Successfully reported this slideshow.
We use your LinkedIn profile and activity data to personalize ads and to show you more relevant ads. You can change your ad preferences anytime.

भगवान बुद्ध पी पी टी

155 views

Published on

बुद्ध के विचारोकी प्रासंगिकता

Published in: Education
  • मानव का जीवन तपस्या का मूल है|
       Reply 
    Are you sure you want to  Yes  No
    Your message goes here
  • बुद्दि ही मानव की सबसे बड़ी संगी है |
       Reply 
    Are you sure you want to  Yes  No
    Your message goes here
  • महाजन ही संसार को सदमार्ग की राह दिखा सकते है |
       Reply 
    Are you sure you want to  Yes  No
    Your message goes here
  • Be the first to like this

भगवान बुद्ध पी पी टी

  1. 1. भगवान बुद्ध के ववचारों की वर्तमान समय के साथ प्रासंगगकर्ा
  2. 2. ववचारक-ककशन गोपाल मीना टी जी टी संस्कृ र् कें द्रीय ववद्यालय सवाई माधोपुर (राजस्थान संसार की रचना अदभूर् है प्राकृ तर्क सौंदयतर्ा ववशाल समुद्र ,नीले गगन की असीम सुंदरर्ा ,कल –कल बहर्े झरने ,ऊं चे-ऊं चे पवतर् ,ववववध जीव मानों सृष्टट में र्ीनों लोकों की मानों सकल चारुर्ा रस घोल ददया हो |ववशेष कर मानव कृ तर् के ललए र्ो सारे गुण ,सुंदरर्ा ,दयालुर्ा ,कारुण्यभाव आदद प्रदान कर मानों देवर्ाओं के साथ भेदभाव ककया हो |मानव जीवन इस जगर् का सवोपरर जीव है देवर्ा भी इस देह के ललए आशा रखर्े है
  3. 3. तुलसीदासजी ने रामचररत मानस मे ललखा है ------ बड़े भाग मानुष तन पावा | सुर दुललभ सब ग्रंथ न गावा || ईश्वर ने सभी जीवों को बराबर का हक ददया है ककसी के साथ भेदभाव नह ं ककया है |इहलोक में सब प्रेम से रहते है |परंतु कु छ मानव ईश्वर की द हुई शक्तत का दुरुपयोग कर रहे है ,ववशेष कर ननजी स्वाथल वश इस जगत में अनथल कायल कर रहे है | क्जससे पृथ्वी के अनेक दहस्से ववभाक्जत हो गए वो अलग-अलग देश के नाम से जाने गए है |आज के समय में जानत भेदभाव ,धमल ,वर्ल आदद को माध्यम बनाकर सम्पूर्ल ववश्व में कोहराम मचा हुआ सभी जगत के जीवों में आपसी गहर खाई बनाने का काम ककया जा रहा है क्जसको धमल की रक्षा मानते है |

×