SlideShare a Scribd company logo
1 of 18
Download to read offline
संधि शब्द का अर्थ है 'मेल'। दो निकटवर्ती
वर्णों के परस्पर मेल से जो ववकार
(पररवर्तथि) होर्ता है वह संधि कहलार्ता है।
जैसे - सम् + र्तोष = संर्तोष ; देव + इंद्र =
देवेंद्र ; भािु + उदय = भािूदय।
संधि के भेद
संधि र्तीि प्रकार की होर्ती हैं – 1. स्वर संधि
2. व्यंजि संधि 3. ववसर्थ संधि
दो स्वरों के मेल से होिे वाले ववकार (पररवर्तथि)
को स्वर-संधि कहर्ते हैं। जैसे - ववद्या + आलय
= ववद्यालय।
स्वर-संधि पााँच प्रकार की होर्ती हैं -
•दीर्थ संधि
•र्ुर्ण संधि
•वृद्धि संधि
•यर्ण संधि
•अयादद संधि
1. दीर्घ संधि
सूत्र-अक: सवर्णे दीर्घ: अर्थघत ् अक् प्रत्यथहथर के बथद उसकथ सवर्णघ
आये तो दोनो मिलकर दीर्घ बन जथते हैं। ह्रस्व यथ दीर्घ अ, इ, उ के
बथद यदद ह्रस्व यथ दीर्घ अ, इ, उ आ जथएँ तो दोनों मिलकर दीर्घ आ,
ई और ऊ हो जथते हैं। जैसे -
(क) अ/आ + अ/आ = आ
अ + अ = आ --> ििघ + अर्घ = ििथघर्घ / अ + आ = आ -->
दहि + आलय = दहिथलय
आ + अ = आ --> ववद्यथ + अर्ी = ववद्यथर्ी / आ + आ = आ
--> ववद्यथ + आलय = ववद्यथलय
(ख) इ और ई की संधि
इ + इ = ई --> रवव + इंद्र = रव ंद्र ; िुनन + इंद्र = िुन ंद्र
इ + ई = ई --> धिरर + ईश = धिरीश ; िुनन + ईश = िुन श
ई + इ = ई- िही + इंद्र = िहींद्र ; नथरी + इंदु = नथरींदु
ई + ई = ई- नदी + ईश = नदीश ; िही + ईश = िहीश .
(ि) उ और ऊ की संधि
उ + उ = ऊ- भथनु + उदय = भथनूदय ; वविु + उदय =
वविूदय
उ + ऊ = ऊ- लर्ु + ऊमिघ = लर्ूमिघ ; मसिु + ऊमिघ = मसंिूमिघ
ऊ + उ = ऊ- विू + उत्सव = विूत्सव ; विू + उल्लेख =
विूल्लेख
ऊ + ऊ = ऊ- भू + ऊर्धवघ = भूर्धवघ ; विू + ऊजथघ = विूजथघ
2. िुर्ण संधि
इसिें अ, आ के आिे इ, ई हो तो ए ; उ, ऊ हो तो ओ तर्थ ऋ
हो तो अर् हो जथतथ है। इसे िुर्ण-संधि कहते हैं। जैसे -
(क) अ + इ = ए ; नर + इंद्र = नरेंद्र
अ + ई = ए ; नर + ईश = नरेश
आ + इ = ए ; िहथ + इंद्र = िहेंद्र
(ख) अ + उ = ओ ; ज्ञथन + उपदेश = ज्ञथनोपदेश ;
आ + उ = ओ िहथ + उत्सव = िहोत्सव
अ + ऊ = ओ जल + ऊमिघ = जलोमिघ ;
(र्) अ + ऋ = अर् देव + ऋवि = देवविघ
(र्) आ + ऋ = अर् िहथ + ऋवि = िहविघ
3. वृद्धि संधि
अ, आ कथ ए, ऐ से िेल होने पर ऐ तर्थ अ, आ कथ ओ, औ से िेल
होने पर औ हो जथतथ है। इसे वृद्धि संधि कहते हैं। जैसे -
(क) अ + ए = ऐ ; एक + एक = एकै क ;
अ + ऐ = ऐ ित + ऐक्य = ितैक्य
आ + ए = ऐ ; सदथ + एव = सदैव
आ + ऐ = ऐ ; िहथ + ऐश्वयघ = िहैश्वयघ
(ख) अ + ओ = औ वन + औिधि = वनौिधि ; आ + ओ = औ
िहथ + औिधि = िहौिधि ;
अ + औ = औ परि + औिि = परिौिि ; आ + औ = औ िहथ
+ औिि = िहौिि
4. यर्ण संधि
(क) इ, ई के आिे कोई ववजथत य (असिथन) स्वर होने पर इ ई को
‘य ्’ हो जथतथ है।
(ख) उ, ऊ के आिे ककस ववजथत य स्वर के आने पर उ ऊ को ‘व ्’
हो जथतथ है।
(र्)‘ऋ’ के आिे ककस ववजथत य स्वर के आने पर ऋ को ‘र्’ हो
जथतथ है। इन्हें यर्ण-संधि कहते हैं।
इ + अ = य ् + अ; यदद + अवप = यद्यवप
ई + आ = य ् + आ ; इनत + आदद = इत्यथदद।
(र्) उ + अ = व ् + अ ; अनु + अय = अन्वय
उ + आ = व ् + आ ; सु + आित = स्वथित
उ + ए = व ् + ए; अनु + एिर्ण = अन्वेिर्ण
5. अयथदद संधि
ए, ऐ और ओ औ से परे ककस भ स्वर के होने पर
क्रिशः अय्, आय्, अव् और आव् हो जथतथ है। इसे
अयथदद संधि कहते हैं।
(क) ए + अ = अय् + अ ; ने + अन = नयन
(ख) ऐ + अ = आय् + अ ; िै + अक = िथयक
(र्) ओ + अ = अव् + अ ; पो + अन = पवन
(र्) औ + अ = आव् + अ ; पौ + अक = पथवक
औ + इ = आव् + इ ; नौ + इक = नथववक
व्यंजि का व्यंजि से अर्वा
ककसी स्वर से मेल होिे पर जो
पररवर्तथि होर्ता है उसे व्यंजि
संधि कहर्ते हैं। जैसे-शरर्त् + चंद्र
= शरच्चंद्र। उज्जवल
(क) ककस विघ के पहले वर्णघ क्, च्, ट्, त्, प् कथ िेल
ककस विघ के त सरे अर्वथ चौर्े वर्णघ यथ य्, र्, ल
व ्, ह यथ ककस स्वर से हो जथए तो क् को ि् च् क
ज्, ट् को ड् और प् को ब् हो जथतथ है। जैसे
क् + ि = ग्ि ददक् + िज = ददग्िज। क् + ई =
ि वथक + ईश = वथि श
(ख) यदद ककस विघ के पहले वर्णघ (क्, च्, ट्, त्, प
कथ िेल न् यथ ि ् वर्णघ से हो तो उसके स्र्थन प
उस विघ कथ पथँचवथँ वर्णघ हो जथतथ है। जैसे
क् + ि = ड़् वथक + िय = वथड़्िय च् + न = ञ
अच् + नथश = अञ्नथश
(र्) त ् कथ िेल ि, र्, द, ि, ब, भ, य, र, व यथ ककस स्वर से हो जथए
तो द् हो जथतथ है। जैसे -
त ् + भ = द्भ सत ् + भथवनथ = सद्भथवनथ त ् + ई = दी जित ् +
ईश = जिदीश
(र्) त ् से परे च ् यथ छ् होने पर च, ज ् यथ झ् होने पर ज ्, ट् यथ ठ्
होने पर ट्, ड् यथ ढ् होने पर ड् और ल होने पर ल ् हो जथतथ है। जैसे
-
त ् + च = च्च उत ् + चथरर्ण = उच्चथरर्ण त ् + ज = ज्ज सत ् +
जन = सज्जन
त ् + झ = ज्झ उत ् + झदिकथ = उज्झदिकथ त ् + ि = ट्ि तत ् +
िीकथ = तट्िीकथ
(ड़) त ् कथ िेल यदद श ् से हो तो त ् को च ् और श ् कथ छ् बन
जथतथ है। जैसे -
त ् + श ् = च्छ उत ् + श्वथस = उच्छ्वथस त ् + श = च्छ उत ् +
मशष्ि = उच्च्छष्ि
(च) त ् कथ िेल यदद ह् से हो तो त ् कथ द् और ह् कथ ि ् हो जथतथ
है। जैसे -
त ् + ह = द्ि उत ् + हथर = उद्िथर त ् + ह = द्ि उत ् + हरर्ण =
उद्िरर्ण
(छ) स्वर के बथद यदद छ् वर्णघ आ जथए तो छ् से पहले च ् वर्णघ
बढथ ददयथ जथतथ है। जैसे -
अ + छ = अच्छ स्व + छंद = स्वच्छंद आ + छ = आच्छ आ +
छथदन = आच्छथदन
(ज) यदद ि ् के बथद क् से ि ् तक कोई व्यंजन हो तो ि ् अनुस्वथर
िें बदल जथतथ है। जैसे -
ि ् + च ् = ंं ककि ् + धचत = ककं धचत ि ् + क = ंं ककि ् + कर =
ककं कर
(झ) ि ् के बथद ि कथ द्ववत्व हो जथतथ है। जैसे -
ि ् + ि = म्ि सि ् + िनत = सम्िनत ि ् + ि = म्ि सि ् +
िथन = सम्िथन
(ञ) ि ् के बथद य ्, र्, ल ्, व ्, श ्, ि ्, स ्, ह् िें से कोई व्यंजन होने पर ि ्
कथ अनुस्वथर हो जथतथ है। जैसे -
ि ् + य = ंं सि ् + योि = संयोि ि ् + र = ंं सि ् + रक्षर्ण =
संरक्षर्ण
(ट) ऋ, र्, ि ् से परे न ् कथ र्ण ् हो जथतथ है। परन्तु चविघ, िविघ,
तविघ, श और स कथ व्यविथन हो जथने पर न ् कथ र्ण ् नहीं होतथ।
जैसे -
र् + न = र्ण परर + नथि = पररर्णथि र् + ि = र्ण प्र + िथन =
प्रिथर्ण
(ठ) स ् से पहले अ, आ से मभन्न कोई स्वर आ जथए तो स ् को ि
हो जथतथ है। जैसे -
भ ् + स ् = ि अमभ + सेक = अमभिेक नन + मसद्ि = ननविद्ि वव
+ सि + वविि
ववसर्थ के बाद स्वर या व्यंजि आिे पर
ववसर्थ में जो ववकार होर्ता है उसे
ववसर्थ-संधि कहर्ते हैं। जैसे- मिः +
अिुकू ल = मिोिुकू ल
(क) ववसिघ के पहले यदद ‘अ’ और बथद िें भ ‘अ’ अर्वथ विों के
त सरे, चौर्े पथँचवें वर्णघ, अर्वथ य, र, ल, व हो तो ववसिघ कथ ओ हो
जथतथ है। जैसे –
िनः + अनुकू ल = िनोनुकू ल ; अिः + िनत = अिोिनत ; िनः +
बल = िनोबल
(ख) ववसिघ से पहले अ, आ को छोड़कर कोई स्वर हो और बथद िें
कोई स्वर हो, विघ के त सरे, चौर्े, पथँचवें वर्णघ अर्वथ य ्, र, ल, व, ह िें
से कोई हो तो ववसिघ कथ र यथ र् हो जथतथ है। जैसे -
ननः + आहथर = ननरथहथर ; ननः + आशथ = ननरथशथ ननः + िन =
ननिघन
(र्) ववसिघ से पहले कोई स्वर हो और बथद िें च, छ यथ श हो तो
ववसिघ कथ श हो जथतथ है। जैसे -
ननः + चल = ननश्चल ; ननः + छल = ननश्छल ; दुः + शथसन =
दुश्शथसन
(र्) ववसिघ के बथद यदद त यथ स हो तो ववसिघ स ् बन जथतथ है।
जैसे -
निः + ते = निस्ते ; ननः + संतथन = ननस्संतथन ; दुः + सथहस =
दुस्सथहस
(ड़) ववसिघ से पहले इ, उ और बथद िें क, ख, ि, ठ, प, फ िें से कोई
वर्णघ हो तो ववसिघ कथ ि हो जथतथ है। जैसे -
ननः + कलंक = ननष्कलंक ; चतुः + पथद = चतुष्पथद ; ननः + फल
= ननष्फल
(ड) ववसिघ से पहले अ, आ हो और बथद िें कोई मभन्न स्वर हो तो
ववसिघ कथ लोप हो जथतथ है। जैसे -
ननः + रोि = ननरोि ; ननः + रस = न रस
(छ) ववसिघ के बथद क, ख अर्वथ प, फ होने पर ववसिघ िें कोई
पररवतघन नहीं होतथ। जैसे -
अंतः + करर्ण = अंतःकरर्ण
Made by : Ruturaj Pandav
Standard: 9
Division : C
Subject : Hindi PPT
Sandhi and its types PPT in Hindi

More Related Content

What's hot

What's hot (20)

Hindi avyay ppt
Hindi avyay pptHindi avyay ppt
Hindi avyay ppt
 
Karak ppt
Karak ppt Karak ppt
Karak ppt
 
सर्वनाम
सर्वनामसर्वनाम
सर्वनाम
 
Alankar
AlankarAlankar
Alankar
 
Vaaky rachna ppt
Vaaky rachna pptVaaky rachna ppt
Vaaky rachna ppt
 
क्रिया विशेषण
क्रिया विशेषणक्रिया विशेषण
क्रिया विशेषण
 
upsarg
upsargupsarg
upsarg
 
सर्वनाम P.P.T.pptx
सर्वनाम P.P.T.pptxसर्वनाम P.P.T.pptx
सर्वनाम P.P.T.pptx
 
Alankar (hindi)
Alankar (hindi)Alankar (hindi)
Alankar (hindi)
 
kaal
kaalkaal
kaal
 
संधि
संधि संधि
संधि
 
उपसर्ग और प्रत्यय Ppt
उपसर्ग और प्रत्यय Pptउपसर्ग और प्रत्यय Ppt
उपसर्ग और प्रत्यय Ppt
 
ppt on visheshan
ppt on visheshanppt on visheshan
ppt on visheshan
 
वाक्य विचार
वाक्य विचारवाक्य विचार
वाक्य विचार
 
Sandhi
SandhiSandhi
Sandhi
 
वर्ण-विचार
 वर्ण-विचार  वर्ण-विचार
वर्ण-विचार
 
सर्वनाम
सर्वनामसर्वनाम
सर्वनाम
 
Vakya bhed hindi
Vakya bhed hindiVakya bhed hindi
Vakya bhed hindi
 
Hindi grammar
Hindi grammarHindi grammar
Hindi grammar
 
Sandhi in sanskrit for 10th
Sandhi in sanskrit for 10thSandhi in sanskrit for 10th
Sandhi in sanskrit for 10th
 

Similar to Sandhi and its types PPT in Hindi

हिंदी व्याकरण
हिंदी व्याकरणहिंदी व्याकरण
हिंदी व्याकरणAdvetya Pillai
 
वर्ण विचार से आप क्या समझते हैं? ......pptx
वर्ण विचार से आप क्या समझते हैं? ......pptxवर्ण विचार से आप क्या समझते हैं? ......pptx
वर्ण विचार से आप क्या समझते हैं? ......pptxsharmaprady
 
hindi-141005233719-conversion-gate02.pdf
hindi-141005233719-conversion-gate02.pdfhindi-141005233719-conversion-gate02.pdf
hindi-141005233719-conversion-gate02.pdfShikharMisra4
 
Religion of vedic and later vedic
Religion of vedic and later vedic Religion of vedic and later vedic
Religion of vedic and later vedic Virag Sontakke
 
11 effective yoga pose to increase energy and stamina
11 effective yoga pose to increase energy and stamina11 effective yoga pose to increase energy and stamina
11 effective yoga pose to increase energy and staminaShivartha
 
Hi introduction of_quran
Hi introduction of_quranHi introduction of_quran
Hi introduction of_quranLoveofpeople
 
Paryaptti Prarupna
Paryaptti PrarupnaParyaptti Prarupna
Paryaptti PrarupnaJainkosh
 
Kashay Margna
Kashay MargnaKashay Margna
Kashay MargnaJainkosh
 

Similar to Sandhi and its types PPT in Hindi (11)

Sandhi in Hindi
Sandhi in HindiSandhi in Hindi
Sandhi in Hindi
 
STD-VIII 1.Sandhi.pptx
STD-VIII 1.Sandhi.pptxSTD-VIII 1.Sandhi.pptx
STD-VIII 1.Sandhi.pptx
 
हिंदी व्याकरण
हिंदी व्याकरणहिंदी व्याकरण
हिंदी व्याकरण
 
वर्ण विचार से आप क्या समझते हैं? ......pptx
वर्ण विचार से आप क्या समझते हैं? ......pptxवर्ण विचार से आप क्या समझते हैं? ......pptx
वर्ण विचार से आप क्या समझते हैं? ......pptx
 
hindi-141005233719-conversion-gate02.pdf
hindi-141005233719-conversion-gate02.pdfhindi-141005233719-conversion-gate02.pdf
hindi-141005233719-conversion-gate02.pdf
 
Religion of vedic and later vedic
Religion of vedic and later vedic Religion of vedic and later vedic
Religion of vedic and later vedic
 
11 effective yoga pose to increase energy and stamina
11 effective yoga pose to increase energy and stamina11 effective yoga pose to increase energy and stamina
11 effective yoga pose to increase energy and stamina
 
Hi introduction of_quran
Hi introduction of_quranHi introduction of_quran
Hi introduction of_quran
 
Paryaptti Prarupna
Paryaptti PrarupnaParyaptti Prarupna
Paryaptti Prarupna
 
Pronouns
PronounsPronouns
Pronouns
 
Kashay Margna
Kashay MargnaKashay Margna
Kashay Margna
 

Recently uploaded

CTET Hindi Pedagogy related to Hindi language Education
CTET Hindi Pedagogy related to Hindi language EducationCTET Hindi Pedagogy related to Hindi language Education
CTET Hindi Pedagogy related to Hindi language EducationSavitaShinde5
 
PRESENTED on upsarg aur pratya Hindi grammar
PRESENTED on upsarg aur pratya Hindi grammarPRESENTED on upsarg aur pratya Hindi grammar
PRESENTED on upsarg aur pratya Hindi grammarroydeepika180
 
Assertion & Reasoning Questions CTET 2.pdf
Assertion & Reasoning Questions CTET 2.pdfAssertion & Reasoning Questions CTET 2.pdf
Assertion & Reasoning Questions CTET 2.pdfkomalcam09081996
 
पारिभाषिक शब्दावली LATEST JOBS NEWS
पारिभाषिक शब्दावली      LATEST JOBS NEWSपारिभाषिक शब्दावली      LATEST JOBS NEWS
पारिभाषिक शब्दावली LATEST JOBS NEWSPRADEEP KUMAR
 
This ppt consist of summary of thambe ke keede lesson.
This ppt consist of summary of thambe ke keede lesson.This ppt consist of summary of thambe ke keede lesson.
This ppt consist of summary of thambe ke keede lesson.adithyakrao
 
अखिल भारतीय क्षत्रिय पोवार महासंघ द्वारा पोवारी दिवस कार्यक्रम
अखिल भारतीय क्षत्रिय पोवार महासंघ द्वारा पोवारी दिवस कार्यक्रमअखिल भारतीय क्षत्रिय पोवार महासंघ द्वारा पोवारी दिवस कार्यक्रम
अखिल भारतीय क्षत्रिय पोवार महासंघ द्वारा पोवारी दिवस कार्यक्रमKshtriya Powar
 

Recently uploaded (6)

CTET Hindi Pedagogy related to Hindi language Education
CTET Hindi Pedagogy related to Hindi language EducationCTET Hindi Pedagogy related to Hindi language Education
CTET Hindi Pedagogy related to Hindi language Education
 
PRESENTED on upsarg aur pratya Hindi grammar
PRESENTED on upsarg aur pratya Hindi grammarPRESENTED on upsarg aur pratya Hindi grammar
PRESENTED on upsarg aur pratya Hindi grammar
 
Assertion & Reasoning Questions CTET 2.pdf
Assertion & Reasoning Questions CTET 2.pdfAssertion & Reasoning Questions CTET 2.pdf
Assertion & Reasoning Questions CTET 2.pdf
 
पारिभाषिक शब्दावली LATEST JOBS NEWS
पारिभाषिक शब्दावली      LATEST JOBS NEWSपारिभाषिक शब्दावली      LATEST JOBS NEWS
पारिभाषिक शब्दावली LATEST JOBS NEWS
 
This ppt consist of summary of thambe ke keede lesson.
This ppt consist of summary of thambe ke keede lesson.This ppt consist of summary of thambe ke keede lesson.
This ppt consist of summary of thambe ke keede lesson.
 
अखिल भारतीय क्षत्रिय पोवार महासंघ द्वारा पोवारी दिवस कार्यक्रम
अखिल भारतीय क्षत्रिय पोवार महासंघ द्वारा पोवारी दिवस कार्यक्रमअखिल भारतीय क्षत्रिय पोवार महासंघ द्वारा पोवारी दिवस कार्यक्रम
अखिल भारतीय क्षत्रिय पोवार महासंघ द्वारा पोवारी दिवस कार्यक्रम
 

Sandhi and its types PPT in Hindi

  • 1. संधि शब्द का अर्थ है 'मेल'। दो निकटवर्ती वर्णों के परस्पर मेल से जो ववकार (पररवर्तथि) होर्ता है वह संधि कहलार्ता है। जैसे - सम् + र्तोष = संर्तोष ; देव + इंद्र = देवेंद्र ; भािु + उदय = भािूदय। संधि के भेद संधि र्तीि प्रकार की होर्ती हैं – 1. स्वर संधि 2. व्यंजि संधि 3. ववसर्थ संधि
  • 2. दो स्वरों के मेल से होिे वाले ववकार (पररवर्तथि) को स्वर-संधि कहर्ते हैं। जैसे - ववद्या + आलय = ववद्यालय। स्वर-संधि पााँच प्रकार की होर्ती हैं - •दीर्थ संधि •र्ुर्ण संधि •वृद्धि संधि •यर्ण संधि •अयादद संधि
  • 3. 1. दीर्घ संधि सूत्र-अक: सवर्णे दीर्घ: अर्थघत ् अक् प्रत्यथहथर के बथद उसकथ सवर्णघ आये तो दोनो मिलकर दीर्घ बन जथते हैं। ह्रस्व यथ दीर्घ अ, इ, उ के बथद यदद ह्रस्व यथ दीर्घ अ, इ, उ आ जथएँ तो दोनों मिलकर दीर्घ आ, ई और ऊ हो जथते हैं। जैसे - (क) अ/आ + अ/आ = आ अ + अ = आ --> ििघ + अर्घ = ििथघर्घ / अ + आ = आ --> दहि + आलय = दहिथलय आ + अ = आ --> ववद्यथ + अर्ी = ववद्यथर्ी / आ + आ = आ --> ववद्यथ + आलय = ववद्यथलय
  • 4. (ख) इ और ई की संधि इ + इ = ई --> रवव + इंद्र = रव ंद्र ; िुनन + इंद्र = िुन ंद्र इ + ई = ई --> धिरर + ईश = धिरीश ; िुनन + ईश = िुन श ई + इ = ई- िही + इंद्र = िहींद्र ; नथरी + इंदु = नथरींदु ई + ई = ई- नदी + ईश = नदीश ; िही + ईश = िहीश . (ि) उ और ऊ की संधि उ + उ = ऊ- भथनु + उदय = भथनूदय ; वविु + उदय = वविूदय उ + ऊ = ऊ- लर्ु + ऊमिघ = लर्ूमिघ ; मसिु + ऊमिघ = मसंिूमिघ ऊ + उ = ऊ- विू + उत्सव = विूत्सव ; विू + उल्लेख = विूल्लेख ऊ + ऊ = ऊ- भू + ऊर्धवघ = भूर्धवघ ; विू + ऊजथघ = विूजथघ
  • 5. 2. िुर्ण संधि इसिें अ, आ के आिे इ, ई हो तो ए ; उ, ऊ हो तो ओ तर्थ ऋ हो तो अर् हो जथतथ है। इसे िुर्ण-संधि कहते हैं। जैसे - (क) अ + इ = ए ; नर + इंद्र = नरेंद्र अ + ई = ए ; नर + ईश = नरेश आ + इ = ए ; िहथ + इंद्र = िहेंद्र (ख) अ + उ = ओ ; ज्ञथन + उपदेश = ज्ञथनोपदेश ; आ + उ = ओ िहथ + उत्सव = िहोत्सव अ + ऊ = ओ जल + ऊमिघ = जलोमिघ ; (र्) अ + ऋ = अर् देव + ऋवि = देवविघ (र्) आ + ऋ = अर् िहथ + ऋवि = िहविघ
  • 6. 3. वृद्धि संधि अ, आ कथ ए, ऐ से िेल होने पर ऐ तर्थ अ, आ कथ ओ, औ से िेल होने पर औ हो जथतथ है। इसे वृद्धि संधि कहते हैं। जैसे - (क) अ + ए = ऐ ; एक + एक = एकै क ; अ + ऐ = ऐ ित + ऐक्य = ितैक्य आ + ए = ऐ ; सदथ + एव = सदैव आ + ऐ = ऐ ; िहथ + ऐश्वयघ = िहैश्वयघ (ख) अ + ओ = औ वन + औिधि = वनौिधि ; आ + ओ = औ िहथ + औिधि = िहौिधि ; अ + औ = औ परि + औिि = परिौिि ; आ + औ = औ िहथ + औिि = िहौिि
  • 7. 4. यर्ण संधि (क) इ, ई के आिे कोई ववजथत य (असिथन) स्वर होने पर इ ई को ‘य ्’ हो जथतथ है। (ख) उ, ऊ के आिे ककस ववजथत य स्वर के आने पर उ ऊ को ‘व ्’ हो जथतथ है। (र्)‘ऋ’ के आिे ककस ववजथत य स्वर के आने पर ऋ को ‘र्’ हो जथतथ है। इन्हें यर्ण-संधि कहते हैं। इ + अ = य ् + अ; यदद + अवप = यद्यवप ई + आ = य ् + आ ; इनत + आदद = इत्यथदद। (र्) उ + अ = व ् + अ ; अनु + अय = अन्वय उ + आ = व ् + आ ; सु + आित = स्वथित उ + ए = व ् + ए; अनु + एिर्ण = अन्वेिर्ण
  • 8. 5. अयथदद संधि ए, ऐ और ओ औ से परे ककस भ स्वर के होने पर क्रिशः अय्, आय्, अव् और आव् हो जथतथ है। इसे अयथदद संधि कहते हैं। (क) ए + अ = अय् + अ ; ने + अन = नयन (ख) ऐ + अ = आय् + अ ; िै + अक = िथयक (र्) ओ + अ = अव् + अ ; पो + अन = पवन (र्) औ + अ = आव् + अ ; पौ + अक = पथवक औ + इ = आव् + इ ; नौ + इक = नथववक
  • 9. व्यंजि का व्यंजि से अर्वा ककसी स्वर से मेल होिे पर जो पररवर्तथि होर्ता है उसे व्यंजि संधि कहर्ते हैं। जैसे-शरर्त् + चंद्र = शरच्चंद्र। उज्जवल
  • 10. (क) ककस विघ के पहले वर्णघ क्, च्, ट्, त्, प् कथ िेल ककस विघ के त सरे अर्वथ चौर्े वर्णघ यथ य्, र्, ल व ्, ह यथ ककस स्वर से हो जथए तो क् को ि् च् क ज्, ट् को ड् और प् को ब् हो जथतथ है। जैसे क् + ि = ग्ि ददक् + िज = ददग्िज। क् + ई = ि वथक + ईश = वथि श (ख) यदद ककस विघ के पहले वर्णघ (क्, च्, ट्, त्, प कथ िेल न् यथ ि ् वर्णघ से हो तो उसके स्र्थन प उस विघ कथ पथँचवथँ वर्णघ हो जथतथ है। जैसे क् + ि = ड़् वथक + िय = वथड़्िय च् + न = ञ अच् + नथश = अञ्नथश
  • 11. (र्) त ् कथ िेल ि, र्, द, ि, ब, भ, य, र, व यथ ककस स्वर से हो जथए तो द् हो जथतथ है। जैसे - त ् + भ = द्भ सत ् + भथवनथ = सद्भथवनथ त ् + ई = दी जित ् + ईश = जिदीश (र्) त ् से परे च ् यथ छ् होने पर च, ज ् यथ झ् होने पर ज ्, ट् यथ ठ् होने पर ट्, ड् यथ ढ् होने पर ड् और ल होने पर ल ् हो जथतथ है। जैसे - त ् + च = च्च उत ् + चथरर्ण = उच्चथरर्ण त ् + ज = ज्ज सत ् + जन = सज्जन त ् + झ = ज्झ उत ् + झदिकथ = उज्झदिकथ त ् + ि = ट्ि तत ् + िीकथ = तट्िीकथ (ड़) त ् कथ िेल यदद श ् से हो तो त ् को च ् और श ् कथ छ् बन जथतथ है। जैसे - त ् + श ् = च्छ उत ् + श्वथस = उच्छ्वथस त ् + श = च्छ उत ् + मशष्ि = उच्च्छष्ि
  • 12. (च) त ् कथ िेल यदद ह् से हो तो त ् कथ द् और ह् कथ ि ् हो जथतथ है। जैसे - त ् + ह = द्ि उत ् + हथर = उद्िथर त ् + ह = द्ि उत ् + हरर्ण = उद्िरर्ण (छ) स्वर के बथद यदद छ् वर्णघ आ जथए तो छ् से पहले च ् वर्णघ बढथ ददयथ जथतथ है। जैसे - अ + छ = अच्छ स्व + छंद = स्वच्छंद आ + छ = आच्छ आ + छथदन = आच्छथदन (ज) यदद ि ् के बथद क् से ि ् तक कोई व्यंजन हो तो ि ् अनुस्वथर िें बदल जथतथ है। जैसे - ि ् + च ् = ंं ककि ् + धचत = ककं धचत ि ् + क = ंं ककि ् + कर = ककं कर (झ) ि ् के बथद ि कथ द्ववत्व हो जथतथ है। जैसे - ि ् + ि = म्ि सि ् + िनत = सम्िनत ि ् + ि = म्ि सि ् + िथन = सम्िथन
  • 13. (ञ) ि ् के बथद य ्, र्, ल ्, व ्, श ्, ि ्, स ्, ह् िें से कोई व्यंजन होने पर ि ् कथ अनुस्वथर हो जथतथ है। जैसे - ि ् + य = ंं सि ् + योि = संयोि ि ् + र = ंं सि ् + रक्षर्ण = संरक्षर्ण (ट) ऋ, र्, ि ् से परे न ् कथ र्ण ् हो जथतथ है। परन्तु चविघ, िविघ, तविघ, श और स कथ व्यविथन हो जथने पर न ् कथ र्ण ् नहीं होतथ। जैसे - र् + न = र्ण परर + नथि = पररर्णथि र् + ि = र्ण प्र + िथन = प्रिथर्ण (ठ) स ् से पहले अ, आ से मभन्न कोई स्वर आ जथए तो स ् को ि हो जथतथ है। जैसे - भ ् + स ् = ि अमभ + सेक = अमभिेक नन + मसद्ि = ननविद्ि वव + सि + वविि
  • 14. ववसर्थ के बाद स्वर या व्यंजि आिे पर ववसर्थ में जो ववकार होर्ता है उसे ववसर्थ-संधि कहर्ते हैं। जैसे- मिः + अिुकू ल = मिोिुकू ल
  • 15. (क) ववसिघ के पहले यदद ‘अ’ और बथद िें भ ‘अ’ अर्वथ विों के त सरे, चौर्े पथँचवें वर्णघ, अर्वथ य, र, ल, व हो तो ववसिघ कथ ओ हो जथतथ है। जैसे – िनः + अनुकू ल = िनोनुकू ल ; अिः + िनत = अिोिनत ; िनः + बल = िनोबल (ख) ववसिघ से पहले अ, आ को छोड़कर कोई स्वर हो और बथद िें कोई स्वर हो, विघ के त सरे, चौर्े, पथँचवें वर्णघ अर्वथ य ्, र, ल, व, ह िें से कोई हो तो ववसिघ कथ र यथ र् हो जथतथ है। जैसे - ननः + आहथर = ननरथहथर ; ननः + आशथ = ननरथशथ ननः + िन = ननिघन (र्) ववसिघ से पहले कोई स्वर हो और बथद िें च, छ यथ श हो तो ववसिघ कथ श हो जथतथ है। जैसे - ननः + चल = ननश्चल ; ननः + छल = ननश्छल ; दुः + शथसन = दुश्शथसन
  • 16. (र्) ववसिघ के बथद यदद त यथ स हो तो ववसिघ स ् बन जथतथ है। जैसे - निः + ते = निस्ते ; ननः + संतथन = ननस्संतथन ; दुः + सथहस = दुस्सथहस (ड़) ववसिघ से पहले इ, उ और बथद िें क, ख, ि, ठ, प, फ िें से कोई वर्णघ हो तो ववसिघ कथ ि हो जथतथ है। जैसे - ननः + कलंक = ननष्कलंक ; चतुः + पथद = चतुष्पथद ; ननः + फल = ननष्फल (ड) ववसिघ से पहले अ, आ हो और बथद िें कोई मभन्न स्वर हो तो ववसिघ कथ लोप हो जथतथ है। जैसे - ननः + रोि = ननरोि ; ननः + रस = न रस (छ) ववसिघ के बथद क, ख अर्वथ प, फ होने पर ववसिघ िें कोई पररवतघन नहीं होतथ। जैसे - अंतः + करर्ण = अंतःकरर्ण
  • 17. Made by : Ruturaj Pandav Standard: 9 Division : C Subject : Hindi PPT