• Share
  • Email
  • Embed
  • Like
  • Save
  • Private Content
Geography topic-mahadvipo-aur-mahasagro-ki-utpatti-(1 d)
 

Geography topic-mahadvipo-aur-mahasagro-ki-utpatti-(1 d)

on

  • 1,238 views

Geography topic-mahadvipo-aur-mahasagro-ki-utpatti-(1 d)

Geography topic-mahadvipo-aur-mahasagro-ki-utpatti-(1 d)

Statistics

Views

Total Views
1,238
Views on SlideShare
464
Embed Views
774

Actions

Likes
0
Downloads
25
Comments
0

10 Embeds 774

http://www.upscportal.com 338
http://upscportal.com 283
http://iasexamportal.com 126
http://translate.googleusercontent.com 15
http://www3.upscportal.com 7
http://localhost 1
http://webmail.eciecc.com 1
http://projectmail.eil.co.in 1
http://10.101.30.50 1
http://as03.cooltoad.com 1
More...

Accessibility

Categories

Upload Details

Uploaded via as Adobe PDF

Usage Rights

© All Rights Reserved

Report content

Flagged as inappropriate Flag as inappropriate
Flag as inappropriate

Select your reason for flagging this presentation as inappropriate.

Cancel
  • Full Name Full Name Comment goes here.
    Are you sure you want to
    Your message goes here
    Processing…
Post Comment
Edit your comment

    Geography topic-mahadvipo-aur-mahasagro-ki-utpatti-(1 d) Geography topic-mahadvipo-aur-mahasagro-ki-utpatti-(1 d) Presentation Transcript

    • www.upscportal.com बायि औय ववश्व का बगोर ू भहाद्वीऩों एवॊ भहासागयों की उत्ऩत्त्ि © 2014 UPSCPORTAL .COM
    • www.upscportal.com वेगनय का भहाद्वीऩीम ववस्थाऩना ससद्धान्ि (Wegener’s Theory of Continental Drift) • प्रोपसय अल्फ्रड वेगनय (Alfred Wegener) एक जभमन ववद्वान े े थे जजन्होनें सन ् 1912 भें भहाद्वीऩीम ववस्थाऩन ससद्धान्त का प्रततऩादन ककमा • उसने स्ऩष्ट ककमा कक दक्षऺणी अभेरयका भे ब्राजीर का उबाय अरीका की गगनी की खाड़ी भे बरी बाॉतत सटामा जा सकता है । © 2014 UPSCPORTAL .COM ऑनराइन कोच ग भे सत्मभसरि होने क सरए महाॊ त्लरक कयें ॊ े
    • www.upscportal.com • साम्म स्थाऩना ससद्धाॊत को स्ऩष्ट कयने क सरए वेगनय ने मह े भान सरमा कक काफमनीपयस मुग भे सबी बाग एक फड़े स्थर बाग े क रूऩ भे एक दसये से जड़े हुए थे। े ू ु • इस ववशार स्थरीम बाग को वेगनय ने ऩैंजजमा(Pangaea) का नाभ ददमा। © 2014 UPSCPORTAL .COM ऑनराइन कोच ग भे सत्मभसरि होने क सरए महाॊ त्लरक कयें ॊ े
    • www.upscportal.com भहाद्वीऩ सॊ रन क प्रभाण (Evidence of े Movement of Continents) • ऩवमत ऩट्टी • जीवाश्भ • बवैऻातनक अनुरूऩता ू • ऩयाजरवामवी एकरूऩता ु • प्रवार • ध्रुवों का घुभना © 2014 UPSCPORTAL .COM ऑनराइन कोच ग भे सत्मभसरि होने क सरए महाॊ त्लरक कयें ॊ े
    • www.upscportal.com प्रेट ससद्धान्ि ( Plate Theory) • ऩथ्वी का फाद्दा बाग दृढ़ खण्डो का फना हुआ है ।इन दृढ़ खॊडों को ृ प्रेट कहते है । • ऩथ्वी का स्थरभण्डर कई प्रेटों भे फॉटा हुआ है । ृ • ककसी बी प्रेट की ऩऩमटी भहाद्वीऩीम भहासागयीम अथवा दोनों ही प्रकाय की हो सकती है । © 2014 UPSCPORTAL .COM ऑनराइन कोच ग भे सत्मभसरि होने क सरए महाॊ त्लरक कयें ॊ े
    • www.upscportal.com प्रेटों की गतत( Movements of the plates):प्रेटों भे तीन प्रकाय की गतत होती है : दो प्रेटें एक दसये क ऩास से ट्ाॊसपाभम भ्रॊस े ू • (Transform Fault) क साथ ऺैततज ददशा भे आगे फढ़ती है । े जजस ककनाये क साथ - साथ मे आगे फढ़ती है उसे ट्ाॊसपाभम े (Converging Plates) कहते है । इन ककनयों ऩय फहुत से बकम्ऩ ू आते है । © 2014 UPSCPORTAL .COM ऑनराइन कोच ग भे सत्मभसरि होने क सरए महाॊ त्लरक कयें ॊ े
    • www.upscportal.com • कछ प्रेटें एक दसये क तनकट आती है । औय आऩस भे टकयाती है े ू ु । ऐसी प्रेटों को असबसयण प्रेट (Converging Plates) कहते है । • कछ ऐसी प्रेटें बी है जो एक दसये से दय जाती है । इन्हें ू ू ु अऩसायी(Diverging)प्रेट कहते है । © 2014 UPSCPORTAL .COM ऑनराइन कोच ग भे सत्मभसरि होने क सरए महाॊ त्लरक कयें ॊ े
    • www.upscportal.com प्रेट सीभाएॉ (Plate Boundaries) • प्रेट सीभाएॉ ऩथ्वी क सवामगधक यचनात्भक रऺण है । े ृ • ऩथ्वी की फाह्म दृढ ऩयत स्थरभॊडर - सात भख्म प्रेटों तथा ु ृ कई अन्म छोटी प्रेटों भे ववबक्त है । © 2014 UPSCPORTAL .COM ऑनराइन कोच ग भे सत्मभसरि होने क सरए महाॊ त्लरक कयें ॊ े
    • www.upscportal.com भख्म साि प्रेटों क नाभ इस प्रकाय है : े ु • • • • • • • प्रशाॊत प्रेट मूयेसशमन प्रेट इॊडो-आस्ट्े सरमन प्रेट अरीकन प्रेट उत्तयी अभेरयकन प्रेट दक्षऺणी अभेरयकन प्रेट अॊटाकदटक प्रेट म © 2014 UPSCPORTAL .COM ऑनराइन कोच ग भे सत्मभसरि होने क सरए महाॊ त्लरक कयें ॊ े
    • www.upscportal.com • बायिीम प्रेट (Indian Plate) : दहन्द भहासागय क अधस्तर े ऩय ववसबन्न प्रकाय की अद्भत स्थाराकृततमाॉ है जजनभे फेसीन ु कटक तथा ऩठाय प्रभख हैं। ु © 2014 UPSCPORTAL .COM ऑनराइन कोच ग भे सत्मभसरि होने क सरए महाॊ त्लरक कयें ॊ े
    • www.upscportal.com ऑनराइन कोच ग क फाये भें अचधक जानकायी क सरए महाॊ त्लरक कयें ॊ े े http://www.upscportal.com/civilservices/courses/ias-pre/csatpaper-1-hindi हार्म कॉऩी भें साभान्म अध्ममन प्रायॊ सबक ऩयीऺा (स्टर्ी ककट - ऩेऩय - 1 (Paper 1) खयीदने क सरए महाॊ त्लरक कयें े http://www.upscportal.com/civilservices/study-kit/ias-pre/csatpaper-1-hindi © 2014 UPSCPORTAL .COM ऑनराइन कोच ग भे सत्मभसरि होने क सरए महाॊ त्लरक कयें ॊ े
    • www.upscportal.com UPSCPORTAL Other Online Courses Online Course for Civil Services Preliminary Examination  सीसैट (CSAT) प्रायॊ सबक ऩयीऺा क सरए ऑनराइन कोगचॊग (ऩेऩय - 2) े  Online Coaching for CSAT Paper - 1 (GS) 2014  Online Coaching for CSAT Paper - 2 (CSAT) 2014 Online Course for Civil Services Mains Examination General Studies Mains (NEW PATTERN - Paper 2,3,4,5) Contemporary Issues for Civil Services Main Examination Public Administration for Mains 30 Days online Crash Course For Public Administration Mains Essay Programme for Mains For Know More Click Here: http://upscportal.com/civilservices/courses © 2014 UPSCPORTAL .COM ऑनराइन कोच ग भे सत्मभसरि होने क सरए महाॊ त्लरक कयें ॊ े