up the wall pose) and what are its benefits
How to do viparita karani (legs up the wall pose) and what are its benefitsHow to do viparita karani (legs up the wall pose) and what are its benefits
How to do viparita karani (legs up the wall pose) and what are its benefitsShivartha
 
11 ways to gain your legs strong with yoga poses
11 ways to gain your legs strong with yoga poses11 ways to gain your legs strong with yoga poses
11 ways to gain your legs strong with yoga posesShivartha
 
These best 11 yoga asanas in every day for a healthy and vibrant life
These best 11 yoga asanas in every day for a healthy and vibrant lifeThese best 11 yoga asanas in every day for a healthy and vibrant life
These best 11 yoga asanas in every day for a healthy and vibrant lifeShivartha
 
How to do trikonasana (triangle pose) and what are its benefits
How to do trikonasana (triangle pose) and what are its benefitsHow to do trikonasana (triangle pose) and what are its benefits
How to do trikonasana (triangle pose) and what are its benefitsShivartha
 
How to do bharadvajasana (seated spinal twist pose) and what are its benefits
How to do bharadvajasana (seated spinal twist pose) and what are its benefitsHow to do bharadvajasana (seated spinal twist pose) and what are its benefits
How to do bharadvajasana (seated spinal twist pose) and what are its benefitsShivartha
 
How to do sirsasana (headstand pose) and what are its benefits
How to do sirsasana (headstand pose) and what are its benefitsHow to do sirsasana (headstand pose) and what are its benefits
How to do sirsasana (headstand pose) and what are its benefitsShivartha
 
10 easy yoga poses you can literally do in your bed, so no more excuses!
10 easy yoga poses you can literally do in your bed, so no more excuses!10 easy yoga poses you can literally do in your bed, so no more excuses!
10 easy yoga poses you can literally do in your bed, so no more excuses!Shivartha
 
How to do ananda balasana (happy baby pose) and what are its benefits
How to do ananda balasana (happy baby pose) and what are its benefitsHow to do ananda balasana (happy baby pose) and what are its benefits
How to do ananda balasana (happy baby pose) and what are its benefitsShivartha
 
How to do hanumanasana (monkey pose) and what are its benefits
How to do hanumanasana (monkey pose) and what are its benefitsHow to do hanumanasana (monkey pose) and what are its benefits
How to do hanumanasana (monkey pose) and what are its benefitsShivartha
 
7 yoga poses for a strong digestive system that improves your digestion
7 yoga poses for a strong digestive system that improves your digestion7 yoga poses for a strong digestive system that improves your digestion
7 yoga poses for a strong digestive system that improves your digestionShivartha
 
7 best yogasanas for strong & toned your arms
7 best yogasanas for strong & toned your arms7 best yogasanas for strong & toned your arms
7 best yogasanas for strong & toned your armsShivartha
 
7 yoga asanas that will help you fight depression
7 yoga asanas that will help you fight depression7 yoga asanas that will help you fight depression
7 yoga asanas that will help you fight depressionShivartha
 
How to do mayurasana (peacock pose) and what are its benefits
How to do mayurasana (peacock pose) and what are its benefitsHow to do mayurasana (peacock pose) and what are its benefits
How to do mayurasana (peacock pose) and what are its benefitsShivartha
 
These 13 yoga asanas will help you boost your fertility
These 13 yoga asanas will help you boost your fertilityThese 13 yoga asanas will help you boost your fertility
These 13 yoga asanas will help you boost your fertilityShivartha
 
How to do vajrasana (diamond pose) and what are its benefits
How to do vajrasana (diamond pose) and what are its benefitsHow to do vajrasana (diamond pose) and what are its benefits
How to do vajrasana (diamond pose) and what are its benefitsShivartha
 

Similar to 14 standing yoga asanas to improve body balance and stability (20)

7 effective yoga poses to increase your brain power
7 effective yoga poses to increase your brain power7 effective yoga poses to increase your brain power
7 effective yoga poses to increase your brain power
 
How to do shavasana (corpse pose) and what are its benefits
How to do shavasana (corpse pose) and what are its benefitsHow to do shavasana (corpse pose) and what are its benefits
How to do shavasana (corpse pose) and what are its benefits
 
7 yoga asanas which reduce more your belly fat than doing heavy exercise
7 yoga asanas which reduce more your belly fat than doing heavy exercise7 yoga asanas which reduce more your belly fat than doing heavy exercise
7 yoga asanas which reduce more your belly fat than doing heavy exercise
 
7 yoga poses for deep sleep who are suffering from insomnia
7 yoga poses for deep sleep who are suffering from insomnia7 yoga poses for deep sleep who are suffering from insomnia
7 yoga poses for deep sleep who are suffering from insomnia
 
10 amazing yoga poses to increase height and grow taller naturally
10 amazing yoga poses to increase height and grow taller naturally10 amazing yoga poses to increase height and grow taller naturally
10 amazing yoga poses to increase height and grow taller naturally
 
How to do viparita karani (legs up the wall pose) and what are its benefits
How to do viparita karani (legs up the wall pose) and what are its benefitsHow to do viparita karani (legs up the wall pose) and what are its benefits
How to do viparita karani (legs up the wall pose) and what are its benefits
 
11 ways to gain your legs strong with yoga poses
11 ways to gain your legs strong with yoga poses11 ways to gain your legs strong with yoga poses
11 ways to gain your legs strong with yoga poses
 
These best 11 yoga asanas in every day for a healthy and vibrant life
These best 11 yoga asanas in every day for a healthy and vibrant lifeThese best 11 yoga asanas in every day for a healthy and vibrant life
These best 11 yoga asanas in every day for a healthy and vibrant life
 
How to do trikonasana (triangle pose) and what are its benefits
How to do trikonasana (triangle pose) and what are its benefitsHow to do trikonasana (triangle pose) and what are its benefits
How to do trikonasana (triangle pose) and what are its benefits
 
How to do bharadvajasana (seated spinal twist pose) and what are its benefits
How to do bharadvajasana (seated spinal twist pose) and what are its benefitsHow to do bharadvajasana (seated spinal twist pose) and what are its benefits
How to do bharadvajasana (seated spinal twist pose) and what are its benefits
 
How to do sirsasana (headstand pose) and what are its benefits
How to do sirsasana (headstand pose) and what are its benefitsHow to do sirsasana (headstand pose) and what are its benefits
How to do sirsasana (headstand pose) and what are its benefits
 
10 easy yoga poses you can literally do in your bed, so no more excuses!
10 easy yoga poses you can literally do in your bed, so no more excuses!10 easy yoga poses you can literally do in your bed, so no more excuses!
10 easy yoga poses you can literally do in your bed, so no more excuses!
 
How to do ananda balasana (happy baby pose) and what are its benefits
How to do ananda balasana (happy baby pose) and what are its benefitsHow to do ananda balasana (happy baby pose) and what are its benefits
How to do ananda balasana (happy baby pose) and what are its benefits
 
How to do hanumanasana (monkey pose) and what are its benefits
How to do hanumanasana (monkey pose) and what are its benefitsHow to do hanumanasana (monkey pose) and what are its benefits
How to do hanumanasana (monkey pose) and what are its benefits
 
7 yoga poses for a strong digestive system that improves your digestion
7 yoga poses for a strong digestive system that improves your digestion7 yoga poses for a strong digestive system that improves your digestion
7 yoga poses for a strong digestive system that improves your digestion
 
7 best yogasanas for strong & toned your arms
7 best yogasanas for strong & toned your arms7 best yogasanas for strong & toned your arms
7 best yogasanas for strong & toned your arms
 
7 yoga asanas that will help you fight depression
7 yoga asanas that will help you fight depression7 yoga asanas that will help you fight depression
7 yoga asanas that will help you fight depression
 
How to do mayurasana (peacock pose) and what are its benefits
How to do mayurasana (peacock pose) and what are its benefitsHow to do mayurasana (peacock pose) and what are its benefits
How to do mayurasana (peacock pose) and what are its benefits
 
These 13 yoga asanas will help you boost your fertility
These 13 yoga asanas will help you boost your fertilityThese 13 yoga asanas will help you boost your fertility
These 13 yoga asanas will help you boost your fertility
 
How to do vajrasana (diamond pose) and what are its benefits
How to do vajrasana (diamond pose) and what are its benefitsHow to do vajrasana (diamond pose) and what are its benefits
How to do vajrasana (diamond pose) and what are its benefits
 

More from Shivartha

How to do virasana (hero pose) and what are its benefits
How to do virasana (hero pose) and what are its benefitsHow to do virasana (hero pose) and what are its benefits
How to do virasana (hero pose) and what are its benefitsShivartha
 
How to do vasisthasana (side plank pose) and what are its benefits
How to do vasisthasana (side plank pose) and what are its benefitsHow to do vasisthasana (side plank pose) and what are its benefits
How to do vasisthasana (side plank pose) and what are its benefitsShivartha
 
How to do utthita parsvakonasana (extended side angle pose) and what are its ...
How to do utthita parsvakonasana (extended side angle pose) and what are its ...How to do utthita parsvakonasana (extended side angle pose) and what are its ...
How to do utthita parsvakonasana (extended side angle pose) and what are its ...Shivartha
 
How to do utkatasana (chair pose) and what are its benefits
How to do utkatasana (chair pose) and what are its benefitsHow to do utkatasana (chair pose) and what are its benefits
How to do utkatasana (chair pose) and what are its benefitsShivartha
 
How to do ustrasana (camel pose) and what are its benefits
How to do ustrasana (camel pose) and what are its benefitsHow to do ustrasana (camel pose) and what are its benefits
How to do ustrasana (camel pose) and what are its benefitsShivartha
 
How to do urdhva dhanurasana (upward bow pose) and what are its benefits
How to do urdhva dhanurasana (upward bow pose) and what are its benefitsHow to do urdhva dhanurasana (upward bow pose) and what are its benefits
How to do urdhva dhanurasana (upward bow pose) and what are its benefitsShivartha
 
How to do tolasana (scale pose) and what are its benefits
How to do tolasana (scale pose) and what are its benefitsHow to do tolasana (scale pose) and what are its benefits
How to do tolasana (scale pose) and what are its benefitsShivartha
 
How to do supta virasana (reclining hero pose) and what are its benefits
How to do supta virasana (reclining hero pose) and what are its benefitsHow to do supta virasana (reclining hero pose) and what are its benefits
How to do supta virasana (reclining hero pose) and what are its benefitsShivartha
 
How to do supta padangusthasana (reclining hand to-big-toe pose) and what are...
How to do supta padangusthasana (reclining hand to-big-toe pose) and what are...How to do supta padangusthasana (reclining hand to-big-toe pose) and what are...
How to do supta padangusthasana (reclining hand to-big-toe pose) and what are...Shivartha
 
How to do supta matsyendrasana (supine spinal twist pose) and what are its be...
How to do supta matsyendrasana (supine spinal twist pose) and what are its be...How to do supta matsyendrasana (supine spinal twist pose) and what are its be...
How to do supta matsyendrasana (supine spinal twist pose) and what are its be...Shivartha
 
How to do supta baddha konasana (reclining bound angle pose) and what are its...
How to do supta baddha konasana (reclining bound angle pose) and what are its...How to do supta baddha konasana (reclining bound angle pose) and what are its...
How to do supta baddha konasana (reclining bound angle pose) and what are its...Shivartha
 
How to do simhasana (lion pose) and what are its benefits
How to do simhasana (lion pose) and what are its benefitsHow to do simhasana (lion pose) and what are its benefits
How to do simhasana (lion pose) and what are its benefitsShivartha
 
How to do purvottanasana (upward plank pose) and what are its benefits
How to do purvottanasana (upward plank pose) and what are its benefitsHow to do purvottanasana (upward plank pose) and what are its benefits
How to do purvottanasana (upward plank pose) and what are its benefitsShivartha
 
How to do pawanmuktasana (wind relieving pose) and what are its benefits
How to do pawanmuktasana (wind relieving pose) and what are its benefitsHow to do pawanmuktasana (wind relieving pose) and what are its benefits
How to do pawanmuktasana (wind relieving pose) and what are its benefitsShivartha
 
How to do padmasana (lotus pose) and what are its benefits
How to do padmasana (lotus pose) and what are its benefitsHow to do padmasana (lotus pose) and what are its benefits
How to do padmasana (lotus pose) and what are its benefitsShivartha
 
How to do padangusthasana (big toe pose) and what are its benefits
How to do padangusthasana (big toe pose) and what are its benefitsHow to do padangusthasana (big toe pose) and what are its benefits
How to do padangusthasana (big toe pose) and what are its benefitsShivartha
 
How to do natarajasana (lord of the dance pose) and what are its benefits
How to do natarajasana (lord of the dance pose) and what are its benefitsHow to do natarajasana (lord of the dance pose) and what are its benefits
How to do natarajasana (lord of the dance pose) and what are its benefitsShivartha
 
How to do jathara parivartanasana (two knee spinal twist pose) and what are i...
How to do jathara parivartanasana (two knee spinal twist pose) and what are i...How to do jathara parivartanasana (two knee spinal twist pose) and what are i...
How to do jathara parivartanasana (two knee spinal twist pose) and what are i...Shivartha
 
How to do halasana (plow pose) and what are its benefits
How to do halasana (plow pose) and what are its benefitsHow to do halasana (plow pose) and what are its benefits
How to do halasana (plow pose) and what are its benefitsShivartha
 
How to do eka pada rajakapotasana (one legged king pigeon pose) and what are ...
How to do eka pada rajakapotasana (one legged king pigeon pose) and what are ...How to do eka pada rajakapotasana (one legged king pigeon pose) and what are ...
How to do eka pada rajakapotasana (one legged king pigeon pose) and what are ...Shivartha
 

More from Shivartha (20)

How to do virasana (hero pose) and what are its benefits
How to do virasana (hero pose) and what are its benefitsHow to do virasana (hero pose) and what are its benefits
How to do virasana (hero pose) and what are its benefits
 
How to do vasisthasana (side plank pose) and what are its benefits
How to do vasisthasana (side plank pose) and what are its benefitsHow to do vasisthasana (side plank pose) and what are its benefits
How to do vasisthasana (side plank pose) and what are its benefits
 
How to do utthita parsvakonasana (extended side angle pose) and what are its ...
How to do utthita parsvakonasana (extended side angle pose) and what are its ...How to do utthita parsvakonasana (extended side angle pose) and what are its ...
How to do utthita parsvakonasana (extended side angle pose) and what are its ...
 
How to do utkatasana (chair pose) and what are its benefits
How to do utkatasana (chair pose) and what are its benefitsHow to do utkatasana (chair pose) and what are its benefits
How to do utkatasana (chair pose) and what are its benefits
 
How to do ustrasana (camel pose) and what are its benefits
How to do ustrasana (camel pose) and what are its benefitsHow to do ustrasana (camel pose) and what are its benefits
How to do ustrasana (camel pose) and what are its benefits
 
How to do urdhva dhanurasana (upward bow pose) and what are its benefits
How to do urdhva dhanurasana (upward bow pose) and what are its benefitsHow to do urdhva dhanurasana (upward bow pose) and what are its benefits
How to do urdhva dhanurasana (upward bow pose) and what are its benefits
 
How to do tolasana (scale pose) and what are its benefits
How to do tolasana (scale pose) and what are its benefitsHow to do tolasana (scale pose) and what are its benefits
How to do tolasana (scale pose) and what are its benefits
 
How to do supta virasana (reclining hero pose) and what are its benefits
How to do supta virasana (reclining hero pose) and what are its benefitsHow to do supta virasana (reclining hero pose) and what are its benefits
How to do supta virasana (reclining hero pose) and what are its benefits
 
How to do supta padangusthasana (reclining hand to-big-toe pose) and what are...
How to do supta padangusthasana (reclining hand to-big-toe pose) and what are...How to do supta padangusthasana (reclining hand to-big-toe pose) and what are...
How to do supta padangusthasana (reclining hand to-big-toe pose) and what are...
 
How to do supta matsyendrasana (supine spinal twist pose) and what are its be...
How to do supta matsyendrasana (supine spinal twist pose) and what are its be...How to do supta matsyendrasana (supine spinal twist pose) and what are its be...
How to do supta matsyendrasana (supine spinal twist pose) and what are its be...
 
How to do supta baddha konasana (reclining bound angle pose) and what are its...
How to do supta baddha konasana (reclining bound angle pose) and what are its...How to do supta baddha konasana (reclining bound angle pose) and what are its...
How to do supta baddha konasana (reclining bound angle pose) and what are its...
 
How to do simhasana (lion pose) and what are its benefits
How to do simhasana (lion pose) and what are its benefitsHow to do simhasana (lion pose) and what are its benefits
How to do simhasana (lion pose) and what are its benefits
 
How to do purvottanasana (upward plank pose) and what are its benefits
How to do purvottanasana (upward plank pose) and what are its benefitsHow to do purvottanasana (upward plank pose) and what are its benefits
How to do purvottanasana (upward plank pose) and what are its benefits
 
How to do pawanmuktasana (wind relieving pose) and what are its benefits
How to do pawanmuktasana (wind relieving pose) and what are its benefitsHow to do pawanmuktasana (wind relieving pose) and what are its benefits
How to do pawanmuktasana (wind relieving pose) and what are its benefits
 
How to do padmasana (lotus pose) and what are its benefits
How to do padmasana (lotus pose) and what are its benefitsHow to do padmasana (lotus pose) and what are its benefits
How to do padmasana (lotus pose) and what are its benefits
 
How to do padangusthasana (big toe pose) and what are its benefits
How to do padangusthasana (big toe pose) and what are its benefitsHow to do padangusthasana (big toe pose) and what are its benefits
How to do padangusthasana (big toe pose) and what are its benefits
 
How to do natarajasana (lord of the dance pose) and what are its benefits
How to do natarajasana (lord of the dance pose) and what are its benefitsHow to do natarajasana (lord of the dance pose) and what are its benefits
How to do natarajasana (lord of the dance pose) and what are its benefits
 
How to do jathara parivartanasana (two knee spinal twist pose) and what are i...
How to do jathara parivartanasana (two knee spinal twist pose) and what are i...How to do jathara parivartanasana (two knee spinal twist pose) and what are i...
How to do jathara parivartanasana (two knee spinal twist pose) and what are i...
 
How to do halasana (plow pose) and what are its benefits
How to do halasana (plow pose) and what are its benefitsHow to do halasana (plow pose) and what are its benefits
How to do halasana (plow pose) and what are its benefits
 
How to do eka pada rajakapotasana (one legged king pigeon pose) and what are ...
How to do eka pada rajakapotasana (one legged king pigeon pose) and what are ...How to do eka pada rajakapotasana (one legged king pigeon pose) and what are ...
How to do eka pada rajakapotasana (one legged king pigeon pose) and what are ...
 

14 standing yoga asanas to improve body balance and stability

  • 1. हभ ऄऩने काभ औय ननजी जीवन को संतुलित कयने भें फरृत सायी उजाा खर्ा कयते हैं , िेककन मह बूि जाते हैं कक शायीरयक संतुिन की हभायी सभझ ककतनी भहत्वऩूणा है। मह वह जगह है जहां मोग संतुिन फनाता है क्योंकक मह अऩको ऄऩनी दैननक गततकवनधमों भें स्थियता खोजने भें भदद कयता है - शायीरयक औय भानलसक दोनों रूऩ से। संतुलित भुद्राएं हभें र्ोटों से फर्ा सकती हैं, हभाये ध्यान भें सुधाय कय सकती हैं औय तनाव को दूय कयने भें भदद कय सकती हैं। क्या अऩ जानते हैं कक हभाये शायीरयक संतुिन को फनाए यखना कवभबन्न शायीरयक प्रणालिमों क े फीर् एक फरृत ही जकटि ऄंतःकिमा है ? स्पशा की बावना , अंतरयक कान भें वेस्टिफुिय प्रणािी , औय हभायी दृष्टि की बावना सबी नभिकय संतुिन फनाने का काभ कयती हैं। भुझे मकीन है कक अऩने ककसी बफिंदु ऩय फपय से ऄऩना संतुिन खोजने क े लिए संघषा ककमा है। अऩ मह बी जानते हैं कक एक ऩैय ऩय खडे होने क े लिए ईसे ठोकय खाने मा नगयने से फर्ाने क े लिए क ु छ हद तक संतुिन की अवश्यकता होती है। क ु छ ऐसे खेि बी हैं लजनभें ऄततरयक्त संतुिन की अवश्यकता होती है। िेककन हभें ऄऩनी दैननक गततकवनधमों भें संतुलित यहने की अवश्यकता है, जैसे र्िना, सीब़िमााँ ऱ्िना, मा ककयाने का साभान िोय से घय िे जाना। ऄच्छी खफय मह है कक मोग भुद्रा को संतुलित कयने भें भदद कय सकता है। जफकक ननमनभत मोग ऄभ्यास अऩको ऄऩनी सभग्र शनक्त औय स्थियता भें सुधाय कयने भें भदद कयता है , क ु छ असन कवशेष रूऩ से अऩक े संतुिन को फेहतय फनाने क े ईद्देश्य से हैं। हािांकक , संतुिन हय र्ीज की क ुं जी है। हभ जो कयते हैं , सोर्ते हैं , कहते हैं , खाते हैं , भहसूस कयते हैं ईसक े लिए जागरूकता की जरूयत होती है औय आसी जागरूकता से हभ अगे फ़ि सकते हैं। 1. मॊग संतुलन क े क्या लाब हैं? मोग की एक कवस्तृत कवकवधता है जो हभें ऄनधक स्थियता औय संतुिन खोजने भें भदद कयती है। अऩ शामद ऩहिे खडे संतुिन भुद्रा औय फांह संतुिन क े फाये भें सोर्ते हैं। िेककन मोग भें फैिेंस ऩोज़ बी होते हैं लजनका ऄभ्यास फैठकय ककमा जाता है। ध्यान दें कक व्युत्क्रभ बी संतुलित हैं। जफकक प्रत्येक भुद्रा का ऄऩना कवलशि िाबकायी प्रबाव होता है, सबी मोग संतुिन क े क ु छ साभान्य िाब होते हैं।  शायीरयक लाब मोग भें भुद्रा को संतुलित कयने से हभाये शायीरयक औय भानलसक स्वास्थ्य दोनों ऩय सकायात्मक प्रबाव ऩडता है। हभाये शयीय भें, वे हभें ऄऩनी भांसऩेलशमों को भजफूत औय िंफा कयने भें भदद कयते हैं , औय हभाये गुरुत्वाकषाण क े क ें द्र को ढूंढते हैं। फैिेंस ऩोज़ क े ननमनभत ऄभ्यास से शयीय क े फैिेंस रयसेप्टसा क े कामा भें सुधाय हो सकता है। मे अंतरयक कान भें वेस्टिफुिय लसिभ भें स्थित होते हैं औय ऐसी जानकायी प्रदान कयते हैं जो शयीय को संतुलित यहने भें सक्षभ फनाती है। हभाये शयीय भें दो प्रकाय क े संतुिन रयसेप्टसा होते हैं: गततशीि औय स्थिय। गततशीि संतुिन रयसेप्टसा योटेशन , त्वयण औय ननष्क्रिमता जैसी किमाओं क े जवाफ भें शयीय की स्थितत क े फाये भें जानकायी प्रदान कयते हैं। दूसयी ओय , स्थिय संतुिन रयसेप्टसा, गुरुत्वाकषाण क े संदबा भें शयीय की स्थितत को ऩहर्ानते हैं, र्ाहे हभ सीधे खडे हों मा िेट यहे हों।
  • 2.  भानससक लाब िेककन संतुिन की ऄच्छी सभझ होना क े वि एक ऩैय ऩय खडे होने से कहीं ऄनधक है। शायीरयक स्थियता क े ऄिावा, मोग संतुिन हभें भानलसक औय बावनात्मक स्थियता खोजने भें बी भदद कयता है। शांत यहने औय संतुलित भुद्रा भें ध्यान क ें फद्रत कयने से पोकस भें सुधाय होता है औय तनाव दूय कयने भें भदद नभिती है। ऐसा आसलिए है क्योंकक अऩको ध्यान क ें फद्रत कयने औय सतक ा यहने की अवश्यकता है ताकक अऩ ठोकय खाकय नगय न जाएं। थोडी देय क े लिए स्थिय यहने क े लिए अऩको फाहयी ईत्तेजनाओं को ऄनदेखा कयना सीखना होगा। आस प्रकाय, कवशेष रूऩ से कफठन ऩरयस्थिततमों भें, मोग भुद्राओं को संतुलित कयना भानलसक औय बावनात्मक रूऩ से भजफूत यहने का एक शानदाय तयीका है। आसलिए अऩको मोगा भैट क े फाहय फैिेंलसिंग ऩोज से बी पामदा होता है। वे अऩको धैमा, शांतत औय जागरूकता क े साथ जीवन का रुख कयने भें सक्षभ फनाते हैं। मोग भुद्रा को संतुलित कयने क े िाब अऩको शायीरयक औय भानलसक दोनों रूऩ से प्रबाकवत कयते हैं। 2. मॊग भुद्रा भें अऩने संतुलन कॊ फेहतय फनाने क े सलए 10 टिप्स कइ सांसों क े लिए संतुिन भुद्रा भें यहना र्ुनौतीऩूणा हो सकता है। ऄच्छी खफय मह है कक धैमा औय ननमनभत ऄभ्यास से जल्द ही अऩक े संतुिन की बावना भें सुधाय होगा औय अऩको ईऩिब्धि का ऄहसास होगा। मह आस प्रकाय की मोग भुद्रा को शुरुअती िोगों क े लिए कवशेष रूऩ से संतोषजनक फनाता है। अऩक े मोग ऄभ्यास क े लिए ऄऩना संतुिन सुधायने भें अऩकी भदद कयने क े लिए महां 10 मुनक्तमां दी गइ हैं। 1. आधाय से शुरू कयें मद्यकऩ मह िगबग हय असन ऩय िागू होता है , मह मोग भुद्रा को संतुलित कयने क े लिए कवशेष रूऩ से भहत्वऩूणा है। हभेशा जभीन से उऩय की ओय ऩोज फनाएं। ऩैयों, फपय उऩयी शयीय औय फाहों को संयेष्टखत कयक े शुरू कयें। आसक े ऄिावा, सुननश्चित कयें कक अऩको ऩहिे जभीन क े साथ स्पशा की ऄच्छी सभझ हो। ऄऩने ऩैयों , हाथों, पोयअर्म्ा, मा जो बी भुद्रा अऩ ऄभ्यास कयना र्ाहते हैं, ईसक े अधाय क े साथ जभीन भें जडें जभा िें। ऄंततभ र्यण क े रूऩ भें, लसय क े भाध्यभ से कवस्ताय कयें। 2. अऩनी िकिकी कॊ ठीक कयें संतुिन फनाने की कोलशश कयते सभम , ऄऩनी ननगाह एक ऐसे बफिंदु ऩय कटकाए यखें जो फरृत अगे न हो औय जो फहिता न हो। मोग भें, आसे द्रष्टि कहा जाता है औय मह एकाग्र बाव कवकलसत कयने का एक साधन है। 3. अऩना सभम लें ऄऩने मोग संतुिन भें धीये-धीये औय होशऩूवाक अगे फ़िें , क्योंकक ऄर्ानक हिर्िें अऩको संतुिन से फाहय कय सकती हैं औय अऩको डगभगाने औय नगयने दे सकती हैं। मफद अऩ धैमा औय जागरूकता क े साथ संतुिन की भुद्रा भें अ जाते हैं तो मह फरृत असान है। जल्दफाजी भें भुद्रा भें प्रवेश कयने से अऩको ऄऩना संतुिन खोने का खतया होता है। आसक े ऄिावा, एक फाय खो जाने क े फाद, ऄऩना संतुिन फपय से हालसि कयना फरृत कफठन होता है। 4. सभथथन प्राप्त कयें क ु छ फाहयी सहामता प्राप्त कयने भें क ु छ बी गित नहीं है। ईदाहयण क े लिए , अऩ दीवाय मा क ु सी क े ऩास ऄभ्यास कय सकते हैं। आस तयह अऩ ऄऩने हाथों को दीवाय मा क ु सी ऩय यख सकते हैं। अऩ दीवाय क े ष्टखिाप ऄऩनी ऩीठ क े साथ संतुिन फनाने का ऄभ्यास बी कय सकते हैं। एक ऄन्य संबावना मह है कक अऩ ककसी साथी मोगी से सभथान औय स्थियता क े लिए अऩका हाथ फ़िाने क े लिए कहें। 5. अऩनी सांस ऩय ध्यान दें एक शांत औय स्थिय सांस अऩको स्थिय यहने भें फरृत भदद कय सकती है। लजतना फेहतय अऩ ऄऩनी सांस ऩय ध्यान क ें फद्रत कयने भें सक्षभ होंगे, आन मोग भुद्राओं भें संतुिन फनाना ईतना ही असान होगा। 6. डयॊ भत हािांकक डय हभें संबाकवत खतयों से फर्ाने क े लिए एक फरृत ही ईऩमोगी र्ेतावनी संक े त है , मह ऄक्सय हभायी सफसे फडी फाधाओं भें से एक है। नीर्े नगयने से डयने की कोलशश न कयें। फस्टि एक र्ंर्ि यवैमा ऄऩनाएं औय खुद को
  • 3. फरृत गंबीयता से न िें। सीखने की प्रकिमा का अनंद िें। हय फाय जफ अऩ ऄऩने मोग ऄभ्यास भें संतुिन की भुद्रा से फाहय हो जाते हैं, तो ननयाश होने क े फजाम, हंसें औय ऩुनः प्रमास कयें। 7. अऩनी क ें द्र येखा से अवगत यहें मोग संतुिन भें, ऄऩनी जागरूकता को शयीय की क ें द्र येखा ऩय िाना कवशेष रूऩ से भहत्वऩूणा है। मह लसय क े क ें द्र से गदान औय धड क े भाध्यभ से खडी येखा है। आसक े ऄिावा, लसय की स्थितत औय गतत ऩय कवशेष ध्यान दें। ऐसा आसलिए है क्योंकक अऩक े संतुिन रयसेप्टसा अंतरयक कानों भें वेस्टिफुिय लसिभ भें स्थित हैं। 8. ऩैयों क े क ू ल्हे की चोडाई कॊ अलग यखें मफद अऩको ऄऩने ऩैयों को एक साथ संतुलित कयने भें कफठनाइ होती है , तो ऄऩने ऩैयों को क ू ल्हे की दूयी से ऄिग मा ईससे बी र्ौडा यखें। अऩ धीये-धीये ऄऩने ऩैयों को एक साथ जोड सकते हैं क्योंकक अऩ आन ऩोज़ भें ऄनधक संतुिन प्राप्त कयते हैं। 9. धैमथ यखें कोइ बी गुरु क े रूऩ भें ऩैदा नहीं होता है। मफद अऩ ऩहिे प्रमास भें मोग भें एक नइ संतुिन भुद्रा का प्रफंधन नहीं कयते हैं, तो लर्िंता न कयें। माद यखें कक हय ककसी को कहीं न कहीं से शुरुअत कयनी होगी। औय अऩ ननमनभत ऄभ्यास क े बफना क ु छ बी हालसि नहीं कयेंगे - जैसा कक मोग औय जीवन भें ऄक्सय होता है। आसलिए, मफद अऩ एक फदन संतुिन से फाहय हो गए हैं, तो ऄगिे फदन फपय से प्रमास कयें। औय ककसी बफिंदु ऩय, जादू होगा! 10. आयाभ कयॊ माद यखें अष्टखय मह लसप ा मोग है। अऩको ककसी को क ु छ बी साबफत कयने की जरूयत नहीं है। मह अऩका ऄभ्यास औय अऩकी मात्रा है। मोग संतुिन की भुद्रा भें डगभगाना मा नगयना दुननमा का ऄंत नहीं है। तो , ऄऩने फदभाग को शांत यखें, ऄऩने मोग ऄभ्यास का अनंद िें, औय मोग भुद्रा भें संतुिन फनाने की ऄऩनी मात्रा का अनंद िें। ऩूये शयीय क े संतुलन औय स्थियता भें सुधाय क े सलए 14 िामी मॊग भुद्राए ं 01. ताडासन (भाउंिेन ऩॊज़)  िंफा खडे हो जाएं , औय ऄऩने क ं धों को ऩीछे की ओय जाने दें।  भहसूस कयें कक अऩका लसय असभान की ओय ष्टखिंर्ा रृअ है।  एक गहयी सांस ऄंदय िें, ऄऩनी फाहों को असभान की ओय ऩरृंर्ाएं। एक दो सांस क े लिए रुक ें । 02. वृक्षासन (ट्री ऩॊज़)
  • 4.  खडे होने की स्थितत भें शुरू कयें।  ऄऩने फाएं ऩैय से नीर्े ईतयें। ऄऩने दाफहने घुटने को भोडें, औय ऄऩने दाफहने ऩैय को ऄऩने फाएं टखने, ऄऩने ऩैय क े ननर्िे फहस्से, मा जांघ ऩय िे अएं।  ऄऩनी बुजाओं को अकाश की ओय तानें, मा ऄऩने हाथों को हृदम क ें द्र की ओय िाएं। एक दो सांस क े लिए रुक ें । 03. उत्तानासन (स्टैंडडिंग पॉयवडथ फेंड ऩॊज़)  ऄऩनी बुजाओं को अकाश की ओय यखते रृए सीधे खडे हो जाएं।  जैसे ही अऩ सााँस छोडते हैं , ऄऩने क ू ल्हों ऩय ऄऩने उऩयी शयीय को अगे की ओय भोडें , मफद अवश्यक हो तो ऄऩने घुटनों को भोडें।  सांस िे। फपय सांस छोडते रृए ऩीठ को नीर्े कयें। एक दो सांस क े लिए रुक ें । 04. अधथ चंद्र आसन (हाप भून ऩॊज़)  ऄऩने हाथों क े फीर् भें एक ऩैय से शुरू कयें औय ऄऩने फाएं ऩैय को ऩीछे की ओय फ़िा दें। ऄऩने साभने क े ऩैय क े भाध्यभ से नीर्े ईतयें, औय ऄऩने फाएं ऩैय की ईंगलिमों ऩय ईठाएं।  धीये-धीये ऄधा र्ंद्रासन भें ईठें, ऄऩनी फाहों को उऩय की ओय िाएं औय टकटकी को ऄऩने साभने यखें।  क ु छ गहयी सांसों क े लिए रुक ें ।
  • 5. 05. नियाजासन (लाडथ ऑफ़ द डांस ऩॊज़)  खडे होने की स्थितत भें अने क े लिए ऄऩने शयीय को योि कयें।  ऄऩने फाएं ऩैय से नीर्े ईतयें। ऄऩने दाफहने ऩैय को ऄऩने ऩीछे भोडें। ऩैय को फडे ऩैय क े ऄंगूठे से ऩकडें।  ऄऩने फाएं हाथ को उऩय अकाश की ओय फ़िाएं। ऄऩने अऩ को अगे खींर्ो। जैसे ही अऩ खुिते हैं , ईस ऩैय को ऄऩने हाथ भें दफाएं। क ु छ सांसों को योककय यखें औय फपय भुद्रा से फाहय अ जाएं। 06. उत्थित टिकॊणासन (एक्सिेंडेड ट्रामंगल ऩॊज़)  कवऩयीत वीयबद्रासन से, ऄऩने साभने क े ऩैय को सीधा कयें।  ऄऩनी फाहों को "T" स्थितत भें िाएं , फपय ऄऩने शयीय को अगे फ़िाएं औय ऄऩने दाफहने हाथ को ऄऩने दाफहने ऩैय मा कऩिंडिी ऩय अयाभ दें।  ऄऩने फाएं हाथ को उऩय असभान की तयप ईठाएं। एक दो सांस क े लिए रुक ें । 07. ऩरयवृत्त टिकॊणासन (येवॊल्वड ट्रामंगल ऩॊज)  बत्रकोणासन भुद्रा से, ऄऩने फाएं हाथ को र्टाइ ऩय नीर्े िाएं।  ऄऩने धड को भोडें, औय ऄऩनी दाफहनी ओय खोिें।
  • 6.  ऄऩनी दाफहनी बुजा को अकाश की ओय िे अएं , औय ऄऩनी ईाँगलिमों को उऩय की ओय देखें। क ु छ सांसों क े लिए रुक ें । 08. टवऩयीत वीयबद्रासन (रयवसथ वॉरयमय ऩॊज़)  वीयबद्रासन 1 भुद्रा से, फाएं हाथ को ऄऩने ऩीछे नीर्े िाएं औय आसे फाईं जांघ क े ऩीछे अयाभ कयने दें।  दाफहने फाआसेप्स को ऄऩने कान क े ऩास यखते रृए ऄऩने हाथ को ऩीछे की ओय िे जाएं। ऄऩनी ईंगलिमों की ओय देखते रृए, ऄऩनी यी़ि को धीये से भोडें।  क ु छ सांसों क े लिए रुक ें । 09. वीयबद्रासन 1 (वॉरयमय 1 ऩॊज़)  ऄधोभुख श्वानासन की स्थितत से, ऄऩने दाफहने घुटने को ऄऩनी नाक की ओय िाएं औय ऄऩने ऩैय को ऄऩने हाथों क े फीर् भें यखें।  ऄऩने कऩछिे ऩैय को नीर्े कयें, औय ऄऩने धड को उऩय ईठाएं, एक मोद्धा क े रूऩभे .  ऄऩने साभने क े घुटने को भोडें औय ऄऩनी फाहों को असभान की ओय ईठाएं। क ु छ सांसों क े लिए रुक ें । 10. वीयबद्रासन 2 (वॉरयमय 2 ऩॊज़)
  • 7.  ऄऩनी ऩीठ की एडी को नीर्े की ओय भोडें औय ऄऩने शयीय को फगि की ओय खोिें। अऩका कऩछिा ऩैय थोडा ऄंदय की ओय भुडना र्ाफहए। अऩका ऄगिा घुटना अऩक े टखने क े ठीक उऩय होना र्ाफहए।  ऄऩनी ईंगलिमों ऩय नज़य यखते रृए, ऄऩनी फाहों को कवऩयीत फदशाओं भें उजाावान रूऩ से प ै िाएं।  क ु छ सांसों क े लिए रुक ें । 11. वीयबद्रासन 3 (वॉरयमय 3 ऩॊज़)  वीयबद्रासन 1 स्थितत से, ऄऩने साभने क े ऩैय से नीर्े ईतयें।  कऩछिे ऩैय की ईंगलिमों को जभीन से सटाते रृए, ऄऩनी फाहों को ऄऩने ऩीछे की औय घुभाएं।  ऩैय क े ऄंगूठे से धड तक एक सीधी येखा फनाते रृए ऄऩने कऩछिे ऩैय को उऩय ईठाएं। एक दो सांस क े लिए रुक ें । 12. उत्किासन (चेमय ऩॊज़)  खडे होने की स्थितत से, ऄऩनी फाहों को अकाश की ओय ईठाएं।  धीये-धीये ऄऩने क ू ल्हों को वाऩस िाएं , जैसे कक अऩ ककसी काल्पननक क ु सी ऩय फैठे हों।  क ु छ सांसों क े लिए रुक ें । 13. इक ऩादा उत्किासन (हाप चेमय ऩॊज़)  ऄऩनी र्टाइ ऩय खडे होने की स्थितत भें अ जाएं।
  • 8.  ऄऩने फाएं ऩैय क े भाध्यभ से नीर्े ईतयें। ऄऩने दाफहने घुटने को ईठाएं , औय ऄऩना ऩैय जांघ ऩय िगाएं।  ऄऩने ऩैय को फ्लेक्स कयें, ऄऩने क ू ल्हों ऩय कटकाएं , औय क ु सी भुद्रा भें कभ कयें। कवऩयीत फदशा भें दोहयाएं। 14. भालासन (गायलैंड ऩॊज)  खडे होने की स्थितत से, ऄऩनी फाहों को अकाश की ओय ईठाएं , फपय ऄऩने हाथों को जभीन ऩय िाते रृए अगे की ओय झुक ें ।  ऄऩने ऩैयों को क ू ल्हों-र्ौडाइ की दूयी से ऄिग कयें।  ऄऩने घुटनों को भोडें, ऄऩने ऩैय की ईंगलिमों को फाहय ननकािें, औय धीये-धीये ननर्े की औय फैठे। एक दो सांस क े लिए रुक ें ।