Online coaching-csat-paper-2-decision-making-1 a
Upcoming SlideShare
Loading in...5
×
 

Online coaching-csat-paper-2-decision-making-1 a

on

  • 1,189 views

Online coaching-csat-paper-2-decision-making-1 a

Online coaching-csat-paper-2-decision-making-1 a

Statistics

Views

Total Views
1,189
Views on SlideShare
439
Embed Views
750

Actions

Likes
0
Downloads
9
Comments
0

5 Embeds 750

http://www.upscportal.com 250
http://iasexamportal.com 229
http://upscportal.com 134
http://www3.upscportal.com 131
http://translate.googleusercontent.com 6

Accessibility

Categories

Upload Details

Uploaded via as Adobe PDF

Usage Rights

© All Rights Reserved

Report content

Flagged as inappropriate Flag as inappropriate
Flag as inappropriate

Select your reason for flagging this presentation as inappropriate.

Cancel
  • Full Name Full Name Comment goes here.
    Are you sure you want to
    Your message goes here
    Processing…
Post Comment
Edit your comment

    Online coaching-csat-paper-2-decision-making-1 a Online coaching-csat-paper-2-decision-making-1 a Presentation Transcript

    • www.upscportal.com IAS सीसैट ऩेऩर-2 ननर्णयन ऺमता एवं समस्या समाधान तथा ऩारस्ऩररक कौशऱ (Decision Making & Problem Solving & Interpersonal Skills) अध्याय : ननर्णयन की ऩष्ठभमम ू ृ © UPSCPORTAL.COM IAS EXAM Online Coaching
    • ननर्णयन की ऩष्ठभमम ू ृ www.upscportal.com ननर्णयन प्रक्रिया क चरर् े एक प्रबावी ननणणम-ननभाणण क छह चयण होते हैंे 1. एक यचनात्भक वातावयण का ननभाणण 2. अच्छे ववकल्ऩों का सजन ृ 3. इन ववकल्ऩों का अन्वेषण 4.सवोतभ ववकल्ऩ को चुनना 5. अऩने ननणणम की जाॉच 6. अऩने ननणणम का सम्प्प्रेषण एवॊ तदनसाय कामणवाही ु © 2014 UPSCPORTAL .COM ऑनऱाइन कोचचंग में सम्मममऱत होने क मऱए यहां म्लऱक करें े
    • ननर्णयन की ऩष्ठभमम ू ृ www.upscportal.com एक ‘अच्छे ’ ननर्णय की अवधारर्ा ‘कामण’ क टुकडे कयना े प्रत्मेक चयण भें सन्तुरन राना ‘अनभान‘ की ‘सीढी’ ( ‘ननष्कषण’ ऩय ‘कदने’ से फचें ) ु ू उऩरब्ध सचनाओॊ से सवोत्तभ ववकल्ऩ ननर्भणत कयना ू छह चचन्तन ‘है ट’ -ननणणमन प्रक्रिमा क छह तयीक े े छह चचन्तन है ट का प्रमोग कयना आऩको सीखना होगा जैसेेः © 2014 UPSCPORTAL .COM ऑनऱाइन कोचचंग में सम्मममऱत होने क मऱए यहां म्लऱक करें े
    • ननर्णयन की ऩष्ठभमम ू ृ www.upscportal.com सभस्माओॊ, ननणणमों एवॊ अवसयों को व्मवस्स्थत रूऩ से दे खें । अचधक फेहतय ववचायों एवॊ सभाधानों को उत्ऩन्न कयने क र्रए सभूह मा टीभ क रूऩ े े भें सभान्तय चचन्तन का प्रमोग कयें । फैठकों को सॊक्षऺप्त एवॊ अचधक यचनात्भक फनाएॉ। दस सदस्मों मा फैठक भें बाग रेने वारे प्रनतमोचगमों क फीच सॊघषण को कभ कयें । े अचधक औय फेहतय ववचायों को शीघ्र उत्ऩन्न कयक नवाचाय को फढावा दें । े गनतशीर एवॊ ऩरयणाभोन्भुख फैठक कयें स्जससे रोग उसभें बाग रेना चाहें । ें प्रबावी वैकस्ल्ऩक सभाधान की खोज क र्रए स्ऩष्ट रूऩ से सीभा क ऩाय बी जाए । े े जहाॊ दसये कवर सभस्माएॊ दे खते हैं, वहाॉ अवसय को ढूॉढ ननकारें । े ू स्ऩष्ट एवॊ वस्तननष्ठ ढॊ ग से सोचें । ु © 2014 UPSCPORTAL .COM ऑनऱाइन कोचचंग में सम्मममऱत होने क मऱए यहां म्लऱक करें े
    • ननर्णयन की ऩष्ठभमम ू ृ www.upscportal.com नए एवॊ असाधायण दृस्ष्टकोण से सभस्माओॊ को दे खें। सभग्र रूऩ से भूल्माॊकन कयें । क्रकसी बी स्स्थनत क सबी ऩऺों को दे खें। े अहभ ् यखें औय जाॉच को ऩूणण सॊयऺण दें । भहत्वऩणण एवॊ साथणक ऩरयणाभ प्राप्त कयें । ू © 2014 UPSCPORTAL .COM ऑनऱाइन कोचचंग में सम्मममऱत होने क मऱए यहां म्लऱक करें े
    • ननर्णयन की ऩष्ठभमम ू ृ www.upscportal.com ववत्तीय ननर्णयन रागत एवॊ प्रास्प्त क फीच सॊतरन फनाना े ु रागत की ऩन:प्रास्प्त ु वतणभान भें मथाथण भल्म ू © 2014 UPSCPORTAL .COM ऑनऱाइन कोचचंग में सम्मममऱत होने क मऱए यहां म्लऱक करें े
    • ननर्णयन की ऩष्ठभूमम ृ www.upscportal.com ननर्णयन प्रक्रिया ‘एक ववऻान’ व्मस्ततऩयक अऩेक्षऺत उऩमोचगता सम्प्फन्धी अवधायणा का ववचाय ननणणमन ‘वऺ-चचत्र’ ृ दो प्रकाय की डार्रमाॉ होती हैंननणणम डारी एक शाखा होती है जहाॉ ननणणमकताण ऩरयणाभ का चमन का कयता है ।  अवसय मा घटना डारी एक ऐसी शाखा होती है जहाॉ ऩरयणाभ अवसय मा फाह्म फरों द्वाया ननमस्न्त्रत क्रकए जाते हैं। ननणणम वऺ डार्रमों, शाखाओॊ क भाध्मभ से एक छोय े ृ (प्रामेः ऊऩय मा फामीॊ ओय ) से शरू होते हुए उत्ऩन्न होते हैं, जफ तक क्रक दो मा अचधक ु क ऩरयणाभ ववऩयीत छोय ऩय ऩहुॉच न जाएॉ । े  ‘क्रकपामती’ तयीक े © 2014 UPSCPORTAL .COM ऑनऱाइन कोचचंग में सम्मममऱत होने क मऱए यहां म्लऱक करें े
    • ननर्णयन की ऩष्ठभमम ू ृ www.upscportal.com ननर्णयन प्रक्रिया ‘एक ववऻान’ अन्मोन्माचित ननणणम-खेर अवधायणा । खेर मा िीडा सम्प्फन्धी धायणा को कसे रागू कयें ? ै ननहहताथण नैनतकता एवॊ ननणणमन © 2014 UPSCPORTAL .COM ऑनऱाइन कोचचंग में सम्मममऱत होने क मऱए यहां म्लऱक करें े
    • ‘स्माटण ’ प्रैम्लटस www.upscportal.com प्रश्न 1.यदद एक क्रियाम्ववत ववकल्ऩ काम करता प्रतीत नह ं होता है , तो प्रबवधक लया कर सकता है ? 1.प्रफन्धक अन्म ववकल्ऩों का प्रमोग कय सकता है 2.प्रफन्धक सभस्मा को ऩुनऩरयबावषत कयक उसे ऩुनेः प्रायम्प्ब कय ण े सकता है 3.प्रफन्धक दसये मा अन्म तयीक से भर ववकल्ऩ को क्रपय से क्रिमास्न्वत े ू ू कय सकता है 4.कद्ध उऩयोतत सबी © 2014 UPSCPORTAL .COM ऑनऱाइन कोचचंग में सम्मममऱत होने क मऱए यहां म्लऱक करें े
    • ‘स्माटण ’ प्रैम्लटस www.upscportal.com प्रश्न 2. ननमनमऱखित में से कौन ननर्णय-ननमाणर् का व्यवहारात्मक ऩऺ हैं? 1.नैनतकता 2.जोखखभ प्रवस्त्त ृ 3.याजनीनतक शस्तत 4.मे सबी © 2014 UPSCPORTAL .COM ऑनऱाइन कोचचंग में सम्मममऱत होने क मऱए यहां म्लऱक करें े
    • ‘स्माटण ’ प्रैम्लटस www.upscportal.com प्रश्न 3. राम ववदे शी भाषा का अध्ययन करता है । उसक सभी ममत्र े कहते हैं क्रक यह सरऱ यानन आसान रहे गा । तीसरे सप्ताह क बाद वह े महसस करता है क्रक भाषा को आत्मसात ् करना उसक मऱए बहुत कदठन े ू है । वह अऩना ऩाठयिम इस उममीद से जार रिता है क्रक वह अवतत् इस समस्या से ऩार ऩा ऱेगा। यह उदाहरर् लया दशाणता है । 1.तकसॊगत ननणणम-ननभाणण ण 2.यणनीनतक नेतत्व ृ 3.प्रनतफद्धता भें ववद्ध ृ 4.स्स्थनतजन्म नेतत्व ृ © 2014 UPSCPORTAL .COM ऑनऱाइन कोचचंग में सम्मममऱत होने क मऱए यहां म्लऱक करें े
    • ‘स्माटण ’ प्रैम्लटस www.upscportal.com प्रश्न 4. ननर्णय ऱेने समबवधी रर्नीनतयों क बारे में ननमनमऱखित में े से कौन-सा यग्म कथन गऱत है ? ु 1.िमोदर्शत ननणणम यणनीनत, असाभान्म घटनाएॉ 2.गैय-िमोदर्शत ननणणम यणनीनत, अऩुनयावत्त ननणणम ृ 3.अिमोदर्शत ननणणम यणनीनत, अप्रत्मार्शत ननणणम 4.प्रत्मेक यणनीनत को ऩरयबावषत कयने वारे आमाभ, ननत्म-अननत्म, आवती, गैय-आवती © 2014 UPSCPORTAL .COM ऑनऱाइन कोचचंग में सम्मममऱत होने क मऱए यहां म्लऱक करें े
    • ‘स्माटण ’ प्रैम्लटस www.upscportal.com प्रश्न 5. ननर्णय-ननमाणर् की सामाम्जक प्रक्रियाओं क रूऩ में े आचधकाररता से समह तक जाने समबवधी दृम्ष्टकोर् ननमन म्स्थनत में ू क्रकसे छोड़कर प्रत्येक क मऱए घदटत होती है ? े 1.सभह भें सॊघषण की सम्प्बावना फढती है ू 2.ननणणम रेने सम्प्फन्धी साभास्जक प्रक्रिमाएॉ अचधक जहटर हो जाती हैं 3.ननणणम-ननभाणता एवॊ ननणणम भें सॊरग्न अन्म रोगों क फीच साभास्जक े अन्तक्रिमा घट जाती है 4.सभह क सदस्मों की ननणणम क प्रनत प्रनतफद्धता फढ जाती है े ू े © 2014 UPSCPORTAL .COM ऑनऱाइन कोचचंग में सम्मममऱत होने क मऱए यहां म्लऱक करें े
    • THANK YOU! सीसैट ऩेऩर-2 : ऑनऱाइन कोचचंग में सम्मममऱत होने क मऱए यहां म्लऱक करें े http://www.upscportal.com/civilservices/courses/ias-pre/csat-paper-2-hindi सीसैट ऩेऩर-2 : If You want to Buy Hard Copy Click Here : http://www.upscportal.com/civilservices/study-kit/ias-pre/csat-paper-2hindi More IAS Online Coaching Courses http://www.upscportal.com/civilservices/courses www.upscportal.com
    • UPSCPORTAL other online Courses Online Course For Civil Services Preliminary Examination सामावय अध्ययन ऩेऩर-1 ऑनऱाइन कोचचंग Online Coaching For CSAT Paper -1 (GS) 2014 Online Coaching For CSAT Paper -2 (CSAT) 2014 Online Course For Civil Services Mains Examination General Studies Mains (New Pattern Paper 2,3,4,5) Contemporary Issues for Civil Services Main Examination Public Administration For Mains More IAS Online Coaching Courses http://www.upscportal.com/civilservices/courses www.upscportal.com