Polity topic-antarrajiya-sambandh-5 c

2,843 views

Published on

Polity topic-antarrajiya-sambandh-5c

Published in: Education
0 Comments
1 Like
Statistics
Notes
  • Be the first to comment

No Downloads
Views
Total views
2,843
On SlideShare
0
From Embeds
0
Number of Embeds
2,482
Actions
Shares
0
Downloads
10
Comments
0
Likes
1
Embeds 0
No embeds

No notes for slide

Polity topic-antarrajiya-sambandh-5 c

  1. 1. अंतर्राज्यीय संबंध भरर्तीय र्रजव्यवस्थर एवं अभभशरसन www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM
  2. 2. भारतीय संघीय व्यवस्था की सफलता मात्र कें द्र तथा राज्यों के सौहार्दपूर्द संबंधों तथा घनिष्ठ सहभागिता पर ही िहीं अपपतु राज्यों के अंतदसंबंधो पर भी निभदर करती है। अतः संपवधाि िे अंतरादज्यीय सौहार्द के संबंध में निम्ि प्रावधाि ककए हैं- • अंतरादज्यीय जल पववार्ों का न्यायनिर्दयि, • अंतरादज्यीय पररषर् द्वारा समन्वयता, • सावदजनिक कािूिों, र्स्तावेजों तथा न्यानयक प्रकियाओं को पारस्पररक मान्यता • अंतरादज्यीय व्यापार, वाणर्ज्य तथा समािम की स्वतंत्रता । Click Here To Join Online IAS Pre Online Coaching www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM
  3. 3. अंतर्राज्यीय जल वववरद • संपवधाि का अिुच्छेर् 262 अंतरादज्यीय जल पववार्ों के न्यायनिर्दयि से संबंगधत है। • यदर् जल पववार्ों से पवगधक अगधकार या दहत जुड़े हुये हैं तो उच्चतम न्यायालय को यह अगधकार है कक वह राज्यों के मध्य जल पववार्ों की स्स्थनत में उिसे जुड़े मामलों की सुिवाई कर सकता है। • अब तक कें द्र सरकार छह अंतरादज्यीय जल पववार् न्यायागधकरर्ों का िठि कर चुकी है। Click Here To Join Online IAS Pre Online Coaching www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM
  4. 4. अंतर्राज्यीय परर्षदें • अिुच्छेर् 263 राज्यों के मध्य तथा कें द्र तथा राज्यों के मध्य समन्वय के ललए अंतरादज्यीय पररषर् के िठि की व्यवस्था करता है। • राष्रपनत ऐसी पररषर् के कतदव्यों, इसके संिठि और प्रकिया को पररभापषत (निधादररत) कर सकता है। Click Here To Join Online IAS Pre Online Coaching www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM
  5. 5. अिुच्छेर् 263 अिुसार इसके कतदव्यों को उल्लेख करता है । • राज्यों के मध्य उत्पन्ि पववार्ों की जांच करिा तथा ऐसे पववार्ों पर सलाह र्ेिा । • उि पवषयों पर, स्जिमें राज्यों अथवा कें द्र तथा राज्यों का समाि दहत हो, अन्वेषर् तथा पवचार-पवमर्द करिा । • ऐसे पवषयों तथा पवर्ेष तौर पर िीपव तथा इसके कियान्वयि में बेहतर समन्वय के ललए संस्तुनत करिा। Click Here To Join Online IAS Pre Online Coaching www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM
  6. 6. अंतर्राज्यीय व्यरपरर् तथर वरणिज्य • संपवधाि के भाि XIII के अिुच्छेर् 301 से 307 में भारतीय क्षेत्र में व्यापार, वाणर्ज्य तथा समािम का वर्दि है। अिुच्छेर् 301 घोषर्ा करता है कक संपूर्द भारतीय क्षेत्र में, व्यापार, वाणर्ज्य तथा समािम स्वतंत्र होिा। इस प्रावधाि का उद्देश्य राज्यों के मध्य सीमा अवरोधों को हटािा तथा र्ेर् में व्यापार, वाणर्ज्य तथा समािम के अबाध प्रवाह को प्रोत्सादहत करिे हेतु एक इकाई बिािा है। Click Here To Join Online IAS Pre Online Coaching www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM
  7. 7. क्षेत्रीय परर्षदें • क्षेत्रीय पररषर्ें सांपवगधक निकाय है (ि कक सांपवधानिक)। इसका िठि संसर् द्वारा अगधनियम बिाकर ककया िया है, जो कक राज्य पुििदठि अगधनियम 1956 है। • इस कािूि िे र्ेर् को पांच क्षेत्रों में पवभास्जत ककथा है। (उत्तरी, मध्य पूवी, पस्श्चमी तथा र्क्षक्षर्ी) तथा प्रत्येक क्षेत्र के ललए एक क्षेत्रीय पररषर् का िठि ककया है । Click Here To Join Online IAS Pre Online Coaching www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM
  8. 8. क्षेत्रीय परर्षदें • कें द्र सरकार का िृहमंत्री पांचों क्षेत्रीय पररषर्ों का अध्यक्ष होता है। प्रत्येक मुख्यमंत्री िमािुसार एक वषद के समय के ललए पररषर् के उपाध्यक्ष के रूप में कायद करता है । • क्षेत्रीय पररषर्ों का उद्देश्य राज्यों, के न्द्र र्ालसत प्रर्ेर्ों तथा कें द्र के बीच सहभागिता तथा समन्वयता को बढ़ावा र्ेिा है। Click Here To Join Online IAS Pre Online Coaching www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM
  9. 9. ऑनलरइन कोच ंग के बरर्े में अचधक जरनकरर्ी के भलए यहरं क्ललक कर्ें http://iasexamportal.com/civilservices/courses/ias-pre/csat- paper-1-hindi हरर्ा कॉपी में सरमरन्य अध्ययन प्ररर्ंभभक पर्ीक्षर (स्टर्ी ककट - पेपर् - 1 (Paper - 1) खर्ीदने के भलए यहरं क्ललक कर्ें http://iasexamportal.com/civilservices/study-kit/ias-pre/csat- paper-1-hindi Click Here To Join Online IAS Pre Online Coaching www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM
  10. 10. IASEXAMPORTAL Other Online Courses Online Course for Civil Services Preliminary Examination  सीसैट (CSAT) प्रारंलभक परीक्षा के ललए ऑिलाइि कोगचंि (पेपर - 2)  Online Coaching for CSAT Paper - 1 (GS)  Online Coaching for CSAT Paper - 2 (CSAT) Online Course for Civil Services Mains Examination General Studies Mains (NEW PATTERN - Paper 2,3,4,5) Public Administration for Mains For Know More Click Here: http://iasexamportal.com/civilservices/courses Click Here To Join Online IAS Pre Online Coaching www.iasexamportal.com © IASEXAMPORTAL.COM

×