Your SlideShare is downloading. ×
  • Like
Bkkh
Upcoming SlideShare
Loading in...5
×

Thanks for flagging this SlideShare!

Oops! An error has occurred.

×

Now you can save presentations on your phone or tablet

Available for both IPhone and Android

Text the download link to your phone

Standard text messaging rates apply

Bkkh

  • 347 views
Published

 

  • Full Name Full Name Comment goes here.
    Are you sure you want to
    Your message goes here
    Be the first to comment
    Be the first to like this
No Downloads

Views

Total Views
347
On SlideShare
0
From Embeds
0
Number of Embeds
0

Actions

Shares
Downloads
2
Comments
0
Likes
0

Embeds 0

No embeds

Report content

Flagged as inappropriate Flag as inappropriate
Flag as inappropriate

Select your reason for flagging this presentation as inappropriate.

Cancel
    No notes for slide

Transcript

  • 1. बी र ब ल की खि च ड़ी
  • 2. सुनो ! सुनो .! सुनो ! बादशाह सलामत का ऐलान सुनो !
  • 3. इस कड़ाके की सर्दी में जो कोई भी जमुना के ठंडे पानी में रात भर खड़ा रहेगा उसे इनाम दिया जाएगा।
  • 4.  
  • 5. जहाँपनाह ! एक ग़रीब आदमी का दावा है कि वो रात भर दरिया - ए - जमुना के पानी में खड़ा रहा ।
  • 6. वो हमसे क्या चाहता है ?
  • 7. हुज़ूर ! वो कहता है कि शाही ऐलान के मुताबिक उसे इनाम दिया जाए ।
  • 8. उसके आस पास आग तो नहीं जल रही थी ?
  • 9. नहीं हुज़ूर ! अलबत्ता कोसों दूर एक दिया टिमटिमा रहा था ।
  • 10. ये उसी दिये की गर्मी सेंकता रहा होगा। इसीलिए इसे इनाम नहीं मिल सकता ।इसे वापस भेज दो।
  • 11. जो हुकुम जहाँपनाह !
  • 12. बीरबल !
  • 13. जी , जहाँपनाह !
  • 14. तुम्हारे हाथ की खिचड़ी खाए हमें एक ज़माना हो गया।हमें तुम्हारी खिचडी बहुत पसंद है।
  • 15. अब कब खिलवाओगे ?
  • 16. इसमें कौनसी बड़ी बात है महाबली ! आज ही खा लीजिए।
  • 17. उँहुँ ! आज नहीं , कल तुम हमारे साथ शिकार पर चल रहे हो।वहीं खाएँगे ।
  • 18. चलिए यही सही महाबली !
  • 19.  
  • 20. अरे ! तुम्हारी उस खिचड़ी का क्या हुआ बीरबल ?
  • 21. खिचड़ी मैंने चढ़ा दी है हुज़ूर ! बस कुछ ही देर में तैय्यार हुई जाती है।
  • 22. ये तो तुम कई बार कह चुके हो।
  • 23. बस , थोडा सब्र महाबली !
  • 24. नहीं , बीरबल ! अब सब्र नहीं होता।
  • 25. अहह ! शिकार में भूख कुछ ज़्यादा ही लगती है ।
  • 26. और तुम हो कि बातों से पेट भर रहे हो ।
  • 27. बस एक आँच की कसर बाकी है महाबली !
  • 28. चलो , तुम्हारे खेमे में चल कर देखते हैं कि खिचड़ी में कितनी कसर बाकी है ?
  • 29.  
  • 30. ये क्या बीरबल ! ये ऊपर बाँसों पर हाँडी कैसे लगी है ?
  • 31. इसमें तो आपके लिए खिचड़ी पक रही है ।
  • 32. खिचडी पक रही है !
  • 33. तभी तो हम कहें कि खिचड़ी पकने में इतना वक़्त क्यों लग रहा है ?
  • 34. बीरबल हमें भूख लगी है और तुम्हें मज़ाक सूझ रहा है !
  • 35. जैसे गरीब जमना नदी में खडे होकर कोसों दूर टिमटिमाते दिए से सेंक ले सकता है | वैसे --
  • 36. हँ हँ हँ ! हम तुम्हारा इशारा समझ गए।उस गरीब आदमी को ज़रूर इनाम मिलना चाहिए ।
  • 37. लेकिन हम तुम्हारी अकलमंदी के भी क़ायल हुए।
  • 38. जिस होशियारी से तुमने हमें हमारी गलती का अहसास दिलाया है—वाक़ई ! तुम्हारी खिचडी मज़ेदार है बीरबल !
  • 39.