1 | P a g e
पौ�ष ग्रंि Prostate
मनुष्य क े शरीर में पौ�षग्रंिथ या प्रोस्टेट ग्रंिथ हीएक मात्र अंग है िजसे पु�षा
माना जाता ...
2 | P a g e
लपेटे रहती है।  
पौ�ष ग्रंिथ कोले, ऐलािस्टन और िस्नग्ध पेिशयों से बने आवरण में बंद रहती है। य, पीछे और पाष्वर्...
3 | P a g e
सू�म संरचना
सू�म संरचना के आधार पर पौ�ष ग्रंिथ को चार खण्डों में वग�कृत िकया गया
1- अग्र खण(Anterior lobe) क� ...
4 | P a g e
के न्द्रीय मण(Central zone)
स्खलन निलकाओं क े आसपास क े �ेत्र को केन्द्रीय मण्डल कहते हैं। ग्रंथ25 % भाग इस मण...
5 | P a g e
ऊपरी शाखा प्यूब-प्रोस्टेिटक िलगामेंट्स के बीच िवचरण करती प्रोस्टेट और मूत्राशय ग्रीवा तक प्रवेशकरती  के 
पीछे ...
6 | P a g e
मूत्र िनस्सारक न(Urethra)
इसके तीन खण्डों में िवभािजत िकया गया ह
प्रोस्टेिटक मूत्र िनस्सा (Prostatic Urethra) ...
7 | P a g e
पौ�ष ग्रंिथ क� कायर् प्र
प्रोस्टेट के ग्रंिथ ऊतकों मे20 निलकाएँ होती हैं िजनक े िसरे पर अंगूर क� शक्ल के प्र (...
8 | P a g e
वीयर् का एक महत्वपूणर् कायर् शुक्राणुओं के चारो तरफ एक सुर�ात्मक समुद्र बनाना और योिन के तीखे अम्(लेिक्टक
एिसड...
9 | P a g e
िडम्ब वरमाला िलए सबसे शि�शाली और परमवीर शुक्र कुमार क� प्रती�ा में खड़ी होतीहै। रंग महल में संपन्न शि� परी�
शुक...
10 | P a g e
पौ�ष ग्रंिथ काकै
पौ�ष ग्रंिथ का कैंसर एक दुदर्म अबुर्(Malignant Tumor) जो इसक� कोिशकाओं से उत्पन्न होता है। प...
11 | P a g e
हालांिक अभी तक िसद्ध नहीं हो सका है लेिकन िसगरेट और संत्र� वसा का अत्यिधक सेवन भी इस कैंसर का जोिखम बढ़ा
मोटाप...
12 | P a g e
में िचिकत्सक रबर के दस्तानें पहन कर अंगुली को मलद्वार में घुसा कर प्रोस्टेट को टटोलता है। यिद प्रोस्टेट क�
अि...
13 | P a g e
पी.एस.ए. बढ़ने के अन्य कारण- कई बार पी.एस.ए. का स्तर कैंसर के अलावा अन्य िवकारों के कारण भी बढ़ता है ज
सुदम प्र...
14 | P a g e
प्रोस्टेट कैंसर 3 ( PCA3) - प्रोस्टेट कैंसर 3
(PCA3) एक नया जीन है िजसके िलए मूत्र का परी�ण िकया जाता है। जी
...
15 | P a g e
चरण िनधार्रण– (Staging) –
सं�ेप में िचिकत्सक प्रोस्टेट कैंसर का चरण िनधार्रण प्रोस्टेट तथा अन्य ऊतकों क� जीवो...
16 | P a g e
ध्यान रहेT2c चरण में ज�री है िक प्रोस्टेट के दोनों खण्डों में प�रस्पशर्ण द्वारा कैंसर को पकड़ा गया हो। यिद दोन...
17 | P a g e
उपचार
प्रोस्टेट कैंसर हेतु सही और उपयु� उपचार का चुनाव करना भी किठन कायर् है। क्योंिक आज हमारे पास पहले से कह...
18 | P a g e
कर शल्यकम� पटल में देखते ह�ए अपने हाथों से शल्यिक्रया को अंजाम देततस्वीरें ित्रआयामी होने के कारण शल्यकम� को
...
19 | P a g e
रेिडयेशन थेरेपी 
यिद िकसी कारणवश रोगी का मौिलक पौ�षग्रंिथ उच्छेदन करना संभव नहीं हो या अबुर्द बह�त बड़ा हो तो ...
Prostate cancer
Prostate cancer
Upcoming SlideShare
Loading in …5
×

Prostate cancer

994 views

Published on

पौरुष ग्रंथि Prostate
मनुष्य के शरीर में पौरुष ग्रंथि या प्रोस्टेट ग्रंथि ही एक मात्र अंग है जिसे पुरुषार्थ का प्रतीक माना जाता है, क्योंकि पुरुष की परम श्रेष्ठ धातु शुक्र या वीर्य पौरुष ग्रंथि में ही बनती है। शरीर की सात धातुओं में सातवीं धातु शुक्र अथवा वीर्य सबसे श्रेष्ठ मानी जाती है। केवल वीर्य ही शरीर का अनमोल आभूषण है, वीर्य ही शक्ति है, वीर्य ही सुन्दरता है। शरीर में वीर्य ही प्रधान वस्तु है। वीर्य ही आँखों का तेज है, वीर्य ही ज्ञान, वीर्य ही प्रकाश है, वीर्य ही वेद हैं और वीर ही ब्रह्म है। वीर्य का संचय करना ही ब्रह्मचर्य है। वीर्य ही एक ऐसा तत्त्व है, जो शरीर के प्रत्येक अंग का पोषण करके शरीर को सुन्दर व सुदृढ़ बनाता है। वीर्य ही आनन्द-प्रमोद का सागर है। जिस मनुष्य में वीर्य का खजाना है वह दुनिया के सारे आनंद-प्रमोद मना सकता है और सौ वर्ष तक जी सकता है। वीर्य में नया शरीर पैदा करने की शक्ति होती है। जब तक शरीर में वीर्य होता है तब तक शत्रु की ताकत नहीं है कि वह भिड़ सके, रोग इसे दबा नहीं सकता। भोजन से वीर्य बनने की प्रक्रिया भी बड़ी लम्बी और जटिल है, जो प्रोस्टेट में ही सम्पन्न होती है। इस बारे में श्री सुश्रुताचार्य ने लिखा है :
रसाद्रक्तं ततो मांसं मांसान्मेदः प्रजायते ।
मेदस्यास्थिः ततो मज्जा मज्जाया: शुक्रसंभवः ।।
कहते हैं कि वीर्य बनने में करीब 30 दिन व 4 घंटे लग जाते हैं। वैज्ञानिक लोग कहते हैं कि 32 किलोग्राम भोजन से 700 ग्राम रक्त बनता है और 700 ग्राम रक्त से लगभग 20 ग्राम वीर्य बनता है। ग्रीक भाषा में भी प्रोस्टेट का मतलब होता है "One who stands before" यानि "Protector" या "Guardian" अर्थात यह पूरे शरीर का संरक्षक या पालनहार है। प्रोस्टेट के बारे में एक महत्वपूर्ण बात यह है कि सन् 2002 में फेडरल इंटरनेशनल कमेटी ऑन टर्मिनोलोजी ने स्त्रियों की पेरा

0 Comments
0 Likes
Statistics
Notes
  • Be the first to comment

  • Be the first to like this

No Downloads
Views
Total views
994
On SlideShare
0
From Embeds
0
Number of Embeds
1
Actions
Shares
0
Downloads
5
Comments
0
Likes
0
Embeds 0
No embeds

No notes for slide

Prostate cancer

  1. 1. 1 | P a g e पौ�ष ग्रंि Prostate मनुष्य क े शरीर में पौ�षग्रंिथ या प्रोस्टेट ग्रंिथ हीएक मात्र अंग है िजसे पु�षा माना जाता है, क्योंिक पु�ष क� परमश्रे� धातु शुक्र या वीयर्पौ�ष ग्रंिथ में ही बनती क� सात धातुओं में सातवीं धातु शुक्र अथवा वीयर् सबसे श्रे� मानी ज केवल वीयर् ही शरीर का अनमोल आभूषण है , वीयर् ही शि� ह , वीयर् ही सुन्दरता है। शरीर में वीयर् ही प वस्तु है। वीयर् हीआँखों का तेज, वीयर् ही �ा, वीयर् ही प्रकाश, वीयर् ही वेद हैं और वीयर् ब्र� । वीयर् का संचय करना ही ब्र�चयर् वीयर् ही एक ऐसा त�व ह , जो शरीर के प्रत्येक अ का पोषण करके शरीर को सुन्दर व सु�ढ़ बनाता है। वीयर् ही आन-प्रमोद का सागर है। िज मनुष्य में वीयर् का खजाना है वह दुिनया के सारेआ-प्रमोद मना सकता है और सौ वषर् जी सकता है। वीयर् में नया शरीर पैदा करने क� शि� होती है। जब तक शरीर में वीयर् होता तब तक शत्रु क� ताकत नहीं है िक वह िभड़ , रोग इसे दबा नहीं सकता। भोजन से वीयर बनने क� प्रिक्रया भी बड़ी लम्बी और जि, जो प्रोस्टेट में ही सम्पन्न हो इस बारे में श्री सुश्रुताचायर् ने िलख: रसाद्र � ततो मांसं मांसान्मेदः प्रजाय । मेदस्यािस्थः ततो मज्जा मज्: शुक्रसंभ ।। कहते हैं िक वीयर् बनने में कर 30 िदन व 4 घंटे लग जाते हैं। वै�ािनक लोग कहते हैं ि 32 िकलोग्राम भोजन स700 ग्राम र बनता है और 700 ग्राम र� से लगभ20 ग्राम वीयर् बनता है। ग्रीक भाषा में भी प्रोस्टेट का मतलब "One who stands before" यािन "Protector" या "Guardian" अथार्त यह पूरे शरीर का संर�क या पालनहार है। प्रोस्टेट के बारे में एक महत् बात यह है िक सन् 2002 में फ ेडरल इंटरनेशनल कमेटी ऑन टिमर्नोलोजी ने ि�यों क� पेरायूरीथ्रल ग्लेंड्स या स्केनीज (Female Paraurethral Glands or Skene's Glands) को प्रोस्टेट क� प्रित�प मान िलया है और इसे फ�मेल प्रोस नाम दे िदया है। रित िनष्पि� (Orgasm) के समय ि�यों क� योिन से िनकलने वाले स्खलन क�संरचना भी प्रोस्टेट के स् समान ही होती है। इसमें भी उसी मात्रा मे.एस.ए. और फ्रुक्टभी होते हैं। संरचना पौ�ष ग्रंिथ अखरोट के आकार क� बा�स्र( Exocrine) ग्रंि होती है जो पु�ष शरीर क� मध्य रेखा में मूत्राशय के ठीक िस्थत होती है। इसका वजन लगभग20 ग्राम और लम्ब3 सै.मी., चौड़ाई 4 सै.मी. तथा गहराई 2 सै.मी. होती है। यह ग्रंि जघन संघानक (Pubic Symphysis) के पृ� मे, पेरीिनयल मेम्ब्र के ऊपर, मूत्रा (Urinary Bladder) के नीचे और मलाशय (Rectum) के आगे अविस्थत रहती है। इसका आधार मूत्राशय सम्पकर् में रहता है और यह नीचे िश (Apex) पर खत्म होकर रेशेदार बा� मूत्रमाग�संकोिचन (Striated External Urethral Sphincter) से िमल जाती है। संकोिचनी एक लम्ब�प पेशी ऊतक से बनी एक नली होती है जो मूत्रनली और पौ�षग्रंिथ
  2. 2. 2 | P a g e लपेटे रहती है। पौ�ष ग्रंिथ कोले, ऐलािस्टन और िस्नग्ध पेिशयों से बने आवरण में बंद रहती है। य, पीछे और पाष्वर् में तीन अलग अ आवरणी (Fascia) से िलपटी रहती है। अग्र और अग्रपाष्व� आ (Anterior and Anterolateral Fascia) इसके खोल से िचपक� रहती है। िश� ( Penis) क� गहन पृ� िशरा (Deep Dorsal Vein) और उसक� शाखाएं यहीं से गुजरती है। पाष्वर् आवरणी लेवेटर आवरणी से जुड़ी रहती है। डेट्र�जर पेशी के बाहरी तथा लम्बे रेशे भी खोल के तंतुपेशीय ऊतकों में समा जाते इसका िपछला िहस्सा �रट्रोवेजाइक(Denonvilliers) आवरणी से िचपका रहता है। �रट्रोवेजाइकल आवरण (RrectoVesical Fascia) पौ�ष ग्रंिथ क� पृ� सतह और मलाशय क� अग्र तरह के बीच एक संय ऊतक (Connective Tissue) है। यह आवरणी पौ�ष ग्रंिथ और शुक्र पुिट seminal vesicles के पृ� सतह को भी लपेटे रहती है और नीचे जाकर मूत्रनली के नीचे बा� मूत्रमाग� संकोिचनी के स्तर पर मीिडयन फाइबर रेफे के �प में खत्म हो ग्रंिथ के अग्र भाग को प्यूबाप्रोस्टे (PuboProstatic Ligaments) और अधो भाग को बा� मूत्रमाग�संकोिचनी तथ पेरीिनयल मेम्ब्रेन सहारा देते हैं। प्यूबाप्रोस्टेिटक बंध प्यूबावेजाइकल बंध का ही ि पौ�ष ग्रंिथ लेवेटर ऐनाई पेश(Levator Ani Muscle) के प्यूबोरेक्टल िहस्से से िघरी रहती है। शुक्र पुिटकाएँ मूत्राशय के आ नीचे तथा पौ�ष ग्रंिथ के ऊपर अविस्थत रहती हैं6 सै.मी. लम्बी होती हैं। दोनों शुक्र पुिटकाओं क� निल (Ductus Deferens) िमल कर स्खलन निलका(Ejaculatory Duct) बनाती हैं जो पौ�ष ग्रंिथ में प्रवेश करत
  3. 3. 3 | P a g e सू�म संरचना सू�म संरचना के आधार पर पौ�ष ग्रंिथ को चार खण्डों में वग�कृत िकया गया 1- अग्र खण(Anterior lobe) क� सीमाओं में मोटे तौर पर अंत�रम मण्डल आता है 2- पृ� खण्ड(Posterior lobe) प�रधीय मण्डल में फैला रहता है 3- पाष्वर् खण(Lateral lobes) में सभी मण्डलों में फैला रहता है। 4- मध्य खण्(Median lobe) लगभग केन्द्रीय मण्डल से सम्बिन्धत लेिकन सन् 1968 में ड. मेक नील ने रोग िव�ान क� �ि� से पौ�ष ग्रंिथ को नये तरीके से चार मण्डलों में वग�कृत िकया 1- अंत�रम मण्डल(Transition zone) 2- केन्द्रीय मण(Central zone) 3- प�रधीय मण्डल (Peripheral zone) और 4- अग्रतंतुपेशीय मण ( Anterior Fibromuscular Zone) अंत�रम मण्डल में प्रोस्टेटके ग ऊतकों (Glandular Tissue) का 10 % िहस्स होता है लेिकन एडीनोकािसर्नोमा में यहग्रंिथल ऊतक ो 20 % िहस्सा होता है । पौ�ष ग्रंिथ लगभग 70% ग्रंिथल ऊतक औ 30% तंतुपेशीय ऊतक (Fibromuscular Stroma) होते हैं। अंत�रम मण्ड (Transition zone) मूत्र िनस्सारक न (Urethra) पौ�ष ग्रंिथ में मूत्राशय क� ग्रीवा के स्तर से गुजरती ह�ई बाहर िनकलती है। पौ�ष ग्रंि िस्थत मूत्र िनस्सारक नली के प्रोस्टेिटक (2.5 सै.मी.) और बाहरी िहस्से को(2 सै.मी.) को मेम्ब्रेनस यूरेथ्रा कहते हैं। दोनों िहस्सों को पृ� मूत्र िनस्सार( Posterior Urethera) कहते हैं। मूत्र िनस्सारक नली का प्रोस्टेिटक भा महत्वपूणर् और फैला ह�आ होता है। प्रोस्टेिटक यूरेथ्रा क� आंत�रक परत या (Epithelium) मूत्राशय क� तरह हीअंत�र (Transitional) कोिशकाओं से बनी होती है। िबनाइन प्रोस्टेिटक हाइपरप्लेि( Adenoma) इसी अंत�रम स्थान पर होता ह और यिद यह अितवधर्न काफ� बढ़ जाती है तो मूत्र मागर् में �कावट पैदा करता अंत�रम मण्ड प्रायः दो पाष्वर् ख (Lateral Lobes) और मध्य खण्(Median Lobe) से बनता है। प्रोस्टेिटक यूरेथ्र िपछली सतह के मध्य में मेम्ब्रेनस यूरेथ्रा तक एक लम्ब(Urethral crest) होती है िजन्हें मूत्रमागर् िशखर कह, इसके दोनों तरफ उपवन( Sinus or Grove) होते है, िजनमें अनेक िछद्र िस्थत होते हैं िजनसे वीयर् और अन -स्राव मूत्रनली प्रवेश करते हैं। यूरीथ्रल क्रेस्ट सेमाइनल कोि (Seminal Colliculus या Verumontanum) पर आकर चौड़ा और उभरा ह�आ हो जाता है , इसे शुक्र पवर्त कहते हैं। सेमाइनल कोिलकुलस के िशखर पर मध्यरेखा में एक िछद्र, िजसे पौ�ष गुहा (Prostatic Utricle) कहते है, िजसके दोनों तरफ छोटे लम्बे िछद्र होते हैं जहाँ स्खलन निलकाएँ खुलती
  4. 4. 4 | P a g e के न्द्रीय मण(Central zone) स्खलन निलकाओं क े आसपास क े �ेत्र को केन्द्रीय मण्डल कहते हैं। ग्रंथ25 % भाग इस मण्डल में आता है। लगभ 2.5% ऐडीनोकािसर्नोमा कैंसर इस मण् मे उत्पन्न होता , जो बह�त आक्रामक होता है और प्रायः शुक्र पुि को सहज ही िशकार बना लेता है। प�रधीय मण्ड (Peripheral zone) ग्रंथीय ऊतक क70% भाग इस मण्डल में आता है। पौ�षग्रंिथ का पृ� और पाष्वर् िहस्सा इसक� सीमाओं में आते हैं। इस मण्डल को अन्तर मलाशयअंगुली प�रस्पश( Per Rectal Examination) द्वारा टटो कर देख सक ते हैं। लगभग70 % ऐडीनोकािसर्नोमा इसी मण्डल से उत्पन्न होता है। प्रोस्टेट का का िचरकारी(Chronic Prostatitis) भी यहीं होता है। अग्र तंतुपेशीय मण Anterior Fibro-muscular Zone (or Stroma) इसक� सीमाओं में प्रोस्टेट के आगे के तंतुपेशीय (5%िहस्स) आते हैं। इसमेंग्रंथीय ऊतक नहीं होत र� क� आपूितर् प्रोस्टेट को र� क� आपूितर् मुख्यतः िनम्न मूत्रा (Inferior Vesical Artery) द्वारा होती , जो आंत�रक श्रोिण धमन या Internal Iliac (Hypogastric) Artery क� अग्र शाखा से िनकलती है। िनम्न मूत् धमनी दो मुख्य धमिनयों में िवभािजत होती, जो मूत्राशय के आध, मूत्रनली केअंितम भाग और प्रोस को र� मुहैया कराती है। पहली शाखा को मूत िनस्सारण नली धमनी (Urethral Artery) कहते है, जो प्रोस्टेट तथा मूत्राशयके संग पृ�-पाष्व�य स्थान से यूरेथ्रा के लम्ब�प घड़5 और 7 बजने क� िदशा में मूत्राशय ग्रीवा क� तरफ जाती िफर यह नीचे क� तरफ घूम कर अंत�रम मण्डल को र� देती है। पौ�ष ग्रंिथ के सुदम ऐडीनोम (Benign Prostatic Hyperplasia) को यही धमनी र� उपलब्ध करवाती है। क ेप्सूलर धमनी दूसरी मुख्य शाखा, यह पौ�ष ग्रंिथ के प- पाष्व�य तल पर क ेवरनस नाड़ी क े साथ िवचरण करती ह�ई लम्ब�प को से ग्रंिथ में प्रवेशकर ग्रंथीय ऊतकों को र� पह�ँच शुक्र पुिटकाओं और शुक्रनिलयों को ऊध्वर् मूत्र (superior Vesical Artery) क� शाखा निलका धमनी (Artery of the ductus) र� पहँचाती है। र� का िनकास प्रोस्टेट से र� का िनकास िश� क� पृ� िश(Deep Dorsal Vein) में होता ह, जो गहन िश� आवण� के दोनों कोप�रा क ेवन�ज़ा के बीच जघन संघानक के तोरण से िनकल कर श्रोिण में प्रवेश करती है। िफर यह पेरीिनयल मेम्ब्रेन को पार कर तीन क्रमशः ऊप, दांई और बांई में िवभािजत होती है।
  5. 5. 5 | P a g e ऊपरी शाखा प्यूब-प्रोस्टेिटक िलगामेंट्स के बीच िवचरण करती प्रोस्टेट और मूत्राशय ग्रीवा तक प्रवेशकरती के पीछे क� वसा में अग्र प्रोस्टेिटक आवण� को छेदते ह�ए पृ� िशरा जाल से िमलती है। पृ� और पाष्वर् िशरा जालों क� मुख्य प्रोस्टेिटक आव(Anterior Prostatic Fascia) और एंडोपेिल्वक आवण� (Endopelvic Fascia) से ढक� रहती है। पाष्वर िशरा जाल पीछे क� तरफ जाकर पुडेंड, ऑब्चुरेटर िशरा और मूत्राशय जाल से िमल जाती, जो अंततः इंटरनल आइिलयक िशरा (Internal Iliac Vein) में सम जाता है। नाड़ी और लिसका िनयंत्र प्रोस्टेट क� स्वाय� नािड़याँ सेक् (S2-S4) से िनकले पेरािसम्पेथेिट, इफरेंट और िप्रगैंिग्लयोिनक तंतुओं से बने पे प्लेक्सस से िनकलती हैं।िसंपेथेिटक नाड़ी तं थोरेकोमंबर ( L1-L2) तल से िनकलते हैं। पेिल्व प्लेक्सस मलाशय के दोनो तरफ गुदा द्वार7 सै.मी. ऊपर अविस्थत रहता ह, इसका मध्य तल शुक्र ग्रं के अंितम छोर के स्तर पर होता है। पेिल्वक प्लेक्सस से िनकलने वाले नाड़ी तंतु केवन प्लेक्सस से होते ह�ए प्रोस्टेट पह�ँचते हैं। पेरािसंपे नािड़यां ग्रंिथयों का िनयंित्रत करती हैं और स्राव ब िलए आदेश देती हैं। िसंपेथेिटक नािड़यां प्रोस्टेट के और स्ट्रोमा क� िस्नग्ध पेिशयों को संकुचन कर आदेश देती हैं। पुडेन्डल नाड़ी धारीदार संकोिचनी पेिशयों और लेवेट ऐनाई का िनयंत्रण करती है। िप्रप्रोस्टेिटक सं (PreProstatic Sphincter) और मत्राशय ग्र(या आंत�रक संकोिचनी) अल्फ-ऐड्रीनिजर्क िनयंत्रण में है। प्रोस्टेट का लि-िनकास ऑब्चुरेटर और लेवेटर वािहकाओं द्वारा होता है। ये बाहरी आइिल, िप्रसेक और पेराएओिटर्क लिसका ग्रंिथयों से भी जुड़ी रहती हैं मूत्राश मूत्राशय उदरावरण से बाहर सघनजंघानक और प्यूिबक रेमाई के पीछे एक थैली के समान संरचना, जो िस्नग्ध पेिशयों से ब होती है और अन्दर क� सतह पर अंत�रम उपकला(Transitional Epithelium) से आच्छािदत रहती है। गुद� से िनकली दोनों मू निलकाएं मूत्राशय में िमलती हैं और गुद� में बनने वाला मूत्रनिलकाओं द्वारा यहाँ एकित्रत होता रहता है। मूत्र को भं इसका मुख्य कायर् है। जब यह भर जाता है तो मूत्र िनस्सारक (Urethra) द्वारा मूत्र का िवसजर्न हो जाता है। मूत्राशय क� आपूितर् उध्, मध्य और िनम्न मूत्राशय धमिनयाँ करती हैं। र� का िनकास प्रोस्टेिटक िशरा जाल में होत
  6. 6. 6 | P a g e मूत्र िनस्सारक न(Urethra) इसके तीन खण्डों में िवभािजत िकया गया ह प्रोस्टेिटक मूत्र िनस्सा (Prostatic Urethra) यह मूत्र िनस्सारक नली का सबसे िनकटस्थ भा, जो मूत्राशय ग्रीवा में मूत्राशय (Trigone) से प्रोस्टेट का छेदन करते ह�ए यूरोजेनाइटल डायफ्राम के उध्वर् आवरणी प होकर मेम्ब्रेनस यूरेथ्रा में लीन हो जाता है। यह मूत्र िनस का सबसे महत्वपूण, जिटल और फैला ह�आ भाग है। मेम्ब्रेनस मूत्र िनस्सा (Membranous Urethra) यह यूरोजेनाइटल डायफ्राम के उध्वर् आवरणी से ट्रांसवसर् पेरीिनयल पेशी को छेदता ह�ई यूरोजेनाइटल डायफ्राम के िनम्न आवरणी पर खत्म होकर िपनाइल यूरेथ्रा में ली है। िपनाइल मूत्र िनस्सारक (Penile (Cavernous) Urethra) यह यूरोजेनाइटल डायफ्राम के िनम आवरणी से शु� होकर िश� में प्रवेश करती है और िश� के साथ चल कर अग्रस्थ भाग के िसरे में िस्थत (External Urethral Meatus) पर खत्म होती है। शुक्र पुिटका शुक्र पुिटकाए3 सै. मी. लम्बी होती हैं तथा मूत्राशय के पीछे दोनों तरफ अविस्थत रहती हैं9 सै.मी. लम्बी शुक्र ग्रंिथयाँ रहती हैं। यह वास डेफरेन्स से िमलती है और वहीं से ऐम्पुला स्खलन निलका बन जाती है। इनका मुख्य कायर् शुक्र द्रव शुक्र निलया शुक्र निलया30 सै.मी. लम्बी िस्नग्ध पेशी ऊतक से बनी निलयाँ होती हैं जो शुक्राणओं को अिधवृषण से स्खलन नि पह�ँचाती हैं। पेशी ऊतक से बनी होने क े कारण ये डोरी क� तरह कठोर लगती हैं। इन्हेंस्पम�िटक कोडर् भी कहते हैं। इनक� पर िविश� तरह क� कोिशकाएँ स्टी�रयोसीिलया (Stereocilia) होती हैं। इन्हे चार भागों क्रमशः , आंत�रक, एम्प्यूला औ स्खलन निलका में बांटा गया है। शुक्र धमनी इसे र� प्रदान करत नाड़ी िनयंत्र पेरािसम्पेथेिटक– शुक्राणुओं को ऐम्प्यूला तकपह�ँचाने का कायर् करते हैं। पेरािसम्पेथेिटक प्रभाव से शुक्र नली म क� क्रमाकुंचन क� लह(Peristaltic Waves) चलती है िजससे शुक्राणु अिधवृष(Epididymis) से ऐम्प्यूल(Ampulla) तक पह�ँचते है, जहाँ वे स्खलन से पहले थोड़ी देर िवश्राम करते ह िसम्पेथेिटक– शुक्र निलयों में प्रचण्ड क्रमाकुंचन क� लहर उत्पन्न करते हैं िजससे शुक्राणु और वीयर् क
  7. 7. 7 | P a g e पौ�ष ग्रंिथ क� कायर् प्र प्रोस्टेट के ग्रंिथ ऊतकों मे20 निलकाएँ होती हैं िजनक े िसरे पर अंगूर क� शक्ल के प्र (Acini) होते हैं। इन निलकाओं क� भीतरी सतह पर स्रावी कोिशकाएँ होती , जो वीयर् क� ितहाई मात्रा का स्राव करती हैं। ये निलकाएँ और प्रको� प स्पेिसिफक एन्टीज (PSA) नाम का एक एंजाइम बनाते हैं। प्रोस्टेिटक स्पेिसिफक एंट( PSA) को गामा-सेमाइनोप्रोटीन य केलीक्रे-3 या kallikrein-3 (KLK3) भी कहते हैं। यह एक ग्लाइकोप्रोटीन है िजसका कूटलेखन के-3 जीन (KLK3 gene) द्वारा होता है इसका प्रमुख कायर् वीयर् को तरल बनाये रखना है। पौ�ष ग्रंिथ लैंिगक (Arousal) और रित-िनष्पि या चरमोत्कषर(Orgasm) के परम आनंद को बढ़ाती है। पु�ष में मूत्र िनस्सारण (Urethra) दो कायर् क्रमशः मूत्र िवसजर लैंिगक सम्भोग केअंत में वीयर् स्खलन करती है। वीयर् स्खलन में लाखों शुक्राणु मूत्र िनस्सारण नलीके प्रोस्टेिटक हैं। शुक्राणुओं का िनमार्ण वृषण ग्रंिथयों में होता है। शुक्राणु वृषण से िनकल कर अिधवृषण पह�ँचते हैं और उसक (Coiled) शुक्र निलयों में कुछ िदनों तक िवश्राम करते हैं और प�रपक्व होते हैं तािक सम्भोग के बादगभार्शय पह�ँच कर िडम् गभार्धान क� प्रिक्रया को सहजतासे संपन्न कर सकें। अ (Greek: upon + testicle) मोर के िसर क� कलंगी क� तरह लगता है। यहाँ से शुक्राणु शुक्र(Vas Deferens) द्वारा स्खलन निलका तक पह�ँचते ह सम्भोग क े समय जब उ�ेजना चरम अवस्था को प्रा� करती है तब शुक्रनली क� पेिशयों मे ं क्रमाकुंचन लहर उत्पन्न हो शुक्राणु तीव्र आवेग से शुक्रनली से गुजरते ह�ए ऐम(शुक्रनली का फूला ह�आअंितम िहस) में पह�ँचते हैं। प्रोस्टेट में पेश भी होते हैं और जब शुक्राणु मूत्र िनस्सारण नली के प्रोस्टेिटक संभाग में , तब प्रोस्टेट क� पेिशयों का संकुचन होता िजससे मूत्राशय से िनकलने वाली िनस्सारण नली बंद हो जाती है और शुक्राणुओं का मूत्र से सम्पकर् संभव नहीं हो पाता ह के संकु चन से प्रोस्टेट के स्राव भी मूत्र िनस्सारण नली में आ जाते हैं और वीयर् के स्खलन को भी गित िमलत, शुक् पुिटकाओं और कॉपसर् ग्रंिथ के स्राव िमल कर वीयर् बनाते हैं। जो सम्भोग के अंत में िश� में िस्थत मूत्र िनस्सारण कर योिन में प्रवेश कर जाते ह वीयर् के भौितक गु भौितक गुण िववरण रंग सफेद अल्-पारदश� आपेि�क घनत् 1.028 �ारता (pH) 7.35-7.50 आयतन 3 एमएल वीयर् क े िविभन्न घ ग्रंिथ स् स्खलन का आयतन रासायिनक संरचना वृषण और अिधवृषण 0.15 एमएल (2-5%) शुक्राण- लगभग 200-500 िमिलयन शुक्र पुिटकाए 1.5-2 एमएल ( 65-75%) फ्रुक् (1.5-6.5 िमली/एमएल),अमाइनो एिसड्स, साइट्र, फोस्फो�रलकोली, अग�थायनीन, ऐस्कोिबर्क एि, फ्लेिवन, प्रोस्टाग्ल, बाइकाब�नेट प्रोस् 0.6-0.9 एमएल (25-30%) प्रोस्टेट स्पेिसिफक एंट(PSA), स्पम�, साइिट्रक एि, कॉलेस्ट्, फोस्फोिलिप, प्रोिटयोलाइिटकएंजा, फाइिब्रनोलाइि, फाइिब्रनोिजन, िजंक (135±40 माइक्रोग/एमएल) और एिसड फोस्फेटेज प्रोस्टेिटक स्पेिस बल्बोयूरेथ्रल ग < 0.15 एमएल (<1%) �ेष्म, गेलेक्टो, िप्रऐजाकुल, सायिलक एिसड
  8. 8. 8 | P a g e वीयर् का एक महत्वपूणर् कायर् शुक्राणुओं के चारो तरफ एक सुर�ात्मक समुद्र बनाना और योिन के तीखे अम्(लेिक्टक एिसड के कारण) से उनक� र�ा करना भी है। योिन क� अम्लता pH लगभग 4 होती है क्योंिक इतने अम्लीय माध्यम में अिध रोगकारी जीवाणु का जीिवत रहना संभव नहीं होता है। लेिकन शुक्राणु अम्ल के प्रित बह�त संवेदनशील होते हैं। वीयर् �ारीय और सम्भोग क े बाद घंटों तक योिन क� अम्लता को िनिष्क्रय करता रहता है। यिद ऐसा नहीं हो तो योिन के अम्लीय माध्य ही सेकण्ड में सारे शुक्राणु मर जायेंगे। कॉपसर् ग्रंिथ के स्राव का मुख्य काम मूत्र िनस्सारण नली का स्नेहन करता है। शुक्र पुिटकाओं के स्राव में पयार्�(जो शुक्राणुओं को ऊजार् देती), प्रोस्टाग्लें(जो वसीय अम्ल से बनते ह) और प्रोटीन होते हैं जो �ी क� योिन में वीयर् को जमान मदद करता है। प्रोस्टेट के स्राव में क, साइिट्रक एि, एिसड फोस्फेटे, एलब्यूिम, और प्रोस्टेिटक स्पेिसिफक एन् (PSA) बह�तायत में होते हैं। वीयर् का दूिधयापन प्रोस्टेट के स्राव के कारण ही होता है। प्रोस्टेट के स्राव में िजंक होता है। यह संक्रमणरोधी है और जीवाणुओं केसंक्रमण से लड़ने में प्रोस्टेट क� मदद कर पी.एस.ए. एंजाइम उपयु� समय पर शुक्र पुिटकाओं से स्रािवत होने वाले वीयर् को जमने में सहायक ए (Clotting enzyme) को िनिष्क्रय करता है। यह एंजाइम वीयर् को जमा कर ग( gel) रखता है और गभार्शय क� ग्रीवा से िचपका देता है। कुछ िमन तक शुक्राणु इस गाढ़े द्रव्य में सुरि�त रहते .एस.ए. का मुख्य कायर् सेमाइनोजेिलन और फाइब्रोनेिक्टन से बने गाढ़े कोए का द्रवीकरण कर शुक्राणुओं को मु� करना पी.एस.ए. प्रोटीन का िवघटन कर इस िक्रया को अंजाम देता है। प्रोस् पी.एस.ए. िनिष्क्रय �प में रहता है िजसे के-2 (एक अन्य क ेलीक ्रेइन पेप्टा) सिक्रय कर देता है। प्रोस्टेट में िजंक का स्तर श अन्य द्रव्यों क� अपे�ा दस गुना अिधक होता है। पी.एस.ए. क� सिक्रयता पर दमनकारी या नकारात्मक प्रभाव डालता हालांिक पीएच के बढ़ने पर पी.एस.ए. क� सिक्रयता भी बढ़ती , साथ ही पीएच बढ़ने पर िजंक का दमनकारी असर भी बढ़ता है। स्खलन क े15-30 िमनट बाद योिन का पीएच बढ़ कर 6-7 हो जाता है। पीएच के इस स्तर पर िजंक का दमनकारी असर कम होने के कारण पी.एस.ए. क� कम ह�ई सिक्रयता धी-धीरे बढ़ाने लगती है और पी.एस.ए. कोएगुलम का द्रवीकरण कर देता है और शुक्र मौका पाते ही जल्दी से गभार्शय में चले जाते ह गभार्धान का जीवरसायन शा रितक्र�ड़ा के आरंभ मेंिलंगदेव संतानोत्पि� क� आशा लेकर योिन द्वार पर दस्तक देता है और , हे देवी योिन, हे समस्त मृत्यु लोक क� जनन, मैं शि�शाली और उत्सािहत शुक्राणुओं क� बारात लेकर तुम्हारे द्वार पर आ पह�ँचा ह�ँ। मेरे युवा शुक्र भी तरह के शि� परी�ण को तैयार हैं। तुम इन्हें अपने रंग महल में ले जाकर स्वागत सत्कार क� तैया�रयां करो। लेिकन आर योिन िशविलंग क� प्रेम याचना को अनदेखा कर देती है। तब िलंगदेव अचेत और शांत पड़ी योिन क� खुशामद करता , बहलाता है, फु सलाता है, सहलाता है, घषर्ण करता ह, आघात करता है। आिखरकार िशव िलंग के मनुहार और प्रेम िनवेदन से योिन िपघल ह जाती है। और उसक� कामािग्न भड़क उठती ह , वह उत्सािहत और उ�ेिजत हो ही जाती है और रितक्र�ड़ा शु� कर देती है। र िनष्पि� क े साथ ही क्रमाकुंचन क� लहर के साथ सारे नाचते गाते नन्हे बाराती दौड़ कर योिन में प्रवेश कर जाते हैं। रित आिखरी आिलंगन लेते ह�ए योिन अपनी पूरी ताकत और जोश से सारे युवा शुक्राणुओं को अपने दामन में खींच लेती है। ले इसके बाद भी शुक्राणुओं क� गभार्शय तक क� यात्-पग पर किठनाइयों और बाधाओं से भरी होती है। यह यात्रा अमरनाथ यात्रा क� तरह ही एक किठन और रोमांचक यात्रा मानी जाती है। सबसे पहले तो योिन में बहती अम्ल क�धाराएं शुक्राणुओ करना चाहती है, तो दूसरी तरफ योिन क� भ�ी कोिशकाएं शुक्राणुओं को िवदेशी घुसपेठ समझ कर हमला करना चाहती हैं। इसि तुरंत वीयर् गभार्शय ग्रीवा के समीप शुक्राणुओं के चारों तरफ एक चक्रव्यूह क� रच , िजसे भेदना अम्लीय धाराओं क े बस का काम नहीं है। कुछ ही िमनटों में �ारीय वीयर् योिन क� अम्लता को िनिष्क्रय कर देता है। अम्लता कम होने पर िजंक भ आगे आ जाता है। इसके प�ात वीयर् में िवद्यमान परम वी.एस.ए. ( Prostate Specific Antigen) वीयर् द्वारा ही बनाये ह चक्रव्यूह को एक ही तीर से ध्वस्त कर देता है और शुक्राणुओं का कारवां मु� होकर चुपचाप रंग महल में प्रवेश , जहां
  9. 9. 9 | P a g e िडम्ब वरमाला िलए सबसे शि�शाली और परमवीर शुक्र कुमार क� प्रती�ा में खड़ी होतीहै। रंग महल में संपन्न शि� परी� शुक्र कुमार सबसे ताकतवर सािबत होता , उसे िडम्ब कुमारी वरमाला पहनाती है और गंधवर् िववाह करती है। इस तरह दोनों तेईस तेईस क्रोमोजोम से िमल कर िछयालीस क्रोमोजोम का एक स्वस्थ और संपूणर् भ्रूण बनता है। भ्रूण के िलंग िनधार् भी शुक्र कुमार के पास ही होता है। यिद उत्पि� के समय उ Y सेक्स क्रोमोजोम िमलता है तो नर और यिद उ X सेक्स क्रोमोजोम िमलता है तो मादा जन्म लेती
  10. 10. 10 | P a g e पौ�ष ग्रंिथ काकै पौ�ष ग्रंिथ का कैंसर एक दुदर्म अबुर्(Malignant Tumor) जो इसक� कोिशकाओं से उत्पन्न होता है। प्रायः यह धीरे बढ़ता और कई वष� तक अपने दायरे में ही िसिमत रहता है। इस अविध में इससे रोगी को कोई िवशेष ल�ण या बाहरीसंकेत नहीं होते ह लेिकन पौ�ष ग्रंिथ के सभी कैंसर का व्यवहार एक जैसा नहीं होता है। कुछ आक्रामक प्रजाित के कैंसर बड़ी तेजी से फै रोगी के जीवन को आ�यर्जनक ढंग से छोटा और क�प्रद बना देते हैं। इस कैंसर क� आक्रामकता अनुमान ग्लेसन स्कोर पर लगाया जाता है। अनुभवी रोगिव�ानी अबुर्द क े नमूनों क� जीवोित जांच के आधार पर ग्लेसन स्कोर क� गणना करते जब कैंसर बढ़ने लगता है तो कैंसर कोिशकाएं प्रोस्टेट से बाहर िनकल कर आसपास के, अंगो और लिसका पव� में अपना िवस्तार करने लगती हैं। इसका दूरस्थ स्थलांतर प्रायः, यकृ त और अिस्थ में होता है। इसका स्मृित सूत्र लम्बू लाल ब (Lungs, Liver and Bones) है। पौ�ष ग्रंिथ का कैंसर पु�षों में सबसे व्यापक कैंसर है और फेफड़े के कैंसर के बाद कैंसर से होने वाली मृत्यु का दूसरा कारण है। अमे�रकन कैंसर सोसाइटी क े आंकड़ों के अनुसार सन2009 में अमे�रका में पौ�षग्रंिथ के कैंस 192,280 नये रोगी पाये गये और 27,360 रोिगयों क� मृत्यु इस कैंसर के कारण ह�ई। इस कैंसर का जोिखम गोरे लोगो 17.6% और अफ्र�क� नस के काले लोगों मे20.6% रहता है तथा इस कैंसर से होने वाली मृत्यु दर क्र 2.8% और 4.7% रहती है। इन आंकड़ों से स्प होता है िक आज स्वस्थ जीवन जी रहे अमे�रका के लोगों को इस कैंसर का िकतना खतरा है। आजवहाँ इस कैंस20 लाख रोगी इस गंभीर रोग से लड़ रहे हैं। हाँ िपछले कुछ वष� में इस कैंसर से होने वाली मृत्यु दर में कमी अवश्य आई है। हालां िवषय बह�त िववादास्पद बना ह�आ है लेिकन िफर भी कई िचिकत्-शा�ी यह मानते हैं िक40 वषर् क� उम्र के बाद इस कैंसर िलए हर व्यि� क� िनयिमत अनुवी�ण जांच(Screening Test) होनी चािहये। कारण िचिकत्सा शाि�यों के अनुसार पौ�षग्रंिथ का कारण अभी तक अ�ात है और इसका प्रोस्टेट के सुदम अ (Benign Prostatic Hyperplasia) BPH से कोई सम्बन्ध नहीं है। इसके जोिखम घटक वृद्ध, आनुवंिशक, हाम�न और पयार्वरण घटक जैसे टॉिक्सन, रसायन, औद्योिगक अपिश� हैं। इस कैंसर का जोिखम उम्र बढ़ने के साथ बढ़ता जाता है। अतः आघटन 40 वषर् से पहले यह बह�त कम है लेिकन80 वषर् क� उम्र में यह बह�त सामान्य है। कुछअनुसंधानकतार्ओं के अ80 वषर् से अिधक उम्र के लोगों में 50%-80% इस कैंसर क े रोगी िमल जाते हैं। िनदान के समय इस कैंसर 80 % से अिधक रोिगयों क� उम65 वषर् से अिधक होती है। प्रोस्टेट कैंसर के रोगी के प�रवार के दूसरे सद मे इस रोग का जोिखम दो से तीन गुना अिधक रहता है। यिद िपता , ताऊ या बड़े भाई को कम उम्र में यह कैंसर ह�आ या प�रवार में एक से अिधक लोग इस कैंसर का िशकार बने हैं तो इस प�रवार के पु�षों इस कैंसर का जोिखमअिधक रहता है। ताजा अध्ययन क े अनुसार ऐसे संक ेत िमले हैं िक लैंिगक संभोग से फैलने वाले संक्रम प्रोस्टेट कैंसर का जो1.4 गुना बढ़ाते हैं। पु�ष हाम�न टेस्टोस्टीर, जो वृषण में स्रािवत होता, प्रोस्टेट क� स्वस्थ और कैंसर कोिशकाओं क� संवृिद्ध को प करता है। इसी िलए ऐसा माना जाता है िक प्रोस्टेट कैंसर क� उत्पि� और िवकास में टेस्टोस्टीरोन अहम भूिमका िनभाता हाम�न क� भूिमका इस बात से भी सािबत होती है िक इसका स्तर कम करने से कैंसर कोिशकाओं क�संवृिद्ध बािधत होती
  11. 11. 11 | P a g e हालांिक अभी तक िसद्ध नहीं हो सका है लेिकन िसगरेट और संत्र� वसा का अत्यिधक सेवन भी इस कैंसर का जोिखम बढ़ा मोटापा भी आक्रामक और बड़े कैंसर का जोिखम बढ़ाता है और उपचार के बाद भी फलानुमान अच्छा नहीं रहता है। औद अपिश� और वातावरण में व्या� कुछ पदाथर् भी इस कैंसर क� उत्पि� के कारक माने गये हैं। इस क ैंसर के आघटन में िस्थित क� भूिमका भी महत्व रखती है। मसलन एिशया क� तुलना में उ�री अमे�रका और स्केंिडनेिवयन देशों में इस क आघटन अिधक है। अभी तक यह िसद्ध नहीं हो सका है िक ज्यादा संभोग करने वाले पु�षों को इस कैंसर के होने का खतरा रहता है। ल�ण और संके त प्रारंिभक अवस्था में प्रायः कई वष� तक प्रोस्टेट कैंसर के रोगी को कोई ल�ण नहीं होते हैं। अिधकांश रोिगयों में प पता ही तब चलता है जब िकसी अन्य कारण से रोगी का प.एस.ए. करवाया जाता है तथा उसका स्तर बढ़ा ह�आ आता है या िचिकत्सक को रोगी क े सामान्य �प से िकये गये अन्तरमलाशय अंगुली प�रस्पशर् Digital (done with the finger) Rectal Examination में प्रोस्टेट , असामान्य और िगल्टीदार महसूस होती है। प्रोस्टेट मलाशय के ठीक आगे अविस्थत होती कालान्तर में जब कैंसर बढ़ने लगता है तो मूत्र िनस्सरण नली पर दबाव पड़ता है और फलस्व�प मूत्र क� धार पतली होने और मूत्र िवसजर्न में तकलीफ होती है। रोगी को मूत्र त्यागते समय जलन या मूत्र में खून भी आ सकता है। यिद अबुर बढ़ जाता है तो मूत्र के प्रवाह को पूरी तरह रोक देत, िजससे असहनीय तथा तीव्र वेदना होती है। मूत्र का िनकास �क जाने कारण मूत्राशय फूल कर बड़ा हो जाता है और तेज ददर् भी करता है। लेिकन ये ल�ण भी प्रोस्टेट कैंसर क� पुि� नहीं, क्योंिक प्रोस्टेट के सुदम अितवधर्न में भी यही ल�ण होते हैं। लेिकन इस िस्थित मेंकैंसर क� संभावना को ध्यान में परी�ण करवाने चािहये। िवकासशील अवस्था में कैंसर आसपास के ऊतकों और लिसका(श्रोिण य Pelvic) में फैलता है। कैंसर का दूरस्थ अं (यकृ त, फेफड़ा और हड्डी) में स्थलांतर भी होता है। स्थलान्तर कैंसर के शु�वाती ल�ण ब, थकावट, वजन कम होना आिद होते हैं। अन्तरमलाशयअंगुली प�रस्पशर्न में िचिकत्सक को प्रोस, िस्थर और बढ़ी ह�ई महसूस होती है। दूरस्थ स्थलां सबसे पहले मे�दण्ड क े िनचले िहस्से और श्रोिण क� हड्ि( Pelvic Bones) में होता है िजसक े कारण पीठ क े िनचले िहस्स और श्रोिण में ददर् होता है। इसके बाद दूरस्थ स्थलान्तर का यकृत और फेफड़े पर आक्रमण होता है। यकृत में स्थलान्त ददर् और पीिलया हो सकता है। फेफड़े में स्थलान्तर होने से छाती में ददर्और खांसी होत प्रोस्टेट कैंसर के अनुवी�ण जांच (Screening Tests) िकसी भी रोग (जैसे प्रोस्टेट कैंसर को ही ले लेत) को प्रारंिभ अवस्था में ही पकड़ने के िलए समय समय पर क� जाने वाली जां को अनुवी�ण जांच (Screening Tests) कहते हैं। इन जांचों क नतीजे सामान्य होना यह दशार्ता हैं िक कोईिचंताजनक बात न है। लेिकन यिद अनुवी�ण जांच के नतीजे असामान्य और संदेहास्पद हों तोअंितम और िनि�त िनदान तक पह�ँचने हेतु अन बड़े परी�ण िकये जाते हैं। प्रोस्टेट कैंसर को शु�वाती अवस् पकड़ने के िलए प्रोस्टेिटक स्पेिसिफक एंट( PSA) और अन्तरमलाशय अंगुली प�रस्पशर( Digital Rectal Examination) िकये जाते हैं। अन्तरमलाशयअंगुली प�रस्पश
  12. 12. 12 | P a g e में िचिकत्सक रबर के दस्तानें पहन कर अंगुली को मलद्वार में घुसा कर प्रोस्टेट को टटोलता है। यिद प्रोस्टेट क� अिनयिमत लगे या कोई अबुर्द महसूस हो तो संदेह क� सुई कैंसर क� तरफइंिगत करती है। िवशेष� सामान्य40 वषर् क� उम्र बाद इस परी�ण करने क� सलाह देते हैं। प्रोस्टेिटक स्पेिसिफक एंट(PSA) प्रोस्टेिटक स्पेिसिफक एंट( PSA) एक सरल और अपे�ाकृ त िव�सनीय र� क� जांच है। इसके िलए र� में एक िविश� प्रो (PSA) क� मात्रा को नापा जाता है। यह प्रोटीन प्रोस्टेट में, िजसका थोड़ा अंश र� में भी पह�ँचता है। प्रोस्टेट कैंसर में इसका स्त4 नेनोग्रा प्रित िमिललीटर से अिधक होता है। ध्यान रहे लेिकन इसका स्तर प्र क� संवृिद, संक्रमण और प्रदाह में भी बढ़ता िवशेष� पी.एस.ए. को प्रोस्टेट कैंसर िनदान के िलए महत्वपूणर् अन जांच मानते हैं। हालांिक प.एस.ए. जांच को िववादास्पद माना जाता ह, क्योंिक अनुवी�ण जांच के बाद भी प्रोस्टेट कैंसर से होने वाली मृत्यु कोई फकर् नहीं देखा गया है। साथ में अितिनद( Over Diagnosis), अनावश्यक जीवोित जां (Biopsy) और क�प्रउपचार के झमेले रोगी और िचिकत्सक दोनों को उलझन और िचंता में डाल दे हैं।अमे�रका क� िप्रवेंिटव सिवर्सेज टास्क ( U.S. Preventive Services Task Force) ने अपनी �रपोटर् जारी क� है िजसमे प्रोस्टेट कैंसर के अनुवी�ण हेत.एस.ए. क� जांच को अनावश्यक और व्यथर् बताया है। िवक�पीिडया में इसका स्प� उल्ल लेिकन िफर भी अिधकांश िवशेष� प्रोस्टेट कैंसर के अनुवी�ण हेतु िनयिमत जांच करवाने क� देते हैं। अमेरीकन यूरोलोजीकल एसोिसयेशन ने इस सम्बन्ध में स2009 में ताजा िदशा-िनद�श जारी िकये हैं। इन िनद�शों क े अनुसार प्रा40 वषर् या अिधक उम्र मे.एस.ए. क� जांच और अन्तरमलाशय अंगुली प�रस्पशर( Digital Rectal Examination) करने क� सलाह दी गई है। इसके बाद िचिकत्सक जोिखम घटक(जैसे नस्, प्रजा, पा�रवा�रक, आघटन आिद), शु�आती अनुवी�ण जांच के नतीजों और अपने अनुभव क े आधार पर समय समय पर जांच करवाता है। जैसे िक व्यि� के प�रवार में यिद िकसी को यह कै हो चुका हो या उसका शु�वाती पी.एस.ए. बढ़ा ह�आ आया हो तो उसक� अनुवी�ण जांच जल्दी जल्द(प्रायः हर स) क� जानी चािहये। अमूमन िवशेष� उन लोगों में अनुवी�ण जांच करने क� सलाह देते हैं जो कम से 10 वषर् औरतो और जीयेंगे। ऐसे लोगो क� प्रायः सालाना जांच होनी चािहये। लेिक75 वषर् क� उम्र के बादजांच करने का कोई औितच्य नहीं रहता है। पी.एस.ए. का सामान्य स्त4 नैनोग्राम प्रित िमिललीटर माना गया है। आजकल कुछ िवशेष� त.एस.ए. का स्तर2.5 नैनोग्रा प्रित िमिललीटर भी हो तो भी प्रोस्टेट क� जीवोित जांच करने क�अिभशंसा करने लगे हैं तािक कैंसर को बह�त पहले ही पक जाये तािक इसका पूणर् उपचार संभव हो सक े। बायोप्सी के िलए अमेरीकन यूरोलोजीकल एसोिसयेशन ने िनि�त माप दण्ड तय न िकये है, लेिकन सलाह दी है िक जोिखम घटकों को ध्यान में रखते ह�ए बायोप्सी का िनणर्य लेना चाि पी.एस.ए. गित (PSA velocity) - सबसे अहम और ध्यान रखने योग्य पहलू यह है िक .एस.ए. का स्तर िकस गित (PSA velocity) से बढ़ रहा है। यिद पी.एस.ए. का स्तर4 से 10 नैनोग्राम प्रित िमिललीटर है तो यह संदेह के घेरे(Borderline) आता है। इस िस्थित में रोगी क� , ल�ण, संकेत, पा�रवा�रक इितहास और पी.एस.ए. के स्तर क े आधार पर िनणर्य लेना चािहये पी.एस.ए. का 10 से ज्यादा होना असामान्य है और प्रोस्टेट कैंसर क� संभावना को इंिगत करता .एस.ए. का स्तर िजतना अिधक हो कैंसर क� संभावना उतनी ही अिधक रहती है। जब प्रोस्टेट कैंसर फैल कर आसपास के, लिसकापव� या दूरस्थ अंगों में फैलता है तब भी .एस.ए. का स्तर एक दम बढ़ता है। प.एस.ए. का स्तर30 या 40 या अिधक होना कैंसर का स्प�संके होता है।
  13. 13. 13 | P a g e पी.एस.ए. बढ़ने के अन्य कारण- कई बार पी.एस.ए. का स्तर कैंसर के अलावा अन्य िवकारों के कारण भी बढ़ता है ज सुदम प्रोस्टेट अितव, िकसी भी कारण से ह�आ प्रद (Prostatitis) या संक्रमण में भी.एस.ए. स्तर बढ़ सकता है। िविदत रहे िक प्रोस्टेट के अंगुली प�रस्पशर्न या वीयर् स्खलन48 घंटे तक पी.एस.ए. का स्तर बढ़ सकता है। उपरो� िस्थितयों पी.एस.ए. का स्तर प्रा4 से 10 के बीच रहता है, लेिकन 20 से 25 तक भी जा सकता है। इन प�रिस्थितयों में नतीजों िवष्लेषण बह�त िववेकतापूवर्क िकया जाना चािहये। यह भी ध्यान रखें िक प्रोस्टेट के अलावा अन्य अंगों, भोजन, दवा, धूम्रपान या मिदरापान .एस.ए. के स्तर को प्रभािवत नहीं करते प्रोस्टेट क के िनदान हेतु पी.एस.ए. जांच िव�सनीय मानी जाती है क्योंिप्रोस्टेट क के अिधकांश रोिगयों में .एस.ए. का स्तर असामान्य यासंदेहास्पद सीमा में रहता पी.एस.ए. अनुपात PSA Ratio - हाल ही पी.एस.ए. क� जांच के स्व�प में कुछसंशोधन िकये गये हैं। इनका उद् संदेह सीमा में या बढ़े ह�ए प.एस.ए. के स्तर का बेहतर िवष्लेषण कर, प्रोस्टेट कैंसर का सही सही आंकलन करना औ.एस.ए. के स्तर को बढ़ाने वाले अन्य िवकारों को िचिन्हत करना है। तािक इस जांच क� संवेदनशीलता और िव�सनीयता में सुधार इस जांच का एक नया स्व�प पी.एस.ए. अनुपात PSA Ratio है। पी.एस.ए. अनुपात क� गणना र� में प्रवािहत हो रहे म पी.एस.ए. क� मात्रा में प्रोटीनसे बं.एस.ए. क� मात्रा का भाग देकर क� जाती है। शोधकतार् मानते हैं िक र� में मु� � प्रवािहत .एस.ए. का सुदम प्रोस्टेट अितवधर्न से सीधा सम्बन्ध ह, जबिक प्रोटीन से जुड़ा .एस.ए. कैंसर से सम्बिन् होता है। इस तरह पी.एस.ए. अनुपात बढ़ा ह�आ हो तो कैंसर क� संभावना कम रहती है जबिक इस अनुपात का कम होना कैंसर क उपिस्थित को प्रबल बनाता ह पी.एस.ए. का सामान्यस्तर उम्र पर िनभ– शोधकतार्ओं ने यह भी देखा है िक जैसे जैसे पु�ष क� उम्र बढ़ती है उसका .एस.ए. भी बढ़ता है भले उसे कैंसर न ह�आ हो। इसिलए प.एस.ए. का सामान्य स्त हर उम्र में अलग होता है। िचिकत्सक क.एस.ए. का िवष्लेषण करते समय ध्यान रखना चािहये िक रोग क� उम्र के िहसाब से .एस.ए. का सामान्य स्त िकतना होना चािहये। उम्र के चौथे दशक में.एस.ए. का सामान्य स्त0 से 2.5, पांचवें दशक मे0 से 3.5, छठे दशक में0-4.5 और 70 वषर् से बड़े पु�षों म0 से 6.5 होता है। उदाहरण के तौर पर पी.एस.ए. का स्तर 4 होना तीसरे और चौथे दशक के िलए संदेह सीमा में आयेगा लेिकन पांचवे, छठे और सातवें दशक क े रोिगयों क े िलए यह सामान्य स्तर है Age(in years) PSA Range (measured in ng/ml) 40 0–2.0 42 0–2.2 44 0–2.3 46 0–2.5 48 0–2.6 50 0–2.8 52 0–3.0 54 0–3.2 56 0–3.4 58 0–3.6 60 0–3.8 62 0–4.1 64 0–4.4 66 0–4.6 68 0–4.9 70 0–5.3 74 0–6.0 78 0-6.8 पी.एस.ए. गित या स्लोप- पी.एस.ए. क� जांच में एक संशोधन और ह�आ ह, िजसे पी.एस.ए. गित या स्लोप कहते हैं। इसक गणना पी.एस.ए. के स्तर में ह�ई बढ़ोतरी में समय का भाग देकर क� जाती है।.एस.ए. गित िजतनी तेज होती है अथार्त प.एस.ए. िजतना जल्दी बढ़ता ह, कैंसर क� संभावना उतनी ही अिधक रहती है। और यिद प.एस.ए. धीरे धीरे बढ़ता है तो कैंसर क� संभावना उतनी ही कम रहती है।
  14. 14. 14 | P a g e प्रोस्टेट कैंसर 3 ( PCA3) - प्रोस्टेट कैंसर 3 (PCA3) एक नया जीन है िजसके िलए मूत्र का परी�ण िकया जाता है। जी 3 (PCA3) अित िविश� जीन है और िसफर् कैंसर प्रोस्टेट में ही उ होता है। प्रोस्टेट के अन्य रोग जैसे िवविधर्त प्रोस्टेट या संक्रमण जीन अनुपिस्थत होता है। प.एस.ए. स्तर क े साथ जीन3 क� मूत्र जां प्रोस्टेट कैंसर िनदान हेतु जीवोित जांच करने के िलए बेहतर संकेत देती िनदान प्रोस्टेट कैंसर का चरण िनधार्रण कैंसर कोिशक ाओं के प्रोस्टेट और अन्य िहस्सों में िवस्तार और फैलाव के आधार पर िकया जाता है। जी जांच द्वारा कैंसर का िनदान होने के बाद कई तरह के परी�ण िकये जाते, तािक स्प� तौर पर मालूम हो सक े िक कैंसर शरीर में कहाँ कहाँ फैल चु है। रेिडयोन्युक्लाइड अिस्थ स्- यिद हड्िडयों में कैंसर का स्थलांतर हो चुका है तो रेिडयोन्युक्लाइड स्केन से जाता है। इस जांच में एक रेिडयोधम� पदाथर् शरीर में छोड़ा जाता, जो हड्िडयों में कैंसर ऊतकों को िचिन्हत कर देता है। यिद को िकसी हड्डी में गहरा ददर् , कोई हड्डी टूट गई हो या पी.एस.ए. स्तर बह�त ज्याद (>10-20 ng/ml) हो तब यह जांच िवशेष तौर पर क� जाती है। छाती का एक्सरे और सोनोग्रा- छाती के एक्सरे से फेफड़े में कैंसर के स्तलांतर का पता चल जाता है। सोनोग्रा मूत्रपथ में आई �कावट के संकेत िमल जाते हैं। प्रोस्टेट के बढ़ जाने से मूत्र िवसजर्न में आई �कावट के कारण मूत्राश मोटाई बढ़ जाती है और मूत्र िवसजर्न करने के बाद भी मूत्राशय में कुछ मूत्र भरा (अवशेष मूत) है। सोनोग्राफ� से ये सार जानकारी भी िमल जाती है। सी.टी. स्केन और ए.आर.आई. - इनके अित�र� सी.टी. स्क ेन और ए.आर.आई. क� जाती है। िजससे मालूम हो जाता है िक कैंसर आसपास क े ऊतक, लिसकापव� (Lymph Nodes) और शरीर के अन्य अंगों जैसे मूत्, मलाशय, यकृ त या फेफड़े में फैला है या नहीं। कई बार .ई.टी. स्क ेन भी िकया जाता ह, जो शरीर में कुछ छुपे ह�ए कैंसर के ऊतकों को भी िचिन्हत देता है। मूत्राशयदश� जां(Cystoscopy) - कु छ रोिगयों में मूत्राशयदश� यंत्र द्वारा (Cystoscopy) क� जाती है। इस जांच में एक पतल, लचीली और प्रकाश स्रोत लगी नली को मूत्राशय में डाल कर अन्दर देखा जाता है। इस यंत्र के बाहर केमरा अविस्थत रहता ह, जो अंदर के �श्यों को बाहर लगे पटल पर प्रदिशर्त करता है। इस जांच से मूत्राशय और मूत् नली का अवलोकन िकया जाता है और कैंसर को िचिन्हत कर िलया जाता है। साथ हीसंदेह होने पर जीवोित जांच हेतु मूत्राशय नमूने भी ले िलए जाते हैं।
  15. 15. 15 | P a g e चरण िनधार्रण– (Staging) – सं�ेप में िचिकत्सक प्रोस्टेट कैंसर का चरण िनधार्रण प्रोस्टेट तथा अन्य ऊतकों क� जीवोित जांच और छायांकन पर पर करते हैं। चरण क े आधार पर कैंसर के उपच, फलानुमान और अन्य कई िनणर्य िलए जाते हैं। इस कैंसर को िनम्न चरण वग�कृ त िकया गया है। चरण I – इस चरण में अन्तरमलाशयअंगुली परी�ण द्वारा कैंसर के कोई संकेत नहीं िमलते हैं और प्रोस्टेट के बाहर कै सा�य भी नहीं होते हैं। इस चरण का प्रायः अितविधर्त प्रोस्टे-िक्रया के बाद जीवोित जांच में कैंसर का पता चलता ह चरण II – इस चरण में अबुर्द चर I से बड़ा होता है और प्रायः अन्तरमलाशय अंगुली परी�ण से महसूस हो जाता है। प्रोस्ट बाहर कैंसर क े कोई सा�य भी नहीं होते हैं। यह चरण प्रा.एस.ए. का स्तर बढ़ा होने क े कारण क� गई जीवोित जांच से िचिन्ह होता है। चरण III – इस चरण में कैंसर प्रोस्टेट से बाहर िनकल कर आसपास के ऊतकों में फैल चुका हो चरण IV - इस चरण में कैंसर प्रोस्टेट से बाहर िनकल कर आसपास के लिसकापव� और दूरस्थ अंगों में फैल चुका ह आजकल अिधकांश िवशेष� 2002 में बने ट.एन.एम. ( Tumor, Node, Metastases) वग�करण पद्धित को प्रयोग करते हैं तीन पहलुओं (T stage) मूल अबुर्द क े िवस्त, (N stage) लिसकापव� में कैंसर के फैलाव औ(M stage) दूरस्थ अंगों में कै के स्थलांतर क� िस्थित पर आधा�रत होता है। प्रोस्टेट कैंसर.एन.एम. वग�करण इस प्रकार है प्राथिमककैंसर का आंक("T") Tx: प्राथिमक कैंसर देखा नहीं जा सका T0: प्राथिमक कैंसर के कोई सा�य नहीं िमले T1: प्रोस्टेट कैंसरग्रस्त हो चुका है लेिकन अबुर्द को िचिकत्सक�य परी�ण या छायांकन िवधाओं द्वारा पकड़ना सं T1a: िकसी अन्य कारण से िनकाली गई प्रोस्टेट के ऊतक ो5% िहस्से में कैंसर का पाया जाना T1b: िकसी अन्य कारण से िनकाली गई प्रोस्टेट के ऊतक ो5% से अिधक िहस्से में कैंसर का पाया जाना T1c: पी.एस.ए. का स्तर बढ़ने क े कारण क� गई जीवोित जांच में कैंसर का पाया जान T2: कैंसर अंगुली प�रस्पशर्ण द्वारा पकड़ना संभव है लेिकन कैंसर प्रोस्टेट से बाहर नहीं T2a: कैंसर प्रोस्टेट के दोनों तरफ के खण्डों में से िकसी एक खण्ड के आधे या कम िहस्से में उ T2b: कैंसर प्रोस्टेट के िकसी एक खण्ड के आधे से अिधक िहस्से में उप, लेिकन दोनों खण्डों में नह T2c: कैंसर प्रोस्टेट के दोनों खण्डों में उपिस् T3: कैंसर प्रोस्टेट के आवरण को भेद कर बाहर आ चुका T3a: कैंसर एक या दोनों तरफ आवरण को भेद कर बाहर आ चुका है T3b: कैंसर एक या दोनों शुक्र पुिटकाओं पर आक्रमण कर चुका T4: कैंसर आसपास क� संरचनाओं पर आक्रमण कर चुका ह
  16. 16. 16 | P a g e ध्यान रहेT2c चरण में ज�री है िक प्रोस्टेट के दोनों खण्डों में प�रस्पशर्ण द्वारा कैंसर को पकड़ा गया हो। यिद दोनों को प�रस्पशर्ण द्वारा पकड़ पाना संभव नहीं है तो T2c चरण देना गलत होगा भले दोनों खण्डों क� जीवोितजांच में क उपिस्थत हो। स्थानीय लिसकापव� का आंकलन ("N") NX: स्थानीय लिसकापव� में कैंसर का आंकलन संभव नहीं है N0: स्थानीय लिसकापव� में कैंसर नहीं फैला ह N1: स्थानीय लिसकापव� में कैंसर फैल चुका है दूरस्थ स्थलांतर का आंकलन("M") MX: दूरस्थ अंगों में स्थलांतर का आंकलन संभव नहीं ह M0: दूरस्थ अंगों में स्थलांतर नहीं ह�आ ह M1: दूरस्थ अंगों में स्थलांतर हो चुका है M1a: कैंसर स्थानीय लिसकापव� से आगे के लिसकापव� पर आक्रमण कर चुका है M1b: कैंसर अिस्थयों में फैल चुका ह M1c: कैंसर अन्यअंगों में फैल चुक, भले कैंसर अिस्थयों फैला हो या न फैला हो।
  17. 17. 17 | P a g e उपचार प्रोस्टेट कैंसर हेतु सही और उपयु� उपचार का चुनाव करना भी किठन कायर् है। क्योंिक आज हमारे पास पहले से कहीं ब कई उपचार उपलब्ध है। लेिकन उनक े खतरों और फायदों पर पूरी तरह शोध नहीं हो पा, इसिलए िविभन्न उपचार िवधाओं मेंसे रोगी के िलए सही उपचार चुनना मुिश्कल होता है। प्रोस्टेट कैंसर के उपचार हेतु िचिकत्सकों ने कैंसर को इन तीन वग� में बा1- वह स्थानीय कैंसर जो प्रोस्टेट में ही िसि2- स्थानीय िवकिसत कैंस(बड़ा प्रोस्टेट कैंसर या कैंसर िजसका प्रसार आसपास के ऊतकों और लिसकावव� में हो चु3- दूरस्थ स्थलांतर कैंसर। पहले और दूसरे वगर् मे-िक्र, रेिडयेशन, हाम�नल उपचार, क्रायोथेरे, और सतकर्तापूवर्क प्रत आिद उपचार िदये जाते हैं। दुभार्ग्यवश दूरस्थ स्थलांतर कैंसर में रोग का पूणर्उपचार संभ, लेिकन प्रशामक उपचार के � में क�मोथेरेपी और रेिडयोथेरेपी दी जाती है। प्रशामक उपचार का उद्देश्य कैंसर क� संवृिद्ध को धीमा करना और रोगी और क� कम करना होता है। शल्-िक्रय मौिलक पौ�ष ग्रंिथ उच्छे प्रोस्टेट कैंसर के शल्य उपचार हेतु मौिलक पौ�ष ग्रंिथ उच्छेदन या रेडीकल प्रोस्टेक्टोमी क� जाती है। इस शल्य प्रोस्, शुक्र पुिटकाएं और शुक्रनली के ऐम्प्यूला का उच्छेदन िकया जाता है तथा मूत्राशय के मुख को मेम्ब्रेनस यूरेथ्र जाता है, तािक मूत्र िवसजर्न भलीभांित होता रहे। अमे�रका में मौिलक पौ�षग्रंिथ उच्छेदन प्रोस्टेट में ही िसिमत स्थानीय कैंसर और स्थानीय िवकिसत कैंसर का उपचार है। प्रोस्टेट में ही िसिमत स्थानीय कैं36 % रोिगयों में यह श-िक्रया क� जाती है। अमे�रकन कैंसर सोसाइटी अनुसार प्रोस्टेट में ही िसिमत स्थानीय कैंसर में यिद प्रोस्टेट पूरी तरह िनकाल दी जाती है तो90 % है। इस शल्य क� जिटलताओं में िन�ेतन क े खतर, र�स्र, नपुंसकता (30%-70%रोिगयों म) और मूत्र असंयमता(3%-10%रोिगयों म) मुख्य हैं। प्रोस्टेट के उच्छेदन क� जिटलताओं को कम करने के िदशा में बह�त प्रगित ह�ई है। पहले क� अपे�ा आज िन�ेतन प्रि िवकिसत और सुरि�त ह�ई है। आज िचिकत्साशा�ी मूत्र संयमता और पौ�ष ग्रंिथ क� संरचना और कायर् प्रणाली को बेहत हैं। और इस कारण शल-िक्रया में कईक्रांितकारी बह�त प�रवतर्न ह�ए हैं। आज प्रोस्टेट के दोनों तरफ िस्थत स्नायुज ह�ए शल्यिक्रया क� जाती है। इस तरह के शल्य से मूत्र अस(Incontinence of Urine) व स्तंभनदोष(Impotence) होने का जोिखम बह�त कम रहता है। 98% रोिगयों को मूत्रअसंयमता 60% रोिगयों को लैंिगकसंसगर् में कोई परेशानी नहीं आती रोबोिटक मौिलक पौ�षग्रंिथ उच्छे मौिलक पौ�षग्रंिथ उच्छेदन खुली शल्य , दूरबीन या यंत्रमानव शल्य द्वारा िकया जाती है। यंत्रमानव क� सहायता नायाब तकनीक है। आज अमे�रका में70 % पौ�षग्रंिथ उच्छेदा िवंसी यंत्रमानक� मदद से िकये जाते हैं। इस शल्य िक्रया उदर में पांच छोटे िछद्र िकये जाते, िजनमें छोटे से क ेमरे समेत शल्य उपकरण पेट में घुसाये जाते हैं। केमरे से ली गई अंदर ित्रआया, स्प� और दस गुनी अिभविधर्त तस्वीरें एक -पटल और रोगीशैया से दूर एक खटोले के पटल पर िदखाई देती हैं। शल्य उपकरण रोबोट क े हाथों से जोड़ िदये जाते हैं। रोबोट के सारे िनयं और घुिण्डयांखटोले में लगी होती हैं। खटोले में ब
  18. 18. 18 | P a g e कर शल्यकम� पटल में देखते ह�ए अपने हाथों से शल्यिक्रया को अंजाम देततस्वीरें ित्रआयामी होने के कारण शल्यकम� को लगता है जैसे वह रोगी के शरीर के भीतर जाकर शल्य कर रहा ह, जबिक वह रोगी से 8 फु ट दूर होता है। रोबोट शल्य उपकरणो को सभी िदशाओं में अिधक सू�मता और स्प�ता से घुमा िफरा सकता है। इसिलए रोबोट क� मदद से जिटल और उत्कृ� श करना आसान हो जाता है। स्तंभनदोष क े उपचार हेतु िसलडेनािफल(िवयाग्), िश� में ऐल्प्रोस्ट(केवरजेट) क� सुई या िविभन्न तरह क े पम्प प्रयोग ि जाते हैं। इन सबसे भी काम न चले तो आपका िचिकत्सक अपने िपटारे में कृित्रम िलंग प्रत्यारोपण का सामान भी लेकर बैठा असंयमता प्रायः धी-धीरे ठीक हो जाती है। इसके उपचार हेतु कु छ व्याया, दवाएं भी दी जाती है। कई बार रोगी के शरीर से ही ली गई पेशी या अन्य पदाथर् से कृित्रम संकोिचनी बनानी पड़ती
  19. 19. 19 | P a g e रेिडयेशन थेरेपी यिद िकसी कारणवश रोगी का मौिलक पौ�षग्रंिथ उच्छेदन करना संभव नहीं हो या अबुर्द बह�त बड़ा हो तो रेिडयेशन थेरेपी दो से दी जाती है। पहली परम्परागत बाहरी िकरणपुण्ज रेिडयोथेरे (Conventional External Beam Radiotherapy EBRT) 6 या 7 हफ्तों तक दी जाती है और दूसरी ब्रेक�थेर (Brachytherapy) िजसमें रेिडयोधम� बीज प्रोस्टेट में रोिपत कर िदये जाते बाहरी िकरणपुण्ज रेिडयोथेरेप में शि�शाली एक्स िकरणें अबुर्द और आसपास के �ेत्र में केिन्द्रत करके उपचार िदया ब्रेक�थेरेपी में अल्ट्रासाउंड के िदशा िनद�श में सुईयों को घुसा कर प्रोस्टेट में रेिडयोधम� बीज रोिपत कर िदये जाते हैं। ब रेिडयोधम� बीज प्रोस्टेट में ही अविस्थत होने क� वजह से आसपास के ऊतकों और अंगों में रेिडयेशन के कुप्रभाव अप होते हैं। रेिडयेशन के कु प्रभाव से प्रोस्टेट में थोड़े समय के िलए सूजन आ स, िजसके कारण मूत्र पथ में �कावट हो सकती है। य रोगी को िवविधर्त प्रोस्टेट के कारण पहले से ही मूत्र पथ में �कावट के कुछ ल�ण हैं तो वे अचानक बढ़ सकते हैं। त्वचा पीड़ा, बाल झड़ना आिद बाहरी िकरणपुण्ज रेिडयोथेरेप के कु प्रभाव हैं। थक, दस्त लगना और पेशाब में जलन दोनों से हो सक हैं। ये सब ल�ण अस्थाई होते हैं। रेिडयेशन के कारण वष� बाद कुछ दूरगामी कुप्रभाव भी देखे गये हैं जैसे मूत्राशय या म कैंसर। यिद रेिडयेशन उपचार से लाभ नहीं हो तो श-िक्रया क� जा सकती , लेिकन मूत्रसंयतता और स्तंभन दोष के आघ का खतरा बह�त अिधक रहता है। होम�न उपचार टेस्टोस्टीरोन पु�(Androgenic) होम�न है। यह प्रोस्टेट में कैंसर कोिशकाओंक� संवृिद्ध को प्रोत्सािहत करता है। प्रोस्टेट कैंसर क� संवृिद्ध केिलए ईंधन का काम करता है। हाम�न (औषिध या शल्) का उद्देश्य टेस्टोस्टीरोन द्वार कोिशकाओं के प्रोत्साहन के बािधत करना है। टेस्टोस्टीरोन का िनमार्ण वृष LH-RH ल्युिटनाइिजंग �रलीिजंग हाम�न (Luteinizing Hormone-Releasing Hormone) से संकेत िमलने पर होता है। इसे गोनेडोट्रोिफन �रलीिजंग हाम�न भी कहत हैं। यह हाम�न मिस्तष्क के िनयंत्रण क� में बनता है और र� में प्रवािहत होकर वृषण में पह�ँचता है और टेस्टोस्टीरोन क उत्प्रे�रत करता ह हाम�न उपचार शल्-िक्रया या दवाओं द्वारा िकया जाता है। शल्य उपचार उपचार में दोनों वृषणों का उच्छेदन कर िदया ज इस शल्य को ओिकर ्येक्टो या वंध्यकरण कहते हैं। अथार्त इस शल्य में टेस्टोस्टीरोन के स्रोत को ही शरीर से िन जाता है। औषधीय हाम�न उपचार में दो श्रेिणयों क� औषिधयां दी जाती हैं। पहली श LH-RH ऐगोिनस्ट कहते हैं। ये मिस्त मेंLH-RH के स्राव को बािधत करती हैं। दूसरी श्रेणी-ऐंड्रोजिनक है। यह पु�ष होम�न टेस्टोस्टीरोन के िव�द्ध काम करत अथार्त यह प्रोस्टेट में टेस्टोस्टीरोन के असर को िनिष्क्रय आजकल अिधकांश पु�ष शल्-िक्रया क� अपे�ा औषधीय हाम�न उपचार पसन्द करते हैं। क्योंिक पु�ष को स्थाई �प स वंध्यकरण करवाना मनोवै�ािनक और शारी�रक सुन्दरता दोनों ही �ि� से नागवार लगता है। सच्चाई यह भी है िक शल्य वंध और औषधीय हाम�न उपचार के प्रभाव और खतरे भी बराबर से ही हैं। दोनों ही तरह के हाम�न उपचार टेस्टोस्टीरोन के अ िनिष्क्रय करने में समथर् हैं। लेिकन हारमोन उपचार से प्रोस्टेट के कुछ प्रजाित के कैंसर में कोई फायदा नहीं होता ह- इंिडपेंडेन्ट प्रोस्टेट कैंसर कहते हैं। हारमोन उपचार के प्रमुख कुप्रभाव स्तन( Gynecomastia) और नपुंसकता है। स्तन में अक्सर पीड़ा या शरीर में तमतम(Hot Flashes) होती है। LH-RH ऐगोिनस् ल्युप्रोला (Lupron) या गोसरेिलन (Zoladex) के इंजेक्शन हर मही

×