Your SlideShare is downloading. ×
0
Rahim Ke Dohe
Rahim Ke Dohe
Rahim Ke Dohe
Rahim Ke Dohe
Rahim Ke Dohe
Rahim Ke Dohe
Rahim Ke Dohe
Rahim Ke Dohe
Rahim Ke Dohe
Rahim Ke Dohe
Rahim Ke Dohe
Rahim Ke Dohe
Upcoming SlideShare
Loading in...5
×

Thanks for flagging this SlideShare!

Oops! An error has occurred.

×
Saving this for later? Get the SlideShare app to save on your phone or tablet. Read anywhere, anytime – even offline.
Text the download link to your phone
Standard text messaging rates apply

Rahim Ke Dohe

1,710

Published on

rahim and kabir dohe in hindi

rahim and kabir dohe in hindi

Published in: Spiritual
0 Comments
0 Likes
Statistics
Notes
  • Be the first to comment

  • Be the first to like this

No Downloads
Views
Total Views
1,710
On Slideshare
0
From Embeds
0
Number of Embeds
0
Actions
Shares
0
Downloads
49
Comments
0
Likes
0
Embeds 0
No embeds

Report content
Flagged as inappropriate Flag as inappropriate
Flag as inappropriate

Select your reason for flagging this presentation as inappropriate.

Cancel
No notes for slide

Transcript

  • 1. द्वारा प्रस्तुत<br />तथा<br />निकुंज<br />कुशाग्र<br />प्राची<br />परितोष<br />कृतिका<br />काविश<br />निशांत<br />प्राची<br />दोहे <br />कबीर तथा रहीम के <br />काविश<br />काविश<br />
  • 2. रहीम <br />अर्ब्दुरहीम ख़ानख़ाना (१५५६-१६२७) मुगल सम्राट अकबर के दरबारी कवियों में से एक थे। रहीम उच्च कोटि के विद्वान तथा हिन्दी संस्कृत अरबी फारसी और तुर्की भाषाओं के ज्ञाता थे। उन्होंने अनेक भाषाओं में कविता की किंतु उनकी कीर्ति का आधार हिन्दी कविता ही है।<br />उनके दोहों में भक्ति नीति प्रेम लोक व्यवहार आदि का बड़ा सजीव चित्रण हुआ है।<br />
  • 3. कबीर <br />कबीर <br />कबीर सन्त कवि और समाज सुधारक थे। ये सिकन्दर लोदी के समकालीन थे। कबीर का अर्थ अरबी भाषा में महान होता है। कबीरदासभारत के भक्ति काव्य परंपरा के महानतम कवियों में से एक थे। भारत में धर्म, भाषा या संस्कृति किसी की भी चर्चा बिना कबीर की चर्चा के अधूरी ही रहेगी। कबीरपंथी, एक धार्मिक समुदाय जो कबीर के सिद्धांतों और शिक्षाओं को अपने जीवन शैली का आधार मानते हैं,<br />
  • 4. दोहे <br />
  • 5. दुःख में सुमिरन सबकरें,<br />सुख में करे न कोई I<br />जो सुख में सुमिरन करे <br />दुःख काहे को होए II<br />
  • 6. ऐसी वाणीबोलिए,<br />मन  का आपा खोये I<br />औरन को सीतल करे,<br />आपहू सीतल होए II<br />
  • 7. बड़ा हुआ तो क्याहुआ,<br /> जैसे पेड़ खजूर Iपंछी को छाया नही, फल लागे अति दूर II<br />
  • 8. दुर्लभ मानुष  जन्म है,<br />होए न दूजी बार I <br />पक्का फल जो गिर पड़ा, <br />लगे न दूजी बार II<br />
  • 9. अच्छे दिन पीछे  गये , <br />घर से किया न हेत I <br />अब पछताए क्या होत,  <br />जब चिडिया चुग गयी खेत II  <br />
  • 10. जगजीत सिंह को उनकी आवाज़ के लिए हमारा कोटि कोटि धन्यवाद<br />
  • 11. हम इस प्रयोजना द्वारा कबीर जी तथा रहीम जी को श्रध्धान्जली देना चाहते हैं <br />
  • 12. धन्यवाद <br />

×