Networking in hindi notes

  • 2,651 views
Uploaded on

SirajRock

SirajRock

More in: Education
  • Full Name Full Name Comment goes here.
    Are you sure you want to
    Your message goes here
    Be the first to comment
No Downloads

Views

Total Views
2,651
On Slideshare
0
From Embeds
0
Number of Embeds
0

Actions

Shares
Downloads
85
Comments
0
Likes
4

Embeds 0

No embeds

Report content

Flagged as inappropriate Flag as inappropriate
Flag as inappropriate

Select your reason for flagging this presentation as inappropriate.

Cancel
    No notes for slide

Transcript

  • 1. सर्विस क आधार पर नेटवक क प्रकार (TYPES OF NETWORK ACCORDING TO SERVICE) े ि े सर्विस क आधार पर नेटवक दो प्रकार क होते हैं े ि े १- पीयर टू पीयर २- सविर सेंट्रिक पीयर टू पीयर- पीयर टू पीयर नेटवक एक ऐसा नेटवक होता है जिसमे ननजचित रूप से न तो कोई कप्यटर सविर होता ि ि ं ू है और न ही कोई कप्यटर क्लाइंट लेककन आवचयकता क अनसार कोई भी कप्यटर सविर भी बन सकता है और कोई ं ू े ं ू ु भी कप्यटर क्लाइंट l इसे समझने क ललए हमें सविर क्लाइंट और पीयर को भी समझना पड़ेगा ं ू े सविर(SERVER)- सविर उस कप्यटर को कहा िाता है िो नेटवक में अन्य कप्यटर को कोई डाटा इन्फामेसन या सर्विस ं ू ि ं ू प्रदान करता है l क्लाइंट (CLIENT)- क्लाइंट वह कप्यटर होता है िो सविर कप्यटर द्वारा दी िाने वाली सेवाओं का प्रयोग करता है l ं ू ं ू पीयर(peer)- पीयर वह कप्यटर होता है न तो सविर होता है और न क्लाइंट पर िरुरत क समय यह सविर की तरह भी ं ू े कायि कर सकता है और क्लाइंट की तरह भी l सविर सेंट्रिक- सविर सेंट्रिक नेटवक वह नेटवक होता है जिसमे एक सविर होता है और बाकक कप्यटर उसक क्लाइंट होते ि ि ं ू े हैं सविर द्वारा कई प्रकार क सेवाएँ क्लाइंट कप्यटर को दी िाती हैं िैसे फाइल सेवा,र्प्रंट सेवा,इन्टरनेट सेवा आट्रद े ं ू और सविर लसस्टम क्लाइंट लसस्टम को कण्ट्िोल और मैनेि भी करता है l नेटवक सर्विस क प्रकार ( TYPES OF NETWORK SERVICES) ि े नेटवक में कप्यटर क र्वलभन्न ररसोसेस िैसे हाडि-डडस्क ,सीडी-ड्राइव,र्प्रंटर आट्रद को शेयर करने क ललए नेटवक ि ं ू े े ि सर्विस ही जिम्मेदार होतीं हैं नेटवक में प्रयोग होने वाली प्रमख सर्विसेस ननम्न हैंि ु १- फाइल सर्विस २- र्प्रिंट सर्विस ३- मेसेज सर्विस ४- डाटाबेस सर्विस ५- एप्लीकशन सर्विस े
  • 2. फाइल सर्विस- नेटवक में ककसी फाइल को एक कप्यटर से दसरे कप्यटर पर िान्सफर ,मव या कॉपी करने क ललए ि ं ू ं ू े ु ू फाइल सर्विस प्रयोग में आती है l फाइल सर्विस ही नेटवक में बैकप की सर्वधा प्रदान करती है l फाइल सर्विस स्टोरे ि ि ु डडवाइस को प्रभावी तरीक से प्रयोग करती है l े र्प्रिंट सर्विस- र्प्रंट सर्विस का कायि नेटवक में ककसी एक कप्यटर पर लगे र्प्रंटर को नेटवक क अन्य कप्यटर क ललए ि ं ू ि े ं ू े उपलब्ध करवाना होता है l अर्ाित र्प्रंट सर्विस क कारण ही एक र्प्रंटर का प्रयोग नेटवक क सभी यिर कर पाते हैं l े ि े ू र्प्रंट सर्विस का कायि नेटवक में र्प्रंटर की संख्या को कम करना होता है l इस सर्विस क कारण ही नेटवक में र्प्रंटर को ि े ि कहीं भी इस्र्ार्पत ककया िा सकता है l इसकी विह से ही र्प्रंट िोब्स एक पंजक्त में रहते हैं l इसक द्वारा ही र्प्रंटर को े नेटवक में एक्सेस कण्ट्िोल व मैनेि ककया िा सकता है l ि मेसेज सर्विस- िैसा की हम नाम से ही समझ सकते है l की मेसेि सर्विस का कायि एक कप्यटर का मेसेि दसरे ं ू ू कप्यटर तक पहुिना होता है l इसक सार् सार् हम डाटा ऑडडयो र्वडडयो टे क्स्ट आट्रद भी भेि सकते हैं l एक प्रकार ं ू े से मेसेि सर्विस फाइल सर्विस की तरह ही कायि करती है l लेककन यह डाइरे क्ट कप्यटर क बीि कायि न करक यिर ं ू े े ू अजप्लकसन क बीि कायि करती है l इ-मेल व वोइस-मेल इसक ही उदहारण हैं l े े े डाटाबेस सर्विस- यह सर्विस नेटवक में सविर आधाररत डाटाबेस की सर्वधा प्रदान करती है l अर्ाित नेटवक में िब ि ि ु कोई क्लाइंट ररक्वेस्ट करता है तो उसे आवचयक िानकारी डाटाबेस सविर क द्वारा प्रदान कर दी िाती है l यह सर्विस े डाटा लसक्योररटी प्रदान करती है l और इसक कारण ही डाटाबेस की लोकसन कजन्ित हो पनत है l े े े एप्लीकशन सर्विस- नेटवक में वे सर्विस िो नेटवक क्लाइंट क ललए सोफ्टवेयर िलाती हैं l एप्लीकशन सर्विस े ि ि े े कहलाती हैं l यह सर्विस कवल डाटा ही नहीं शेयर करती बजकक उनकी प्रोसजस्संग पॉवर भी शेयर करने की अनमनत े ु प्रदान करती है l इसका सबसे अच्छा उदाहरण लैन गेलमंग है l जिसमे एक गेम को कई यिर एक सार् खेलते हैं l ू नेटवक सर्विस (NETWORK SERVICE) ि नेटवक सर्विस कप्यटर हाडिवेयर तर्ा कप्यटर साफ्टवेयर की एक लमलीिुली योग्यता होती है l जिसे वे नेटवक में ि ं ू ं ू ि उपजस्र्त कप्यटर क सार् बाँट सकते हैं l इसक कारण ही नेटवककग में र्वलभन्न प्रकार क कायि संभव हो पाते हैं l ं ू े े िं े नेटवक क कप्यटर सर्विस लेते भी हैं और सर्विस दे ते भी हैं l इस आधार पर नेटवक में उपजस्र्त कप्यटर को दो भागों ि े ं ू ि ं ू में बांटा िाता है १- सर्विस प्रोवाइडर २- सर्विस ररकएस्टर ु सर्विस प्रोवाइडर - सर्विस प्रोवाइडर वे कप्यटर होते है िो नेटवक में उपजस्र्त कप्यटर को अपनी र्वलभन्न सर्विसेस ं ू ि ं ू प्रदान करते हैं l इसे हम सविर भी कहते हैं l
  • 3. सर्विस ररकएस्टर- सर्विस ररकएस्टर वे कप्यटर होते है l िो नेटवक में उपजस्र्त ककसी और कप्यटर से र्वलभन्न ं ू ि ं ू ु ु प्रकार की सर्विसेस लेते हैं l इसे हम क्लाइंट भी कहते हैं l प्रोटोकॉल (PROTOCOL) प्रोटोकॉल ऐसे ननयमो का समह होता है l जिसक द्वारा यह ननधािररत होता है कक ककस प्रकार एक डडवाइस या कप्यटर े ं ू ू का डाटा व इन्फामेसन दसरे डडवाइस या कप्यटर में िांसलमट हो l ं ू ु हम यह भी कह सकते है कक प्रोटोकॉल दो कप्यटर क बीि एक भाषा कक तरह कायि करता है और एक कप्यटर क डाटा ं ू े ं ू े व लसग्नकस को दसरे कप्यटर को समझाता है कछ प्रोटोकॉल ननम्नललखखत हैं l ं ू ु ु १- ऍफ़ टी पी (फाइल िािंसफर प्रोटोकॉल ) २- एस एम टी पी (ससम्पल मेल िािंसफर प्रोटोकॉल ) ३- एच टी टी पी (हाइपर टे क्सस्ट िािंसफर प्रोटोकॉल ) ४- टी सी पी (िािंससमसन कण्ट्िोल प्रोटोकॉल ) ५- आइ पी (इन्टरनेट प्रोटोकॉल ) आट्रद l एक कप्यटर नेटवक क सलए न्यनतम आवश्यकताएिं (MINIMUM REQUIREMENTS FOR A िं ू ि े ू COMPUTER NETWORK) एक कप्यटर नेटवक बनाने क ललए ननम्न आवचयकतायें होती हैं ं ू ि े १- कम से कम दो कप्यटर जिनमे ऑपरे ट्रटग लसस्टम हो (नेटवककग को सपोटि करने वाला) ं ू ं िं २- िांसलमशन लमडडया (वायडि या वायरलेस) ३- प्रोटोकाल कप्यटर नेटवक क प्रकार (TYPES OF COMPUTER NETWORK) िं ू ि े कप्यटर नेटवक को हम दरी क आधार पर हम मख्य तीन प्रकारों में बाँट सकते हैं ं ू ि ू े ु १- लैन २- मैन ३- वैन
  • 4. लैन (लोकल एररया नेटवक)- - लैन एक ऐसा नेटवक होता है िो कम दरी में फला हुआ होता है िैसे ककसी घर में रखे ि ि ै ू दो कप्यटर क बीि का नेटवक ,ककसी ऑकफस क कछ कप्यटर का नेटवक या ककसी बबजकडंग में फला हुआ नेटवक l ं ू े ि े ु ं ू ि ै ि इसकी दरी को ० से १० ककमी तक माना िा सकता है लेककन यह कफक्स नहीं है कछ कम या अधधक हो सकती है l ू ु मैन (मेिो पोलीट्रटन एररया नेटवक )- मैन एक ऐसा नेटवक होता है िो दो या दो से शहरों क बीि फला हुआ हो सकता ि ि े ै है l यह लैन से बड़ा होता है इसकी दरी १ से १०० ककमी तक मानी िाती है लेककन यट्रद हम प्रायोधगक तौर पर दे खें तो ू मैन का प्रयोग नहीं होता है l कवल लैन और वैन का ही प्रयोग होता है लैन को बड़ा करने पर वह वैन बन िाता है l े वैन (वाइड एररया नेटवक )- वैन नेटवक ऐसा नेटवक होता है जिसकी कोई सीमा ननजचित नहीं होती है यह दो या दो से ि ि ि अधधक दे शो क बीि फला हुआ हो सकता है l इसका सबसे बड़ा उदाहरण इन्टरनेट है .इस प्रकार क नेटवक का प्रयोग े ै े ि बड़ी कपनी क द्वारा ककया िाता है l ं े कप्यटर नेटवक की पररभाषा िं ू ि कप्यटर नेटवक दो या दो से अधधक कप्यटर क बीि एक ऐसा एडिेस्टमेंट (सामंिस्य) होता है जिसक द्वारा वे ं ू ि ं ू े े आपस में डाटा व इन्फामेसन का आदान प्रदान करते हैं l