Successfully reported this slideshow.

महोगनी की खेती कैसे होती है | Mahogany Farming GREEN INDIA BIO TECH

0

Share

Upcoming SlideShare
What to Upload to SlideShare
What to Upload to SlideShare
Loading in …3
×
1 of 4
1 of 4

महोगनी की खेती कैसे होती है | Mahogany Farming GREEN INDIA BIO TECH

0

Share

Download to read offline

GIBT is a leading for best plant company in Patna Bihar. Plant supplier for Sagwan teak tissue Culture plants. Just call and WhatsApp for plant 7250210515. I have high quality plants available here. Green India Bio Tech is a good plant company in Patna, India. Best Mahogany Plant Company in Patna | Mahogany Plant in Patna | Mahogany Supplier Agency in Patna India

GIBT is a leading for best plant company in Patna Bihar. Plant supplier for Sagwan teak tissue Culture plants. Just call and WhatsApp for plant 7250210515. I have high quality plants available here. Green India Bio Tech is a good plant company in Patna, India. Best Mahogany Plant Company in Patna | Mahogany Plant in Patna | Mahogany Supplier Agency in Patna India

More Related Content

Related Books

Free with a 14 day trial from Scribd

See all

महोगनी की खेती कैसे होती है | Mahogany Farming GREEN INDIA BIO TECH

  1. 1. विश्वस्तरीय पौधा सप्लायर क ं पनी और विहार का विश्वास ग्रीन इंविया िायो टेक क े साथ। हरा भरा होगा हमारा िातािरण महोगनी की खेती क ै से होती है | Mahogany Farming महोगनी लकडी की कीमत GREEN INDIA BIO TECH +91-7250210515 www.greenindiabiotech.in greendiabiotech01@gmail.com महोगनी की खेती (Mahogany Farming) से सम्बंवधत जानकारी इस वृक्ष की पत्तिय ों में एक खास तरह का गुण पाया जाता है, त्तजससे इसक े पेड क े पास त्तकसी भी तरह क े मच्छर और कीट नहीों आते है | इस वजह से इसकी पत्तिय ों और बीज क े तेल का इस्तेमाल मच्छर मारने वाली दवाइय ों और कीटनाशक क बनाने में त्तकया जाता है | इसक े तेल का उपय ग कर साबुन, पेंट, वात्तनिस और कई तरह की दवाइय ों क बनाया जाता है, महोगनी पेड से सम्बंवधत पूरी जानकारी महोगनी की खेती क ै से होती है, Green India Bio Tech Mahogany Farming, महोगनी लकडी की कीमत क े बारे में बताया जा रहा है| मह गनी वृक्ष क बहुत ही कीमती वृक्ष क े रूप में जाना जाता है, यह ऐसा वृक्ष है त्तजसक े सभी भाग क उपय ग में लाया जाता है | मह गनी पेड खासकर व्यापाररक उद्देश्य क े त्तलए ह ता है, यह अत्यत्तिक मजबूत और त्तटकाऊ वृक्ष ह ता है | इसत्तलए इसका इस्तेमाल जहाज़, कीमती, फनीचर, प्लाईवुड, सजावट की वस्तुए और मूत्ततिय ों क बनाने में ह ता है | यह एक औषिीय पौिा भी है, इसत्तलए इसक े बीज और फ ू ल ों का इस्तेमाल शक्तिवििक दवाइय ों क बनाने में ह ता है|
  2. 2.  ग्रीन इंविया िायो टेक - महोगनी की खेती क ै से की जाती है (How to Cultivate Mahogany with Green India Bio Tech)  मह गनी क े वृक्ष ों क उस जगह पर उगाया जाता है, जहा तेज हवाएों कम चलती है, क्य त्तक इसक े पेड 40 से 200 फीट की लम्बाई तक लम्बे ह ते है | त्तकन्तु भारत में यह पेड क े वल 60 फीट की लम्बाई तक ही ह ते है | इन पेड की जडे कम गहरी ह ती है, और भारत में इन्हें पहाडी क्षेत् ों क छ डकर त्तकसी भी जगह उगाया जा सकता है | मह गनी क े पेड की खेती कर अच्छी कमाई की जा सकती है|  महोगनी क े पेडो को उगाने क े वलए उपयुक्त वमट्टी (Suitable Soil for Growing Mahogany Trees)  इसक े पेड क त्तकसी भी उपजाऊ त्तमट्टी में उगाया जा सकता है, लेत्तकन जल भराव वाली भूत्तम में इसक े वृक्ष ों क न लगाए और न ही पथरीली त्तमट्टी में लगाए | इन पेड क े त्तलए त्तमट्टी का P.H. मान सामान्य ह ना चात्तहए |  महोगनी क े पेडो क े वलए उवित जलिायु ि तापमान (Suitable Climate and Temperature for Mahogany Trees)  इसकी खेती क े त्तलए उष्णकत्तटबोंिीय जलवायु क सबसे अच्छा माना जाता है, अत्तिक वषाि इसक े पेड क े त्तलए उपयुि नहीों ह ती है | सामान्य मौसम में इसक े पेड का अच्छे से त्तवकास ह ता है, जब इसक े पौि क लगाया जाता है तब इनक तेज गमी और सदी से बचाना ह ता है | इनकी जडे ज्यादा गहरायी में नहीों ह ती है, इसत्तलए तेज हवाओों से इनक े पेड क खतरा ह ता है | सत्तदिय ों में त्तगरने वाला पाला भी इनक े पौि क हात्तन पहुुँचाता है |  मह गनी क े पौि क अोंक ु ररत और त्तवकत्तसत ह ने क े त्तलए सामान्य तापमान की आवश्यकता ह ती है, सत्तदिय ों क े मौसम में 15 और गत्तमिय ों क े मौसम में 35 त्तडग्री क े तापमान में अच्छे से त्तवकास करते है |  महोगनी क े िृक्ों की विकवसत वकस्मे (Developed Varieties of Mahogany Trees)  भारत में इसक े पेड की अभी तक क ई खास प्रजात्तत नहीों है, अभी तक क े वल 5 त्तवदेशी त्तकस्मे कलमी त्तकस्म क ही उगाया गया है| त्तजनमें क्यूबन, मैक्तिकन, अफ्रीकन, न्यूज़ीलैंड, और ह न्ड ू रन आत्तद त्तकस्में शात्तमल हैं | पेड की यह सभी त्तकस्मे पौिे और उनकी उपज की गुणविा क े आिार पर उगाई जाती है, यह पौिे लम्बाई में 50 से 200 फीट तक ह ते है |
  3. 3.  महोगनी पौधो को लगाने क े वलए खेत की तैयारी (Field Preparation for Planting Plants)  सबसे पहले खेत की अच्छी तरह से गहरी जुताई कर लें, त्तफर द तीन बार इसकी त्ततरछी जुताई कर दे | इसक े बाद खेत में पटा लगा कर खेत क पूरा समतल कर दें | खेत क े समतल ह जाने पर जल भराव की समस्या का सामना नहीों करना पडेगा |जब खेत समतल ह जाये त उसमे 6 से 7 फीट की दू री पर तीन फीट चौडे और द फीट गहरे गढ्ढे बना लें |  इन सभी गढ्ढ क एक लाइन में ही तैयार करे, और तैयार की गयी प्रत्येक लाइन क े बीच में चार मीटर की दू री ह नी चात्तहए | तैयार त्तकये गए गढ्ढ में जैत्तवक और रासायत्तनक खाद क त्तमट्टी में त्तमलाकर भर दें | इसक े बाद इन गढ्ढ की अच्छे से वसंिाई कर दें, इन गढ्ढ क पौि की र पाई से एक महीने पहले तैयार त्तकया जाता है |  महोगनी पौधो की रोपाई का सही समय और तरीका (Right Time and Method of Planting Seedlings)  मह गनी की खेती क े त्तलए इसक े पौि ों क त्तकसी भी पोंजीक ृ त सरकारी क ों पनी से ख़रीदा जा सकता है, इसक े अत्ततररि इसक े पौि ों क नसिरी में भी तैयार त्तकया जा सकता है | पौि ों क नसिरी में तैयार करने में अत्तिक समय व मेहनत लगती है | इसत्तलए इसक े पौि ों क खरीद कर लगाना ज्यादा उत्तचत ह ता है | नसिरी से पौि ों क खरीदते समय यह जरूर ध्यान रखे त्तक पौिे द से तीन वषि पुराने और अच्छे से त्तवकत्तसत ह |  इसक े बाद ख़रीदे गए पौि ों क तैयार त्तकये गए गढ्ढ में लगा दें, पौि ों क लगाने क े त्तलए गढ्ढे क े बीच – बीच छ टा सा गढ्ढा बना ले, त्तफर उसमे इन पौि ों क लगा कर त्तमट्टी से अच्छी तरह ढक दें |  इसक े पौि ों क लगाने क े त्तलए जून और जुलाई क े महीने क ज्यादा उपयुि माना गया है | भारत में इस दौरान मानसून का मौसम ह ता है, त्तजससे पौि ों क त्तवकास करने क े त्तलए उत्तचत वातावरण प्राप्त ह ता है | इस दौरान बाररश क े ह जाने से पौि ों की त्तसचाई की भी अत्तिक जरूरत नहीों ह ती है |  महोगनी पौधों की वसंिाई कि और क ै से करनी िावहए (When and How to Irrigate Plants)  जब पौि ों क खेत में लगा त्तदया जाता है, तब उन्हें अत्तिक त्तसोंचाई की आवश्यकता ह ती है | गत्तमिय ों क े मौसम में पौि ों क 5 से 7 त्तदन क े अोंतराल में पानी देते रहना चात्तहए | वही सत्तदिय ों क े मौसम की बात करे त 10 से 15 त्तदन क े अोंतराल में पौि ों क पानी देना उत्तचत ह ता है | बाररश क े मौसम की बात करे त आवश्यकता पडने पर ही पौि ों क पानी दे | पौि ों क े त्तवकास क े साथ इनक पानी देने की मात्ा घट जाती है | पूरी तरह से त्तवकत्तसत ह चुक े पौि ों क वषि में क े वल 5 से 6 त्तसोंचाई की ही जरूरत ह ती है |
  4. 4.  महोगनी पौधों की उपज क े वलए उिवरक की मात्रा (Fertilizer Amount for Plant Yield)  इसक े पौि ों क भी अच्छे त्तवकास क े त्तलए उवरिक की जरूरत ह ती है | इसक े त्तलए गड्ड क भरते समय 20 त्तकल ग बर की खाद क े साथ 80 ग्राम एन.पी.क े . की मात्ा क त्तमट्टी में त्तमला दें | उवरिक की इस मात्ा क तक़रीबन चार वषि तक देनी चात्तहए, और जैसे – जैसे पौि ों का त्तवकास ह ता है वैसे -वैसे उवरिक की मात्ा क बढा देंनी चात्तहए | पौि ों क े पूरी तरह त्तवकत्तसत ह जाने पर 50 त्तकल जैविक खाद और एक त्तकल रासायत्तनक खाद की मात्ा क वषि में तीन बार त्तसोंचाई क े पहले देनी चात्तहए |  महोगनी पौधों पर खरपतिार वनयंत्रण क ै से करे (How to Control Weeds)  खरपतिार पर त्तनयोंत्ण क े त्तलए पौि ों की वनराई-गुडाई की आवश्यकता ह ती है | खेत में पौि ों क लगाने क े बीस त्तदन पश्चात् खेत की पहली गुडाई कर जन्म लेने वाले खरपतवार क त्तनकाल देना चात्तहए | इसक े बाद समय समय पर खेत में जब भी क ई खरपतवार त्तदखे त उसकी गुडाई कर त्तनकाल दें | खेत में खाली पडी जमीन की जुताई बाररश क े मौसम क े बाद कर देनी चात्तहए |  महोगनी क े िृक्ों से अवतररक्त कमाई क ै से करे (How to Earn Extra)  मह गनी क े पौिे 6 वषि में पूणि रूप से त्तवकत्तसत ह कर पेड बन जाते है | इस बीच यत्तद वकसान भाई चाहे त वृक्ष ों क े बीच में खाली पडी जमीन में दलहन की फसल क लगा अच्छी कमाई कर सकते है | इसक े पेड क े कटने में कई वषि लगते है, त्तजससे त्तकसान दलहन की फसल क कर अपनी आत्तथिक परेशात्तनय ों से बच सकते है | साथ ही पौि ों क नाइटर जन की पयािप्त मात्ा भी त्तमलती रहेगी|  महोगनी क े िृक्ों में लगने िाले रोग और उनकी रोकथाम (Mahogany Tree Diseases and Their Prevention)  इसक े पेड में त्तकसी तरह क े र ग नहीों देखने क त्तमलते है, क्य त्तक इसक े पेड की पत्तिय ों का उपय ग ही कीटनाशक दवाइय ों क तैयार करने में ह ता है | इसमें क े वल अत्तिक जल क े भरे रहने से तन क े गलन का खतरा ह सकता है | इसक े त्तलए गढ्ढ क जलभराव से बचाव करना चात्तहए |  महोगनी लकडी की कीमत (Price Value Of Mahogany Wood)  मह गनी क े वृक्ष 6 से 12 वषि क े लम्बे समय क े बाद कटने क े त्तलए तैयार ह जाते है | पेड क े पूरी तरह से तैयार ह जाने पर यत्तद इसकी कटाई अत्तिक समय तक नहीों की जाती है, त यह और अच्छी उपज देते है | इसक े वृक्ष ों क जड क े पास से काटा जाता है |  मह गनी क े वृक्ष एक एकड में लगभग 12 वषि क े इोंतजार क े बाद कर ड की कमाई कराते है | इसक े पेड की लकत्तडय ों का मूल्य द हज़ार रूपये प्रत्तत घनत्तफट क े त्तहसाब से ह ता है | तथा इसक े बीज और पत्तिया भी अच्छी कीमत पर त्तबकते है, इसक े वृक्ष ों क ऊगा कर त्तकसान भाई अच्छी कमाई कर सकते है| BRANCH : RANCHI | PATNA | KANPUR +91-7250210515 Main Bengaluru, Karnataka Web: www.greenindiabiotech.in Email: greenindiabiotech01@gmail.com 7250210515 /greenindiabiotech /greenindiabiotech

×