िकस कर में यह वीणा धर दँ ?
                         ू
दे वों ने था िजसे बनाया,
दे वों ने था िजसे बजाया,
मानव क हाथों में क...
आओ, अपनी लघुता जानें,
अपनी िनबर्लता पहचानें,
जैसे जग रहता आया है उसी तरह से रहना होगा!
साथी, सब कछ सहना होगा!
          ु
...
सृिष्ट क ूारम्भ में
        े
मैने उषा क गाल चूमे,
          े
बाल रिव क भाग्य वाले
         े
दीप्त भाल िवशाल चूमे,

ूथम ...
प्यास वािरिध से बुझाकर
भी रहा अतृप्त हँू मैं,
कािमनी क कच-कलश से
        े ु
आज कसा प्यार मेरा!
    ै

कह रहा जग वासनामय
ह...
आज िमट्टी से िघरा हँू
पर उमंगें हैं पुरानी,
सोमरस जो पी चुका है
आज उसक हाथ पानी,
      े

होठ प्यालों पर झुक तो
          ...
शिक्त रख कछ पास अपने
          ु
ही िदया यह दान मैंने,
जीत पाएगा इन्हीं से
आज क्या मन मार मेरा!

कह रहा जग वासनामय
हो रहा ...
थी तृषा जब शीत जल की
खा िलए अंगार मैंने,
चीथड़ों से उस िदवस था
कर िलया ौृगार मैंने
         ं

राजसी पट पहनने को
जब हई इच्छ...
मैं िछपाना जानता तो
जग मुझे साधु समझता,
शऽु मेरा बन गया है
छल-रिहत व्यवहार मेरा!

कह रहा जग वासनामय
हो रहा उद्गार मेरा!

–...
कल मुझार्नेवाली किलयाँ
हँ सकर कहती हैं मगन रहो,
बुलबुल तरु की फनगी पर से
               ु
संदेश सुनाती यौवन का,
तुम दे कर ...
प्याला है पर पी पाएँगे,
है ज्ञात नहीं इतना हमको,
इस पार िनयित ने भेजा है ,
असमथर्बना िकतना हमको,
कहने वाले, पर कहते है ,
ह...
व्यवहार न जाने क्या होगा!
इस पार, िूये मधु है तुम हो,
उस पार न जाने क्या होगा!

5

संसित क जीवन में, सुभगे
   ृ   े
ऐसी भी...
अिल-अवली किल-दल पर गुंजन
करने क हे तु न आएगी,
      े
जब इतनी रसमय ध्विनयों का
अवसान, िूये, हो जाएगा,
तब शुंक हमारे कठों क...
उतरे इन आखों क आगे
              े
जो हार चमेली ने पहने,
वह छीन रहा, दे खो, माली,
सुकमार लताओं क गहने,
   ु          े
दो ...
मँझधार, न जाने क्या होगा!
इस पार, िूये मधु है तुम हो,
उस पार न जाने क्या होगा!

–
Collection: Madhubala (Published 1936)

...
में लय होता जग का बदन,
                   ं
झूमा करता मानव जीवन
का क्षण-क्षण बनकर मतवाला।
मैं मधुशाला की मधुबाला!

4

मैं ...
7

सोने की मधुशाना चमकी,
मािणत द्युित से मिदरा दमकी,
मधुगंध िदशाओं में चमकी,
चल पड़ा िलए कर में प्याला
ूत्येक सुरा पीनेवाला...
उत्किठत ःवर से बोल उठा,
    ं
‘कर दे पागल, भर दे प्याला!’
मैं मधुशाला की मधुबाला!

11

खुल द्वार गए मिदरालय क,
           ...
मधु कौन यहाँ पीने आता,
है िकसका प्यालों से नाता,
जग दे ख मुझे है मदमाता,
िजसक िचर तंििल नयनों पर
    े
तनती मैं ःवप्नों का...
वायु ऋतु हे मन्त की चाहे
गगन में हो िवचरती,

हो िशिशर चाहे िगराता
पीत-जजर्र पऽ तरु क,
                  े

कोिकला चाहे वनो...
संग हैं बक-पंिक्त, चातक-
दल मधुर ःवर में गीत गाता।

‘मेघ’ िजस-िजस काल पढ़ता
मैं ःवयं बन मेघ जाता!

3

झोपड़ी, गृह, भवन भारी,...
पुण्य-जल िजनको िकया था
जनक-तनया ने नहाकर

संग जब ौी राम क वे
               े
थीं यहाँ जब वास करतीं,

दे खता अंिकत चरण उनक...
वषर् भर कांता-िवरह के
शाप में दिदर् न िबताता।
         ु

‘मेघ’ िजस-िजस काल पढ़ता
मैं ःवयं बन मेघ जाता!

6

था िदया अिभशाप ...
घूमते उन्मुक्त नभ में
वायु क मृद-मन्द रथ पर,
      े   ु

अट्टहास-िवहास से मुख-
िरत बनाते शून्य को भी

जन तुखी भी क्षुब्ध ...
ूीित से ःवागत-वचन कह
भेंट मेरे ूित चढ़ाता।

‘मेघ’ िजस-िजस काल पढ़ता
मैं ःवयं बन मेघ जाता!

9

पुंकरावतर्क घनों के
वंश का मुझ...
िफर बताता िकस जगह पर
िकस तरह का है नगर, घर,

िकस दशा, िकस रूप में है
िूयतमा उसकी सलोनी,

िकस तरह सूनी िबताती
रािऽ, कसे दीघ...
हो न तुझको िवरह दख जो
                 ु
आज मैं िविधवश उठाता!’

‘मेघ’ िजस-िजस काल पढ़ता
मैं ःवयं बन मेघ जाता!

–
Other Info...
बैठ कल्पना करता हँू , पगचाप तुम्हारी मग से आती,
रगरग में चेतनता घुलकर, आँसू क कणसी झर जाती,
                             े...
क्या घड़ी थी एक भी िचंता नहीं थी पास आई,
कािलमा तो दर, छाया भी पलक पर थी न छाई,
           ू
    आँख से मःती झपकती, बातसे म...
कछ न आया काम तेरा शोर करना, गुल मचाना,
 ु
    नाश की उन शिक्तयों क साथ चलता ज़ोर िकसका,
                        े
     िकन्...
ितिमर क राज का ऐसा
                े
         किठन आतंक छाया है ,
         उठा जो शीश सकते थे
         उन्होनें िसर झुकाया...
िकसी क पथ में पलक िबछाए कौन बैठा है ?
      े          ें
अँधेरी रात में दीपक जलाए कौन बैठा है ?




                     ...
लो िदन बीता, लो रात गई

लो िदन बीता, लो रात गई,
सूरज ढलकर पिच्छम पहँु चा,
डबा, संध्या आई, छाई,
 ू
   सौ संध्या-सी वह संध्य...
मधुशाला

मृद ु भावों क अंगूरों की आज बना लाया हाला,
             े
िूयतम, अपने ही हाथों से आज िपलाऊगा प्याला,
            ...
मिदरालय जाने को घर से चलता है पीनेवला,
'िकस पथ से जाऊ?' असमंजस में है वह भोलाभाला,
              ँ
अलग-अलग पथ बतलाते सब पर...
जलतरं ग बजता, जब चुंबन करता प्याले को प्याला,
वीणा झंकृत होती, चलती जब रूनझुन साकीबाला,
डाँट डपट मधुिवबता की ध्विनत पखावज ...
ू
दे खो प्याला अब छते ही होंठ जला दे नेवाला,
'होंठ नहीं, सब दे ह दहे , पर पीने को दो बूद िमले'
                           ...
राज्य उलट जाएँ, भूपों की भाग्य सुलआमी सो जाए,
जमे रहें गे पीनेवाले, जगा करे गी मधुशाला।।२१।


सब िमट जाएँ, बना रहे गा सुन्...
िदन को होली, रात िदवाली, रोज़ मनाती मधुशाला।।२६।


नहीं जानता कौन, मनुज आया बनकर पीनेवाला,
कौन अिपिरचत उस साकी से, िजसने दध...
अधरों पर हो कोई भी रस िजहवा पर लगती हाला,
भाजन हो कोई हाथों में लगता रक्खा है प्याला,
हर सूरत साकी की सूरत में पिरवितर्त ह...
उतर नशा जब उसका जाता, आती है संध्या बाला,
बड़ी पुरानी, बड़ी नशीली िनत्य ढला जाती हाला,
जीवन क संताप शोक सब इसको पीकर िमट जात...
िजसमें भरकर पान कराता वह बहु रस-रं गी हाला,
मन क िचऽ िजसे पी-पीकर रं ग-िबरं गे हो जाते,
    े
िचऽपटी पर नाच रही है एक मनोह...
मुझे ठहरने का, हे िमऽों, कष्ट नहीं कछ भी होता,
                                    ु
िमले न मंिदर, िमले न मिःजद, िमल जाती ...
घूँघट का पट खोल न जब तक झाँक रही है मधुशाला।।५२।


आज करे परहे ज़ जगत, पर, कल पीनी होगी हाला,
आज करे इन्कार जगत पर कल पीना ...
ौम, संकट, संताप, सभी तुम भूला करते पी हाला,
सबक बड़ा तुम सीख चुक यिद सीखा रहना मतवाला,
                   े
व्यथर् बने जाते...
आज सजीव बना लो, ूेयसी, अपने अधरों का प्याला,
भर लो, भर लो, भर लो इसमें, यौवन मधुरस की हाला,
और लगा मेरे होठों से भूल हटाना...
मुझे िदखाने को लाए हो एक यही िछछला प्याला!
इतनी पी जीने से अच्छा सागर की ले प्यास मरुँ ,
िसंधँ◌-तृषा दी िकसने रचकर िबंद-बर...
मृत्यु बनी है िनदर् य साकी अपने शत-शत कर फला,
                                          ै
काल ूबल है पीनेवाला, संसित है यह...
पर मै वह रोगी हँू िजसकी एक दवा है मधुशाला।।७८।


िगरती जाती है िदन ूितदन ूणयनी ूाणों की हाला
भग्न हआ जाता िदन ूितदन सुभगे ...
और िचता पर जाये उं ढे ला पऽ न ियत का, पर प्याला
कठ बंधे अंगूर लता में मध्य न जल हो, पर हाला,
 ं
ूाण िूये यिद ौाध करो तुम म...
शांत सकी हो अब तक, साकी, पीकर िकस उर की ज्वाला,
'और, और' की रटन लगाता जाता हर पीनेवाला,
िकतनी इच्छाएँ हर जानेवाला छोड़ यहाँ...
ु
अधरों पर आने-आने में हाय, ढलक जाती हाला,
दिनयावालो, आकर मेरी िकःमत की ख़ूबी दे खो,
 ु
रह-रह जाती है बस मुझको िमलते- िमलते...
प्यार नहीं पा जाने में है , पाने क अरमानों में!
                                  े
पा जाता तब, हाय, न इतनी प्यारी लगती मध...
इतना ही क्या कम आँखों से दे ख रहा हँू मधुशाला।।१०४।


मद, मिदरा, मधु, हाला सुन-सुन कर ही जब हँू मतवाला,
क्या गित होगी अधरो...
एक समय छलका करती थी मेरे अधरों पर हाला,
एक समय झूमा करता था मेरे हाथों पर प्याला,
एक समय पीनेवाले, साकी आिलंगन करते थे,
आज...
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Hindi Kavya Sangrah
Upcoming SlideShare
Loading in …5
×

Hindi Kavya Sangrah

2,729
-1

Published on

0 Comments
0 Likes
Statistics
Notes
  • Be the first to comment

  • Be the first to like this

No Downloads
Views
Total Views
2,729
On Slideshare
0
From Embeds
0
Number of Embeds
0
Actions
Shares
0
Downloads
33
Comments
0
Likes
0
Embeds 0
No embeds

No notes for slide

Hindi Kavya Sangrah

  1. 1. िकस कर में यह वीणा धर दँ ? ू दे वों ने था िजसे बनाया, दे वों ने था िजसे बजाया, मानव क हाथों में कसे इसको आज समिपर्त कर दँ ? े ै ू िकस कर में यह वीणा धर दँ ? ू इसने ःवगर् िरझाना सीखा, ःविगर्क तान सुनाना सीखा, जगती को खुश करनेवाले ःवर से कसे इसको भर दँ ? ै ू िकस कर में यह वीणा धर दँ ? ू क्यों बाकी अिभलाषा मन में, झंकृत हो यह िफर जीवन में? क्यों न हृदय िनमर्म हो कहता अंगारे अब धर इस पर दँ ? ू िकस कर में यह वीणा धर दँ ? ू – साथी, सब कछ सहना होगा! ु मानव पर जगती का शासन, जगती पर संसित का बंधन, ृ संसित को भी और िकसी क ूितबंधों में रहना होगा! ृ े साथी, सब कछ सहना होगा! ु हम क्या हैं जगती क सर में! े जगती क्या, संसित सागर में! ृ एक ूबल धारा में हमको लघु ितनक-सा बहना होगा! े साथी, सब कछ सहना होगा! ु
  2. 2. आओ, अपनी लघुता जानें, अपनी िनबर्लता पहचानें, जैसे जग रहता आया है उसी तरह से रहना होगा! साथी, सब कछ सहना होगा! ु िदन जल्दी-जल्दी ढलता है ! हो जाय न पथ में रात कहीं, मंिज़ल भी तो है दर नहीं - ू यह सोच थका िदन का पंथी भी जल्दी-जल्दी चलता है ! िदन जल्दी-जल्दी ढलता है ! बच्चे ूत्याशा में होंगे, नीड़ों से झाँक रहे होंगे - यह ध्यान परों में िचिड़यों क भरता िकतनी चंचलता है ! े िदन जल्दी-जल्दी ढलता है ! मुझसे िमलने को कौन िवकल? मैं होऊ िकसक िहत चंचल? - ँ े यह ूश्न िशिथल करता पद को, भरता उर में िवह्वलता है ! िदन जल्दी-जल्दी ढलता है ! – किव की वासना कह रहा जग वासनामय हो रहा उद्गार मेरा! 1
  3. 3. सृिष्ट क ूारम्भ में े मैने उषा क गाल चूमे, े बाल रिव क भाग्य वाले े दीप्त भाल िवशाल चूमे, ूथम संध्या क अरुण दृग े चूम कर मैने सुलाए, तािरका-किल से सुसिज्जत नव िनशा क बाल चूमे, े वायु क रसमय अधर े े ू पहले सक छ हॉठ मेरे मृित्तका की पुतिलयॉ से आज क्या अिभसार मेरा? कह रहा जग वासनामय हो रहा उद्गार मेरा! 2 िवगत-बाल्य वसुन्धरा के उच्च तुग-उरोज उभरे , ं तरु उगे हिरताभ पट धर काम क ध्वज मत्त फहरे , े ृ चपल उच्छखल करों ने जो िकया उत्पात उस िदन, है हथेली पर िलखा वह, पढ़ भले ही िवश्व हहरे ;
  4. 4. प्यास वािरिध से बुझाकर भी रहा अतृप्त हँू मैं, कािमनी क कच-कलश से े ु आज कसा प्यार मेरा! ै कह रहा जग वासनामय हो रहा उद्गार मेरा! 3 इन्िधनु पर शीश धरकर बादलों की सेज सुखकर सो चुका हँू नींद भर मैं चंचला को बाहु में भर, दीप रिव-शिश-तारकों ने बाहरी कछ किल दे खी, ु े दे ख, पर, पाया न कोई ःवप्न वे सुकमार सुन्दर ु जो पलक पर कर िनछावर थी गई मधु यािमनी वह; यह समािध बनी हई है ु यह न शयनागार मेरा! कह रहा जग वासनामय हो रहा उद्गार मेरा! 4
  5. 5. आज िमट्टी से िघरा हँू पर उमंगें हैं पुरानी, सोमरस जो पी चुका है आज उसक हाथ पानी, े होठ प्यालों पर झुक तो े थे िववश इसक िलए वे, े प्यास का ोत धार बैठा; आज है मन, िकन्तु मानी; मैं नहीं हँू दे ह-धमोर्ं से बँधा, जग, जान ले तू, तन िवकृ त हो जाए लेिकन मन सदा अिवकार मेरा! कह रहा जग वासनामय हो रहा उद्गार मेरा! 5 िनंपिरौम छोड़ िजनको मोह लेता िवश्न भर को, मानवों को, सुर-असुर को, वृद्ध ॄह्मा, िवंणु, हर को, भंग कर दे ता तपःया िसद्ध, ऋिष, मुिन सत्तमों की वे सुमन क बाण मैंने, े ही िदए थे पंचशर को;
  6. 6. शिक्त रख कछ पास अपने ु ही िदया यह दान मैंने, जीत पाएगा इन्हीं से आज क्या मन मार मेरा! कह रहा जग वासनामय हो रहा उद्गार मेरा! 6 ूाण ूाणों से सक िमल ें िकस तरह, दीवार है तन काल है घिड़याँ न िगनता, बेिड़यों का शब्द झन-झन, वेद-लोकाचार ूहरी ताकते हर चाल मेरी, बद्ध इस वातावरण में क्या करे अिभलाष यौवन! अल्पतम इच्छा यहाँ मेरी बनी बन्दी पड़ी है , िवश्व बीड़ाःथल नहीं रे िवश्व कारागार मेरा! कह रहा जग वासनामय हो रहा उद्गार मेरा! 7
  7. 7. थी तृषा जब शीत जल की खा िलए अंगार मैंने, चीथड़ों से उस िदवस था कर िलया ौृगार मैंने ं राजसी पट पहनने को जब हई इच्छा ूबल थी, ु चाह-संचय में लुटाया था भरा भंडार मैंने; वासना जब तीोतम थी बन गया था संयमी मैं, है रही मेरी क्षुधा ही सवर्दा आहार मेरा! कह रहा जग वासनामय हो रहा उद्गार मेरा! 8 कल िछड़ी, होगी ख़तम कल ूेम की मेरी कहानी, कौन हँू मैं, जो रहे गी िवश्व में मेरी िनशानी? क्या िकया मैंने नही जो कर चुका संसार अबतक? वृद्ध जग को क्यों अखरती है क्षिणक मेरी जवानी?
  8. 8. मैं िछपाना जानता तो जग मुझे साधु समझता, शऽु मेरा बन गया है छल-रिहत व्यवहार मेरा! कह रहा जग वासनामय हो रहा उद्गार मेरा! – Other Information Collection: Madhukalash (Published: 1937) This poem was originally inspired by a comment by Pt. Banarsi Das Chaturvedi in the publication “Vishaal Bharat”, of which he was the editor. In response to that comment Bachchan wrote this poem and sent it to another well-known publication “Saraswati” with a note that it is in response to somebody’s comment (without naming him). When Pt. Banarsi Das Chaturvedi noticed this poem, he got it publihed in “Viashaal Bharat” itself, while openly accepting that he was the one who had written a comment like that. (Source: Preface by Bachchan in the 7th edition of Madhukalash) इस पार, उस पार 1 इस पार, िूये मधु है तुम हो, उस पार न जाने क्या होगा! यह चाँद उिदत होकर नभ में कछ ताप िमटाता जीवन का, ु लहरालहरा यह शाखाएँ कछ शोक भुला दे ती मन का, ु
  9. 9. कल मुझार्नेवाली किलयाँ हँ सकर कहती हैं मगन रहो, बुलबुल तरु की फनगी पर से ु संदेश सुनाती यौवन का, तुम दे कर मिदरा क प्याले े मेरा मन बहला दे ती हो, उस पार मुझे बहलाने का उपचार न जाने क्या होगा! इस पार, िूये मधु है तुम हो, उस पार न जाने क्या होगा! 2 जग में रस की निदयाँ बहती, रसना दो बूंदें पाती है , जीवन की िझलिमलसी झाँकी नयनों क आगे आती है , े ःवरतालमयी वीणा बजती, िमलती है बस झंकार मुझे, मेरे सुमनों की गंध कहीं यह वायु उड़ा ले जाती है ; ऐसा सुनता, उस पार, िूये, ये साधन भी िछन जाएँगे; तब मानव की चेतनता का आधार न जाने क्या होगा! इस पार, िूये मधु है तुम हो, उस पार न जाने क्या होगा! 3
  10. 10. प्याला है पर पी पाएँगे, है ज्ञात नहीं इतना हमको, इस पार िनयित ने भेजा है , असमथर्बना िकतना हमको, कहने वाले, पर कहते है , हम कमोर्ं में ःवाधीन सदा, करने वालों की परवशता है ज्ञात िकसे, िजतनी हमको? कह तो सकते हैं , कहकर ही कछ िदल हलका कर लेते हैं , ु उस पार अभागे मानव का अिधकार न जाने क्या होगा! इस पार, िूये मधु है तुम हो, उस पार न जाने क्या होगा! 4 कछ भी न िकया था जब उसका, ु उसने पथ में काँटे बोये, वे भार िदए धर कधों पर, ं जो रो-रोकर हमने ढोए; महलों क सपनों क भीतर े े जजर्र खँडहर का सत्य भरा, उर में ऐसी हलचल भर दी, दो रात न हम सुख से सोए; अब तो हम अपने जीवन भर उस बर किठन को कोस चुक; ू े उस पार िनयित का मानव से
  11. 11. व्यवहार न जाने क्या होगा! इस पार, िूये मधु है तुम हो, उस पार न जाने क्या होगा! 5 संसित क जीवन में, सुभगे ृ े ऐसी भी घिड़याँ आएँगी, जब िदनकर की तमहर िकरणे तम क अन्दर िछप जाएँगी, े जब िनज िूयतम का शव, रजनी तम की चादर से ढक दे गी, तब रिव-शिश-पोिषत यह पृथ्वी िकतने िदन खैर मनाएगी! जब इस लंबे-चौड़े जग का अिःतत्व न रहने पाएगा, तब हम दोनो का नन्हा-सा संसार न जाने क्या होगा! इस पार, िूये मधु है तुम हो, उस पार न जाने क्या होगा! 6 ऐसा िचर पतझड़ आएगा कोयल न कहक िफर पाएगी, ु ु बुलबुल न अंधेरे में गागा जीवन की ज्योित जगाएगी, अगिणत मृद-नव पल्लव क ःवर ु े ‘मरमर’ न सुने िफर जाएँगे,
  12. 12. अिल-अवली किल-दल पर गुंजन करने क हे तु न आएगी, े जब इतनी रसमय ध्विनयों का अवसान, िूये, हो जाएगा, तब शुंक हमारे कठों का ं उद्गार न जाने क्या होगा! इस पार, िूये मधु है तुम हो, उस पार न जाने क्या होगा! 7 सुन काल ूबल का गुरु-गजर्न िनझर्िरणी भूलेगी नतर्न, िनझर्र भूलेगा िनज ‘टलमल’, सिरता अपना ‘कलकल’ गायन, वह गायक-नायक िसन्धु कहीं, चुप हो िछप जाना चाहे गा, मुँह खोल खड़े रह जाएँगे गंधवर्, अप्सरा, िकन्नरगण; संगीत सजीव हआ िजनमें, ु जब मौन वही हो जाएँगे, तब, ूाण, तुम्हारी तंऽी का जड़ तार न जाने क्या होगा! इस पार, िूये मधु है तुम हो, उस पार न जाने क्या होगा! 8
  13. 13. उतरे इन आखों क आगे े जो हार चमेली ने पहने, वह छीन रहा, दे खो, माली, सुकमार लताओं क गहने, ु े दो िदन में खींची जाएगी ऊषा की साड़ी िसन्दरी, ू पट इन्िधनुष का सतरं गा पाएगा िकतने िदन रहने; जब मूितर्मती सत्ताओं की शोभा-सुषमा लुट जाएगी, तब किव क किल्पत ःवप्नों का े ौृगार न जाने क्या होगा! ं इस पार, िूये मधु है तुम हो, उस पार न जाने क्या होगा! 9 दृग दे ख जहाँ तक पाते हैं , तम का सागर लहराता है , िफर भी उस पार खड़ा कोई हम सब को खींच बुलाता है ; मैं आज चला तुम आओगी कल, परसों सब संगीसाथी, दिनया रोती-धोती रहती, ु िजसको जाना है , जाता है ; मेरा तो होता मन डगडग, तट पर ही क हलकोरों से! े जब मैं एकाकी पहँु चूँगा
  14. 14. मँझधार, न जाने क्या होगा! इस पार, िूये मधु है तुम हो, उस पार न जाने क्या होगा! – Collection: Madhubala (Published 1936) मधुबाला मैं मधुबाला मधुशाला की, मैं मधुशाला की मधुबाला! मैं मधु-िवबता को प्यारी, े मधु क धट मुझपर बिलहारी, े प्यालों की मैं सुषमा सारी, मेरा रुख दे खा करती है मधु-प्यासे नयनों की माला। मैं मधुशाला की मधुबाला! 2 इस नीले अंचल की छाया में जग-ज्वाला का झुलसाया आकर शीतल करता काया, मधु-मरहम का मैं लेपन कर अच्छा करती उर का छाला। मैं मधुशाला की मधुबाला! 3 मधुघट ले जब करती नतर्न, मेरे नूपुर क छम-छनन े
  15. 15. में लय होता जग का बदन, ं झूमा करता मानव जीवन का क्षण-क्षण बनकर मतवाला। मैं मधुशाला की मधुबाला! 4 मैं इस आँगन की आकषर्ण, मधु से िसंिचत मेरी िचतवन, मेरी वाणी में मधु क कण, े मदमत्त बनाया मैं करती, यश लूटा करती मधुशाला। मैं मधुशाला की मधुबाला! 5 था एक समय, थी मधुशाला, था िमट्टी का घट, था प्याला, थी, िकन्तु, नहीं साकीबाला, था बैठा ठाला िवबता े दे बंद कपाटों पर ताला। मैं मधुशाला की मधुबाला! 6 तब इस घर में था तम छाया, था भय छाया, था ॅम छाया, था मातम छाया, गम छाया, ऊषा का दीप िलए सर पर, मैं आई करती उिजयाला। मैं मधुशाला की मधुबाला!
  16. 16. 7 सोने की मधुशाना चमकी, मािणत द्युित से मिदरा दमकी, मधुगंध िदशाओं में चमकी, चल पड़ा िलए कर में प्याला ूत्येक सुरा पीनेवाला। मैं मधुशाला की मधुबाला! 8 थे मिदरा क मृत-मूक घड़े , े थे मूितर् सदृश मधुपाऽ खड़े , थे जड़वत ् प्याले भूिम पड़े , ू जाद ू क हाथों से छकर े मैंने इनमें जीवन डाला। मैं मधुशाला की मधुबाला! 9 ू मुझको छकर मधुघट छलक, े प्याले मधु पीने को ललक , े मािलक जागा मलकर पलक, ें अँगड़ाई लेकर उठ बैठी िचर सुप्त िवमूिच्छर् त मधुशाला। मैं मधुशाला की मधुबाला! 10 प्यासे आए, मैंने आँका, वातायन से मैंने झाँका, पीनेवालों का दल बाँका,
  17. 17. उत्किठत ःवर से बोल उठा, ं ‘कर दे पागल, भर दे प्याला!’ मैं मधुशाला की मधुबाला! 11 खुल द्वार गए मिदरालय क, े नारे लगते मेरी जय क, े िमट िचह्न गए िचंता भय क, े हर ओर मचा है शोर यही, ‘ला-ला मिदरा ला-ला’!, मैं मधुशाला की मधुबाला! 12 हर एक तृिप्त का दास यहाँ, पर एक बात है खास यहाँ, पीने से बढ़ती प्यास यहाँ, सौभाग्य मगर मेरा दे खो, दे ने से बढ़ती है हाला! मैं मधुशाला की मधुबाला! 13 चाहे िजतना मैं दँ ू हाला, चाहे िजतना तू पी प्याला, चाहे िजतना बन मतवाला, सुन, भेद बताती हँू अिन्तम, यह शांत नही होगी ज्वाला। मैं मधुशाला की मधुबाला! 14
  18. 18. मधु कौन यहाँ पीने आता, है िकसका प्यालों से नाता, जग दे ख मुझे है मदमाता, िजसक िचर तंििल नयनों पर े तनती मैं ःवप्नों का जाला। मैं मधुशाला की मधुबाला! 15 यह ःवप्न-िविनिमर्त मधुशाला, यह ःवप्न रिचत मधु का प्याला, ःविप्नल तृंणा, ःविप्नल हाला, ःवप्नों की दिनया में भूला ु िफरता मानव भोलाभाला। मैं मधुशाला की मधुबाला! – Other Information Collection: Madhubala (Published: 1936) ‘मेघदत’ क ूित ू े ‘मेघ’ िजस-िजस काल पढ़ता मैं ःवयं बन मेघ जाता! 1 हो धरिण चाहे शरद की चाँदनी में ःनान करती,
  19. 19. वायु ऋतु हे मन्त की चाहे गगन में हो िवचरती, हो िशिशर चाहे िगराता पीत-जजर्र पऽ तरु क, े कोिकला चाहे वनों में हो वसन्ती राग भरती, मींम का मातर्ण्ड चाहे हो तपाता भूिम-तल को, िदन ूथम आषाढ़ का मैं ‘मेघ-चर’ द्वारा बुलाता। ‘मेघ’ िजस-िजस काल पढ़ता मैं ःवयं बन मेघ जाता! 2 भूल जाता अिःथ-मज्जा- माँस युक्त शरीर हँू मैं, भासता बस - धूॆ-संयुत ज्योित-सिलल समीर हँू मैं, उठ रहा हँू उच्च भवनों के िशखर से और ऊपर, दे खता संसार नीचे इन्ि का वर वीर हँू मैं, मन्द गित से जा रहा हँू पा पवन अनुकल अपने, ू
  20. 20. संग हैं बक-पंिक्त, चातक- दल मधुर ःवर में गीत गाता। ‘मेघ’ िजस-िजस काल पढ़ता मैं ःवयं बन मेघ जाता! 3 झोपड़ी, गृह, भवन भारी, महल औ’ ूासाद सुन्दर, कलश, गुम्बद, ःतम्भ, उन्नत धरहरे , मीनार दृढ़तर, दगर् दे वल, पथ सुिवःतृत ु और बीड़ोद्यान-सारे मिन्ऽता किव-लेखनी के ःपशर् से होते अगोचर और सहसा रामिगिर पवर्त उठाता शीश अपना गोद िजसकी िःनग्ध-छाया- वान कानन लहलहाता! ‘मेघ’ िजस-िजस काल पढ़ता मैं ःवयं बन मेघ जाता! 4 दे खता इस शैल क ही े अंक में बहु-पूज्य पुंकर,
  21. 21. पुण्य-जल िजनको िकया था जनक-तनया ने नहाकर संग जब ौी राम क वे े थीं यहाँ जब वास करतीं, दे खता अंिकत चरण उनके अनेक अचल-िशला पर, जान ये पद-िचह्न वंिदत िवश्व से होते रहे हैं , दे ख इनको शीश मैं भी भिक्त-ौद्धा से नवाता। ‘मेघ’ िजस-िजस काल पढ़ता मैं ःवयं बन मेघ जाता! 5 दे खता िगिर की शरण में एक सर क रम्य तट पर े एक लघु आौम िघरा वन तरु लताओं में सघनतर, इस जगह कतर्व्य से च्युत यक्ष को पाता अकला, े िनज िूया क ध्यान में जो े अौुमय उच्छवास भर-भर क्षीणतन हो, दीनमन हो और मिहमाहीन होकर
  22. 22. वषर् भर कांता-िवरह के शाप में दिदर् न िबताता। ु ‘मेघ’ िजस-िजस काल पढ़ता मैं ःवयं बन मेघ जाता! 6 था िदया अिभशाप अलका- ध्यक्ष ने िजस यक्षवर को, वषर् भर का दण्ड सहकर वह गया कब का ःवघर को ूेयसी को एक क्षण उर से लगा सब कष्ट भूला, िकन्तु शािपत यक्ष तेरा रे महाकिव जन्म-भर को! रामिगिर पर िचर िवधुर हो युग-युगान्तर से पड़ा है , िमल न पाएगा ूलय तक हाय, उसका ौाप ऽाता। ‘मेघ’ िजस-िजस काल पढ़ता मैं ःवयं बन मेघ जाता! 7 दे ख मुझको ूाण-प्यारी दािमनी को अंक में भर
  23. 23. घूमते उन्मुक्त नभ में वायु क मृद-मन्द रथ पर, े ु अट्टहास-िवहास से मुख- िरत बनाते शून्य को भी जन तुखी भी क्षुब्ध होते भाग्य सुख मेरा िसहाकर; ूयिणनी भुज-पाश से जो है रहा िचरकाल वंिचत, यक्ष मुझको दे ख कसे ै िफर न दख में डब जाता। ु ू ‘मेघ’ िजस-िजस काल पढ़ता मैं ःवयं बन मेघ जाता! 8 दे खता जब यक्ष मुझको शैल-ौृगों पर िवचरता, ं एकटक हो सोचता कछ ु लोचनों में नीर भरता, यिक्षणी को िनज कशल- ु संवाद मुझसे भेजने की कामना से वह मुझे उठ बार-बार ूणाम करता; कनक िवलय-िवहीन कर से िफर कटज क फल चुनकर ु े ू
  24. 24. ूीित से ःवागत-वचन कह भेंट मेरे ूित चढ़ाता। ‘मेघ’ िजस-िजस काल पढ़ता मैं ःवयं बन मेघ जाता! 9 पुंकरावतर्क घनों के वंश का मुझको बताकर, कामरूप सुनाम दे , कह मेघपित का मान्य अनुचर कण्ठ कातर यक्ष मुझसे ूाथर्ना इस भाँित करता - ‘जा िूया क पास ले े सन्दे श मेरा, बन्धु जलधर! वास करती वह िवरिहणी धनद की अलकापुरी में, शम्भु िशर-शोिभत कलाधर ज्योितमय िजसको बनाता। ‘मेघ’ िजस-िजस काल पढ़ता मैं ःवयं बन मेघ जाता! 10 यक्ष पुनः ूयाण क अनु- े कल कहते मागर् सुखकर, ू
  25. 25. िफर बताता िकस जगह पर िकस तरह का है नगर, घर, िकस दशा, िकस रूप में है िूयतमा उसकी सलोनी, िकस तरह सूनी िबताती रािऽ, कसे दीघर् वासर, ै क्या कहँू गा, क्या करूगा, ँ मैं पहँु चकर पास उसक; े िकन्तु उत्तर क िलए कछ े ु शब्द िजह्वा पर न आता। ‘मेघ’ िजस-िजस काल पढ़ता मैं ःवयं बन मेघ जाता! 11 मौन पाकर यक्ष मुझको सोचकर यह धैयर् धरता, सत्पुरुष की रीित है यह मौन रहकर कायर् करता, दे खकर उद्यत मुझे ूःथान क िहत, कर उठाकर े वह मुझे आशीष दे ता- ‘इष्ट दे शों में िवचरता, हे जलद, ौीवृिद्ध कर तू संग वषार्-दािमनी क, े
  26. 26. हो न तुझको िवरह दख जो ु आज मैं िविधवश उठाता!’ ‘मेघ’ िजस-िजस काल पढ़ता मैं ःवयं बन मेघ जाता! – Other Information Collection: Madhukalash (Published: 1937) ूतीक्षा मधुर ूतीक्षा ही जब इतनी, िूय तुम आते तब क्या होता? मौन रात इस भांित िक जैसे, कोई गत वीणा पर बज कर, अभी-अभी सोई खोई-सी, सपनों में तारों पर िसर धर और िदशाओं से ूितध्विनयाँ, जामत सुिधयों-सी आती हैं , कान तुम्हारे तान कहीं से यिद सुन पाते, तब क्या होता? तुमने कब दी बात रात क सूने में तुम आने वाले, े पर ऐसे ही वक्त ूाण मन, मेरे हो उठते मतवाले, साँसें घूमघूम िफरिफर से, असमंजस क क्षण िगनती हैं , े िमलने की घिड़याँ तुम िनिश्चत, यिद कर जाते तब क्या होता? उत्सुकता की अकलाहट में, मैंने पलक पाँवड़े डाले, ु अम्बर तो मशहर िक सब िदन, रहता अपने होश सम्हाले, ू तारों की महिफल ने अपनी आँख िबछा दी िकस आशा से, मेरे मौन कटी को आते तुम िदख जाते तब क्या होता? ु
  27. 27. बैठ कल्पना करता हँू , पगचाप तुम्हारी मग से आती, रगरग में चेतनता घुलकर, आँसू क कणसी झर जाती, े नमक डलीसा गल अपनापन, सागर में घुलिमलसा जाता, अपनी बाँहों में भरकर िूय, कण्ठ लगाते तब क्या होता? अँधेरे का दीपक है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है ? कल्पना क हाथ से कमनीय जो मंिदर बना था , े भावना क हाथ से िजसमें िवतानों को तना था, े ःवप्न ने अपने करों से था िजसे रुिच से सँवारा, ःवगर् क दंूाप्य रं गों से, रसों से जो सना था, े ु ढह गया वह तो जुटाकर ईंट, पत्थर ककड़ों को ं एक अपनी शांित की किटया बनाना कब मना है ? ु है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है ? बादलों क अौु से धोया गया नभनील नीलम े का बनाया था गया मधुपाऽ मनमोहक, मनोरम, ूथम उशा की िकरण की लािलमासी लाल मिदरा थी उसी में चमचमाती नव घनों में चंचला सम, ू वह अगर टटा िमलाकर हाथ की दोनो हथेली, एक िनमर्ल ॐोत से तृंणा बुझाना कब मना है ? है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है ?
  28. 28. क्या घड़ी थी एक भी िचंता नहीं थी पास आई, कािलमा तो दर, छाया भी पलक पर थी न छाई, ू आँख से मःती झपकती, बातसे मःती टपकती, थी हँ सी ऐसी िजसे सुन बादलों ने शमर् खाई, वह गई तो ले गई उल्लास क आधार माना, े पर अिथरता पर समय की मुसकराना कब मना है ? ु है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है ? हाय, वे उन्माद क झोंक िक िजसमें राग जागा, े े वैभवों से फर आँखें गान का वरदान माँगा, े एक अंतर से ध्विनत हो दसरे में जो िनरन्तर, ू भर िदया अंबरअविन को मत्तता क गीत गागा, े अन्त उनका हो गया तो मन बहलने क िलये ही, े ले अधूरी पंिक्त कोई गुनगुनाना कब मना है ? है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है ? हाय वे साथी िक चुम्बक लौहसे जो पास आए, पास क्या आए, हृदय क बीच ही गोया समाए, े िदन कटे ऐसे िक कोई तार वीणा क िमलाकर े एक मीठा और प्यारा िज़न्दगी का गीत गाए, वे गए तो सोचकर यह लौटने वाले नहीं वे, खोज मन का मीत कोई लौ लगाना कब मना है ? है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है ? क्या हवाएँ थीं िक उजड़ा प्यार का वह आिशयाना,
  29. 29. कछ न आया काम तेरा शोर करना, गुल मचाना, ु नाश की उन शिक्तयों क साथ चलता ज़ोर िकसका, े िकन्तु ऐ िनमार्ण क ूितिनिध, तुझे होगा बताना, े जो बसे हैं वे उजड़ते हैं ूकृ ित क जड़ िनयम से, े पर िकसी उजड़े हए को िफर बसाना कब मना है ? ु है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है ? जुगनू अँधेरी रात में दीपक जलाए कौन बैठा है ? उठी ऐसी घटा नभ में िछपे सब चांद औ' तारे , उठा तूफान वह नभ में गए बुझ दीप भी सारे , मगर इस रात में भी लौ लगाए कौन बैठा है ? अँधेरी रात में दीपक जलाए कौन बैठा है ? गगन में गवर् से उठउठ, गगन में गवर् से िघरिघर, गरज कहती घटाएँ हैं , नहीं होगा उजाला िफर, मगर िचर ज्योित में िनष्ठा जमाए कौन बैठा है ? अँधेरी रात में दीपक जलाए कौन बैठा है ?
  30. 30. ितिमर क राज का ऐसा े किठन आतंक छाया है , उठा जो शीश सकते थे उन्होनें िसर झुकाया है , मगर िविोह की ज्वाला जलाए कौन बैठा है ? अँधेरी रात में दीपक जलाए कौन बैठा है ? ूलय का सब समां बांधे ूलय की रात है छाई, िवनाशक शिक्तयों की इस ितिमर क बीच बन आई, े मगर िनमार्ण में आशा दृढ़ाए कौन बैठा है ? अँधेरी रात में दीपक जलाए कौन बैठा है ? ूभंजन, मेघ दािमनी ने न क्या तोड़ा, न क्या फोड़ा, धरा क और नभ क बीच े े कछ सािबत नहीं छोड़ा, ु मगर िवश्वास को अपने बचाए कौन बैठा है ? अँधेरी रात में दीपक जलाए कौन बैठा है ? ूलय की रात में सोचे ूणय की बात क्या कोई, मगर पड़ ूेम बंधन में समझ िकसने नहीं खोई,
  31. 31. िकसी क पथ में पलक िबछाए कौन बैठा है ? े ें अँधेरी रात में दीपक जलाए कौन बैठा है ? कहते हैं तारे गाते हैं कहते हैं तारे गाते हैं ! सन्नाटा वसुधा पर छाया, नभ में हमने कान लगाया, िफर भी अगिणत कठों का यह राग नहीं हम सुन पाते हैं ! ं कहते हैं तारे गाते हैं ! ःवगर् सुना करता यह गाना, पृिथवी ने तो बस यह जाना, अगिणत ओस-कणों में तारों क नीरव आँसू आते हैं ! े कहते हैं तारे गाते हैं ! ऊपर दे व तले मानवगण, नभ में दोनों गायन-रोदन, राग सदा ऊपर को उठता, आँसू नीचे झर जाते हैं । कहते हैं तारे गाते हैं !
  32. 32. लो िदन बीता, लो रात गई लो िदन बीता, लो रात गई, सूरज ढलकर पिच्छम पहँु चा, डबा, संध्या आई, छाई, ू सौ संध्या-सी वह संध्या थी, क्यों उठते-उठते सोचा था, िदन में होगी कछ बात नई। ु लो िदन बीता, लो रात गई। धीमे-धीमे तारे िनकले, धीरे -धीरे नभ में फले, ै सौ रजनी-सी वह रजनी थी क्यों संध्या को यह सोचा था, िनिश में होगी कछ बात नई। ु लो िदन बीता, लो रात गई। िचिड़याँ चहकीं, किलयाँ महकी, पूरब से िफर सूरज िनकला, जैसे होती थी सुबह हई, ु क्यों सोते-सोते सोचा था, होगी ूातः कछ बात नई। ु लो िदन बीता, लो रात गई,
  33. 33. मधुशाला मृद ु भावों क अंगूरों की आज बना लाया हाला, े िूयतम, अपने ही हाथों से आज िपलाऊगा प्याला, ँ पहले भोग लगा लूँ तेरा िफर ूसाद जग पाएगा, सबसे पहले तेरा ःवागत करती मेरी मधुशाला।।१। प्यास तुझे तो, िवश्व तपाकर पूणर् िनकालूगा हाला, ँ एक पाँव से साकी बनकर नाचूँगा लेकर प्याला, जीवन की मधुता तो तेरे ऊपर कब का वार चुका, आज िनछावर कर दँ गा मैं तुझ पर जग की मधुशाला।।२। ू िूयतम, तू मेरी हाला है , मैं तेरा प्यासा प्याला, अपने को मुझमें भरकर तू बनता है पीनेवाला, मैं तुझको छक छलका करता, मःत मुझे पी तू होता, एक दसरे की हम दोनों आज परःपर मधुशाला।।३। ू भावुकता अंगूर लता से खींच कल्पना की हाला, किव साकी बनकर आया है भरकर किवता का प्याला, कभी न कण-भर खाली होगा लाख िपएँ, दो लाख िपएँ! पाठकगण हैं पीनेवाले, पुःतक मेरी मधुशाला।।४। मधुर भावनाओं की सुमधुर िनत्य बनाता हँू हाला, भरता हँू इस मधु से अपने अंतर का प्यासा प्याला, उठा कल्पना क हाथों से ःवयं उसे पी जाता हँू , े अपने ही में हँू मैं साकी, पीनेवाला, मधुशाला।।५।
  34. 34. मिदरालय जाने को घर से चलता है पीनेवला, 'िकस पथ से जाऊ?' असमंजस में है वह भोलाभाला, ँ अलग-अलग पथ बतलाते सब पर मैं यह बतलाता हँू - 'राह पकड़ तू एक चला चल, पा जाएगा मधुशाला।'। ६। चलने ही चलने में िकतना जीवन, हाय, िबता डाला! 'दर अभी है ', पर, कहता है हर पथ बतलानेवाला, ू िहम्मत है न बढँू आगे को साहस है न िफरुँ पीछे , िककतर्व्यिवमूढ़ मुझे कर दर खड़ी है मधुशाला।।७। ं ू मुख से तू अिवरत कहता जा मधु, मिदरा, मादक हाला, हाथों में अनुभव करता जा एक लिलत किल्पत प्याला, ध्यान िकए जा मन में सुमधुर सुखकर, सुंदर साकी का, और बढ़ा चल, पिथक, न तुझको दर लगेगी मधुशाला।।८। ू मिदरा पीने की अिभलाषा ही बन जाए जब हाला, अधरों की आतुरता में ही जब आभािसत हो प्याला, बने ध्यान ही करते-करते जब साकी साकार, सखे, रहे न हाला, प्याला, साकी, तुझे िमलेगी मधुशाला।।९। सुन, कलक , छलछ मधुघट से िगरती प्यालों में हाला, सुन, रूनझुन रूनझुन चल िवतरण करती मधु साकीबाला, बस आ पहंु चे, दर नहीं कछ, चार कदम अब चलना है , ु ु चहक रहे , सुन, पीनेवाले, महक रही, ले, मधुशाला।।१०।
  35. 35. जलतरं ग बजता, जब चुंबन करता प्याले को प्याला, वीणा झंकृत होती, चलती जब रूनझुन साकीबाला, डाँट डपट मधुिवबता की ध्विनत पखावज करती है , े मधुरव से मधु की मादकता और बढ़ाती मधुशाला।।११। मेंहदी रं िजत मृदल हथेली पर मािणक मधु का प्याला, ु अंगूरी अवगुंठन डाले ःवणर् वणर् साकीबाला, पाग बैंजनी, जामा नीला डाट डटे पीनेवाले, इन्िधनुष से होड़ लगाती आज रं गीली मधुशाला।।१२। हाथों में आने से पहले नाज़ िदखाएगा प्याला, अधरों पर आने से पहले अदा िदखाएगी हाला, बहतेरे इनकार करे गा साकी आने से पहले, ु पिथक, न घबरा जाना, पहले मान करे गी मधुशाला।।१३। लाल सुरा की धार लपट सी कह न इसे दे ना ज्वाला, फिनल मिदरा है , मत इसको कह दे ना उर का छाला, े ददर् नशा है इस मिदरा का िवगत ःमृितयाँ साकी हैं , पीड़ा में आनंद िजसे हो, आए मेरी मधुशाला।।१४। जगती की शीतल हाला सी पिथक, नहीं मेरी हाला, जगती क ठं डे प्याले सा पिथक, नहीं मेरा प्याला, े ज्वाल सुरा जलते प्याले में दग्ध हृदय की किवता है , जलने से भयभीत न जो हो, आए मेरी मधुशाला।।१५। बहती हाला दे खी, दे खो लपट उठाती अब हाला,
  36. 36. ू दे खो प्याला अब छते ही होंठ जला दे नेवाला, 'होंठ नहीं, सब दे ह दहे , पर पीने को दो बूद िमले' ं ऐसे मधु क दीवानों को आज बुलाती मधुशाला।।१६। े धमर्मन्थ सब जला चुकी है , िजसक अंतर की ज्वाला, े मंिदर, मसिजद, िगिरजे, सब को तोड़ चुका जो मतवाला, पंिडत, मोिमन, पािदरयों क फदों को जो काट चुका, े ं कर सकती है आज उसी का ःवागत मेरी मधुशाला।।१७। लालाियत अधरों से िजसने, हाय, नहीं चूमी हाला, ु हषर्-िवकिपत कर से िजसने, हा, न छआ मधु का प्याला, ं हाथ पकड़ लिज्जत साकी को पास नहीं िजसने खींचा, व्यथर् सुखा डाली जीवन की उसने मधुमय मधुशाला।।१८। बने पुजारी ूेमी साकी, गंगाजल पावन हाला, रहे फरता अिवरत गित से मधु क प्यालों की माला' े े 'और िलये जा, और पीये जा', इसी मंऽ का जाप करे ' मैं िशव की ूितमा बन बैठू ं , मंिदर हो यह मधुशाला।।१९। बजी न मंिदर में घिड़याली, चढ़ी न ूितमा पर माला, बैठा अपने भवन मुअिज्ज़न दे कर मिःजद में ताला, लुटे ख़जाने नरिपतयों क िगरीं गढ़ों की दीवारें , े रहें मुबारक पीनेवाले, खुली रहे यह मधुशाला।।२०। बड़े बड़े िपरवार िमटें यों, एक न हो रोनेवाला, हो जाएँ सुनसान महल वे, जहाँ िथरकतीं सुरबाला,
  37. 37. राज्य उलट जाएँ, भूपों की भाग्य सुलआमी सो जाए, जमे रहें गे पीनेवाले, जगा करे गी मधुशाला।।२१। सब िमट जाएँ, बना रहे गा सुन्दर साकी, यम काला, सूखें सब रस, बने रहें गे, िकन्तु, हलाहल औ' हाला, धूमधाम औ' चहल पहल क ःथान सभी सुनसान बनें, े झगा करे गा अिवरत मरघट, जगा करे गी मधुशाला।।२२। भुरा सदा कहलायेगा जग में बाँका, मदचंचल प्याला, छै ल छबीला, रिसया साकी, अलबेला पीनेवाला, पटे कहाँ से, मधु औ' जग की जोड़ी ठीक नहीं, जग जजर्र ूितदन, ूितक्षण, पर िनत्य नवेली मधुशाला।।२३। िबना िपये जो मधुशाला को बुरा कहे , वह मतवाला, पी लेने पर तो उसक मुह पर पड़ जाएगा ताला, े दास िोिहयों दोनों में है जीत सुरा की, प्याले की, िवश्विवजियनी बनकर जग में आई मेरी मधुशाला।।२४। हरा भरा रहता मिदरालय, जग पर पड़ जाए पाला, वहाँ मुहरर्म का तम छाए, यहाँ होिलका की ज्वाला, ःवगर् लोक से सीधी उतरी वसुधा पर, दख क्या जाने, ु पढ़े मिसर्या दिनया सारी, ईद मनाती मधुशाला।।२५। ु एक बरस में, एक बार ही जगती होली की ज्वाला, एक बार ही लगती बाज़ी, जलती दीपों की माला, दिनयावालों, िकन्तु, िकसी िदन आ मिदरालय में दे खो, ु
  38. 38. िदन को होली, रात िदवाली, रोज़ मनाती मधुशाला।।२६। नहीं जानता कौन, मनुज आया बनकर पीनेवाला, कौन अिपिरचत उस साकी से, िजसने दध िपला पाला, ू जीवन पाकर मानव पीकर मःत रहे , इस कारण ही, जग में आकर सबसे पहले पाई उसने मधुशाला।।२७। बनी रहें अंगूर लताएँ िजनसे िमलती है हाला, बनी रहे वह िमटटी िजससे बनता है मधु का प्याला, बनी रहे वह मिदर िपपासा तृप्त न जो होना जाने, बनें रहें ये पीने वाले, बनी रहे यह मधुशाला।।२८। सकशल समझो मुझको, सकशल रहती यिद साकीबाला, ु ु मंगल और अमंगल समझे मःती में क्या मतवाला, िमऽों, मेरी क्षेम न पूछो आकर, पर मधुशाला की, कहा करो 'जय राम' न िमलकर, कहा करो 'जय मधुशाला'।।२९। सूयर् बने मधु का िवबता, िसंधु बने घट, जल, हाला, े बादल बन-बन आए साकी, भूिम बने मधु का प्याला, झड़ी लगाकर बरसे मिदरा िरमिझम, िरमिझम, िरमिझम कर, बेिल, िवटप, तृण बन मैं पीऊ, वषार् ऋतु हो मधुशाला।।३०। ँ तारक मिणयों से सिज्जत नभ बन जाए मधु का प्याला, सीधा करक भर दी जाए उसमें सागरजल हाला, े मज्ञल्तऌ◌ा समीरण साकी बनकर अधरों पर छलका जाए, फले हों जो सागर तट से िवश्व बने यह मधुशाला।।३१। ै
  39. 39. अधरों पर हो कोई भी रस िजहवा पर लगती हाला, भाजन हो कोई हाथों में लगता रक्खा है प्याला, हर सूरत साकी की सूरत में पिरवितर्त हो जाती, आँखों क आगे हो कछ भी, आँखों में है मधुशाला।।३२। े ु पौधे आज बने हैं साकी ले ले फलों का प्याला, ू भरी हई है िजसक अंदर िपरमल-मधु-सुिरभत हाला, ु े माँग माँगकर ॅमरों क दल रस की मिदरा पीते हैं , े झूम झपक मद-झंिपत होते, उपवन क्या है मधुशाला!।३३। ूित रसाल तरू साकी सा है , ूित मंजिरका है प्याला, छलक रही है िजसक बाहर मादक सौरभ की हाला, े छक िजसको मतवाली कोयल कक रही डाली डाली ू हर मधुऋतु में अमराई में जग उठती है मधुशाला।।३४। मंद झकोरों क प्यालों में मधुऋतु सौरभ की हाला े भर भरकर है अिनल िपलाता बनकर मधु-मद-मतवाला, हरे हरे नव पल्लव, तरूगण, नूतन डालें, वल्लिरयाँ, छक छक, झुक झुक झूम रही हैं , मधुबन में है मधुशाला।।३५। साकी बन आती है ूातः जब अरुणा ऊषा बाला, तारक-मिण-मंिडत चादर दे मोल धरा लेती हाला, अगिणत कर-िकरणों से िजसको पी, खग पागल हो गाते, ूित ूभात में पूणर् ूकृ ित में मुिखरत होती मधुशाला।।३६।
  40. 40. उतर नशा जब उसका जाता, आती है संध्या बाला, बड़ी पुरानी, बड़ी नशीली िनत्य ढला जाती हाला, जीवन क संताप शोक सब इसको पीकर िमट जाते े सुरा-सुप्त होते मद-लोभी जागृत रहती मधुशाला।।३७। अंधकार है मधुिवबता, सुन्दर साकी शिशबाला े िकरण िकरण में जो छलकाती जाम जुम्हाई का हाला, पीकर िजसको चेतनता खो लेने लगते हैं झपकी तारकदल से पीनेवाले, रात नहीं है , मधुशाला।।३८। िकसी ओर मैं आँखें फरू, िदखलाई दे ती हाला े ँ िकसी ओर मैं आँखें फरू, िदखलाई दे ता प्याला, े ँ िकसी ओर मैं दे ख, मुझको िदखलाई दे ता साकी ूं िकसी ओर दे ख, िदखलाई पड़ती मुझको मधुशाला।।३९। ूं साकी बन मुरली आई साथ िलए कर में प्याला, िजनमें वह छलकाती लाई अधर-सुधा-रस की हाला, योिगराज कर संगत उसकी नटवर नागर कहलाए, दे खो कसों-कसों को है नाच नचाती मधुशाला।।४०। ै ै वादक बन मधु का िवबता लाया सुर-सुमधुर-हाला, े रािगिनयाँ बन साकी आई भरकर तारों का प्याला, िवबता क संकतों पर दौड़ लयों, आलापों में, े े े पान कराती ौोतागण को, झंकृत वीणा मधुशाला।।४१। िचऽकार बन साकी आता लेकर तूली का प्याला,
  41. 41. िजसमें भरकर पान कराता वह बहु रस-रं गी हाला, मन क िचऽ िजसे पी-पीकर रं ग-िबरं गे हो जाते, े िचऽपटी पर नाच रही है एक मनोहर मधुशाला।।४२। घन ँयामल अंगूर लता से िखंच िखंच यह आती हाला, अरूण-कमल-कोमल किलयों की प्याली, फलों का प्याला, ू लोल िहलोरें साकी बन बन मािणक मधु से भर जातीं, हं स मज्ञल्तऌ◌ा होते पी पीकर मानसरोवर मधुशाला।।४३। िहम ौेणी अंगूर लता-सी फली, िहम जल है हाला, ै चंचल निदयाँ साकी बनकर, भरकर लहरों का प्याला, कोमल कर-करों में अपने छलकाती िनिशिदन चलतीं, ू पीकर खेत खड़े लहराते, भारत पावन मधुशाला।।४४। धीर सुतों क हृदय रक्त की आज बना रिक्तम हाला, े वीर सुतों क वर शीशों का हाथों में लेकर प्याला, े अित उदार दानी साकी है आज बनी भारतमाता, ःवतंऽता है तृिषत कािलका बिलवेदी है मधुशाला।।४५। दतकारा मिःजद ने मुझको कहकर है पीनेवाला, ु ठु कराया ठाकरद्वारे ने दे ख हथेली पर प्याला, ु कहाँ िठकाना िमलता जग में भला अभागे कािफर को? शरणःथल बनकर न मुझे यिद अपना लेती मधुशाला।।४६। पिथक बना मैं घूम रहा हँू , सभी जगह िमलती हाला, सभी जगह िमल जाता साकी, सभी जगह िमलता प्याला,
  42. 42. मुझे ठहरने का, हे िमऽों, कष्ट नहीं कछ भी होता, ु िमले न मंिदर, िमले न मिःजद, िमल जाती है मधुशाला।।४७। सजें न मिःजद और नमाज़ी कहता है अल्लाताला, सजधजकर, पर, साकी आता, बन ठनकर, पीनेवाला, शेख, कहाँ तुलना हो सकती मिःजद की मिदरालय से िचर िवधवा है मिःजद तेरी, सदा सुहािगन मधुशाला।।४८। बजी नफ़ीरी और नमाज़ी भूल गया अल्लाताला, गाज िगरी, पर ध्यान सुरा में मग्न रहा पीनेवाला, शेख, बुरा मत मानो इसको, साफ़ कहँू तो मिःजद को अभी युगों तक िसखलाएगी ध्यान लगाना मधुशाला!।४९। मुसलमान औ' िहन्द ू है दो, एक, मगर, उनका प्याला, एक, मगर, उनका मिदरालय, एक, मगर, उनकी हाला, दोनों रहते एक न जब तक मिःजद मिन्दर में जाते, बैर बढ़ाते मिःजद मिन्दर मेल कराती मधुशाला!।५०। कोई भी हो शेख नमाज़ी या पंिडत जपता माला, बैर भाव चाहे िजतना हो मिदरा से रखनेवाला, एक बार बस मधुशाला क आगे से होकर िनकले, े दे खूँ कसे थाम न लेती दामन उसका मधुशाला!।५१। ै और रसों में ःवाद तभी तक, दर जभी तक है हाला, ू इतरा लें सब पाऽ न जब तक, आगे आता है प्याला, कर लें पूजा शेख, पुजारी तब तक मिःजद मिन्दर में
  43. 43. घूँघट का पट खोल न जब तक झाँक रही है मधुशाला।।५२। आज करे परहे ज़ जगत, पर, कल पीनी होगी हाला, आज करे इन्कार जगत पर कल पीना होगा प्याला, होने दो पैदा मद का महमूद जगत में कोई, िफर जहाँ अभी हैं मनि◌दर मिःजद वहाँ बनेगी मधुशाला।।५३। ् यज्ञ अिग्न सी धधक रही है मधु की भटठी की ज्वाला, ऋिष सा ध्यान लगा बैठा है हर मिदरा पीने वाला, मुिन कन्याओं सी मधुघट ले िफरतीं साकीबालाएँ, िकसी तपोवन से क्या कम है मेरी पावन मधुशाला।।५४। सोम सुरा पुरखे पीते थे, हम कहते उसको हाला, िोणकलश िजसको कहते थे, आज वही मधुघट आला, वेिदविहत यह रःम न छोड़ो वेदों क ठे कदारों, े े युग युग से है पुजती आई नई नहीं है मधुशाला।।५५। वही वारूणी जो थी सागर मथकर िनकली अब हाला, रं भा की संतान जगत में कहलाती 'साकीबाला', दे व अदे व िजसे ले आए, संत महं त िमटा दें गे! िकसमें िकतना दम खम, इसको खूब समझती मधुशाला।।५६। ू कभी न सुन पड़ता, 'इसने, हा, छ दी मेरी हाला', कभी न कोई कहता, 'उसने जूठा कर डाला प्याला', सभी जाित क लोग यहाँ पर साथ बैठकर पीते हैं , े सौ सुधारकों का करती है काम अकले मधुशाला।।५७। े
  44. 44. ौम, संकट, संताप, सभी तुम भूला करते पी हाला, सबक बड़ा तुम सीख चुक यिद सीखा रहना मतवाला, े व्यथर् बने जाते हो िहरजन, तुम तो मधुजन ही अच्छे , ु ठकराते िहर मंि◌दरवाले, पलक िबछाती मधुशाला।।५८। एक तरह से सबका ःवागत करती है साकीबाला, अज्ञ िवज्ञ में है क्या अंतर हो जाने पर मतवाला, रं क राव में भेद हआ है कभी नहीं मिदरालय में, ु साम्यवाद की ूथम ूचारक है यह मेरी मधुशाला।।५९। बार बार मैंने आगे बढ़ आज नहीं माँगी हाला, समझ न लेना इससे मुझको साधारण पीने वाला, हो तो लेने दो ऐ साकी दर ूथम संकोचों को, ू मेरे ही ःवर से िफर सारी गूँज उठे गी मधुशाला।।६०। कल? कल पर िवश्वास िकया कब करता है पीनेवाला हो सकते कल कर जड़ िजनसे िफर िफर आज उठा प्याला, आज हाथ में था, वह खोया, कल का कौन भरोसा है , कल की हो न मुझे मधुशाला काल किटल की मधुशाला।।६१। ु आज िमला अवसर, तब िफर क्यों मैं न छक जी-भर हाला ूँ आज िमला मौका, तब िफर क्यों ढाल न लूँ जी-भर प्याला, छे ड़छाड़ अपने साकी से आज न क्यों जी-भर कर लूँ, एक बार ही तो िमलनी है जीवन की यह मधुशाला।।६२।
  45. 45. आज सजीव बना लो, ूेयसी, अपने अधरों का प्याला, भर लो, भर लो, भर लो इसमें, यौवन मधुरस की हाला, और लगा मेरे होठों से भूल हटाना तुम जाओ, अथक बनू मैं पीनेवाला, खुले ूणय की मधुशाला।।६३। सुमुखी तुम्हारा, सुन्दर मुख ही, मुझको कन्चन का प्याला छलक रही है िजसमं◌े मािणक रूप मधुर मादक हाला, मैं ही साकी बनता, मैं ही पीने वाला बनता हँू जहाँ कहीं िमल बैठे हम तु वहीं गयी हो मधुशाला।।६४। दो िदन ही मधु मुझे िपलाकर ऊब उठी साकीबाला, भरकर अब िखसका दे ती है वह मेरे आगे प्याला, नाज़, अदा, अंदाजों से अब, हाय िपलाना दर हआ, ू ु अब तो कर दे ती है कवल फ़ज़र् -अदाई मधुशाला।।६५। े छोटे -से जीवन में िकतना प्यार करुँ , पी लूँ हाला, आने क ही साथ जगत में कहलाया 'जानेवाला', े ःवागत क ही साथ िवदा की होती दे खी तैयारी, े बंद लगी होने खुलते ही मेरी जीवन-मधुशाला।।६६। क्या पीना, िनद्वर् न्द न जब तक ढाला प्यालों पर प्याला, क्या जीना, िनरं ि◌चत न जब तक साथ रहे साकीबाला, खोने का भय, हाय, लगा है पाने क सुख क पीछे , े े िमलने का आनंद न दे ती िमलकर क भी मधुशाला।।६७। े मुझे िपलाने को लाए हो इतनी थोड़ी-सी हाला!
  46. 46. मुझे िदखाने को लाए हो एक यही िछछला प्याला! इतनी पी जीने से अच्छा सागर की ले प्यास मरुँ , िसंधँ◌-तृषा दी िकसने रचकर िबंद-बराबर मधुशाला।।६८। ु ु क्या कहता है , रह न गई अब तेरे भाजन में हाला, क्या कहता है , अब न चलेगी मादक प्यालों की माला, थोड़ी पीकर प्यास बढ़ी तो शेष नहीं कछ पीने को, ु प्यास बुझाने को बुलवाकर प्यास बढ़ाती मधुशाला।।६९। िलखी भाग्य में िजतनी बस उतनी ही पाएगा हाला, िलखा भाग्य में जैसा बस वैसा ही पाएगा प्याला, लाख पटक तू हाथ पाँव, पर इससे कब कछ होने का, ु िलखी भाग्य में जो तेरे बस वही िमलेगी मधुशाला।।७०। कर ले, कर ले कजूसी तू मुझको दे ने में हाला, ं ू दे ले, दे ले तू मुझको बस यह टटा फटा प्याला, ू मैं तो सॄ इसी पर करता, तू पीछे पछताएगी, जब न रहँू गा मैं, तब मेरी याद करे गी मधुशाला।।७१। ध्यान मान का, अपमानों का छोड़ िदया जब पी हाला, गौरव भूला, आया कर में जब से िमट्टी का प्याला, साकी की अंदाज़ भरी िझड़की में क्या अपमान धरा, दिनया भर की ठोकर खाकर पाई मैंने मधुशाला।।७२। ु क्षीण, क्षुि, क्षणभंगुर, दबर्ल मानव िमटटी का प्याला, ु भरी हई है िजसक अंदर कटु -मधु जीवन की हाला, ु े
  47. 47. मृत्यु बनी है िनदर् य साकी अपने शत-शत कर फला, ै काल ूबल है पीनेवाला, संसित है यह मधुशाला।।७३। ृ प्याले सा गढ़ हमें िकसी ने भर दी जीवन की हाला, नशा न भाया, ढाला हमने ले लेकर मधु का प्याला, जब जीवन का ददर् उभरता उसे दबाते प्याले से, जगती क पहले साकी से जूझ रही है मधुशाला।।७४। े अपने अंगूरों से तन में हमने भर ली है हाला, क्या कहते हो, शेख, नरक में हमें तपाएगी ज्वाला, तब तो मिदरा खूब िखंचेगी और िपएगा भी कोई, हमें नमक की ज्वाला में भी दीख पड़े गी मधुशाला।।७५। यम आएगा लेने जब, तब खूब चलूँगा पी हाला, पीड़ा, संकट, कष्ट नरक क क्या समझेगा मतवाला, े बर, कठोर, किटल, किवचारी, अन्यायी यमराजों क ू ु ु े डं डों की जब मार पड़े गी, आड़ करे गी मधुशाला।।७६। यिद इन अधरों से दो बातें ूेम भरी करती हाला, यिद इन खाली हाथों का जी पल भर बहलाता प्याला, हािन बता, जग, तेरी क्या है , व्यथर् मुझे बदनाम न कर, ू मेरे टटे िदल का है बस एक िखलौना मधुशाला।।७७। याद न आए दखमय जीवन इससे पी लेता हाला, ू जग िचंताओं से रहने को मुक्त, उठा लेता प्याला, शौक, साध क और ःवाद क हे तु िपया जग करता है , े े
  48. 48. पर मै वह रोगी हँू िजसकी एक दवा है मधुशाला।।७८। िगरती जाती है िदन ूितदन ूणयनी ूाणों की हाला भग्न हआ जाता िदन ूितदन सुभगे मेरा तन प्याला, ु रूठ रहा है मुझसे रूपसी, िदन िदन यौवन का साकी सूख रही है िदन िदन सुन्दरी, मेरी जीवन मधुशाला।।७९। यम आयेगा साकी बनकर साथ िलए काली हाला, पी न होश में िफर आएगा सुरा-िवसुध यह मतवाला, यह अंि◌तम बेहोशी, अंितम साकी, अंितम प्याला है , पिथक, प्यार से पीना इसको िफर न िमलेगी मधुशाला।८०। ढलक रही है तन क घट से, संिगनी जब जीवन हाला े पऽ गरल का ले जब अंितम साकी है आनेवाला, हाथ ःपशर् भूले प्याले का, ःवाद सुरा जीव्हा भूले कानो में तुम कहती रहना, मधु का प्याला मधुशाला।।८१। मेरे अधरों पर हो अंितम वःतु न तुलसीदल प्याला मेरी जीव्हा पर हो अंितम वःतु न गंगाजल हाला, मेरे शव क पीछे चलने वालों याद इसे रखना े राम नाम है सत्य न कहना, कहना सच्ची मधुशाला।।८२। मेरे शव पर वह रोये, हो िजसक आंसू में हाला े आह भरे वो, जो हो सुिरभत मिदरा पी कर मतवाला, दे मुझको वो कान्धा िजनक पग मद डगमग होते हों े और जलूं उस ठौर जहां पर कभी रही हो मधुशाला।।८३।
  49. 49. और िचता पर जाये उं ढे ला पऽ न ियत का, पर प्याला कठ बंधे अंगूर लता में मध्य न जल हो, पर हाला, ं ूाण िूये यिद ौाध करो तुम मेरा तो ऐसे करना पीने वालां◌े को बुलवा कऱ खुलवा दे ना मधुशाला।।८४। नाम अगर कोई पूछे तो, कहना बस पीनेवाला काम ढालना, और ढालना सबको मिदरा का प्याला, जाित िूये, पूछे यिद कोई कह दे ना दीवानों की धमर् बताना प्यालों की ले माला जपना मधुशाला।।८५। ज्ञात हआ यम आने को है ले अपनी काली हाला, ु पंि◌डत अपनी पोथी भूला, साधू भूल गया माला, और पुजारी भूला पूजा, ज्ञान सभी ज्ञानी भूला, िकन्तु न भूला मरकर क भी पीनेवाला मधुशाला।।८६। े यम ले चलता है मुझको तो, चलने दे लेकर हाला, चलने दे साकी को मेरे साथ िलए कर में प्याला, ःवगर्, नरक या जहाँ कहीं भी तेरा जी हो लेकर चल, ठौर सभी हैं एक तरह क साथ रहे यिद मधुशाला।।८७। े पाप अगर पीना, समदोषी तो तीनों - साकी बाला, िनत्य िपलानेवाला प्याला, पी जानेवाली हाला, साथ इन्हें भी ले चल मेरे न्याय यही बतलाता है , कद जहाँ मैं हँू , की जाए कद वहीं पर मधुशाला।।८८। ै ै
  50. 50. शांत सकी हो अब तक, साकी, पीकर िकस उर की ज्वाला, 'और, और' की रटन लगाता जाता हर पीनेवाला, िकतनी इच्छाएँ हर जानेवाला छोड़ यहाँ जाता! िकतने अरमानों की बनकर कॄ खड़ी है मधुशाला।।८९। जो हाला मैं चाह रहा था, वह न िमली मुझको हाला, जो प्याला मैं माँग रहा था, वह न िमला मुझको प्याला, िजस साकी क पीछे मैं था दीवाना, न िमला साकी, े िजसक पीछे था मैं पागल, हा न िमली वह मधुशाला!।९०। े दे ख रहा हँू अपने आगे कब से मािणक-सी हाला, दे ख रहा हँू अपने आगे कब से कचन का प्याला, ं 'बस अब पाया!'- कह-कह कब से दौड़ रहा इसक पीछे , े िकतु रही है दर िक्षितज-सी मुझसे मेरी मधुशाला।।९१। ं ू कभी िनराशा का तम िघरता, िछप जाता मधु का प्याला, िछप जाती मिदरा की आभा, िछप जाती साकीबाला, कभी उजाला आशा करक प्याला िफर चमका जाती, े आँिखमचौली खेल रही है मुझसे मेरी मधुशाला।।९२। 'आ आगे' कहकर कर पीछे कर लेती साकीबाला, होंठ लगाने को कहकर हर बार हटा लेती प्याला, नहीं मुझे मालूम कहाँ तक यह मुझको ले जाएगी, बढ़ा बढ़ाकर मुझको आगे, पीछे हटती मधुशाला।।९३। हाथों में आने-आने में, हाय, िफसल जाता प्याला,
  51. 51. ु अधरों पर आने-आने में हाय, ढलक जाती हाला, दिनयावालो, आकर मेरी िकःमत की ख़ूबी दे खो, ु रह-रह जाती है बस मुझको िमलते- िमलते मधुशाला।।९४। ूाप्य नही है तो, हो जाती लुप्त नहीं िफर क्यों हाला, ूाप्य नही है तो, हो जाता लुप्त नहीं िफर क्यों प्याला, दर न इतनी िहम्मत हारुँ , पास न इतनी पा जाऊ, ू ँ व्यथर् मुझे दौड़ाती मरु में मृगजल बनकर मधुशाला।।९५। िमले न, पर, ललचा ललचा क्यों आकल करती है हाला, ु िमले न, पर, तरसा तरसाकर क्यों तड़पाता है प्याला, हाय, िनयित की िवषम लेखनी मःतक पर यह खोद गई 'दर रहे गी मधु की धारा, पास रहे गी मधुशाला!'।९६। ू मिदरालय में कब से बैठा, पी न सका अब तक हाला, यत्न सिहत भरता हँू , कोई िकतु उलट दे ता प्याला, ं मानव-बल क आगे िनबर्ल भाग्य, सुना िवद्यालय में, े 'भाग्य ूबल, मानव िनबर्ल' का पाठ पढ़ाती मधुशाला।।९७। िकःमत में था खाली खप्पर, खोज रहा था मैं प्याला, ढँू ढ़ रहा था मैं मृगनयनी, िकःमत में थी मृगछाला, िकसने अपना भाग्य समझने में मुझसा धोखा खाया, िकःमत में था अवघट मरघट, ढँू ढ़ रहा था मधुशाला।।९८। उस प्याले से प्यार मुझे जो दर हथेली से प्याला, ू उस हाला से चाव मुझे जो दर अधर से है हाला, ू
  52. 52. प्यार नहीं पा जाने में है , पाने क अरमानों में! े पा जाता तब, हाय, न इतनी प्यारी लगती मधुशाला।।९९। साकी क पास है ितनक सी ौी, सुख, संिपत की हाला, े सब जग है पीने को आतुर ले ले िकःमत का प्याला, रे ल ठे ल कछ आगे बढ़ते, बहतेरे दबकर मरते, ु ु जीवन का संघषर् नहीं है , भीड़ भरी है मधुशाला।।१००। साकी, जब है पास तुम्हारे इतनी थोड़ी सी हाला, क्यों पीने की अिभलषा से, करते सबको मतवाला, हम िपस िपसकर मरते हैं , तुम िछप िछपकर मुसकाते हो, हाय, हमारी पीड़ा से है बीड़ा करती मधुशाला।।१०१। साकी, मर खपकर यिद कोई आगे कर पाया प्याला, पी पाया कवल दो बूंदों से न अिधक तेरी हाला, े जीवन भर का, हाय, िपरौम लूट िलया दो बूंदों ने, भोले मानव को ठगने क हे तु बनी है मधुशाला।।१०२। े िजसने मुझको प्यासा रक्खा बनी रहे वह भी हाला, िजसने जीवन भर दौड़ाया बना रहे वह भी प्याला, मतवालों की िजहवा से हैं कभी िनकलते शाप नहीं, दखी बनाय िजसने मुझको सुखी रहे वह मधुशाला!।१०३। ु नहीं चाहता, आगे बढ़कर छीनूँ औरों की हाला, नहीं चाहता, धक्क दे कर, छीनूँ औरों का प्याला, े साकी, मेरी ओर न दे खो मुझको ितनक मलाल नहीं,
  53. 53. इतना ही क्या कम आँखों से दे ख रहा हँू मधुशाला।।१०४। मद, मिदरा, मधु, हाला सुन-सुन कर ही जब हँू मतवाला, क्या गित होगी अधरों क जब नीचे आएगा प्याला, े साकी, मेरे पास न आना मैं पागल हो जाऊगा, ँ प्यासा ही मैं मःत, मुबारक हो तुमको ही मधुशाला।।१०५। क्या मुझको आवँयकता है साकी से माँगूँ हाला, क्या मुझको आवँयकता है साकी से चाहँू प्याला, पीकर मिदरा मःत हआ तो प्यार िकया क्या मिदरा से! ु मैं तो पागल हो उठता हँू सुन लेता यिद मधुशाला।।१०६। दे ने को जो मुझे कहा था दे न सकी मुझको हाला, दे ने को जो मुझे कहा था दे न सका मुझको प्याला, समझ मनुज की दबर्लता मैं कहा नहीं कछ भी करता, ु ु िकन्तु ःवयं ही दे ख मुझे अब शरमा जाती मधुशाला।।१०७। एक समय संतुष्ट बहत था पा मैं थोड़ी-सी हाला, ु भोला-सा था मेरा साकी, छोटा-सा मेरा प्याला, छोटे -से इस जग की मेरे ःवगर् बलाएँ लेता था, िवःतृत जग में, हाय, गई खो मेरी नन्ही मधुशाला!।१०८। बहतेरे मिदरालय दे खे, बहतेरी दे खी हाला, ु ु भाँित भाँित का आया मेरे हाथों में मधु का प्याला, एक एक से बढ़कर, सुन्दर साकी ने सत्कार िकया, जँची न आँखों में, पर, कोई पहली जैसी मधुशाला।।१०९।
  54. 54. एक समय छलका करती थी मेरे अधरों पर हाला, एक समय झूमा करता था मेरे हाथों पर प्याला, एक समय पीनेवाले, साकी आिलंगन करते थे, आज बनी हँू िनजर्न मरघट, एक समय थी मधुशाला।।११०। जला हृदय की भट्टी खींची मैंने आँसू की हाला, छलछल छलका करता इससे पल पल पलकों का प्याला, आँखें आज बनी हैं साकी, गाल गुलाबी पी होते, कहो न िवरही मुझको, मैं हँू चलती िफरती मधुशाला!।१११। िकतनी जल्दी रं ग बदलती है अपना चंचल हाला, िकतनी जल्दी िघसने लगता हाथों में आकर प्याला, िकतनी जल्दी साकी का आकषर्ण घटने लगता है , ूात नहीं à

×